वर्तमान पद:मुखपृष्ठ > गुआंगज़ौ शहर > मूलपाठ

Sri Lanka Crisis: श्रीलंका में 44 साल बाद जनता नहीं संसद चुनेगी देश का राष्ट्रपति, 20 जुलाई को होगा फैसला

2022-10-01 01:09:35 गुआंगज़ौ शहर

श्रीलंकामें44सालबादजनतानहींसंसदचुनेगीदेशकाराष्ट्रपति20जुलाईकोहोगाफैसलादीया मिर्जा ने पहली बार अपने बेटे का फ्रंट फेस PHOTO किया शेयर, प्रियंका, करीना हुईं फिदा******Highlights एक्ट्रेस दीया मिर्जा ने अपने बेटे का फ्रंट फेस वाला पहला फोटो शेयर किया। तस्वीर सामने आने के बाद फैंस बेहद खुश नजर आ रहे हैं कि क्योंकि लंबे समय से उनके बेटे की फोटो देखने के लिए सब बेताब थे। ना केवल फैंस बल्कि करीना कपूर खान, प्रियंक चोपड़ा, नेहा धूपिया जैसी कई एक्ट्रेस ने कमेंट किया है। बेटे की क्यूटनेस लोगों को काफी पसंद आ रही है।दीया मिर्जा साल 2021 में अपने बेटे का स्वागत की थी। उनके बेटे का नाम अव्यान आजाद रेखी है। अव्यान की फोटो सामने आ चुकी है। फोटो में वो सोफा पर बैठा हुआ दिखाई दे रहा है। उनकी मासूमियत सबका दिल चुरा रही है। फोटो पर जमकर कमेंट्स हो रहे हैं।करीना कपूर खान, प्रियंक चोपड़ा, नेहा धूपिया, हरलीन सेठी व अन्य एक्ट्रेस ने फोटो पर कमेंट किया और बच्चे को आशीर्वाद भी दिया। साथ ही दिलवाला इमोजी भी शेयर किया है। इसके अलावा फैंस भी अव्यान की फोटो पर जमकर प्यार बरसा रहे हैं।

श्रीलंकामें44सालबादजनतानहींसंसदचुनेगीदेशकाराष्ट्रपति20जुलाईकोहोगाफैसलाKBC 12: 'कर्मवीर' एपिसोड में सफाई कर्मचारी आंदोलन के बेजवाड़ा विल्सन ने इस जवाब देकर जीते 25 लाख रुपये******पॉपुलर क्विज रिएलिटी शो 'कौन बनेगा करोड़पति' के 12वें सीजन को दर्शक पसंद कर रहे हैं।केबीसी के कर्मवीर स्पेशल एपिसोड में इस बार शो के मेहमान थे सफाई कर्मचारी आंदोलन की शुरुआत करने वाले बेजवाड़ा विल्सन।के कर्मवीर एपिसोड में बेजवाड़ा विल्सनके साथ क्राइम पेट्रोल के होस्ट अनूप सोनी थे। दोनों की जोड़ी ने शानदार तरीके से सवालों को जवाब देते हुए 25 लाख रूपए जीते।अभिताभ बच्चन ने बेजवाड़ा विल्सन से सवाल पूछा, 'उस उपग्रह को क्या निकनेम दिया गया जिसमें साल 2019 में चंद्रयान 2 को प्रक्षेपित किया था?'इस सवाल का जवाब देते हुए बेजवाड़ा विल्सन ने कहा 'बाहुबली'आपको बता दें कि बेजवाड़ा विल्सन एक मानवाधिकार कार्यकर्ता के साथ-साथ रेमन मैग्सेसे और अशोका फेलो अवार्डी भी हैं। उन्होंने करीब 3 लाख कर्मचारियों के जीवन से मैला ढोने की प्रथा का बोझ हटाया।अमिताभ बच्चन ने बेजवाड़ा से पूछा कि कैसे उनके अंदर इस प्रथा को तोड़ने का विचार आया। इस सवाल पर उन्होंने कहा कि जब हम स्कूल जाते थे तो हमें लगता था कि हम भी सभी बच्चों की तरह है। लेकिन थोड़े दिन बाद पता चलता है कि आप सब जैसे नहीं है। 12वीं पढ़ने के दौरान मेरेा रजिस्टार पर नाम लिखा मैला ढोने के लिए.... इसका सबसे बड़ा कारण जाति है। जाति को तोड़ना ही इसका एक सबसे बड़ा साल्यून था।श्रीलंकामें44सालबादजनतानहींसंसदचुनेगीदेशकाराष्ट्रपति20जुलाईकोहोगाफैसलाMP News : खंडवा में मुहर्रम जुलूस के दौरान लगे 'सर तन से जुदा' के नारे, FIR दर्ज, सरकार ने कहा-दोषियों को मिलेगी सजा******Highlights: बीते दिनों खरगोन में रामनवमी के दौरान सांप्रदायिक हिंसा और अब खंडवा में मुहर्रम के जुलूस के दौरान लगे नारे 'गुस्ताख ए नबी की एक ही सजा, सर तन से जुदा, सर तन से जुदा'। सांप्रदायिक तनाव फैलाने वाले इन नारों का वीडियो वायरल होने के बाद खंडवा में सांप्रदायिक तनाव का माहौल बन गया। हिंदूवादी संगठन भड़क गए और आरोपियों के साथ-साथ उनके नेताओं की गिरफ्तारी की मांग भी की।उपद्रवी तत्वों ने बीच चौराहे पर लगाए नारेमामला बुधवार रात 11:30 बजे का है जब मुहर्रम के जुलूस में ताजिए कर्बला की ओर जा रहे थे उसी दौरान जुलूस में शामिल उपद्रवी तत्वों ने बीच चौराहे पर 'सर तन से जुदा' के नारे लगाने शुरू कर दिए। इस दौरान मोहर्रम के जुलूस में शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए पुलिस भी थी बावजूद इसके यह नारे लगते रहे। हालांकि पुलिस लगातार वीडियोग्राफी भी कर रही थी लेकिन घटना का पता और जनता का गुस्सा तब सामने आया जब पहला वीडियो वायरल हुआ और हिंदूवादी संगठन सामने आए।20 अज्ञात लोगों के खिलाफ केस दर्जहिंदू संगठनों की नाराजगी थी कि 24 घंटे से ज्यादा हो जाने के बावजूद दोषियों पर अब तक कोई कार्रवाई नहीं हुई जिसके बाद शुक्रवार सुबह पुलिस ने 20 अज्ञात लोगों के खिलाफ धारा 188 का मामला दर्ज किया है।इंडिया टीवी से बात करते हुए शिवराज सरकार के कैबिनेट मंत्री विश्वास सारंग ने कहा" मध्य प्रदेश शांति का टापू है जैसे ही प्रशासन को इसकी इत्तला मिली एफआईआर दर्ज हुई, पूरी तरह कानून-व्यवस्था से ही प्रदेश चलेगा। किसी भी तरीके से अराजकता फैलाने का या वैमनस्यता फैलाने का किसी को भी मौका नही दिया जाएगा।कुछ लोग यदि इस तरीके की अनर्गल बातें करेंगे तो सहन नहीं किया जाएगा इसलिए प्रशासन ने एफआईआर दर्ज की है। वीडियो देखा जा रहा है, आईडटिफिकेशन हो रहा है जो भी दोषी होंगे उन पर कार्रवाई होगी।'अराजकता फैलानेवालों को मिलेगी सजापूछे जाने पर कि 48 घंटे बाद मामला दर्ज हुआ है इस दौरान सांप्रदायिक तनाव से खंडवा झूझता रहा, क्या यह पुलिस प्रशासन की नाकामी नहीं है? तो मंत्री विश्वास सारंग ने कहा कि जैसे ही वीडियो मिला हमने तत्काल कार्रवाई की। उन्होंने कहा कि जो ताजिया निकल रहे थे उसकी वीडियोग्राफी तो हो रही थी।जैसे ही कल वीडियो फुटेज मिला तत्काल उस पर कार्रवाई हुई और अज्ञात लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई गई। वीडियो देख कर यह सुनिश्चित किया जा रहा है कि कौन लोग थे जो अराजकता फैलाना चाहते थे। जो आयोजक हैं उनसे पूछताछ हो रही है। यह सुनिश्चित किया जा रहा है कि दोषियों पर सख्त कार्रवाई हो। अराजकता फैलाने वाले को मौका नहीं दिया जाएगा। दोषियों को सजा दी जाएगी और साथ ही ऐसी घटनाओं की पुनरावृत्ति ना हो यह भी सुनिश्चित किया जाएगा।'

Sri Lanka Crisis: श्रीलंका में 44 साल बाद जनता नहीं संसद चुनेगी देश का राष्ट्रपति, 20 जुलाई को होगा फैसला

श्रीलंकामें44सालबादजनतानहींसंसदचुनेगीदेशकाराष्ट्रपति20जुलाईकोहोगाफैसलाकोरोना वायरस को लेकर कोई कन्फ्यूज़न है तो इन 5 बड़े डॉक्टर्स से जानें हर सवाल का जवाब****** के विदेश सहित भारत में कई मामले सामने आ चुके हैं। इसके साथ ही कोरोना वायरस से कर्नाटक में एक बुजुर्ग की मौत भी हो चुकी हैं। ऐसे में हर कोई कोरोना वायरस से संबंधित छोटे-छोटे सवालों को लेकर परेशान है कि आखिर कैसे इस वायरस से लड़े। इस विषय को लेकर इंडिया टीवी के खास शो 'कुरुक्षेत्र' में आज कोरोना वायरस को लेकर चर्चा हुई। जिसमें भारत के 5 बड़े डॉक्टरों ने शिरकत की। डॉक्टरों की इस लिस्ट में डॉ हर्ष महाजन, डॉ आशीष जायसवाल, डॉ हितेश वर्मा,कार्डियोलॉजिस्ट डॉ एम वली, डॉ विकास मैरया शामिल हुए। जिन्होंने कोरोना वायरस संबंधी हर सवाल का जवाब दिया।डॉ हर्ष महाजन बताया कि कोरोना का फ्लू गले से शुरू होता है। सांस लेने में समस्या होती है। नाक बहना कम होता है। दोनों में अंतर करना थोड़ा मुश्किल है लेकिन संक्रमित व्यक्ति का टेस्ट करनाकर या फिर वह कहीं यात्रा का विवरण जानकर इसके बारे में जान सकते है। वहीं डॉ आशीष के अनुसार चीन हुए रिसर्च के अनुसार यह रोग प्रतिरोधक क्षमता पर बहुत ही ज्यादा इफेक्ट करता है। जो ब्लड टेस्ट के द्वारा पता चलेगा।डॉ हितेश के अनुसार जिन लोगों को फ्लू वाला इंफेक्शन है, उन्हें ये मास्क लेना जरूरी है। जिससे दूसरे को यह संक्रमण है। इसके साथ ही हाथ धोना जरूरी है। इसके लिए सैनिटाइजर का इस्तेमाल करना जरूरी नहीं है। वहीं डॉ विकास का कहना है कि हर आम आदमी को मास्क लगाना जरूरी नहीं है।डॉक्टर्स के अनुसार सैनिटाइजर के बजाय20 सेकंड साबुन से हाथ धो लेना आपके लिए ठीक है।डॉक्टर्स के अनुसार कोरोना वायरस गर्मी में खत्म होगा ऐसा जरूरी नहीं है। कई देशों में गर्मी होने के बावजूद वहां पर संक्रमण फैला हुआ है।डॉक्टर्स के अनुसार बस और मेट्रो में इसका खतरा अधिक है। इसके लिए आप थोड़ा सा सतर्क रहें। अगर आपको छींक आ रही है तो मुंह में कपड़ा रख लें। जिससे कोई दूसराव्यक्ति संक्रमित नहीं होगा।बच्चों को बाहर जाने से बहुत ही खतरा होगा। इसलिए 15-20 दिन थोड़ा सतर्क रहें। अगर बच्चा पार्क से खेल कर आया है तो आप उसके अच्छे से हाथ-पैर धुलवा दें।डॉक्टर्स के अनुसार यह वायरसशरीर के बाहर 3 चीजों पर निर्भर है। तापमान, नमी और किस सरफेस पर गिरी है। जिसके कारण ये 2 घंटे से लेकर 9 दिन तक जिंदा रह सकता है।डॉक्टर के अनुसार अगर किसी सरफेस को साफ रखते हैं तो वहां ये वायरस होने की संभवना कम हो जाती है। वहीं कोई ऐसी जगह है जहां का टाइल्स अच्छी तरह साफ नहीं हुआ है तो वहां वायरस होने के चांसेस बढ़ जाते है।कोरोना वायरस से बचना चाहते है जिम जाने से बचना चाहिए क्योंकि वहीं पर बहुत ज्यादा भीड़ होती है। हर चीज को सैनिटाइज नहीं किया जा सकता है। इसलिए घर पर ही रहें तो आपके लिए बेहतर होगा। इससे बेहतर आप घर पर योग करें।इस बारे में डॉक्टर्स का कहना है कि जितना हो सके तो बच कर रहें। सैलून थोड़े दिन न जाएं, आप चाहें तो घर पर ही सेविंग आदि कर सकते हैं। इसके अलावा अगर आप सैलून जा रहे हैं तो हर चीज नई यूज करने को कहें।अगर खाना सही ढंग से और अच्छी जगह पर बना है तो कोई खतरा नहीं है। इसके साथ ही अगर चिकन ठीक से साफ किया हो और पका हो। जो उससे कोई खतरा नहीं है। लेकिन अगर बाहर खाने जा रहे हैं तो इस बात का ध्यान रखें कि भीड़ वाली जगह से दूर रहें।डॉक्टर्स के अनुसार योग, एक्सरसाइज करें। इसके अलावा आप हल्दी, विटामिन सी संबंधी फूड्स, अदरक, काली मिर्च तुलसी, गिलोय, मल्टी विटामिन, केसर आदि खा सकते है।स्मोकिंग हमारे फेफड़ों की इम्यूनिटी को कम करता है। जिसके कारण कोरोना वायरस होने का खतरा काफी बढ़ जाता है।डॉक्टर्स का इस बारे में कहना है कि ऐसा कुछ नहीं है। बस अपनी हाइजीन को ठीक रखें। आप सुरक्षित रहेंगे।अगर कोई व्यक्ति को कोरोना वायरस है तो उसे धूप सेंकने से कोई फर्क नहीं पड़ता है।डॉक्टर्स का इस बारे में कहना है कि इस बारे में कोई पुख्ता जानकारी नहीं हैं।एक मास्क 2-3 घंटे ही लगा सकते हैं।मेडिकल मास्क 2-3 लेयर पर बना होता है। अगर आपको कोई लक्षण नहीं है तो मास्क लगाने की जरूरत नहीं है। बस बाहर निकले तो लोगों से दूरी बनाकर रखें।श्रीलंकामें44सालबादजनतानहींसंसदचुनेगीदेशकाराष्ट्रपति20जुलाईकोहोगाफैसलाचुनाव से ठीक पहले पेट्रोल फिर 80 रुपए लीटर होने का खतरा बढ़ा, क्रूड ऑयल का दाम 27 महीने के ऊपरी स्तर पर****** हिमाचल प्रदेश और गुजरात में विधानसभा चुनावों से ठीक पहले पेट्रोल और डीजल की कीमतों में फिर से बढ़ोतरी होने का खतरा बढ़ गया है। भारतीय बास्केट के लिए कच्चे तेल का दाम 27 महीने के ऊपरी स्तर तक पहुंच गया है जिस वजह से तेल कंपनियों की लागत बढ़ी है और तेल कंपनियां कभी भी पेट्रोल और डीजल की कीमतों में इजाफा कर सकती हैं।केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्रालय के मुताबिक सोमवार यानि 30 अक्टूबर को भारतीय बास्केट के लिए कच्चे तेल का दाम 58.92 डॉलर प्रति बैरल दर्ज किया गया है जो जून 2015 के बाद सबसे अधिक भाव है। कच्चे तेल की कीमतों में आई इस बढ़ोतरी की वजह से तेल कंपनियों की लागत बढ़ने लगी है और तेल कंपनियां इसका बोझ ग्राहकों पर डाल सकती हैं।अगर तेल कंपनियों की तरफ से पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी हुई तो 14 दिसंबर तक सरकार चाहकर भी कीमतों को घटाने के लिए कदम नहीं उठा सकती है क्योंकि तबतक चुनाव आचार सहिंता लागू रहेगी। गुजरात में 14 दिसंबर को मतदान का आखिरी दिन होगा, इसके बाद ही सरकार के सामने कोई कदम उठाने का अधिकार होगा।ऐसा नहीं है कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में क्रूड ऑयल महंगा हो रहा है और तेल कंपनियों ने दाम नहीं बढ़ाए हैं। पेट्रोल और डीजल की कीमतें पहले ही बढ़ना शुरू हो चुकी हैं। दिल्ली में मंगलवार को पेट्रोल का दाम बढ़कर 69.13 रुपए, मुंबई में 76.24 रुपए, कोलकाता में 71.90 रुपए और चेन्नई में 71.64 रुपए प्रति लीटर दर्ज किया गया है। अक्टूबर की शुरुआत में केंद्र सरकार ने जब एक्साइज में कटौती कर पेट्रोल और डीजल की कीमतों को कम किया था तो उस समय मुंबई में पेट्रोल 80 रुपए और दिल्ली में 70.88 रुपए प्रति लीटर हो चुका था। अब कच्चे तेल की कीमतों में हुई बढ़ोतरी की वजह से पेट्रोल का दाम फिर से इसी स्तर तक पहुंचने की संभावना बढ़ गई है।श्रीलंकामें44सालबादजनतानहींसंसदचुनेगीदेशकाराष्ट्रपति20जुलाईकोहोगाफैसलाIslamic State: बड़ी साजिश का खुलासा, भारत को दहलाने की फिराक में ISIS, आखिर क्या है दुश्मनी? कैसे टेंशन दे रहा ये आतंकी संगठन******Highlightsइस्लामिक स्टेट यानी आईएसआईएस कौन है? कितना खतरनाक है और किस काम के लिए मशहूर है? इन सवालों के जवाब आपको जरूर पता होंगे। इसने सीरिया समेत मध्य पूर्व के कई देशों को नरक बना दिया है। लेकिन भारत में इसने क्या कुछ किया है, इसकी शायद आपको हल्की फुल्की जानकारी हो गई होगी। हालांकि जो खबर एक दिन पहले रूस से आई है, उसने भारत को एक बड़ी चिंता में डाल दिया है। खबर ये है कि रूस ने आत्मघाती हमला करने की साजिश रचने के मामले में इस्लामिक स्टेट (आईएसआईएस) के एक आतंकवादी को पकड़ा है। जोपैगंबर मोहम्मद के अपमान का बदला लेने के लिए भारत को दहलाने की फिराक में था।इस आतंकी का मकसद खुद को बम से उड़ाकर सत्ताधारी दल के एक प्रतिनिधि को निशाना बनाना था। रूस की शीर्ष खुफिया एजेंसी ने सोमवार को बताया था कि यह शख्स एक मध्य एशियाई देश का रहने वाला है। सरकारी समाचार एजेंसी ‘तास’ ने खबर दी है कि रूस की खुफिया एजेंसी ‘संघीय सुरक्षा सेवा’ (एफएसबी) के मुताबिक, प्रतिबंधित इस्लामिक स्टेट के एक सरगना ने इस साल अप्रैल से जून के बीच तुर्की में प्रवास के दौरान एक विदेशी नागरिक को आत्मघाती हमलावर के तौर पर संगठन में भर्ती किया था।एफएसबी ने कहा, 'संघीय सुरक्षा सेवा ने अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी संगठन ‘इस्लामिक स्टेट’ के सदस्य की रूस में पहचान की और उसे पकड़ लिया। हिरासत में लिया गया शख्स मध्य एशिया के एक देश का नागरिक है और उसने भारत के सत्तारूढ़ दल के शीर्ष नेतृत्व में शामिल एक सदस्य पर आत्मघाती हमला करने की योजना बनाई थी।' एफएसबी के ‘सेंटर फॉर पब्लिक रिलेशन्स’ (सीपीआर) ने बताया कि सोशल मीडिया मंच ‘टेलीग्राम’ और इस्तांबुल में आईएसआईएस के एक प्रतिनिधि के साथ व्यक्तिगत मुलाकात के दौरान उसके दिमाग में संगठन की विचारधारा को भरा गया था।खबर के मुताबिक, एफएसबी ने उल्लेख किया कि आतंकवादी ने आईएसआईएस के ‘अमीर’ (प्रमुख) के प्रति निष्ठा की शपथ ली थी, जिसके बाद उसे रूस जाने और जरूरी दस्तावेज हासिल करने को कहा गया, ताकि वह भारत जा सके और इस आतंकवादी कृत्य को अंजाम दे सके। रूस की खुफिया एजेंसी ने आतंकवादी की पहचान उजागर नहीं की है। उसने स्वीकार किया है कि वह पैगंबर मोहम्मद का अपमान करने के लिए भारत के सत्तारूढ़ दल के एक सदस्य के खिलाफ आतंकवादी कृत्य को अंजाम देने की तैयारी कर रहा था।सीपीआर की ओर से उससे पूछताछ का वीडियो सोमवार को जारी किया गया, जिसमें आतंकवादी कह रहा है कि उसने अप्रैल 2022 में आईएसआईएस के ‘अमीर’ के प्रति निष्ठा की शपथ ली थी और एक विशेष प्रशिक्षण लिया था जिसके बाद वह रूस आया और यहां से भारत जाता। उसने कहा, 'पैगंबर मोहम्मद का अपमान करने के लिए आईएसआईएस के इशारे पर आतंकवादी हमला करने के लिए मुझे वहां चीजें दी जानी थीं।' भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की तत्कालीन प्रवक्ता नुपुर शर्मा और पार्टी के दिल्ली ईकाई के मीडिया प्रकोष्ठ के तत्कालीन प्रमुख नवीन कुमार जिंदल ने पैगंबर को लेकर विवादित टिप्पणियां की थी, जिसके बाद मुस्लिम देशों ने इस पर तीखी प्रतिक्रिया दी थी और पार्टी ने नुपुर को निलंबित और कुमार को निष्कासित कर दिया था।खूंखार आतंकवादी संगठन आईएसआईएस और इससे संबंधित सभी संगठनों को भारत में प्रतिबंधित किया गया है। वे इराक और सीरिया में कई हमले करने के लिए जिम्मेदार हैं। गृह मंत्रालय ने आतंकवादी समूह पर प्रतिबंध लगाते हुए कहा है कि भारत के युवाओं की संगठन में भर्ती और उन्हें कट्टर बनाया जाना देश के लिए गंभीर चिंता का विषय है, खासकर जब ऐसे युवा भारत लौटते हैं, तो राष्ट्रीय सुरक्षा पर इसके संभावित प्रभाव पड़ सकते हैं।खबर आई थी कि राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने बाटला हाउस से एक व्यक्ति को इस्लामिक स्टेट (आईएस) का कथित सक्रिय सदस्य होने के आरोप में गिरफ्तार किया है। आरोपी की पहचान बिहार के पटना निवासी मोहसिन अहमद के रूप में हुई। 25 जून को एजेंसी द्वारा दर्ज 'आईएसआईएस की ऑनलाइन और जमीनी गतिविधियों' से संबंधित एक मामले में अहमद को उसके घर और अन्य जगहों पर तलाशी लेने के बाद गिरफ्तार किया गया था। एनआईए ने एक बयान में कहा, 'आरोपी मोहसिन अहमद आईएसआईएस का कट्टर और सक्रिय सदस्य है। उसे भारत के साथ-साथ विदेशों में भी सहानुभूति रखने वालों से आईएसआईएस के लिए पैसा एकत्रित करने का काम करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। आईएसआईएस की गतिविधियों को आगे बढ़ाने के लिए वह इन पैसों को सीरिया और अन्य जगहों पर क्रिप्टोकरेंसी के रूप में भेज रहा था।'खबर आई कि तमिलनाडु के सेलम से एक 24 साल से युवक को गिरफ्तार किया गया है। उससे इंटेलिजेंस ब्यूरो (आईबी) और क्यू ब्रांच ने 10 घंटे से अधिक समय तक पूछताछ की थी। उसे आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट (आईएस) के साथ कथित संबंधों के आरोप में गिरफ्तार किया गया। युवक का नाम आशिक है। शहर की पुलिस ने उसके खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 121 (भारत सरकार के विरुद्ध युद्ध छेड़ना, युद्ध छेड़ने का प्रयास करना, या युद्ध के लिए उकसाना), 122 (भारत सरकार के विरुद्ध युद्ध छेड़ने के इरादे से हथियार इकट्ठा करना), 125 (भारत सरकार के साथ गठबंधन वाले किसी भी एशियाई देश के खिलाफ युद्ध छेड़ना), धारा 18 (साजिश रचना), 18 (ए) (आतंकवादी शिविर आयोजित करने की सजा, 20 (आतंकवादी गिरोह या संगठन का सदस्य होने की सजा), 38 (एक आतंकवादी संगठन की सदस्यता से संबंधित अपराध) और 39 (एक आतंकवादी संगठन को दिए गए समर्थन से संबंधित अपराध) गैरकानूनी गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम, 1967 के तहत मामला दर्ज किया गया है।खबर आई कि उत्तर प्रदेश पुलिस के आतंकवाद रोधी दस्ते (एटीएस) ने एक कथित आईएसआईएस सदस्य को गिरफ्तार किया है, जो स्वतंत्रता दिवस पर धमाके करने की योजना बना रहा था। पुलिस के मुताबिक, असदुद्दीन ओवैसी के नेतृत्व वाली एआईएमआईएम पार्टी का सदस्य आरोपी सबाउद्दीन आजमी भारत में इस्लामिक स्टेट स्थापित करने और आईएसआईएस के संपर्क में मुजाहिदीन संगठन बनाकर शरिया कानून लागू करने की योजना पर काम कर रहा था। आजमी के खिलाफ गैरकानूनी गतिविधि (रोकथाम) अधिनियम, 1967 और 3/25 शस्त्र अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया है। बयान में कहा गया है कि एटीएस ने आरोपियों के पास से बम बनाने की सामग्री, विस्फोटक और कई अवैध हथियार और कारतूस बरामद किए हैं। वह युवाओं को भी इस्लामिक स्टेट से जुड़ने के लिए कहता था। खबर आई कि केंद्रीय खुफिया एजेंसियों ने इस्लामिक स्टेट के समर्थकों और कैडर के खिलाफ व्यापक छापेमारी की है। इस दौरान महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश, तेलंगाना, झारखंड, तमिलनाडु, केरल, मध्य प्रदेश, पश्चिम बंगाल, गुजरात और राजस्थान में 25 से अधिक व्यक्तियों को हिरासत में लिया गया है। यह छापेमारी संबंधित राज्य पुलिस बलों को उपलब्ध कराई गई सूचना के आधार पर की गई। सूत्रों ने कहा कि हिरासत में लिए गए व्यक्तियों को लेकर पता चला था कि वह "आईएसआईएस की ओर झुकाव रखते हैं और हिंसक हमले करने की तैयारी कर" रहे थे। खबर आई कि लीबिया में इस्लामिक स्टेट के लिए लड़ते हुए कथित तौर पर मारा गया केरल का एक इंजीनियर आईएस की प्रोपेगेंडा मैगजीन में दिखाई दिया है। आईएस ने इसका नाम अबु बकर अल हिंद बताया। इसमें कहा गया कि उसकी मौत हो गई है। उसका जन्म केरल के एक ईसाई परिवार में हुआ था।एक अन्य रिपोर्ट में कहा गया कि आईएसआईएस में शामिल हुए कम से कम 40 भारतीय अब भी मध्य पूर्व की जेलों में बंद हैं।ये लिस्ट बहुत लंबी है, यहीं खत्म नहीं होती। लेकिन हमने इस साल सामने आई इस्लामिक स्टेट की भारत से जुड़ी घटनाओं के बारे में बताने की पूरी कोशिश की है।आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट को आईएसआईएल भी कहा जाता है, यानी इस्लामिक स्टेट ऑफ इराक एंड लेवांट। इसे अरब की भाषा में दाएश कहकर पुकारा जाता है। इसके अधिकतर सुन्नी लड़ाके इराक और सीरिया के रहने वाले हैं। लेकिन इससे यूरोप और मुस्लिम देशों के हजारों की संख्या में लोग भी जुड़े हैं। इसमें भारत और बांग्लादेश के नागरिक तक शामिल हैं। ये लोगों का सिर कलम करता है, उन्हें दास बनाता है और संगीत और धूम्रपान जैसी "गैर-इस्लामिक" गतिविधियों पर प्रतिबंध की बात करता है। यह इतना क्रूर है कि अल-कायदा भी इसकी गतिविधियों को स्वीकार नहीं करता।इस आतंकी संगठन का उद्देश्य खिलाफत की स्थापना करना है, यानी शरिया या इस्लामिक कानून को लागू करना।आईएसआईएस की स्थापना इराक के अबु बकर अल-बगदादी ने की थी। उसने सबसे पहले इराक में अल-कायदा का नेतृत्व किया। फिर उसने इसे एक प्रभावी और संगठित युद्धक फोर्स में बदल दिया। इस संगठन ने अप्रैल 2013 में अपना नाम बदला था। इसने संकेत दिया कि यह इराक और सीरिया में खिलाफत की स्थापना करेगा। रूस का ऐसा मानना है कि मई 2017 में उसके हवाई हमलों में अल-बगदादी मारा गया है। हालांकि इसकी कभी पुष्टि नहीं हो पाई। समूह के बाहरी संचालन के निदेशक अबू मुहम्मद अल-अदनानी एफबीआई की मोस्ट वांटेड आतंकियों की लिस्ट में शामिल है। इसमें उसे एक ऐसा व्यक्ति बताया गया है, जो पश्चिम को नुकसान पहुंचाना चाहता है।आतंकवाद रोधी अधिकारियों ने कहा है कि अल-अदनानी ने नवंबर 2015 में घातक पेरिस आतंकवादी हमलों को "हरी झंडी" दिखाई थी यानी इनकी मंजूरी दी थी, जिसमें 130 लोग मारे गए थे।आईएसआईएस जमीन पर लड़ाई के लिए महिलाओं की भर्ती नहीं करता है। लेकिन फिर भी इसमें दुनियाभर से हजारों महिलाओं की भर्ती हुई है। इसके लिए सोशल मीडिया का सहारा लिया जाता है। कट्टर सोच रखने वाली महिलाओं से वादा किया जाता है कि उन्हें बड़े से बड़े जिहादी पति मिलेंगे।

Sri Lanka Crisis: श्रीलंका में 44 साल बाद जनता नहीं संसद चुनेगी देश का राष्ट्रपति, 20 जुलाई को होगा फैसला

श्रीलंकामें44सालबादजनतानहींसंसदचुनेगीदेशकाराष्ट्रपति20जुलाईकोहोगाफैसलापूंजी जुटाने के लिए विदेशी बांड बाजार में लंबे समय बाद फि‍र उतरा केनरा बैंक, जुटाएगा 40 करोड़ डॉलर****** सार्वजनिक क्षेत्र के केनरा बैंक ने 40 करोड़ डॉलर जुटाने के लिए अंतरराष्ट्रीय बांड बाजार में प्रवेश किया है। यह बैंक के मध्यम अवधि के नोट (एमटीएन) के जरिये दो अरब डॉलर जुटाने की उसकी योजना का हिस्सा है।बैंकिंग सूत्रों ने इसकी जानकारी दी। उन्होंने कहा, केनरा बैंक पांच वर्ष की अवधि के डॉलर बांड जारी कर अंतरराष्ट्रीय ऋण बाजार में उतरा है। बैंक द्वारा जारी बांड की बिक्री कर 40 करोड़ डॉलर जुटाने की संभावना है। इन्हें बैंक की लंदन शाखा से जारी किया जाएगा तथा सिंगापुर शेयर बाजार में सूचीबद्ध किया जाएगा।केनरा बैंक ने लंबे समय के बाद विदेशी ऋण बाजार में कदम रखा है। रेटिंग एजेंसी मूडीज ने बैंक के जारी बांड को बीएए3 रेटिंग दी है। मूडीज ने सूचित किया है कि प्रस्तावित बांड बैंक के दो अरब डॉलर के एमटीएन कार्यक्रम का हिस्सा है। एक अन्य रेटिंग एजेंसी फिच रेटिंग ने भी इस बांड को बीबीबी रेटिंग दी है। उल्लेखनीय है कि केनरा बैंक द्वारा राशि जुटाने का यह अब तक का दूसरा प्रयास है।श्रीलंकामें44सालबादजनतानहींसंसदचुनेगीदेशकाराष्ट्रपति20जुलाईकोहोगाफैसलाUP News: 5 घंटे की सर्जरी के बाद बोल उठा हादसे में अपनी आवाज़ गंवाने वाला युवक, डॉक्टर भी हैरान******Highlights डॉक्टरों को धरती पर भगवान की उपाधि दी गई है, कहा जाता है कि डॉक्टर बेहतर हो तो वह मरणासन्न में पहुंचे मरीज को भी उठा सकता है। कुछ इसी तरह का कारनामा यूपी की राजधानी लखनऊ के डॉक्टरों ने कर दिखाया। दरअसल, उत्तर प्रदेश के सीतापुर जिले में 28 वर्षीय एक युवक की आवाज एक हादसे के चलते चली गई थी। सभी को लगा कि वह जीवन भर बिना आवाज के रहेगा, लेकिन डॉक्टरों ने ऐसा होने नहीं दिया। डॉक्टरों ने उसकी 5 घंटे तक सर्जरी की। सर्जरी के 10 दिनों के भीतर उसकी आवाज वापस आ गई, जिसकी किसी को उम्मीद नहीं थी। दरअसल, 27 जुलाई को एक दुर्घटना में युवक की अन्नप्रणाली, श्वासनली और वोकल कॉर्ड कट गया था। उसे लखनऊ के किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी ले जाया गया, जहां सर्जनों ने पांच घंटे लंबी सटीक सर्जरी की। कटे हुए हिस्सों की मरम्मत की और उनकी स्वर-झिल्ली (वोकल कॉर्ड) को ठीक किया।हालांकि, डॉक्टरों का मानना था कि युवक की आवाज वापस आने की संभावना बेहद कम है, लेकिन आवाज वापस आने पर सभी ने खुशी जताई। थोरैसिक सर्जरी विभाग के प्रमुख डॉ. शैलेंद्र यादव के अनुसार, यह मामला दुर्लभ नहीं था, लेकिन इस तरह का मामला, जहां एक व्यक्ति अन्नप्रणाली और श्वासनली कटे होने के बावजूद जीवित रहा, ऐसा कभी नहीं सुना गया। बाइक चलाते समय सड़क के बीच में आए एक जानवर को बचाने में बाइक एक खेत के कंटीले तार वाले बाड़ से टकरा गई, जिस वजह से युवक के गले की यह हालत हुई। यादवेंद्र ने कहा, "हमें यकीन नहीं था कि यह युवक भविष्य में बोलेगा, लेकिन सौभाग्य से उसकी आवाज भी लौट आई है।" केजीएमयू के कुलपति लेफ्टिनेंट जनरल प्रोफेसर बिपिन पुरी ने टीम को बधाई दी है।एक तरफ जहां लखनऊ में डॉक्टरों ने कमाल कर दिया, वहीं झारखंड में डॉक्टर मोबाइल की फ्लैश लाइट में इलाज कर रहे हैं। ऐसा ही अव्यवस्था और लापहरवाही का मामला झारखंड के हजारीबाग जिले से सामने आया है। खबर है कि यहां के एक अस्पताल में एक व्यक्ति का इलाज मोबाइल की टार्च की रोशनी में किया गया। इलाज करते हुए वीडियो अब सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रही है। जिसमें दिखाया गया है कि हजारीबाग मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल (एचएमसीएच) में बिजली कटौती के बाद बिजली की चपेट में आए एक व्यक्ति का कथित तौर पर मोबाइल फोन की टॉर्च की रोशनी में किया गया।यह वीडियो हजारीबाग मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल का बताया जा रहा है। वीडियो वायरल होने के बाद अब प्रशासन जांच की बात कह रहा है। हालांकि अस्पताल प्रशासन ने इस आरोप से इनकार किया है कि मरीज का मोबाइल फोन की टॉर्च की रोशनी में इलाज किया जा रहा था। अस्पताल प्रशासन ने इसे झूठा करार दिया।

Sri Lanka Crisis: श्रीलंका में 44 साल बाद जनता नहीं संसद चुनेगी देश का राष्ट्रपति, 20 जुलाई को होगा फैसला

श्रीलंकामें44सालबादजनतानहींसंसदचुनेगीदेशकाराष्ट्रपति20जुलाईकोहोगाफैसलाबंगाल के वित्त मंत्री ने कहा- मोदी सरकार के शासन में 2014 से 2020 के बीच 35,000 भारतीय उद्यमियों ने देश छोड़******बंगाल के वित्त मंत्री ने कहा- मोदी सरकार के शासन में 35000 भारतीय उद्यमियों ने देश छोड़ाकोलकाता: पश्चिम बंगाल के वित्त मंत्री अमित मित्रा ने बृहस्पतिवार को तीन अलग-अलग अध्ययनों का हवाला देते हुए दावा किया कि नरेंद्र मोदी सरकार के कार्यकाल के दौरान 2014 से 2020 के बीच उच्च नेटवर्थ वाले 35,000 भारतीय उद्यमियों ने देश छोड़ दिया। उन्होंने आश्चर्य व्यक्त करते हुए कहा कि क्या यह "भय की मनोवृति" के कारण हुआ।उन्होंने मांग की कि प्रधानमंत्री मोदी "अपने शासन के दौरान भारतीय उद्यमियों के भारी पलायन" पर संसद में एक श्वेत पत्र पेश करें। मित्रा ने ट्विटर पर लिखा, "मोदी सरकार के तहत उच्च नेटवर्थ वाले 35,000 भारतीय उद्यमियों ने 2014-2020 के बीच अप्रवासी भारतीयों/आव्रजकों के रूप में भारत छोड़ दिया। भारत दुनिया में पलायन में शीर्ष पर है। क्यों? क्या इसका कारण 'भय की मनोवृति' है??"उन्होंने कहा, "प्रधानमंत्री को अपने शासन के दौरान भारतीय उद्यमियों के बड़े पैमाने पर पलायन पर संसद में श्वेत पत्र पेश करना चाहिए।" मित्रा ने एक अध्ययन का हवाला देते हुए दावा किया कि 2014-18 की अवधि के दौरान उच्च नेटवर्थ वाले 23,000 उद्यमियों ने भारत छोड़ दिया, जो दुनिया में सबसे खराब आंकड़ा है।उन्होंने ट्वीट किया, "2014-2018 में, उच्च संपत्ति मूल्य वाले 23,000 उद्यमियों ने भारत (मॉर्गन स्टेनली की रिपोर्ट) छोड़ दिया, जो दुनिया में सबसे खराब आंकड़ा है। 2019 में 7,000 ने (एफ्रएशिया बैंक) भारत छोड़ दिया जबकि 2020 में 5,000 ने (जीडब्ल्यूएम रिव्यू) भारत छोड़ दिया।"वित्त मंत्री ने लिखा, "पीयूष गोयल द्वारा भारतीय व्ययवसायों के खिलाफ 19 मिनट के विषवमन को याद करें, जिसमें उन्होंने कथित रूप से कहा था कि भारतीय उद्योग के कामकाज के तरीके राष्ट्रीय हित के खिलाफ हैं क्या यह 'भय की मनोवृति' पैदा कर ,पलायन को बढ़ावा दे रहा है? लेकिन प्रधानमंत्री ने गोयल को फटकार नहीं लगायी क्यों?"

श्रीलंकामें44सालबादजनतानहींसंसदचुनेगीदेशकाराष्ट्रपति20जुलाईकोहोगाफैसलामहाराष्‍ट्र में पेट्रोल-डीजल 1 रुपए लीटर हुआ महंगा, अजीत पवार ने पेश किया 1.15 लाख करोड़ रुपए का बजट******Petrol, diesel will be costlier by Re 1 per litre in Maharashtra, Finance Minister Ajit Pawarमहाराष्‍ट्र में महा विकास अघाड़ी सरकार का पहला आम बजट शुक्रवार को पेश किया गया है। राज्‍य के उपमुख्‍यमंत्री और वित्‍त मंत्री अजीत पवार ने ईंधन पर वैट बढ़ाने की घोषणा के साथ ही वित्‍त वर्ष 2020-21 के लिए 9,511 करोड़ रुपए के घाटे वाला बजट पेश किया। उन्‍होंने 1,15,000 करोड़ रुपए का बजट पेश किया है। राज्‍य सरकार के लिए राजस्‍व में वृद्धि करने के लिए उन्‍होंने ईंधन पर एक रुपए प्रति लीटर वैट बढ़ाने की घोषणा की है, इसके बाद राज्‍य में पेट्रोल और डीजल की कीमत में 1 अप्रैल से एक रुपए प्रति लीटर की वृद्धि होगी। उन्‍होंने उद्योगों के लिए इलेक्ट्रिसिटी ड्यूटी घटाने का भी ऐलान किया। अपनी सरकार के पहले बजट में कर छूट की भी घोषणा की है। स्‍टाम्‍प ड्यूटी में 1 प्रतिशत की छूट एमएमआरडीए, पुणे, पिंपरी-चिंचवाड़ा और नागपुर नगर पालिका में अगले दो साल तक दी जाएगी। उन्‍होंने इंडस्‍ट्री के लिए इलेक्ट्रिसिटी ड्यूटी को भी 9.3 प्रतिशत से घटाकर 7.5 प्रतिशत करने की घोषणा की।उन्‍होंने किसानों के लिए वन टाइम सेटलमेंट स्‍कीम की भी घोषणा कि, जिन्‍होंने 1 अप्रैल, 2015 से 31 मार्च, 2019 के बीच 2 लाख रुपए से अधिक का कृषि ऋण लिया है। पवार ने कहा कि वित्‍त वर्ष 2019-20 के लिए संशोधित अनुमान के तहत कर राजस्‍व प्राप्‍ती 2,16,824 करोड़ रुपए रहने का अनुमान है।बजट 2020-21 में राजस्‍व प्राप्तियां 3,47,457 करोड़ रुपए रहने का अनुमान है, जबकि राजस्‍व खर्च 3,56,968 करोड़ रुपए का अनुमान है। इसके परिणामस्‍वरूप राजस्‍व घाटा 9511 करोड़ रुपए रहेगा।श्रीलंकामें44सालबादजनतानहींसंसदचुनेगीदेशकाराष्ट्रपति20जुलाईकोहोगाफैसलाराफेल ही नहीं, भारतीय सेना के टैंकों से भी खौफजदा है 'ड्रैगन'! तैयारी देख रहता है बेचैन****** पिछले साल गलवान में ने चीनी पीएलए को सबक सिखाया था। तब से अबतक 'ड्रैगन' एकबार फिर मुड़कर LAC के इस तरफ देखने से परहेज कर रहा है। हालांकि 'ड्रैगन' के गंदे मंसूबे से भारत की फौज पूरी तरह से वाकिफ है, इसलिए सेना हर समय चीनी पीएलए को सबक सिखाने के लिए तैयार बैठी है। आसमान में जहां भारतीय वायुसेना हर टाइम हाई अलर्ट पर है तो वहीं लद्दाख के पहाड़ों में भारतीय सेना अपने टैंकों और मॉडर्न मशीन के साथ हर वक्त एक्टिव नजर आती है। इसी वजह से चीन न बेचैन है बल्कि घबराया हुआ भी है।लद्दाख में टैंकों को तैनात किए हुए भारतीय सेना को एक साल से ज्यादा का समय हो चुका है और इस दौरान भारतीय सेना की बख़्तरबंद रेजीमेंटों ने इस क्षेत्र में 14,000 फीट से 17,000 फीट तक की ऊंचाई पर अपनी मशीनों का अधिक प्रभावी ढंग से उपयोग करने के लिए अपनी मानक संचालन प्रक्रियाओं को विकसित किया है।भारतीय सेना ने पिछले साल 'ऑपरेशन स्नो लेपर्ड' की शुरुआत के साथ रेगिस्तान और मैदानी इलाकों से बड़े पैमाने पर टी-90 भीष्म (T-90 Bhishma) और टी-72 अजय टैंकों (T-72 Ajay tanks) के साथ-साथ BMP सीरीज इन्फैंट्री कॉम्बैट व्हीकल्स को लद्दाख के ऊंचाई वाले स्थानों पर लाना शुरू किया। भारतीय सेना के एक अधिकारी ने न्यूज एजेंसी ANI को बताया, "हम पूर्वी लद्दाख में इन ऊंचाइयों पर -45 डिग्री तक तापमान का अनुभव करते हुए एक साल पहले ही बिता चुके हैं। हमने इन तापमानों और कठोर इलाकों में टैंकों को संचालित करने के लिए अपने एसओपी विकसित किए हैं।"आपको बता दें कि पैंगोंग झील (Pangong lake) और गोगरा ऊंचाई (Gogra heights) जैसे दोनों सेनाओं के सहमति से हटने के बावजूद, दोनों पक्षों ने वास्तविक नियंत्रण रेखा पर बड़ी संख्या में सैनिकों को बनाए रखना जारी रखा है। भारतीय सेना ने भी इन क्षेत्रों में टैंकों और इन्फैंट्री कॉम्बैट व्हीकल्स के साथ अपने अभियानों को मजबूत करना जारी रखा है ताकि इन ऊंचाइयों पर किसी भी खतरे या चुनौती से निपटा जा सके। न्यूज एजेंसी ANI ने ऐसी ही एक टैंक रेजिमेंट को चीन सीमा से मुश्किल से 40 किलोमीटर दूर एक स्थान पर ऊंचाई वाले क्षेत्र में टैंक युद्धाभ्यास करते हुए देखा।भारतीय सेना के अधिकारी ने बताया कि अब इन टैंकों के रखरखाव पर जोर दिया जा रहा है क्योंकि अत्यधिक सर्दियां रबर और अन्य भागों पर प्रभाव डाल सकती हैं। अगर हम इन टैंकों को अच्छी तरह से बनाए रख सकते हैं, तो हम इन्हें यहां बहुत लंबे समय तक इस्तेमाल कर सकते हैं। बता दें कि मई 2020 में पूर्वी लद्दाख में फिंगर क्षेत्र और गलवान घाटी जैसे स्थानों पर चीन के आक्रामक रूप को देखने के बाद भारतीय सेना ने बड़ी संख्या में सैनिकों और मशीनों को यहां तैनात करना शुरू किया था। पिछले साल गलवान में हिंसा के अलावा पैंगोंगे झील के उत्तरी इलाके में भी तनाव उस समय बहुत ज्यादा बढ़ गया था जब दोनों से तरफ से हवा में गोलियां चलाई गईं और भारतीय फौज ने चीन की नाक के ठीक नीचे से महत्वपूर्ण ऊंचाई वाले स्थानों पर कब्जा कर लिया।

श्रीलंकामें44सालबादजनतानहींसंसदचुनेगीदेशकाराष्ट्रपति20जुलाईकोहोगाफैसलाकोविड-19: चीन ने म्यामां की सीमा से लगे शहर में लॉकडाउन लगाया****** म्यामां की सीमा से लगे चीनी शहर रूइली में बड़े पैमाने पर की गई कोविड-19 की जांच में संक्रमण के नौ और मामले पाए जाने पर वहां लागू कर दिया गया है। युन्नान प्रांत के इस शहर में नौ नये मामले सामने आने के साथ सप्ताह भर में कुल 59 मामले सामने आ चुके हैं, जिनमें कोविड-19 के के मामले भी शामिल हैं। वहीं, म्यामां में पिछले 24 घंटे में 3,461 नये मामले सामने आए हैं और 82 संक्रमितों की मौत हो गई है। ने कहा कि वह उइगुर समुदाय और अन्य मुस्लिम जातीय अल्पसंख्यकों के साथ दुर्व्यवहार में कथित भूमिका को लेकर चीनी कंपनियों को काली सूची में डालने की अमेरिका की कार्रवाई का जवाब देने के लिए ‘‘जरूरी कदम’’ उठाएगा। चीन के वाणिज्य मंत्रालय ने कहा कि अमेरिका का यह कदम ‘‘चीनी उद्यमों का अनुचित दमन और अंतरराष्ट्रीय आर्थिक एवं व्यापार नियमों का गंभीर उल्लंघन है।’’मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि चीन ‘‘चीनी कंपनियों के वैध अधिकारों और हितों की रक्षा के लिए जरूरी कदम उठाएगा।’’ चीन ने अपने सुदूर पश्चिमी क्षेत्र शिनजियांग में उइगुर समुदाय को लोगों को मनमाने ढंग से हिरासत में रखे जाने और उनसे जबरन श्रम कराने के आरोपों का खंडन किया है। साथ ही उसने अपनी कंपनियों और अधिकारियों के खिलाफ लगाई गई पाबंदियों के जवाब में वीजा एवं वित्तीय संबंधों पर प्रतिबंध लगाने शुरू कर दिए हैं।गौरतलब है कि अमेरिकी वाणिज्य विभाग ने शुक्रवार को एक बयान में कहा था कि इलेक्ट्रॉनिक और प्रौद्योगिकी कंपनियों एवं अन्य व्यापार इकाइयों ने शिनजियांग में मुस्लिम अल्पसंख्यकों के खिलाफ "चीन सरकार के दमन, सामूहिक हिरासत और उच्च-प्रौद्योगिकी निगरानी के अभियान" को सक्षम करने में मदद की है। इन प्रतिबंधों के तहत अमेरिकी इन चीनी कंपनियों को उपकरण या अन्य सामान नहीं बेच सकते।श्रीलंकामें44सालबादजनतानहींसंसदचुनेगीदेशकाराष्ट्रपति20जुलाईकोहोगाफैसलाBullet Train Under Sea: भारत में समुद्र के नीचे दौड़ेगी बुलेट ट्रेन, जानें कैसे इंजीनियर करने जा रहे यह बड़ा कमाल******Highlightsदुनिया में टेक्नॉलोजी के क्षेत्र में नये-नये आयाम गढ़ रहा भारत एक और बड़ा कमाल करने जा रहा है। अहमदाबाद से मुंबई के लिए देश की पहली बुलेट ट्रेन का सपना साकार होने में एक दो वर्षों का समय और लगेगा। मगर इस ट्रेन के रास्ते में 21 किलोमीटर तक का समुद्र बाधा बन रहा है। हालांकि अब इंजीनियरों ने इसका तोड़ खोज लिया है। समुद्र के अंदर 21 किलोमीटर लंबी सुरंग बुलेट ट्रेन के लिए तैयार की जाएगी। उसके बाद देश की पहली बुलेट ट्रेन समुद्र के अंदर से होकर गुजरेगी। यह अपने आप में काफी कौतूहल भरा देश के लिए उपलब्धि भरा सफर होगा।भारतीय वैज्ञानिकों ने मुंबई के समुद्र में 21 किलोमीटर सुरंग बनाने की प्रक्रिया का खाका तैयार करना अभी से शुरू कर दिया है। इस सुरंग का सात किलोमीटर तक का हिस्सा बिल्कुल समुद्र के नीचे होगा। समुद्र के अंदर बनाई जाने वाली यह देश की पहली रेल सुरंग होगी।भारतीय रेल मंत्रालय के मुताबिक यह सुरंग बांद्रा-कुर्ला और शिलफाटा के स्टेशनों के बीच बनाई जाएगी। हाई स्पीड रेल कोरिडोर योजना के तहत इस योजना को मंत्रालय ने हरी झंडी दे दी है। इसे ट्यूबनुमा बनाया जाएगा। जो बेहद मजबूत और पारदर्शी होगी। यानि यात्री समुद्री सुरंग से गुजरते वक्त रोमांचक सफर का पूरा अनुभव कर सकेंगे। यह देश का सबसे रोमांचकारी सफर होगा। भारतीय इंजीनियरों समेत अन्य विदेशी इंजीनियरों की भी इस प्रोजेक्ट में मदद ली जा सकती है।समुद्र के अंदर बुलेट ट्रेन के लिए बनने वाली इस सुरंग का व्यास 13.1 मीटर होगा। इसके अंदर उपकरणों के संचालन के लिए 37 स्थानों पर 39 छोटे-छोटे कमरे भी बनाए जाएंगे। इसमें आने-जाने के लिए ट्रैक भी होगा। ट्यूब सुरंग बनाने में कटर हेड वाले टीबीएम का इस्तेमाल किया जाएगा। 16 किलोमीटर में सुरंग में तीन टनल बोरिंग मशीनें लगेंगी। अन्य पांच किलोमीटर के लिए आस्ट्रेलिया की टनिलिंग प्रणाली का इस्तेमाल किया जाएगा। नेशनल हाई स्पीड रेलवे कार्पोरेशन लिमिटेड की ओर से सुरंग बनाने के लिए टेंडर भी जारी कर दिया गया है।अहमदाबाद से मुंबई के बीच चलाई जाने वाली यह बुलेट ट्रेन 508 किलोमीटर की दूरी करीब डेढ़ घंटे में तय करेगी। ऐसे में मुंबई से अहमदाबाद पहुंचना बेहद आसान हो जाएगा। यानि मुंबई और अहमदाबाद के लोग इस ट्रेन के जरिये एक दूसरे शहर में ड्यूटी करके आराम से वापस भी लौट सकेंगे। इसका किराया अभी तय नहीं किया गया है। हालांकि हवाई जहाज के किराए के आसपास इसका भी किराया होने की उम्मीद व्यक्त की जा रही है। यह भारत की पहली हाई स्पीड बुलेट ट्रेन होगी।वर्ष 2014 में जब पीएम मोदी पहली बार देश के प्रधानमंत्री बने थे, तभी उन्होंने देश को बुलेट ट्रेन का सपना दिखाया था। यह बात अलग है कि लोगों की उम्मीद के मुताबिक समय में बुलेट ट्रेन नहीं चलाई जा सकी। मगर अब जल्द ही भारत में बुलेट ट्रेन का सपना साकार होने जा रहा है। इसके लिए हाई स्पीड रेल पटरी भी तैयार की जा रही है। इस रेल ट्रैक पर बुलेट ट्रेन हवा से बातें करेगी।

श्रीलंकामें44सालबादजनतानहींसंसदचुनेगीदेशकाराष्ट्रपति20जुलाईकोहोगाफैसलाजरूरत से ज्यादा 2000 रुपए के नोटों की सप्लाई के बाद सरकार ने रोकी इनकी छपाई, ज्यादा छप रहे हैं 500 के नोट******Government stop printing Rs 2000 notes as they already excess in supply अर्थव्यवस्था में के नोटों की जरूरत से ज्यादा सप्लाई होने के बाद अब सरकार ने इनकी छपाई रोक दी है और के नोटों की ज्यादा सप्लाई हो रही है। रविवार को आर्थिक मामलों के ने यह जानकारी दी। सुभाष चंद्र गर्ग ने बताया कि मौजूदा समय में 2000 रुपए के 7 लाख रुपए से ज्यादा की कीमत के नोट सर्कुलेशन में हैं जो जरूरत से ज्यादा है, ऐसे में नए 2000 रुपए के नोट जारी नहीं हो रहे हैं।सुभाष चंद्र गर्ग ने बताया कि लोग ट्रांजेक्शन के लिए ज्यादातर 500, 200 और 100 रुपए के नोटों का इस्तेमाल करते हैं जबकि 2000 रुपए के नोटों के इस्तेमाल को सुगम नहीं समझते। ऐसे में सरकार छोटे नोटों की छपाई पर ज्यादा ध्यान दे रही है। उन्होंने बताया कि रोजाना 500 रुपए के लगभग 3000 करोड़ रुपए की कीमत के नोट सप्लाई किए जा रहे हैं जो मांग से कहीं ज्यादा हैं।ATM मशीनों में कैश की किल्लत पर उन्होंने बताया कि पिछले हफ्ते ही इसका जायजा लिया गया था और देश के लगभग 85 प्रतिशत ATM काम करते पाए गए थे, उन्होंने बताया कि मौजूदा समय में कैश की स्थिति काफी बेहतर है।श्रीलंकामें44सालबादजनतानहींसंसदचुनेगीदेशकाराष्ट्रपति20जुलाईकोहोगाफैसलाहरियाणा चुनाव: पार्टियों के लिए नाक का सवाल बनीं ये VIP सीटें, इन पर हैं सभी की नजरें****** हरियाणा में सभी सीटों पर प्रत्याशियों की स्थिति साफ होने के बाद से यूं तो चुनावी सरगर्मी बढ़ चुकी है, मगर सूबे का सियासी पारा प्रधानमंत्री की 14 अक्टूबर से शुरू होने वाली ताबड़तोड़ रैलियों से चढ़ेगा, ऐसा समझा जाता है। बहरहाल, राजनीतिक विश्लेषकों के साथ ही आम जनता की नजरें उन वीआईपी सीटों पर हैं, जहां से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा), कांग्रेस, इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलो) और जननायक जनता पार्टी (जजपा) के दिग्गज ताल ठोक रहे हैं। हरियाणा में 21 अक्टूबर को मतदान होगा और 24 अक्टूबर को मतगणना के बाद नतीजे आएंगे।मुख्यमंत्री से जुड़ी होने के कारण करनाल 'वीवीआईपी सीट' है। कांग्रेस ने इस बार यहां से त्रिभुवन सिंह को खड़ा किया है। पिछले चुनाव में यहां इनेलो तीसरे और कांग्रेस चौथे स्थान पर थी। जबकि दूसरे नंबर पर रहे निर्दलीय प्रत्याशी को खट्टर ने 63 हजार से अधिक मतों से हराया था।ऐसी ही एक और सीट है 'गढ़ी-सांपला-किलोई'। यहां से एक बार फिर दो बार मुख्यमंत्री रह चुके भूपेंद्र सिंह हुड्डा कांग्रेस की ओर से लड़ रहे हैं। भाजपा ने उनके खिलाफ सतीश नांदल को खड़ा किया है। सतीश नांदल पहले इनेलो में थे और 2009 में वह इसी सीट से हुड्डा के खिलाफ चुनाव लड़ चुके हैं।इसके साथ ही एलनाबाद सीट पर भी सभी की निगाहें टिकी हैं। वजह यह कि पार्टी के दो खंड होने के बाद अब इनेलो नेता अभय चौटाला के सामने जीत दर्ज कर राजनीतिक वर्चस्व कायम रखने की चुनौती है। कांग्रेस के राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी रणदीप सिंह सुरजेवाला की कैथल सीट पर भी सभी की नजरें हैं। में राजनीतिक हस्तियों के अलावा मैदान में उतरे सेलिब्रिटी वर्ग को लेकर भी लोगों में उत्सुकता है। भाजपा ने इस चुनाव में कई सितारों को चुनाव मैदान में उतारा है। अंतर्राष्ट्रीय पहलवान बबीता फोगाट दादरी से चुनाव लड़ रही हैं, वहीं ओलंपियन योगेश्वर दत्त सोनीपत की बरौदा सीट से मैदान में हैं। भारतीय हॉकी टीम के पूर्व कप्तान संदीप सिंह भी पिहोवा से चुनाव लड़ रहे हैं। आदमपुर से भाजपा ने एक्ट्रेस और टिक-टॉक स्टार सोनाली फोगाट को चुनाव मैदान में उतारा है। इन सीटों पर भी सभी की निगाहें टिकी हैं।चुनाव में मंत्रियों के सामने भी बड़ी चुनौती है। खट्टर सरकार के दो मंत्रियों को छोड़ अन्य सभी चुनावी मैदान में हैं। उद्योग मंत्री विपुल गोयल को फरीदाबाद और लोक निर्माण मंत्री राव नरबीर सिंह को बादशाहपुर सीट से पार्टी ने इस बार चुनाव नहीं लड़ाया है। जबकि अन्य सभी मंत्री फिर से ताल ठोक रहे हैं। इन मंत्रियों के सामने और बड़ी जीत दर्ज कर पार्टी में अपना कद बढ़ाने की चुनौती है। अपने बयानों से सुर्खियों में रहने वाले स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज अंबाला कैंट से लड़ रहे हैं। सोनीपत से कविता जैन मैदान में हैं, जबकि शिक्षा मंत्री रामबिलास शर्मा महेंद्रगढ़ से ताल ठोक रहे हैं।

हाल का ध्यान

लिंक