वर्तमान पद:मुखपृष्ठ > डेयांग > मूलपाठ

देवेंद्र फडणवीस की विपक्ष को नसीहत, कहा- हार पर आत्मविश्लेषण करें, ईवीएम को दोष न दें

2022-10-01 00:04:39 डेयांग

देवेंद्रफडणवीसकीविपक्षकोनसीहतकहाहारपरआत्मविश्लेषणकरेंईवीएमकोदोषनदेंशाहीन बाग: सुप्रीम कोर्ट ने पूछा, क्या 4 महीने का बच्चा प्रोटेस्ट करने जाता है? दिल्ली, केंद्र को नोटिस******सुप्रीम कोर्ट ने शाहीन बाग में हो रहे प्रदर्शन के दौरान 4 महीने की बच्चे की मौत को लेकर केंद्र और दिल्ली सरकार को नोटिस भेजा है। प्रदर्शन के दौरान बच्चे की मौत के बाद बहादुरी पुरस्कार से सम्मानित छात्रा जेन गुणरत्न सदावर्ते ने सुप्रीम कोर्ट को चिट्ठी लिखी थी। सुप्रीम कोर्ट ने गंभीरता दिखाते हुए सदावर्ते चिट्ठी को याचिका मान कर बच्चे की मौत के मामले का स्वतः संज्ञान लिया था। कोर्ट ने साथ ही शाहीन बाग में सड़क से प्रदर्शनकारियों को हटाने की मांग वाली याचिका पर भी सुनवाई की।मामले की सुनवाई शुरू होने पर सॉलिसीटर जनरल ने बच्चे की मौत को दर्दनाक करार दिया। इस दौरान शाहीन बाग की तीन महिलाओं ने भी खुद का पक्ष रखने की मांग की। महिलाओं ने वकील के जरिए कहा कि कानून के मुताबिक बच्चों को प्रोटेस्ट करने का अधिकार है। उन्होंने ग्रेटा थनबर्ग का उदाहरण दिया। इस पर की अध्यक्षता वाली ने सख्त टिप्पणी करते हुए कहा कि अदालत मातृत्व का सम्मान करती है, लेकिन हमें बताएं कि क्या 4 महीने का बच्चा खुद करने जाता है?शाहीन बाग में सीएए विरोधी प्रदर्शन में शामिल इन महिलाओं का पक्ष रखने के लिए कई वकील मौजूद थे। इस दौरान एक वकील ने कहा कि बच्चे झुग्गी-झोपड़ियों में रहते हैं, जगराते में जाते हैं, -NRC परिवारों को अलग कर रहे हैं। अदालत ने इसपर कहा कि हम CAA-NRC पर बात नहीं कर रहे बल्कि हम बच्चों की सुरक्षा को लेकर चिंतित हैं। अदालत ने कहा कि एक बच्चे की मौत हुई है। अदालत ने इसके बाद मामले को लेकर केंद्र और दिल्ली सरकार को नोटिस जारी करते हुए 4 सप्ताह में जवाब दाखिल करने को कहा है।

देवेंद्रफडणवीसकीविपक्षकोनसीहतकहाहारपरआत्मविश्लेषणकरेंईवीएमकोदोषनदेंबेंगलुरु: ईसाई समुदाय ने राम मंदिर के लिए दिया 1 करोड़ का चंदा****** बेंगलुरु में ईसाई समाज के गणमान्य व्यक्तियों के एक समूह ने अयोध्या में बन रहे के लिए 1 करोड़ रुपये का दान दिया है। ये बात यहां कर्नाटक के उप मुख्यमंत्री अश्वथ नारायण ने रविवार को कही। नारायण ने कहा, ईसाई समाज के कुछ लोगों ने राम मंदिर निर्माण के लिए 1 करोड़ रुपये का दान दिया है। दान देने वालों में मुख्य रूप से कारोबारी, शिक्षाविद्, मार्केटिंग से जु़ड़े प्रोफेशनल शामिल हैं।उपमुख्यमंत्री ने कहा कि भाजपा सबका साथ सबका विकास में विश्वास रखती है जैसा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है। समावेशी पार्टी होने के चलते भाजपा अल्पसंख्यक समुदाय को भी साथ लेकर चलने में विश्वास करती है। के प्रतिनिधि और कारोबारी रोनाल्ड कोलासो ने कहा कि समुदाय के लोग हमेशा देश हित और सामाजिक समरसता में भरोसा जताते रहे हैं। समुदाय के लोगों ने राज्य सरकार को क्रिस्चियन डेवलपमेंट कॉरपोरेशन स्थापित करने के लिए 200 करोड़ का फंड देने के लिए भी धन्यवाद दिया।बता दें कि राम मंदिर के लिए फंड जुटाने का काम 27 फरवरी तक चलेगा।देवेंद्रफडणवीसकीविपक्षकोनसीहतकहाहारपरआत्मविश्लेषणकरेंईवीएमकोदोषनदेंएनजीओ का दावा, पाकिस्तान लाखों अरब डॉलर की सहायता से वंचित होगा, गरीब पाकिस्तानियों पर पड़ेगा असर****** 18 अंतरराष्ट्रीय एनजीओ की देश में ठहरने की अंतिम अपील खारिज करते हुए उन्हें निष्कासित कर रहा है। इस पर एक एनजीओ ने बृहस्पतिवार को कहा कि इस कदम से लाखों गरीबपाकिस्तानियों पर असर पड़ेगा और पाकिस्तान लाखों अरब डॉलर की सहायता से वंचित हो जाएगा। एपी को उपलब्ध सरकारी सूची के अनुसार इनमें से ज्यादातर एनजीओ अमेरिका के हैं और बाकी ब्रिटेन एवं यूरोपीयसंघ के हैं।बीस अन्य एनजीओ पर भी निष्कासन की तलवार लटक रही है क्योंकि प्रशासन ने कुछ महीने पहले बिना कोई स्पष्टीकरण दिये 38 अंतरराष्ट्रीय सहायता संगठनों (एनजीओ) पर ताला लगाने का फैसला किया था।यह पाकिस्तान में अंतरराष्ट्रीय संगठनों पर व्यवस्थित कार्रवाई का हिस्सा है। प्रशासन उन पर वीजा पंजीकरण दस्तावेज में गड़बड़ी समेत विभिन्न आरोप लगा रहा है।यहां एक धारणा यह भी है कि अमेरिका और यूरोपीय देशों ने इन एनजीओ के कर्मियों की आड़ में पाकिस्तान में गुपचुप तरीके से जासूस भेजे हैं। बृहस्पतिवार को पाकिस्तान की मानवाधिकार मंत्री शिरीन माजरी नेट्वीट किया कि 18 संगठनों को दुष्प्रचार करने को लेकर देश छोड़ने को कहा गया है। पंद्रह एनजीओ का प्रतिनिधित्व करने वाले पाकिस्तान ह्यूमैनटेरियन फाउंडेशन के प्रवक्त उमैर हसन ने कहा कि ये संगठन अकेले1.10 करोड़ लोगों की सहायता कर रहे हैं और 13 करोड़ डॉलर से अधिक की सहायता पहुंचा रहे हैं।

देवेंद्र फडणवीस की विपक्ष को नसीहत, कहा- हार पर आत्मविश्लेषण करें, ईवीएम को दोष न दें

देवेंद्रफडणवीसकीविपक्षकोनसीहतकहाहारपरआत्मविश्लेषणकरेंईवीएमकोदोषनदेंIND vs SL, Asia Cup: रोहित ने अर्शदीप की जमकर की तारीफ, इन्हें ठहराया हार का जिम्मेदार******Highlightsभारतीय क्रिकेट टीम को एशिया कप के सुपर 4 स्टेज में लगातार दूसरी हार का सामना करना पड़ा। मंगलवार को खेले गए मुकाबले में टीम इंडिया को श्रीलंका ने छह विकेट से हरा दिया। श्रीलंका के हाथों मिली हार के साथ ही गत विजेता भारत के फाइनल में पहुंचने के रास्ते लगभग बंद हो गए हैं। रोहित शर्मा की कप्तानी में टीम इंडिया एक बार फिर से स्कोर का बचाव करने में नाकाम रही और श्रीलंका ने 174 रन के लक्ष्य को चार विकेट खोकर हासिल कर लिया। मैच के बाद रोहित शर्मा ने टीम की हार और उसके कारणों पर बात की।भारतीय कप्तान का मानना है कि उनकी टीम को 10-15 रन और बनाने चाहिए थे। रोहित ने बल्लेबाजों को भी आड़े हाथ लिया और कहा कि बल्लेबाजों को जिम्मेदारी से खेलना होगा और शॉट्स चयन में सतर्क रहना होगा। यह टीम लंबे समय से अच्छा खेल रही थी। इस तरह की हार से एक टीम के रूप में सीखने को मिलेगा।उन्होंने अपने गेंदबाजों की तारीफ करते हुए कहा, ‘‘जिस तरह की शुरूआत श्रीलंका ने की थी, हमारे गेंदबाजों ने अच्छा प्रदर्शन किया। स्पिनरों ने काफी आक्रामक गेंदबाजी की लेकिन श्रीलंका ने दबाव का बखूबी सामना किया।’’रोहित ने तीन तेज गेंदबाज के सवाल पर बात करते हुए कहा कि हम आमतौर पर चार तेज गेंदबाज के साथ ही खेलेंगे। लेकिन हम वर्ल्ड कप से पहले तीन गेंदबाज के साथ वाले विकल्प पर भी ध्यान देना चाहते थे। हमें एक टीम के रूप में इस बात के जवाब ढूंढने होंगे कि पांच गेंदबाज के साथ हम कहां ठहरते हैं।हिटमैन ने हुड्डा से गेंदबाजी नहीं कराने के सवाल पर कहा कि मैं उसे गेंदबाजी देने की सोच रहा था लेकिन हमने जैसा सोचा था, वैसा हो नहीं पाया।टीम की हार के बावजूद रोहित ज्यादा चिंतित नहीं हैं। उन्होंने कहा कि हम लगातार सिर्फ दो मैच ही गंवाए हैं। पिछले विश्व कप के बाद से हमने ज्यादा मैच नहीं गंवाए हैं। इन मुकाबलों से हमें सीखने को मिलेगा।रोहित ने युवा गेंदबाज अर्शदीप सिंह की डेथ ओवर में गेंदबाजी की सराहना करते हुए कहा कि हमें उसे उसकी गेंदबाजी के लिए श्रेय देना होगा। चहल और भुवी सीनियर खिलाड़ी हैं और वे यह काम करते रहे हैं लेकिन मैं युवाओं को ऐसा करते देखना चाहता हूंदेवेंद्रफडणवीसकीविपक्षकोनसीहतकहाहारपरआत्मविश्लेषणकरेंईवीएमकोदोषनदेंबड़ी खुशखबरी! सोने की कीमत में रिकॉर्ड गिरावट, जानिए 10 ग्राम गोल्‍ड का क्‍या है अब नया दाम******Biggest Gold tumbles Rs 264 silver gains marginally today 8 september citywise rate कमजोर अंतरराष्ट्रीय ट्रेंड की वजह से राष्ट्रीय राजधानी में बुधवार को सोने में बड़ी गिरावट दर्ज की गई। सोने की कीमत आज 264 रुपये घटकर 46,140 रुपये प्रति दस ग्राम रह गई। इससे पहले मंगवालर को सोने में 37 रुपये की गिरावट आई थी। मंगलवार को सोना 46,404 रुपये प्रति दस ग्राम पर बंद हुआ था। वहीं दूसरी ओर चांदी की कीमत में मामूली 22 रुपये का उछाल आया और इसका दाम बढ़कर 63,486 रुपये प्रति किलोग्राम हो गया। इससे पहले मंगलवार को चांदी की कीमत में 332 रुपये की गिरावट आई थी और यह 63,464 रुपये प्रति किलोग्राम पर बंद हुई थी। अंतरराष्ट्रीय बाजार मेंके साथ 1798 डॉलर प्रति औंस, जबकि चांदी 24.37 डॉलर प्रति औंस पर लगभग अपरिवर्तित कारोबार कर रही थी। एचडीएफसी सिक्योरिटीज के वरिष्ठ विश्लेषक (जिंस) तपन पटेल ने कहा कि बुधवार को सोने की कीमतों में पूर्व के नुकसान से कुछ रिकवरी आई है। मजबूत डॉलर के कारण सोना 1800 डॉलर से नीचे लगातार कारोबार कर रहा है। मजबूत होते हाजिर मांग के कारण सटोरियों ने ताजा सौदों की लिवाली की जिससे स्थानीय वायदा बाजार में बुधवार को सोने का भाव 132 रुपये की तेजी के साथ 47,071 रुपये प्रति 10 ग्राम हो गया। मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज में अक्टूबर महीने की डिलिवरी के लिए सोने की कीमत 132 रुपये यानी 0.28 प्रतिशत की तेजी के साथ 47,071 रुपये प्रति 10 ग्राम रह गई। इसमें 10,328 लॉट के लिए कारोबार हुआ। बाजार विश्लेषकों ने कहा कि कारोबारियों द्वारा ताजा सौदों की लिवाली करने से सोना वायदा कीमतों में तेजी आई। वैश्विक स्तर पर न्यूयार्क में सोने की कीमत 0.08 प्रतिशत की तेजी के साथ 1,799.90 डॉलर प्रति औंस हो गई।मजबूत हाजिर मांग के कारण कारोबारियों ने अपने सौदों के आकार को बढ़ाया जिससे वायदा कारोबार में बुधवार को चांदी की कीमत 132 रुपये की तेजी के साथ 64,753 रुपये प्रति किलो हो गई। मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज में चांदी के दिसंबर डिलीवरी वाले वायदा अनुबंध का भाव 132 रुपये यानी 0.2 प्रतिशत की तेजी के साथ 64,753 रुपये प्रति किलो हो गया। इस वायदा अनुबंध में 8,649 लॉट के लिए सौदे किए गए। बाजार विश्लेषकों ने कहा कि घरेलू बाजार में तेजी के रुख के कारण कारोबारियों की ताजा लिवाली से मुख्यत: चांदी वायदा कीमतों में तेजी आई। वैश्विक स्तर पर, न्यूयार्क में चांदी का भाव 0.19 प्रतिशत की तेजी के साथ 24.42 डॉलर प्रति औंस हो गया।मजबूत हाजिर मांग के कारण कारोबारियों ने अपने सौदों के आकार को बढ़ाया जिससे वायदा कारोबार में बुधवार को कच्चा तेल की कीमत 40 रुपये की तेजी के साथ 5,053 रुपये प्रति बैरल हो गई। मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज में कच्चातेल के सितंबर डिलीवरी वाले अनुबंध की कीमत 40 रुपये अथवा 0.8 प्रतिशत की तेजी के साथ 5,053 रुपये प्रति बैरल हो गई जिसमें 4,786 लॉट के लिए कारोबार हुआ। बाजार विश्लेषकों ने कहा कि कारोबारियों द्वारा अपने सौदों का आकार बढ़ाने से वायदा कारोबार में कच्चातेल कीमतों में तेजी आई। वैश्विक स्तर पर, न्यूयॉर्क में वेस्ट टैक्सास इंटरमीडिएट कच्चे तेल का दाम 0.51 प्रतिशत की तेजी के साथ 68.70 डॉलर प्रति बैरल हो गया जबकि वैश्विक मानक माने जाने वाले ब्रेंट क्रूड का दाम 0.38 प्रतिशत बढ़कर 71.96 डॉलर प्रति बैरल हो गया।देवेंद्रफडणवीसकीविपक्षकोनसीहतकहाहारपरआत्मविश्लेषणकरेंईवीएमकोदोषनदेंRajat Sharma’s Blog: गर्मियों में पानी की कमी से बचने के लिए कैसे करें जल संरक्षण******अप्रैल के पहले हफ्ते में ही उत्तरी, पश्चिमी, पूर्वी और मध्य भारत के अधिकांश हिस्से भीषण गर्मी से तप रहे हैं। महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, राजस्थान और झारखंड जैसे कई राज्यों के गांवों में सूखे जैसे हालात दिखने लगे हैं। विदर्भ इलाके में भी हालात परेशान करने वाले हैं। महिलाओं को पानी लेने के लिए काफी दूर तक चलना पड़ रहा है क्योंकि ज्यादातर कुएं सूख चुके हैं और पानी का स्तर नीचे चला गया है।बुधवार की रात अपने प्राइम टाइम शो ‘आज की बात’ में हमने महाराष्ट्र में नासिक जिले में पड़ने वाले त्रयंबकेश्वर के पास मेटघर गांव की हालत दिखाई, जहां पानी का एकमात्र स्रोत एक कुआं है, और महिलाएं हर रोज पानी लेने के लिए उस कुएं में 50 फीट की गहराई तक उतरती हैं। चूंकि कुएं में इतना पानी नहीं है कि रस्सी से बाल्टी डालकर पानी खींचा जा सके, इसलिए रोजाना गांव की कोई एक महिला इसी तरह कुएं में उतरती है ताकि वह दूसरे लोगों की बाल्टी भी भर सके। 35 फीट गहरे इस कुएं में उतरना इनकी मजबूरी है और यह कुआं भी गांव से 2 किलोमीटर दूर है।वीडियो में साफ तौर पर देखा जा सकता है कि महिलाएं पानी इकट्ठा करने के लिए कुएं की छोटी-छोटी सीढ़ियों से उतरते हुए अपनी जान जोखिम में डाल रही हैं। जब इंडिया टीवी के रिपोर्टर ने स्थानीय अधिकारियों से संपर्क किया, तो उन्होंने कहा कि मेटघर गांव में और उसके आसपास 3 कुएं हैं, लेकिन गांव के लोग सिर्फ एक ही कुएं से पानी ले रहे हैं और बाकी के 2 कुओं पर नहीं जा रहे हैं। नासिक जिला परिषद की मुख्य कार्यकारी अधिकारी लीना बन्सोड ने कहा कि जल संकट का समाधान जल्द कर लिया जाएगा।नासिक कोई कम बारिश वाला इलाका नहीं है। शहर के पास बहने वाली गोदावरी नदी में पिछले 10 सालों में कम से कम 4-5 बार बाढ़ आ चुकी है और पिछले साल इस इलाके में 476 मिलीमीटर बारिश हुई थी। महाराष्ट्र के जल आपूर्ति मंत्री संजय बन्सोड ने इंडिया टीवी को बताया कि कुएं में उतरकर पानी भरती महिलाओं की तस्वीरें उन्होंने भी देखी हैं। उन्होंने कहा कि गांव में पानी के टैंकर भेजे जाएंगे और वादा किया कि समस्या का स्थायी समाधान किया जाएगा।जल आपूर्ति मंत्री ने दावा किया कि मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की सरकार ग्रामीण क्षेत्रों में प्रत्येक व्यक्ति को प्रतिदिन 55 लीटर पानी उपलब्ध कराने के अपने लक्ष्य को प्राप्त करने की कोशिश कर रही है। कड़वी जमीनी हकीकत यह है कि लोगों को रोजाना 2 लीटर पीने का साफ पानी भी मुश्किल से मिल पाता है।विदर्भ में भी हालात काफी खराब हैं। नागपुर के पास रहने वाले ग्रामीणों ने पानी की भारी किल्लत की शिकायत की है। इंडिया टीवी की रिपोर्टर ने नागपुर से 15 किलोमीटर दूर गोधनी गांव का दौरा किया। इस गांव की आबादी करीब 17,000 है। रिपोर्टर से मिले अधिकांश ग्रामीणों ने पानी की कमी की शिकायत की। हालत यह है कि गांव वालों ने एक कुएं में 50 से 60 पाइप डालकर खुद ही घर तक पानी सप्लाई का इंतजाम किया है।स्थानीय अधिकारियों ने 4-5 'Water ATMs' लगाए हैं, लेकिन उनमें से ज्यादातर ने लगभग 10 महीने तक पानी दिया और इसके बाद काम करना बंद कर दिया। ये 'वॉटर एटीएम' अब महज शोपीस बनकर रह गए हैं। गांव वालों का कहना है कि जब सरकार को इनकी देखभाल नहीं करनी थी तो फिर ‘Water ATMs’ पर करोड़ों रुपये खर्च करने की क्या जरूरत थी।दिक्कत की बात यह है कि जब भी गंभीर जल संकट होता है, तो स्थानीय नौकरशाह एक ही समाधान बताते हैं और वह है जल संरक्षण। नागपुर जिला परिषद के एग्जेक्यूटिव इंजीनियर ने कहा कि जल स्तर को ऊपर बनाए रखने के लिए वॉटर कंजर्वेशन शाफ्ट डाले जा रहे हैं। वैज्ञानिकों का कहना है कि जब तक राज्य सरकार और स्थानीय ग्रामीण जल संरक्षण के लिए साथ नहीं आएंगे, तब तक कोई ठोस नतीजा नहीं मिल सकता।महाराष्ट्र के विदर्भ और मराठवाड़ा बीते कई दशकों से पानी की कमी का सामना कर रहे हैं। इन इलाकों में बारिश कम होती है जिससे अधिकांश क्षेत्रों में जल स्तर नीचे चला गया है। कई छोटे बांध बनाए गए हैं लेकिन पानी की कमी के कारण वे भी सूख गए हैं। ज्यादातर पानी का इस्तेमाल खेतों की सिंचाई के लिए होता है जिससे घरेलू इस्तेमाल के लिए कम पानी बचता है।झारखंड, मध्य प्रदेश और राजस्थान में भी ऐसे ही हालात हैं। झारखंड की राजधानी रांची के पास स्थि एक गांव चिरुडीह ऊपरटोला के लोग तो पहाड़ी नाले का पानी को पीने को मजबूर हैं। जल संकट इतना गहरा है कि हथेलियों या फिर थाली और कटोरी की मदद से पानी को बाल्टी में भरा जा रहा है। कहने को तो सरकार की तरफ से यहां हैंडपंप और जल मीनार भी लगाए गए हैं, लेकिन वे किसी काम के नहीं हैं। गांव के मुखिया ने पानी की समस्या के लिए गांव वालों को दोषी ठहराते हुए कहा कि वे जल मीनार के रखरखाव के लिए पैसा नहीं देते, जिससे वह खराब पड़ा है। से जूझ रहे लोगों को मध्य प्रदेश के देवास से सीख लेनी चाहिए, जहां कुछ साल पहले पानी का स्तर 800 फीट से भी नीचे चला गया था, लेकिन अब 50 फीट पर आ गया है। कई साल पहले भारत की पहली ‘वॉटर ट्रेन’ लातूर (महाराष्ट्र) से देवास (मध्य प्रदेश) तक चलाई गई थी, जो उस समय जल संकट का सामना कर रहा था। लेकिन अब हालात पहले से बेहतर हो गए हैं।यह करिश्मा एक आईएएस अफसर उमाकांत उमराव के कारण हो पाया जिन्होने जल संरक्षण के लिए अथक प्रयास किये। उमाकांत उमराव को 'वाटर क्रूसेडर'(जल योद्धा) के रूप में जाना जाता है। वे 2006 से 2007 तक देवास मे जिला कलेक्टर थे। उसी समय उन्होंने ‘जल अर्थशास्त्र’ नामक एक आंदोलन शुरू किया और ग्रामीणों को जल संरक्षण के लिए प्रेरित किया।‘रेवा सागर भगीरथ कृषक अभियान’ के तहत किसानों ने अपने खेतों में छोटे छोटे तालाब बनवाए और उनका नाम 'रेवा सागर' रखा। रेवा नर्मदा नदी का स्थानीय नाम है। भगीरथ का पुराणों में ज़िक्र है जो वह गंगा को धरती पर लाए थे। पहले साल के दौरान अकेले देवास जिले में सैकड़ों 'रेवा सागर' बनाए गए और जल्द ही यह अभियान मध्य प्रदेश के सीहोर, शाजापुर, उज्जैन, हरदा, खंडवा, रायसेन, धार, विदिशा, भोपाल और होशंगाबाद में फैल गया।उमाकांत उमराव ने बैंकों को किसानों को तालाब बनाने के लिए कर्ज देने के लिए राजी किया और बाद में किसानों ने ये कर्ज चुका भी दिए। तालाबों में इकट्ठा किए गए बारिश के पानी में भूजल की तुलना में कहीं ज्यादा घुलनशील नाइट्रोजन था। यह पानी रबी की फसल उगाने के लिए अच्छा था और पैदावार बढ़ने की वजह से स्थानीय किसान समृद्ध हुए।जब ये तालाब गर्मियों में सूख जाते थे तो उपजाऊ मिट्टी को इकट्ठा किया जाता था और उसे खेतों में डाल कर फसल उगाई जाती थी। फसल की कटाई के बाद मिट्टी को फिर से तालाबों में इस्तेमाल किया जाता था। इससे जमीन की पैदावार बढ़ी और मिट्टी का कटाव कम हुआ। संक्षेप में कहें तो रेवा सागर योजना मूल रूप से सतही जल भंडारण पर आधारित थी और इससे गर्मियों में किसानों की काफी मदद हुई।उमाकांत उमराव अब मध्य प्रदेश सरकार के पंचायत और ग्रामीण विकास सचिव हैं। अन्य राज्यों को भी इस प्रयोग से सीखना चाहिए और की दिशा में काम करना चाहिए ताकि लोगों को जल संकट का सामना न करना पड़े।

देवेंद्र फडणवीस की विपक्ष को नसीहत, कहा- हार पर आत्मविश्लेषण करें, ईवीएम को दोष न दें

देवेंद्रफडणवीसकीविपक्षकोनसीहतकहाहारपरआत्मविश्लेषणकरेंईवीएमकोदोषनदेंएक बार फिर TRP में नंबर वन बना 'ये रिश्ता क्या कहलाता है', 'कुंडली भाग्य' का ये है हाल****** आ गई है और एक बार फिरऔर के मिलन को टीआरपी रेटिंग में नंबर वन का स्थान मिला है। सीरियल पिछले हफ्ते की तरह इस हफ्ते भी टीआरपी की लिस्ट में नंबर वन पर आ गया है। सीरियल में इस वक्त कार्तिक और नायरा के बेटे कायरव की ओपन हार्ट सर्जरी का सीन दिखाया जा रहा है। सभी घरवालों को पता चल चुका है कि नायरा जिंदा है और कायरव उन्हीं के घर का चिराग है। सभी घरवाले ये जानकर सदमे में हैं। दूसरी तरफ सब कायरव के जल्दी ठीक होने की दुआ कर रहे हैं।'डांस दीवाने 2' टीआरपी की लिस्ट में दसवें नंबर पर है। शो को 2.3 प्वाइंट मिले हैं।सीरियल 'तुझसे है राब्ता' 2.3 प्वाइंट के साथ नवें नंबर पर है।सीरियल 'गुड्डन तुमसे ना हो पाएगा' इस बार टीआरपी की लिस्ट में आठवें नंबर पर हैं।'द कपिल शर्मा शो' 2.5 रेटिंग के साथ 7वें नंबर पर है।स्टार प्लस के सीरियल 'ये रिश्ता क्या कहलाता है' का स्पिन ऑफ सीरियल 'ये रिश्ते हैं प्यार के' को दर्शकों का खूब प्यार मिल रहा है। इस सीरियल को 2.5 रेटिंग मिली है और ये छठे नंबर पर है।'सुपरस्टार सिंगर' 5वें नंबर पर है। इस शो को 2.5 प्वाइंट मिले हैं।सोनी सब पर आने वाला सीरियल 'तारक मेहता का उल्टा चश्मा' चौथे नंबर पर है । इस शो को 2.9 प्वाइंट मिले हैं।जी टीवी का सीरियल 'कुमकुम भाग्य' तीसरे नंबर पर है। इस शो को 3.2 प्वाइंट मिले हैं।जी टीवी का सीरियल 'कुंडली भाग्य' 3.8 प्वाइंट के साथ दूसरे नंबर पर है।4 प्वाइंट के साथ सीरियल 'ये रिश्ता क्या कहलाता है' नंबर वन पर है। शिवांगी जोशी और मोहसिन खान का ये सीरियल दर्शकों को खूब पसंद आ रहा है।देवेंद्रफडणवीसकीविपक्षकोनसीहतकहाहारपरआत्मविश्लेषणकरेंईवीएमकोदोषनदेंWeather Update: उत्तर-पश्चिमी भारत शीत लहर की चपेट में, अगले 3 दिनों तक राहत के आसार नहीं, जानिए ताजा अपडेट******Highlights हरियाणा, पंजाब, राजस्थान और हिमाचल प्रदेश में शीत लहर का प्रकोप जारी है और अगले तीन दिनों तक राहत मिलने के आसार नहीं है। भारत मौसम विज्ञान विभाग ने रविवार को बताया कि दिल्ली, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, जम्मू कश्मीर, लद्दाख, गिलगित-बाल्तिस्तान तथा मुजफ्फराबाद, उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश भी शीत लहर की चपेट में हैं। उत्तरपश्चिमी भारत में राजस्थान के चुरू में सबसे कम शून्य से 2.6 डिग्री सेल्सियस नीचे तापमान दर्ज किया गया। इसके बाद सीकर में शून्य से 2.5 डिग्री से. नीचे और अमृतसर में शून्य से 0.5 डिग्री से. नीचे तापमान दर्ज किया गया। सफदरजंग वेधशाला ने दिल्ली में अभी तक इस मौसम का सबसे कम 4.6 डिग्री से. न्यूनतम तापमान दर्ज किया। लोधी रोड में स्थित मौसम केंद्र ने न्यूनतम तापमान 3.6 डिग्री से. दर्ज किया। उत्तराखंड के कुछ हिस्सों में घना कोहरा छाया रहा।आईएमडी ने उत्तरपश्चिमी भारत में अगले तीन दिनों तक चलने का अनुमान जताया है और उसके बाद इससे राहत मिल सकती है। अगले दो दिनों में उत्तराखंड के कुछ क्षेत्रों और पंजाब तथा हरियाणा में 23 और 24 दिसंबर को घना कोहरा छाए रहने का अनुमान है। मौसम कार्यालय ने बताया कि उत्तरपश्चिमी भारत के मैदानी इलाके मंगलवार तक 15 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चलने वाली ठंडी और शुष्क हवाओं की चपेट में रहेंगे, जिससे ‘‘शीत लहर और ठंड का प्रतिकूल असर बढ़ जाएगा।’’ आईएमडी के अनुसार, जब दृश्यता शून्य से 50 मीटर के बीच होती है तो उसे ‘‘बेहद घना’’ कोहरा कहा जाता है, 51 से 200 मीटर के बीच को ‘‘घना’’, 201 से 500 के बीच को ‘‘मध्यम’’ और 501 से 1,000 मीटर के बीच को ‘‘हल्का’’ कोहरा जाता है। अगर मैदानी इलाकों में न्यूनतम तापमान चार डिग्री सेल्सियस तक पहुंच जाता है तो आईएमडी शीतलहर की घोषणा करता है। जब न्यूनतम तापमान 10 डिग्री सेल्सियस या उससे नीचे तक चला जाता है और सामान्य से 4.5 डिग्री से.नीचे रहता है तो भी शीत लहर की घोषणा की जाती है।पंजाब और हरियाणा में रविवार को भीषण सर्दी रही तथा अमृतसर में पारा शून्य के नीचे 0.5 डिग्री सेल्सियस तक चला गया। मौसम विज्ञान विभाग के अधिकारियों के अनुसार इन दोनों राज्यों में ज्यादातर स्थानों पर रात का तापमान सामान्य के नीचे रहा तथा अमृतसर एवं लुधियाना में सुबह आंशिक कोहरा छाया रहा। अमृतसर में न्यूनतम तापमान सामान्य से चार डिग्री नीचे रहा। भीषण सर्दी से जूझ रहे पंजाब में हलवारा में न्यूनतम तापमान शून्य डिग्री, बठिंडा में 0.1 डिग्री, फरीदकोट में एक डिग्री और पठाकोट में 1.5 डिग्री सेल्सियस रहा। लुधियाना (5.1 डिग्री), पटियाला (4.6 डिग्री) और गुरदासपुर (2.4 डिग्री) में भी रात सर्द रही। दोनों राज्यों की संयुक्त राजधानी चंडीगढ़ में पारा 3.2 डिग्री तक लुढ़क गया जो सामान्य से चार डिग्री कम है। हरियाणा में सिरसा 0.6 डिग्री न्यूनतम तापमान के साथ सबसे ठंडा स्थान रहा। अंबाला (4.9 डिग्री), हिसार (दो डिग्री), नारनौल (1.2 डिग्री) , रोहतक (3.8 डिग्री) भी कड़कड़ाती ठंड की चपेट में रहे। गुरुग्राम और भिवानी में पारा क्रमश: 7.4 डिग्री और 5.1 डिग्री रहा।समूचा उत्तर भारत भीषण शीत लहर (Cold wave) का सामना कर रहा है। उत्तर भारत में पिछले हफ्ते से कड़ाके की ठंड देखने को मिल रही है। ऐसे में अब कई राज्य भी शीतलहर की चपेट में हैं। दरअसल पहाड़ों पर बर्फबारी हो रही है, जिसकी वजह ठंडी हवाएं चल रही हैं और ठंड लगातार बढ़ रही है। राष्ट्रीय राजधानी में रविवार को अधिकतम तापमान 19.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो सामान्य से तीन डिग्री कम है। वहीं, न्यूनतम तापमान इस मौसम में अबतक का सबसे कम 4.6 डिग्री दर्ज किया गया। भारत के मौसम विभाग (आईएमडी) ने यह जानकारी दी।आईएमडी के अधिकारी ने बताया कि दिल्ली में सापेक्षिक आर्द्रता 39 से 85 के बीच रही। मौसम कार्यालय का पूर्वानुमान है कि सोमवार की सुबह हल्की धुंध छाई रहेगी। लेकिन आसमान कुल मिलाकर साफ रहेगा और राष्ट्रीय राजधानी के कुछ स्थानों पर शीतलहर की स्थिति रह सकती है।विभाग के मुताबिक, सोमवार को भी दिल्ली का न्यूनतम और अधिकतम तापमान चार से 19 डिग्री सेल्सियस के बीच रहने का अनुमान है। मौसम विभाग ने कहा कि दिल्ली में शनिवार को मौसम का पहला ‘‘सर्द दिन’’ रहा और पश्चिमोत्तर हवाओं के कारण शहर में न्यूनतम तापमान छह डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। अधिकतम तापमान 17.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो सामान्य से पांच डिग्री कम और इस मौसम का सबसे कम तापमान है। विभाग ने बताया कि जब न्यूनतम तापमान 10 डिग्री सेल्सियस से कम या इसके बराबर और अधिकतम तापमान सामान्य से कम से कम 4.5 डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया जाता है, तो उसे ‘‘सर्द दिन’’ कहा जाता है।राष्ट्रीय राजधानी में शाम सात बजे वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 280 रहा, जो ‘खराब’ श्रेणी में आता है। फरीदाबाद में एक्यूआई 228, गाजियाबाद में 244, ग्रेटर नोएडा में 170, गुरुग्राम में 214 और नोएडा में 218 दर्ज किया गया। एक्यूआई को शून्य और 50 के बीच 'अच्छा', 51 और 100 के बीच 'संतोषजनक', 101 और 200 के बीच 'मध्यम', 201 और 300 के बीच 'खराब', 301 और 400 के बीच 'बहुत खराब' और 401 और 500 के बीच 'गंभीर' श्रेणी में माना जाता है।

देवेंद्र फडणवीस की विपक्ष को नसीहत, कहा- हार पर आत्मविश्लेषण करें, ईवीएम को दोष न दें

देवेंद्रफडणवीसकीविपक्षकोनसीहतकहाहारपरआत्मविश्लेषणकरेंईवीएमकोदोषनदेंIPL 2021 : KKR को फाइनल में पहुंचाने वाले अय्यर का खुलासा- जो मुझसे कहा गया, वही किया******शारजाह| कोलकाता नाइट राइडर्स (केकेआर) के सलामी बल्लेबाज वेंकटेश अय्यर ने कहा है कि उन्होंने वही किया जो उनसे टीम ने करने के लिए कहा। उन्होंने साथ ही रोमांचक मुकाबले में सफलतापूर्वक लक्ष्य को हासिल करने पर खुशी जताई। 136 रन का पीछा करते हुए अय्यर ने 55 रन बनाए थे।अय्यर ने कहा, "मैंने वही किया जो मुझसे करने के लिए कहा गया। मुझे खुशी है कि हम विजयी रहे। इसमें कोई भिन्नता नहीं है। मैंने उसी तरह खेला जिस तरह मैं खेलना चाहता था। मैं मैनजमेंट का आभारी हूं। खेलने के लिए यह अच्छी जगह है।"उन्होंने साथ ही कहा कि वह दिल्ली के खिलाफ खुद को बनाने की कोशिश कर रहे थे जो वह पिछले कुछ मैचों से नहीं कर पाए थे। अय्यर ने कहा, "मुझे लगता है कि पिछले कुछ मैचों में मैं खुद को थोड़ा सीमित रखने की कोशिश कर रहा था क्योंकि मैं अंत तक टिके रहना चाहता था। लेकिन फिर मुझे लगा कि यह मैं नहीं हूं। मैं थोड़ा रूढ़िवादी होने की कोशिश में वर्तमान में पिछड़ रहा था।"केकेआर ने क्वालीफायर-2 में दिल्ली को तीन विकेट से हराया और फाइनल में जगह बनाई। केकेआर तीसरी बार आईपीएल के खिताबी मुकाबले में पहुंचा है जहां उसका सामना चेन्नई सुपर किंग्स से होगा।

देवेंद्रफडणवीसकीविपक्षकोनसीहतकहाहारपरआत्मविश्लेषणकरेंईवीएमकोदोषनदेंPetrol Diesel rate Today 6 February 2020: एक दिन की स्थिरता के बाद फिर घटे पेट्रोल-डीजल के दाम, जानिए नए रेट******Petrol Diesel price Today 6 February 2020 पेट्रोल और डीजल के दाम में गिरावट का सिलसिला एक दिन की स्थिरता के बाद आज गुरुवार को फिर जारी है। तेल विपणन कंपनियों ने गुरुवार को पेट्रोल और डीजल के दाम में भारी कटौती की है। हालांकि अंतर्राष्ट्रीय बाजार में पिछले दिनों कच्चे तेल के दाम में आई भारी गिरावट के कारण पेट्रोल और डीजल के दाम में आने वाले दिनों में अभी और कटौती देखने को मिल सकती है। गुरुवार को पेट्रोल के दाम दिल्ली में 9 पैसे, कोलकाता और मुंबई में 8 पैसे, जबकि चेन्नई में 10 पैसे प्रति लीटर तक कम हुए हैं। डीजल के दाम दिल्ली और कोलकाता में 12 पैसे जबकि, मुंबई और चेन्नई में 13 पैसे प्रति लीटर तक घटे हैं।इंडियन ऑयल की वेबसाइट के अनुसार, दिल्ली, कोलकता, मुंबई और चेन्नई में घटकर क्रमश: 72.89 रुपए, 75.57 रुपए, 78.55 रुपए और 75.73 रुपए प्रति लीटर हो गए हैं। वहीं, चारों महानगरों में भी घटकर क्रमश: 65.92 रुपए, 68.29 रुपए, 69.09 रुपए और 69.63 रुपए प्रति लीटर है।वहीं दिल्ली के आसपास की बात करें तो नोएडा में पेट्रोल 74.62 रुपए और डीजल 66.18 रुपए प्रति लीटर मिल रहा है। गाजियाबाद में पेट्रोल 74.49 रुपए और डीजल 66.04 रुपए प्रति लीटर की दर से बिक रहा है। उधर गुरुग्राम में शुक्रवार को पेट्रोल 72.82 रुपए और डीजल 65.21 रुपए प्रति लीटर मिल रहा है। फरीदाबाद में पेट्रोल 73.01 रुपए और डीजल 65.39 रुपए प्रति लीटर की दर से मिल रहा है।सभी ऑयल मार्केटिंग कंपनियों IOC, BPCL और HPCL के हर दिन घटते-बढ़ते रहते हैं। पेट्रोल-डीजल का नया दाम सुबह 6 बजे से लागू हो जाता है। इनकी कीमत में एक्साइज ड्यूटी, डीलर कमीशन सब कुछ जोड़ने के बादल इसकी कीमत लगभग दोगुनी हो जाती है।आप अपने शहर के पेट्रोल-डीजल के दाम रोजाना SMS के जरिए भी चेक कर सकते है। इंडियन ऑयल (IOC) के उपभोक्ता RSP<डीलर कोड> लिखकर 9224992249 नंबर पर व एचपीसीएल (HPCL) के उपभोक्ता HPPRICE <डीलर कोड> लिखकर 9222201122 नंबर पर भेज सकते हैं। बीपीसीएल (BPCL) उपभोक्ता RSP<डीलर कोड> लिखकर 9223112222 नंबर पर भेज सकते हैं।देवेंद्रफडणवीसकीविपक्षकोनसीहतकहाहारपरआत्मविश्लेषणकरेंईवीएमकोदोषनदेंपश्चिम एशिया में तनाव बढ़ा, अमेरिका करने जा रहा है 1,000 अतिरिक्त सैनिकों की तैनाती****** और के बीच रिश्ते अब तेजी से खराब होते जा रहे हैं। एक तरफ ईरान लगातार अमेरिका और सऊदी अरब जैसे उसके सहयोगी देशों द्वारा लगाए जा रहे आरोपों को खारिज कर रहा है, तो दूसरी तरफ कुछ ऐसी घटनाएं भी हो रही हैं जो इलाके में तनाव को बढ़ावा ही दे रही हैं। इस बीच अमेरिका ने सोमवार को कहा कि ईरान के साथ बढ़ते तनाव को ध्यान में रखते हुए उसने पश्चिम एशिया में 1000 अतिरिक्त सैनिकों की तैनाती की अनुमति दे दी है।कार्यवाहक रक्षा मंत्री पैट्रिक शनहान ने एक बयान में कहा कि सैनिकों को ‘पश्चिम एशिया में हवाई, नौसैनिक, और जमीनी खतरों से निपटने के लिए भेजा जा रहा है। हाल ही में ईरानी हमलों ने ईरानी बलों और उसके इशारों पर काम कर रहे समूहों के शत्रुतापूर्ण व्यवहार पर प्राप्त खुफिया जानकारी की पुष्टि की है, जो पूरे क्षेत्र में अमेरिकी कर्मियों और उनके हितों के लिए खतरा हैं।’ अमेरिका ने पिछले सप्ताह ईरान को ओमान की खाड़ी में हुए 2 टैंकर हमलों के लिए जिम्मेदार ठहराया था। हालांकि तेहरान ने इसे ‘निराधार’ करार देते हुए खारिज कर दिया था।हालांकि शनहान ने अपने बयान में यह भी कहा है कि अमेरिका ईरान के साथ कोई टकराव नहीं चाहताा। उन्होंने कहा, ‘तैनाती का लक्ष्य पूरे क्षेत्र में काम करने वाले हमारे सैन्य कर्मियों की सुरक्षा एवं कल्याण सुनिश्चित करना और हमारे राष्ट्रीय हितों की रक्षा करना है।’ अमेरिका के ईरान के साथ बहुराष्ट्रीय परमाणु समझौते से बाहर होने के बाद से ही दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ा हुआ है।

देवेंद्रफडणवीसकीविपक्षकोनसीहतकहाहारपरआत्मविश्लेषणकरेंईवीएमकोदोषनदेंदिवाली के दौरान रॉयल एनफील्ड की सेल में जोरदार बढ़ोतरी, अक्टूबर में 18% ज्यादा सेल एक्सपोर्ट 98% अधिक****** अपनी आवाज के दम पर देश की सड़कों पर अलग पहचान बना चुकी रॉयल एनफील्ड बाइक्स की दिवाली के दौरान जबरदस्त बिक्री हुई है। दिवाली का त्योहार बीते अक्टूबर के दौरान था और रॉयल एनफील्ड बनाने वाली कंपनी आयसर मोटर्स ने आज अक्टूबर के लिए अपने बिक्री आंकड़े पेश किए हैं जिनके मुताबिक अक्टूबर में रॉयल एनफील्ड की बिक्री में 18 फीसदी का इजाफा दर्ज किया गया है।आयसर मोटर्स के मुताबिक अक्टूबर के दौरान 350 सीसी इंजन की क्षमता तक की बाइक्स की बिक्री 65,209 इकाइयों की रही है, पिछले साल अक्टूबर के दौरान इतनी क्षमता तक की बाइक्स की बिक्री 55,188 इकाइयां दर्ज की गई थी, यानि इस साल यह बिक्री 18 फीसदी अधिक है। कंपनी ने अक्टूबर में 350 सीसी से अधिक क्षमता वाली 4,283 बाइक्स की बिक्री की है जबकि पिछले साल अक्टूबर में यह आंकड़ा 3,939 दर्ज किया गया था।कुल मिलाकर आयसर मोटर्स ने इस साल अक्टूबर में 69,492 रॉयल एनफील्ड बाइक्स की बिक्री की है जिसमें 1478 बाइक्स का एक्सपोर्ट भी शामिल है। इस साल अक्टूबर के दौरान इन बाइक्स के एक्सपोर्ट में 98 फीसदी का जोरदार इजाफा देखने को मिला है। अक्टूबर में एक्सपोर्ट 1478 बाइक्स का रहा है जबकि पिछले साल यह आंकड़ा सिर्फ 748 बाइक्स का था। बढ़ा हुआ निर्यात साफ बता रहा है कि इस बाइक के लिए दीवानगी अब विदेशों में भी बढ़ने लगी है।देवेंद्रफडणवीसकीविपक्षकोनसीहतकहाहारपरआत्मविश्लेषणकरेंईवीएमकोदोषनदेंरियलमी जीटी 5G दमदार परफॉर्मेंस, 64 एमपी कैमरा, 65वॉट फास्ट चार्जिग के साथ हुआ पेश******रियलमी जीटी 5G दमदार परफॉर्मेंस, 64 एमपी कैमरा, 65वॉट फास्ट चार्जिग के साथ हुआ पेशतेजी से बढ़ते स्मार्टफोन ब्रांड रियलमी ने अब भारत में रियलमी जीटी 5जी स्मार्टफोन को यूजर्स के लिए कुछ खास फीचर के साथ लॉन्च किया है। रियलमी जीटी 5जी डैशिंग सिल्वर और डैशिंग ब्लू कलर में 8जीबी प्लस 128जीबी स्टोरेज वैरिएंट में आता है, जिसकी कीमत 37,999 रुपये है, साथ ही डुअल-टोन लेदर डिजाइन वैरिएंट, रेसिंग येलो, 12जीबी प्लस 256जीबी वैरिएंट में 41,999 रुपये है।मार्केट रिसर्च फर्म आईडीसी के अनुसार, स्मार्टफोन ब्रांड प्रभावशाली फोन पेश करता है, हाल ही में 175 प्रतिशत की साल-दर-साल की शिपमेंट वृद्धि के साथ चौथे स्लॉट के लिए ओप्पो को पीछे छोड़ दिया है। यह डिवाइस वेरिएंट में ग्लास बैक हैं, रेसिंग येलो डुअल-टोन लेदर डिजाइन में रियर पैनल पर एक वीगन लेदर है, जो डिवाइस को प्रीमियम लुक देता है।डिस्प्ले के मामले में, स्मार्टफोन 6.43-इंच सुपर एमोलेड फुल स्क्रीन पैक करता है और यह 120हट्र्ज स्क्रीन रिफ्रेश रेट को सपोर्ट करता है। जीटी 5जी गेम मोड में यह 360हट्र्ज सैंपलिंग दर तक पहुंचता है, और स्पर्श अधिक उपयोगकर्ता के अनुकूल है। डिवाइस के रियर कैमरा सेटअप की बात करें तो स्मार्टफोन में 64एमपी का प्राइमरी कैमरा, 8एमपी का अल्ट्रा-वाइड-एंगल और 2एमपी का मैक्रो लेंस है।कैमरा ऐप में 64एमपी मोड, सुपर नाइट मोड, पैनोरमिक व्यू, एक्सपर्ट, टाइमलैप्स, बोकेह, एचडीआर, अल्ट्रा वाइड-एंगल, अल्ट्रा मैक्रो, एआई सीन रिकग्निशन, एआई ब्यूटी, फिल्टर, डैजल कलर मोड, हाइपरटेक्स्ट, पोट्र्रेट डिस्टॉर्शन करेक्शन शामिल हैं। हुड के तहत, क्वालकॉम स्नैपड्रैगन 888 एसओसी है, साथ ही 12जीबी तक एलपीडीडीआर5 रैम है। हमने देखा कि यह डिवाइस गेमिंग के लिए अच्छा है क्योंकि यह ज्यादातर मिड-टू-हैवी गेम्स को हैंडल कर सकता है। मल्टीटास्किंग के दौरान स्मार्टफोन बिल्कुल भी पीछे नहीं रहा है।रियलमी जीटी 5जी में 4,500एमएएच की बैटरी है जो 65वॉट सुपरडार्ट चार्ज फास्ट चाजिर्ंग को सपोर्ट करती है। इसे फुल चार्ज करने जितना ही अच्छा माना जा सकता है। एक शक्तिशाली चिपसेट, प्रभावशाली कैमरा और लेदरबैक सहित साफ-सुथरे दिखने और शानदार विनिदेशरें के साथ, रियलमी जीटी 5जी भीड़ से अलग है। कुल मिलाकर यह स्मार्टफोन भारत में ढेर सारे एंड्रॉयड यूजर्स को प्रभावित करने वाला है।

देवेंद्रफडणवीसकीविपक्षकोनसीहतकहाहारपरआत्मविश्लेषणकरेंईवीएमकोदोषनदेंUP Election 2022: नाराज ब्राह्मणों को साधने के लिए भाजपा ने तैयार किया 'मास्टर प्लान', दिल्ली में जेपी नड्डा के साथ नेताओं की बैठक******Highlightsउत्तर प्रदेश में भाजपा अब नई रणनीति बनाने में जुट गई है। पार्टी अब सवर्ण वोटों पर निशाना साधने की जुगत में है। सोमवार को ब्राह्मण नेताओं ने राज्य में महत्वपूर्ण वोटबैंक तक पार्टी की पकड़ मजबूत करने के लिए पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के मुलाकात की। के साथ बैठक के दौरान नेताओं ने विभिन्न मुद्दों पर विस्तार से चर्चा की है। रविवार को उत्तर प्रदेश से भाजपा के एक दर्जन से अधिक ब्राह्मण नेताओं ने प्रदेश प्रभारी केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान के आवास पर ब्राह्मण वोट बैंक को साधने के लिए मैराथन बैठक की।सूत्रों के मुताबिक, पार्टी ने बीजेपी के राज्यसभा के मुख्य सचेतक शिव प्रताप शुक्ला, पार्टी नेता अभिजीत मिश्रा, पूर्व राष्ट्रीय सचिव और गुजरात के सांसद राम भाई मोकारिया और महेश शर्मा की एक समिति बनाई है, जो समुदाय के ब्राह्मण सदस्यों तक पहुंचेगी।केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा सहित पार्टी के ब्राह्मण नेता, जिनके बेटे को लखीमपुर खीरी हिंसा के सिलसिले में गिरफ्तार किया गया है। माना जा रहा है कि इससे राज्य के ब्राह्मण वोट बैंक पर प्रभाव पड़ा है और इसी को साधने के लिए ब्राह्मण नेताओं ने ये रणनीति बनाई है। अगले कुछ महीनों बाद राज्य के सभी सीटों पर विधानसभा चुनाव होने हैं। पार्टी सभी 403 सीटों पर अपने वोट बैंक को मजबूत करने की कोशिश करेगी।इनपुट- भाषादेवेंद्रफडणवीसकीविपक्षकोनसीहतकहाहारपरआत्मविश्लेषणकरेंईवीएमकोदोषनदेंट्रैफिक चालान पर आई बड़ी राहत की खबर, दिल्ली ट्रैफिक पुलिस ने की घोषणा******ट्रैफिक चालान पर आई बड़ी राहत की खबर, दिल्ली ट्रैफिक पुलिस ने की घोषणाअगर आपका चालान कटा है तो आपके लिए बड़ी राहत कीखबर है। ओवरस्पीडिंग, रेड लाइट जंप आदि यातायात नियमों के उल्लंघन आपके द्वारा किया गया है और आपने अबतक अपना ट्रैफिक चालान नही भराहै तो आपके लिए जरुरी सूचना है। दिल्ली ट्रैफिक पुलिस ने लोक अदालत के द्वारा चालान का निपटारा किए जाने को लेकर यह सूचना जारी की है। आपको बता दें कि लॉकडाउन के समय बहुत सारे लोगों जिनमें फ्रंटलाइनवर्कर्स शामिल है उनका चालान ओवर स्पीडिंग, रेड लाइट जंप आदि का हजारों में है। लॉकडाउन के दौरान यह चालन क्योंकि मैसेज में आए थे ऐसे में उस समय लोग यह चालान कहा भरने जाएं इस समस्या से परेशान थेऐसे में अब उन चालानों का भी निपटारा करने के लिए लोक आदालत लगाई जा रही है।14 फरवरी से सुबह 10 बजे से सांय 3.30 बजे तक ट्रैफिक चालान का निपटारा किया जाएगा। ऐसे में सभी कंपाउंडेबल ट्रैफिक चालान (ऑन-द-स्पॉट और कैमरा आधारित चालान) जो वर्चुअल और रेगुलर कोर्ट में संबित हैउनका निपटार इन लोक अदालत में किया जाएगा। अगर आप भी अपने चालान के निपटाने के लिए अगर आप लोक अदालत में शामिल होना चाहते हैं तो मास्‍क पहनकर आना होगा। इसके अलावा सोशल डिस्‍टेंसिंग कापालन भी जरूरी है। लोक अदालतों में भीड़ न हो, इसके लिए नजर लगातार मॉनिटरिंग की जाएगी।पढ़ें- पढ़ें- चालान का निपटारा तीस हजारी कोर्ट, कड़कड़नूमा, पचियाला हाउस, साकेत, रोहिणी एवं द्वारका न्यायालय परिसरों में किया जाएगा। यह लोक अदालत दिल्‍ली के सभी डिस्ट्रिक्‍ट कोर्ट परिसरों और 33 कम्‍युनिटी प्‍लेसेजपर भी लगेगी। कम्‍युनिटी प्‍लेसेज की जानकारी आप दिल्ली पुलिस की वेबसाइट से भी ले सकते है।दिल्ली-एनसीआर के साथ उत्तर प्रदेश और हरियाणा समेत देश के तमाम राज्यों के करोड़ों वाहन चालकों को अपने सभी संबंधित कागजात पूरे करने के साथ सड़क पर नियमों का पालन हर हाल में करना होगा। ऐसा नहीं होनेकी स्थिति में वाहन चालकों को भारी जुर्माना तो भुगतना पड़ेगा ही, साथ उनके वाहन बीमा प्रीमियम पर भी नियम तोड़ना भारी पड़ने वाला है। बता दें कि बीमा विनियामक और विकास प्राधिकरण (InsuranceRegulatory and Development Authority) के एक कार्य समूह ने यातायात उल्लंघन प्रीमियम की शुरुआत करने की सिफारिश की है। इसके तहत अगर कोई वाहन चालक/वाहन मालिक यातायात के नियमों काउल्लंघन करता है तो उपभोक्ता को गाड़ी का बीमा लेने में अधिक प्रीमियम का भुगतान करना होगा। इसी के साथ अगर वाहन चालकों ने सड़क पर चलने के दौरान नियमों को ठीक तरीके से पालन किया तो उसे प्रीमियम काकम भुगतान करना पड़ेगा।

हाल का ध्यान

लिंक