वर्तमान पद:मुखपृष्ठ > बाओटौ > मूलपाठ

2019 में सूचीबद्ध होने वाली अधिकांश कंपनियों के शेयर हैं फायदे में, निवेशकों को मिला 21% तक का रिटर्न

2022-10-04 16:45:09 बाओटौ

मेंसूचीबद्धहोनेवालीअधिकांशकंपनियोंकेशेयरहैंफायदेमेंनिवेशकोंकोमिला21तककारिटर्नकोरोना के वजह से भारतीय परिवारों की बचत में आई गिरावट: सर्वे******कोरोना की वजह से लोगों की बचत में गिरावटनई दिल्ली। कोविड-19 महामारी की वजह से भारतीय परिवारों की बचत में गिरावट देखने को मिली है। एक सर्वे में बड़ी संख्या में उपभोक्ताओं ने कहा है कि महामारी की वजह से उनकी बचत कम हुई है। सर्वे में कहा गया है कि नौकरी छूटने, वेतन में कटौती या फिर वेतन के भुगतान में देरी जैसी वजहों से परिवारों की बचत पर बुरा असर देखने को मिला है।लोकलसर्किल्स के उपभोक्ताओं के रुख पर छमाही सर्वे में कहा गया है कि महामारी के अब नौ माह हो गए हैं। बड़ी संख्या में उपभोक्ता रोजगार गंवाने और वेतन कटौती की वजह से अपनी वित्तीय स्थिति में आई गिरावट से अब तक उबर नहीं पाए हैं। सर्वे में शामिल 8,240 लोगों में से 68 प्रतिशत ने कहा कि कोविड-19 महामारी की वजह से पिछले आठ माह में उनकी बचत घटी है। यह सर्वे त्योहारी सीजन के दौरान उपभोक्ताओं के खर्च के रुख, अगले चार माह के लिए खर्च की योजना, परिवार की आमदनी को लेकर उम्मीद तथा मार्च तक बचत की स्थिति के आकलन के लिए किया गया है।सर्वे पर देश के 302 जिलों से करीब 44,000 प्रतिक्रियाएं मिलीं। इसमें 62 प्रतिशत पुरुष और 38 प्रतिशत महिलाएं शामिल हैं। सर्वे में शामिल लोगों में से 55 प्रतिशत पहली श्रेणी के शहरों से है। 26 प्रतिशत दूसरी श्रेणी और 19 प्रतिशत तीसरी और चौथी श्रेणी के शहरों या ग्रामीण जिलों से हैं। हालांकि सर्वे के अनुसार, आने वाले 4 महीने में लोग जरूरी उत्पादों से आगे निकल कर अन्य उत्पादों की खरीद भी करेंगे। करीब 50 प्रतिशत लोगों ने कहा कि वे अगले चार माह के दौरान विवेकाधीन उत्पाद या संपत्तियां खरीदने पर खर्च करेंगे, यानि ऐसे उत्पाद जो घर चलाने के लिए जरूरी उत्पादों के अलावा हों। सर्वे में शामिल करीब 10 प्रतिशत लोगों का कहना था कि अगले चार माह में उनकी विवेकाधीन खरीद पर 50,000 रुपये से अधिक खर्च करने की योजना है। वहीं 21 प्रतिशत ने कहा कि इस अवधि में वे 10,000 से 50,000 रुपये खर्च करेंगे।

मेंसूचीबद्धहोनेवालीअधिकांशकंपनियोंकेशेयरहैंफायदेमेंनिवेशकोंकोमिला21तककारिटर्नKerala News: केरल के वायनाड में ‘अफ्रीकी स्वाइन बुखार’ ने दी दस्तक, सरकार मारेगी 300 सूअर******Highlights अफ्रीकन स्वाइन फीवर (एक अत्यधिक संक्रामक और घातक पशु रोग है, जो घरेलू तथा जंगली सूअरों को संक्रमित करता है। इसके संक्रमण से सूअर एक प्रकार के तेज रक्त बहाव वाले बुखार (Hemorrhagic Fever) से पीड़ित होते हैं। केरल के वायनाड में शुक्रवार को दो फार्म में ‘अफ्रीकी स्वाइन बुखार’ के हाने का मामला सामने आया है। केरल में इसकी सूचना मिलते ही कुछ घंटों बाद जिला अधिकारियों ने कम से कम 300 सूअर मारने के लिए कदम उठाए। भोपाल के 'नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हाई सिक्योरिटी एनिमल डिजीज' में नमूनों की जांच के बाद इसकी पुष्टि हुई। राज्य में ‘अफ्रीकी स्वाइन बुखार’ के मामले होने और संक्रमण की पुष्टि खुद केरल के पशुपालन मंत्री जे चिंचू रानी ने की।मंत्री ने सूअर फार्म को स्वाइन बुखार से संबंधित कार्ययोजना के तहत बायोसेफ्टी और वेस्ट डिस्पोजल सिस्टम को सख्ती से लागू करने का निर्देश दिया। केरल के वायनाड जिले के मानन्थावाद्य स्थित दो पशुपालन केंद्रों में ‘अफ्रीकी स्वाइन बुखार’ (ASF) के मामले सामने आए हैं। अधिकारियों ने शुक्रवार को बताया कि भोपाल स्थित 'नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हाई सिक्योरिटी एनिमल डिजीज' में नमूनों की जांच के बाद जिले के दो पशुपालन केंद्र के कई सूअरों में इस बीमारी की पुष्टि हुई। पशुपालन विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि एक केंद्र में कई सूअरों की मौत के बाद नमूने जांच के लिए भेजे गए थे। अधिकारी ने कहा, ‘‘अब उसके परिणाम में इस बुखार की पुष्टि हुई है। दूसरे केंद्र में 300 सूअर को मारने के निर्देश दिए गए हैं।’’पशुपालन विभाग ने कहा कि इस बीमारी को फैलने से रोकने के लिए कदम उठाए जा रहे हैं। राज्य ने इस महीने की शुरुआत में केंद्र सरकार के आगाह करने के बाद बायोसेफ्टी उपायों को कड़ा कर दिया था। केंद्र सरकार ने बताया था कि बिहार और कुछ पूर्वोत्तर राज्यों में ‘अफ्रीकी स्वाइन बुखार’ के मामले सामने आए हैं। ‘अफ्रीकी स्वाइन बुखार’ बेहद संक्रामक और घातक बीमारी है। इस बीमारी का सबसे पहला केस वर्ष 1921 में केन्या में मिला था। इसके थोड़े ही दिन बाद यह बीमारी दक्षिण अफ्रीका और अंगोला में पाई गई, जिससे कई सूअर की मौत हो गई।मेंसूचीबद्धहोनेवालीअधिकांशकंपनियोंकेशेयरहैंफायदेमेंनिवेशकोंकोमिला21तककारिटर्नRahu Nakshatra Transit 2022: राहु का नक्षत्र परिवर्तन खोलेगा इन 3 राशियों की किस्मत, जानिए क्या पड़ेगा प्रभाव******Highlightsराहु ग्रह 14 जून को नक्षत्र परिवर्तन करने जा रहा है। ज्‍योतिष के अनुसार, इन दिनों राहु मेष राशि और कृत्तिका नक्षत्र में विराजमान है। इस राशि के स्वामी मंगल ग्रह है। जबकि मेष राशि में शुक्र ग्रह भी विराजमान है। ऐसे में राहु और शुक्र की युति सुख प्रदान करने वाली है। इन दोनों ग्रहों के बीच दोस्ती का भाव है।वहीं 14 जून 2022 की सुबह 8 बजकर 15 मिनट में राहु ग्रह भरणी नक्षत्र में प्रवेश करने जा रहा है। इस नक्षत्र के स्वामी शुक्र ग्रह है। ऐसे में राहु के इस नक्षत्र परिवर्तन से इन तीन राशियों को विशेष लाभ मिलने वाला है। आइए जानते हैं।राहु पिछले दो माह से मेष राशि से भ्रमण कर रहे हैं। साथ ही इस राशि में शुक्र ग्रह भी विराजमान है। ऐसे में दोनों ग्रहों के बीच मित्रता होने की वजह से राहु और शुक्र की युति लाभदायक साबित होगी। मेष राशि वाले जातकों के लिए राहु का नक्षत्र परिवर्तन करना किसी चमत्कार से कम साबित नहीं होगा। इस राशि वालों को धन लाभ होगा। अगर आपका धन कहीं अटका हुआ है, तो वह भी आपको वापस मिल सकता है। हर काम में सफलता भी मिलेगी।राहु का नक्षत्र परिवर्तन नौकरी और व्यापार के लिए भी शुभ साबित होगा।वृषभ राशि के स्वामी शुक्र है और राहु भरणी नक्षत्र में प्रवेश करने जा रहा है, जिसके स्वामी भी शुक्र है। ऐसे में राहु और शुक्र के बीच मित्रता का भाव होने की वजह से इस राशि वाले जातकों का समाज में मान-सम्मान बढ़ेगा। साथ ही धन लाभ भी होगा। नौकरी तलाश करने वाले लोगों को इस नक्षत्र परिवर्तन से लाभ मिलने के आसार है।तुला राशि वाले लोगों के लिए भी भरणी का नक्षत्र परिवर्तन लाभकारी साबित होगा। इस राशि वाले अगर कोई बिजनेस शुरू करना चाहते हैं, तो आपके लिए यह सबसे अच्छा समय साबित होगा। घर में सुख-समृद्धि आने के साथ आपको हर काम में सफलता मिलेगी। नौकरी में भी पदोन्नति होगी।

2019 में सूचीबद्ध होने वाली अधिकांश कंपनियों के शेयर हैं फायदे में, निवेशकों को मिला 21% तक का रिटर्न

मेंसूचीबद्धहोनेवालीअधिकांशकंपनियोंकेशेयरहैंफायदेमेंनिवेशकोंकोमिला21तककारिटर्नइंडसइंड बैंक का स्टॉक 37% टूटा, वित्तीय सेहत को लेकर आशंकाओं का असर******stock marketनई दिल्ली। वित्तीय सेहत को लेकर निवेशकों के बीच उपजी आशंकाओं से इंडसइंड बैंक के स्टॉक में आज तेज गिरावट देखने को मिल रही है। स्टॉक साल के नए निचले स्तर तक गिर चुका है। आज के कारोबार में स्टॉक में 37 फीसदी की अधिकतम गिरावट देखने को मिली है। गिरावट के साथ स्टॉक 382.5 के निचले स्तर तक आ गया, जो कि साल का नया निचला स्तर है। दरअसल यस बैंक संकट के साथ ही निजी बैंकों को लेकर निवेशकों का भरोसा हिल गया है, जिसकी वजह से स्टॉक में लगातार गिरावट देखने को मिल रही है।यस बैंक के बाद अब इंडसइंड बैंक की वित्तीय सेहत को लेकर निवेशकों के बीच नई आशंकाएं सामने आ गई हैं। दरअसल कुछ सरकारी संस्थानों और राज्य सरकारों के द्वारा निजी बैंकों से अपना पैसा निकाले जाने की खबरें आई थीं जिसके बाद निजी बैंकों पर दबाव बढ़ गया था। यही वजह है कि इंडसइंड बैंक में पिछले कुछ दिनों से गिरावट जारी थी। इसे देखते हुए मंगलवार को देर रात बैंक को बयान जारी कर कहना पड़ा कि बैंक के वित्तीय सेहत से जुड़ी जो भी नकारात्मक बातें आ रही हैं वो सिर्फ अफवाह है। हालांकि बैंक ने कहा कि कुछ सरकारी संस्थानों ने बैंक से अपना कुछ पैसा निकाला है लेकिन वो कुल जमा का 2 फीसदी से भी कम है।मेंसूचीबद्धहोनेवालीअधिकांशकंपनियोंकेशेयरहैंफायदेमेंनिवेशकोंकोमिला21तककारिटर्नसूर्य को गोचर, इन 5 राशियों को करना पड़ सकता है मुश्किलों का सामना******आचार्य इंदु प्रकाश के अनुसार 14 मार्च को सूर्य की मीन संक्रांति थीयानि सूर्यदेव कुंभ राशि से निकलकर मीन में प्रवेश कर गए हैं। बता दें कि 14 मार्च कोशाम 6 बजकर 4 मिनट पर सूर्यदेव मीन राशि में प्रवेश कर गए हैंऔर 13 अप्रैल की देर रात 2 बजकर 33 मिनट तक मीन राशि में ही गोचर करते रहेगे। सूर्यदेव के मीन संक्रांति के साथ ही मीन खरमास भी प्रारम्भ हो जाता है। बता दें जब-जब सूर्य बृहस्पति की राशि धनु या मीन मे प्रवेश करते हैं तो खरमास आरंभ होते हैं।जानिए आचार्य इंदु प्रकाश से कैसा रहेगा आपकी राशि पर असर।माना जाता है कि सूर्यदेव अपने सात अश्वों यानि घोड़ों के रथ पर सवार होकर ब्रह्माण्ड का भ्रमण करते है जिससे दुनियां गतिमान रहती है। कहते है कि भ्रमण करते हुये घोड़ो को प्यास लगाती है और सूर्यदेव अपने घोड़ों को पानी पिलाने के लिए एक सरोवर पर रुकते है, लेकिन उन्हें ध्यान आता है कि उनके रुक जाने से सृष्टि अस्त-व्यस्त हो जाएगी तभी उन्हें सरोपर पर दो खर यानि गधे दिखाई देते है और सूर्यदेव अपने घोड़ों को आराम देकर गधों को रथ में हाक लेते है, जिससे सूर्य की गति धीमी हो गयी। इसी कारण इस समय को खरमास कहा गया। इस दौरान सूर्यदेव और भगवान विष्णु की पूजा शुभ रहता है। खरमास के दौरान मांगलिक कार्य, विवाह और यज्ञोपवित जैसे शुभ कार्य करना वर्जित माना जाता हैं। लेकिन पूजा-पाठ और दान-पुण्य के लिए यह समय सर्वश्रेष्ठ होता है। इस समय में गरीबों को अन्न दान और वस्त्र दान करना चाहिए। इससे अशुभ ग्रहों का प्रभाव कम होता है। साथ ही यह भी बता दें कि सूर्य की संक्रांति के दौरान पुण्यकाल का बहुत महत्व होता है और आज सूर्य की संक्रांति का पुण्यकाल सुबह 11 बजकर 40 मिनट तक रहेगा। सूर्य की किसी भी संक्रांति में पुण्यकाल के दौरान गोदावरी या अन्य पवित्र नदियों में स्नान-दान का महत्व होता है।सूर्यदेव आपके जन्मपत्रिका के किस स्थान पर गोचर करेंगे और इस गोचर का शुभ फल सुनिश्चित करने के लिए क्या उपाय करने चाहिए।सूर्यदेव ने आपके बारहवें स्थान में गोचर कर रहे है। जन्मपत्रिका में इस स्थान का संबंध शैय्या सुख और व्यय से है। सूर्यदेव के इस गोचर के प्रभाव से आपके जीवन में शैय्या सुख बना रहेगा, लेकिन इस दौरान आपके खर्चों में बढ़ोतरी हो सकती है। लिहाजा शुभ फल सुनिश्चित करने के लिए 13 अप्रैल ता सुबह के समय अपने घर के खिड़की, दरवाजे खोलकर रखने चाहिए।सूर्यदेव ने आपके ग्यारहवें स्थान में गोचर कर रहे है। जन्मपत्रिका में इस स्थान का संबंध आमदनी और कामना पूर्ति से है। सूर्यदेव के इस गोचर के प्रभाव से आपकी आमदनी में बढ़ोतरी होगी। जल्द ही आपकी कोई खास इच्छा भी पूरी हो सकती है। इस शुभ स्थिति का लाभ पाने के लिये रात को सोते समय अपने सिरहाने पर 5 मूली रखकर सोएं और अगले दिन सुबह उठकर उन्हें किसी मन्दिर या धर्मस्थल पर दान कर दें।सूर्यदेव ने आपके दसवें स्थान में गोचर किया है। जन्मपत्रिका में इस स्थान का संबंध आपके करियर और पिता से है। सूर्यदेव के इस गोचर के प्रभाव से आपको करियर में नई कामयाबी मिलेगी। साथ ही आपके पिता की बेहतरी सुनिश्चित होगी। सूर्यदेव की शुभ स्थिति सुनिश्चित करने के लिये अपने सिर पर व्हाइट या ऑफ व्हाइट कलर की टोपी या पगड़ी पहनकर रखें।सूर्यदेव ने आपके नवें स्थान में गोचर किया है। जन्मपत्रिका में इस स्थान का संबंध आपके भाग्य से है। सूर्यदेव के इस गोचर के प्रभाव से आपको किस्मत का साथ पाने में कुछ परेशानी हो सकती है। लिहाजा सूर्यदेव की अशुभ स्थिति से बचने के लिये साथ ही धर्म-कर्म के कामों में अपना सहयोग देते रहें।सूर्यदेव ने आपके आठवें स्थान में गोचर किया है। जन्मपत्रिका में इस स्थान का संबंध आपके स्वास्थ्य से है। सूर्यदेव के इस गोचर के प्रभाव से आपके स्वास्थ्य में कुछ उतार-चढ़ाव हो सकते हैं। सूर्यदेव के शुभ फल सुनिश्चित करने के लिये काली गाय या बड़े भाई की सेवा करें।सूर्यदेव ने आपके सातवें स्थान में गोचर किया है। जन्मपत्रिका में इस स्थान का संबंध सीधे तौर पर जीवनसाथी से है। सूर्यदेव के इस गोचर के प्रभाव से जीवनसाथी के साथ आपके संबंध बहुत अच्छे रहेंगे। आपको अपने हर कार्य में जीवनसाथी का पूरा सहयोग मिलेगा। जीवनसाथी का साथ बनाये रखने के लिये भोजन करते समय अपने भोजन में से एक रोटी निकालकर अपने किसी सहयोगी को या अपने आस-पास मौजूद किसी व्यक्ति को खाने के लिये दें।सूर्यदेव ने आपके छठे स्थान में गोचर किया है। जन्मपत्रिका में इस स्थान का संबंध मित्रों और शत्रुओं से है। सूर्यदेव के इस गोचर के प्रभाव से आपका कोई दोस्त आपसे नाराज हो सकता है। साथ ही अपने विरोधियों के प्रति भी सावधान रहें। दोस्तों के साथ अच्छे संबंध बनाये रखने के लिये और शत्रुओं से बचाव के लिये मन्दिर में गुड़ का दान करें।सूर्यदेव ने आपके पांचवें स्थान में गोचर किया है। जन्मपत्रिका में इस स्थान का संबंध विद्या, गुरु, विवेक, रोमांस और संतान से है। सूर्यदेव के इस गोचर के प्रभाव से विद्या के क्षेत्र में आपकी बढ़ोतरी होगी। साथ ही आपको संतान सुख मिलेगा। वो आपकी हर संभव कार्य में मदद करेंगे। सूर्यदेव की शुभ स्थिति सुनिश्चित करने के लिये पक्षियों को दाना खिलाएं।सूर्यदेव ने आपके चौथे स्थान में गोचर किया है। जन्मपत्रिका में इस स्थान का संबंध भूमि, भवन, वाहन और माता से है। इस दौरान आपको अपने कार्यों में माता से पूरा सहयोग मिलेगा। साथ ही आपको भूमि, भवन और वाहन का लाभ भी मिलेगा। सूर्यदेव के शुभ फल सुनिश्चित करने के लिये किसी जरूरतमंद को भोजन खिलाएं।सूर्यदेव ने आपके तीसरे स्थान में गोचर किया है। जन्मपत्रिका में इस स्थान का संबंध आपके भाई-बहनों और आपकी अभिव्यक्ति से है। सूर्यदेव के इस गोचर के प्रभाव से भाई-बहनों के साथ आपके संबंधों में कुछ खटास आ सकती है। आपके साथ कभी-कभी ऐसी स्थिति बन सकती है कि आप कहना कुछचाहते हैं, लेकिन दूसरा कुछ और ही समझ बैठता है। ऐसी स्थिति से बचने के लिये चींटियों को आटा डाले।सूर्यदेव ने आपके दूसरे स्थान में गोचर किया है। जन्मपत्रिका में इस स्थान का संबंध सीधे-सीधे आपकी आर्थिक स्थिति और धन से है। सूर्यदेव के इस गोचर के प्रभाव से आपको धन लाभ होगा। आपकी आर्थिक स्थिति मजबूत होगी। सूर्यदेव की कृपा पाने के लिये मन्दिर में नारियल तेल की शीशी दान करें।सूर्यदेव ने आपके पहले स्थान, यानी लग्न स्थान में गोचर किया है। जन्मपत्रिका में इस स्थान का संबंध आपके शरीर, प्रेम-संबंध, यश-सम्मान और योग्यता से है। सूर्यदेव के इस गोचर के प्रभाव से आप शारीरिक रूप से स्वस्थ रहेंगे। प्रेम-संबंधों में आपको सफलता मिलेगी। सूर्य के शुभ फल सुनिश्चित करने के लिये सुबह स्नान आदि के बाद सूर्यदेव को जल अर्पित करें।मेंसूचीबद्धहोनेवालीअधिकांशकंपनियोंकेशेयरहैंफायदेमेंनिवेशकोंकोमिला21तककारिटर्नयूपी में शिवसेना अकेले लड़ेगी चुनाव, संजय राउत ने सपा और राकेश टिकैत को लेकर कही ये बात******Highlights उत्तर प्रदेश चुनाव में शिवसेना भी उतर रही हैं। हालांकि, इसके गठबंधन को लेकर कयास लगाए जा रहे थे लेकिन गुरुवार को शिवसेना का बड़ा बयान सामने आया है। जिससे पता चलता है कि पार्टी अकेले ही चुनाव लड़ने का मूड बना ली है। आज शिवसेना के नेता संजय राउत उत्तर प्रदेश दौर पर हैं। किसान नेता राकेश टिकैत से भी मुलाकात करने वाले हैं।शिवसेना ने कहा कि समाजवादी पार्टी (सपा) के साथ वैचारिक मतभेद के चलते यूपी में अकेले ही चुनाव लड़ने का फैसला किया है। शिवसेना सांसद संजय राउत ने गुरुवार को साफ कर दिया कि वह उत्तर प्रदेश में बदलाव देखना चाहते हैं लेकिन वैचारिक मतभेद के चलते समाजवादी पार्टी गठबंधन नहीं कर सकते। शिवसेना उत्तर प्रदेश में किसी भी पार्टी के साथ गठबंधन का हिस्सा नहीं होगी।राउत ने गुरुवार को कहा, मैं पश्चिम यूपी में राकेश टिकैत से मिलने वाला हूं। किसान आंदोलन में राकेश टिकैत को रोते हुए और जीतने के बाद हंसते हुए देखा है। मैं उनसे मिलकर बात करूंगा कि वह क्या चाहते हैं। हम यूपी में चुनाव लड़ेंगे तो हम बात करेंगे। हमें किसानो का आशीर्वाद चाहिए। इसी सिलसिले में संजय राउत पश्चिमी उत्तर प्रदेश के दौरे पर हैं।संजय राउत ने ही बुधवार को कहा था कि शिवसेना उत्तरप्रदेश में 50 से 100 सीटों पर विधानसभा चुनाव का लड़ेगी। इतना ही नहीं सांसद संजय राउत ने यूपी में योगी सरकार में पूर्व मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य और बीजेपी के कुछ और विधायकों के इस्तीफे के बाद अपने बयान में दावा किया था कि यह तो बस शुरूआत है और उत्तर प्रदेश की राजनीति में और बहुत बदलाव होने वाले हैं। यह राज्य में कई मंत्री और बीजेपी विधायकों के पार्टी छोड़ने की शुरूआत है।इससे पहले संजय राउत ने बुधवार को मीडिया से बात करते ने कहा था कि भाजपा को सावधान रहने की आवश्यकता है। अभी लहरों की चाल धीमी है लेकिन तेज लहरों से भाजपा का जहाज डगमगा सकता है। भाजपा ओपिनियन पोल की अफवाह भी फैला रही है, उस पर भरोसा करना सही नहीं है। गोवा और उत्तर प्रदेश में निश्चित ही बदलाव नजर आएगा। उन्होंने कहा था कि शिवसेना की लड़ाई बीजेपी के नोट से है, शिवसेना आम जन की पार्टी है और हम लोगों से कहना चाहते हैं कि पैसे के लालच में न आएं।

2019 में सूचीबद्ध होने वाली अधिकांश कंपनियों के शेयर हैं फायदे में, निवेशकों को मिला 21% तक का रिटर्न

मेंसूचीबद्धहोनेवालीअधिकांशकंपनियोंकेशेयरहैंफायदेमेंनिवेशकोंकोमिला21तककारिटर्नNSA अजीत डोभाल का बयान, कहा 2030 तक भारत को निर्णय लेने वाली सरकार की जरूरत******राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार ने गुरुवार को दिल्ली मेंआयोजित सरदार पटेल मैमोरियल लेक्चर के दौरान कहा कि अगले 10 वर्षों के लिए भारत को एक मजबूत, स्थिर और निर्णायक सरकार की जरूरत है। देशके लिए कमजोरगठबंधनखराब रहेगा।उन्होनें आगे कहा कि भारत अगले कुछ सालों तक सॉफ्ट पावर नहीं बन सकता क्योंकि उसे आगे आने वाले सालों में कई बड़े और साहसिक फैसले लेने होंगे।डोभाल ने कहा कि अगर हमें बड़ी शक्ति बननी है तो हमारी अर्थव्यवस्था बड़ी होनी चाहिए, इसे विश्व स्तर पर प्रतिस्पर्धी होना चाहिए और यह तब हो सकता है जब हमतकनीकी रूप से आगे हो। इसके लिए सभी रक्षा हार्डवेयर प्रौद्योगिकी का 100 फीसदी हस्तांतरण होना चाहिए। यह नई सरकार की नीति है।डोभाल ने चीन की कंपनी अलीबाबा का उदाहरण देते हुए बताया कि कैसे चीन की अलीबाबा और अन्य कंपनियां बड़ी बन गई, उन्होनें कहा कि चीन की सरकार ने उन्हें बड़ा बनने के लिए समर्थन दिया। हम चाहतेहैं कि भारतीय प्राइवेट सेक्टर कंपनियों को भारतीय सामरिक हितों का प्रचार करना चाहिए।मेंसूचीबद्धहोनेवालीअधिकांशकंपनियोंकेशेयरहैंफायदेमेंनिवेशकोंकोमिला21तककारिटर्नMumbai: चूहों ने ऐसे गायब किए लाखों के गहने कि पुलिस बुलानी पड़ गई, जानिए पूरा मामला******Highlightsचूहे नुकसान करने में माहिर होते हैं। शायद ही ऐसा कोई हो, जिसने चूहों की वजह से नुकसान न उठाया हो। कई बार तो आपकी बेहद जरुरी चीज चूहे गायब कर देते हैं। लेकिन मुंबई में तो चूहों ने एक महिला के 10 तोले सोने के गहने ही गायब कर दिए। जी हां, चूहों ने सोने के गहने ही गायब कर दिए। वो तो भला हो मुंबई पुलिस और सीसीटीवी का, जिससे वो गहने मिल सके।मुंबई में पुलिस ने चूहों के एक बिल से सोने के आभूषणों से भरा एक खोया हुआ बैग बरामद किया है।एक अधिकारी के मुताबिक उपनगर डिंडोशी की रहने वाली सुंदरी प्लानिबेल ने सोमवार को पुलिस से संपर्क किया और कहा कि उसके दस तोला सोने के गहने खो गए हैं।घरेलू सहायिका के रूप में काम करने वाली प्लानिबेल ने पुलिस को बताया कि सोमवार की शाम जब वह घर के लिए निकली तो उसके मालिक ने उसे कुछ वड़ा-पाव दिए थे। उसके घर में कुछ गहने थे जिसे वह बैंक में जमा करना चाहती थी। घर पहुंचकर उसने गहने उठाए, उसी पॉलिथीन के थैले में रखा जिसमें वह वड़ा-पाव लिए हुए थी, और बैंक के लिए निकल गई। उसने पुलिस को बताया कि यह सोचकर कि वह बैंक में वड़ा-पाव नहीं खा पाएगी, उसने रास्ते में मिले दो लड़कों को नाश्ते का बैग दे दिया।उसे ध्यान नहीं रहा कि उसके गहने भी उसी थैली में थे। बैंक पहुंचने पर उसे अपने गलती का एहसास हुआ। परेशान होकर उसने पुलिस से संपर्क किया, जिसने दो लड़कों का पता लगाया। लेकिन लड़कों ने कहा कि उन्होंने थैली को कूड़ेदान में डाल दिया था क्योंकि वड़ा-पाव बासी लग रहा था। पुलिस अधिकारी ने कहा कि कूड़ेदान में हालांकि बैग कहीं नहीं मिला। पुलिस ने इलाके की सीसीटीवी फुटेज देखनी शुरू की जिसमें दोनों लड़के थैली को कूड़ेदान में फेंकते दिखे। कुछ समय बाद फुटेज में नजर आया कि थैली अपने आप सरक रही थी और उसके बाद रहस्यमय तरीके से गायब हो गई।पुलिस ने अंदाजा लगाया कि यह हरकत चूहों की हैं जिन्होंने वड़ा-पाव की गंध से थैली खींची और उसे अपने बिल में ले गए। पुलिस अधिकारी ने कहा कि मंगलवार को पुलिस ने गटर और आस-पास चूहों के बिलों में तलाश शुरू की और वह थैली मिल गई। गहने उसके अंदर सही सलामत थे लेकिन वड़ा-पाव गायब था। उन्होंने कहा कि महिला को उसके गहने लौटा दिए गए।

2019 में सूचीबद्ध होने वाली अधिकांश कंपनियों के शेयर हैं फायदे में, निवेशकों को मिला 21% तक का रिटर्न

मेंसूचीबद्धहोनेवालीअधिकांशकंपनियोंकेशेयरहैंफायदेमेंनिवेशकोंकोमिला21तककारिटर्नएशियाई खेल (सेलिंग): महिलाओं की 49-ईआर एफएक्स स्पर्धा में श्वेता शेरवेगर और वर्षा गौतम की जोड़ी ने दिलाया सिल्वर******श्वेता शेरवेगर और वर्षा गौतम की जोड़ी नेमें शुक्रवार को महिलाओं की 49-ईआर एफएक्स स्पर्धा में भारत के लिए रजत पदक जीता है। इस स्पर्धा में श्वेता और वर्षा को दूसरा स्थान हासिल हुआ। इस जीत के बाद इन्होंने कहा कि अब अगला लक्ष्य टोक्यो ओलम्पिक में पदक जीतना है।सिंगापुर की लो रुइ और लिम मिन की टीम ने पहले स्थान पर रहते हुए स्वर्ण पदक जीता है।थाईलैंड की कलहान कामोनचानोक और वाईवाई निचपा की टीम को कांस्य पदक हासिल हुआ है।

मेंसूचीबद्धहोनेवालीअधिकांशकंपनियोंकेशेयरहैंफायदेमेंनिवेशकोंकोमिला21तककारिटर्नकोरोना के वजह से भारतीय परिवारों की बचत में आई गिरावट: सर्वे******कोरोना की वजह से लोगों की बचत में गिरावटनई दिल्ली। कोविड-19 महामारी की वजह से भारतीय परिवारों की बचत में गिरावट देखने को मिली है। एक सर्वे में बड़ी संख्या में उपभोक्ताओं ने कहा है कि महामारी की वजह से उनकी बचत कम हुई है। सर्वे में कहा गया है कि नौकरी छूटने, वेतन में कटौती या फिर वेतन के भुगतान में देरी जैसी वजहों से परिवारों की बचत पर बुरा असर देखने को मिला है।लोकलसर्किल्स के उपभोक्ताओं के रुख पर छमाही सर्वे में कहा गया है कि महामारी के अब नौ माह हो गए हैं। बड़ी संख्या में उपभोक्ता रोजगार गंवाने और वेतन कटौती की वजह से अपनी वित्तीय स्थिति में आई गिरावट से अब तक उबर नहीं पाए हैं। सर्वे में शामिल 8,240 लोगों में से 68 प्रतिशत ने कहा कि कोविड-19 महामारी की वजह से पिछले आठ माह में उनकी बचत घटी है। यह सर्वे त्योहारी सीजन के दौरान उपभोक्ताओं के खर्च के रुख, अगले चार माह के लिए खर्च की योजना, परिवार की आमदनी को लेकर उम्मीद तथा मार्च तक बचत की स्थिति के आकलन के लिए किया गया है।सर्वे पर देश के 302 जिलों से करीब 44,000 प्रतिक्रियाएं मिलीं। इसमें 62 प्रतिशत पुरुष और 38 प्रतिशत महिलाएं शामिल हैं। सर्वे में शामिल लोगों में से 55 प्रतिशत पहली श्रेणी के शहरों से है। 26 प्रतिशत दूसरी श्रेणी और 19 प्रतिशत तीसरी और चौथी श्रेणी के शहरों या ग्रामीण जिलों से हैं। हालांकि सर्वे के अनुसार, आने वाले 4 महीने में लोग जरूरी उत्पादों से आगे निकल कर अन्य उत्पादों की खरीद भी करेंगे। करीब 50 प्रतिशत लोगों ने कहा कि वे अगले चार माह के दौरान विवेकाधीन उत्पाद या संपत्तियां खरीदने पर खर्च करेंगे, यानि ऐसे उत्पाद जो घर चलाने के लिए जरूरी उत्पादों के अलावा हों। सर्वे में शामिल करीब 10 प्रतिशत लोगों का कहना था कि अगले चार माह में उनकी विवेकाधीन खरीद पर 50,000 रुपये से अधिक खर्च करने की योजना है। वहीं 21 प्रतिशत ने कहा कि इस अवधि में वे 10,000 से 50,000 रुपये खर्च करेंगे।मेंसूचीबद्धहोनेवालीअधिकांशकंपनियोंकेशेयरहैंफायदेमेंनिवेशकोंकोमिला21तककारिटर्नइंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक के ग्राहकों की संख्या दो करोड़ के पार, हर तिमाही खुल रहे हैं 33 लाख खाते******India Post Payments Bank crosses 2-cr customer markइंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक (आईपीपीबी) के परिचालन शुरू करने के बाद दो साल से भी कम समय में उसके ग्राहकों की संख्या दो करोड़ के पार पहुंच गई है। बैंक ने एक बयान में कहा कि उसके परिचालन के पहले साल में उसने पिछले साल अगस्त में एक करोड़ ग्राहकों के आंकड़े को छू लिया था। बैंक ने नए एक करोड़ ग्राहकों को सिर्फ पांच महीने में जोड़ लिए हैं। हर तिमाही में औसतन 33 लाख खाते खोल रही है और प्रबंधन कर रही है। बयान में संचार मंत्री रवि शंकर प्रसाद के हवाले से कहा गया है कि आईपीपीबी के कारोबारी मॉडल की सफलता सरकार की जनहित के लिए एक अंतर-संचालित बैंकिंग ढांचा खड़ा करने की मंशा को दिखाती है। यह देश में वित्तीय समावेशन के परिदृश्य को बदलने वाला है।उन्होंने कहा कि बैंक के परिचालन में आने के बाद से यह देशभर में फैले 1.36 लाख डाकघरों और 1.9 लाख डाकियों को लोगों के घरों तक बैंकिंग सेवाएं पहुंचाने में काबिल बनाने में लगा है। आधार से जुड़े बैंक खातों ने ग्रामीण बैंकिंग ढांचे को करीब ढाई गुना बढ़ाया है।बयान के अनुसार पिछले साल सितंबर में आधार से जुड़ी भुगतान सेवाएं शुरू करने के बाद आईपीपीबी देश में किसी भी बैंक के ग्राहक को अंतर-संचालित बैंकिंग सेवाएं उपलब्ध कराने वाला सबसे बड़ा एकल मंच बन गया है।

मेंसूचीबद्धहोनेवालीअधिकांशकंपनियोंकेशेयरहैंफायदेमेंनिवेशकोंकोमिला21तककारिटर्नअंडमान निकोबार में 3 दिन पहले मानसून ने दी दस्तक, मौसम विभाग ने कहा- पूर्वोत्तर भारत में प्री मानसून बारिश होगी तेज****** रविवार को अंडमान-निकोबार द्वीप समूह में दक्षिण-पश्चिम मानसून की पहली बारिश शुरू हो गई है।मौसम विभाग की मानें तो इस बार 3 दिन पहले अंडमान-निकोबार द्वीप समूह में मानसूनी बारिश हो रही है। मौसम विभाग का कहना है कि मानसून की हवाएं अंडमान निकोबार के इंदिरा पॉइंट से लेकर हट बे तक झमाझम बारिश कर रही हैं।दक्षिण पश्चिम मानसून अगले 24 से 48 घंटों में पूरे के पूरे अंडमान निकोबार द्वीप समूह में पहुंच जाएगा। इसके बाद मानसून दक्षिण पूर्वी बंगाल की खाड़ी के बाकी इलाकों में अपनी बढ़त बना लेगा। आपको बता दें कि अंडमान निकोबार में मानसून ने अपने तय समय से 3 दिन पहले ही दस्तक दे दी है।यह अनुमान लगाना बहुत जल्दबाजी होगी कि मानसून केरल तट पर तय कार्यक्रम से पहले दस्तक देगा या नहीं। केरल में मानसून के दस्तक देने की समान्य तारीख 1 जून है, जिसे भारत में मॉनसून के आधिकारिक रूप से आगमन की तारीख माना जाता है। मौजूदा परिस्थितियों से यह संभावना नहीं बनती कि मानसून के अंडमान निकोबार द्वीप समूह जल्द पहुंचने के चलते यह समय से पहले केरल में भी दस्तक दे सकता है।मौसम विभाग के डायरेक्टर चरण सिंह के मुताबिक विषवत रेखा से बंगाल की खाड़ी की तरफ मानसून का प्रवाह काफी अच्छा नजर आ रहा है। अपने पहले चरण में यह उम्मीद की जा रही है कि मानसून तेजी से दक्षिणी प्रायद्वीप की तरफ बढ़ेगा। बंगाल की खाड़ी में मानसून की हवाओं के आने के साथ ही दक्षिण भारत में मानसून से पहले की मौसमी गतिविधियां बढ़ गई हैं। केरल और कर्नाटक के कई हिस्सों में प्री-मानसून बारिश ने तेजी पकड़ ली है। वहीं दूसरी तरफ पूर्वोत्तर भारत में प्री मानसून बारिश जोरदार ढंग से कई इलाकों को अपने आगोश में लिए हुए हैं। मौसम विभाग के पूर्व अनुमान के मुताबिक पूर्वोत्तर भारत के कई इलाकों में अगले 24 से 72 घंटे तक झमाझम बारिश होने की संभावना है। लिहाजा मौसम विभाग इस पूरे घटनाक्रम पर अपनी नजर बनाए हुए हैं।उत्तर भारत में गर्मी तेज हो रही है। दरअसल पश्चिमी हिमालय क्षेत्र में एक और वेस्टर्न डिस्टरबेंस दस्तक देने जा रहा है और इस वजह से मैदानी इलाकों में तापमान एक बार फिर से ऊपर की तरफ बढ़ने शुरू हो गए हैं। मौसम विभाग का कहना है कि पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, राजस्थान और उत्तर प्रदेश के ज्यादातर हिस्सों में अगले दो-तीन दिनों तक तापमान में तकरीबन 3 डिग्री सेल्सियस तक की बढ़ोतरी देखी जाएगी। उधर जम्मू कश्मीर और हिमाचल के ऊंचाई वाले इलाकों में बादलों की आवाजाही बढ़ने की संभावना है। ऐसे में कई इलाकों में अगले 3 दिनों तक रुक-रुक कर बारिश होने का अनुमान है।मेंसूचीबद्धहोनेवालीअधिकांशकंपनियोंकेशेयरहैंफायदेमेंनिवेशकोंकोमिला21तककारिटर्नBihar Election Result 2020: सात लाख से ज्यादा मतदाताओं ने NOTA का विकल्प चुना******बिहार विधानसभा चुनाव में करीब सात लाख मतदाताओं ने अब तक ''नोटा'' (इनमें से कोई नहीं) का विकल्प चुना है। ताजा आंकड़ों से यह जानकारी मिली है। चुनाव आयोग की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक, अब तक 70,6252 लोगों अथवा 1.7 फीसदी मतदाताओं ने नोटा के विकल्प को चुना है और इन मतदाताओं ने किसी भी उम्मीदवार के पक्ष में मतदान नहीं किया। ईवीएम में वर्ष 2013 में NOTA के विकल्प की शुरुआत की गई थी, जिसका अपना अलग चिह्न है।आपको बता दें कि सत्तारूढ़ गठबंधन ने बिहार विधानसभा की 243 सीटों में से 125 सीटों पर जीत हासिल की, जबकि विपक्षी महागठबंधन ने 110 सीटें जीतीं। इसके साथ की कुमार के लगातार चौथी बार मुख्यमंत्री बनने की राह साफ हो गई है। हालांकि इस बार उनकी पार्टी जदयू को 2015 जैसी सफलता नहीं मिली है। जदयू को 2015 में मिली 71 सीटों की तुलना में इस बार 43 सीटें ही मिली हैं। उस समय कुमार ने लालू प्रसाद की राजद और कांग्रेस के साथ मिलकर चुनाव जीता था। इस बार राजद 75 सीटें अपने नाम करके सबसे बड़ी एकल पार्टी के रूप में उभरी है।मतगणना के शुरुआती घंटों में बढ़त बनाती नजर आ रही भाजपा को 16 घंटे चली मतों की गणना के बाद 74 सीटों के साथ दूसरा स्थान मिला। जदयू को चिराग पासवान की लोजपा के कारण काफी नुकसान झेलना पड़ा है। लोजपा को एक सीट पर जीत मिली, लेकिन उसने कम से कम 30 सीटों पर जदयू को नुकसान पहुंचाया। भाजपा की 74 और जदयू की 43 सीटों के अलावा सत्तारूढ़ गठबंधन साझीदारों में हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा को चार और विकासशील इंसान पार्टी (वीआईपी) को चार सीटें मिलीं। विपक्षी महागठबंधन में राजद को 75, कांग्रेस को 19, भाकपा माले को 12 और भाकपा एवं माकपा को दो-दो सीटों पर जीत मिली। इस चुनाव में एआईएमआईएम ने पांच सीटें और लोजपा एवं बसपा ने एक-एक सीट जीती है। एक सीट पर निर्दलीय उम्मीदवार जीतने में सफल रहा है।इनपुट-भाषा

मेंसूचीबद्धहोनेवालीअधिकांशकंपनियोंकेशेयरहैंफायदेमेंनिवेशकोंकोमिला21तककारिटर्नअडाणी एंटरप्राइजेज, डीआईएएल समेत चार कंपनियों ने जेवर हवाईअड्डे के लिए लगाई बोली******जेवर एयरपोर्ट । सांकेतिक तस्वीर अडाणी इंटरप्राइजेज और दिल्ली एयरपोर्ट इंटरनेशनल लि. (DAIL)समेत चार बोलीदाताओं ने राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) में प्रस्तावित जेवर अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे के लिये बोली लगायी है। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। करीब 29,560 करोड़ रुपए की अनुमानित लागत से एनसीआर में बनने वाले इस दूसरे हवाईअड्डे के लिए कंपनी के चयन को लेकर आमंत्रित तकनीकी बोलियां नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट लि. (एनआईएएल) के ग्रेटर नोएडा दफ्तर में खोली गयी। एनएआईएल के नोडल अधिकारी शैलेन्द्र भाटिया ने कहा, 'दिल्ली इंटरनेशनल एयरपोर्ट लि. (डीआईएएल), ज्यूरिख एयरपोर्ट इंटरनेशनल एजी, अडाणी इंटरप्राइजेज लि. तथा एंकोरेज इंफ्रास्ट्रक्चर इनवेस्टमेंट्स होल्उिंग्स लि. ने तकनीकी बोली जमा कराई थी।' उन्होंने कहा, 'अब हवाईअड्डा के विकास को लेकर कंपनियों की तकनीकी पात्रता का आकलन किया जाएगा। उसके आधार पर योग्य कंपनी का चयन 29 नवंबर को किया जाएगा। उसी के साथ उसी दिन हवाईअड्डे के लिए अलग प्राप्त वित्तीय बोलियां खोली जाएंगी। बोली प्रति यात्री लागत के आधार पर की जा रही है।'भाटिया ने कहा कि चार से प्राप्त दसतावेजों का अध्ययन परामर्शदाता कंपनी पीडब्ल्यूई आकलन करेगी और एनआईएएल को एक सपताह में उस पर रिपोर्ट देगा। उन्होंने कहा कि उसके बाद रिपोर्ट को परियोजना निगरानी और क्रियान्वयन समिति (पीएमआईसी) को दी जाएगी और कंपनी के चयन के बारे में निर्णय किया जाएगा। उल्लेखनीय है कि प्रस्तावित हवाईअड्डे के लिये एनआईएएल ने कंपनी के चयन को लेकर 30 मई को वैश्विक निविदा जारी किया था। उत्तर प्रदेश सरकार ने गौतमबुद्ध नगर जिले में वृहत परियोजना के प्रबंधन के लिए एनएआईएल का गठन किया था।साल 2023 से अपनी सेवाएं देना शुरू कर देगा। एयरपोर्ट का निर्माण साल 2020 से प्रारंभ होगा। उत्तर प्रदेश सरकार ने जेवर एयरपोर्ट की नींव 1 अक्टूबर 2018 को रखी थी। एयरपोर्ट का निर्माण चार चरणों में किया जाएगा। पहले चरण में लगभग 5000 करोड़ खर्च किए जाने का अनुमान लगाया जा रहा है, इसमें सालाना 1 करोड़ 20 लाख यात्रियों को हवाई सेवाएं दी जाएंगी। जेवर एयरपोर्ट के चारों चरणों को मिलाकर लगभग 20 से 30 हजार करोड़ खर्च होने की बात कही जा रही है। अंतिम चरण का निर्माण 2040 तक बताया जा रहा है और उस समय एयरपोर्ट की यात्री क्षमता सात करोड़ यात्री सालाना तक हो जाएगी। उत्तर प्रदेश में मौजूदा समय में 2 हैं, एक राजधानी लखनऊ में चौधरी चरण सिंह और दूसरा वाराणसी में लाल बहादुर शास्त्री एयरपोर्ट है और अब तीसरा इंटरनेशनल एयरपोर्ट जेवर एयरपोर्ट गौतमबुद्ध नगर में बनने जा रहा है।मेंसूचीबद्धहोनेवालीअधिकांशकंपनियोंकेशेयरहैंफायदेमेंनिवेशकोंकोमिला21तककारिटर्नक्या केबीसी ने संसद से जुड़े इस सवाल के गलत जवाब पर लगाई थी मुहर? दर्शक की आपत्ति पर प्रोड्यूसर का आया रिएक्शन******सोनी टीवी के मशहूर गेम शो कौन बनेगा करोड़पति सीजन 13 काफी दिलचस्प होता जा रहा है। दर्शक हर रोज रात शो के टेलीकास्ट होने का इंतजार करते हैं। पिछले हफ्ते शानदार शुक्रवार में दीपिका पादुकोण और फराह खान ने हॉट सीट की शोभा बढ़ाई थी। शो के रेगुलर कंटेस्टेंट्स भी अपनी मौजूदगी शो को हिट बना देते हैं। मगर हाल के दिनों में पूछा गया एक सवाल एक दर्शक के मुताबिक गलत था।बीते एपिसोड में अमिताभ बच्चन ने कंटेस्टेंट दीप्ति तुपे से संसद और उसकी कार्यवाही को लेकर सवाल पूछा था। सवाल था कि आमतौर पर भारत के संसद की प्रत्येक बैठक की शुरुआत में इनमें से किससे होती है? सवाल का उत्तर प्रश्नकाल था। इस सवाल के जवाब पर एक दर्शक को ऐतराज जताया। दर्शक ने शो के स्क्रीनशॉट को शेयर करते हुए कहा, "मैंने टीवी पर कई बार फॉलो किया है। लोकसभा की शुरुआत शून्यकाल से होती जबकि राज्यसभा की शुरुआत प्रश्नकाल से।"दर्शक के इस सवाल पर शो के प्रोड्यूसर ने सफाई दी है। सिद्धार्थ बासु ने कहा कि इस सवाल में किसी तरह की कोई गलती नहीं है। आम तौर पर दोनों सदनों की शुरुआत प्रश्नकाल से होती, जब तक पीठासीन - स्पीकर या चेयरपर्सन द्वारा कुछ और न कहा गया हो। प्रश्नकाल के बाद शून्यकाल की प्रक्रिया की शुरुआत होती है।हालांकि, दर्शक ने इस सवाल को क्रॉसचेक किया, सिद्धार्थ बासु को बताया कि उन्होंने इसे फिर से जांचा है। किसी तरह की फैक्चुअल गलती की गुंजाइस हो सकती है। जिसका जवाब सिद्धार्थ बासु ने नहीं दिया है।कौन बनेगा करोड़पति का मौजूदा सीजन अपनी लोकप्रियता को कायम किए हुए है। शो के इस सीजन में आगरा की हिंमानी बुंदेला शो में 1 करोड़ जीतने वाली पहली करोड़पति कंटेस्टेंट बनी हैं।

हाल का ध्यान

लिंक