वर्तमान पद:मुखपृष्ठ > पार्सल आईलैंड्स > मूलपाठ

प्रधानमंत्री मोदी बोकारो और बरही में चुनावी सभा करेंगे

2022-09-30 10:08:20 पार्सल आईलैंड्स

प्रधानमंत्रीमोदीबोकारोऔरबरहीमेंचुनावीसभाकरेंगेIndia vs Pakistan Preview: महामुकाबले में पुरानी हार का बदला लेने उतरेगा भारत, इन पर होगी बड़ी जिम्मेदारी******दुबई। एशिया कप-2018 के सबसे बहुप्रतिक्षित मुकाबले में बुधवार को भारत और पाकिस्तान की टीमें दुबई अंतर्राष्ट्रीय स्टेडियम में आमने-सामने होंगी। दोनों टीमें इससे पहले पिछले साल चैम्पियंस ट्रॉफी के फाइनल में भिड़ी थीं जहां पाकिस्तान ने बाजी मारी थी। पाकिस्तान ने अपने पहले मैच में हांगकांग को आठ विकेट से आसान मात दी थी। अब उसकी कोशिश अपने इसी विजयी क्रम को भारत के खिलाफ भी जारी रखने की होगी।वहीं एशिया कप की बात की जाए तो भारत ने छह बार पाकिस्तान को हराया तो वहीं पांच बार पाकिस्तान जीत हासिल करने में सफल रहा है। अब पाकिस्तान इस रिकार्ड को बराबरी पर लाना चाहेगा। इस मैच के समय को लेकर हालांकि थोड़ा बहुत विवाद उपजा था। इस मैच से ठीक पहले यानि मंगलवार को भारत का सामना हांगकांग से था। टूर्नामेंट का कार्यक्रम घोषित होने के बाद की मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक बीसीसीआई ने इस कार्यक्रम पर आपत्ती जताई थी। वहीं कुछ पूर्व खिलाड़ियों ने इस पर सवाल किए थे।आयोजकों ने हालांकि मैच की तारीख में बदलाव नहीं किया था और भारत को यह मैच बिना किसी अंतराल के बिना भी खेलना पड़ेगा। भारत इस टूर्नामेंट में अपने नियमित कप्तान विराट कोहली के बिना उतर रहा है। विराट न सिर्फ टीम के कप्तान हैं बल्कि उन्हें मौजूदा दौर के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाजों में गिना जाता है। ऐसे में उनका न रहना पाकिस्तान के लिए राहत की बात हो सकती है।पाकिस्तान के कई खिलाड़ियों ने माना भी है कि कोहली की अनुपस्थिति उनकी टीम के लिए फायदे का सौदा होगी। कोहली के न रहते हुए रोहित के ऊपर जिम्मेदारी बढ़ जाती है। उन्हें न सिर्फ अपने बल्ले से रन निकालने होंगे बल्कि एक कप्तान के तौर पर भी अपनी रणनीतियों में पैना पन रखना होगा।रोहित के अलावा बल्लेबाजी में शिखर धवन के ऊपर बड़ी जिम्मेदारी होगी। कोहली के बाद बीते कुछ वर्षो में इन दोनों ने भारतीय बल्लेबाजी को मजबूती से संभाला है और अब इन दोनों को एक और कड़ी परीक्षा का सामना करना होगा। कोहली के न रहते तीसरे नंबर पर लोकेश राहुल आ सकते हैं। वहीं रोहित भी इस नंबर पर अपने हाथ आजमा सकते हैं।रोहित की सबसे बड़ी समस्या मध्यक्रम है जहां चौथे और पांचवें नंबर के लिए उन्हें जद्दोजहद करनी होगी। इन दो नंबरों के लिए रोहित के पास अंबाती रायडू, केदार जाधव, दिनेश कार्तिक और मनीष पांडे के विकल्प मौजूद हैं। वहीं अनुभवी खिलाड़ी होने के नाते महेंद्र सिंह धोनी के कंधों का भार भी बढ़ गया है।टीम की गेंदबाजी भुवनेश्वर कुमार, जसप्रीत बुमराह के ऊपर है। वहीं स्पिन में युजवेंद्र चहल और कुलदीप यादव मुख्य भूमिका में होंगे। वहीं पाकिस्तान की बात की जाए तो उसकी बल्लेबाजी बाबर आजम, फखर जमन के जिम्मे है। जमन ने ही चैम्पियंस ट्रॉफी के फाइनल में भारत के खिलाफ बेहतरीन बल्लेबाजी की थी और विशाल स्कोर खड़ा कर टीम की जीत की नींव रखी थी। उन्होंने हाल ही में जिम्बाब्वे के खिलाफ दोहरा शतक भी जड़ा है।उनका बल्ला रंग में है जो भारत के लिए अच्छे संकेत नहीं है। हांगकांग के खिलाफ इमाम उल हक ने अर्धशतक लगाया। फखर और इमाम की सलामी जोड़ी भारतीय गेंदबाजों को परेशान करने का माद्दा रखती है। पाकिस्तान की ताकत उसकी गेंदबाजी है। अपनी गेंदबाजी के दम पर ही पाकिस्तान ने चैम्पियंस ट्रॉफी में भारत पर फतह हासिल की थी।गेंदबाजी की जिम्मेदारी मुख्य रूप से हसन अली और मोहम्मद आमिर पर होगी। वहीं युवा उस्मान खान ने भी अपने हालिया प्रदर्शन से काफी प्रभावित किया है। उन्होंने पिछले मैच में तीन विकेट अपने नाम किए थे।स्पिन में पाकिस्तान के पास एक ही मजबूत गेंदबाज है, वो है लेग स्पिनर शादाब खान। पाकिस्तान के पास हालांकि मलिक के रूप में एक अनुभवी ऑफ स्पिनर भी है, लेकिन कई दिनों से उनकी स्पिन का जादू ज्यादा असरदार नहीं रहा है। रोहित शर्मा (कप्तान), शिखर धवन (उपकप्तान), लोकेश राहुल, अंबाती रायडू, मनीष पांडे, केदार जाधव, महेंद्र सिंह धोनी, दिनेश कार्तिक, हार्दिक पांड्या, कुलदीप यादव, युजवेंद्र चहल, अक्षर पटेल, भुवनेश्वर कुमार, जसप्रीत बुमराह, शार्दूल ठाकुर और खलील अहमद। सरफराज अहमद (कप्तान), आसिफ अली, बाबर आजम, फहीम अशरफ, फखर जमन, हारिश सोहेल, हसन अली, इमाम उल हक, जुनैद खान, मोहम्मद आमिर, मोहम्मद नवाज, शादाब खान, शाहीन अफरीदी, शान मसूद, शोएब मलिक, उस्मान खान।

प्रधानमंत्रीमोदीबोकारोऔरबरहीमेंचुनावीसभाकरेंगेशतकीय पारी के बाद उस्मान ख्वाजा ने बताया, मुश्किल था इंग्लैंड के गेंदबाजों के सामने बल्लेबाजी करना******ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज उस्मान ख्वाजा ने शुक्रवार को कहा कि एससीजी जैसी एक कठिन पिच पर जिमी एंडरसन, स्टुअर्ट ब्रॉड और मार्क वुड जैसे गुणवत्ता वाले इंग्लैंड के तेज गेंदबाजों को खेलने के लिए कोई शॉर्टकट नहीं है। उन्होंने आगे कहा कि उनका शतक कड़ी मेहनत का परिणाम था। ढाई साल से अधिक समय के बाद टेस्ट क्रिकेट खेल रहे ख्वाजा ने गुरुवार को सिडनी क्रिकेट ग्राउंड में चौथे एशेज टेस्ट के दूसरे दिन 260 गेंदों में 137 रनों की पारी खेली, ऑस्ट्रेलिया ने 416 रनों पर पारी घोषित कर दी थी।शुक्रवार को टेस्ट के तीसरे दिन से पहले, 35 वर्षीय ख्वाजा ने बताया कि इंग्लैंड के तेज गेंदबाजों को खेलना कितना कठिन था।सेन रेडिया से ख्वाजा ने कहा कि जिमी एंडरसन हमेशा बहुत अनुशासित गेंदबाजी करते हैं। वह वास्तव में कभी भी एक ओवर में दो रन से अधिक देते हैं, आपको लगभग उसे स्वीकार करना होगा। मैं उनके खिलाफ ज्यादा संभलकर खेलता हूं स्टुअर्ट ब्रॉड के साथ भी ऐसा ही है, लेकिन वह है थोड़ा और आक्रामक हैं। वहीं मार्क वुड भी हमला कर रहे थे।"उन्होंने आगे कहा, "इससे मुझे बेन स्टोक्स के खिलाफ भी खेलने में मदद मिली, उनके पास एक कम गेंदबाज था जो एक बल्लेबाज के रूप में हमेशा अच्छा होता है। उन्हें दूसरे लोगों को और अधिक लाना होगा और उन्हें थोड़ा कठिन काम करना होगा।"अपना नौवां टेस्ट शतक (137) बनाने वाले ख्वाजा ने कहा कि वह गेंदबाजों को परेशान करने के लिए खुद को अधिक से अधिक स्ट्रोक खेलने के विकल्प देने के लिए कड़ी मेहनत करते हैं।प्रधानमंत्रीमोदीबोकारोऔरबरहीमेंचुनावीसभाकरेंगेIRE vs NZ: माइकल ब्रेसवेल ने हैट्रिक लेकर बटोरी सुर्खियां, ईश सोढ़ी ने न्यूजीलैंड को जिताया मैच, आयरलैंड पर बनाई अजेय बढ़त******Highlightsकिसी टी20 मैच में हैट्रिक लेने का मतलब है जीत को लगभग पक्की करना और सुर्खियों में छा जाना। आयरलैंड के खिलाफ सीरीज के दूसरे मैच में माइकल ब्रेसवेल ने यही किया। उन्होंने सिर्फ पांच गेंदें डाली, लगातार तीन विकेट चटकाकर करियर का पहला हैट्रिक अपने नाम किया और मुकाबले को कीवियों की झोली में डाल दिया।ब्रेसवेल ने अपने पहले ओवर की तीसरी गेंद पर 27 रन पर बल्लेबाजी कर रहे मार्क एडेयर को आउट किया। चौथी गेंद पर 11 रन बनाकर क्रीज में डटे बैरी मैक्कार्थी को पवेलियन भेजा और पांचवीं गेंद पर खाता खोलने का मौका दिए बगैर क्रेग यंग को चलता किया। उनकी इस कामयाबी ने 180 रन के लक्ष्य का पीछा कर रहे आयरलैंड को 91 रन पर समेट दिया। यह बेहतरीन प्रदर्शन था, लेकिन न्यूजीलैंड की जीत तय करने वाले असल खिलाड़ी थे ईश सोढ़ी।सोढ़ी ने आयरलैंड के पांचवें, छठे और सातवें नंबर के बल्लेबाज को आउट किया, जिसमें कर्टिस कैंफर और लॉर्कन टकर और जॉर्ज डॉकरेल जैसे खतरनाक बल्लेबाज शामिल थे। उन्होंने टकर और डॉकरेल को लगातार दो गेंदों पर आउट किया और न्यूजीलैंड की जीत सोढ़ी की इन दो सफलताओं से ही लगभग तय हो गई।पहले बल्लेबाजी करते हुए न्यूजीलैंड की टीम में डेन क्लीवर अकेले बल्लेबाज थे जिन्होंने आयरलैंड के खिलाफ एक बड़ी पारी खेलने में कामयाबी पाई। क्लीवर ने तीसरे नंबर पर बल्लेबाजी करते हुए 55 गेंदों पर 77 रन बनाए और आखिर तक आउट नहीं हुए। उन्होंने कीवी टीम की बल्लेबाजी में धुरी की तरह काम किया जिनके ईर्द गिर्द तमाम दूसरे बल्लेबाज आते-जाते रहे। क्लीवर की इस पारी की बदौलत न्यूजीलैंड ने 179 रन का मजबूत स्कोर खड़ा किया।न्यूजीलैंड ने आयरलैंड को दूसरे टी20 अंतरराष्ट्रीय मैच में 88 रन से करारी शिकस्त देकर तीन मैचों की सीरीज मे 2-0 की अजेय बढ़त हासिल कर ली। न्यूजीलैंड के 179 रन के जवाब में आयरलैंड की टीम 13.5 ओवर में 91 रन ही बना सकी। ये कीवियों की मेजबान टीम पर लगातार पांचवीं जीत थी। इससे पहले मलाहाइड में हुई वनडे सीरीज में मेजबान टीम का 3-0 से क्लीन स्वीप हुआ था।टी20 सीरीज का तीसरा और आखिरी मैच शुक्रवार को भारतीय समय के अनुसार रात 8.00 बजे शुरू होगा।

प्रधानमंत्री मोदी बोकारो और बरही में चुनावी सभा करेंगे

प्रधानमंत्रीमोदीबोकारोऔरबरहीमेंचुनावीसभाकरेंगेअमरनाथ यात्रा शांतिपूर्वक संपन्न, 2.85 लाख लोगों ने किए दर्शन****** 60 दिवसीय रविवार को शांतिपूर्वक संपन्न हो गई। इस साल 2.85 लाख से ज्यादा श्रद्धालुओं ने इस गुफा शिवलिंग के दर्शन किए। यात्रा 28 जून को शुरू हुई थी। महंत दीपेंद्रगिरि और उनके संरक्षकों की अगुवाई में हिंदू पुजारियों का एक समूह 'छड़ी मुबारक' के साथ रविवार सुबह गुफा मंदिर में पहुंचा।महंत दीपेंद्र गिरि ने बताया कि श्रद्धालुओं ने देश और विशेष रूप सेजम्मू एवं कश्मीर में शांति और समृद्धि के लिए प्रार्थना की।पिछले तीन वर्षों की तुलना में इस साल अधिक संख्या में श्रद्धालुओं ने दर्शन किए। असाधारण सुरक्षा इंताजाम के कारण इस साल की यात्रा शांतिपूर्वक संपन्न हुई। सुरक्षा के लिए 70 हजार से ज्यादा सुरक्षाकर्मियोंको तैनात किया गया था और स्थानीय मुस्लिमों ने भी सहयोग दिया था।भूस्खलन से चार श्रद्धालुओं की मौत के अलावा इस साल यात्रा घटनामुक्त रही। किसी आतंकी संगठन ने श्रद्धालुओं के जत्थे पर कोई हमला नहीं किया और अधिकतर संगठनों ने बयान जारी कर कहा था कि यात्राउनके निशाने वाली सूची में नहीं है, क्योंकि यह पूर्ण रूप से धार्मिक प्रक्रिया है। श्रद्धालुओं के लिए यहां हेलीकॉप्टर सेवा भी उपलब्ध थी।प्रधानमंत्रीमोदीबोकारोऔरबरहीमेंचुनावीसभाकरेंगेAngry Foods: इन फूड्स को खाने से पारा हो जाता है हाई, गर्म मिजाज के लोग बनाएं दूरी******Highlightsगुस्सा आने के पीछे कई वजहें हो सकती हैं। इनमें आर्थिक परेशानी, अपनों से धोखा, पारिवारिक विवाद, जमीनी विवाद, दफ्तर में काम का प्रेशर, टेंशन और तनाव जैसी न जाने कितने कारण हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कुछ खायी जाने वाली चीज़ें भी इंसान को गुस्सा दिलाने का काम करती हैं। आज हम आपको गुस्सा दिलाने वाले कुछ खाद्य पदार्थों के बारे में बताएंगे। ये वो खाद्य पदार्थ हैं जिनका हम रोज़ाना सेवन करते हैं।कॉफी बहुत ज़्यादा लोग पीते हैं। आपने देखा होगा वर्कआउट करने वाले लोग ब्लैक कॉफी का सेवन करते हैं। आलस या थकान होने पर व्यक्ति कॉफी का सेवन करते ही एनर्जेटिक हो जाता है। ये सब कुछ कैफीन के कारण होता है। एनर्जी हाई होने पर ये दिमाग को ट्रिगर करता है और एग्रेशन को बढ़ा सकता है। इसलिए कॉफी का अधिक सेवन करने से बचना चाहिए।मसालेदार भोजन से शरीर को गर्मी मिलती है। यदि आपके शरीर में पहले से ही गर्मी है तो आपको उसे और अधिक ईधन देने की जरूरत नहीं है। शरीर को और अधिक हीट देने पर पित्त दोष बढ़ जाएगा, जो गुस्से को बढ़ाने का काम करेगा।आपने देखा होगा जो लोग तीखा या ज़्यादा मसालेदार भोजन करते हैं, उनको गुसा ज़्यादा आता है।फूलगोभी खाने से आपकी बॉडी में एक्सा एयर बनने लगती है जिसकी वजह से गैस और सूजन का खतरा पैदा हो जाता है, और यही आपके गुस्से की वजह बन जाता है। ब्रोकोली के साथ भी यही समस्या पेश आती है।टमाटर एक ऐसी सब्जी है जिसके बिना हमारी रेसेपीज का जायका अधूरा रहता है। इसके खाने के यूं तो कई फायदे हैं, लेकिन लेकिन इसे गर्म आहार समझा जाता है। ये शरीर में गर्मी बढ़ा सकता है और इंसान को गुस्सा आ सकता है।खीरा और तरबूज खाने से भले ही हमारी बॉडी हाइड्रेट रहती हो, लेकिन ये क्रोध को बढ़ाने के लिए भी जिम्मेदार हो सकता है। अगर आप तनाव में हों तो इन फलों को न खाएं।बैंगन में एसिडिक कंटेंट ज्यादा होता जो आपके दिमाग में गुस्सा पैदा कर सकता है। अगर आपको लगे कि इस सब्जी के खाने के बाद गुस्सा आने लगता है तो इसको खाना कम कर दें।Aaj Ka Rashifal 9 August 2022: इन 5 राशियों को बिजनेस में होगा मुनाफाप्रधानमंत्रीमोदीबोकारोऔरबरहीमेंचुनावीसभाकरेंगेM&M February 2020 sales: महिंद्रा एंड महिंद्रा की बिक्री फरवरी में 42 प्रतिशत गिरी, निर्यात भी 40 फीसदी घटा******Mahindra and Mahindra sales fall 42 per cent to 32,476 units in February 2020 वाहन कंपनी महिंद्रा एंड महिंद्रा की बिक्री फरवरी महीने में सालाना आधार पर 42 प्रतिशत गिरकर 32,476 इकाइयों पर आ गयी। कंपनी ने एक बयान में रविवार को इसकी जानकारी दी। कंपनी ने कहा कि उसने पिछले साल फरवरी महीने में 56,005 वाहनों की बिक्री की थी। कंपनी की घरेलू बिक्री इस दौरान 42 प्रतिशत गिरकर पिछले साल की 52,915 इकाइयों की तुलना में 30,637 इकाइयों पर आ गयी। इस दौरान निर्यात भी पिछले साल की 3,090 इकाइयों की तुलना में 40 प्रतिशत गिरकर 1,839 इकाइयों पर आ गयी। कंपनी ने यूटिलिटी वाहनों, कारों और वैन समेत यात्री वाहन श्रेणी में फरवरी 2020 में 10,938 वाहनों की बिक्री की। यह फरवरी 2019 में इस श्रेणी में बिके 26,109 वाहनों की तुलना में 58 प्रतिशत कम है। इस दौरान कंपनी के वाणिज्यिक वाहनों की साल भर पहले की 21,154 इकाइयों से 25 प्रतिशत गिरकर 15,856 इकाइयों पर आ गयी।मध्यम एवं भारी वाणिज्यिक वाहनों के खंड में भी बिक्री 686 इकाइयों की तुलना में कम होकर 436 इकाइयों पर आ गयी। कंपनी के प्रमुख (बिक्री एवं विपणन, वाहन खंड) विजय राम नाकरा ने कहा, 'भारत स्टेज-4 वाहनों के उत्पादन में फरवरी महीने में हमारी योजना के अनुसार कमी आयी। हालांकि चीन से कल-पुर्जों की आपूर्ति बाधित होने से भारत स्टेज-6 वाहनों का उत्पादन प्रभावित हुआ है।' इसका असर भंडार पर पड़ा है और अभी डीलरों के पास महज 10 दिन के योग्य वाहनों का भंडार रह गया है। उन्होंने कहा कि मार्च में परिस्थितियां सामान्य होने से पहले कुछ सप्ताह तक कल-पुर्जों की आपूर्ति को लेकर चुनौतियां बनी रहने का अनुमान है।

प्रधानमंत्री मोदी बोकारो और बरही में चुनावी सभा करेंगे

प्रधानमंत्रीमोदीबोकारोऔरबरहीमेंचुनावीसभाकरेंगेरेयान कैंपबेल की स्थिति अब भी गंभीर, ब्रिटेन के एक अस्पताल में चल रहा है इलाज******नीदरलैंड के कोच रेयान कैंपबेल की दिल का दौरा पड़ने के करीब एक सप्ताह बाद भी स्थिति गंभीर बनी हुई है। उनका ब्रिटेन के एक अस्पताल में उपचार चल रहा है। 'ईएसपीएनक्रिकइंफो' के अनुसार, कैंपबेल के परिवार ने शुक्रवार को बयान जारी कर उनकी स्थिति के बारे में अवगत कराया। ऑस्ट्रेलिया के इस पूर्व विकेटकीपर बल्लेबाज को पिछले शनिवार को दिल का दौरा पड़ा था।परिवार ने बयान में कहा, ‘‘रेयान को पिछले सप्ताह के आखिर में दिल का दौरा पड़ा। उनका ब्रिटेन के रॉयल स्टोक यूनिवर्सिटी अस्पताल में उपचार चल रहा है जहां उनकी स्थिति गंभीर बनी हुई है। चिकित्सक उनकी स्थिति पर 24 घंटे निगरानी रखे हुए हैं।’’बयान के अनुसार, ‘‘वह अधिकतर समय बेहोश रहते हैं और इस सप्ताह के आखिर तक ऐसी स्थिति बने रहने की संभावना है। हम अस्पताल के चिकित्सकों और कर्मचारियों के प्रति आभार व्यक्त करते हैं।’’शनिवार को दिल का दौरा पड़ने के बाद 50 वर्षीय कैंपबेल को आईसीयू में भर्ती कराया गया था। ब्रिटेन में अपने परिवार के साथ रह रहे कैंपबेल को सीने में दर्द और सांस लेने में कठिनाई महसूस हुई थी। कैंपबेल नीदरलैंड की टीम के न्यूजीलैंड दौरे के बाद यूरोप लौट गये थे। उन्हें जनवरी 2017 में नीदरलैंड का कोच नियुक्त किया गया था।एक खिलाड़ी के रूप में उन्होंने ऑस्ट्रेलिया और हांगकांग दोनों का प्रतिनिधित्व किया था। उन्होंने आईसीसी टी20 विश्व कप 2016 में हांगकांग का प्रतिनिधित्व किया था। वह 44 साल 30 दिन में इस प्रारूप में पदार्पण करने वाले सबसे उम्रदराज खिलाड़ी बने थे।प्रधानमंत्रीमोदीबोकारोऔरबरहीमेंचुनावीसभाकरेंगेरुपए ने बनाया आज गिरने का नया रिकॉर्ड, 47 पैसे कमजोर होकर 72.98 पर हुआ बंद******rupeeको मजबूत करने के सभी सरकारी प्रयास अभी तक नाकाम होते प्रतीत हो रहे हैं। मंगलवार को दूसरे दिन रुपए ने एक नया निम्‍न रिकॉर्ड बनाया है। मंगलवार को रुपया अमेरिकी डॉलर की तुलना में 47 पैसे और गिरकर 72.98 के नए निचले स्‍तर पर बंद हुआ। इससे पहले मंगलवार को शुरुआती कारोबार में रुपया 10 पैसे मजबूत होकर 72.41 रुपए प्रति डॉलर पर पहुंच गया था। बैंकों एवं निर्यातकों की डॉलर बिकवाली से अंतरबैंकिंग मुद्रा बाजार में मंगलवार को शुरुआती कारोबार में रुपया 10 पैसे मजबूत होकर 72.41 रुपए प्रति डॉलर पर पहुंचा। रुपया गिरकर 72.65 रुपए प्रति डॉलर पर खुला लेकिन बाद में सुधार के साथ 72.41 रुपए प्रति डॉलर पर पहुंच गया।डीलरों ने कहा कि बैंकों एवं निर्यातकों द्वारा डॉलर की बिकवाली के अलावा वैश्विक बाजारों में कच्चे तेल में नरमी तथा अमेरिका-चीन व्यापार युद्ध के तनावों के चलते अन्य प्रमुख मुद्राओं की तुलना में डॉलर के कमजोर होने से रुपए को मजबूती मिली।इससे पहले रुपया सोमवार को 67 पैसे की भारी गिरावट के साथ 72.51 रुपए प्रति डॉलर पर बंद हुआ था।विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में धारणा में सुधार लाने के लिये सरकार ने शुक्रवार को कुछ उपायों की घोषणा की थी। इनमें विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों का प्रवाह बढ़ाने और आयात कम करने के लिए पांच सूत्रीय योजना की घोषणा की गई।लेकिन सरकार के उपाय कई निवेशकों की उम्मीदों पर खरे नहीं उतरे और बाजार में भारी बिकवाली का दबाव बन गया।

प्रधानमंत्री मोदी बोकारो और बरही में चुनावी सभा करेंगे

प्रधानमंत्रीमोदीबोकारोऔरबरहीमेंचुनावीसभाकरेंगेराजस्व घाटा अनुदान की छठी किस्त जारी, 17 राज्यों को मिले 9,871 करोड़ रुपये******राजस्व घाटा अनुदान की छठी किस्त जारीनई दिल्ली। वित्त मंत्रालय ने बृहस्पतिवार को कहा कि उसने 17 राज्यों को 9,871 करोड़ रुपये के राजस्व घाटा अनुदान की छठी मासिक किस्त जारी कर दी है। इसके साथ ही चालू वित्त वर्ष में पात्र राज्यों को कुल 59,226 करोड़ रुपये की राशि जारी की जा चुकी है। मंत्रालय के अनुसार इस अनुदान को प्राप्त करने की राज्यों की पात्रता और अनुदान की मात्रा का निर्धारण वित्त आयोग द्वारा राज्य के राजस्व और व्यय के आकलन में अंतर के आधार पर किया गया था।पंद्रहवें वित्त आयोग ने पीडीआरडी अनुदान के लिए आंध्र प्रदेश, असम, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, कर्नाटक, केरल, मणिपुर, मेघालय, मिजोरम, नागालैंड, पंजाब, राजस्थान, सिक्किम, तमिलनाडु, त्रिपुरा, उत्तराखंड और पश्चिम बंगाल जैसे राज्यों की सिफारिश की है। 15वें वित्त आयोग ने वर्ष 2021- 22 के दौरान 17 राज्यों को कर हिस्सेदारी हस्तांतरण के बाद राजस्व घाटे की भरपाई के लिये 1,18,452 करोड़ रुपये का अनुदान दिये जाने की सिफारिश की है, छठी किस्त के साथ इसका आधा हिस्सा राज्यों को दिया जा चुका है। राज्यों को पीडीआरडी अनुदान (Post Devolution Revenue Deficit Grant ) आर्टिकल 275 के तहत दिया जाता है।छठी किस्त में सबसे बड़ा हिस्सा केरल का रहा है जिसे 1657.58 करोड़ रुपये मिले हैं। इसके साथ ही पश्चिम बंगाल को 1467.25 करोड़ रुपये और आंध्र प्रदेश को 1438.08 करोड़ रुपये मिले हैं। हिमाचल प्रदेश को 854.08 करोड़ रुपये, पंजाब को 840.08 करोड़ रुपये, राजस्थान को 823.17 करोड़ रुपये और उत्तराखंड को 647.67 करोड़ रुपये मिल चुके हैं। वहीं अब तक बंटे करीब 60 हजार करोड़ रुपये में से केरल को 9945.50 करोड़ रुपये, पश्चिम बंगाल को 8803.50 करोड़ रुपये, आंध्र प्रदेश को 8628.50 करोड़ रुपये, हिमाचल प्रदेश को 5124.50 करोड़ रुपये, पंजाब को 5040.50 करोड़ रुपये और राजस्थान को 4939.00 करोड़ रुपये मिले हैं।

प्रधानमंत्रीमोदीबोकारोऔरबरहीमेंचुनावीसभाकरेंगेदिल्ली NCR सहित पूरे उत्तर भारत में बरसात के आसार, पहाड़ी राज्यों में बर्फबारी संभव****** दिल्ली समेत पूरे उत्तर भारत में एक बार फिर से तापमान में गिरावट आ सकती है। ने 23 जनवरी को उत्तर भारत के कुछएक मौदानी इलाकों में बरसात और पहाड़ी क्षेत्रों में बर्फवारी की संभावना जताई है। बरसात और बर्फवारी से दिल्ली समेत पूरे उत्तर भारत में एक बार फिर से पारा लुढ़क सकता है।मौसम विभाग के मुताबिक उत्तराखंड में 23 जनवरी को मैदानी इलाकों में कुछएक जगहों पर भारी बरसात और पहाड़ी इलाकों में भी कई जगहों पर बर्फवारी हो सकती है, 24 जनवरी को भी राज्य में बरसात की संभावना है। इसके अलावा पश्चिमी उत्तर प्रदेश के कुछएक इलाकों में भी 23 और 24 जनवरी को बरसात की संभावना है।इन राज्यों के अलावा पंजाब, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, जम्मु-कश्मीर और में भी कुछएक इलाकों पर 23 और 24 जनवरी को बरसात के आसार हैं। राजस्थान और पश्चिमी मध्य प्रदेश के कुछएक इलाकों में भी 23 जून को हल्की बारिश हो सकती है।प्रधानमंत्रीमोदीबोकारोऔरबरहीमेंचुनावीसभाकरेंगेखुदरा महंगाई दर जून में बढ़कर हुई 6.26 प्रतिशत, मई में औद्योगिक उत्‍पादन 29.3 प्रतिशत बढ़ा******Retail inflation at 6.26 pc in June, Industrial production grows 29.3 pc in May जून महीने में खुदरा महंगाई दर लगभग स्थिर 6.26 प्रतिशत रही, जो इससे पहले मई माह में 6.3 प्रतिशत थी। सोमवार को जारी सरकारी आंकड़ों से यह पता चला है। उपभोक्‍ता मूल्‍य सूचकांक (सीपीआई) पर आधारित मुद्रास्फिति हालांकि केंद्रीय बैंक की तय सीमा से लगातार दूसरे महीने ऊपर बनी रही। आरबीआई को सरकार की ओर से यह समर्थन मिला हुआ है कि वह को 2 प्रतिशत ऊपर-नीचे मार्जिन के साथ 4 प्रतिशत के स्‍तर पर बनाए रखे। राष्‍ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय (NSO) द्वारा जारी ताजा आंकड़ों के मुताबिक खाद्य पदार्थों की मुद्रास्‍फीति जून में 5.15 प्रतिशत रही, जो मई में 5.01 प्रतशत थी।भारत के औद्योगिक उत्‍पादन में मई के दौरान 29.3 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई, सोमवार को जारी सरकारी आंकड़ों से यह पता चला। औद्योगिक उत्‍पादन के सूचकांक (IIP) के मुताबिक विनिर्माण क्षेत्र में मई 2021 में 34.5 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई। खनन क्षेत्र में उत्‍पादन 23.3 प्रतिशत और बिजली उत्‍पादन में 7.5 प्रतिशत की वृद्धि हुई। मई में आईआईपी में 33.4 प्रतिशत की गिरावट आई थी।पिछले साल मार्च से कोरोनावायरस महामारी की वजह से औद्योगिक उत्‍पादन में लगातार गिरावट आ रही थी। मार्च, 2020 में इसमें 18.7 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई थी। अप्रैल 2020 में कोरोना वायरस संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए लगाए गए राष्‍ट्रीय लॉकडाउन की वजह से बंद पड़ी आर्थिक गतिविधियों की वजह से इसमें 57.3 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई थी। पिछले साल फरवरी के दौरान आईआईपी में 5.2 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई थी।

प्रधानमंत्रीमोदीबोकारोऔरबरहीमेंचुनावीसभाकरेंगेGold Price Today: ग्राहकों के लिए खुशखबरी, सोने-चांदी की कीमत में आज फिर बड़ी गिरावट******दिल्ली सर्राफा बाजार में बुधवार को सोना 208 रुपये की गिरावट के साथ 51,974 रुपये प्रति 10 ग्राम रह गया। एचडीएफसी सिक्योरिटीज ने यह जानकारी दी। इससे पिछले कारोबारी सत्र में सोना 52,182 रुपये प्रति 10 ग्राम पर बंद हुआ था। चांदी की कीमत भी 1,060 रुपये की भारी गिरावट के साथ 57,913 रुपये प्रति किलोग्राम रह गई। पिछले कारोबारी सत्र में चांदी 58,973 रुपये प्रति किलोग्राम पर बंद हुई थी। अंतरराष्ट्रीय बाजार में सोना तेजी के साथ 1,767 डॉलर प्रति औंस पर कारोबार कर रहा था जबकि चांदी 19.93 डॉलर प्रति औंस पर स्थिर बनी हुई थी। एचडीएफसी सिक्योरिटीज के वरिष्ठ विश्लेषक (जिंस) तपन पटेल ने कहा, ‘‘डॉलर के मजबूत होने तथा अमेरिकी बॉन्ड आय बढ़ने से सोने का लाभ कुछ कम हो गया।’’ मजबूत हाजिर मांग के कारण सटोरियों ने ताजा सौदों की लिवाली की जिससे वायदा बाजार में बुधवार को सोना 41 रुपये की तेजी के साथ 51,365 रुपये प्रति 10 ग्राम रह गया। मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज में अक्टूबर महीने की डिलिवरी के लिये सोना 41 रुपये यानी 0.08 प्रतिशत की तेजी के साथ 51,423 रुपये प्रति 10 ग्राम रह गया। इसमें 15,644 लॉट के लिये कारोबार हुआ। बाजार विश्लेषकों ने कहा कि कारोबारियों द्वारा ताजा सौदों की लिवाली करने से सोना वायदा कीमतों में तेजी आई। वैश्विक स्तर पर न्यूयार्क में सोना 0.35 प्रतिशत की गिरावट के साथ 1,783.40 रुपये प्रति औंस रह गया। कमजोर हाजिर मांग के कारण कारोबारियों ने अपने सौदों के आकार को घटाया जिससे वायदा बाजार में बुधवार को चांदी की कीमत 301 रुपये की गिरावट के साथ 57,285 रुपये प्रति किलोग्राम रह गया। मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज में सितंबर महीने में डिलिवरी वाले चांदी के अनुबंध की कीमत 301 रुपये यानि 0.52 प्रतिशत की गिरावट के साथ 57,285 रुपये प्रति किलोग्राम रह गया। इसमें 17,962 लॉट के लिए कारोबार हुआ। वैश्विक स्तर पर न्यूयॉर्क में चांदी 1.43 प्रतिशत की गिरावट के साथ 19.85 डॉलर प्रति औंस रह गया।प्रधानमंत्रीमोदीबोकारोऔरबरहीमेंचुनावीसभाकरेंगे8 महीनों में 31 अरब डॉलर की कमी, पिछले हफ्ते 94.2 करोड़ डॉलर घटकर अब हमारे पास बचा है 393.52 अरब डॉलर का विदेशी मुद्रा भंडार******forex reserves भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने बताया कि 19 अक्‍टूबर को समाप्‍त सप्‍ताह के दौरान गिरावट आने से देश का विदेशी मुद्रा भंडार 94.2 करोड़ डॉलर घटकर 393.52 अरब डॉलर रह गया, जो 28,861.7 अरब रुपए के बराबर है। इससे पिछले सप्ताह में, विदेशी मुद्रा भंडार 5.14 अरब डॉलर की भारी गिरावट के साथ 394.465 अरब डॉलर रह गया था। इस साल अप्रैल के बाद से देश के विदेशी मुद्रा भंडार में 31 अरब डॉलर तक की कमी आ चुकी है। रिजर्व बैंक के आंकड़ों के मुताबिक, समीक्षाधीन सप्ताह में, कुल भंडार का महत्वपूर्ण घटक विदेशी मुद्रा आस्तियां 92.24 करोड़ डॉलर घटकर 369.076 अरब डॉलर रह गई, जो 27,084.6 अरब रुपए के बराबर है।अमेरिकी डॉलर में अभिव्यक्त की जाने वाली विदेशी मुद्रा आस्तियों पर देश के मुद्राभंडार में रखे यूरो, पौंड और येन जैसे गैर-अमेरिकी मुद्राओं की मूल्यवृद्धि या मूल्यह्रास का प्रभाव भी पड़ता है। उल्लेखनीय है कि 13 अप्रैल, 2018 को समाप्त सप्ताह में विदेशी मुद्रा भंडार 426.028 अरब डॉलर के रिकॉर्ड उच्च स्तर तक पहुंच गया था। तब से, विदेशी मुद्रा भंडार में गिरावट जारी है और अब तक इसमें 31 अरब डॉलर की कमी आई है।आंकड़ों से पता चलता है कि समीक्षाधीन सप्ताह में देश का स्वर्ण भंडार 20.52 अरब डॉलर पर अपरिवर्तित रहा, जो 1,488.9 अरब रुपए के बराबर है। अंतरराष्‍ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) में विशेष निकासी अधिकार 73 लाख डॉलर घटकर 1.465 अरब डॉलर रह गया, जो 107.6 अरब रुपए के बराबर है। रिजर्व बैंक ने कहा कि आईएमएफ में देश की आरक्षित स्थिति में भी 1.23 करोड़ डॉलर की गिरावट आई है और इसके बाद यह 2.495 अरब डॉलर रह गई, जो 180.6 अरब रुपए के बराबर है।

प्रधानमंत्रीमोदीबोकारोऔरबरहीमेंचुनावीसभाकरेंगेWI vs IND : टीम इंडिया को एक और झटका, ये खिलाड़ी भी हो सकता है बाहर******Highlightsभारत और वेस्टइंडीज के बीच तीन मैचों की वन डे सीरीज आज से शुरू होने जा रही है। इससे पहले टीम इंडिया को एक और बड़ा झटका लगा है। कोविड पॉजिटिव होने के कारण केएल राहुल का टी20 सीरीज में खेलने पर पहले से ही सस्पेंस बना हुआ हैं,अब पता चला है कि वन डे सीरीज के लिए उपकप्तान चुने गए रवींद्र जडेजा भी सीरीज से बाहर हो सकते हैं। रवींद्र जडेजा के घुटने में चोट बताई जा रही है, इसलिए उनके खेलने पर भी संकट के बादल मंडराने लगे हैं। वन डे सीरीज के लिए रोहित शर्मा, विराट कोहली, जसप्रीत बुमराह और हार्दिक पांड्या जैसे सीनियर खिलाड़ियों को पहले ही रेस्ट दिया गया है, अब रवींद्र जडेजा भी शायद इस सीरीज के सभी तीन मैच न खेल पाएं। इससे टीम इंडिया की मुश्किलें और भी बढ़ सकती हैं।रवींद्र जडेजा का वेस्टइंडीज के खिलाफ 22 जुलाई यानी आज से शुरू होने वाली वन डे सीरीज के पहले मैच में खेलना संदिग्ध है। साथ ही केएल राहुल का भी टी20 सीरीज के लिए खेलना पक्का नहीं है, क्योंकि वे कोविड पॉजिटिव आए थे। हालांकि केएल राहुल वन डे सीरीज के लिए नहीं चुने गए थे, लेकिन वे टी20 सीरीज वाली टीम में थे, लेकिन उनका खेलना न खेलना फिटनेस पर आधारित था, अभी उनका फिटनेस टेस्ट नहीं हुआ है। अब जब वे कोविड निगेटिव हो जाएंगे, उसके बाद ही फिटनेस टेस्ट हो सकता है।बताया जाता है कि तीन मैचों की वन डे सीरीज के लिए उपकप्तान चुने गए रवींद्र जडेजा के घुटने में चोट है। हालांकि अभी ये साफ नहीं है कि उनकी चोट कितनी गंभीर है, बीसीसीआई की डॉक्टरों की टीम उनका परीक्षण कर रही है, टीम की रिपोर्ट आने के बाद ही उन पर कोई आगे का फैसला किया जाएगा। बीसीसीआई के सूत्रों ने क्रिकबज से खुलासा किया है कि टीम के स्टार ऑलराउंडर जडेजा को पूरी वन डे सीरीज के लिए आराम दिया जा सकता है, यह फैसला एहतियात पर टिका है। अगर वे खेलते हैं तो घुटने की चोट और भी बढ़ सकती है, इसलिए उन्हें रेस्ट दिया जा सकता है, ताकि टी20 सीरीज के लिए वे फिट हो सकें। सूत्रों ने कहा कि रवींद्र जडेजा तीन वन डे मैचों के बाद होने वाली पांच मैचों की T20 सीरीज के लिए फिट हो सकते हैं। वन डे सीरीज के तीनों मैच 22, 24 और 27 जुलाई को खेले जाने हैं।अब देखना ये भी होगा कि वन डे सीरीज से अगर रवींद्र जडेजा बाहर होते हैं तो टीम का नया उपकप्तान कौन बनता है। हो सकता है कि इस बारे में बीसीसीआई की ओर से कोई फैसला न लिया जाए और इस निर्णय टीम इंडिया के हेड कोच राहुल द्रविड़ पर छोड़ दिया जाए। वनडे टीम में सीनियर खिलाड़ी श्रेयस अय्यर, शार्दुल ठाकुर और युजवेंद्र चहल हैं। इनमें से कोई एक खिलाड़ी उपकप्तानी की जिम्मेदारी निभ सकता है।शिखर धवन (कप्तान), रुतुराज गायकवाड़, शुभमन गिल, दीपक हुड्डा, सूर्यकुमार यादव, श्रेयस अय्यर, ईशान किशन (विकेटकीपर), संजू सैमसन (विकेटकीपर), रवींद्र जडेजा (उपकप्तान), शार्दुल ठाकुर, युजवेंद्र चहल, अक्षर पटेल, अवेश खान, प्रसिद्ध कृष्णा, मोहम्मद सिराज, अर्शदीप सिंह।रोहित शर्मा (कप्तान), ईशान किशन, केएल राहुल*, सूर्यकुमार यादव, दीपक हुड्डा, श्रेयस अय्यर, दिनेश कार्तिक, ऋषभ पंत, हार्दिक पांड्या, रवींद्र जडेजा, अक्षर पटेल, आर अश्विन, रवि बिश्नोई, कुलदीप यादव*, भुवनेश्वर कुमार, अवेश खान, हर्षल पटेल, अर्शदीप सिंह।प्रधानमंत्रीमोदीबोकारोऔरबरहीमेंचुनावीसभाकरेंगेKolkata News: CISF के जवान ने अपने ही साथियों पर AK47 की पूरी मैगजीन कर दी खाली, जानें फिर क्या हुआ******Highlightsकोलकाता में भारतीय संग्रहालय (इंडियन म्यूजियम) में तैनात CISF (केन्द्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल) के एक जवान ने रविवार की शाम कथित रूप से अपने दो सहकर्मियों को गोली मार दी। इस घटना में जवान के एक वरिष्ठ सहकर्मी की मौत हो गई जबकि एक अन्य अधिकारी घायल हो गया। अधिकारियों ने बताया कि कथित रूप से गोली चलाने वाले हेड कांस्टेबल ए.के.मिश्रा ने AK47 राइफल से सहायक सब-इंस्पेक्टर रंजीत सारंगी की हत्या कर दी जबकि सहायक कमांडेंट रैंक के अधिकारी सुवीर घोष हल्के जख्मी हुए हैं।आरोपी हेड कांस्टेबल का दावा है कि यूनिट में उसे परेशान किया जा रहा था। उसे गिरफ्तार कर लिया गया है। अर्द्धसैनिक बल के एक अधिकारी ने बताया कि CISF के इंस्पेक्टर जनरल (दक्षिण पूर्व) सुधीर कुमार के मौके पर पहुंचने पर आरोपी मिश्रा ने सरेंडर कर दिया। कोलकाता पुलिस ने भी बताया कि CISF के अधिकारियों ने मिश्रा को हथियार डालने और सरेंडर करने के लिए मनाया। आरोप है कि मिश्रा ने यूनिट के हथियारखाने से जबरदस्ती हथियार लिया और पूरी मैगजीन लोगों पर खाली कर दी।इस गोलीबारी में घायल हुए दो लोगों को सरकारी एसएसकेएम अस्पताल ले जाया गया, जहां सारंगी की मौत हो गई। CISF ने घटना के कारणों का पता लगाने के लिए कोर्ट ऑफ इन्क्वायरी का आदेश दिया है। कोलकाता के पुलिस आयुक्त विनीत गोयल ने बताया, ‘‘घटना शाम करीब साढ़े छह बजे की है। सीआईएसएफ के एक जवान की मौत हो गई है जबकि दूसरा घायल है। हमने आरोपी हेड कांस्टेबल को गिरफ्तार कर लिया है।’’ उन्होंने बताया कि म्यूजियम में गोलीबारी की सूचना पाकर पुलिस डिप्टी कमिश्नर एक कॉम्बैट स्क्वाड और रैपिड रिस्पॉन्स टीम के साथ मौके पर पहुंचे।गोयल ने पत्रकारों को बताया, ‘‘हम CISF के संपर्क में हैं। हमने आरोपी को हथियार डालने के लिए सफलतापूर्वक मना लिया है। हम मामले की जांच कर रहे हैं।’’ भारत के सबसे ‘पुराने और बड़े’ म्यूजियम परिसर में बनी बैरकों में आज शाम यह घटना हुई। केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (CISF) दिसंबर, 2019 से संग्रहालय की सुरक्षा की जिम्मेदारी संभाल रहा है। कोलकाता के मध्य स्थित संग्रहालय केन्द्रीय संस्कृति मंत्रालय के तहत एक स्वायत्त संगठन है।

हाल का ध्यान

लिंक