वर्तमान पद:मुखपृष्ठ > जिउक्वान > मूलपाठ

Gulf Of Crises: अरब देशों की बिगड़ी हालत, कच्चे तेल के घाटे से उबरने के लिए बेच सकते हैं अपनी संपत्तियां

2022-10-04 03:48:58 जिउक्वान

अरबदेशोंकीबिगड़ीहालतकच्चेतेलकेघाटेसेउबरनेकेलिएबेचसकतेहैंअपनीसंपत्तियांरमज़ान में 25 हजार अप्रवासी मजदूरों को खाना खिलाएंगे सोनू सूद, रोजा रखने वालों के लिए भी व्यवस्था******मुंबई: कोरोना वायरस के खिलाफ जंग लड़ने के लिए पूरा देश एकसाथ खड़ा है। बॉलीवुड सितारे भी इस वायरस के खिलाफ जंग में सरकार का साथ दे रहे हैं और लोगों की आर्थिक सहायता कर रहे हैं और जरूरतमंदों के भोजन की व्यवस्था भी करा रहे हैं। इस बीच एक्टर सोनू सूद (Sonu Sood) ने दरियादिली दिखाई है और लॉकडाउन के दौरान उन्होंने 25 हजार अप्रवासी मजदूरों को खाना खिलाने की व्यवस्था की है। इससे पहले वह 45 हजार अन्य जरूरतमदों को भी खाना खिला रहे हैं।मुंबई मिरर में छपी खबर के मुताबिक रमज़ान (Ramadan) में सोनू सूद ने 25 हजार उन अप्रवासी लोगों की मदद के लिए आगे आए हैं जो कर्नाटक, यूपी, बिहार और पश्चिम बंगाल जैसे राज्यों से मुंबई में काम करने के लिए आए हैं। इतना ही नहीं सोनू सूद उन लोगों की भी मदद कर रहे हैं जो रमज़ान के लिए रोजे रखेंगे। सोनू सूद ने कहा- रमज़ान के पाक महीने में उन मजदूरों की सभी जरूरतों का ध्यान रखा जाएगा जो रोजे रखेंगे। हम चाहते हैं कि रोजे के बाद कोई भूखा ना रहे। रिपोर्ट के मुताबिक एक्टर का लक्ष्य है कि वो 1.5 लाख लोगों को भोजन करा सके।आपको बता दें कि सोनू सूद इससे पहले अपना होटल मेडिकल कर्मचारियों के रहने के लिए दे चुके हैं। इस पर बात करते हुए सोनू ने कहा- देश भर के मेडिकल कर्मचारियों के साथ दृढ़ता से खड़ा होना सभी के लिए महत्वपूर्ण है, जो COVID-19 के खिलाफ लड़ाई के "असली हीरो" हैं। सोनू सूद ने आगे कहा- यह मेरा सौभाग्य होगा कि मैं अपने देश के डॉक्टरों, नर्सों और पैरा मेडिकल स्टाफ के लिए अपना काम आ सकूं, जो देश में लाखों लोगों की जिंदगी बचाने के लिए दिन-रात काम कर रहे हैं। उन्होंने आगे कहा- मैं इन वास्तविक समय नायकों के लिए अपने होटल के दरवाजे खोलने के लिए खुश हूं।

अरबदेशोंकीबिगड़ीहालतकच्चेतेलकेघाटेसेउबरनेकेलिएबेचसकतेहैंअपनीसंपत्तियांTaliban News: बदल गया तालिबान! IS हमले से ध्वस्त हुए गुरुद्वारे को बनाने में कर रहा मदद, पढ़िए डिटेल******Highlights अफगानिस्तान तालिबान राज शुरू होने के बाद अराजकता जैसा ही माहौल है। इस कारण दो माह पहले करते परवान गुरुद्वारे पर IS ने हमला किया था। इससे इमारत को काफी नुकसान पहुंचा था। अब तालिबान इसे फिर से बनाने में जुट गया है। इसे फिर से तैयार करने के लिए 40 लाख अफगानी रुपए लगा दिए हैं। साथ ही यहां पहरेदारी भी बढ़ा दी है। दो महीने पहले काबुल के करते परवान गुरुद्वारे पर इस्लामिक स्टेट खुरासान प्रांत (ISKP) का हमला हुआ था। जिसमें इस पवित्र इमारत को काफी नुकसान पहुंचा। 40 लाख अफगानी रुपये की राशि से इस समय अफगान कारीगर दीवारों पर पेंटिंग करने, फर्श की टाइलें बिछाने और मुख्य हॉल को अंतिम रूप दे रहे हैं। जहां गुरु ग्रंथ साहिब को रखा जाएगा।40 लाख अफगानी रुपयों की सहयोग राशि दीकाबुल में हिंदू-सिख समाज के प्रमुख और गुरुद्वारे को फिर से तैयार करने के काम की निगरानी रामसरन भसीन कर रहे हैं। भसीन ने कहा कि ‘तालिबान के इंजीनियरों सहित उनके कई लोग यहां आए, नुकसान का आकलन किया और हमें पैसे दिए। तालिबान ने 40 लाख अफगानी रुपये की राशि सहयोग के रूप में दी है। साथ ही पुनर्निर्माण को लगभग पूरी तरह से इस्लामिक अमीरात से फंड दिया गया है। हमने कोई फंड नहीं जुटाया है।’काबुल में गुरुद्वारा तैयार करने के बीच सुरक्षा के लिए कड़ा किया पहराभसीन ने कहा कि यह काबुल का सबसे प्रमुख गुरुद्वारा है। यहां पर तालिबान ने सुरक्षा के लिए कड़ा पहरा कर दिया है। इसे जल्द से जल्द फिर तैयार करना हमारी जिम्मेदारी है। भसीन ने बताया कि अगस्त माह के अंत तक गुरुद्वारा फिर बनकर तैयार हो जाएगा।सालभर पहले सत्ता में आया था तालिबान,गौरतलब है कि तालिबान ने एक साल पहले अफगानिस्तान की सत्ता फिर से ​हथिया ली थी। तब भारतीय नागरिक खासतौर पर सिख समुदाय के लोग भारत या अन्ये देशों की ओर पलायन कर गए थे। करते परवान गुरुद्वारे पर हमला करने के बाद तीन और जत्थों को बाहर निकाला गया।अफगानिस्तान में भारत ने की है खाद्यान्न की मददतालिबान ने शासन करने के बाद भले ही कट्टरपंथी आचरण न छोड़ा हो। लेकिन पहले के तालिबानी शासन के मुकाबले थोड़ा समझदारी से काम करना चाह रहा है। भारत ने भी तालिबान के शासन में अफगानिस्ताना की जनता के लिए खाद्यान्न हाल के समय में उपलब्ध कराया है। साथ ही भारतीय प्रतिनिधियों की बैठक भी तालिबान के साथ हुई है। इस पर पाकिस्तान को चिढ़ भी हुई।अरबदेशोंकीबिगड़ीहालतकच्चेतेलकेघाटेसेउबरनेकेलिएबेचसकतेहैंअपनीसंपत्तियांअलर्ट रहें ! कोविड संक्रमण के बाद कुछ ही घंटों में फैल सकता है ओमिक्रॉन******Highlightsएक विशेषज्ञ के मुताबिक, ओमिक्रॉन वेरिएंट द्वारा संक्रमित व्यक्ति से कुछ ही घंटों में वायरस फैल सकता है। दूसरी ओर, तीन से चार दिनों में कोविड महामारी ने तेजी पकड़ी है। यह जानकारी टास समाचार एजेंसी ने वेक्टर स्टेट रिसर्च सेंटर ऑफ वायरोलॉजी एंड बायोटेक्नोलॉजी की येकातेरिनबर्ग शाखा के प्रमुख अलेक्जेंडर सेम्योनोव के हवाले से दी। उन्होंने रोसिया-1 टेलीविजन चैनल के साथ एक साक्षात्कार में कहा, सबसे दुखद बात यह है कि, संक्रमण की तीव्रता के कारण तीन से चार दिनों में नहीं बल्कि लोग कुछ ही घंटों में कोविड से संक्रमित हो सकते हैं। साथ ही उन्होंने कहा, ओमिक्रॉन लगभग एक सप्ताह में ठीक हो जाता है।हांगकांग विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं के नेतृत्व में किए गए एक अध्ययन के अनुसार, ओमिक्रॉन डेल्टा वेरिएंट की तुलना में 70 गुना तेजी से फैलता है। 26 नवंबर को, विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने दक्षिण अफ्रीका में पाए जाने वाले बी.1.1.1.529 वेरिएंट को ओमिक्रॉन नाम दिया है। अब तक यह 120 से अधिक देशों में फैल चुका है, डेल्टा वेरिएंट से ज्यादा ओमिक्रॉन घातक बताया गया है।उधर रूस में कोरोना वायरस के नए स्वरूप ओमीक्रोन के चलते महामारी के मामलों में अब तक की सबसे बड़ी वृद्धि के बीच राजधानी मॉस्को में क्लिनिक अब 12-17 आयु वर्ग के बच्चों के लिए देश में विकसित कोविड रोधी टीके स्पूतनिक एम की पेशकश कर रहे हैं। अधिकारियों ने कहा कि यह टीका 12-17 आयु वर्ग के बच्चों के लिए पिछले सप्ताह रूस के कई क्षेत्रों में उपलब्ध हो गया और अब मॉस्को में 13 क्लिनिक संबंधित आयु समूह के बच्चों के लिए इसकी पेशकश कर रहे हैं।रूस में बच्चों का कोविड रोधी टीकाकरण ऐसे समय हो रहा है जब देश में रिकॉर्ड संख्या में महामारी के मामले सामने आ रहे हैं। देश में सोमवार को संक्रमण के 1, 24,070 नए मामले सामने आए जबकि इससे एक दिन पहले 1,21,228 मामले सामने आए थे।इनपुट-एजेंसी

Gulf Of Crises: अरब देशों की बिगड़ी हालत, कच्चे तेल के घाटे से उबरने के लिए बेच सकते हैं अपनी संपत्तियां

अरबदेशोंकीबिगड़ीहालतकच्चेतेलकेघाटेसेउबरनेकेलिएबेचसकतेहैंअपनीसंपत्तियांमायावती की प्रधानमंत्री पद की दावेदरी पर बोली कांग्रेस- सरकार हमारे नेतृत्व में बनेगी****** के चुनाव नहीं लड़ने और खुद को प्रधानमंत्री पद की दौड़ में रहने का संकेत देने की पृष्ठभूमि में कांग्रेस ने बुधवार को कहा कि 2019 में सरकार उसके नेतृत्व में बनेगी और जिन दलों के साथ मतभेद दिखाई दे रहा है वो भी साथ होंगे।पार्टी के मुख्य प्रवक्ता ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘जहां तक किसी व्यक्ति विशेष का चुनाव लड़ने या ना लड़ने का प्रश्न है, मुझे लगता है कि ये उनका अपना निर्णय हैं। वो एक अलग पार्टी में हैं और उसकी मुखिया हैं, हम उस पर कोई टिप्पणी नहीं करना चाहेंगे।’’यह पूछे जाने पर कि क्या चुनाव नहीं लड़ने के कारण मायावती प्रधानमंत्री पद की दौड़ से बाहर हो गई हैं तो उन्होंने, ‘‘मुझे लगता है कि आप विश्वास रखिए कांग्रेस के नेतृत्व में, 2019 में सरकार बनने वाली है और बहुत सारे साथी जो हैं, जिनसे आपको आज लगता है कि हमारा थोड़ा-थोड़ा मनभेद है या मतभेद है, उन सबको हम एक सूत्र में पिरो लेंगे।’’दरअसल, बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती ने बुधवार को आगामी लोकसभा चुनाव न लड़ने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि वह गठबंधन को जिताना चाहती हैं और उनके खुद चुनाव जीतने की बजाय गठबंधन की जीत जरूरी है। उन्होंने कहा कि वह जब चाहें, लोकसभा का चुनाव जीत सकती हैं। उनका गठबंधन बेहतर स्थिति में है। वह लोकसभा का चुनाव नहीं लड़ेंगी और आगे जरूरत पड़ने पर किसी भी सीट से चुनाव लड़ सकती हैं।अरबदेशोंकीबिगड़ीहालतकच्चेतेलकेघाटेसेउबरनेकेलिएबेचसकतेहैंअपनीसंपत्तियांLoan पर Interest Rate में हो सकती है बढ़ोतरी? ये तरीके EMI के बोझ से बचने में करेंगे मदद******Highlightsत्योहारी सीजन में RBI एक बार फिर झटका दे सकता है। अर्थशास्त्रियों का मनना है कि महंगाई को काबू करने के लिए भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) सितंबर की मौद्रिक पॉलिसी में एक बार फिर से रेपो रेट में 0.50 फीसदी की बड़ी बढ़ोतरी कर सकता है। सितंबर में आरबीआई की मौद्रिक समिति की बैठक 28 सिंतबर से 30 सितंबर के बीच है। दरअसल, एक बार फिर खुदरा महंगाई अगस्त महीने में बढ़कर सात प्रतिशत पर पहुंच गयी, जबकि जुलाई के महीने में यह 6.71 प्रतिशत थी। अगर RBI ऐसा करता है तो उसका सीधा असर होम लोन और ईएमआई पर पड़ेगा और ये महंगे हो जाएंगे। अगर आप पहले से लोन ले चुके हैं तो आप अपने EMI के बोझ से खुद को ऐसे बचा सकते हैं।अगर संभव है तो आप अपनी EMI राशि में बढ़ोतरी करें। इससे आपको अधिक ब्याज देने से छुटकारा मिल जाएगा। मान लीजिए आपकी EMI राशि 30,000/- रूपये प्रति महीना है, लेकिन आप 40,000/- रूपये महीने का भुगतान करते हैं, तो अतिरिक्त 10,000/- रूपये आपके मूल राशि में ही एडजस्ट हो जाएगा। इससे आपकी EMI जल्द पूरी हो सकेगी।लोन चुकाने की अवधि, बकाया मूल रकम और कुल मिलाकर ब्याज के भुगतान को कम करने के लिए प्री-पेमेंट एक प्रभावशाली तरीका है। अगर आपको कंपनी से कभी इंक्रीमेंट, बोनस या कोई अन्य अचानक मिलने वाली सरप्लस रकम मिलती है तो आप उसका इस्तेमाल तत्काल अपने लोन का भुगतान करने के लिए कर सकते हैं। यह आपके लिए आगे बहुत फायदा पहुंचाएगा। होम-लोन प्री-पेमेंट से आप आंशिक रूप से अपने लोन का पेमेंट कर सकते हैं या फिर लोन सर्विस के दौरान पूरी तरह से लोन को सबमिट कर सकते हैं। अगर आपकी लोन अवधि हाल ही में शुरू हुई है, तो हर साल अपने कुल बकाया लोन के 5 फीसदी के बराबर के अमाउंट का पेमेंट करके लोन को कम करने के सिस्टेमैटिक एप्रोच को फॉलो कर सकते हैं।त्योहारी सीजन में घर, कार या लोन लेकर कंज्यूमर ड्यूरेबल के दूसरे सामान खरीदने वालों को एक और झटका लग सकता है। दरअसल, आसमान छूती महंगाई को काबू करने के लिए भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) एक बार फिर रेपो रेट में 0.50 प्रतिशत की वृद्धि कर कर सकता है। महंगाई लगातार रिजर्व बैंक के छह प्रतिशत के संतोषजनक स्तर से ऊपर बनी हुई है जिसके मद्देनजर केंद्रीय बैंक ने नीतिगत दरों में तीन बार में 1.40 प्रतिशत की वृद्धि की है। ऐसा करने से तमाम बैंक ब्याज दरों में बढ़ोतरी करेंगे जिससे सभी तरह के लोन लेना महंगा हो जाएगा। पहले से लोन लिए लोगों पर बढ़ी ब्याज दर का बोझ बढ़ेगा। उनकी EMI में बढ़ोतरी होगी।अरबदेशोंकीबिगड़ीहालतकच्चेतेलकेघाटेसेउबरनेकेलिएबेचसकतेहैंअपनीसंपत्तियांAaj Ka Panchang 3 September 2022: जानिए शनिवार का पंचांग, राहुकाल, शुभ मुहूर्त और सूर्योदय-सूर्यास्त का समय******आज भाद्रपद शुक्ल पक्ष की सप्तमी तिथि और शनिवार का दिन है। सप्तमी तिथि आज दोपहर 12 बजकर 28 मिनट तक रहेगी। उसके बाद अष्टमी तिथि लग जायेगी। आज शाम 5 बजे तक तक वैधृति योग रहेगा। साथ ही आज रात 10 बजकर 57 मिनट तक अनुराधा नक्षत्र रहेगा। इसके अलावा आज संतान सप्तमी भी है। साथ ही आज से सोलह दिवसीय महालक्ष्मी व्रत की शुरुवात हो रही है। आचार्य इंदु प्रकाश से जानिए शनिवार का पंचांग,राहुकाल, शुभ मुहूर्त और सूर्योदय-सूर्यास्त का समय।

Gulf Of Crises: अरब देशों की बिगड़ी हालत, कच्चे तेल के घाटे से उबरने के लिए बेच सकते हैं अपनी संपत्तियां

अरबदेशोंकीबिगड़ीहालतकच्चेतेलकेघाटेसेउबरनेकेलिएबेचसकतेहैंअपनीसंपत्तियांBigg Boss 11 के कपल पुनीश शर्मा और बंदगी कालरा Nach Baliye 9 में आएंगे नज़र?******'बिग बॉस 11' के घर में पुनीश शर्मा और बंदगी कालरा की जोड़ी बनी थी। घर से बाहर आने के बाद भी उनका प्यार बरकरार है। लेटेस्ट रिपोर्ट्स की मानें तो दोनों डांस रिएलिटी शो 'नच बलिए 9' में नज़र आ सकते हैं। शो के मेकर्स ने उन्हें अप्रोच किया है और वो जल्द इसके लिए हामी भर सकते हैं।अगर ऐसा होता है तो ये दोनों का दूसरा रिएलिटी शो होगा। पिंकविला ने सूत्र के हवाले से लिखा- ''पुनीश और बंदगी ड्रामा में तड़का लगाने का काम करते हैं। इसलिए नच बलिए के मेकर्स उन्हें शो में लेना चाहते हैं। दोनों को हाल ही में अप्रोच किया गया था और उन्होंने इसके लिए हामी भी भर दी है।'''नच बलिए 9' को सलमान खान प्रोड्यूस कर रहे हैं और इस बार शो के फॉर्मेट में ट्विस्ट भी है। इस बार शो में एक्स लवर्स भी नज़र आएंगे।शो को जेनिफर विंगेट और सुनील ग्रोवर होस्ट करेंगे। रवीना टंडन शो की जज होंगी। खबर है कि सलमान भी जज के रूप में नज़र आ सकते हैं। मेकर्स ने इसके पहले दिशा पाटनी, टाइगर श्रॉफ और शाहिद कपूर को भी जज करने के लिए अप्रोच किया था।एक्स कपल्स उर्वशी ढोलकिया-अनुज सचदेव, मधुरिमा तुली-आदित्य विक्रम सिंह शो के कंटेस्टेंट्स हैं। इसके अलावा प्रिंस नरूला और उनकी पत्नी युविका चौधरी भी शो में नज़र आ सकते हैं। उर्वशी, मधुरिमा और विशाल ने शो का प्रोमो शूट भी कर लिया है।अरबदेशोंकीबिगड़ीहालतकच्चेतेलकेघाटेसेउबरनेकेलिएबेचसकतेहैंअपनीसंपत्तियांManish Sisodia: मनीष सिसोदिया के आवास पर पड़े छापे पर बोले केजरीवाल, 'सीबीआई की छापेमारी अच्छे प्रदर्शन का परिणाम है'******Highlights सेंट्रल ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशन (CBI) ने दिल्ली आबकारी नीति मामले में दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के आवास सहित दिल्ली और एनसीआर में 10 से ज्यादा जगहों पर शुक्रवार को छापा मारा। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के आवास पर सीबीआई की छापेमारी वैश्विक स्तर पर सराहे जा रहे उनके अच्छे प्रदर्शन का परिणाम है। मुख्यमंत्री ने कहा कि पहले भी सीबीआई के छापे पड़े हैं और इस बार भी कुछ सामने नहीं आएगा।मामले पर केजरीवाल ने ट्वीट किया, ‘‘जिस दिन अमेरिका के सबसे बड़े अखबार न्यूयॉर्क टाइम्स के मुख्य पृष्ठ पर दिल्ली शिक्षा मॉडल की तारीफ और मनीष सिसोदिया की तस्वीर छपी, उसी दिन उनके घर पर केंद्र ने सीबीआई को भेजा।’’ उन्होंने कहा, ‘‘सीबीआई का स्वागत है। पूरा सहयोग करेंगे। पहले भी कई जांच हुईं और छापे मारे गए। कुछ नहीं निकला। अब भी कुछ नहीं निकलेगा।’’उन्होंने एक अन्य ट्वीट किया, ‘‘दिल्ली के शिक्षा और स्वास्थ्य मॉडल की पूरी दुनिया चर्चा कर रही है। इसे ये रोकना चाहते हैं, इसीलिए दिल्ली के स्वास्थ्य एवं शिक्षा मंत्रियों के खिलाफ छापे मारे जा रहे हैं और गिरफ्तारी की जा रही हैं।’’ केजरीवाल ने कहा, ‘‘जिसने भी 75 साल में अच्छे काम करने की कोशिश की, उसे रोका गया। इसीलिए भारत पीछे रह गया, लेकिन हम दिल्ली के अच्छे कामों को रुकने नहीं देंगे।’’सीबीआई ने दिल्ली आबकारी नीति 2021-22 के संबंध में सिसोदिया के आवास समेत 10 से ज्यादा जगहों पर सुबह छापेमारी की। CBI अधिकारियों ने इस छापे की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि सीबीआई ने पिछले साल नवंबर में लाई गई दिल्ली आबकारी नीति बनाने और उसके अमल में कथित अनियमितताओं के संबंध में एक FIR दर्ज की है। दिल्ली के उपराज्यपाल वी.के.सक्सेना ने आबकारी नीति 2021-22 के कार्य प्रणाली में कथित अनियमितताओं की सीबीआई से जांच कराने की सिफारिश की थी।उन्होंने बताया कि दिल्ली के चीफ सेक्रेटरी की जुलाई में दी गई रिपोर्ट के आधार पर सीबीआई जांच की सिफारिश की गई थी, जिसमें GNCTD Act 1991, Working Rules (TOBR)-1993, Delhi Excise Act-2009 और Delhi Excise Rules-2010 का प्रथम दृष्टया उल्लंघन पाए जाने की बात कही गई थी। अधिकारियों ने बताया कि इसके अलावा, निविदा के बाद शराब कारोबार संबंधी लाइसेंस हासिल करने वालों को अनुचित लाभ पहुंचाने के लिए जानबूझकर इसके कार्य प्रणाली में चूक की गई।इस बीच, सिसोदिया ने सिलसिलेवार ट्वीट में कहा कि वह सीबीआई का स्वागत करते हैं। उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘ सीबीआई आई है। उनका स्वागत है। हम कट्टर ईमानदार हैं। लाखों बच्चों का भविष्य बना रहे हैं। बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है कि हमारे देश में जो अच्छा काम करता है उसे इसी तरह परेशान किया जाता है। इसीलिए हमारा देश अभी तक नम्बर-एक नहीं बन पाया।’’उन्होंने कहा, ‘‘ हम सीबीआई का स्वागत करते हैं। जांच में पूरा सहयोग देंगे ताकि सच जल्द सामने आ सके। अभी तक मेरे खिलाफ कई मामले किए गए लेकिन कुछ नहीं निकला। इसमें भी कुछ नहीं निकलेगा। देश में अच्छी शिक्षा के लिए मेरा काम रोका नहीं जा सकता।’’ सिसोदिया ने सभी आरोपों को खारिज करते हुए कहा, ‘‘ ये लोग दिल्ली में शिक्षा और स्वास्थ्य क्षेत्र में शानदार काम से परेशान हैं। इसीलिए दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री और शिक्षा मंत्री को पकड़ा है, ताकि शिक्षा एवं स्वास्थ्य के अच्छे काम रोके जा सकें।’’

Gulf Of Crises: अरब देशों की बिगड़ी हालत, कच्चे तेल के घाटे से उबरने के लिए बेच सकते हैं अपनी संपत्तियां

अरबदेशोंकीबिगड़ीहालतकच्चेतेलकेघाटेसेउबरनेकेलिएबेचसकतेहैंअपनीसंपत्तियांरमज़ान में 25 हजार अप्रवासी मजदूरों को खाना खिलाएंगे सोनू सूद, रोजा रखने वालों के लिए भी व्यवस्था******मुंबई: कोरोना वायरस के खिलाफ जंग लड़ने के लिए पूरा देश एकसाथ खड़ा है। बॉलीवुड सितारे भी इस वायरस के खिलाफ जंग में सरकार का साथ दे रहे हैं और लोगों की आर्थिक सहायता कर रहे हैं और जरूरतमंदों के भोजन की व्यवस्था भी करा रहे हैं। इस बीच एक्टर सोनू सूद (Sonu Sood) ने दरियादिली दिखाई है और लॉकडाउन के दौरान उन्होंने 25 हजार अप्रवासी मजदूरों को खाना खिलाने की व्यवस्था की है। इससे पहले वह 45 हजार अन्य जरूरतमदों को भी खाना खिला रहे हैं।मुंबई मिरर में छपी खबर के मुताबिक रमज़ान (Ramadan) में सोनू सूद ने 25 हजार उन अप्रवासी लोगों की मदद के लिए आगे आए हैं जो कर्नाटक, यूपी, बिहार और पश्चिम बंगाल जैसे राज्यों से मुंबई में काम करने के लिए आए हैं। इतना ही नहीं सोनू सूद उन लोगों की भी मदद कर रहे हैं जो रमज़ान के लिए रोजे रखेंगे। सोनू सूद ने कहा- रमज़ान के पाक महीने में उन मजदूरों की सभी जरूरतों का ध्यान रखा जाएगा जो रोजे रखेंगे। हम चाहते हैं कि रोजे के बाद कोई भूखा ना रहे। रिपोर्ट के मुताबिक एक्टर का लक्ष्य है कि वो 1.5 लाख लोगों को भोजन करा सके।आपको बता दें कि सोनू सूद इससे पहले अपना होटल मेडिकल कर्मचारियों के रहने के लिए दे चुके हैं। इस पर बात करते हुए सोनू ने कहा- देश भर के मेडिकल कर्मचारियों के साथ दृढ़ता से खड़ा होना सभी के लिए महत्वपूर्ण है, जो COVID-19 के खिलाफ लड़ाई के "असली हीरो" हैं। सोनू सूद ने आगे कहा- यह मेरा सौभाग्य होगा कि मैं अपने देश के डॉक्टरों, नर्सों और पैरा मेडिकल स्टाफ के लिए अपना काम आ सकूं, जो देश में लाखों लोगों की जिंदगी बचाने के लिए दिन-रात काम कर रहे हैं। उन्होंने आगे कहा- मैं इन वास्तविक समय नायकों के लिए अपने होटल के दरवाजे खोलने के लिए खुश हूं।

अरबदेशोंकीबिगड़ीहालतकच्चेतेलकेघाटेसेउबरनेकेलिएबेचसकतेहैंअपनीसंपत्तियांगोमती रिवर फ्रंट पर 27 करोड़ रुपये खर्च करेगी योगी सरकार******उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने ही को सजाने-संवारने का जिम्मा लखनऊ विकास प्राधिकरण को दे दिया है और इस पर लगभग 27 करोड़ रूपये खर्च किए जाएंगे। पूर्व मुख्यमंत्री की सरकार के दौरान गोमती रिवर फ्रंट के निर्माण की कवायद शुरू की गई थी। इस पर पूर्ववर्ती सरकार की ओर से काफी पैसा भी खर्च किया गया था लेकिन सरकार बदलने के बाद रिवर फ्रंट जांच के घेरे में आ गया था लेकिन एक वर्ष बीत जाने के बाद अब फिर से इस पर काम शुरू हो रहा है।लखनऊ विकास प्राधिकरण के अधिकारियों के मुताबिक प्राधिकरण की बैठक में इस बात का फैसला लिया गया। इसके लिए शासन की तरफ से 27 करोड़ रूपये जारी कर दिए गए हैं। विभाग के सूत्रों ने बताया कि रबर डैम से लेकर हनुमान सेतु तक विकसित लगभग 16 किलोमीटर लंबी रिवर फ्रंट की मरम्मत और इसके सौंदर्यीकरण के लिए विभाग की तरफ से प्रस्ताव शासन को पहले ही भेजा जा चुका था। इसके तहत यहां पर पेड़-पौधे, सफाई व्यवस्था का काम एलडीए ने करने की इच्छा जताई थी। लेकिन तब शासन स्तर पर निर्णय नहीं हो पाया था।लखनऊ विकास प्राधिकरण उद्यान विभाग के अधिकारी एसपी सिसोदिया के मुताबिक 370 एकड़ में फैले रिवर फ्रंट में गार्डेनिंग का काम एलडीए करेगा। विभाग के अधिकारियों के मुताबिक काम हाथ में आते ही पहले इसकी वीडियोग्राफी करवाकर शासन को भेजी जाएगी ताकि वर्तमान स्थिति का पता रहे। इसके बाद प्राधिकरण अपना काम शुरू करेगा।प्राधिकरण के उपाध्यक्ष प्रभु नारायण सिंह ने बताया कि रिवर फ्रंट पर गार्डनिंग के काम के लिए विभाग की तरफ से प्रस्ताव भेजा गया था। शासन की मंजूरी मिल गई है और इसके लिए 27 करोड़ की धनराशि भी जारी कर दी गई है।अरबदेशोंकीबिगड़ीहालतकच्चेतेलकेघाटेसेउबरनेकेलिएबेचसकतेहैंअपनीसंपत्तियांTwitter का विकल्प बन रहे देसी Koo को मिला बड़ा निवेश, एक साल में 60 लाख लोग कर चुके हैं डाउनलोड******कू को मिला बड़ा निवेशनई दिल्ली। भारत का अपना माइक्रोब्लॉगिंग ऐप कू ने अब लंबी छलांग की तैयारी कर ली है। ट्वीटर के साथ विवाद के बीच भारतीयों से मिले तगड़े समर्थन के बीच कू ने सीरीज़ बी फंडिंग में $ 30 मिलियन यानि 200 करोड़ रुपये से ज्यादा जुटाए हैं। नये निवेश की मदद से कू की वैल्यूएशन करीब 5 गुना बढ़कर 10 करोड़ डॉलर पहुंच गयी है।निवेश के नये चरण में टाइगर ग्लोबल ने मौजूदा निवेशकों एक्सेल पार्टनर्स, कलारी कैपिटल, ब्लूम वेंचर्स और ड्रीम इनक्यूबेटर के साथ निवेश दौर का नेतृत्व किया है। इसके साथ ही आईआईएफएल और मिराए एसेट्स अन्य नए निवेशक हैं जो इस दौर के निवेश में साथ आये हैं।भारतीय भाषाओं में राय व्यक्त करने के लिए कू एक माइक्रोब्लॉगिंग मंच है। सिर्फ एक साल के दौरान कू को लगभग 60 लाख बार डाउनलोड किया गया है।ट्विटर के साथ विवाद के बीच कई नामी लोग कू के साथ जुड़े हैं। इसमें केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद, पीयूष गोयल और स्मृति ईरानी वहीं अनुपम खेर, कंगना रनौत, ​​कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कमलनाथ, जेडीएस सुप्रीमो और पूर्व प्रधानमंत्री देवेगौड़ा, एनसीपी की सुप्रिया सुले खेल हस्तियों में साइना नेहवाल, भाईचुंग भूटिया, जवागल श्रीनाथ, मैरी कॉम, दीपक हुड्डा सहित कई अन्य भी शामिल हैं। कू की स्थापना उद्यमी अप्रमेय राधाकृष्ण (टैक्सीफॉरश्योर के संस्थापक), और मयंक बिदावतका ने की थी, जिन्होंने पहले मीडियाएंट और गुडबॉक्स जैसी कंपनियों की स्थापना की थी। कू के सह-संस्थापक और सीईओ अप्रमेय राधाकृष्ण ने कहा, “अगले कुछ वर्षों में हमारी दुनिया के सबसे बड़े सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म में से एक में विकसित होने की आक्रामक योजना है। हर भारतीय हमें वहां जल्द पहुंचने के लिए उत्साहित कर रहा है। इस सपने को साकार करने के लिए टाइगर ग्लोबल सही भागीदार है। टाइगर ग्लोबल ने भारत के 20 यूनीकॉर्न में निवेश किया है। जिसमें फ्लिपकार्ट, ओला, रेजरपे आदि हैं।"नई फंडिंग का उपयोग मुख्य रूप से कू में सभी भारतीय भाषाओं में इंजीनियरिंग, उत्पाद और सामुदायिक प्रयासों को मजबूत करने के लिए किया जाएगा।कू को मार्च 2020 में भारतीय भाषाओं में एक माइक्रो-ब्लॉगिंग मंच के रूप में बनाया गया था। यह ऐप कई भारतीय भाषाओं में उपलब्ध है और भारत में विभिन्न क्षेत्रों के लोग इस ऐप पर अपनी मातृभाषा में खुद को व्यक्त कर सकते हैं।

अरबदेशोंकीबिगड़ीहालतकच्चेतेलकेघाटेसेउबरनेकेलिएबेचसकतेहैंअपनीसंपत्तियांPiyush Goyal: कानून लागू करने वाली एजेंसियों के कामकाज में सरकार हस्तक्षेप नहीं कर सकती: पीयूष गोयल******Highlights केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने सोमवार को कहा कि कानून लागू करने वाली एजेंसियों के कामकाज में सरकार हस्तक्षेप नहीं कर सकती और वे अपना काम रही हैं। राज्यसभा में प्रश्नकाल के दौरान केंद्रीय एजेंसियों के दुरुपयोग के खिलाफ विपक्षी सदस्यों के हंगामे के बीच राज्यसभा में सदन के नेता गोयल ने यह भी कहा कि जो लोग कानून का उल्लंघन करते हैं, उन्हें इसका खामियाजा भी भुगतना पड़ता है। गोयल ने कहा, ''हम लोग (संसद सदस्य) कानून बनाने वाले लोग हैं और जो लोग कानून तोड़ते हैं वह उसका खामियाजा भुगतते हैं।''एजेंसियां अपना काम कर रही हैं: गोयलउन्होंने कहा, ''मैं आग्रह करूंगा कि कानून को अपना काम करने दें। कानून लागू करने वाली एजेंसियों के कामकाज में सरकार हस्तक्षेप नहीं कर सकती। एजेंसियां अपना काम कर रही हैं।'' उल्लेखनीय है कि प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने मुंबई की एक चॉल के पुनर्विकास में कथित अनियमितताओं से जुड़े धन शोधन के मामले में शिवसेना नेता एवं राज्यसभा सदस्य संजय राउत को रविवार को गिरफ्तार किया। शिवसेना सहित अन्य विपक्षी दलों के सदस्य राउत की गिरफ्तारी के मद्देनजर केंद्रीय एजेंसियों के दुरुपयोग के मुद्दे पर उच्च सदन में चर्चा कराने की मांग को लेकर हंगामा कर रहे थे।सदन को सुचारू रूप से चलने देने का आग्रहपार्टी की सदस्य प्रियंका चतुर्वेदी ने इस मुद्दे पर तत्काल चर्चा के लिए कार्यस्थगन का नोटिस भी दिया था। हंगामे के कारण शून्यकाल नहीं हो सका और पहली बार के स्थगन के बाद जब दोपहर 12 बजे कार्यवाही आरंभ हुई तो सदन में वही नजारा देखने को मिला। हंगामे के बीच ही गोयल ने महत्वपूर्ण विधायी कामकाज होने का हवाला देते हुए विपक्षी सदस्यों से सदन को सुचारू रूप से चलने देने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि विपक्ष के लोग महंगाई के मुद्दे पर चर्चा की मांग कर रहे थे और आज लोकसभा में इस पर चर्चा होनी है जबकि मंगलवार को राज्यसभा में होनी है। उन्होंने कहा कि विपक्ष ने हमें आश्वस्त किया है कि चर्चा की तारीख तय होते ही वह सदन में कामकाज होने देंगे।अरबदेशोंकीबिगड़ीहालतकच्चेतेलकेघाटेसेउबरनेकेलिएबेचसकतेहैंअपनीसंपत्तियांRenault का 15,000 नौकरियां खत्म करने का ऐलान, विस्तार योजनाओं पर भी असर******Job Cutनई दिल्ली। फ्रांस की कार कंपनी Renault ने शुक्रवार को दुनिया भर में 15,000 नौकरियां खत्म किये जाने की घोषणा की। कंपनी ने अगले तीन साल में लागत में 2 अरब यूरो की कमी करने की योजना बनायी है, यह कदम उसी का हिस्सा है। कंपनी ने कहा कि फ्रांस में 4,600 नौकरियां जबकि अन्य देशों में 10,000 से अधिक नौकरियों में कटौती की जाएगी। कंपनी ने कहा कि समूह की उत्पादन क्षमता को 2019 में 40 लाख वाहन से संशोधित कर 2024 तक 33 लाख किया जाएगा। बयान में कहा गया है कि वाहन उद्योग संकट के दौर से गुजर रहा है। उसके समक्ष पर्यावरण संरक्षण के हिसाब से बदलाव की जरूरत को देखते हुए कंपनी ये कदम उठा रही है।कंपनी के निदेशक मंडल के चेयरमैन जिएन डोमनिक सेनार्ड ने कहा, ‘‘जो बदलाव किये जा रहे हैं, वे बुनियादी हैं। इसका मकसद कंपनी को बाजार में बनाये रखना औेर उसकी दीर्घकालीन विकास सुनिश्चित करना है। समूह के कर्मचारियों की संख्या 1,80,000 है। इसके साथ ही कंपनी ने मोरक्को और रोमानिया में विस्तार की योजना भी टाल दी है। कंपनी पर कोरोना वायरस संकट का असर पड़ा है। उसकी सहयोगी निसान और मित्सुबिशी बड़ी वैश्विक वाहन कंपनियां हैं लेकिन 2018 से उस समय से ही समस्या में घिरी है जब से उसके मुख्य कार्यपालक अधिकारी कार्लोस घोसन की गिरफ्तारी हुई है। कंपनी ने 2019 में घाटे की सूचना दी थी। Renault में फ्रांस सरकार की सबसे बड़ी 15 प्रतिशत हिस्सेदारी है और 5 अरब यूरो कर्ज गारंटी के लिये बातचीत कर रही है। वित्त मंत्री ब्रुनो ला मायरे ने इस सप्ताह की शुरूआत में कहा था कि समूह के समक्ष बाजार में बने रहने का जोखिम है।

अरबदेशोंकीबिगड़ीहालतकच्चेतेलकेघाटेसेउबरनेकेलिएबेचसकतेहैंअपनीसंपत्तियांNavratri vrat Recipes: नवरात्रि के व्रत पर बनाएं ये टेस्टी और हेल्दी जीरा कुकीज और कढ़ी****** नवरात्रि का त्योहार नजदीक है, इस नवरात्रि व्रत के खास डिश को आजमाएं, जिन्हें आप व्रत पर भी खा सकते हैं और स्वाद से भी कॉम्प्रमाइज नहीं करना होगा। आइए जानते हैं सिंघाड़े के आटे की कढ़ी और जीरा कुकीज की रेसिपी।अरबदेशोंकीबिगड़ीहालतकच्चेतेलकेघाटेसेउबरनेकेलिएबेचसकतेहैंअपनीसंपत्तियांNupur Sharma Controversy: 'ये ईरान, इराक और सीरिया नहीं...', जानें नूपुर शर्मा का पुतला लटकाए जाने पर क्या बोले 'द कश्मीर फाइल्स' फिल्म के डायरेक्टर******Highlightsबीजेपी की पूर्व प्रवक्ता नूपुर शर्मा के पैगंबर मोहम्मद पर दिए गए विवादित बयान को लेकर देशभर में हंगामा मच गया है। देश के कई राज्यों में नूपुर शर्मा के खिलाफ विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं और शुक्रवार को लोग जुमे की नमाज के बाद सड़कों पर भी उतर आए।जहां एक तरफ यूपी के कई शहरों में पथराव और तोड़फोड़ की घटनाएं सामने आईं, वहीं कर्नाटक में नूपुर का पुतला फंदे पर लटकाया गया। कर्नाटक के बेलगाम शहर में फोर्ट रोड स्थित मस्जिद के नजदीक कुछ लोगों ने नुपुर शर्मा के पुतले को सरेआम फंदे से लटका दिया। हालांकि माहौल ना बिगड़े, इसलिए पुलिस ने नगर निगम के कर्मचारियों के साथ मिलकर फौरन वहां से पुतला हटा दिया।कर्नाटक में सरेआम नूपुर शर्मा का पुतला लटकाए जाने पर 'द कश्मीर फाइल्स' फिल्म के डायरेक्टर विवेक अग्निहोत्री (Vivek Agnihotri) काफी भड़क गए हैं और उन्होंने नूपुर के खिलाफ इस तरह के प्रदर्शन पर आपत्ति जताते हुए ट्वीट किया है।विवेक अग्निहोत्री ने नूपुर के पुतले की फोटो पोस्ट करते हुए कहा, 'माफ करना दोस्तों यह न तो ईरान है, न इराक है और न ही सीरिया है... यह आज का भारत है। यह आज का पुतला है, अगर फौरन सजा नहीं दी गई, तो जल्द ही इस पुतले की जगह असली लोग होंगे। खिलाफत आंदोलन आज भी जिंदा है।'उन्होंने कहा, 'प्रिय शिक्षित मुस्लिम मित्रों, इस खिलाफत 2.0 के खिलाफ आवाज उठाने की आपकी बारी है। आपके लिए इस तरह के आतंकवाद और बर्बर व्यवहार के खिलाफ खड़े होने का समय आ गया है। अगर आप शिकायत नहीं कर सकते और शांति, सद्भाव और एकता के बारे में कुछ नहीं कर सकते तो धिक्कार है चुप रहने वालों पर।'बता दें कि इससे पहले जब बीजेपी ने विवादित बयान देने की वजह से नूपुर को पार्टी से निलंबित किया था, तब भी विवेक अग्निहोत्री ने बयान दिया था। उन्होंने कहा था कि आज भारत-भारत के खिलाफ है।

हाल का ध्यान

लिंक