वर्तमान पद:मुखपृष्ठ > वुवेइ > मूलपाठ

लाइव क्रिकेट मैच स्ट्रीमिंग श्रीलंका बनाम भारत, विश्व कप 2019 मैच 44 ऑनलाइन देखें हॉटस्टार पर

2022-10-04 13:33:00 वुवेइ

लाइवक्रिकेटमैचस्ट्रीमिंगश्रीलंकाबनामभारतविश्वकप2019मैच44ऑनलाइनदेखेंहॉटस्टारपररेलवे का बड़ा फैसला: 12 अगस्त तक नहीं चलेंगी रेग्युलर ट्रेनें, वापस होगा पूरा किराया******Indian Railways रेलवे बोर्ड ने आज गुरुवार (25 जून) को बताया कि सभी नियमित मेल, एक्सप्रेस, यात्री एवं उपनगरीय ट्रेन सेवाएं 12 अगस्त तक स्थगित रहेंगी तथा 230 स्पेशल ट्रेनें, आवश्यक सेवाओं के लिए ट्रेनें जारी रहेंगी।रेलवे बोर्ड ने कहा कि 1 जुलाई 2020 से 12 अगस्त 2020 तक की बुक टिकट कैंसिल होंगी। 12 अगस्त तक सिर्फ स्पेशल ट्रेनें ही चलेंगी। भारतीय रेलवे ने ट्रेनों के टाइम-टेबल को लेकर एक नोटिफिकेशन जारी किया है। रेलवे बोर्ड की ओर से जारी नोटिफिकेशन में कहा गया है कि 12 अगस्त 2020 तक सभी मेल, एक्सप्रेस और पैसेंजर ट्रेनें नहीं चलेंगी। रेलवे ने कहा है कि 1 जुलाई 2020 से 12 अगस्त 2020 तक की यात्रा के लिए नियमित समय-निर्धारित ट्रेन के लिए बुक किए गए सभी टिकट भी रद्द कर दिए गए हैं और पूरा किराया वापस किया जाएगा। ने कहा है कि सभी विशेष राजधानी, मेल और एक्सप्रेस ट्रेनें जिनका संचालन 12 मई और 1 जून से शुरू किया गया है हालांकि, उनका परिचालन जारी रहेगा। इससे पहले 15 मई को एक अधिसूचना में, रेलवे ने 30 जून, 2020 तक यात्रा के लिए निर्धारित सभी ट्रेनों को रद्द कर दिया था और टिकट वापस करने का फैसला किया था। बीते मंगलवार को रेलवे ने 14 अप्रैल को या उससे पहले नियमित ट्रेनों के लिए बुक किए गए सभी टिकटों को रद्द करने की घोषणा की थी और कहा था कि वह जल्द ही उन टिकटों के लिए धनवापसी शुरू करेगा।बता दें कि देश में कोरोना वायरस के खतरे को देखते रेलवे ट्रेनें रद्द कर चुका है, हालांकि लॉकडाउन खुलने के बाद रेलवे ने कुछ स्पेशल ट्रेनें चलाई हैं जो कि आगे भी चलती रहेंगी। लेकिन, देश में कोरोना के बढ़ते मामले को देखते हुए रेलवे ने रेग्युलर ट्रेनों को 12 अगस्त तक के लिए रद्द करने का फैसला लिया है। हालांकि, रलवे ने यह साफ कर दिया है कि इस दौरान बुक टिकट पर यात्रियों को 100 फीसदी रिफंड मिलेगा।

लाइवक्रिकेटमैचस्ट्रीमिंगश्रीलंकाबनामभारतविश्वकप2019मैच44ऑनलाइनदेखेंहॉटस्टारपरIPL 2022: दमदार प्रदर्शन के लिए इन खिलाड़ियों की कप्तान रोहित शर्मा ने की तारीफ, अगले सीजन के लिए दिया बड़ा बयान******इंडियन प्रीमियर लीग में पांच बार की चैंपियन टीम मुंबई इंडियंस ने लीग चरण में जीत के साथ अपने अभियान का अंत किया। लीग स्टेज के अपने आखिरी मैच में मुंबई ने दिल्ली कैपिटल्स को पांच विकेट से मात दी। सीजन-15 में मुंबई की यह 14 मैचों में से सिर्फ चौथी जीत थी। टीम को मिली इस जीत से कप्तान रोहित शर्मा काफी खुश नजर आए।मैच के बाद रोहित ने कहा, ''अभी तक टीम कुछ अच्छे परिणाम का इंतेजार कर रही थी लेकिन हम आखिरी मैच में अपने तरफ से इस मैच में स्कारात्मक होकर खेलना चाहते थे और जीतना चाहते थे। हो सकता है कि हमने इस सीजन के पहले हाफ को ठीक से नहीं खेला लेकिन दूसरे हाफ़ में हमने काफी कुछ पाया।''उन्होंने कहा, ''कई बढ़िया प्लेयर मिले। बल्ले पर गेंद ठीक से नहीं आ रही थी। मुझे लगा कि इस पिच पर 160 का स्कोर बढ़िया स्कोर था। हालांकि किशन और ब्रेविस के बीच एक बढ़िया साझेदारी हुई और बाद में भी बढ़िया बल्लेबाज़ी हुई।''रोहित ने कहा, ''किसी भी मैच को जीतने के लिए पूरी टीम को बढ़िया खेलना होता है, एक दूसरे का सहयोग करना पड़ता है। अगर आपके गेंदबाज़ों के खिलाफ़ रन जा रहा है तो बल्लेबाज़ उसके एवज में रन बनाए। ऐसे ही आपके टीम को जीत मिलती है।''आपको बता दें कि इस मैच में मुंबई की टीम ने टॉस जीतकर पहले दिल्ली को बल्लेबाजी का न्योता दिया था। बल्लेबाजी में दिल्ली की टीम कुछ खास कमाल नहीं कर सकी और निर्धारित 20 ओवर के खेल में सिर्फ 159 रन ही बना सकी। इसके जवाब में मुंबई ने पांच गेंद शेष रहते ही 160 रन बना लिए।लाइवक्रिकेटमैचस्ट्रीमिंगश्रीलंकाबनामभारतविश्वकप2019मैच44ऑनलाइनदेखेंहॉटस्टारपरराजस्‍थान में 5 करोड़ लोगों को फ्री अनाज के लिए केंद्र सरकार वहन कर रही है 375 रुपए प्रति व्‍यक्ति का भार****** कोरोना वायरस से जूझते इस संक्रमण काल मे राज्य सरकारे भले ही यह दावा करें कि केंद्र सरकार की तरफ सेकोई राहत पैकेज नहीं मिल रहा है, लेकिन एक हकीकत यह भी है कि जिन लोगो को अनाज की जरुरत है उन लोगो को मुफ्त में अनाज मुहैया करवाया जा रहा है और अनाज भरपूर मात्रा मे भिजवाने और राज्य सरकार को तय मापदंड के तहत मुहैया कराने के लिए भारतीय खाद्य निगम (एफसीआई) दिन-रात काम कर रहा है। के महाप्रबंधक संजीव भास्‍कर ने बताया कि प्रदेश मे एऩएफएसए (राज्यसरकार खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग) व पीएमजीकेएवाई (प्रधानमंत्री ग्रामीण कल्याण योजना) के तहत आने वाले लोगो को केंद्र सरकार की तरफ से मुफ्त गेहूं बांटा जा रहा है। प्रदेश मे 5 करोड से ज्यादा लाभार्थी इस योजना का लाभ उठा रहे हैं।भास्कर ने बताया कि राज्‍य में अनाज का पर्याप्‍त भंडार मौजूद है और भुखमरी जैसी कोई स्थिती फिलहाल नहीं आऩे वाली है। उन्‍होंने कहा कि हम केंद्र सरकार से मिलने वाले अनाज को राज्य सरकार तक तय समय पर पहुंचा रहे हैं। 5 करोड़ लाभार्थियो को अबतक मुफ्त गेंहु बांटा गया है। केंद्र सरकार ने प्रति व्यति 375 रुपए का भार वहन किया है। तीन महीने तक मुफ्त बांटे जाने वाले गेंहु का मूल्‍य 1874 करोड रुपए है।25 मार्च से लागू हुए लाँकडाउन से लेकर अबतक एफसीआई द्वारा 89 लाख क्विंटल गेहु राजस्थान मे लाभार्थियो के लिए दिया जा चुका है। खास बात यह है कि लॉकडाउन के दौरान अभी तक गेहूं मुफ्त दिया गया है यानी 5 लाख टन गेहुं एफसीआई ने दिया है। .अप्रैल, मई और जून तीन महीने में गेहूं मुफ्त दिया जाएगा। इसकी सीमा बढ़ाकर 10 किलो प्रति व्यक्ति कर दी गई है। यानी इन तीन महीनों में 6 लाख 69 हजार टन गेहूं एफसीआई द्वारा मुफ्त में सभी लाभार्थियो को उपलब्‍ध कराएगी। महामारी के दौर में एफसीआई भी किसी कोरोना वॉरियर से कम नहीं है, जो दिन रात लोगो के लिए मुस्तैद है और अनाज की कोई भी कमी नही आने दे रही है।

लाइव क्रिकेट मैच स्ट्रीमिंग श्रीलंका बनाम भारत, विश्व कप 2019 मैच 44 ऑनलाइन देखें हॉटस्टार पर

लाइवक्रिकेटमैचस्ट्रीमिंगश्रीलंकाबनामभारतविश्वकप2019मैच44ऑनलाइनदेखेंहॉटस्टारपरExclusive | 2-3 मीटर की दूरी के लिए देश से हजारों किलोमीटर दूर हैं नीरज चोपड़ा, ओलंपिक पर हैं निगाहें******सिर्फ ओलंपिक खेलों में क्वालीफाई करना ही नहीं बल्कि एथलीट का लक्ष्य उसमें मेडल जीत का दावा पेश करना होना चाहिए। कुछ ऐसी ही तैयारियों में भारतीय जैवलीन थ्रोअर नीरज चोपड़ा जुटे हुए हैं। जिन्होंने हाल ही में साउथ अफ्रीका में खेली गई एसीएनई लीग में 87.86 मीटर का थ्रो फेंककर टोक्यो ओलंपिक 2020 का टिकट हासिल किया। हलांकि पदक का दावा पेश करना है तो उन्हें 2 से 3 मीटर और लम्बा थ्रो फेंकना होगा। जिसके लिए नीरज ने इंडिया टी.वी. से ख़ास बातचीत में बताया कि कैसे देश से हजारों किलोमीटर दूर रह कर वो 2 से 3 मीटर की दूरी बढाने में लगे हैं।साल 2016 से लेकर नवंबर 2018 तक नीरज चोपड़ा फॉर्म में थे और लगातार अपने जैवलीन थ्रो ( भाला फेंक ) से पदक ला रहे थे। जिस कड़ी में उन्होंने विश्व एथलेटिक्स चैम्पियनशिप, राष्ट्रमंडल खेल, दक्षिण एशियाई खेल और एशियाई खेलों में पदक जीते। हलांकि इसके बाद डायमंड लीग 2018 में कांस्य पदक जीतने के बाद दाहिनी कोहनी में दर्द हुआ और लगभग 2 साल तक वो भाला नहीं फेंक पाए। ऐसे में अपने रिहैब और वापसी के बारे में नीरज ने कहा, "जर्मन कोच डॉ क्लॉस बार्टोनिएट के सानिध्य में मैंने ट्रेनिंग कि और रिहैब के दौरान भी काफी प्रतियोगिताएं चल रही थी लेकिन मैं भाग नहीं ले पा रहा था। इसलिए काफी संयम भी बरतना पड़ा। जिसके बाद इस तरह का थ्रो किया तो काफी आत्मविश्वास बढ़ा है और अच्छा लग रहा है।"नीरज ने साउथ अफ्रीका के टूर्नामेंट में 85 मीटर के ओलंपिक क्वालिफिकेशन के मार्क को 87.86 मीटर के थ्रो के साथ पार किया। जिसके चलते उन्हें टोक्यो ओलंपिक 2020 के लिए क्वालीफाई किया। इस तरह नीरज को अगर ओलंपिक में मेडल का दावा पेश करना है तो अभी 2 से 3 मीटर की दूरी को और बढाना होगा। क्योंकि पिछली बार साल 2016 ओलंपिक में जर्मनी के थॉमस रोलर ने 90.30 मीटर का थ्रो करके गोल्ड मेडल हासिल किया था। इस तरह नीरज ने अपनी तैयारी के बारे में कहा, " 88 से 90 मीटर के बीच मेडल होता है। इस दूरी को बढाना इतना आसान काम नहीं है। जिसके लिए मैं कोशिश में लगा हुआ हूँ। इसके अलावा प्रतियोगिता वाले दिन पर भी निर्भर करता है कि उस दिन बाकी एथलीट कैसा करते हैं।"नीरज ने इस 2 से 3 मीटर के फासले को तय करने के लिए देश से बाहर रहने का मन बनाया है। उन्होंने कहा, " अभी मैं साउथ अफ्रीका में हूँ और ओलंपिक तक बाहर ही रहकर तैयारी करना चाहूँगा। हमारी ज्यादातर प्रतियोगिताएं भी बाहर ही है जिससे तालमेल बिठाने में आसानी रहती है। हालांकि भारत आकर भी प्रतियोगिताओं में हिस्सा लूंगा।"वहीं नीरज से जब लम्बी दूरी के थ्रो को करने के लिए ट्रेनिंग के दौरान किन-किन चीज़ों पर ज्यादा फोकस करते हैं इसके बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, "गति, ताकत और तकनीकी इन तीन चीज़ों पर अधिक ध्यान देना होता है, जिसके चलते आप किसी भी थ्रो करने को सक्षम रहते हैं।"ऐसे में हम उम्मीद करते हैं कि लगभग 88 मीटर का थ्रो करके ओलंपिक में क्वालीफाई करने वाले जैवलीन थ्रोअर नीरज आने वाले दिनों में अपनी ट्रेनिंग के दौरान कड़ी मेहनत करके सवा सौर करोड़ देशवासियों के सपने को साकार कर सकेंगे। इसी साल खेले जाने वाले टोक्यो ओलंपिक में नीरज के साथ-साथ निशानेबाजों और बैडमिंटन स्टार पीवी सिन्धु से भी देश को काफी उम्मीदें हैं।लाइवक्रिकेटमैचस्ट्रीमिंगश्रीलंकाबनामभारतविश्वकप2019मैच44ऑनलाइनदेखेंहॉटस्टारपरG20 Summit: जी-20 की बैठक जम्मू-कश्मीर में कराने की खबरों पर उड़ी चीन की नींद, दिया ऐसा बयान******Highlights चीन ने G20 के नेताओं की अगले साल होने वाली बैठक में आयोजित करने की भारत की योजनाओं की खबरों पर गुरुवार को विरोध जताया और अपने करीबी सहयोगी पाकिस्तान के स्वर में स्वर मिलाते हुए कहा कि संबंधित पक्षों को मुद्दे को राजनीतिक रंग देने से बचना चाहिए। चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियान ने एक मीडिया ब्रीफिंग में आधिकारिक मीडिया के एक प्रश्न का उत्तर देते हुए कहा, ‘‘हमने ताजा घटनाक्रम का संज्ञान लिया है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘कश्मीर पर चीन का रुख सतत और बिल्कुल स्पष्ट है। यह भारत और पाकिस्तान के बीच पहले से चला आ रहा मुद्दा है। संयुक्त राष्ट्र के चार्टर, सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों और द्विपक्षीय सहमतियों के अनुरूप इसका उचित समाधान निकालना चाहिए।’’झाओ ने कहा, ‘‘संबंधित पक्षों को एकपक्षीय कदम के साथ हालात को जटिल बनाने से बचना चाहिए। हमें बातचीत और संवाद से विवादों का समाधान करने के प्रयास करने चाहिए ताकि क्षेत्रीय शांति तथा स्थिरता कायम रहे।’’ उन्होंने कहा कि जी-20 अंतरराष्ट्रीय आर्थिक सहयोग के लिए प्रमुख मंच है। उन्होंने कहा, ‘‘हम सभी प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं का आह्वान करते हैं कि वैश्विक अर्थव्यवस्था के सतत रूप से उबरने पर ध्यान दें, इस प्रासंगिक मुद्दे को राजनीतिक रंग देने से बचें और वैश्विक आर्थिक शासन को सुधारने के लिए सकारात्मक योगदान दें।’’क्या जी-20 समूह के सदस्य के नाते बैठक में भाग लेगा, इस प्रश्न के उत्तर में झाओ ने कहा, ‘‘हम बैठक में शामिल होंगे या नहीं, इस बारे में विचार करेंगे।’’ पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (PoK) के विवादित क्षेत्र में चीन द्वारा चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे का निर्माण और इस पर भारत की आपत्ति के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, ‘‘दोनों मामले बिल्कुल अलग प्रकृति के हैं। चीन ने पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था का विकास करने और वहां के लोगों की आजीविका सुधारने के लिए परियोजनाएं संचालित की हैं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘कुछ परियोजनाएं कश्मीर के उस हिस्से में हैं जो पाकिस्तान के नियंत्रण में है। परियोजनाएं चलाने वाली संबंधित चीनी कंपनियां स्थानीय लोगों की मदद के उद्देश्य से यह करती हैं ताकि उनकी अर्थव्यवस्था में विकास और आजीविका में सुधार हो।’’झाओ ने कहा, ‘‘इससे कश्मीर के मुद्दे पर हमारे रुख पर कोई असर नहीं पड़ा है।’’ पाकिस्तान ने 25 जून को कहा था कि वह कश्मीर में जी-20 के देशों की बैठक के आयोजन के भारत के प्रयास को खारिज करता है और उम्मीद करता है कि समूह के सदस्य देश कानून एवं न्याय के अनिवार्य तत्वों का पूरी तरह संज्ञान लेते हुए इस प्रस्ताव का स्पष्ट विरोध करेंगे। जम्मू कश्मीर 2023 में जी-20 की बैठकों की मेजबानी करेगा। इस प्रभावशाली समूह में विश्व की बड़ी अर्थव्यवस्थाएं हैं।जम्मू कश्मीर प्रशासन ने गत बृहस्पतिवार को समग्र समन्वय के लिए 5 सदस्यीय उच्चस्तरीय समिति बनाई थी। जम्मू कश्मीर का विशेष दर्जा वापस लिए जाने के बाद यहां प्रस्तावित यह पहली बड़ी अंतरराष्ट्रीय बैठक होगी। पाकिस्तान के विदेश कार्यालय के प्रवक्ता आसिम इफ्तिखार अहमद ने एक बयान में कहा कि इस्लामाबाद ने भारतीय मीडिया में आ रहीं उन खबरों पर संज्ञान लिया है जिनमें संकेत है कि भारत जी-20 की कुछ बैठकें जम्मू कश्मीर में करने पर विचार कर सकता है। उन्होंने कहा, ‘‘पाकिस्तान भारत के ऐसे किसी प्रयास को पूरी तरह खारिज करता है।’’ अहमद ने कहा कि यह भलीभांति ज्ञात तथ्य है कि ‘‘जम्मू कश्मीर पाकिस्तान और भारत के बीच अंतरराष्ट्रीय तौर पर मान्य विवादित क्षेत्र है और सात दशक से अधिक समय से यह संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के एजेंडे में रहा है।’’लाइवक्रिकेटमैचस्ट्रीमिंगश्रीलंकाबनामभारतविश्वकप2019मैच44ऑनलाइनदेखेंहॉटस्टारपरMivi Fort S60 Review: घर को बना दे थिएटर, संगीत के शौकीनों के लिए खास तोहफा******Sound Barभारतीय लोगों के दिलों में म्यूजिक की खास जगह है। चाहें शास्त्रीय संगीत हो या फिल्मी नगमे, संगीतकारों की खूबसूरत धुनें सीधे दिल में उतर जाती हैं। यही कारण हैं कि उम्दा संगीत सुनने वाले लोग हमेशा से ही एक बेहतरीन स्पीकर की तलाश में रहते हैं। मौजूदा ट्रेंड की बात करें तो इस समय साउंड बार काफी प्रचलन में हैं। बाजार में इस समय कई साउंड बार के विकल्प मौजूद हैं, लेकिन अक्सर लोग इनके साउंड आउटपुट को लेकर शिकायत करते हैं।इस बीच हमने घरेलू इलेक्ट्रॉनिक्स ब्रांड Mivi के Fort S60 साउंड बार को रिव्यू किया। कंपनी के अनुसार यह देश का पहला मेड इन इंडिया साउंड बार है और इसे खास तौर पर भारतीय संगीत और इसके शौकीनों के लिए बनाया गया है। आइए जानते हैं कि यह साउंड बार कैसा है और क्या यह आपको खरीदना चाहिए और क्या ये वास्तव में म्यूजिक के दीवानों के लिए वैल्यू फॉर मनी है?Mivi के साउंड बार के बॉक्स में आपको आपको करीब 2.6 फुट का स्पीकर मिलेगा। साथ ही एक अडॉप्टर और आक्स केबल मिलता है। इस साउंडबार के साथ एक सिंपल ब्लैक कलर का रिमोट मिलता है। इस रिमोट में वॉल्यम कम व ज्यादा के साथ कई ऑपरेटिव बटन मिलते हैं। इसकी क्वालिटी और डिजाइन काफी सिंपल है।Mivi Fort S60 की डिजाइन की बात करें तो पहली नजर में यह काफी प्रभावित करती है। इसे आप अपनी टीवी के साथ वॉल माउंट कर सकते हैं। यह साउंड बार प्रीमियम प्लास्टिक से तैयार किया गया है। इसकी लंबाई 80 सेमी (लगभग 2.6 फुट) है। सामने की तरफ जाली है और साइड में वूफर दिए गए हैं। साउंडबार के एक साइड में वॉल्यूम अप/डाउन, मोड चेंज और इनपुट चेंज जैसे फिजिकल बटन भी दिए गए हैं। स्पीकर की जाली में अलग अलग मोड्स के अनुसार एलईडी लाइट्स दी गई हैं। बिजली की आपूर्ति सहित सभी वायर्ड इनपुट मोड सबसे पीछे हैं। बार के नीचे रबर पैड भी अच्छी गुणवत्ता के हैं।इस साउंड बार के दोनों ओर इन-बिल्ट सबवूफ़र्स हैं जो कॉम्पैक्ट होने के साथ-साथ एक दमदार बेस पैदा करते हैं। यह एक 2.2 चैनल साउंडबार है जिसका मतलब है कि इसमें 2 मुख्य स्पीकर और 2 सबवूफर हैं। सभी मिलकर 60W का ऑडियो आउटपुट तैयार करते हैं। Mivi ने तीन ऑडियो मोड भी जोड़े। मूवी मोड, न्यूज मोड और म्यूजिक मोड हैं। इसे टीवी के साथ इस्तेमाल करने पर ये मोड असरदार दिखाई दिए। गाने सुनने में साउंड के हाई और मिड्स काफी बैलेंस लगे। हालांकि हाई साउंड पर पर्फोर्मेंस थोड़ी कम लगी। कुल मिलाकर अपनी कीमत के हिसाब से इस साउंडबार की साउंड क्विलीटी अच्छी है।Mivi के साउंंड बार में कनेक्टिविटी के ढेर सारे विकल्प दिए गए हैं। इसमें ब्लूटूथ 5.0 के साथ औक्स, कोएक्सियल और यूएसबी पोर्ट दिए गए हैं। मोड बदलने के लिए आप साउडबार के फिजिकल बटन का उपयोग कर सकते हैं या फिर आप रिमोट की मदद से भी इसे आपरेट कर सकते हैं। मैंने ज्यादातर ब्लूटूथ कनेक्टिविटी की कोशिश की। यह आसानी से फोन से कनेक्ट हो जाता है। इसकी रेंज भी अच्छी है। साउंड बार में कोई बैटरी बैकअप नहीं है। ऐसे में आपको इसके एडॉप्टर की मदद से हमेशा चार्ज करना होगा।मेरे लिए यह विश्वास करना कठिन है कि Fort S60 कंपनी द्वारा बनाया गया पहला साउंडबार है। यह प्रीमियम दिखता है, इसमें कई इनपुट मोड हैं, एक आसान रिमोट के साथ आते हैं, और ऑडियो आउटपुट भी बढ़िया है। हार्डकोर बास प्रेमियों के लिए, फोर्ट एस60 सबसे अच्छा है। मेरी राय में, साउंडबार केवल ऑडियो मोड के कारण पूरे घर की जरूरत के लिए अच्छा विकल्प है।

लाइव क्रिकेट मैच स्ट्रीमिंग श्रीलंका बनाम भारत, विश्व कप 2019 मैच 44 ऑनलाइन देखें हॉटस्टार पर

लाइवक्रिकेटमैचस्ट्रीमिंगश्रीलंकाबनामभारतविश्वकप2019मैच44ऑनलाइनदेखेंहॉटस्टारपरAIFF Ban Revoked: FIFA ने AIFF पर लगा बैन हटाया, भारत को वापस मिली अंडर-17 महिला विश्व कप की मेजबानी******HighlightsAIFF Ban Revoked: इंटरनेशनल फेडरेशन ऑफ एसोसिएशन फुटबॉल (FIFA) ने ऑल इंडिया फुटबॉल फेडरेशन पर लगा बैन हटा दिया है। FIFA ने ऑल इंडिया फुटबॉल फेडरेशन (AIFF) में थर्ड पार्टी के दखल की वजह से प्रतिबंध लगाया था। बता दें कि फीफा ने तब अपने बयान में कहा था कि थर्ड पार्टीज के बहुत ज्यादा दखल की वजह से AIFF को सस्पेंड करने का फैसला किया गया है। फीफा ने यह भी कहा था कि यह सस्पेंशन तभी हटेगा जब वह साथ मिलकर काम करना शुरू करेंगे। केंद्रीय खेल मंत्री अनुराग ठाकुर ने ट्वीट कर बैन हटने की खुशखबरी दी है।फीफा ने अखिल भारतीय फुटबॉल महासंघ को 15 अगस्त की रात निलंबित कर दिया था। इसके साथ ही भारत में 11 से 30 अक्टूबर तक होने वाले फीफा अंडर 17 महिला विश्व कप की मेजबानी भी छीनने की बात फीफा ने अपनी प्रेस रिलीज में कही थी। फीफा ने प्रेस रिलीज जारी करते हुए अपने बयान में कहा था,‘‘फीफा काउंसिल के ब्यूरो ने तीसरे पक्ष के हस्तक्षेप के कारण भारतीय फुटबॉल महासंघ को निलंबित करने का फैसला लिया है।"इस सस्पेंशन को हटाने पर रिलीज में आगे लिखा गया कि, "निलंबन तभी हटेगा जब एआईएफएफ कार्यकारी समिति की जगह प्रशासकों की समिति के गठन का फैसला वापस लिया जाएगा और एआईएफएफ प्रशासन को महासंघ के रोजमर्रा के काम का पूरा नियंत्रण दिया जाएगा।’’इसके बाद केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट से एआईएफएफ के कामकाज की देखभाल कर रहे प्रशासकों की समिति (सीओए) को हटाने की गुजारिश की। उच्चतम न्यायालय ने सोमवार को निर्देश दिया कि अखिल भारतीय फुटबॉल महासंघ के कामकाज के संचालन के लिये नियुक्त तीन सदस्यीय प्रशासकों की समिति को बर्खास्त माना जाए। समिति के अध्यक्ष उच्चतम न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश ए आर दवे थे। न्यायालय ने कहा कि भारत में अंडर-17 महिला विश्व कप के आयोजन और अंतरराष्ट्रीय फुटबॉल महासंघ (फीफा) द्वारा एआईएफएफ पर लगाया निलंबन रद्द कराने के लिये इसने अपने पूर्व आदेश में बदलाव किया है।अदालत की इस कार्रवाई के चार दिनों के भीतर FIFA ने अपने बयान में कहा कि 'परिषद के ब्यूरो ने 25 अगस्त को AIFF के निलंबन को तत्काल प्रभाव से हटाने का फैसला लिया है। फीफा अंडर -17 महिला विश्व कप 2022 का आयोजन 11-30 अक्टूबर को भारत में आयोजित किया जा सकता है।'लाइवक्रिकेटमैचस्ट्रीमिंगश्रीलंकाबनामभारतविश्वकप2019मैच44ऑनलाइनदेखेंहॉटस्टारपरब्लॉग: शिवसेना क्यों बिखर गई? खत से हुआ खुलासा******महाविकास अघाड़ी की सरकार के ढाई साल पूरे हो गए थे और गठबंधन की ये सरकार ठीक-ठाक चल रही थी लेकिन अचानक आई एक खबर ने पूरी सरकार को डीरेल कर दिया। शिवसेना के एक नेता एकनाथ शिंदे ने अचानक गठबंधन की बंधन से आजाद होने का एलान कर दिया और पार्टी के 40 से ज्यादा विधायकों को उद्धव ठाकरे की नाक के नीचे से ले उड़े। जिस वक्त सीएम उद्धव ठाकरे सीएम हाउस वर्षा में चैन की नींद सो रहे थे उसी वक्त एकनाथ शिंदे महाराष्ट्र की राजनीति में पासा पलटने की तैयारी कर रहे थे। सुबह हुई तो महाराष्ट्र की सियासत में भूचाल आ गया। शिवसेना के 55 में से 34 विधायक राज्य छोड़ कर जा चुके थे, यानी खेल हो चुका था।ताजा हालात ऐसे हैं कि के कर्ताधर्ता दोहरी चुनौती का सामना कर रहे हैं, एक तरफ कुआं है तो दूसरी तरफ खाईं। सरकार तो खतरे में है ही लेकिन शिवसेना को कैसे बचाया जाए, यह भी एक बड़ा सवाल बन चुका है क्योंकि एकनाथ शिंदे ने सरकार को तो अल्पमत में डाल ही दिया है साथ ही साथ शिवसेना पर भी दावेदारी ठोक रहे हैं।क्या शिवसेना के कद्दावर नेता एकनाथ शिंदे रातों-रात बागी हो गए? क्या पार्टी में इतनी बड़ी टूट एक रात की कहानी है? बागी विधायकों की बात से ये कहानी पुरानी लगती है। एकनाथ शिंदे के साथ गए विधायकों ने जो खुलासा एक खत के जरिए किया है उससे साफ होता है कि पार्टी में नेतृत्व और विश्वास की कमी दिनों दिन बढ़ती जा रही थी और आरोप ये भी है कि बार बार इस ओर ध्यान दिलाने के बाद भी उद्धव ठाकरे ने इस गंभीर मामले को तवज्जो देना जरुरी नहीं समझा। शिवसेना विधायक संजय शिरसाट की मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को लिखी चिट्ठी काफी चर्चा में है। चिट्ठी की भाषा से लग रहा है कि शिवसेना में बगावत का सबसे बड़ा कारण उद्धव ठाकरे का कांग्रेस और NCP के करीब आना रहा है।शिरसाट ने चिट्ठी में लिखा है कि वर्षा बंगले को खाली करते समय आम लोगों की भीड़ देखकर उन्हें खुशी हुई, लेकिन पिछले ढाई सालों से इस बंगले के दरवाजे बंद थे। उन्होंने लिखा है, ‘हमें आपके (उद्धव के) आसपास रहने वाले, और सीधे जनता से न चुनकर विधान परिषद और राज्यसभा से आने वाले लोगों का, आपके बंगले में जाने के लिए मान-मनौव्वल करना पड़ता था। ऐसे स्वघोषित चाणक्य के चलते राज्यसभा और विधान परिषद चुनाव में क्या हुआ यह सबको पता है। हम पार्टी के विधायक थे, लेकिन हमें विधायक होकर भी कभी बंगले में सीधे प्रवेश नहीं मिला। छठी मंजिल पर मंत्रालय के दफ्तर में सीएम सबको मिलते थे, लेकिन हमारे लिए कभी यह प्रश्न नहीं आया क्योंकि आप कभी मंत्रालय ही नहीं गए। आम लोगों के कामों के लिए हमें घंटों बंगले के गेट के बाहर खड़ा रहना पड़ता था। फोन करने पर उठाया नहीं जाता था, अंदर एंट्री नहीं होती थी, और आखिर में हम थककर चले जाते थे। 3 से 4 लाख लोगों के बीच से चुनकर आने वाले विधायक का ऐसा अपमान क्यों किया जाता था? यह हमारा सवाल है, यही हाल हम सारे विधायकों का है। आपके आसपास के लोगों ने कभी हमारी व्यथा नहीं सुनी। आपके पास पहुंचने का कभी मौका नहीं दिया गया। उसी समय हमें एकनाथ शिंदे जी का साथ मिला। शिंदे ने हमारे क्षेत्र की हर समस्या सुनी, चाहे वह फंड की हो या जनता की, और उसका समाधान निकाला। एनसीपी कांग्रेस से जो समस्याएं हो रही थीं, शिंदे उसे भी सुनते थे, हल करते थे। विधायकों के हक के लिए हमने शिंदे साहब का साथ दिया।’एकनाथ और बागी विधायकों के तेवर से ये तो साफ है कि शिवसेना में वापसी का विचार इन विधायकों ने छोड़ दिया है और एकनाथ शिंदे के साथ किसी भी परिस्थिति में रहने को तैयार हैं। आज एक वीडियो सामने आया जिसमें एकनाथ शिंदे विधायकों के साथ बैठक करते नजर आ रहे हैं और विधायकों से कह रहे हैं कि 'आप लोगों को डरने की जरुरत नहीं है। हमारे पीछे बहुत बड़ी महाशक्ति है जो हमारे साथ है। हम मुकाबला करेंगे और जीत हासिल करेंगे।' मौजूदा परिस्थिति में उद्धव सरकार अल्पमत में है और अगर फ्लोर टेस्ट होता है तो सरकार गिरनी तय है तो वहीं दूसरी तरफ शिवसेना और NCP, कांग्रेस मिलकर एक नई रणनीति पर काम कर रहे हैं जिसमें एकनाथ शिंदे और बागी विधायकों को मुंबई वापस आने का दबाव बनाया जा रहा है। इसके पीछे की रणनीति ये है कि जो संख्या इस वक्त शिंदे के साथ है उसमें से कुछ विधायकों पर दबाव बना कर उसे अपने पाले में किया जाए जिससे कि एकनाथ शिंदे के पास मौजूदा बागी विधायकों की संख्या कम हो जाए और दलबदल कानून के तहत शिंदे के साथ गए विधायकों को बर्खास्त कर दिया जाए। इसलिए महाविकास अघाड़ी के तीनों घटक दल एक सुर में कह रहे हैं कि बागी विधायकों को मुंबई वापस आकर बात करनी चाहिए। एकनाथ शिंदे अब इस चुनौती का सामना कैसे करेंगे और अगर फ्लोर टेस्ट होता है तो विधायकों को एकजुट कैसे रखेंगे, ये देखना दिलचस्प होगा।

लाइव क्रिकेट मैच स्ट्रीमिंग श्रीलंका बनाम भारत, विश्व कप 2019 मैच 44 ऑनलाइन देखें हॉटस्टार पर

लाइवक्रिकेटमैचस्ट्रीमिंगश्रीलंकाबनामभारतविश्वकप2019मैच44ऑनलाइनदेखेंहॉटस्टारपरShare Market में बंपर तेजी से बजाज फाइनेंस और TCS को सबसे ज्यादा फायदा, LIC-HUL को नुकसान******Highlights पिछले हफ्ते भारतीय शेयर बाजार में बंपर तेजी देखने को मिली। सेंसेक्स लंबे समय के बाद 57 हजार के पार बंद हुआ। निफ्टी भी 17,000 के पार बंद होने में कामयाब रहा। बाजार में जोरदार तेजी का सबसे ज्यादा फायदा बजाज फाइनेंस और टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज (TCS) को हुआ। सेंसेक्स की शीर्ष 10 में से आठ कंपनियों के बाजार पूंजीकरण (मार्केट कैप) में बीते सप्ताह सामूहिक रूप से 1,91,622.95 करोड़ रुपये की बढ़ोतरी हुई। बीते सप्ताह बीएसई का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स 1,498.02 अंक या 2.67 प्रतिशत के लाभ में रहा।सेंसेक्स की कंपनियों मे बजाज फाइनेंस का बाजार पूंजीकरण 57,673.19 करोड़ रुपये बढ़कर 4,36,447.88 करोड़ रुपये पर पहुंच गया। टीसीएस के बाजार मूल्यांकन में 47,494.49 करोड़ रुपये का इजाफा हुआ और यह 12,07,779.68 करोड़ रुपये पर पहुंच गया। एचडीएफसी बैंक की बाजार हैसियत 23,481.09 करोड़ रुपये बढ़कर 7,97,251.18 करोड़ रुपये पर और इन्फोसिस की 18,219 करोड़ रुपये के उछाल के साथ 6,52,012.91 करोड़ रुपये पर पहुंच गई। एचडीएफसी का मूल्यांकन 14,978.42 करोड़ रुपये बढ़कर 4,31,679.65 करोड़ रुपये और भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) का 12,940.69 करोड़ रुपये की वृद्धि के साथ 4,71,397.99 करोड़ रुपये रहा। आईसीआईसीआई बैंक का बाजार पूंजीकरण 12,873.62 करोड़ रुपये बढ़कर 5,69,400.43 करोड़ रुपये पर और रिलायंस इंडस्ट्रीज लि.का मूल्यांकन 3,962.45 करोड़ रुपये के उछाल के साथ 16,97,208.18 करोड़ रुपये पर पहुंच गया।बाजार में बंपर तेजी के बावजूद, जीवन बीमा निगम (एलआईसी) का बाजार पूंजीकरण 7,020.75 करोड़ रुपये टूटकर 4,28,739.97 करोड़ रुपये रह गया। हिंदुस्तान यूनिलीवर के बाजार मूल्यांकन में 810.61 करोड़ रुपये का नुकसान रहा और यह 6,19,551.97 करोड़ रुपये पर आ गया।शीर्ष 10 कंपनियों की सूची में रिलायंस इंडस्ट्रीज पहले स्थान पर कायम रही। उसके बाद क्रमश: टीसीएस, एचडीएफसी बैंक, इन्फोसिस, हिंदुस्तान यूनिलीवर, आईसीआईसीआई बैंक, एसबीआई, बजाज फाइनेंस, एचडीएफसी और एलआईसी का स्थान रहा। अगले हफ्ते भी बाजार में तेजी की उम्मीद एक्सपर्ट लगा रहें हैं। ऐसे में कई कंपनियों का पूंजीकरण और बढ़ेगा।

लाइवक्रिकेटमैचस्ट्रीमिंगश्रीलंकाबनामभारतविश्वकप2019मैच44ऑनलाइनदेखेंहॉटस्टारपरCovid-19 से अप्रभावित रहा कृषि क्षेत्र, 2020-21 में होगा रिकॉर्ड 1445.2 लाख टन खरीफ खाद्यान्‍न का उत्‍पादन ******Kharif foodgrains production likely to be record 144.52 mn tonnes in 2020-21 कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने शुक्रवार को कहा कि कृषि क्षेत्र पर कोरोना वायरस महामारी का अधिक असर नहीं हुआ है। उन्होंने कहा कि 2020-21 के खरीफ सत्र में 1,445.2 लाख टन खाद्यान्न का उत्पादन होने का अनुमान है। आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार 2019-20 के खरीफ सत्र के दौरान खाद्यान्न उत्पादन 1,433.8 लाख टन था। अभी देश में खरीफ फसलों की कटाई चल रही है। चावल मुख्य खरीफ फसल है। तोमर ने उद्योग संगठन सीआईआई द्वारा आयोजित एक डिजिटल सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि खाद्यान्न उत्पादन पिछले साल की तुलना में बेहतर होगा। शुरुआती अनुमानों के अनुसार, 2020-21 1,445.2 लाख टन होने का अनुमान है। उन्होंने कहा कि गन्ने और कपास जैसी नकदी फसलों का उत्पादन भी अच्छा होने की उम्मीद है।उन्होंने कहा कि कोविड-19 महामारी के बावजूद इस वर्ष खरीफ फसलों की बुवाई क्षेत्र में रिकॉर्ड 4.51 प्रतिशत की वृद्धि हुई है और यह 1,121.75 लाख हेक्टेयर हो गया है। तोमर ने कहा कि कृषि भारतीय अर्थव्यवस्था का आधार है। वित्त वर्ष 2020-21 की पहली तिमाही के दौरान भी यह क्षेत्र 3.4 प्रतिशत बढ़ा है। नए कृषि कानूनों पर, मंत्री ने कहा कि किसानों को सुधारों के बारे में गुमराह किया जा रहा है। उन्होंने दोहराया कि न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीद के साथ-साथ मंडियां देश भर में काम करती रहेंगी।वहीं दूसरी ओर संयुक्त राष्ट्र के खाद्य एवं कृषि संगठन (एफएओ) के 75 साल पूरे होने के मौके पर 75 रुपए का स्‍मार‍क सिक्का जारी करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि उनकी सरकार न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) पर फसलों की खरीद करने के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि एमएसपी पर खाद्यान्नों की खरीद देश की खाद्य सुरक्षा के लिए महत्वपूर्ण है।उन्होंने कहा कि उनकी सरकार ने गेहूं, चावल की खरीद के सारे पुराने रिकॉर्ड को पीछे छोड़ दिया है। इस मौके पर मोदी ने खाद्यान्नों की बर्बादी के बारे में चिंता जताते हुए कहा कि हमारे देश में खाद्यान्नों की बर्बादी एक समस्या रही है। इस कमी को दूर करने के लिए आवश्यक वस्तु अधिनियम में बदलाव किए गए हैं। इसके साथ ही देश में आवश्यक बुनियादी संरचनाएं लगाई जा रही हैं। प्रधानमंत्री ने दावा किया कि नए कृषि काननूों से किसानों की आय बढ़ेगी।लाइवक्रिकेटमैचस्ट्रीमिंगश्रीलंकाबनामभारतविश्वकप2019मैच44ऑनलाइनदेखेंहॉटस्टारपरiPhone 6 जैसा दिखने वाला InFocus का M812 लॉन्च******अमेरिका की टेक कंपनी InFocus ने अपना M812 स्मार्ट फोन लॉन्च कर दिया है। इस स्मार्टफोन की दिलचस्प बात यह है कि M812 बिल्कुल iPhone 6 के जैसा ही दिखता है। InFocus के इस स्मार्टफोन की भारतीय बाजार में कीमत 19,999 रखी गई है। M812 के लिए लोगों ने 23 सितंबर से ही Snapdeal पर रजिस्ट्रेशन कराना शुरु कर दिया था। आपको बता दें कि इस फोन की बिक्री 1 अक्टूबर से शुरु हो जाएगी।InFocus M812 के फीचर की बात की जाए तो एलुमिनियम बॉडी से बना हुआ यह स्मार्टफोन 7.3mm पतला है। iPhone 6 भी 6.9 mm पतला है। वहीं स्क्रीन की सुरक्षा के लिए इसका ग्लास कॉर्निंग गोरिल्ला ग्लास-3 से बना हुआ है। सबसे बेहतरीन बात यह है कि सेल्फी लवर्स के लिए इस फोन में 80 डिग्री का Wide Veiwing Angle है। अगर फोन के फंक्शन की बात की जाए तो inFocus M812 स्मार्टफोन 2.5 GHz क्वॉलकोम स्नैपड्रैगन के प्रोसेसर पर काम करता है। कंपनी इस फोन में 2900mAh की बैटरी देता है जिसमें क्विक चार्जिंग का बेहतरीन फीचर भी शामिल है। कंपनी दावा करती है केवल 30 मिनट में फोन 40 फीसदी और 1 घंटे में 80 फीसदी चार्ज हो सकता है।5.5 इंच HD IPS का डिस्प्ले स्क्रीन वाला inFocus M812 स्मार्टफोन सिंगल सिम होगा जिसमें 2G, 3G और 4G सिम कार्ड लगाए जा सकेंगे। इस फोन में 13MP फ्लैश सहित रियर और 8MP का फ्रंट कैमरा भी होगा। वहीं इसमें 3 GB की RAM के साथ साथ एंड्रॉयड 5.0 लॉलीपॉप ऑपरेटिंग सिस्टम भी होगा। कंपनी के इस फोन में वाई-फाई, ब्लूटूथ, जीपीएस और ग्लोनस के फीचर दिए गए हैं।

लाइवक्रिकेटमैचस्ट्रीमिंगश्रीलंकाबनामभारतविश्वकप2019मैच44ऑनलाइनदेखेंहॉटस्टारपरFCI Recruitment : सरकारी नौकरी की तैयारी करने वालों के लिए खुशखबरी, एफसीआई ने निकाली 5000 से अधिक पदों पर भर्ती******HighlightsFCI Recruitment; भारत में सरकारी नौकरी का क्रेज जिस तरह का है, शायद ही दुनिया के किसी देश में ऐसा देखने को मिले। हालांकि, सरकारी नौकरी के अपने कई फायदे हैं इसीलिए भारतीय युवा पूरी मेहनत से सरकारी नौकरियों के लिए तैयारी करते हैं। भारतीय खाद्य निगम ऐसे युवाओं के लिए बेहतरीन मौका लेकर आई है जो सरकारी नौकरी की तलाश में हैं। एफसीआई ने 5 हजार से अधिक पदों पर भर्ती निकाली है, जिस पर योग्य उम्मीदवार आवेदन कर सकते हैं। आवेदन 6 सितंबर से शुरू हुए हैं और इसकी अंतिम तारीख 5 अक्टूबर 2022 है।एफसीआई ने कटेगरी-3 के 5043 पदों पर भर्तियां निकाली हैं। इसके अंतर्गत सिविल, इलेक्ट्रिकल और मेकेनिकल में जूनियर इंजीनियर, स्टेनो ग्रेड-3 और एजी-3 जनरल, डिपो, एकाउंट्स, टेक्निकल पदों पर भर्तियां की जा रही हैं।इसमें सबसे ज्यादा भर्ती नॉर्थ जोन में है जहां 2388 वैकेंसी है। वहीं साउथ जोन में 989, ईस्ट जोन में 768 और वेस्ट जोन में 185 पदों पर भर्ती निकाली गई है। हालांकि, इन सभी पदों के लिए योग्ता अलग-अलग तय की गई हैं। उम्मीदवार अपनी योग्यता अनुसार फॉर्म भर सकते हैं। किन पदों के लिए कौन सी योग्ता चाहिए उसके लिए आपको आधिकारिक नॉटिफिकेशन देखना होगा।भर्ती प्रक्रिया में भाग लेने के लिए उम्मीदवारों को फॉर्म भरना होगा। जनरल/ओबीसी और ईडब्ल्यूएस उम्मीदवारों को इस फॉर्म के लिए 500 रुपए देने होंगे। वहीं एससी,एसटी, दिव्यांग और महिला उम्मीदवारों के लिए फॉर्म फीस शुन्य है।सरकरी नौकरी की चाह रखने वाले युवा इसलिए भी उत्साहित रहते हैं क्योंकि उन्हें नौकरी मिलते ही मोटी सैलरी भी मिलने लगती है। आज की महंगाई में आपकी जितनी ज्यादा सैलरी है आप उतने ही सुखी हैं। एफसीआई में जिन पदों पर भर्तियां चल रही हैं उनमें अलग-अलग पदों के लिए अलग-अलग सैलरी स्ट्रक्चर है। एक तरफ जेई को जहां 34000 से लेकर 103400 रुपए प्रति महीने मिलेंगे, वहीं स्टेनो ग्रेड2- को 30500 से 88100 रुपए प्रति महीने मिलेंगे। एजी ग्रेड3 में चयन हुए उम्मीदवारों को हर महीने 28200 से लेकर 79200 रुपए प्रति महीने की सैलरी मिलेगी।लाइवक्रिकेटमैचस्ट्रीमिंगश्रीलंकाबनामभारतविश्वकप2019मैच44ऑनलाइनदेखेंहॉटस्टारपरHinamanor: दक्षिण कोरिया में हुई तीन फुट बारिश, 66 हजार घरों की बत्ती गुल, 14 लोगों की मौत******Highlights दक्षिण कोरिया के दक्षिणी क्षेत्र में मंगलवार को आए भीषण चक्रवात के कारण तीन फुट बारिश हुई, सड़कें नष्ट हो गईं और बिजली के तार क्षतिग्रस्त होने से 66 हजार घरों की बिजली चली चली गई। इसके साथ ही चक्रवात ‘हिनामनोर’ से बचने के लिए हजारों लोग सुरक्षित स्थानों पर चले गए हैं। चक्रवात के कारण 133 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलीं और जेजु द्वीप पार भारी तबाही हुई। इसके बाद चक्रवात उत्तर पूर्व की ओर बढ़ गया जिसके चलते आने वाले दिनों में पूर्वी चीन में इसका असर देखने को मिलेगा। दक्षिण कोरियाई अधिकारियों ने बाढ़, भूस्खलन और ऊंची समुद्री लहरें उठने की चेतावनी जारी की है।चक्रवात के कारण 14 लोगों की मौतचक्रवात के कारण अब तक 14 लोगों की मौत हो चुकी है। प्रधानमंत्री हान दुक सू ने बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों से लोगों को निकालने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि ‘हिनामनोर’ जैसा तूफान इतिहास में कभी नहीं आया। फोहांग में पोस्को द्वारा संचालित विशाल इस्पात संयंत्र में आग लगने की खबर है लेकिन यह स्पष्ट नहीं है कि क्या यह आग चक्रवात के कारण लगी।चीन के शहरों में फेरी सेवाएं निलंबितवहीं चीन ने अपने यहां आए एक बड़े खतरे से निपटने के लिए तैयारियां करना शुरू कर दिया है। हिनामनोर चक्रवात के प्रभाव से बचने के लिए पूर्वी चीन के शहरों में फेरी सेवाओं को निलंबित कर दिया गया है और कक्षाएं स्थगित कर दी गई हैं। हिनामनोर चक्रवात 2022 में अब तक आया सबसे शक्तिशाली समुद्री तूफान है। चक्रवात के कारण कोरियाई प्रायद्वीप में भारी बारिश हुई है।

लाइवक्रिकेटमैचस्ट्रीमिंगश्रीलंकाबनामभारतविश्वकप2019मैच44ऑनलाइनदेखेंहॉटस्टारपरWT20 Challenge: हार कर जीतने वाले को 'Velocity' कहते हैं! जीतकर भी टूर्नामेंट से बाहर हुई स्मृति मंधाना की टीम******Highlightsमहिला टी20 चैलेंज के तीसरे और आखिरी लीग मैच में ट्रेलब्लेजर्सने वेलोसिटीको 16 रनोंसे हराकर अपनी पहलीजीत दर्ज की है। वहीं इस जीत बावजूद स्मृति मंधाना की ट्रेलब्लेजर्स टूर्नामेंट के फाइनल मैच में नहीं पहुंच पाई है। डिफेंडिंग चैंपियन ट्रेलब्लेजर्स की टीम को पहले मुकाबले में सुपरनोवाज ने मात दी थी। इसके बाद आज दूसरे मुकाबले में टीम ने यहां जीत दर्ज की। पॉइंट्स टेबल में अब तीनों टीमें 1-1 जीत के साथ 2-2 पॉइंट्स लेकर मौजूद हैं।नेट रन रेट के हिसाब से अंक तालिका में हरमनप्रीत कौर की सुपरनोवाज पहले, दीप्ति शर्मा की वेलोसिटी दूसरे और स्मृति मंधाना की ट्रेलब्लेजर्स तीसरे स्थान पर रही। अगर ट्रेलब्लेजर्स 158 तक वेलोसिटी को रोक लेती तो वह फाइनल में जाने की हकदार हो जाती। लेकि मैच की स्टार रहीं किरण नवगिरे की 69 रनों की पारी की बदौलत टीम ने 158 का आंकड़ा पार किया और हार कर भी फाइनल मुकाबले में जगह बना ली।टॉस हारकर पहले खेलने उतरी ट्रेलब्लेजर्स ने ओपनिंग बैटर एस मेघना (73 रन) और जेमिमा रॉड्रिग्स (66 रन) के अर्धशतक तथा दोनों के बीच दूसरे विकेट के लिए 113 रन की बदौलत वेलोसिटी को 191 रनों का विशाल लक्ष्य दिया। मेघना (47 गेंद, सात चौके, चार चौके) और जेमिमा (44 गेंद, सात चौके, एक छक्का) की शानदार आक्रामक पारियों के अलावा पांच विकेट पर 190 रन के इस स्कोर में वेलोसिटी के खराब क्षेत्ररक्षण का भी योगदान रहा जिसकी खिलाड़ियों ने कई आसान कैच छोड़े।अंत में ट्रेलब्लेजर्स के लिए हेले मैथ्यूज ने 27 रन (16 गेंद, चार चौके) और सोफिया डंकले ने आठ गेंद में दो चौके और एक छक्के से 19 रन का योगदान दिया। बल्लेबाजी का न्यौता मिलने के बाद मेघना ने पहले ही ओवर में केट क्रास (तीन ओवर में 27 रन देकर एक विकेट) पर लगातार दो चौके जमाकर अच्छी शुरूआत कराई। पर ट्रेलब्जेजर्स को पहला झटका 13 रन के स्कोर पर कप्तान स्मृति मंधाना (01) के विकेट के रूप में लगा जो तीसरे ही ओवर में क्रास की गेंद पर सिमरन बहादुर (तीन ओवर में 31 रन देकर दो विकेट) को कैच देकर आउट हो गईं।इसके बाद मेघना ने आक्रामक बल्लेबाजी की और जेमिमा के साथ मिलकर शतकीय साझेदारी बनाकर बड़े स्कोर की नींव रखी। मेघना ने राधा यादव पर एक्सट्रा कवर के ऊपर और साइट स्क्रीन पर दो छक्के जड़े। उन्होंने शेफाली वर्मा पर उनके सिर के ऊपर से अपनी पारी का तीसरा छक्का जड़ा। जेमिमा भी मेघना का अच्छा साथ निभाकर आक्रामक बल्लेबाजी करती रहीं और इस दौरान दोनों ने अपने अर्धशतक पूरे किये। मेघना ने 32 गेंद में छह चौके और दो छक्के से अर्धशतक जमाया। फिर उन्होंने 13वें ओवर में शेफाली वर्मा की पहली गेंद को छक्के के लिये भेजकर ट्रेलब्लेजर्स के स्कोर का शतक भी पूरा कराया। जेमिमा ने भी इसके बाद 36 गेंद में छह चौकों से अपना पचासा जड़ दिया।वेलोसिटी के लिए विकेट का इंतजार स्नेह राणा (37 रन देकर एक विकेट) ने खत्म किया। 15वें ओवर में राणा की पहली गेंद को छक्के और दूसरी को चौके के लिये भेजने के बाद मेघना की पारी खत्म हुई। मेघना उनकी गेंद को ऊपर खेलने के प्रयास में सीमा रेखा पर क्रास के हाथों कैच आउट हो गयी। जल्द ही जेमिमा भी पवेलियन पहुंच गयी, 17वें ओवर में अयाबोंगा खाका की गेंद को स्वीप करने की कोशिश में वह शार्ट फाइन लेग पर राणा को कैच दे बैठीं। अंतिम ओवर में सिमरन बहादुर ने सोफिया और हेले के रूप में दो विकेट झटके।वेलोसिटी की शुरुआत तेज तर्रार रही। 5 ओवर में 50 रन पर टीम के दो विकेट गिर चुके थे लेकिन रन रेट शानदार था। इसके बाद किरन नवगिरे एक छोर संभाले खड़ी रहीं और उन्होंने लीग के इतिहास का सबसे तेज पचासा 25 गेंदों पर जड़ा। उन्होंने 34 गेंदों पर 69 रनों की शानदार पारी खेली लेकिन दूसरे छोर से उन्हें खास सपोर्ट नहीं मिला। परिणामस्वरूप वेलोसिटी की टीम निर्धारित 20 ओवर में 9 विकेट पर 174रन ही बना सकी। लेकिन वेलोसिटी हारकर भी टूर्नामेंट के फाइनल में पहुंच गई। फाइनल मुकाबला 28 मई को पुणे में ही सुपरनोवाज और वेलोसिटी के बीच खेला जाएगा।लाइवक्रिकेटमैचस्ट्रीमिंगश्रीलंकाबनामभारतविश्वकप2019मैच44ऑनलाइनदेखेंहॉटस्टारपरCoronavirus की वजह से Maruti की बिक्री 47% घटी, निर्यात में आई 55 प्रतिशत की गिरावट******Maruti Suzuki sales in March down by 47 percentकोरोना वायरस महामारी को फैलने से रोकने के लिए देश में लागू 21 दिन के लॉकडाउन की वजह से देश की सबसे बड़ी कार निर्माता कंपनी मारुति सुजुकी इंडिया लिमिटेड की बिक्री मार्च महीने में आधी से ज्‍यादा घट गई है। मारुति सुजुकी ने बुधवार को मार्च महीने की बिक्री आंकड़ों को जारी करते हुए बताया कि मार्च, 2020 में उसने कुल 83,792 इकाई की बिक्री की है। इससे पहले मार्च, 2019 में कंपनी की बिक्री 158,076 इकाई की थी। ने बताया कि उसने मार्च, 2020 में घरेलू बाजार में 76,976 इकाई की बिक्री की है, जबकि 2104 इकाई की बिक्री घरेलू ओईएम की है। कंपनी ने इस दौरान 4,712 इकाई का निर्यात किया है। वित्‍त वर्ष 2019-20 में कंपनी की कुल बिक्री 1,563,297 इकाई रही है।कंपनी ने अपने एक बयान में कहा है कि मार्च, 2020 की बिक्री को पिछले साल के समान महीने की बिक्री से तुलना नहीं की जा सकती क्‍योंकि कोरोना वायरस की वजह से लॉकडाउन के कारण कंपनी को 22 मार्च, 2020 से अपना ऑपरेशन बंद करना पड़ा है। मारुति सुजुकी अपने कर्मचारियों, कारोबारी भागीदारें और उपभोक्‍ताओं की सुरक्षा और कल्‍याण के लिए प्रतिबद्ध है। कंपनी कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में निरंतर केंद्र व राज्‍य सरकार का समर्थन करना जारी रखेगी। मार्च 2020 में कंपनी ने मिनी सेगमेंट में अल्‍टो, एस-प्रेसो की 15,988 इकाई बेची हैं, जबकि मार्च-2019 में बिक्री का आंकड़ा 16826 था। कॉम्‍पैक्‍ट सेगमेंट में कंपनी ने वैगन-आर, स्विफ्ट, सेलेरियो, इग्निस, बलेनो, डिजायर और टूर एस की 40,519 इकाई की बिक्री की है, एक साल पहले समान माह में कंपनी ने 82,532 इकाई की बिक्री की थी।मिड साइज सेगमेंट में कंपनी ने सियाज की मार्च 2020 में 1863 इकाई बेची हैं, जबकि मार्च 2019 में इसकी बिक्री 3672 इकाई थी। यूटीलिटी व्‍हीकल सेगमेंट में जिप्‍सी, अर्टिगा, एस-क्रॉस, विटारा ब्रेजा और एक्‍सएल6 की बिक्री 11904 इकाई रही, जो एक साल पहले समान माह में 25,563 इकाई थी।मार्च 2020 में कंपनी कुल घरेलू बिक्री 79,080 इकाई रही, जो मार्च 2019 में 147,613 इकाई थी। मार्च 2020 में मारुति की घरेलू बिक्री में 46.4 प्रतिशत की गिरावट आई है। मार्च 2020 में कंपनी ने 4712 इकाई निर्यात किया, एक साल पहले के समान अवधि में यह आंकड़ा 10463 इकाई था। निर्यात में 55 प्रतिशत की गिरावट आई है।

हाल का ध्यान

लिंक