दिल्ली सरकार हर साल 77000 बुजुर्गों को मुफ्त कराएगी तीर्थयात्रा

2022-10-04 18:21:29 दीकिंग तिब्बती स्वायत्त प्रान्त

दिल्लीसरकारहरसाल77000बुजुर्गोंकोमुफ्तकराएगीतीर्थयात्राउत्तर प्रदेश में बाढ़ जनित हादसों में अब तक 35 लोगों की मौत****** उत्तर प्रदेश में बाढ़ जनित हादसों में अब तक 35 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं, 14 जिलों के 569 गांवों की लगभग एक लाख 60 हजार की आबादी इससे प्रभावित है। प्रदेश के राहत आयुक्त संजय गोयल ने बुधवार (2 सितंबर) को बताया कि राज्य में इस साल बाढ़ जनित हादसों में 35 लोगों की मौत हो चुकी है। इनमें सबसे ज्यादा 14 मौतें बहराइच जिले में हुई हैं। इसके अलावा लखीमपुर खीरी में छह, बलरामपुर में चार, बाराबंकी तथा संत कबीर नगर में तीन-तीन और अंबेडकर नगर, आजमगढ़, बलिया, शाहजहांपुर तथा सीतापुर में एक-एक व्यक्ति की मृत्यु हुई है।गोयल ने बताया कि प्रदेश में बाढ़ की वजह से अब तक 8,70,000 लोग प्रभावित हो चुके हैं लेकिन मौजूदा वक्त में यह संख्या घटकर 1,60,000 हो गई है। उन्होंने बताया कि इस वक्त प्रदेश के 14 जिलों अंबेडकर नगर, अयोध्या, आजमगढ़, बलिया, बाराबंकी, बस्ती, देवरिया, फर्रूखाबाद, गोण्डा, लखीमपुर खीरी, कुशीनगर, मऊ, संत कबीर नगर, तथा सीतापुर के 569 गांव बाढ़ से प्रभावित हैं, जिनमें से 257 गांव पूरी तरह जलमग्न हैं।राहत आयुक्त ने बताया कि प्रदेश में बाढ़ पीड़ितों के ठहरने के लिए 384 बार शरणालयों की स्थापना की गई है। इसके अलावा 784 बाढ़ चौकियां स्थापित की गई हैं। उन्होंने बताया कि राहत एवं बचाव कार्यों के लिए एनडीआरएफ, एसडीआरएफ और पीएसी की कुल 26 टीमें तैनात की गई हैं। गोयल ने बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बाढ़ प्रभावित सभी गांवों में स्वास्थ्य शिविर लगाकर लोगों के लिए दवा और वैक्सीन की व्यवस्था करने के निर्देश दिए हैं।

दिल्लीसरकारहरसाल77000बुजुर्गोंकोमुफ्तकराएगीतीर्थयात्रा77-year-old man slit in Delhi: दिल्ली में 77 वर्षीय बुजुर्ग की गला रेतकर हत्या, कमरे से नकदी भरा डिब्बा गायब******Highlightsउत्तरी दिल्ली के सिविल लाइंस इलाके में 77 वर्षीय एक व्यक्ति की उसके आवास पर गला रेतकर हत्या कर दिया गयी। मृतक का नाम रामकिशोर अग्रवाल है। घटना रविवार सुबह 6:40 बजे की है। कमरे से कुछ गत्ते के डिब्बे भी गायब मिले जिनमें नकदी थी। नकदी की सही मात्रा का अभी पता नहीं चल पाया है। सुरक्षा गार्ड ने दो व्यक्तियों को तड़के घर से भागने की कोशिश करते हुए देखा था।दिल्ली पुलिस के अधिकारियों ने मृतक की पहचान राम किशोर अग्रवाल के रूप में की है। हत्या के बारे में पुलिस को रविवार सुबह करीब 6.52 बजे एक पीसीआर कॉल मिली। पीड़िता के बेटे ने सुबह करीब 6.40 बजे अपने पिता को बिस्तर पर घायल अवस्था में पाए जाने के बाद इसके बारे में अधिकारियों को सूचित किया था। उसका गला रेत दिया गया था। सूचना मिलते ही पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंचे और पीड़ित को सुश्रुत ट्रॉमा सेंटर ले गए जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। पीड़िता के शरीर पर चाकू के चार निशान मिले हैं।पुलिस अधिकारियों ने बताया कि इलाके के सुरक्षा गार्ड ने बताया कि उन्होंने सुबह दो अज्ञात लोगों को घर से भागते देखा। इस मामले में हत्या के प्रयास के अलावा हत्या व लूट की धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है। साक्ष्य एकत्र करने और जांच शुरू करने के लिए एक अपराध दल को मौके पर बुलाया गया था। आरोपी को पकड़ने के लिए उत्तरी जिले में कई टीमों को अलर्ट कर दिया गया है। पुलिस का कहना है कि जल्द ही अपराधी को गिरफ्तार कर लिया जाएगा। वहीं इस हादसे के बाद से इलाके में दहशत का माहौल है। मृतक के परिवार वालों का रो-रोकर बुरा हाल है।दिल्लीसरकारहरसाल77000बुजुर्गोंकोमुफ्तकराएगीतीर्थयात्राJharkhand News: धनबाद में मारे गए डकैत की मां ने कहा- बेटे को उचित सजा मिली लेकिन और 4 लोगों को क्यों छोड़ दिया गया******Highlightsझारखंड के धनबाद में मंगलवार को मुथूट फिनकॉर्प में डकैती की कोशिश कर रहे बदमाशों में एक को पुलिस ने मौके पर मार गिराया था। मृतक आरोपी की मां ने कहा कि बेटे को डकैती की उचित सजा मिली है। उसे गोली मार कर पुलिस ने सही किया लेकिन उसके साथ 4 अन्य लोगों को पुलिस ने क्यों छोड़ दिया। पुलिस को उन्हें भी गोली मारनी चाहिए थी।बैंक में डकैती के दौरान पुलिस से मुठभेड़बता दें कि धनबाद जिले में मंगलवार को पुलिस ने दिन में लगभग साढ़े दस बजे बैंक मोड़ इलाके में मुथूट फिनकॉर्प कंपनी में डकैती करने पहुंचे पांच बदमाशों को घेर लिया था। मुठभेड़ में एक बदमाश को मारा गया था जबकि दो अन्य को गिरफ्तार कर लिया था और दो अन्य मौके से भागने में सफल रहे थे। मारे गए डकैत शुभम सिंह की मां ने पोस्टमार्टम हाउस पर पत्रकारों के सवाल के जवाब में कहा, ‘‘हमारा बेटा डकैत था तो पुलिस ने उसे गोली मारकर उसके किए की सजा दी जिस पर मुझे एतराज नहीं है लेकिन उसके चार अन्य डकैत साथियों का क्या पुलिस थाने में बैठाकर अचार डालेगी?’’ उसने कहा कि उसके बेटे के शव को उसे या उसके पति एवं भाई-बहनों को आज दोपहर तक पुलिस ने देखने तक नहीं दिया। पुलिस ने उसे आज पोस्टमार्टम के बाद ही उसके बेटे का शव दिया।गलत संगत के चलते बिगड़ गया था बेटा -शुभम की मांशुभम सिंह के पिता विश्वजीत सिंह निजी कंपनी में कार चालक का काम करते हैं। पुलिस ने बताया कि प्रारंभ में परिजनों ने शुभम के इस अपराध में शामिल होने से इनकार किया था लेकिन उन्हें उसका शव दिखाने के बाद ही उन्होंने घटना पर विश्वास किया। शुभम की मां ने बताया कि उसका बेटा पढ़ने के लिए पूना गया था और वहीं से गलत संगत के चलते उसका रास्ता बिगड़ गया।

दिल्ली सरकार हर साल 77000 बुजुर्गों को मुफ्त कराएगी तीर्थयात्रा

दिल्लीसरकारहरसाल77000बुजुर्गोंकोमुफ्तकराएगीतीर्थयात्राबैंक ऑफ बड़ौदा ने निकाली भर्तियां, इस दिन तक कर सकते हैं आप्लई****** जिन युवाओं का बैंक में नौकरी करने का सपना है उनके लिए शानदार मौका निकला है दरअसल बैंक ऑफ बड़ौदा (BOB)ने चीफ रिस्क ऑफिसर (CRO) के पदों पर नौकरी पाने के लिए एक नोटिफिकेशन जारी की है। जो उम्मीदवार बैंक में नौकरी के लिए योग्य और इच्छुक हैं, वे बैंक की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर अप्लाई कर सकते हैंइन पदों पर आवेदन करने के लिए उम्मीदवारों की अधिकतम आयु 60 वर्ष से कम होनी चाहिए।आवेदन पत्र जमा करने की अंतिम तिथि : 22 अप्रैल, 2020उम्मीदवारों की न्यूनतम शैक्षिक योग्यता सरकार द्वारा मान्यताप्राप्त / अनुमोदित, सरकार निकाय / एआईसीटीई) किसी भी स्ट्रीम में स्नातक / परास्नातक होना आवश्यक है।दिल्लीसरकारहरसाल77000बुजुर्गोंकोमुफ्तकराएगीतीर्थयात्रास्पेसएक्स के अंतरिक्षयान ड्रैगन ने दो अंतरिक्ष यात्रियों को सफलतापूर्व अंतरिक्ष स्टेशन पर पहुंचाया******केप केनवरल: रॉकेट और अंतरिक्षयान का निर्माण करने वाली निजी कंपनी स्पेसएक्स ने अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के लिए अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन में दो अंतरिक्ष यात्रियों को सफलतापूर्वक पहुंचाया है। अंतरिक्ष यान ने फ्लोरिडा के कैनेडी स्पेस सेंटर से उड़ान भरी थी। एलन मस्क की कंपनी स्पेसएक्स ने नासा के अंतरिक्ष यात्रियों बॉब बेनकेन(49) और डॉ हर्ले (53) के अंतरिक्ष की प्रयोगशाला अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन पर पहुंचने की पुष्टि की। कंपनी ने ट्वीट किया,‘‘डॉकिंग की पुष्टि, ड्रैगन के सदस्य अंतरिक्ष स्टेशन पर पहुंचे ।’’नासा ने ट्वीट किया,‘‘डॉकिंग की पुष्टि अंतरिक्ष यात्री बेनकेन और अंतरिक्ष यात्री डॉ अंतरिक्ष स्टेशन पर सुबह 10:16 बजे पहुंचे।’’ स्पेसएक्स के रॉकेट फैल्कन 9 ने फ्लोरिडा के कैनेडी स्पेस सेंटर से उड़ान भरी थी और उड़ान भरने के 19 घंटे बाद अंतरिक्षयान निर्दिष्ट स्थान पर पहुंचा। यह 20वर्ष में पहली बार है जब कोई निजी अंतरिक्ष यान अंतरिक्ष यात्रियों को ले कर अंतरिक्ष स्टेशन पर पहुंचा है।रविवार दोपहर को हुए लॉच को देखने के लिए राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ,प्रथम महिला मेलानिया ट्रंप और हजारों की संख्या में लोग इकट्ठा हुए थे। ट्रंप ने मस्क, नासा और अंतरिक्ष यात्रियों को बधाई दी और इस दिन को देश के लिए बेहतरीन दिन करार दिया। ट्रंप ने कहा कि उन्होंने मस्क से बात की है। वहीं मस्क ने कहा कि यह उनके लिए और स्पेसएक्स के सभी लोगों के लिए किसी सपने के साकार होने जैसा है।दिल्लीसरकारहरसाल77000बुजुर्गोंकोमुफ्तकराएगीतीर्थयात्राआंध्र प्रदेश में भिखारी के पास मिले 2 लाख रुपये कैश, फिर हुआ कुछ ऐसा****** के कुरनूल जिले में एक भिखारी के पास दो लाख रुपये से अधिक नकदी मिली है। एक गैर-सरकारी संगठन (एनजीओ) के स्वयंसेवकों के माध्यम से यह बात सामने आई है, जब वे उसका हुलिया ठीक कर रहे थे। चिन्ना नरसिम्हुलु, जो कि धोन शहर में एक मस्जिद के पास भीख मांगता है। उसके पास 2 लाख 4 हजार 459 रुपये मिले। द्रोणाचलम सेवा समिति के सदस्यों ने सोमवार को उसके बाल कटवाकर स्नान कराया और उसे नए कपड़े भी दिए।समिति के सदस्य ए. मधु के अनुसार इस 58 वर्षीय भिखारी के पास 14 शर्ट की जेब में करेंसी नोटों के बंडल थे। कुल राशि में से 77,000 रुपये की ऐसी करंसी थी, जो नोटबंदी के बाद बंद हो गई है। एनजीओ ने स्थानीय पुलिस को भिखारी के पास मिले पैसों की जानकारी दी। धोन के पुलिस इंस्पेक्टर सुब्रह्मण्यम ने कहा कि उनकी पूछताछ से पता चला है कि चिन्ना नरसिम्हुलु उर्फ सीनू तेलंगाना के पास महबूबनगर में मुनप्पगुट्टा कॉलोनी का मूल निवासी है।उसने पुलिस को बताया कि वह लगभग 24 साल पहले परिवार से बिछड़ गया था। उसकी पत्नी और बेटी जो कि उस समय सिर्फ आठ महीने की थी, काम के लिए बेंगलुरू चली गई थी। धोन में 16 साल से भीख मांग रहे सीनू ने पुलिस को बताया कि उसने अपनी बेटी के लिए ये पैसे इस उम्मीद में बचाए थे कि वह एक दिन उससे मिलेगी।पुलिस अधिकारी ने उसे कडप्पा में एक वृद्धाश्रम में भेज दिया है और एनजीओ को सीनू के नाम से बैंक खाता खोलने और पैसे जमा करने के लिए कहा है। पुलिस सीनू के परिवार का पता लगाने के लिए अपने महबूबनगर के समकक्षों के साथ भी संपर्क कर रही थी।

दिल्ली सरकार हर साल 77000 बुजुर्गों को मुफ्त कराएगी तीर्थयात्रा

दिल्लीसरकारहरसाल77000बुजुर्गोंकोमुफ्तकराएगीतीर्थयात्राकपाट खुलने की तिथि तय, 6 मई को सुबह 6 बजकर 25 मिनट पर खुलेंगे केदारनाथ धाम के कपाट****** के कपाट छह मई को सुबह 6 बजकर 25 मिनट पर खोले जाएंगे। आज महाशिवरात्रि पर शीतकालीन गद्दीस्थल ओंकारेश्वर मंदिर ऊखीमठ में 12वें ज्योर्तिलिंग में शामिल भगवान केदारनाथ के कपाट खुलने की तिथि तय की गई। वैदिक पूजा अर्चना के साथ ही पारंपरिक रीति रिवाज के तहत घोषित की गई तिथि:शीतकाल के छह महीने कपाट बंद होने के बाद केदारनाथ के कपाट खुलने की तिथि निश्चित कर दी गई है। केदारनाथ के कपाट 6 मई को प्रात: 6.25 पर अमृत बेला में खुलेंगे। ओंकारेश्वर मंदिर ऊखीमठ से बाबा केदार की डोली 2 मई को केदार धाम के लिए प्रस्थान करेगी। ओंकारेश्वर मंदिर ऊखीमठ में पौराणिक परंपराओं के अनुसार शिवरात्रि के पर्व पर केदारनाथ के कपाट खुलने की तिथि वैदिक पूजा अर्चना के साथ ही पारंपरिक रीति रिवाज के तहत घोषित की गई। हक हकूकधारी, वेदपाठी, मंदिर समिति के पदाधिकारी, तीर्थ पुरोहित की मौजूदगी में पंचांग गणना के अनुसार तिथि की घोषणा की गई।दो मई को बाबा केदारनाथ की डोली केदार धाम के लिए रवाना होगी। 2 मई को डोली गुप्तकाशी, 3 मई को फाटा, 4 मई को गौरीकुंड वह रात्रि विश्राम के बाद 5 मई को केदारनाथ धाम पहुंचेगी। 6 मई को सुबह 6 बजकर 25 पर कपाट आम भक्तों के दर्शनार्थ खोल दिए जाएंगे। केदारनाथ के रावल भीमाशंकर लिंग, केदारनाथ के धर्माधिकारी ओमकारेश्वर शुक्ला, पुजारी व वेदपाठीगणों द्वारा पंचांग गणना के बाद कपाट खुलने की तिथि व मुहूर्त निश्चित किया गया। इस अवसर पर श्री बदरीनाथ केदारनाथ मंदिर समिति के अध्यक्ष अजेंद्र अजय, उपाध्यक्ष किशोर पंवार, सदस्य आशुतोष डिमरी, श्रीनिवास पोस्ती, भास्कर डिमरी, मंदिर समिति के अधिकारी गण गिरीश चंद्र देवली राजकुमार नौटियाल, आरसी तिवारी, राकेश सेमवाल, डा हरीश गौड़, केदारनाथ के विधायक मनोज रावत आदि मौजूद थे।दिल्लीसरकारहरसाल77000बुजुर्गोंकोमुफ्तकराएगीतीर्थयात्राCoronavirus covid-19: फेसबुक, इंस्टाग्राम ने लगाया फेस मास्क बेचने वाले विज्ञापनों पर प्रतिबंध******coronavirus covid-19 & face mask सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म फेसबुक और इंस्टाग्राम ने शनिवार को अपने प्लेटफॉर्म पर मेडिकल फेस मास्क बेचने वाले विज्ञापनों पर प्रतिबंध लगा दिए हैं, ताकि लोगों से कोरोनावायरस आपातकाल का फायदा न उठाया जा सके। पर ट्रस्ट/इंटिग्रिटी टीम (विज्ञापनों और वाणिज्यिक उत्पादों के लिए) का नेतृत्व करने वाले रॉब लीथर्न ने ट्विटर पर इस निर्णय की घोषणा की।उन्होंने ट्वीट किया, 'हम मेडिकल बेचने वाले विज्ञापनों और प्रोडक्ट लिस्टिंग पर प्रतिबंध लगाने जा रहे हैं। कोविड-19 पर हम कड़ी नजर बनाए हुए हैं और अगर हम यह पाते हैं कि लोग इस सार्वजनिक स्वास्थ्य आपातकाल का फायदा उठाने की कोशिश कर रहे हैं, तो हम अपनी नीतियों में आवश्यक सुधार करेंगे।'इंस्टाग्राम के प्रमुख एडम मोसेरी ने भी उनके इस निर्णय को अपना समर्थन दिया है। उन्होंने ट्वीट किया, 'आपूर्ति कम है और दाम ज्यादा है। हम लोगों द्वारा इस सार्वजनिक स्वास्थ्य आपातकाल का फायदा उठाए जाने के खिलाफ हैं। हम भी अगले कुछ दिनों में इसकी शुरुआत करेंगे।'फेसबुक ने इस बात का भी ऐलान किया कि उनके इस मंच पर से संबंधित खोजों के साथ एक पॉप-अप या सूचना भी ऑटोमैटिक आएगा, जिसमें विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की ओर से आवश्यक निर्देश होंगे। अन्य तकनीकी कंपनियां भी मूल्य वृद्धि और स्वास्थ्य संबंधी गलत सूचना को रोकने के लिए प्रयासरत है।टेक क्रंच की रिपोर्ट के मुताबिक, अमेजन भी अपने यहां से हैंड सैनिटाइजर और फेस मास्क जैसे उत्पादों पर 'अधिक कीमतों वाले ऑफर्स' को हटाने की काम पर लगा हुआ है, जबकि ईबे ने एन95 और एन100 फेस मास्क, हेंड सेनिटाइजर और एल्कोहॉल वाइप्स प्रोडक्ट की लिस्टिंग पर प्रतिबंध लगा दिया है।

दिल्ली सरकार हर साल 77000 बुजुर्गों को मुफ्त कराएगी तीर्थयात्रा

दिल्लीसरकारहरसाल77000बुजुर्गोंकोमुफ्तकराएगीतीर्थयात्राइस कंपनी ने खोजा सिगरेट छुड़ाने का अनोखा तरीका, स्‍मोकिंग न करने वाले कर्मचारियों को मिलेगी अधिक छुट्टी******जापान की एक मार्केटिंग कंपनी अपने कर्मचारियों को सिगरेट से दूर रहने का एक बहुत ही आकर्षक कारण दे रही है। टोक्‍यो स्थित पिआला इंक ने पिछले महीने अपने नॉन-स्‍मोकिंग कर्मचारियों को प्रति वर्ष अतिरिक्‍त 6 दिन की पेड-लीव देने का फैसला किया है। इसके पीछे वजह यह है कि कंपनी सिगरेट पीने वाले ऐसे कर्मचारियों के समान ही सिगरेट न पीने वाले कर्मचारियों को समय उपलब्‍ध कराना चाहती है, जो प्रति दिन सिगरेट पीने के लिए अपने काम को छोड़कर बाहर जाता है।कंपनी ने बताया कि स्‍मोकिंग करने वाले कर्मचारी उन कर्मचारियों की तुलना में ज्यादा सीट से उठते हैं, जो स्‍मोकिंग नहीं करते। इससे कंपनी को तो नुकसान होता ही है साथ में दूसरे कर्मचारियों को यह लगता है कि वो स्‍मोकिंग करने वाले कर्मचारियों के मुकाबले ज्यादा काम कर रहे हैं और कंपनी को ज्यादा समय दे रहे हैं।जापान टाइम्‍स के मुताबिक पिआला इंक के सीईओ तकाओ असूका ने बताया कि उन्‍हें यह विचार उनके ऑफि‍स में लगे कमेंट बॉक्‍स में से किसी कर्मचारी के कमेंट से आया है। असूका ने कहा कि मुझे उम्‍मीद है कि प्रोत्‍साहन के जरिये कर्मचारियों को सिगरेट छोड़ने के प्रेरित किया जा सकता है न कि जुर्माना या दबाव से। एक अन्‍य जापानी कंपनी लॉसन इंक ने हालही में अपने सभी कर्मचारियों को अपने कॉरपोरेट मुख्‍यालय में काम के घंटों के दौरान सिगरेट पीने से प्रतिबंधित कर दिया है। असूका ने इसी कदम के विपरीत अपनी योजना बनाई है।लंदन के दि टेलीग्राफ की रिपोर्ट के मुताबिक पिआला ने जब से यह नई योजना शुरू की है तब से उसके चार कर्मचारी सिगरेट छोड़ चुके हैं। जापान में सिगरेट एक गंभीर समस्‍या है, वॉशिंगटनपोस्‍ट के मुताबिक स्‍मोकिंग रेट में जापान की रैंकिंग सबसे ऊपर है।

दिल्लीसरकारहरसाल77000बुजुर्गोंकोमुफ्तकराएगीतीर्थयात्राजेएनयू के 30 से अधिक शिक्षकों ने छात्रों पर पुलिस की कार्रवाई की निंदा की****** जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के 30 से अधिक शिक्षकों ने छात्रावास की बढ़ी फीस के खिलाफ विश्वविद्यालय के छात्रों के शांतिपूर्ण प्रदर्शन मार्च पर ‘‘बिना उकसावे के पुलिस की बर्बरता’’ की बुधवार को निंदा की। जेएनयू की फैकल्टी फेमिनिस्ट कलेक्टिव के 31 सदस्यों ने कहा कि पुलिस ने जेएनयू के दीक्षांत समारोह के दिन 11 नवंबर से लेकर अब तक छात्रों पर तीन बार लाठीचार्ज किया।उन्होंने एक बयान में कहा, ‘‘हम जेएनयू प्रशासन द्वारा संशोधित छात्रावास नियमावली अवैध तरीके से लागू करने और फीस में प्रस्तावित वृद्धि के खिलाफ जेएनयू छात्रों के शांतिपूर्ण प्रदर्शन मार्च पर बिना उकसावे की पुलिस की बर्बरता की कड़े शब्दों में निंदा करते हैं।दिल्लीसरकारहरसाल77000बुजुर्गोंकोमुफ्तकराएगीतीर्थयात्राPresident Election 2022: कैसे होता है राष्ट्रपति पद का चुनाव? यहां जानिए पूरी प्रक्रिया******Highlightsराष्ट्रपति चुनाव को लेकर कर 18 जुलाई को वोटिंग होगी। वहीं 21 जुलाई को काउंटिंग होगी। वोटिंग राज्यों के विधानसभा और संसद भवन में होगी। सांसदों के लिए संसद भवन के प्रथम तल पर कमरा नं- 63 में वोटिंग के लिए बूथ बनाए गए हैं जिनमें से एक बूथ फिजिकल चैलेंज्ड के लिए है। इसके लिए सुबह 10 बजे से लेकर शाम 5 बजे तक का समय निर्धारित किया गया है। बता दें कि वोटिंग बैलेट पेपर से की जाएगी। सांसदों को बैलट पेपर पर राष्ट्रपति उम्मीदवार के नाम के आगे अपनी वरीयता दर्ज करना होगा। वोटिंग की गोपनीयता को बरकरार रखने के लिए बैलेट पेपर सीरियल नंबर की बजाए रैंडम तरीके से दिए जाएंगे। राष्ट्रपति चुनाव में 9 विधायक संसद भवन में करेंगे वोटिंग जबकि लगभग 42 सांसद विभिन्न राज्यों के विधानसभा में वोटिंग करेंगे।संसद में वोट करने वाले विधायकों की संख्याUP से 4 MLAअसम से 1 MLAहरियाणा से 1 MLAउड़ीसा से 1 MLAत्रिपुरा से 2 MLANDA उम्मीदवार के समर्थन ये पार्टियां शामिलभाजपा ने राष्ट्रपति चुनाव के लिए द्रौपदी मुर्मू को अपना उम्मीदवार बनाया है। मुर्मू के समर्थन में जेडीयू, हम, लोजपा, अकाली दल, बसपा, तेदेपा, वाईएसआरसीपी, बीजद, शिवसेना और झामूमो हैं। महाराष्ट्र में सत्ता बदलने के बाद शिवसेना के सांसदों की जिद्द के आगे उद्धव ठाकरे को आखिर में झुकना पड़ा और उद्धव ने दौ्रपदी मुर्मू को अपना समर्थन देने का ऐलान कर दिया। झामूमो भी धर्म संकट में फंसी हुई थी कि वह देश की होने वाली पहली आदिवासी महिला को समर्थन दे या विपक्ष के साथ अपना गठबंधन धर्म निभाए। बाद में झामूमो के तरफ से भी यह बिल्कुल साफ हो गया कि पार्टी राष्ट्रपति के चुनाव में द्रौपदी मुर्मू को ही अपना समर्थन देगी। कुल मिलाकर चुनाव में NDA उम्मीदवार का पलड़ा भारी है।विपक्ष उम्मीदवार यशवंत सिन्हा की दावेदारी कितनी मजबूतविपक्ष की तरफ से राष्ट्रपति चुनाव में यशवंत सिन्हा को मैदान में उतारा गया है। लेकिन कुछ विपक्षी दल का साथ नहीं मिलने से उनकी स्थिति थोड़ी कमजोर दिखाई पड़ रही है। मुख्य रुप से उनके समर्थन में कांग्रेस, सपा, राजद, एनसीपी, टीएमसी, द्रमुक, टीआरएस, आप और वामदल है। यशवंत सिन्हा की दावेदारी को लेकर यह कहा जा सकता है कि उनकी जीत एक बहुत बड़ा उलटफेर साबित हो सकता है।कैसे होता है राष्ट्रपति का चुनावराष्ट्रपति चुनाव में जनता की सीधी भागीदारी नहीं होती है बल्कि जनता का प्रतिनिधित्व करने वाले यानी सांसद और विधायक वोटिंग करते हैं। इन सांसदों और विधायकों में भी जो मनोनित सांसद या विधायक हैं वे मतदान नहीं कर सकते, क्योंकि वे सीधे जनता द्वारा चुनकर सदन में नहीं आते हैं।इलेक्टोरल कॉलेज के जरिए होता है राष्ट्रपति चुनावराष्ट्रपति का चुनाव इलेक्टोरल कॉलेज के जरिए होता है। इसमें लोकसभा और राज्यसभा कुल 776 सदस्य और विधानसभाओं के 4,809 सदस्य शामिल होते हैं। इन सभी के वोटों का मूल्य या वेटेज अलग-अलग होता है। लोकसभा और राज्यसभा के वोटों का वेटेज एक होता है जबकि विधानसभा के सदस्यों का अलग वेटेज होता है। दो राज्यों के विधायकों का वेटेज भी अलग-अलग होता है। इसे अनुपातिक प्रतिनिधित्व व्यवस्था कहते हैं।विधायकों के वोट का मूल्यविधायकों का मूल्य ( वेटेज ) राज्य की जनसंख्या के आधार पर तय होता है। राज्य की जनसंख्या को चुने हुए विधायक की संख्या से बांटा जाता है और फिर उसे एक हजार से भाग दिया जाता है। इसके बाद जो अंक मिलता है वह उस राज्य के एक विधायक के वोट का वेटेज होता है। एक हजार से भाग देने पर अगर शेष 500 से ज्यादा हो तो वेजेट में एक जोड़ दिया जाता है।सांसदों के वोट का मूल्यसांसदों के वोटों के वेटेज का अलग हिसाब है। सबसे पहले सभी राज्यों की विधानसभाओं निर्वाचित सदस्यों के वोटों का वेटेज जोड़ा जाता है। अब इस सामूहिक वेटेज को राज्यसभा और लोकसभा के निर्वाचित सदस्यों की कुल संख्या से भाग दिया जाता है। इस तरह जो नंबर मिलता है, वह एक सांसद के वोट का वेटेज होता है। अगर इस तरह भाग देने पर शेष 0.5 से ज्यादा बचता हो तो वेटेज में एक का इजाफा हो जाता है।वोटिंग के लिए खास पेनमतदान के दौरान बैलेट पेपर पर सभी उम्‍मीदवारों के नाम होते हैं और मतदाता को अपनी वरीयता को 1 या 2 अंक के रूप में उम्‍मीदवार के नाम के सामने लिखना होता है। यह नंबर लिखने के लिए के लिए चुनाव आयोग एक विशेष पेन उपलब्‍ध कराता है। यदि यह नंबर किसी अन्‍य पेन से लिख दिए जाएं तो वह वोट अमान्‍य हो जाता है।कुल वेटेज का आधा से ज्यादा वोट प्राप्त करना जरूरीराष्ट्रपति चुनाव से जुड़ी दिलचस्प बात यह है कि इस चुनाव में सबसे ज्यादा वोट प्राप्त करने वाले उम्मीदवार को विजेता नहीं घोषित किया जाता है बल्कि विजेता वह होता है जो सांसदों और विधायकों के वोटों के कुल वेटेज का आधा से ज्यादा वोट प्राप्त कर लेता है। राष्ट्रपति चुनाव में पहले से ही यह तय होता है कि जीतने के लिए कितने वोटों की जरूरत होगी। इस बार राष्ट्रपति चुनाव के लिए जो इलेक्टोरल कॉलेज है, उसके सदस्यों के वोटों का कुल वेटेज 10,98,882 है। तो जीत के लिए उम्मीदवार को कुल 5,49,442 वोट हासिल करने होंगे । जो प्रत्याशी वेटेज हासिल कर लेता है वह राष्ट्रपति चुन लिया जाता है।

दिल्लीसरकारहरसाल77000बुजुर्गोंकोमुफ्तकराएगीतीर्थयात्रापीएम मोदी ने कोरोना के खिलाफ जारी जंग में सशस्त्र बलों की भूमिका की प्रशंसा की****** प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गुरुवार को कोविड-19 के खिलाफ जारी जंग में सशस्त्र बलों की भूमिका की प्रशंसा की। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह द्वारा “फाइटिंग दि इनविजिबल एनेमी: एमओडी रिस्पॉन्स ऑन कोविड-19 सर्ज” शीर्षक से लिखे एक लेख का जिक्र करते हुए, प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट कर कहा कि "‘जल’, ‘थल’ और ‘नभ’ हमारे सशस्त्र बलों ने कोविड-19 के खिलाफ जंग को मज़बूत करने में कोई कसर नहीं छोड़ी है।"सेना ने देशभर में नागरिक प्रशासन की मदद के समन्वय के लिए कोविड मैनेजमेंट सेल का गठन किया है। इसका प्रमुख महानिदेशक स्तर के एक अधिकारी को बनाया गया है। वे सीधे उप सेना प्रमुख को रिपोर्ट करेंगे।कोविड मैनेजमेंट सेल महामारी से निपटने के लिए नागरिक प्रशासन को सेना के स्टाफ व लॉजिस्टिक्स की मदद सुनिश्चित करेगी।बता दें कि, सेना के तीनों अंग कोरोना महामारी से निपटने के लिए अपने-अपने स्तर पर जुटे हैं। तीनों सेनाओं ने मेडिकल इमरजेंसी में कोविड से लड़ने के लिए कमान संभाल ली है। अपने अस्पतालों से लेकर डॉक्टर्स-पैरामेडिकल स्टॉफ को कोविड मरीजों की देखभाल के लिए लगाया ही गया है। तीनों सेनाएं ऑक्सीजन से लेकर दवाइयों व अन्य इक्वीपमेंट्स को देश के विभिन्न हिस्सों तक पहुंचा रही हैं और विदेशों से भी लाने में मदद कर रही हैं। बीतों दिनों इसे लेकर के साथ सीडीएस जनरल बिपिन रावत व अन्य शीर्ष सैन्य अधिकारियों ने विस्तृत चर्चा की थी। (India Army) ने गुरुवार को ट्वीट कर बताया कि कोविड मैनेजमेंट सेल देश में बढ़ रहे कोरोना संक्रमण को लेकर अधिक बेहतर ढंग से रीयल टाइम मदद सुनिश्चित कर सकेगी। यह सुविधा दिल्ली समेत पूरे देश के लिए होगी। सेना मरीजों की टेस्टिंग, उन्हें सैन्य अस्पतालों में भर्ती कराने, मेडिकल उपकरणों के परिवहन आदि में मदद करेगी।नौसेना भी देश में ऑक्सीजन आपूर्ति, चिकित्सा उपकरणों आदि के परिवहन में जुटी हुई है। विभिन्न देशों से इनका परिहवन किया जा रहा है। आईएनएस कोच्चि व अन्य पोत समुद्र सेतु-2 मिशन के तहत फारस की खाड़ी से चिकित्सा सामान लेकर मुंबई पहुंच रहे हैं। आईएनएस कोच्चि कुवैत से और आईएनएन त्रिकांड दोहा से छह मई को 20 टन तरल ऑक्सीजन लेकर रवान हो चुके हैं। का भारी कार्य करने में सक्षम परिवहन विमान सी-17 ग्लोबमास्टर बृहस्पतिवार को बैंकॉक से कई क्रायो केंटनर लेकर स्वदेश पहुंचा। अधिकारियों ने बताया कि कोविड-19 महामारी की दूसरी लहर के दौरान देश भर के अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी से निपटने के समन्वित अभियान के तहत ये कंटेनर लाए गए। क्रायोजेनिक कंटेनर का इस्तेमाल तरल ऑक्सीजन के परिवहन में किया जाता है। राज्यों को ऑक्सीजन परिवहन में आ रही दिक्कतों को दूर करने के लिए देश में ज्यादा से ज्यादा क्रायो केंटनर लाए जाने का प्रयास किया जा रहा है। वायु सेना ने ट्वीट कर बताया, ‘‘भारतीय वायुसेना का सी-17 ग्लोबमास्टर क्रायो कंटेनर लेने के लिए आज बैंकॉक पहुंचा। कोविड-19 की दूसरी लहर के दौरान गृह मंत्रालय के समन्वय में ऑक्सीजन परिवहन को सुधारने के लिए वायुसेना के विमानों ने कई उड़ानें भरी हैं।’’दिल्लीसरकारहरसाल77000बुजुर्गोंकोमुफ्तकराएगीतीर्थयात्राENG vs PAK : 19 साल के हैदर अली ने इंग्लैंड में मचाया धमाल, बने ऐसा करने वाले पहले पाकिस्तानी बल्लेबाज******इंग्लैंड के खिलाफ मैनचेस्टर के मैदान में पाकिस्तान की तरफ से सीरीज के तीसरे और अंतिम टी20 मैच में 19 साल के बल्लेबाज हैदर अली ने डेब्यू टी20 मैच में इतिहास रच दिया। इस मैच को जहां पाकिस्तान ने 5 रन से अपने नाम किया वहीं टेस्ट सीरीज में हार के बाद टी20 सीरीज को 1-1 से बराबरी पर खत्म किया। जिसमें हैदर अली का काफी योगदान रहा। उन्होंने अपने पहले टी20 मैच में बेहतरीन बल्लेबाजी करते हुए 54 रनों की पारी खेली।इस तरह हैदर के बाद मोहम्मद हफीज के 86 रनों की पारी के चलते पाकिस्तान 190 रन का स्कोर खड़ा करने में कामयाब हो पाया। जिसमें उसे 5 रन से जीत हासिल हो पाई। ऐसे में अब पहला मैच खेलने वाले हैदर 54 रन की पारी के साथ पाकिस्तान की तरफ से डेब्यू टी20 मैच में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज बन गए हैं। उन्होंने अपनी पारी के दौरान 33 गेंदों में 5 चौके तो 2 छक्के मारे। इससे पहले ये रिकॉर्ड उमर अमीन के नाम था जिन्होंने पाकिस्तान के लिए टी20 क्रिकेट में डेब्यू करते हुए 47 रन मारे थे।एक समय पाकिस्तान के सिर्फ 32 रन दो विकेट गिर जाने के चलते क्रीज पर हैदर और हफीज बल्लेबाजी कर रहे थे। ऐसे में हफीज जो उनसे 20 साल बड़े हैं। क्रिकेट के मैदान में ये फर्क हैदर ने अपनी बल्लेबाजी से पता नहीं चलने दिया और उन्होंने शानदार बल्लेबाजी से सभी का दिल जीता। इस तरह हैदर की बल्लेबाजी की तारीफ करते हुए हफीज ने मैच के बाद स्काई स्पोर्ट्स से कहा, "वह दबाव में शानदार लग रहा था और उसे सिर्फ अपना खेल दिखाया। मैं हमेशा उसे प्रेरित कर रहा था कि तुम अच्छा खेल रहे हो। इसी तरह खेलते रहो।"इस तरह हैदर और हफीज के बीच मैच में 100 रनों की साझेदारी हुई। जिससे पाकिस्तान ने पहले बल्लेबाजी करते हुए शानदार 190 रनों का स्कोर बनाया। वहीं दूसरी बल्लेबाजी करने उतरी इंग्लैंड टीम को अंत में 2 गेंदों पर 12 रन चाहिए थे। तभी टॉम कुर्रेंन ने छक्का मार दिया। हलांकि हरिस रौफ ने अंतिम गेंद यॉर्कर डालते हुये मैच पाकिस्तान को 5 रनों से जिता दिया।

दिल्लीसरकारहरसाल77000बुजुर्गोंकोमुफ्तकराएगीतीर्थयात्रासिसोदिया के घर छापेमारी के बाद पहली बार उपराज्यपाल से मिले केजरीवाल, कहा- माहौल अच्छा था******Highlightsदिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शुक्रवार को लेफ्टिनेंट गवर्नर वीके सक्सेना से मुलाकात की। दोनों के बीच यह मुलाकात दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के घर पर हुई छापेमारी के बाद पहली बार हुई थी। बता दें कि दिल्ली के मुख्यमंत्री और लेफ्टिनेंट गवर्नर के बीच हर शुक्रवार को मीटिंग होती है, लेकिन छापे के बाद केजरीवाल और एलजी के बीच इससे पहले कोई साप्ताहिक बैठक नहीं हुई थी। सिसोदिया के घर पर छापे के बाद से आम आदमी पार्टी लगातार एलजी पर हमलावर रही है।बैठक के बाद सीएम ने कहा कि बैठक ‘खुशनुमा माहौल’ में संपन्न हुई। उन्होंने बताया कि दोनों ने मीटिंग में दिल्ली से जुड़े कई मुद्दों पर चर्चा की। दिल्ली के मुख्यमंत्री ने कहा, ‘उपराज्यपाल के साथ हमारी साप्ताहिक बैठक होती है। लेकिन पिछले कुछ हफ्तों से बैठक नहीं हुई क्योंकि मैं शहर से बाहर था। आज बैठक अनुकूल माहौल में संपन्न हुई और हम दोनों ने शहर के कई मुद्दों पर चर्चा की। मैंने उनसे अनुरोध किया है कि हम नगर निगम से जुड़े मुद्दों के लिए मिलकर काम करें।’केजरीवाल ने यह भी कहा कि बैठक के दौरान ‘कूड़े के पहाड़’ और शहर में स्वच्छता व्यवस्था को ठीक करने के मुद्दों पर भी चर्चा की गई। के घर पर छापेमारी के बाद उपराज्यपाल के साथ कई मुद्दों पर चल रही खींचतान के सवाल पर केजरीवाल ने कहा, ‘जो कुछ भी हुआ वह दुर्भाग्यपूर्ण था। मुझे उम्मीद है कि अब स्थिति में सुधार होगा। आज, हम दोनों के बीच बहुत अच्छा माहौल था।’ बता दें कि हाल ही में उपराज्यपाल ने केजरीवाल सरकार को MCD के 2 साल से लंबित 383 करोड़ रुपये जारी करने को कहा।सक्सेना ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को शिक्षा एवं स्वास्थ्य मदों में नगर निगम का 383.74 करोड़ रुपये का बकाया जारी करने को कहा था। LG के दफ्तर ने सक्सेना द्वारा मुख्यमंत्री को लिखे गये पत्र को ट्विटर पर बुधवार को साझा करते हुए कहा कि उन्होंने पिछले दो सालों से लंबित इस बकाया रकम को जारी करने का आग्रह किया है। उन्होंने पत्र में लिखा है कि ‘अकारण’ पैसे रोकने से दिल्ली में प्राथमिक शिक्षा एवं स्वास्थ्य की स्थिति पर बहुत बुरा असर पड़ रहा है। बता दें कि पैसे जारी करने का मुद्दा AAP और BJP के बीच टकराव का एक बड़ा कारण है।दिल्लीसरकारहरसाल77000बुजुर्गोंकोमुफ्तकराएगीतीर्थयात्राTelangana News: तेलंगाना में पहली से दसवीं कक्षा तक तेलुगू पढ़ना हुआ अनिवार्य, नहीं मानने पर होगी कार्रवाई******Highlightsतेलंगाना सरकार ने इस शैक्षणिक सत्र (2022-2023) की शुरुआत से पहली से दसवीं कक्षा तक केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई), इंडियन सर्टिफिकेट आफ सेकंडरी एजुकेशन (आईसीएसई), आईबी और अन्य बोर्ड से संबद्ध स्कूलों के विद्यार्थियों के लिए तेलुगू को दूसरी भाषा के रूप में अनिवार्य कर दिया है। इस विषय में एक परिपत्र हाल ही में स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा जारी किया गया, जो राज्य सरकार के तेलंगाना (स्कूलों में अनिवार्य रूप से तेलुगू का शिक्षण) अधिनियम 2018 को चरणबद्ध तरीके से 2018-19 से लागू करने के हिस्से के रूप में आया है।अधिनियम के अनुसार, तेलुगू को कक्षा पहली से दसवीं तक अनिवार्य कर दिया गया था, चाहे स्कूल किसी भी बोर्ड से संबद्ध हों। परिपत्र के अनुसार, ‘‘सभी प्रबंधन और विभिन्न बोर्ड से संबद्ध स्कूलों (सीबीएसई, आईसीएसई, आईबी और अन्य बोर्ड) के लिए शैक्षणिक सत्र 2022-23 से पहली से दसवीं कक्षा तक अनिवार्य विषय के रूप में तेलुगू को लागू करने के नियमों का उल्लंघन तेलंगाना राज्य में गंभीरता से देखा जाएगा और तेलंगाना राज्य सरकार द्वारा दिए गए अधिनियम और दिशानिर्देशों के अनुसार आवश्यक कार्रवाई की जाएगी।’’विभाग ने तेलुगू की दो पाठ्यपुस्तकें तैयार की हैं। एक तेलुगू भाषी विद्यार्थियों के लिए और दूसरी उन बच्चों के लिए जिनकी मातृभाषा तेलुगू नहीं है। राज्य सरकार ने यह भी आगाह किया कि नियम का पालन न करने से उन स्कूलों को जारी अनापत्ति प्रमाण पत्र (एनओसी) पर गंभीर असर पड़ेगा।

हाल का ध्यान

लिंक