वर्तमान पद:मुखपृष्ठ > किंघई प्रांत > मूलपाठ

"'ऑस्ट्रेलिया में हमारे साथ जानवरों की तरह बर्ताव हमें पसंद नहीं है'"

2022-10-04 18:14:35 किंघई प्रांत

ऑस्ट्रेलियामेंहमारेसाथजानवरोंकीतरहबर्तावहमेंपसंदनहींहैJasprit Bumrah T20 World Cup 2022: फिट होने के बावजूद नहीं लौटे जसप्रीत बुमराह, T20 वर्ल्ड कप से पहले मैच प्रैक्टिस जरूरी******Highlights टी20 वर्ल्ड कप के शुरू होने में अब सिर्फ 25 दिनों का वक्त बाकी है, लेकिन जसप्रीत बुमराह मैदान पर नजर नहीं आ रहे। टी20 वर्ल्ड कप के लिए टीम की घोषणा होने के बाद भारत ने मोहाली में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सीरीज का पहला टी20 मैच खेला। इस मुकाबले में बुमराह के खेलने की संभावना जताई गई थी पर वे प्लेइंग इलेवन का हिस्सा नहीं बने। भारत के खिलाफ ऑस्ट्रेलिया ने आखिर के चार ओवर में जरूरी 55 रन सिर्फ 20 गेंदों में बनाकर मैच जीत लिया। यानी डेथ ओवर्स में भारतीय गेंदबाजों की पूरी फजीहत हुई। ऐसी परिस्थिति में जसप्रीत बुमराह की कमी बेहद खलने वाली है और टी20 वर्ल्ड कप से पहले ये भारत के लिए खतरे की घंटी भी है।तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह इंग्लैंड दौरे के बाद से लगातार फिटनेस से जुड़ी दिक्कतों के कारण टीम से बाहर हैं। हालांकि वे अब फिट हो चुके हैं और टी20 वर्ल्ड कप के साथ उससे पहले हो रही ऑस्ट्रेलिया टी20 सीरीज में भी वे स्क्वॉड का हिस्सा हैं। वह पिछले तीन महीने से मैदान से दूर हैं। टी20 वर्ल्ड कप से पहले मैच प्रैक्टिस के लिए उनका मैदान पर उतरना जरूरी है।अगर बुमराह ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सीरीज का पहला टी20 मैच खेला होता तो मुमकिन है टीम इंडिया को इस मुकाबले में हार नहीं मिली होती। उन्हें आज की तारीख में दुनिया का बेस्ट डेथ ओवर बॉलर माना जाता है। उनकी गैर-मौजूदगी में टीम को भुवनेश्वर कुमार से गेंदबाजी करानी पड़ी जिसका खामियाजा सबने भुगता। ये सिलसिला एशिया कप से जारी है। भुवनेश्वर ने बुमराह के मैदान पर नहीं होने के चलते पिछले तीन मैच के 19वें ओवर में 16, 14 और 19 रन लुटा चुके हैं। जसप्रीत बुमराह के मैदान पर होने से रनों की इस लूट पर लगाम लग सकती है।जसप्रीत बुमराह 140 से ऊपर की रफ्तार से गेंदबाजी करते हैं जो ऑस्ट्रेलिया में होने वाले टी20 वर्ल्ड कप में उन्हें कहीं ज्यादा प्रभावी बना सकती है। भुवनेश्वर मीडियप पेसर हैं और डेक को जोर से हिट करना उनकी खासियत नहीं हैं। ऐसे में, अगले महीने शुरू हो रहे ग्लोबल इवेंट से पहले बुमराह का जल्द मैदान पर उतरना जरूरी है। इससे उन्हें अपनी मैच फिटनेस को जांचने के साथ साथ अपने स्किल और टेंपरामेंट को भी सेट करने का वक्त मिल जाएगा।कप्तान रोहित शर्मा ने मोहाली में पहले टी20 का टॉस गंवाने के बाद कहा था कि बुमराह अगले दो मुकाबलों में प्लेइंग इलेवन का हिस्सा होंगे। यानी शुक्रवार को नागपुर के विदर्भ क्रिकेट एसोसिएशन स्टेडियम में वे मैदान पर नजर आएंगे और उनकी मौजूदगी से टीम पर पड़ने वाला फर्क भी साफ दिखेगा।

ऑस्ट्रेलियामेंहमारेसाथजानवरोंकीतरहबर्तावहमेंपसंदनहींहैचीन में सूअरों पर आई आफत, 38 हजार को उतारा मौत के घाट, जानें क्या है कारण****** में पिछले दिनों लगभग 38 हजार सूअरों को मौत के घाट उतारा गया। रिपोर्ट्स के मुताबिक, इन सूअरों को के कारण मारना पड़ा है। चीन की सरकारी मीडिया ने देश के कृषि मंत्री के हवाले से बताया कि चीन के पांच प्रांतों में यह बीमारी सामने आई है। आपको बता दें कि चीन दुनिया में पोर्क (सूअर के मांस) का सबसे बड़ा उत्पादक देश है। चीन में स्वाइन फीवर का पहला मामला अगस्त में लियाओनिंग प्रांत में सामने आया था। इसके बाद यह बीमारी दक्षिण के इलाकों में फैल गई।रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस वायरस का फैलना जारी है हालांकि यह नियंत्रण में है। संयुक्त राष्ट्र के खाद्य एवं कृषि संगठन ने पिछले सप्ताह चेतावनी दी थी कि यह बीमारी एशिया के अन्य हिस्सों में भी फैल सकती है। आपको बता दें कि स्वाइन फीवर मानवों के लिए हानिकारक नहीं है लेकिन पालतू सूअरों के लिए यह घातक होती है और संक्रमण के कुछ ही दिनों के अंदर उनकी मौत हो जाती है।इस बीमारी की रोकथाम के लिए अभी तक किसी दवा की खोज नहीं हो सकती है। इसे रोकने का एक ही तरीका है और वह है संक्रमित सूअरों को खत्म करना। चीन की सरकार ने कहा है कि बीमारी की रोकथाम के लिए उपाय किए जा रहे हैं। गौरतलब है कि दुनिया के कुल सूअरों में से लगभग आधे चीन में पाले जाते हैं। यहां पोर्क की प्रति व्यक्ति खपत दुनिया में सबसे ज्यादा है।ऑस्ट्रेलियामेंहमारेसाथजानवरोंकीतरहबर्तावहमेंपसंदनहींहैढाका में बच्चों के अपहरण के मामले में 4 महिलाएं गिरफ्तार, 3 मासूमों को छुड़ाया गया****** बांग्लादेश की राजधानी ढाका और उसके बाहरी इलाके में बच्चों का अपहरण करने वाले काफी सक्रिय हो गए हैं। पिछले कुछ दिनों में पुलिस ने बच्चों का अपहरण करने के आरोप में 4 महिलाओं को गिरफ्तार किया है, साथ ही 3 बच्चों को उनके चंगुल से छुड़ाया है। बांग्लादेश की राजधानी ढाका में पुलिस ने एक 42 वर्षीय महिला को एक किशोरी का अपहरण करने के आरोप में गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार महिला की पहचान नूर नजमा अ़ख्तर उर्फ लुपा तालुकदार के तौर पर हुई है। लुपा को 9 साल की लड़की जिनिया को अगवा करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है।पुलिस अधिकारियों द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक, लुपा ने कथित तौर पर जिनिया को अगवा कर लिया था। स्थानीय लोगों ने बताया कि ढाका यूनिवर्सिटी के TSC क्षेत्र में जिनिया को सभी जानते हैं, वहां वह अपने परिवार की आर्थिक मदद करने के लिए फूल बेचा करती थी। लुपा ने खुद को पत्रकार बताया था, जो विभिन्न मीडिया आउटलेट्स के लिए काम करती है। जांचकर्ता देख रहे हैं कि लुपा का किसी तस्कर रैकेट से कोई संबंध हैं या नहीं। पुलिस ने रविवार की रात नारायणगंज से जिनिया को बचाया और लुपा को फतुल्लाह के अमतोला इलाके से गिरफ्तार किया।लुपा को 2 दिन की रिमांड के बाद शुक्रवार को ढाका मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट की कोर्ट में पेश किया गया था। इससे पहले, ढाका मेट्रोपॉलिटन पुलिस के डिटेक्टिव ब्रांच ज्वाइंट कमिश्नर, महबूब आलम ने कहा कि लुपा ने गलत इरादे से जिनिया को कई तरह का लालच देकर उसका अपहरण कर लिया। रमना डिवीजन ऑफ पुलिस में अतिरिक्त उपायुक्त मिशू विश्वास ने कहा कि लुपा का आपराधिक रिकॉर्ड भी है। पुलिस अधिकारी ने कहा, 'वह एक बार तीन हत्या के मामले में आरोपी रह चुकी है। इसके अलावा उसके खिलाफ धोखाधड़ी के कई आरोप दर्ज हैं।'जिनिया का अपहरण 1 सितंबर को हुआ था। वह टीएससी क्षेत्र में अपनी मां और दो भाई-बहनों के साथ रहती है। जिनिया के लापता होने के बाद उसकी मां सेनुरा बेगम ने अपनी शिकायत में बताया कि उसने आखिरी बार अपनी बेटी को सुहरावर्दी उदयन के पास 2 महिलाओं के साथ बात करते हुए देखा था। पुलिस ने उन 2 महिलाओं की तलाश के लिए टीम बनाई। बिस्वास ने कहा कि लुपा ने दावा किया कि वह नेशनल प्रेस क्लब की सदस्य हैं, लेकिन वह कोई सबूत नहीं दे सकीं। पुलिस अधिकारी ने कहा, 'उसने हमें मोहोना टीवी का एक बिजनेस कार्ड दिया, जहां वह काम करने का दावा कर चुकी है।'ढाका मेट्रोपॉलिटन पुलिस में डिटेक्टिव ब्रांच के संयुक्त आयुक्त महबूब आलम ने कहा कि पुलिस अधिकारी इस बात पर गौर कर रहे हैं कि उसके बाल तस्करों से कोई संबंध हैं या नहीं। वहीं, ढाका में भी पुलिस दल ने गुरुवार को धमरई क्षेत्र से दो महिलाओं राशिदा और फातिमा को बच्चों के अपहरण की संदिग्धता के मामले में गिरफ्तार किया है। इसके अलावा ने टीम ने बुधवार रात को अपहृत 3 वर्षीय शहादत हुसैन को भी बचाया। बच्चे का के मीरपुर के शाह अली इलाके से 5 सितंबर को कर लिया गया था। वहीं आरएबी कर्मियों ने एक 9 वर्षीय बच्चे को बचाया, जिसका अपहरण पल्लबी क्षेत्र से किया गया था।क्राइम-बस्टिंग टीम ने अपहरण के संबंध में एक अन्य सुमी बेगम को भी गिरफ्तार किया। आरएबी-4 के सहायक निदेशक जियाउर रहमान चौधरी ने कहा कि आरएबी की एक टीम ने अपहृत मिथिला को बचाया और अपहरणकर्ता को बुधवार दोपहर पल्लबी इलाके से गिरफ्तार किया। पूछताछ के दौरान, गिरफ्तार बदमाशों ने बच्चे के अपहरण में अपनी भागीदारी स्वीकार कर ली।

ऑस्ट्रेलियामेंहमारेसाथजानवरोंकीतरहबर्तावहमेंपसंदनहींहैगैस वितरण कारोबार से पीछे हटी रिलायंस-बीपी, अडाणी ने सबसे ज्‍यादा 52 शहरों के लिए लगाई बोली******mukesh ambani and gautam adani शहर गैस वितरण लाइसेंस के लिए अडाणी समूह ने आज सबसे अधिक 52 शहरों के लिए बोली लगाई। वहीं के संयुक्त उद्यम ने पूरी प्रक्रिया पर बारीकी से गौर करने के बाद अंतिम समय पर अपने को इससे अलग रखने का फैसला किया। इस दौर में इंद्रप्रस्थ गैस लिमिटेड (आईजीएल) ने 13 शहरों में गैस वितरण के लिए बोली जमा कराई है। सूत्रों ने यह जानकारी दी।सार्वजनिक क्षेत्र की गेल इंडिया लिमिटेड की शहर गैस वितरण इकाई गेल गैस लिमिटेड ने करीब 30 शहरों के लिए बोली जमा कराई है।अडाणी गैस लिमिटेड ने 32 शहरों के लिए खुद बोली जमा कराई है। साथ ही उसने 20 शहरों के लिए सार्वजनिक क्षेत्र की इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन के साथ संयुक्त उद्यम में मिल कर बोली लगाई है।शहर गैस के खुदरा करोबार के लाइसेंस के लिए अब तक की सबसे बड़ी निविदा के तहत 22 राज्यों और संघ शासित प्रदेशों के 174 जिलों में सीएनजी और पाइप के जरिये आपूर्ति की जाने वाली रसोई गैस के लिए कुल 86 परमिट दिए जाएंगे।सूत्रों ने बताया कि ब्रिटेन की बीपी पीएलसी और रिलायंस इंडस्ट्रीज के 50:50 प्रतिशत भागीदारी की संयुक्त उद्यम इंडिया गैस सॉल्यूशंस प्राइवेट लिमिटेड के पहली बार शहर गैस वितरण क्षेत्र में उतरने की चर्चा थी, लेकिन अंतिम समय पर उसने यह योजना छोड़ दी। बोलियां आज शाम बंद हो गईं।सूत्रों ने बताया कि इंडिया गैस सॉल्यूशंस का गठन भारत में प्राकृतिक गैस के खुदरा कारोबार के लिए किया गया था। यह कंपनी 15 शहरों के लिए लाइसेंस चाहती थी लेकिन उसकी ओर से कोई बोली जमा नहीं की गई।राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में सीएनजी और पीएनजी का वितरण करने वाली आईजीएल ने 13 शहरों के लिए बोली लगाई है।एस्सल इन्फ्राप्रोजेक्ट्स ने कुल सात बोलियां जमा कराई हैं।गेल की अन्य अनुषंगियों महानगर गैस लिमिटेड और गुजरात स्टेट पेट्रोलियम कॉरपोरेशन (जीएसपीसी) ने भी बोलियां जमा की हैं। शहर गैस वितरण लाइसेंस मध्य प्रदेश के भोपाल, महाराष्ट्र के अहमदनगर, पंजाब के लुधियाना और जालंधर, राजस्थान के बाड़मेर, अलवर और कोटा, तमिलनाडु के कोयम्बटूर और सलेम, उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद, फैजाबाद, अमेठी तथा रायबरेली, उत्तराखंड के देहरादून तथा पश्चिम बंगाल के बर्दवान शहरों के लिए दिए जाने हैं।ऑस्ट्रेलियामेंहमारेसाथजानवरोंकीतरहबर्तावहमेंपसंदनहींहैकिसानों के लिए खुशखबरी, धान का न्यूनतम समर्थन मूल्य 200 रुपए प्रति क्विंटल बढ़ा सकती है सरकार****** सरकार 2019 के आम चुनाव से पहले किसानों को लुभाने के लिए खरीफ फसल में लिये का 200 रुपए बढ़ाकर 1,750 रुपए प्रति क्विंटल कर सकती है। सूत्रों ने यह जानकारी दी है। उन्होंने कहा कि 13 अन्य खरीफ फसलों के एमएसपी में भी अच्छी वृद्धि किए जाने का अनुमान है। इस संबंध में इस सप्ताह में निर्णय लिए जाने की उम्‍मीद है। उल्‍लेखनीय है कि सरकार जो खाद्यान्‍न एमएसपी पर खरीदती है उसके पैसे सीधे किसानों के खातों में जाते हैं। इस साल किसानों से सरकार ने 538.56 लाख टन धन की खरीद की गई है जो अबतक का रिकॉर्ड है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछले सप्ताह घोषणा की थी कि मंत्रिमंडल आगामी बैठक में खरीफ फसल का न्यूनतम समर्थन मूल्य उसके उत्पादन खर्च का कम से कम डेढ़ गुना तक बढ़ाने को मंजूरी देगी। सूत्रों के अनुसार, सरकार ने खरीफ फसलों के एमएसपी की घोषणा में देरी की है क्योंकि वह इस तरह के बड़े राजनीतिक फैसलों का बजट पर पड़ने वाले बोझ को लेकर आकलन कर रही थी।कृषि मंत्रालय ने खरीफ फसलों के लिए ऊंचे एमएसपी का प्रस्ताव किया है। मंत्रालय ने सरकार की सलाहकार संस्था सीएसीपी (CACP) की सिफारिश के मुकाबले ऊंची दर का प्रस्ताव किया है। बंपर कृषि उत्पादन के बाद ज्यादातर कृषि उपज के दम घटने से किसानों के असंतोष को देखते हुए कृषि मंत्रालय ने यह प्रस्ताव किया।सरकार ने इस साल बजट में कहा था कि वह फसलों का एमएसपी लागत का कम से कम डेढ़ गुना करेगी। 2014 के आम चुनाव में भारतीय जनता पार्टी का प्रमुख चुनावी वायदा भी था। सामान्यत: एमएसपी की घोषणा फसलों की बुवाई से ठीक पहले की जाती है।ऑस्ट्रेलियामेंहमारेसाथजानवरोंकीतरहबर्तावहमेंपसंदनहींहैस्मार्ट होम एप्लायंस जिसके बिना आपका किचन है अधूरा, जानिए कौन से है वो एप्लायंस******Highlightsमार्केट में ऐसे कई स्मार्ट किचन एप्लायंस मौजूद हैं जिनका इस्तेमाल कर आप अपना समय बचा सकते हैं। इनका उपयोग करना बहुत आसान है। इन दिनों वर्किंग विमेन के लिए घर और ऑफिस एक साथ संभालना थोड़ा चैलेंजिंग होता है। हमेशा महिलाएं ये चाहती है कि जल्द से जल्द वो अपने किचन का काम खत्म कर ऑफिस जाएं और शाम को भी जल्दी से खाना बनाकर आराम कर सके। अब ये पॉसिबल है। मार्केट में ऐसे कई स्मार्ट किचन एप्लायंस मौजूद हैं जिनका इस्तेमाल कर आप अपना समय बचा सकते हैं। इनका उपयोग करना बहुत आसान है।वैसे तो हमारे घर में फ्रिज, मिक्सर ग्राइंडर और माइक्रोवेव जैसे चीजें उपलब्ध है जिनका हम इस्तेमाल करते हैं लेकिन आज हम आपको कुछ छोटे एप्लायंस के बारे में बताने वाले हैं तो चलिए शुरू करते हैं।वैक्यूम सीलिंग का इस्तेमाल कर आप खाने को लंबे समय तक के लिए सुरक्षित रख सकते हैं। इससे खाना खराब नहीं होता है। वैक्यूम सीलर के सेटिंग की बात करें तो इसमें दो सीलिंग मोड होते हैं। पहला सूखे भोजन के लिए और दूसरा नम भोजन के लिए। ये साइज में छोटा होता है और किसी भी किचन में आसानी से फिट हो जाता है। ये वेट में बहुत हल्का और कॉम्पैक्ट होता है।अंडे उबालने के लिए हम कुकड़ का इस्तेमाल करते हैं। कुकड़ में अंडे उबाले में अधिक समय नहीं लगता है लेकिन जब ये प्रोसेस सुबह सुबह फॉलो करना पड़ता है तो बहुत परेशानी होती है। लंबे समय के लिए एक चूल्हा पूरी तरह व्यस्त हो जाता है, लेकिन एग बॉयलर की मदद से आपका काम आसान हो सकता है। एग बॉयलर को इस्तेमाल करना इजी है। इसमें बार बार अंडे चेक करने की जरूरत नहीं पड़ती है। जब अंडे उबल जाते हैं तो ये ऑटोमेटिक बंद हो जाता है।सब्जियां काटना, खाना बनाने से भी लंबा प्रोसेस है। इसलिए सब्जियां काटने में बहुत सारा टाइम वेस्ट हो जाता है और किचन भी गंदा होता है, लेकिन अगर आप 5 इन वन वेजिटेबल चॉपर का इस्तेमाल करेंगे तो आपका काम बहुत आसान हो जाएगा। इससे सब्जियां आसानी से कट जाती है। आप जिस शेप में काटना चाहता है उस ब्लेड का इस्तेमाल कर सकते हैं। वेजिटेबल चॉपर के ब्लेड्स को आप कुछ ही सेकंड्स में बदल सकते हैं। साथ ही ये किचन को ज्यादा गंदा होने से बचाता है।खाना बनाने के बाद जब ठंडा हो जाता है तो उसे फिर से गर्म करने में बहुत परेशानी होती है। ऐसे में इलेक्ट्रिक स्किलेट आपके बहुत काम आएगा। इसकी मदद से खाना तुरंत गर्म हो जाएगा। इसमें खाना पकाने के अलावा, बेक और डीप फ्राई भी कर सकते हैं। साथ ही इसका इस्तेमाल हॉट पॉट की तरह भी किया जा सकता है। ये नॉन स्टिक होता है और ऑटोमैटिक हीट कंट्रोल कर सकता है।

ऑस्ट्रेलियामेंहमारेसाथजानवरोंकीतरहबर्तावहमेंपसंदनहींहैPOK में बड़े एक्‍शन की तैयारी में पाक, 3 ब्रिगेड तैनात, 300 आतंकियों की घुसपैठ की कोशिश******जम्मू-कश्मीर से हटने के बाद बौखलाया पाकिस्तान अब अपने सबसे भरोसेमंद साथी चीन के साथ मिलकर पीओके में गहरी साजिश रचने में जुटा है। खुफिया सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक पाकिस्तान ने एलओसी पर ना केवल सेना की तैनाती बढ़ा दी है बल्कि पीओके के अलग-अलग इलाकों में आतंकियों को सीजफायर की आड़ में घुसपैठ कराने की फिराक में है।खुफिया सूत्रों के मुताबिक पाकिस्तान एलओसी पर कोई बड़ा एक्शन करने की तैयारी में है। पाकिस्तानी आर्मी ने PoK में अपनी तैनाती बढ़ा दी है। PoK के कोटली में LoC के पास पाकिस्तानी सेना के 3 ब्रिगेड तैनात हैं। LoC पर पाकिस्तान सेना ने 10 ऑब्जरवेशन प्वाइंट बनाए हैं। LoC के पास सुंदरबनी, नौशेरा और राजौरी सेक्टर में भी पाक फौज की मौजूदगी है।बताया जा रहा है कि जनरल बाजवा ने बॉर्डर एक्शन टीम यानी बैट के अलावा 100 से ज्यादा पाकिस्तानी स्पेशल सर्विस ग्रुप और कमांडो को भी तैनात किया है। ये भी खबर मिली है कि पाकिस्तानी आर्मी चीफ जनरल बाजवा ने कश्मीर को लेकर कोर कमांडर्स के साथ मीटिंग की है। चूंकि पाकिस्तान को पता है कि भारत के साथ सीधी लड़ाई में वो कभी नहीं जीत सकता। इसलिए फौज की आड़ में वो आतंकियों को घुसपैठ कराने के प्लान पर काम कर रहा है।जानकारी मिली है कि पाकिस्तान ने PoK में 300 आतंकियों को अलग-अलग जगहों पर इकट्ठा किया है। इन आतंकियों में 15 अफगानी आतंकी भी शामिल हैं। ज्यादातर आतंकी PoK की लीपा वैली में मौजूद हैं। पाकिस्तानी फौज सीजफायर तोड़कर आतंकियों की घुसपैठ की फिराक में है।चीन के साथ मिलकर भी पाकिस्तान बड़ी साजिश रच रहा है। जानकारी के मुताबिक पाकिस्तानी आर्मी पीओके में भारत के खिलाफ छोटे युद्ध के लिए साजो-सामान जुटा रही है। नए बंकर, नया मिलिट्री बेस तैयार कर रही है। लेकिन पाकिस्तान के इस मेड इन चाइना प्लान के निपटने के लिए भारतीय फौज भी तैयार है।ऑस्ट्रेलियामेंहमारेसाथजानवरोंकीतरहबर्तावहमेंपसंदनहींहैमध्यप्रदेश: 22 साल से जंजीरों से बंधा है एक व्यक्ति, जानें क्या है कारण******जिले के एक गांव में मानसिक विकार से ग्रस्त एक व्यक्ति को उसी के परिजनों ने 22 साल से एक खूंटे से बांधकर कमरे में कैद कर रखा है। जिला मुख्यालय से 55 किलोमीटर दूर स्थितहरपुरा गौर गांव में 58 वर्षीय बैजनाथ यादव को खेत में बने एक छोटे से कमरे में जंजीरों से बांधकर अंधेरे में रखे जाने का मामला सामने आया है। इस महीने की 17 तारीख को गांव में आए हल्का पटवारीश्यामलाल अहिरवार से बैजनाथ के बेटे देवीदीन यादव (32) ने अपने पिता के नाम की जमीन खुद के नाम पर कराने के लिए संपर्क किया। इस पर पटवारी ने पिता की सहमति जरूरी बताई। इस पर देवीलाल नेअपने पिता की स्थिति बताई। इसके बाद पटवारी ने बैजनाथ को एक कमरे में जंजीर से बंधा पाया।श्यामलाल अहिरवार ने बताया कि उसके परिवार वालों ने उसे करीब 22 साल से लोहे के खूंटे से बांधकर रखा हुआ है। उन्होंने कहा, ‘‘खूंटे से बंधे बैजनाथ को देखकर जब मैं उसके पास गया, तो वह हाथ जोड़करविनती करने लगा कि इस अंधेरे से बचा लो और इन जंजीरों से छुड़वा दो।’’ इसके बाद पटवारी ने यह बात छतरपुर तहसीलदार आलोक वर्मा को बताई। तहसीलदार ने यह मामला 27 साल से मनोरोगियों के लिएकाम कर रहे वकील संजय शर्मा को बताया, जिसके बाद शर्मा उसे छुड़ाने एवं मानसिक आरोग्यशाला में भर्ती कराने के लिए 21 जुलाई को हरपुरा गौर गांव उसके घर गए।संजय शर्मा ने कहा, ‘‘हमने उसके परिजनों से उसे बेड़ियों से मुक्त करने को कहा, लेकिन बेटे देवीदीन ने यह कहकर उसे मुक्त करने से इनकार कर दिया कि यदि पिताजी को खुला रखा गया तो वह फिर लोगों कोमारने लगेंगे। वह 10-12 लोगों के पकड़ने में भी नहीं आते हैं।’’ शर्मा ने कहा, ‘‘आश्वासन देने के बाद भी उसका बेटा उसे आजाद करने पर राजी नहीं हुआ।’’ उन्होंने बताया कि बैजनाथ का परिवार अत्यंत गरीब है।उनके पास उसका इलाज के लिए पैसा भी नहीं है।शर्मा ने कहा, ‘‘मैंने उसके परिजनों को समझाया था कि बैजनाथ का इलाज संभव है। उसे मानसिक आरोग्यशाला में भर्ती करा दूंगा। वह स्वस्थ हो जाएगा। लेकिन तब भी वे उसे मुक्त करने के लिए तैयार नहींहुए।’’ छतरपुर के कलेक्टर रमेश भंडारी ने कहा, ‘‘बैजनाथ के मामले में काउंसलिंग करा ली गई है। बुधवार को जांच के लिए इलाके के तहसीलदार एवं ईशानगर पुलिस थाने की टीम भेजी थी।’’ भंडारी ने कहा, ‘‘उसे मानसिक आरोग्यशाला में भर्ती कराने के लिए डॉक्टर का प्रमाणपत्र चाहिए, जो अब तक नहीं बन पाया है। शनिवार तक प्रमाणपत्र बन जाएगा और उसके बाद उसे ग्वालियर की मानसिक आरोग्यशाला में भर्ती करा दिया जाएगा।’’

ऑस्ट्रेलियामेंहमारेसाथजानवरोंकीतरहबर्तावहमेंपसंदनहींहैBihar Vidhan Sabha Chunav 2020: बेनीपट्टी में बनेगी किसकी बात? 2015 में कांग्रेस ने जीती थी सीट****** 28 अक्टूबर को पहले चरण की वोटिंग और 3 नवंबर को दूसरे चरण की वोटिंग के बाद बिहार विधानसभा चुनाव अपने अंतिम पड़ाव की तरफ बढ़ रहाहै। इन चुनावों के लिए तीसरे और अंतिम चरण की वोटिंग 7 नवंबर को होनी है, और 10 नवंबर को नतीजे आने वाले हैं। बिहार की बेनीपट्टी विधानसभा सीट के लिए भी तीसरे और अंतिम चरण में 7 नवंबर को मतदान होना है। कांग्रेस ने इस सीट से एक बार फिर सिटिंग विधायक भावना झा को मैदान में उतारा है, वही बीजेपी ने पिछले चुनावों में रनर-अप रहे विनोद नारायण झा पर दांव खेला है।बेनीपट्टी विधानसभा सीट पर पिछले चुनावों में भले ही कांग्रेस ने जीत दर्ज की थी, लेकिन इन चुनावों में समीकरण पूरी तरह बदला हुआ है। पिछली बार भावना झा के साथ जेडीयू का भी समर्थन था, वहीं अब यह पार्टी बीजेपी के साथ खड़ी है, जिसका विनोद नारायण झा को फायदा हो सकता है। सियासी विशेषज्ञों की मानें तो दोनों ही गठबंधनों में इस सीट के लिए कड़ी टक्कर देखने को मिल सकती है। हालांकि बेनीपट्टी की जनता किसको अपना विधायक चुनती है, यह तो 10 नवंबर को मतगणना के बाद ही पता चलेगा। के में एक कड़े मुकाबले में की भावना झा ने बाजी मारी थी। उन्होंने प्रत्याशी विनोद नारायण झा को 4 हजार से भी ज्यादा मतों के अंतर से हराया था। भावना को उन चुनावों में 55978 वोट मिले थे, जबकि विनोट के नाम का बटन 51244 मतदाताओं ने दबाया था। इस सीट पर 9758 वोटों के साथ भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के उम्मीदवार कृपानंद झा तीसरे नंबर पर रहे थे। नोटा को कुल 1492 वोट मिले थे और इसका नंबर आठवां था।

ऑस्ट्रेलियामेंहमारेसाथजानवरोंकीतरहबर्तावहमेंपसंदनहींहैCancer Weekly Horoscope 27 June to 3 July 2022: कर्क राशि वाली महिलाओं के लिए बेहद खास रहेगा ये हफ्ता******नया सप्ताह शुरू होने वाला है। ऐसे में आने वाला सप्ताह कर्क राशि वालों के लिए कैसा रहेगा? उनका स्वास्थ्य कैसा रहेगा?जीवनसाथी के साथ उनके रिश्ते कैसे रहेंगे? ये सब हम आपको बताएंगे।लेकिन उससे पहले जानिए कर्क राशि किन लोगों की होती है। 22 जून से 22 जुलाई के बीच पैदा होने वाले लोगों की राशि कर्क होती है। आइए ज्योतिषी चिराग बेजान दारूवाला से जानते हैं आपका आने वाला सप्ताह कैसा होगा और किन उपायों से आप ये सप्ताह बेहतर कर सकते हैं।गणेशजी कहते हैं कि धार्मिक गतिविधि वाले व्यक्ति की संगति में रहने से आपकी सोच में भी सकारात्मक बदलाव आएगा। महिलाओं के लिए दिन काफी फलदायी रहेगा। सप्ताह के अंत में आप अपनी साथी के साथ सुखद समय बीताएंगे। हर परिस्थिति में उनका सामना करने का साहस होगा। अपनी महत्वपूर्ण वस्तुओं और दस्तावेजों को सहेजें। अन्यथा कोई इसका दुरुपयोग कर सकता है। कुछ समय अपने साथ बिताएं। जितना आप कर सकते हैं उससे अधिक करने से आपके स्वास्थ्य पर हानिकारक प्रभाव पड़ सकता है। दैनिक आय लाभदायक हो सकती है। इस समय आपको व्यावसायिक प्रतिस्पर्धा में अधिक कठिनाइयों का सामना करना पड़ सकता है। विवाह सुखपूर्वक चलेगा। आपका आत्मविश्वास और सकारात्मक सोच आपको शारीरिक और मानसिक रूप से स्वस्थ रखेगी।ऑस्ट्रेलियामेंहमारेसाथजानवरोंकीतरहबर्तावहमेंपसंदनहींहैJharkhand News: झारखंड में मुस्लिम युवक ने धर्म छुपाकर की हिंदू लड़की से शादी, बेटी होने के बाद पत्नी को छोड़ा, अब फोन पर देता है धमकी******Highlights झारखंड में धर्म छुपाकर शादी करने का मामला सामने आया है। एक मुस्लिम व्यक्ति के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है जिसने कथित तौर पर हिंदू पहचान बता कर एक महिला से शादी की है। एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि जिले में मेराल थाना क्षेत्र के एक गांव में रहने वाले आफताब अंसारी के खिलाफ मुकदमा उसकी पत्नी की शिकायत के आधार पर दर्ज किया गया है। पुलिस अधिकारी ने बताया कि पत्नी ने दावा किया है कि आफताब अंसारी ने पिछले साल शादी से पहले अपनी फर्जी धार्मिक पहचान बताई थी। मेराल के सर्किल निरीक्षक ए. के. साहू ने बताया कि अब दंपति की एक बेटी है। पूजा सिंह द्वारा दर्ज कराई गई प्राथमिकी के अनुसार उत्तर प्रदेश के चोपन थाना क्षेत्र स्थित गांव में आफताब की दवा की दुकान थी, जहां पर दोनों की पहली बार मुलाकात हुई थी। प्राथमिकी के अनुसार आफताब ने अपना नाम पुष्पेंद्र सिंह बताया था और दावा किया था कि वह उत्तर प्रदेश के मिर्जापुर का रहने वाला है और उसका संबंध राजपूत बिरादरी से है।आफताब अचानक पत्नी और बच्ची को छोड़कर गायब हो गयापूजा सिंह के मुताबिक उसने आफताब के साथ भागकर मंदिर में शादी की और मिर्जापुर में किराए के मकान में रहने लगे। शिकायत के मुताबिक पति की असली पहचान हाल में तब उजागर हुई जब वह अपनी दादी की मौत पर पैतृक गांव आया और पूजा को पति का आधार कार्ड मिला जिसमें उसका नाम आफताब अंसारी दर्ज है। साहू ने प्राथमिकी के हवाले से बताया कि बाद में दोनों मिर्जापुर लौट आए और महिला ने बेटी को जन्म दिया। हालांकि, आफताब अचानक एक दिन पत्नी और बच्ची को छोड़कर गायब हो गया।ससुराल वाले दे रही धमकीसिंह ने शिकायत में आरोप लगाया है कि जब वह आफताब के गांव उसकी तलाश में आई तो उसके परिवार के सदस्यों ने उसपर हमला किया और घर में दाखिल नहीं होने दिया। महिला ने आरोप लगाया है कि उसका पति और ससुराल पक्ष के लोग कुछ दिनों से फोन पर धमकी दे रहे हैं। पुलिस अधिकारी ने बताया, ‘‘इस मामले में मंगलवार को प्राथमिकी दर्ज की गई है और सभी पहलुओं पर जांच की जा रही है।’’

ऑस्ट्रेलियामेंहमारेसाथजानवरोंकीतरहबर्तावहमेंपसंदनहींहैभारत का ई-कॉमर्स बाजार 2018 में हो जाएगा 50 अरब डॉलर के पार, बढ़ रही है ऑनलाइन खरीदारों की संख्‍या****** देश में इंटरनेट यूजर्स और ऑनलाइन खरीदारों की बढ़ती संख्या के कारण (ई-कॉमर्स) बाजार 2018 तक बढ़कर 50 अरब डॉलर के पार पहुंच जाने की उम्मीद है। वर्तमान में ई-कॉमर्स बाजार का मूल्य 38.5 अरब डॉलर है। एक अध्ययन में यह संभावना जताई गई है। उद्योग संघ एसोचैम और डेलॉयट के संयुक्त अध्ययन के मुताबिक ई-कॉमर्स बाजार 2014 में 13.6 अरब डॉलर से बढ़कर 2015 में 19.7 अरब डॉलर पर पहुंच गया।इसमे कहा गया कि मोबाइल तथा इंटरनेट की पहुंच बढ़ने, एम कॉमर्स बिक्री (मोबाइल से बिक्री), सामान पहुंचाने की उन्नत शिपिंग व्यवस्था, भुगतान के विकल्प, मौजूदा छूट और ई-व्यवसाय का नए अंतरराष्ट्रीय बाजार में प्रवेश के चलते बाजार में अप्रत्याशित वृद्धि देखने को मिली है। ई-कॉमर्स पारिस्थितिकी तंत्र में बैंक और अन्य वित्तीय कंपनियां भुगतान गेटवे के माध्यम से आसानी से भुगतान करने के लिए सुरक्षित ऑनलाइन मंच प्रदान कर रही हैं। लेकिन इसके बावजूद भी भारतीय ई-कॉमर्स क्षेत्र भगुतान के लिए ज्यादातर कैश ऑन डिलीवरी (सीओडी) को प्राथमिकता देता है। 50 प्रतिशत से अधिक ऑनलाइन लेनदेन के लिए सीओडी का विकल्प चुना जाता है।सर्वेक्षण में कहा गया है कि नियमित खरीदारों में 28 प्रतिशत 18 से 25 आयु वर्ग के, 42 प्रतिशत 26-35 आयु वर्ग, 28 प्रतिशत 36-45 आयु वर्ग और दो प्रतिशत लोग 45-60 आयु वर्ग के है। ऑनलाइन खरीदारों में 65 प्रतिशत पुरुष और 35 प्रतिशत महिलाएं शामिल हैं।वर्ष 2017 में सर्वाधिक बिकने वाले उत्पादों में मोबाइल फोन, परिधान, खाद्य वस्तुओं और आभूषण सहित अन्य चीजें शामिल हैं।ऑस्ट्रेलियामेंहमारेसाथजानवरोंकीतरहबर्तावहमेंपसंदनहींहैTajinder Bagga Exclusive Interview : 'केजरीवाल पंजाब पुलिस का दुरुपयोग कर रहे हैं, मेरे साथ मारपीट की गई'******Highlights बीजेपी नेता तेजिंदर सिंह बग्गा (Tajinder SinghBagga) नेदिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल(Arvind Kejriwal) पर आरोप लगाया कि वे पंजाब पुलिस का दुरुपयोग कर रहे हैं। उन्होंने पंजाब पुलिस (Punjab Police) परमारपीट का आरोप लगाया। तेजिंदर बग्गा ने ये बातें इंडिया टीवी (India TV) के साथ खास बातचीत में कही। आइये जानतेहैं कि बग्गा ने इस पूरे मामले पर इंडिया टीवी को क्या बताया।बग्गा ने कहा कि उन्होंने पंजाब पुलिस की ओर से दी गई हर नोटिस का जवाब दिया। दो बार मेरे वकील खुद वहां गए। एक सवाल का जवाब देते हुए बग्गा ने कहा कि कल हर जगह अरविंद केजरीवाल की हार हुई है। केजरीवाल अपने हर प्रयास में विफल रहे और कल का दिन अरविंद केजरीवाल के लिए भारी रहा, मेरे लिए नहीं।मुझसे और मेरे पिता से मारपीट की गईतेजिंदर बग्गा ने पूरी घटना के बारे में विस्तार से बताया और कहा कि शुक्रवार सुबह मेरे घर पर दो लोग आए। एक सादी वर्दी में था जबकि एक शख्स पुलिस की वर्दी में था। उन्होंने कहा कि वे नोटिस देने आए हैं। मैंने उन्हें बिठाया और बातचीत कर ही रहा था कि एक शख्स आगे बढ़ा और उसने दरवाजा खोला तो अचानक करीब 15 की संख्या में सादी वर्दी में पुलिसवाले घर के अंदर दाखिल हो गए और मुझे उठा लिया। मैंने उनसे कहा भी कि पगड़ी तो पहनने दो, लेकिन हमारी एक भी बात नहीं सुनी। मेरे पिता जी के साथ भी मारपीट की गई।बग्गा ने कहा कि जब वे बाहर निकले तो करीब 10 गाड़ियों का काफिला था और पंजाब पुलिस के करीब 50 लोग वहां थे।पंजाब पुलिस का दुरुपयोग कर रहे हैं केजरीवालतेजिंदर बग्गा ने कहा कि अरविंद केजरीवाल यह दिखाना चाहते हैं कि अगर आप मेरे खिलाफ आवाज उठाओगे तो हर तरह से परेशान किया जाएगा। बग्गा ने केजरीवाल पर पंजाब पुलिस का दुरुपयोग करने का आरोप लगाया और कहा कि पटियाला में अभी हाल में हिंसा की घटना हुई, पंजाब पुलिस को उसपर कार्रवाई करनी चाहिए, लेकिन ऐसा नहीं हुआ और मुझे गिरफ्तार करने के लिए पूरा दस्ता भेज दिया। तेजिंदर बग्गा ने कहा कि मैं इससे डरने वाला नहीं हूं और आक्रामक होकर आगे काम करता रहूंगा।पंजाब पुलिस ने कल बग्गा कोघर से उठाया थाआपको बता दें कि कल सुबह पंजाब की पुलिस तेजिंदर बग्गा को उनके दिल्ली स्थित घर से उठाकर ले गई थी। इसकी सूचना तेजिंदर पाल के परिजनों ने दिल्ली पुलिस को दी और अपहरण की एफआईआर दर्ज कराई। जिसके बाद दिल्ली पुलिस ने तुरंत इसकी सूचना हरियाणा पुलिस को दी और बग्गा को लेकर पंजाब जा रही पंजाब पुलिस के काफिले को रोक दिया। बाद में दिल्ली पुलिस की टीम भी वहां पहुंची और बग्गा को लेकर वापस दिल्ली लौटी।

ऑस्ट्रेलियामेंहमारेसाथजानवरोंकीतरहबर्तावहमेंपसंदनहींहैपेंशनभोगियों को भी मिलेगा स्‍टैंडर्ड डिडक्‍शन का लाभ, CBDT ने दिया स्‍पष्‍टीकरण******Standard Deduction on Pension बजट 2018 में घोषित 40,000 रुपए के पर ने स्‍पष्‍टीकरण जारी किया है। CBDT ने स्‍पष्‍ट किया है कि किसी व्‍यक्ति को अपने पूर्व नियोक्‍ता से प्राप्‍त होने वाली पेंशन को सैलरी की श्रेणी में रखा जाएगा। इसके लिए फाइनेंस एक्‍ट, 2018 के तहत आयकर अधिनियम की धारा 16 को संशोधित किया गया है ताकि करदाता जिनकी आय वेतन मानी जाती है उन्‍हें 40000 रुपए या सैलरी की राशि जो भी कम हो, उतने स्‍टैंडर्ड डिडक्‍शन का लाभ मिले।इसके अनुसार, कोई भी करदाता जिसे अपने पूर्व कर्मचारी से पेंशन मिलता है वह 40000 रुपए या उसकी पेंशन जो भी कम हो, उसका दावा स्‍टैंडर्ड डिडक्‍शन के तहत कर सकता है। यह दावा आयकर अधिनियम की धारा 16 के तहत किया जा सकता है।इससे पहले लोगों ने यह सवाल उठाया था कि अगर एक करदाता, जिसे अपने पूर्व नियोक्‍ता से पेंशन मिलती है, उसे स्‍टैंडर्ड डिडक्‍शन का फायदा मिलेगा या नहीं।ऑस्ट्रेलियामेंहमारेसाथजानवरोंकीतरहबर्तावहमेंपसंदनहींहैShocking: 2050 तक भारत में 135,000 लोगों की मृत्‍यु का कारण होगा जलवायु परिवर्तन****** अगले 35 सालों में दुनियाभर में पांच लाख से अधिक लोगों की मृत्‍यु होगी, इसमे से करीब 135,000 लोगों की मृत्‍यु अकेले भारत में होगी और इसकी वजह बनेगा जलवायु परिवर्तन। ब्रिटिश मेडिकल जर्नल दि लैनसेट में छपी नई रिपोर्ट के मुताबिक एशिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्‍यवस्‍था भारत में 2050 तक 135,000 लोगों की मृत्‍यु होगी और इसकी वजह होगी जलवायु परिवर्तन से खाद्य उपभोग पर पड़ने वाला प्रभाव। रिपोर्ट के मुताबिक कृषि और खाद्य उपभोग में बदलाव से चीन में भारत की तुलना में ज्‍यादा मौत होंगी। ऑक्‍सफोर्ड यूनिवर्सिटी के रिसर्चर्स ने 155 देशों में अध्‍ययन के बाद यह रिपोर्ट तैयार की है। रिपोर्ट में अनुमान जताया गया है कि जलवायु परिवर्तन की वजह से दुनियाभर में 529,000 अतिरिक्‍त मौत होंगी।जलवायु परिवर्तन आमतौर पर बड़े पैमाने पर, लंबी अवधि में पृथ्‍वी के मौसम पैटर्न या औसत तापमान में बदलाव को कहते हैं। इसमें अचानक गर्मी या सर्दी, वर्षा पैटर्न में बदलाव, समुद्री स्‍तर में वृद्धि या ग्‍लेशियर का पिघलना शामिल है। जलवायु परिवर्तन के कुछ प्राकृतिक कारण हैं, वर्तमान बदलाव में अधिकांश हिस्‍सेदारी मानव जनित है, जिसमें ग्रीनहाउस गैसों का उत्‍सर्जन प्रमुख है।इस रिपोर्ट में अनुमान जताया गया है कि जलवायु परिवर्तन का खाद्य उत्‍पादन पर प्रतिकूल असर पड़ेगा। 2050 को मॉडल प्रोजेक्‍ट मानते हुए रिपोर्ट में कहा गया है कि जलवायु परिवर्तन से वैश्विक खाद्य उपलब्‍धता प्रति व्‍यक्ति 3.2 फीसदी घटेगी, फल और सब्‍जी उपभोग 4 फीसदी घटेगा और मीट के उपभोग में 0.7 फीसदी कमी आएगी।रिपोर्ट में कहा गया है कि आहार की आदतों में यह बदलाव जीवन शैली से जुड़ी बीमारियों में वृद्धि का कारण होगा। भारत में पहले से ही स्‍वास्‍थ्‍य जोखिम में जीवनशैली से जुड़ी बीमारियां शामिल हैं। उदाहरण के लिए, भारत में होने वाले कुल मृत्‍यु में तकरीबन 60 फीसदी मृत्‍यु गैर संचारी रोगों जैसे दिल में संक्रमण, मधुमेह, कैंसर और सांस की बीमारियों की वजह से होती हैं।

हाल का ध्यान

लिंक