वर्तमान पद:मुखपृष्ठ > त्सुएन वान जिला > मूलपाठ

Mata Vaishno Devi: वैष्णो देवी दर्शन के लिए अब नहीं बनवानी होगी पर्ची, जानिए कैसे होंगे माता के दर्शन

2022-10-04 18:30:36 त्सुएन वान जिला

वैष्णोदेवीदर्शनकेलिएअबनहींबनवानीहोगीपर्चीजानिएकैसेहोंगेमाताकेदर्शनBigg Boss 12: श्रीसंत ने पहली बार किया हरभजन सिंह के 'थप्पड़ कांड' का खुलासा, देखिए वीडियो****** के घर में इस बार पूर्व क्रिकेटर श्रीसंत कंटेस्टेंट बनकर आए हैं। श्रीसंत कई मौकों पर इस बात पर दुख जाहिर कर चुके हैं कि क्रिकेट में उनके कई खराब अनुभव रहे हैं। हालांकि श्रीसंत ने कभी अपने विवादित क्रिकेट करियर पर कुछ नहीं कहा। लेकिन इस बार कुछ ऐसा हुआ कि श्रीसंत ने एक बड़ा खुलासा कर दिया। दरअसल श्रीसंत ने पहली बार हरभजन सिंह के बीच हुए विवाद पर चुप्पी तोड़ी है। दरअसल एक टास्क के दौरान सुर्भि राणा पत्रकार बनी थीं और उनसे घर में ब्रेकिंग न्यूज बनाने को कहा गया था। इस मौके पर सुरभि राणा ने उनसे वो सवाल पूछ लिया जिसका जवाब पूरा देश जानना चाहता है कि आखिर हरभजन सिंह ने श्रीसंत को थप्पड़ क्यों मारा और इसके बाद श्रीसंत क्यों रोए थे।बता दें यह मामला साल 2008 का है, जब आईपीएल के पहले सीजन में मुंबई इंडियंस के खिलाड़ी हरभजन सिंह ने किंग्स इलेवन पंजाब के खिलाड़ी को थप्पड़ मार दिया था। यह मामला मीडिया में खूब उछला था लेकिन बाद में दोनों ने मामला सुलझा लिया था।श्रीसंत से जब सुरभि ने पूछा कि आपको हरभजन ने थप्पड़ क्यों मारा था, और पूरा मामला क्या था, इस पर श्रीसंत ने सुरभि को बना दिया श्रीसंत और खुद हरभजन सिंह बनकर एक्ट करने लगे।श्रीसंत ने बतायाकि जब हरभजनसे मैंनेहाथ मिलाने के लिए हाथ आगे कियाउनका हाथ मेरेगाल तक आ गया। उन्होंने मुझेमारा नहीं लेकिनमैं हेल्पलेस था इसलिए मैं रोया। देखिएवीडियो-

वैष्णोदेवीदर्शनकेलिएअबनहींबनवानीहोगीपर्चीजानिएकैसेहोंगेमाताकेदर्शनऑस्ट्रेलियन ओपन 2021 : ओसाका और हालेप भी पहुंची तीसरे दौर में******मेलबर्न। महिलाओं में नंबर तीन जापान की नाओमी ओसाका और विश्व रैंकिग में दूसरे स्थान पर मौजूद रोमानिया की सिमोना हालेप वर्ष के पहले ग्रैंड स्लैम ऑस्ट्रेलियन ओपन के दूसरे राउंड में अपने-अपने मुकाबले जीत बुधवार को तीसरे दौर में पहुंच गईं। ऑस्ट्रेलियन ओपन की आधिकारिक वेबसाइट एयूएसओपन डॉट कॉम के अनुसार, ओसाका का दूसरे दौर में फ्रांस की कैरोलिन गार्सिया से मुकाबला हुआ।ओसाका ने शानदार खेल का प्रदर्शन करते हुए मात्र एक घंटे एक मिनट तक चले मुकाबले में गार्सिया को 6-2, 6-3 से हराकर तीसरे दौर में जगह बनाई। ओसाका का तीसरे दौर में ट्यूनीशिया की ओन्स जाबेर से मुकाबला होगा।ओसाका ने मुकाबले में 10 एस लगाए, जबकि गार्सिया ने छह एस लगाए। विश्व रैंकिंग में तीसरे स्थान पर मौजूद ओसाका ने 23 और गार्सिया ने 10 विनर्स लगाए। ओसाका ने इस मैच में 14 और गार्सिया ने भी 14 बेजां भूलें की।नंबर दो हालेप का महिला एकल वर्ग के एक अन्य मुकाबले में ऑस्ट्रेलिया की एजला टॉमजानोविच से मुकाबला हुआ। हालेप ने दो घंटे 34 मिनट तक चले मुकाबले में टॉमजानोविच को 4-6, 6-4, 7-5 से हराकर तीसरे दौर में प्रवेश किया। हालेप का तीसरे दौर में रूस की वेरोनिका कुदेरमेतोवा से मुकाबला होगा।टॉमजानोविच ने हालेप को पहले सेट में पराजित किया, लेकिन हालेप ने आखिरी दो सेटों में दमदार तरीके से वापसी की और दूसरा तथा तीसरा सेट अपने नाम कर तीसरे दौर में जगह बनाई। हालेप ने मुकाबले में 28 विनर्स लगाए, जबकि टॉमजानोविच ने 37 विनर्स लगाए। हालेप ने 37 बेजां भूलें की और टॉमजानोविच ने 57 बेजां भूलें की।वैष्णोदेवीदर्शनकेलिएअबनहींबनवानीहोगीपर्चीजानिएकैसेहोंगेमाताकेदर्शन'खतरों के खिलाड़ी 10' प्रोमो: एडवेंचर के साथ डर की यूनिवर्सिटी लेकर आए रोहित शेट्टी, इन कंटेस्टेंट्स का हुआ बुरा हाल****** कलर्स चैनल पर आने वाले पॉपुलर स्टंट बेस्ड रिएलिटी शो का प्रोमो सामने आ चुका है। इस शो की शूटिंग इस बार बुल्गारिया में हुई है। मशहूर डायरेक्टर और प्रोड्यूसर रोहित शेट्टी इस बार भी शो को होस्ट करेंगे। प्रोमो में दिखाया गया है कि रोहित ने डर की यूनिवर्सिटी खोली है, जिसमें खौफनाक जानवर टहल-घूम रहे हैं, जबकि कंटेस्टेंट्स स्कूल की यूनिफॉर्म में डरते हुए नज़र आ रहे हैं।कलर्स ने सोशल मीडिया पर 'खतरों के खिलाड़ी 10' का प्रोमो शेयर किया है। इसमें रोहित शेट्टी 'डर की यूनिवर्सिटी' चलाते दिखाई दे रहे हैं, जिसमें शेर और सांप समेत कई खौफनाक जानवर अगल-बगल टहल रहे हैं, जबकि कंटेस्टेंट्स स्कूल की यूनिफॉर्म में इन जानवरों से डरते हुए नज़र आ रहे हैं।प्रोमो में रोहित शेट्टी कह रहे हैं, 'वेलकम, मैं हूं इस खतरों की यूनिवर्सिटी का प्रोफेसर और मुझे पसंद है सुनना.. डर की चीख।'बता दें कि इस बार टीवी एक्ट्रेस करिश्मा तन्ना, अदा खान, तेजस्वी प्रकाश, अमृता खानविलकर और टीवी एक्टर करण पटेल, शिविन नारंग, डांसर धर्मेश, भोजपुरी एक्ट्रेस रानी चटर्जी, कॉमेडियन बलराज और आरजे मलिष्का बतौर कंटेस्टेंट्स खतरों से खेलते नज़र आएंगे।'खतरों के खिलाड़ी 10' इसी महीने से शुरू हो जाता, लेकिन बिग बॉस 13 एक्सटेंड करने की वजह से रोहित शेट्टी का शो फरवरी महीने में टेलिकास्ट होगा।

Mata Vaishno Devi: वैष्णो देवी दर्शन के लिए अब नहीं बनवानी होगी पर्ची, जानिए कैसे होंगे माता के दर्शन

वैष्णोदेवीदर्शनकेलिएअबनहींबनवानीहोगीपर्चीजानिएकैसेहोंगेमाताकेदर्शनWest Bengal: कोलकाता जेल के कैदी ने की सुसाइड की कोशिश, हालत गंभीर******दक्षिण कोलकाता के प्रेसीडेंसी सेंट्रल करेक्शनल होम में मौत की सजा काट रहे एक कैदी ने आत्महत्या करने का प्रयास किया। इसके बाद उसकी हालत नाजुक बताई जा रही है। सूत्रों ने शनिवार को यह जानकारी दी। रईस कुरैशी (50) को सरकारी एसएसकेएम मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल में ट्रॉमा केयर यूनिट में भर्ती कराया गया है, जहां उसकी हालत गंभीर बताई जा रही है।शुक्रवार की रात कुरैशी ने अपने सेल में खुद पर कई बार चाकू से हमला किया। जब मामला सुधार गृह के वार्डन व सुरक्षा गार्डो के संज्ञान में आया, तो उन्होंने जल्दी से सेल में घुसकर कैदी के हाथ से धारदार हथियार छीना और अस्पताल में भर्ती कराया। कुरैशी को चार लोगों की हत्या के आरोप में मौत की सजा सुनाई गई थी।इस घटना को लेकर कई सवाल उठ रहे हैं, पहला यह कि कैदी के जेल में तेज धारदार चाकू कैसे पहुंचा। दूसरा सवाल यह है कि क्या किसी ने कुरैशी को इस तरह का कदम उठाने के लिए उकसाया था। हालांकि, राज्य सुधार सेवा विभाग के अधिकारियों ने घटना पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया है। स्थानीय थाने की पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है।21 सितंबर को गुजरात के वडोदरा केंद्रीय सुधार गृह में सात विचाराधीन कैदियों ने फिनाइल और डिटर्जेट तरल पीकर सामूहिक आत्महत्या का प्रयास किया। सुधार गृह के कैदियों में से एक हर्ष लिम्बाचिया ने आरोप लगाया कि जेल अधिकारियों ने उनकी टिफिन सेवाओं को रोक दिया था और इसे बहाल करने के लिए रिश्वत की मांग कर रहे थे। कैदी ने यह भी आरोप लगाया कि उन्हें बैरक से बाहर नहीं जाने दिया जाता। साथ ही जेल के कैदियों को समय पर भोजन नहीं दिया जाता है।कुछ दिनों पहले कानपुर स्थित भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (IIT) में एक छात्र ने हॉस्टल के अपने कमरे में फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली थी। पुलिस आयुक्त बी पी जोगदंड ने बुधवार को बताया कि आईआईटी में मैकेनिकल इंजीनियरिंग से पीएचडी कर रहे 32 वर्षीय प्रशांत सिंह ने रात को हॉस्टल के अपने कमरे में फांसी लगा ली और वहां से कोई भी सुसाइड नोट नहीं मिला है।छात्र के मोबाइल फोन और लैपटॉप को जब्त कर लिया गया है। माना जा रहा है कि इससे मामले का कुछ सुराग मिल सकता है। जोगदंड ने बताया कि शव को पोस्टमार्टम के लिए ले जाया गया है। इस बीच, आईआईटी कानपुर द्वारा जारी एक बयान में कहा गया है कि हॉल-8 के एक व्यक्ति ने संस्थान की सुरक्षा इकाई को यह सूचना दी थी कि पीएचडी के छात्र प्रशांत सिंह का कमरा अंदर से बंद है और छात्र कोई जवाब नहीं दे रहा है। बयान के मुताबिक संस्थान के अधिकारियों ने दरवाजा तोड़ कर देखा तो प्रशांत सिंह फांसी के फंदे से लटका मृत पाया गया। उसके बाद घटना की सूचना उसके परिवार के लोगों को दी गई।वैष्णोदेवीदर्शनकेलिएअबनहींबनवानीहोगीपर्चीजानिएकैसेहोंगेमाताकेदर्शनBooker Prize List: बुकर प्राइज लिस्ट में शामिल होने वालीं सबसे युवा लेखिका बनी लीला मोटली******Highlights कैलिफोर्निया (California) के ऑकलैंड में जन्मीं मात्र 20 साल की लीला मोटली साल 2022 के बुकर प्राइज के दावेदारों में शामिल अब तक की सबसे युवा लेखिका हैं। फिलहाल लीला के जिस उपन्यास ‘नाइटक्रॉलिंग’ को सर्वेश्रेष्ठ उपन्यास की सूची में स्थान मिला है, उसने विश्व साहित्य में सभी का ध्यान अपनी ओर आकर्षित किया है। अमेरिकी पुलिस सिस्टम के भीतर काले लोगों और अछूत समझी जाने वाली सेक्स वर्कर्स को न्याय की आस में किस प्रकार का उत्पीड़न झेलना पड़ता है, यह उपन्यास उसी दुष्चक्र को कथानक (Plot) के रूप में लेकर चला है।दुनिया की सबसे शक्तिशाली महिलाओं में शुमार मशहूर टीवी एंकर और प्रोड्यूसर ओप्रा विन्फ्रे के ‘ओफ्रा’ज बुक क्लब’ में शुमार ‘नाइटक्रॉलिंग’ लीला मोटली का पहला उपन्यास (Novel) है। यह उपन्यास पाठकों को ऑकलैंड में रहने वाली 17 साल की कियारा जॉनसन की दुनिया में ले जाता है, जहां काले समाज के युवा समुदाय की खुशियां, उनकी उम्मीदें और उनका डर एक अलग संसार रचता है। जो क्रिमिनल जस्टिस सिस्टम काले लोगों की रक्षा के लिए बनाई गई है उसी में कियारा किस प्रकार पुलिस की सेक्सुअल वायलेंस का शिकार होती है, किस प्रकार उसका अपना परिवार इस व्यवस्था का शिकार हो जाता है, यही ‘नाइटक्रॉलिंग’ का कथानक (Plot) है।अस्तित्व के लिए संघर्ष कियारा को चाइल्ड सेक्स वर्कर में तब्दील कर देता है, लेकिन इसके बावजूद वह अपने पड़ोस के एक 9 साल के बेसहारा बच्चे का लालन पालन करती है, जिसे उसकी मां छोड़कर जा चुकी है। इस पूरे संघर्ष में कियारा मजबूती से खड़ी रहती है और सिस्टम के दमन के आगे झुकने से इंकार कर देती है। और यही इस ‘नाइटक्रॉलिंग ’ की खूबसूरती है, जिसे लीला ने एक अलग ही अंदाज में रचा है। लेखकीय टिप्पणी में लीला मोटली ने लिखा है कि किस प्रकार ऑकलैंड में एक पुलिस अधिकारी की आत्महत्या के बाद मिले नोट से पुलिस सिस्टम के भीतर पनपते सेक्सुअल अब्यूज स्कैंडल का खुलासा हुआ और कैसे वह उनके इस उपन्यास का कथानक (Plot) बना। यह लीला की संवेदनशील नजर थी, जिसने इस कांड के परदे के पीछे काली-अश्वेत किशोरी के अनदेखे उत्पीड़न, दर्द को देखा और समझा।लीला को मात्र 16 साल की उम्र में ऑकलैंड की युवा कवयित्री चुना गया था और वह अपने 17वें जन्मदिन से पहले ‘नाइटक्रॉलिंग’ लिखना शुरू कर चुकी थीं। हाई स्कूल पास करने तक वह इस उपन्यास (Novel) की पटकथा लगभग पूरी कर चुकी थीं। ‘नाइटक्रॉलिंग’ भले ही उनका पहला प्रकाशित उपन्यास (Novel) है, लेकिन वह 14-15 साल की उम्र में दो उपन्यास (Novel) पहले ही लिख चुकी हैं। लीला मोटली, अपने पिता के साथ ही नोबेल पुरस्कार विजेता टॉनी मौरिसन, टोनी केड बाम्बरा, जैकलिन वुडसन और जेसमिन वार्ड से प्रभावित रही हैं और इस समय वह अपने पहले काव्य संग्रह (Poetry Collection) पर काम कर रही हैं। लीला एक साहित्यिक और रचनात्मक परिवार से ताल्लुक रखती हैं, जहां उनके पिता जानेमाने नाट्य लेखक हैं। आंखें खोलने के बाद से ही लीला ने अपने पिता को लिखते देखा है और इसी से उन्हें अपने कलात्मक सपने को पूरा करने की प्रेरणा मिली।लीला से पहले, ब्रिटिश उपन्यासकार जॉन मैक्ग्रेगोर ने वर्ष 2002 में सबसे युवा लेखक के रूप में बुकर की सूची में जगह बनाई थी। उस समय उनके पहले उपन्यास ‘इफ नोबडी स्पीक्स ऑफ रिमार्केबल थिंग्स’ को इस सूची में शामिल किया गया था। हालांकि, अब तक बुकर पुरस्कार प्राप्त करने वाले सबसे युवा लेखक का खिताब न्यूजीलैंड के ऐलानोर कैटोन के नाम दर्ज है, जिन्होंने 2013 में अपने उपन्यास ‘दी ल्यूमिनियरीज’ के लिए 50,000 पाउंड का यह पुरस्कार जीता था। इस बार बुकर पुरस्कारों की सूची में शामिल किए गए साहित्यकारों के नामों की घोषणा 26 जुलाई 2022 को की गई और प्रतिस्पर्धी सूची (Competitive List) 6 सितंबर को सामने आएगी। इसके बाद 17 अक्टूबर को बुकर पुरस्कार विजेता के नाम की घोषणा लंदन के राउंड हाउस में की जाएगी।वैष्णोदेवीदर्शनकेलिएअबनहींबनवानीहोगीपर्चीजानिएकैसेहोंगेमाताकेदर्शनSheetala Ashtami 2022: माता शीतला को क्यों लगाया जाता है बासी खाने का भोग? जानिए इस पर्व का खास महत्व******Highlightsहिंदू धर्म में देवी देवताओं के अलग-अलग रूपों की पूजा की जाती है। देवी-देवताओं के पूजन के दौरान खास विधि भी अपनाई जाती है। 25 मार्च को शीतला अष्टमी का पर्व मनाया जाने वाला है। इस दिन की पूजा का खास विधान है। इस दिन माता शीतला को बासी भोजन का भोग लगता है। इस खास पर्व को बसौड़ा भी कहा जाता है। शीतला अष्टमी की एक रात पहले यानी सप्तती की रात में माता के लिए हलवा और पूड़ी का भोग तैयार किया जाता है। आखिर शीतला अष्टमी पर माता शीतला को बासी भोजन का भोग क्यों लगाया जाता है? क्या है इसके पीछे की मान्यताएं? आइए जानते हैंघर-परिवार की सुख-समृद्धि में बढ़ोतरी के लिए, अपने बिजनेस को अनजाने खतरों से बचाए रखने के लिये, देवी मां की कृपा से जीवन में सफलता पाने के लिए, अपने हर काम में लाभ पाने के लिये और कामयाबी हासिल करने के लिए देवी शीतला की उपासना की जाती है।

Mata Vaishno Devi: वैष्णो देवी दर्शन के लिए अब नहीं बनवानी होगी पर्ची, जानिए कैसे होंगे माता के दर्शन

वैष्णोदेवीदर्शनकेलिएअबनहींबनवानीहोगीपर्चीजानिएकैसेहोंगेमाताकेदर्शनKisi Ka Bhai Kisi Ki Jaan: सलमान खान की फिल्म 'किसी का भाई किसी की जान' में कैमियो करेंगे ये दो सोशल मीडिया स्टार******डिजिटल कंटेंट निर्माता और सोशल मीडिया सुपरस्टार जस्ट सुल बॉलीवुड के एक गाने में अपने पहले डेब्यू के लिए तैयार हैं। वह आगामी फिल्म के लिए एक विशेष ट्रैक में 'किसी का भाई.. किसी की जान' के मुख्य नायक, सलमान खान और दुनिया के सबसे छोटे गायक अब्दु रोजिक के साथ दिखाई देंगे। मैकेनिकल इंजीनियर से इंटरनेट सेंसेशन बने जस्ट सुल, जिन्होंने अपने पैरोडी कृत्यों से प्रसिद्धि हासिल की, दुबई में रहते हैं और अतीत में अब्दु रोजिक के साथ काम कर चुके हैं।इस खबर पर प्रतिक्रिया देते हुए, जस्ट सुल ने कहा, 'मैं बहुत उत्साहित और आभारी हूं कि भारत के सबसे पसंदीदा सुपरस्टार में से एक ने 53 वर्षीय एक जुनूनी व्यक्ति की भूमिका निभाने के विचार को हरी झंडी दे दी है, जिसे साल की सबसे बड़ी बॉलीवुड फिल्मों में से एक के गाने में अभिनय करने का कोई पूर्व अनुभव नहीं है।''सलमान खान फिल्म्स का बहुत आभारी हूं कि उन्होंने मुझे रील की दुनिया के एक और रूप का पता लगाने का यह अद्भुत अवसर दिया। मैं सेट पर आने और अपने डांस मूव्स से सभी को प्रभावित करने का इंतजार नहीं कर पा रहा हूं।'इस साल की शुरूआत में आईफा 2022 के दौरान सलमान खान के सामने आए 18 साल के ताजिक सिंगर अब्दू को 'किसी का भाई.. किसी की जान' में रोल आफर किया गया था।'किसी का भाई.. किसी की जान' में पूजा हेगड़े, वेंकटेश दग्गुबाती, जगपति बाबू, राघव जुयाल और शहनाज गिल भी हैं। फरहाद सामजी द्वारा निर्देशित यह फिल्म 30 दिसंबर, 2022 को रिलीज होगी।वैष्णोदेवीदर्शनकेलिएअबनहींबनवानीहोगीपर्चीजानिएकैसेहोंगेमाताकेदर्शनभोजपुरी फिल्म 'ससुरा बड़ा पइसावाला 2' इस शुक्रवार होगी रिलीज******: बीजेपीसांसद मनोज तिवारी और भोजपुरी की क्वीन रानी चटर्जी ने जिस फिल्म से 17 साल पहले अपने फिल्मी करियर का आगाज किया था, इसवीकेंड उसी फिल्म का सीक्वल यानी 'ससुरा बड़ा पइसावाला 2' रिलीज होने जा रही है। 21 फरवरी को बॉक्स ऑफिस परयह फिल्मदस्तक देने को तैयार है। फिल्म में इस बार मनोज तिवारी और रानी चटर्जी तो नहीं, लेकिन उनके स्थान पर अथर्व सिंह और नेहा प्रकाश की जोड़ी नजर आएगी। फिल्म का बॉक्स ऑफिस पर बेसब्री से इंतजार हो रहा है। इस बार 'ससुरा बड़ा पइसावाला 2' में फिल्म के निर्माता-निर्देशक अजय सिन्हा क्या नया करने वाले हैं इस पर क्रिटिक्स की भी नजरें हैं।'ससुरा बड़ा पइसावाला 2' के फर्स्ट पार्ट ने ना सिर्फ मनोज तिवारी और रानी चटर्जी, बल्कि भोजपुरी सिनेमा को भी एक नई दिशा दिखाई। उसके बाद से भोजपुरी इंडस्ट्री में अनवरत फिल्मों के बनने का सिलसिला शुरू हो गया। तब फिल्म को जो सक्सेस और शोहरत मिली थी, वो अद्भुत थी। यही वजह है कि 'ससुरा बड़ा पइसावाला 2' से भी सबों को किसी करिश्मे की उम्मीद है।यह एक संपूर्ण पारिवारिक प्रेम कहानी पर आधारित है। एक ओर जहां ट्रेलर को दर्शकों ने खूब पसंद किया है तो वहीं मुंबई में फिल्म के प्रीमियर शो में रानी चटर्जी ने इसे पहले पार्ट से भी अच्छा बताया था।बहरहाल, अब देखना होगा कि 'ससुरा बड़ा पइसावाला 2' क्या सच में अपने पहले पार्ट से आगे निकलेगी और क्या इस फिल्म को भी दर्शक उतना ही प्यार देंगे, जितना फिल्म के पहले पार्ट को दिया था?फिल्म में अथर्व सिंह और नेहा प्रकाश के साथ संतोष श्रीवास्तव, शिवम सिंह, दिवाकर श्रीवास्तव व प्रशांत रागिनी आदि प्रमुख भूमिका में हैं। फिल्म की पटकथा संवाद लीला सिन्हा और अजय सिन्हा ने लिखी है। गीत और संगीत विनय बिहारी का है।

Mata Vaishno Devi: वैष्णो देवी दर्शन के लिए अब नहीं बनवानी होगी पर्ची, जानिए कैसे होंगे माता के दर्शन

वैष्णोदेवीदर्शनकेलिएअबनहींबनवानीहोगीपर्चीजानिएकैसेहोंगेमाताकेदर्शन2014 के विधानसभा चुनावों में हमने ‘मोदी लहर’ पर लगाम लगा दी थी: उद्धव ठाकरे****** प्रमुख ने सोमवार को विश्वास जताया कि एक दिन आएगा जब कोई शिवसैनिकका मुख्यमंत्री बनेगा। साथ ही उन्होंने कहा कि उनके बेटे के राजनीति में उतरने का यह मतलब नहीं है कि वह संन्यास ले रहे हैं। पार्टी के मुखपत्र ‘सामना’ को दिए एक इंटरव्यू में उन्होंने दावा किया कि उनकी पार्टी ने 2014 के में ‘मोदी लहर’ पर लगाम लगाई थी। इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि अब इस बहस में जाने का कोई मतलब नहीं है कि उस समय वह भारतीय जनता पार्टी से क्यों अलग हुए थे।महाराष्ट्र चुनावों में इस बार शिवसेना राज्य की 288 विधानसभा सीटों में से 124 पर चुनाव लड़ रही है जबकि उसकी गठबंधन सहयोगी बीजेपी ने 150 सीटों पर उम्मीदवार उतारे हैं। बाकी सीटें बीजेपी के हिस्से से छोटे दलों के लिए छोड़ी गई हैं। उद्धव ठाकरे ने इंटरव्यू में कहा, ‘एक दिन कोई शिवसैनिक महाराष्ट्र का मुख्यमंत्री बनेगा, यह एक वादा है जो मैंने अपने पिता और शिवसेना के संस्थापक दिवंगत बालासाहेब से किया था।’ महाराष्ट्र में 21 अक्टूबर को होने वाले विधानसभा चुनावों के लिये उद्‍धव ठाकरे के बेटे ने वर्ली विधानसभा सीट से पर्चा दाखिल किया है। यह पहला मौका है जब ठाकरे परिवार का कोई सदस्य चुनाव में उतरा है।आदित्य का चुनावी मैदान में उतरने से शिवसेना को इस बाद का भी अंदाजा लग जाएगा कि वह जनता का मन जीतने के लिए पार्टी के युवा नेतृत्व की लोकप्रियता पर भरोसा कर सकती है या नहीं। उद्धव ने आगे कहा, ‘आदित्य के विधानसभा चुनाव लड़ने का यह मतलब नहीं है कि मैं सक्रिय राजनीति से संन्यास ले रहा हूं। मैं यहीं हूं।’ इसी मसले पर आगे बात करते हुए उद्धव ठाकरे ने राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के नेता अजित पवार के परोक्ष संदर्भ में व्यंग्यात्मक रूप से कहा, ‘मैं खेती करने नहीं जा रहा।’ गौरतलब है कि पवार ने हाल ही में विधायक पद से इस्तीफा दिया था और अपने बेटे को सलाह दी थी कि वह राजनीति की जगह खेती करे या कोई कारोबार कर ले।उन्होंने यह भी दावा किया कि 2014 में जब विधानसभा चुनावों से पहले शिवसेना ने बीजेपी से साथ तोड़ा था तब उनकी पार्टी ‘’ पर लगाम लगाने में कामयाब रही थी जबकि पूरे देश में बीजेपी ने शानदार प्रदर्शन किया था। उन्होंने कहा, ‘अब भाजपा और शिवसेना के (2014 चुनाव) अलग-अलग लड़ने के पीछे के कारणों पर चर्चा का कोई मतलब नहीं है। यह एक जंग थी। राष्ट्रीय स्तर पर एक ‘लहर’ थी, लेकिन महाराष्ट्र में हमने उस पर लगाम लगाई। सत्ता में रहने के बावजूद, हमने हमेशा आम आदमी के मुद्दों को लेकर आवाज उठाई।’

वैष्णोदेवीदर्शनकेलिएअबनहींबनवानीहोगीपर्चीजानिएकैसेहोंगेमाताकेदर्शनअक्टूबर में केंद्र, राज्यों के बीच हुआ 32,000 करोड़ रुपए के IGST का बंटवारा, राज्‍यों को मिले 15,000 करोड़ से अधिक******IGST केंद्र और राज्यों के बीच अक्टूबर महीने में (आईजीएसटी) में पड़े 32,000 करोड़ रुपए का बंटवारा किया गया। एक अधिकारी ने मंगलवार को बताया कि इसमें राज्यों का हिस्सा 15,000 करोड़ रुपए से अधिक का है। आईजीएसटी के बंटवारे से केंद्र और राज्यों के अक्टूबर माह के जीएसटी राजस्व में इजाफा हुआ है। माह के कुल राजस्व संग्रहण के आंकड़े एक नवंबर को जारी किए जाएंगे।यह पांचवां मौका है जब केंद्र और राज्यों के बीच आईजीएसटी कोष का बंटवारा किया गया है।इससे पहले सितंबर में आईजीएसटी के 29,000 करोड़ रुपए, अगस्त में 12,000 करोड़ रुपए, जून में 50,000 करोड़ रुपए और फरवरी में 35,000 करोड़ रुपए का बंटवारा किया गया था।अधिकारी ने कहा कि आईजीएसटी पूल में जब उल्लेखनीय राशि जमा हो जाती है तो उसका बंटवारा केंद्र और राज्यों के बीच किया जाता है ताकि यह केंद्र के पास बेकार न पड़ी रहे। अधिकारी ने कहा कि इस महीने 32,000 करोड़ रुपए का बंटवारा किया गया।जीएसटी के तहत वस्तुओं के उपभोग और सेवाओं पर जो कर लगाया जाता है उसका बंटवारा केंद्र और राज्य के बीच 50:50 में किया जाता है। इस तरह के कर को केंद्रीय जीएसटी (सीजीएसटी) और राज्य जीएसटी (एसजीएसटी) कहा जाता है। एक राज्य से दूसरे राज्यों को वस्तुओं की आवाजाही तथा आयात पर आईजीएसटी लगाया जाता है। आदर्श स्थिति यह मानी जाती है कि आईजीएसटी पूल में ‘शून्य’ राशि हो क्योंकि इस राशि का इस्तेमाल सीजीएसटी और एसजीएसटी के भुगतान में किया जाता है।वैष्णोदेवीदर्शनकेलिएअबनहींबनवानीहोगीपर्चीजानिएकैसेहोंगेमाताकेदर्शनAgneepath Protest: राष्ट्रपति से मिले कांग्रेस नेता, अग्निपथ स्कीम और सांसदों पर पुलिस के 'हमलों' को लेकर सौंपा ज्ञापन******Highlights कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं के एक प्रतिनिधिमंडल ने सोमवार को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मुलाकात की और उनके सामने राहुल गांधी से प्रवर्तन निदेशालय की पूछताछ को लेकर हुए विरोध प्रदर्शनों के दौरान पार्टी के कुछ सांसदों के साथ दिल्ली पुलिस के कथित दुर्व्यवहार तथा ‘अग्निपथ’ योजना का मुद्दा उठाया। मुख्य विपक्षी दल ने राष्ट्रपति को दो ज्ञापन सौंपकर कहा कि ‘अग्निपथ’ योजना को वापस लिया जाए। नेताओं ने राष्ट्रपति से सांसदों पर दिल्ली पुलिस के ‘निंदनीय एवं अकारण हमले’ के मामले में संसद की विशेषाधिकार समिति की समयबद्ध जांच सुनिश्चित करने के लिए भी कहा।राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे की अगुवाई में कांग्रेस का सात सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल राष्ट्रपति से मिला। इस प्रतिनिधिमंडल में राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी, कांग्रेस के संगठन महासचिव के सी वेणुगोपाल, वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम और जयराम रमेश शामिल थे। कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं और कई सांसदों ने संसद भवन से विजय चौक तक मार्च भी किया।राष्ट्रपति से मुलाकात के बाद खड़गे ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘हमने राष्ट्रपति जी को दो ज्ञापन सौंपे। एक ज्ञापन ‘अग्निपथ’ को लेकर था। दूसरा ज्ञापन पुलिस ने हमारे सांसदों एवं नेताओं के साथ जो व्यवहार किया, उसको लेकर था।’’ उन्होंने कहा, ‘‘एक तरफ हम सांसदों के अधिकार का हनन है। दूसरी तरफ ‘अग्निपथ’ के नाम पर जो सरकार कर रही है, उससे कोई फायदा नहीं होगा।’’ कांग्रेस महासचिव जयराम रमेश ने कहा, ‘‘हमने आग्रह किया है कि ‘अग्निपथ’ योजना को वापस लिया जाए तथा सशस्त्र बलों के कल्याण के साथ कोई समझौता किए बिना गुणवत्ता, कार्यक्षमता और आर्थिक स्थिति जैसे मुद्दों पर व्यापक चर्चा हो तथा इनका निदान हो।’’ कांग्रेस ने ज्ञापन के माध्यम से यह भी कहा कि वह सांसदों पर दिल्ली पुलिस के ‘निंदनीय एवं अकारण हमले’ को लेकर विरोध जताती है तथा यह सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि विशेषाधिकार के हनन को लेकर विशेषाधिकार समिति की समयबद्ध जांच हो।कांग्रेस का आरोप है कि दिल्ली पुलिस के कर्मियों ने पिछले सप्ताह राहुल गांधी से प्रवर्तन निदेशालय की पूछताछ को लेकर हुए विरोध प्रदर्शनों के दौरान पार्टी के कुछ सांसदों के साथ दुर्व्यवहार किया था और पार्टी मुख्यालय के भीतर घुसकर कार्यकर्ताओं की पिटाई की थी। पुलिस ने इन आरोपों को खारिज किया है। मुख्य विपक्षी दल ‘अग्निपक्ष’ योजना का भी विरोध कर रही है। उसका कहना है कि यह देश और सेना के हितों के विरूद्ध है।

वैष्णोदेवीदर्शनकेलिएअबनहींबनवानीहोगीपर्चीजानिएकैसेहोंगेमाताकेदर्शनBihar News: श्राद्ध करने आए परिवार के साथ दर्दनाक हादसा, देखते-देखते गंगा में डूब गए 4 सदस्य******Highlightsबिहार के जिले के बाढ़ थाना क्षेत्र के उमानाथ गंगा घाट पर बुधवार को श्राद्ध करने आए एक ही परिवार के 4 लोग गंगा नदी में स्नान करने के दौरान डूब गए। NDRF की टीम इन लोगों की तलाश में जुटी है। पुलिस के मुताबिक, शेखपुरा के रहने वाले मुकेश कुमार के परिजन अपने परिवार की एक महिला के श्राद्ध कर्म के बाद उमानाथ गंगा घाट पर स्नान कर रहे थे। परिवार का एक बच्चा गंगा नदी की तेज धारा में बहने लगा जिसके बाद उसे बचाने के लिए एक-एक कर पांच लोगों ने छलांग लगा दी। बच्चे समेत 6 लोग पानी में डूबने लगे। वहां मौजूद कई लोगों ने तुरंत कूदकर दो लोगों को तो बचा लिया, लेकिन चार लोग पानी में डूब गए। परिवार मदद के लिए चिल्लाता रहा, फिर आवाज आनी बंद हो गई। लापता लोगों में एक पुरुष, एक महिला और दो बच्चे शामिल हैं।घटना की सूचना मिलते ही पुलिस घटनास्थल पर पहुंच गई और लापता लोगों की तलाश में स्थानीय गोताखोरों को लगाया गया। इसके बाद NDRF की टीम को भी लगाया गया है। पुलिस ने बताया कि गंगा के जलस्तर में भी वृद्धि हुई है। लापता लोगों में मुकेश (38), आभा (32), सपना कुमारी (15)) और चंदन कुमार (13) के रूप में की गई है। पुलिस पूरे मामले की छानबीन कर रही है।इन दिनों गंगा नदी में पानी का बहाव काफी तेज है। बिहार में दो तीन-दिनों से हो रही लागातार बारिश से गंगा नदी उफान पर है इसलिए, शवों की तलाश में मुश्किल आ रही है। स्थानीय प्रशासन लोगों से सतकर्ता बरतने की अपील कर रही है।वहीं, इस घटना को लेकर पूर्व पार्षद अंजू देवी ने बताया कि उमानाथ घाट की स्थिति काफी खराब है। घाट का नया निर्माण किया गया है, लेकिन ठीकेदार की मनमानी के कारण घाट की जो सीढ़ी बनाई गई है, वह काफी खराब है जिसके चलते इस घाट पर आए दिन हादसे होते हैं।वैष्णोदेवीदर्शनकेलिएअबनहींबनवानीहोगीपर्चीजानिएकैसेहोंगेमाताकेदर्शनआमदनी बढ़ी लेकिन पेटीएम को वित्त वर्ष 2018-19 में हुआ 4217 करोड़ का भारी घाटा******paytm मोबाइल ई-वॉलेट कंपनी को कंसोलिडेटेड आधार पर 4,217 करोड़ रुपए का शुद्ध घाटा हुआ है। इसमें पेटीएम मनी, पेटीएम फाइनेंशियल सर्विसेज, पेटीएम एंटरटेनमेंट सर्विसेज आदि के कारोबार शामिल हैं। डिजिटल पेमेंट वर्ल्ड की दिग्गज पेटीएम पेटीएम की पैरंट कंपनी वन97 कम्युनिकेशंस को 31 मार्च को खत्म वित्त वर्ष 2018-19 में 3,959.6 करोड़ रुपए का शुद्ध घाटा हुआ। बीते आलोच्य वित्त वर्ष में यह आंकड़ा 1,490 करोड़ रुपए का था। कंपनी ने ये आंकड़े अपने शेयरधारधारकों के साथ साझा किए। आपको बता दें कि डिजिटल पेमेंट लीडर पेटीएम को गूगल पे और फोन पे से कड़ी टक्कर मिल रही है।कंपनी की सालाना रिपोर्ट के अनुसार बीते वित्त वर्ष में पेटीएम का घाटा 165 फीसदी हो गया है। यह 1,490 करोड़ रुपए से बढ़कर 3,959.6 करोड़ रुपए हो गया है। हालांकि, इस दौरान कंपनी की आमदनी में लगातार इजाफा हो रहा है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, बीते वित्त-वर्ष 2018-19 में पेटीएम की आमदनी 3,319 करोड़ रही, जो वित्त वर्ष 2017-18 के दौरान 3,229 करोड़ रुपए थी।इस दौरान कंपनी की कुल आय 8.2 फीसदी बढ़कर 3,579.67 करोड़ रुपए तक पहुंच गई। दूसरी तरफ, कंपनी का खर्च दोगुना होकर 7,730.14 करोड़ रुपए तक पहुंच गया। कंपनी ने अपनी सालाना रिपोर्ट में कहा है कि ब्रैंड तैयार करने और कारोबारी गतिविधि मजबूत करने के लिए कंपनी को भारी पूंजीगत व्यय करना पड़ा है। कई पूंजीगत और संचालनात्मक खर्चों के लिए हमें भारी राशि लगानी पड़ी जिसकी वजह से वित्त वर्ष के दौरान घाटा हुआ है।गौरतलब है कि वन97 कम्युनिकेशंस में पेटीएम के फाउंडर और मैनेजिंग डायरेक्टर विजय शेखर शर्मा की हिस्सेदारी 15.7 फीसदी है। शर्मा ने कहा कि भारी घाटे के बावजूद कंपनी अगले दो साल में बाजार से पूंजी उगाहने के लिए आईपीओ लाने पर विचार कर रही है। कंपनी को साल 2018 में अमेरिकी निवेश कंपनी बर्कशायर हैथवे से 30 करोड़ डॉलर की पूंजी मिली थी, इसमें सॉफ्टबैंक और अलीबाबा जैसी विदेशी कंपनियों ने भी निवेश किया है। पेटीएम ने चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में 1.2 अरब से ज्यादा व्यापारी लेन-देन दर्ज किया है। इसके अलावा पेटीएम का दावा है कि पी2पी और मनी ट्रांसफर लेन-देन के बूते ऑफलाइन भुगतान में उसने देश में नेतृत्वकारी स्थिति बरकरार रखी है।पेटीएम के प्रवक्ता की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि अगले 2 साल के दौरान हम 3 अरब डॉलर का निवेश करेंगे। इंडिया डिजिटल पेमेंट्स के इन्फ्लेक्शन पॉइंट पर है और पेटीएम का पूरा फोकस मर्चेंट पेमेंट की समस्याएं सुलझाने और उन्हें वित्तीय सेवाएं मुहैया करवाने पर है। इस दिशा में हम अगले 2 साल में 20,000 करोड़ रुपए निवेश करेंगे।वन97 कम्युनिकेशंस लि. के स्वामित्व वाली पेटीएम को करीब 1.4 करोड़ खुदरा दुकानों पर स्वीकार किया जाता है और इस क्षेत्र में कंपनी की बाजार हिस्सेदारी 70 फीसदी है। कंपनी ने इस साल घोषणा की थी कि वह अब अपना ध्यान पीयर-टू-पीयर (पी2पी) लेन-देन से हटाकर किराना स्टोरों, रेस्टोरेंटों, कम्यूट और अन्य दैनिक खर्चो में डिजिटल भुगतान के प्रयोग को बढ़ावा देने पर केंद्रित कर रही है। पेटीएम ने कहा कि उसने इसके अलावा यूजर्स को क्यूआर कोड को स्कैन करना सिखाने के लिए एक बड़ा अभियान शुरू किया है, ताकि वे किराना दुकानों पर पेटीएम ऐप से तुरंत भुगतान कर सकें।

वैष्णोदेवीदर्शनकेलिएअबनहींबनवानीहोगीपर्चीजानिएकैसेहोंगेमाताकेदर्शनUttarakhand: सोशल मीडिया पर छलका उत्तराखंड के पूर्व CM हरीश रावत के बेटे का दर्द, कहा- पिताजी मुझे येड़ा समझते हैं******Highlightsउत्तराखंड के पूर्व सीएम हरीश रावत(Harish Rawat) के बेटे आनंद रावत(Anand Rawat)का फेसबुक पोस्ट चर्चा में बना हुआ है। इस पोस्ट में उन्होंने लिखा है कि उनके पिता उन्हें येड़ा समझते हैं। आनंद ने कहा, 'मेरे पिताजी मेरे चिंतन व विचारों से परेशान रहते हैं, शायद उन्होंने हमेशा मेरी बातें एक नेता की दृष्टि से सुनी और मुझे येड़ा समझा।'दरअसल आनंद(Anand Rawat) ने फेसबुक पोस्ट के माध्यम से राजनेताओं पर कुछ सवाल उठाए थे। उन्होंने कहा, 'आपके नेता तो अपने समर्थकों को उनके जन्मदिन पर बधाई या किसी परिचित के शोक संदेश वाले पोस्ट करने में व्यस्त हैं, और आप लोग उनके क्रियाकलाप से खुश हो? चाहें हरीश रावत(Harish Rawat) हों या किशोर उपाध्याय या फिर युवा नेता विनोद कंडारी, सुमित हृदेश, रितु खण्डूरी सबके फेसबुक पर आपको इसी तरह की पोस्ट मिलेगी, लेकिन राज्य चिंतन पर कुछ नहीं मिलेगा?'पिता हरीश रावत ने दिया बेटे की बात का जवाबआनंद के इस पोस्ट से सियासी गलियारों में चर्चाएं तेज हो गईं। तभी उनके पिता और उत्तराखंड के पूर्व सीएम हरीश रावत ने भी फेसबुक पोस्ट करके बेटे की बात का जवाब दिया। हरीश ने लिखा, 'आनंद मैंने तुम्हें कभी येड़ा नहीं समझा। वक्त ने मजबूरन समझा दिया। चाहे 2012 में लालकुआं हो या 2017 में जसपुर। मुझे गर्व है, तुमने नशे से लड़ने के लिए उत्तराखंड के परंपरागत खेलों को प्रचारित-प्रसारित किया। कितने युवा नेता हैं जो तुम्हारी तरह युवाओं तक "रोजगार अलर्ट" के लिए रोजगार समाचार पहुंचाते हैं।हरीश ने आनंद के लिए लिखा, 'कितने नेता हैं जो लड़के और लड़कियों को सेना या पुलिस में भर्ती हो सके इसलिए प्रारंभिक प्रशिक्षण की व्यवस्था करते हैं। तुम्हारी सोच पर मुझे गर्व है। आज जब सारी राजनीति हिंदू-मुसलमान हो गई है। रोजगार, महंगाई, सामाजिक समता व न्याय, शिक्षा व स्वास्थ्य जैसे प्रश्न खो गए हैं। मैंने रोजगार, शिक्षा को प्रथम लक्ष्य बनाकर काम किया। मैं ही खो गया।'हरीश ने कहा, 'मैं रोजगार को केरल मॉडल पर लाया। तुलनात्मक रूप में सर्वाधिक तकनीकी संस्थान जिसमें नर्सिंग भी सम्मिलित हैं, हमारे कार्यकाल में खुले और सर्वाधिक भर्तियां हुई। आज शहर का मिजाज बदला हुआ है। परंतु तुमने बुनियादी सवाल और हम जैसे लोगों की कमजोरियों पर चोट की है। डटे रहो। बाप न सही, समय तुम जैसे लोगों के साथ न्याय करेगा।'हालांकि जब इस फेसबुक पोस्टबाजी पर हंगामा बढ़ गया तो आनंद ने फेसबुक पर अपनी सफाई पेश की। उन्होंने कहा, 'येड़ा शब्द मैंने 2012 में तत्कालीन गृह मन्त्री सुशील कुमार शिन्दे जी के मुंह से अरविन्द केजरीवाल के लिए सुना और केजरीवाल ने इसे हिन्दी में जुनूनी शब्द कह करके व्याख्या की, और 2013 के विधानसभा चुनाव में केजरीवाल ने इस शब्द की सार्थकता साबित भी कर दी ।आनंद ने कहा, 'येड़ा मतलब पागल तो बिल्कुल नहीं होता, क्योंकि संविधान के अनुसार पागल व्यक्ति जनप्रतिनिधि नहीं बन सकता, और येड़ा मतलब पागल होता तो केजरीवाल शिन्दे पर मानहानि का दावा कर चुके होते।'वैष्णोदेवीदर्शनकेलिएअबनहींबनवानीहोगीपर्चीजानिएकैसेहोंगेमाताकेदर्शनक्वेटा में चुनाव के दौरान बम धमाका, कम से कम 25 लोगों की मौत****** में चल रहे आम चुनाव के बीच क्वेटा शहर में एक मतदान केंद्र के बाहर आत्मघाती विस्फोट में 28 लोगों के समेत देश के अन्य हिस्सों में हिंसा की कई घटनाओं में कम से कम 31 लोग मारे गए और 36 अन्य घायल हो गए। द एक्सप्रेस ट्रिब्यून अखबार के अनुसार, देश के अशांत बलूचिस्तान प्रांत में क्वेटा के ईस्टर्न बाइपास के समीप एक पुलिस वैन को निशाना बनाते हुए आत्मघाती विस्फोट किया गया जिसमें पांच पुलिसकर्मियों समेत कम से कम 28 लोगों की मौत हो गई तथा 30 अन्य लोग घायल हो गए। क्वेटा बलूचिस्तान प्रांत की प्रांतीय राजधानी है।खबर में बताया गया कि के ईस्टर्न बाइपास के समीप पुलिस की वैन को निशाना बनाते हुए विस्फोट किया गया। यह हमला सुरक्षा बलों के वाहनों ना कि चुनावी प्रक्रिया को निशाना बनाकर किया गया। जियो न्यूज ने पुलिस के एक प्रवक्ता के हवाले से कहा कि आत्मघाती हमलावर मतदान केंद्र में घुसना चाहता था। सूत्रों के अनुसार, डीआईजी अब्दुल रज्जाक चीमा के काफिले पर हमला किया गया। हमले में डीआईजी बच गए। खैबर पख्तूनख्वा प्रांत के स्वाबी जिले में एक मतदान केंद्र के बाहर दो प्रतिद्वंद्वी दलों के समर्थकों के बीच गोलियां चली जिसमें पूर्व क्रिकेटर इमरान खान की पार्टी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ का एक कार्यकर्ता मारा गया और दो अन्य घायल हो गए। पुलिस के अनुसार, नवां कल्ली इलाके में एनए-19 और पीके-47 के चुनाव के लिए एक मतदान केंद्र के बाहर इमरान की पार्टी के कार्यकर्ताओं की अवामी नेशनल पार्टी के समर्थकों से झड़प हो गई जिसमें पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ का एक कार्यकर्ता मारा गया।खबर में बताया गया है कि एनए-219 दिघरी इलाके में मीरपुर खास मतदान केंद्र के बाहर गोलीबारी में एक अन्य व्यक्ति की मौत हो गई। एक अन्य घटना में लड़काना में एक राजनीतिक शिविर के बाहर पटाखा विस्फोटा में चार लोग घायल हो गए। धमाके के बाद लड़काना एनए-200/पीएस-11 पर मतदान रोक दिया गया है। पाकिस्तान में स्थानीय समयानुसार आज सुबह आठ बजे 85,000 से अधिक मतदान केंद्रों पर शुरू हुआ। शाम छह बजे मतदान खत्म होने के तुरंत बाद वोटों की गिनती शुरू होगी और 24 घंटे के भीतर नतीजे घोषित किए जाएंगे। चुनावों के लिए 30 से अधिक राजनीतिक दलों ने अपने उम्मीदवार खड़े किए हैं।

हाल का ध्यान

लिंक