वर्तमान पद:मुखपृष्ठ > झोंग्ज़िआन > मूलपाठ

उत्तर प्रदेश में कोविड-19 के 12 नये मामले, वैक्सीनेशन का आंकड़ा 8 करोड़ के पार

2022-09-30 11:52:36 झोंग्ज़िआन

उत्तरप्रदेशमेंकोविड19के12नयेमामलेवैक्सीनेशनकाआंकड़ा8करोड़केपारछोटी कंपनियों के IPO से जुटाए गए धन पर होगी सेबी की नजर, खर्च पर कड़ी निगरानी के लिए नियुक्‍त होगी एजेंसी****** भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी) छोटी कंपनियों द्वारा आरंभिक सार्वजनिक निर्गम (आईपीओ) के जरिये जुटाई गई राशि का दुरुपयोग रोकने के लिए कड़े कदम उठाने की योजना बना रहा है। नियामक की योजना अब आईपीओ से 500 करोड़ रुपए तक का धन जुटाने वाली सभी छोटी कंपनियों के लिए निगरानी एजेंसी की नियुक्ति को अनिवार्य करने की है, जो जुटाई गई पूंजी के खर्च की निगरानी करेगी।मौजूदा नियमों के तहत सार्वजनिक निर्गम के जरिये 500 करोड़ रुपए या इससे अधिक धन जुटाने वाली कंपनियों के लिए निगरानी एजेंसी की नियुक्ति की जरूरत होती है। यह एजेंसी बैंक या सार्वजनिक वित्तीय संस्थान हो सकता है।सूत्रों ने कहा कि छोटे निर्गमों या शेयर बिक्री के जरिये जुटाई गई 500 करोड़ रुपए से कम की राशि का दुरुपयोग रोकने के लिए नियामक अब सभी कंपनियों के लिए निगरानी एजेंसी की नियुक्ति को अनिवार्य करने पर विचार कर रहा है। यानी आईपीओ का आकार कुछ भी हो सभी कंपनियों को निगरानी एजेंसी की नियुक्ति करनी होगी।यही नियम आरंभिक सार्वजनिक निर्गम (आईपीओ) के जरिये निवेशकों से धन जुटाने के अलावा राइट इश्यू के जरिये मौजूदा निवेशकों से धन जुटाने पर भी लागू होगा।इसमें बैंक और सार्वजनिक वित्तीय संस्थानों जैसी कुछ कंपनियों को इस प्रावधान से छूट है क्‍योंकि इस वर्ग की इकाइयों को और कड़े नियामकीय अनुपालन को पूरा करना होता है।छोटी कंपनियों के लिए भी निगरानी एजेंसी की अनिवार्यता संबंधी प्रस्ताव को सेबी के निदेशक मंडल की 26 अप्रैल को होने वाली अगली बैठक में रखा जा सकता है। इस तरह की शिकायतें मिली हैं कि कुछ कंपनियों ने पेशकश दस्तावेज में उल्‍लेखित उद्देश्‍यों से अलग भी आईपीओ के धन का इस्तेमाल किया है।

उत्तरप्रदेशमेंकोविड19के12नयेमामलेवैक्सीनेशनकाआंकड़ा8करोड़केपारमारुति सुजुकी ने हासिल की बड़ी उपलब्धि, घरेलू बाजार में दो करोड़ पहुंची यात्री वाहनों की बिक्री******Maruti Suzuki India कार बनाने वाली देश की सबसे बड़ी कंपनी मारुति सुजुकी इंडिया (एमएसआई) ने घरेलू बाजार में दो करोड़ यात्री वाहन बेचने की उपलब्धि हासिल की है। कंपनी ने शनिवार को एक बयान में कहा कि उसने 37 साल से कम समय में यह उपलब्धि हासिल की है। कंपनी ने 14 दिसंबर 1983 को अपने पहले यात्री वाहन की बिक्री की थी। कंपनी ने मारुति 800 की बिक्री के साथ इस यात्रा की शुरुआत की थी। ने कहा कि उसने पहले एक करोड़ करीब 29 साल में की, जबकि अगले एक करोड़ यात्री वाहन आठ साल में ही बेच डाले गये। कंपनी के प्रबंध निदेशक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी केनिचि आयुकावा ने कहा, 'हम इस नये कीर्तिमान से उत्साहित हैं। यह उपलब्धि हासिल करना कंपनी, हमारे आपूर्तिकर्ताओं तथा डीलरों के लिए शानदार प्रोत्साहन है।'उल्लेखनीय है कि कंपनी ने आने वाले समय की योजना के तहत भारत स्टेज-6 के अनुकूल वाहनों को पेश करने के साथ ही कारखाने में ही सीएनजी किट लगे वाहन तथा स्मार्ट हाइब्रिड वाहन भी बाजार में उतारा है। कंपनी भारतीय बाजार में इलेक्ट्रिक वाहन उतारने की भी योजना बना रही है।उत्तरप्रदेशमेंकोविड19के12नयेमामलेवैक्सीनेशनकाआंकड़ा8करोड़केपारDiabetes: दूध में दालचीनी, काली मिर्च सहित इन चीज़ों को मिलाकर पीने से डायबिटीज होता है काबू, ऐसे करें सेवन******: डायबिटीज की वजह से इस समय देश में न जाने कितने लोग पीड़ित हैं। डायबिटीज के मरीजों को पूरी ज़िंदगी अपनी लाइफ स्टाइल और डाइट की ओर ख़ास ध्यान देने की ज़रूरत होती है, वरना ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल करना मुश्किल हो जाता है। दरअसल, लम्बे समय तक डायबिटीज को कंटोल करने के लिए इसके मरीजों को अपने खान-पान, लाइफस्टाइल और अपनी मेंटल हेल्थ से जुड़ों मुद्दों पर भी ध्यान देना पड़ता है। क्योंकि, ये सभी चीजें ब्लड शुगर लेवल को बढ़ाने का काम कर सकती हैं। इसलिए ब्लड शुगर को कंट्रोल करने के लिए अगर आप रोज़ाना रात को सोने से पहले इन चीज़ों को दूध में मिलाकर पिएंगे, तो इससे आपको यकीनन धीरे धीरे फायदा और असर देखने को मिलेगा। आइए बताते है कौन सी हैं वो चीज़ें?वैसे तो दालचीनी गुणों की खान है, लेकिन डायबिटीज में इसका सेवन बहुत ही लाभकारी माना जाता है। यह ब्लड शुगर लेवल को कम रखने में सहायता करता है। रात में सोने से पहले एक गिलास दूध में 2-3 दालचीनी डालकर हल्का गर्म कर लें और उसमें स्वादानुसार शहद या चीनी भी मिला सकते हैं। इससे ये पेय और भी स्वादिष्ट बन जायेगा।सर्दी-खांसी से लेकर, खाने का स्वाद बढ़ाने में मशहूर काली मिर्च डायबिटीज के मरीजों के लिए भी बहुत लाभकारी साबित हो सकती है। दूध पीने से पहले 3-4 काली मिर्च को पीसकर दूध में मिलाएं। आग आप चाहें, तो इसमें आधा चम्मच जीरा भी डाल सकते हैं। सभी चीजों को अच्छी तरह उबाल लें और इस दूध को सोने से पहले छानकर पीएं। काली क्रिच वाले दूध को हफ्ते में 3 से 4 दिन पियें। इससे धीरे धीर डायबिटीज कम होगा और आपको पोइजीटिव असर देखने को मिलेगा।हल्दी वाला दूध तो घर-घर में मशहूर है। सर्दी, खांसी से लेकर बुखार,तक में लोग हल्दी वाला दूध पीने की सलाह देते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि इस साधारण-से ड्रिंक के सेवन से डायबिटीज के मरीजों को बहुत ज़्यादा फायदा होता है। दरअसल, हल्दी में ऐसे पोषक तत्व होते हैं जो एंटीऑक्सीडेंट्स और एंटी-इंफ्लेमेंट्री प्रभाव डालते हैं। ये दोनों ही गुण डायबिटीज में लक्षणों को कम करने में मदद करते हैं।डायबिटीज में बादाम का सेवन बहुत लाभकारी माना जाता है। इसमें विटामिन ई जैसे हेल्दी फैट्स के अलावा कई एंटीऑक्सीडेंट्स और प्रोटीन पाए जाते हैं। इसलिए रात में सोने से पहले 2-3 बादाम की गिरियों को कूटकर दूध के साथ उबालें फिर इस दूध को पी जाएं।

उत्तर प्रदेश में कोविड-19 के 12 नये मामले, वैक्सीनेशन का आंकड़ा 8 करोड़ के पार

उत्तरप्रदेशमेंकोविड19के12नयेमामलेवैक्सीनेशनकाआंकड़ा8करोड़केपारइंदौर में भारी बारिश ने तोड़ा 39 साल का रिकॉर्ड, कई इलाकों में पानी भरा****** मध्य प्रदेश की आर्थिक राजधानी कहे जाने वाले में पिछले 24 घंटे से जारी भारी बारिश ने शनिवार को 39 साल का रिकॉर्ड तोड़ दिया। लगातार भारी बारिश से शहर के कई इलाकों में पानी भर गया और जन-जीवन अस्त-व्यस्त हो गया। मौसम विभाग के वैज्ञानिक अमितेश यादव ने बताया कि शुक्रवार सुबह 08:30 बजे से शनिवार सुबह 08:30 बजे के बीच शहर में 263.4 मिलीमीटर (10.37 इंच) बारिश दर्ज की गई।उन्होंने बताया, "शहर में इससे पहले 10 अगस्त 1981 को 24 घंटे के अंतराल में 212.6 मिलीमीटर (8.37 इंच) बारिश दर्ज की गई थी। यह रिकॉर्ड अब ध्वस्त हो गया है।" भारी बारिश के मद्देनजर प्रशासन और पुलिस के आला अफसरों ने शनिवार तड़के से मैदान संभाला और निचली बस्तियों में फंसे लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने का सिलसिला शुरू किया गया। शइर के कई इलाकों के लोग अपने घरों में बारिश का पानी भर जाने की तस्वीरें सोशल मीडिया पर डाल रहे हैं। शहर की अधिकांश प्रमुख सड़कों के जलमग्न होने से यातायात बुरी तरह प्रभावित हुआ।रीगल चौराहा स्थित पुलिस उप महानिरीक्षक (डीआईजी) कार्यालय के परिसर में भी पानी भरा देखा गया। चश्मदीदों ने बताया कि भारी बारिश के बाद शासकीय महाराजा यशवंतराव चिकित्सालय (एमवायएच) के तलघर के दो वॉर्डों में पानी भर गया। एमवायएच, प्रदेश के सबसे बड़े सरकारी अस्पतालों में से एक है।एमवायएच के अधीक्षक पीएस ठाकुर ने बताया, "तलघर स्थित सहारा वॉर्ड (बेसहारा मरीजों के वॉर्ड) और जेल वॉर्ड (कैदियों के वॉर्ड) में पानी भर जाने के बाद इनमें भर्ती मरीजों को अस्पताल की चौथी मंजिल पर स्थानांतरित किया गया है।"उत्तरप्रदेशमेंकोविड19के12नयेमामलेवैक्सीनेशनकाआंकड़ा8करोड़केपार4G VoLTE से लैस Swipe Elite Star का 16GB वैरिएंट हुआ लॉन्च, कीमत मात्र 3,999 रुपए****** पिछले साल दिसंबर में स्‍वाइप टेक्‍नोलॉजीज ने 4G VoLTE से लैस अपना सस्‍ता स्‍मार्टफोन Swipe Elite Star 8GB स्‍टोरेज के साथ लॉन्‍च किया था। अब इस फोन की स्‍टोरेज 16GB कर दी गई है और कंपनी इसे 3,999 रुपए में फ्लिपकार्ट के जरिए बेच रही है। यह स्‍मार्टफोन ब्‍लैक और व्‍हाइट कलर वैरिएंट में उपलब्‍ध है। Swipe Elite Star एंड्रॉयड मार्शमैलो आधारित इंडस ओएस पर चलता है। स्वाइप इसमें इंडस स्वाइप, इंडस रीडर, इंडस मैसेजिंग और एक हाइब्रिड कीबोर्ड है। स्‍वाइप ने लॉन्‍च किया कनेक्‍ट Neo 4G, मात्र 2849 रुपए में मिलेगा Volte फीचर वाला ये स्‍मार्टफोनSwipe Elite Star एक डुअल सिम स्मार्टफोन है। इसमें 4 इंच WVGA (480×800 पिक्सेल) डिस्प्ले है। इसका प्रोसेसर 1.5GHz क्वाड-कोर है और रैम 1 GB है। Swipe Elite Star में 16GB इनबिल्ट स्टोरेज है जिसे माइक्रोएसडी कार्ड के जरिए 32GB तक बढ़ाया जा सकता है। Swipe ने 5,499 रुपए में लॉन्‍च किया 4G VoLTE स्मार्टफोन, 2GB रैम और 8MP कैमरे से है लैसSelfie Smartphone newSwipe Elite Star में एक 5MP का रियर कैमरा है जो एलईडी फ्लैश के साथ आता है। फोन में 1.3MP का फ्रंट कैमरा दिया गया है। इस स्मार्टफोन में 2000 mAh की बैटरी है जो रैपिड-चार्ज फीचर के साथ आती है। कनेक्टिविटी की बात करें तो, Swipe Elite Star में 4G VoLTE, वाई-फाई, जीपीएस, 3.5 एमएम हेडफोन जैक और ब्लूटूथ जैसे फ़ीचर हैं। स्मार्टफोन का डाइमेंशन 125.5×64.6×10.6 मिलीमीटर है।उत्तरप्रदेशमेंकोविड19के12नयेमामलेवैक्सीनेशनकाआंकड़ा8करोड़केपारHeat Wave in North India Rain in Assam: उत्तर भारत में हीट वेव, उमस ने किया बेहाल, असम में बारिश और भूस्खलन से कई घर तबाह******Highlightsदेश की राजधानी दिल्ली, उत्तर प्रदेश, राजस्थान, हरियाणा, चंडीगढ़ सहित भारत के कई हिस्सों में गंभीर 'हीट वेव' (Heat Wave) की स्थिति बनी हुई है। मौसम विभाग के मुताबिक आने वाले 16 और 17 मई को देश के उत्तर पश्चिम और मध्य भागों में लू की स्थिति बनी रहेगी फिर उसके बाद मौसम में बदलाव होगा।वहीं जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में 16 और 17 मई को गरज के साथ बारिश और ओलावृष्टि होने की संभवना है। वहीं पंजाब और पूर्वी उत्तर प्रदेश में गरज के साथ हल्की बारिश हो सकती है। हरियाणा, पश्चिम उत्तर प्रेदश और राजस्थान में 16 मई को अलग-अलग जगहों पर धूल भरी आंधी के साथ हल्की बारिश की संभावना है।एक तरफ उत्तर भारत में हीट वेव की वजह से लोग घर से बाहर निकलना पसंद नहीं कर रहे हैं, वहीं दूसरी तरफ असम में बारिश(Rain in Assam) ने लोगों का जीना मुश्किल कर दिया है। असम में लगातार हो रही बारिश के कारण 'दीमा हसाओ' के कई इलाकों में बाढ़ जैसी स्थिति बन गई है। असानी चक्रवात के आने के बाद से यहां लगातार बारिश हो रही है। जिससे कई इलाकों में जलभराव हो गया है। यहां बारिश की वजह से 80 घर बुरी तरह प्रभावित हुए हैं। भूस्खलन(Landslides) से एक महिला सहित तीन लोगों की मौत भी हो गई है।

उत्तर प्रदेश में कोविड-19 के 12 नये मामले, वैक्सीनेशन का आंकड़ा 8 करोड़ के पार

उत्तरप्रदेशमेंकोविड19के12नयेमामलेवैक्सीनेशनकाआंकड़ा8करोड़केपारWorld Kidney Day 2022: किडनी में दिख रहे हैं ये संकेत तो न करें नजरअंदाज, हो सकता है किडनी कैंसर******Highlights देश में किडनी में कैंसर की बीमारी दिन प्रति दिन तेजी से बढ़ रही है। एक रिपोर्ट के मुताबिक 2040 तक यह मौत की 5वीं सबसे बड़ी वजह बन सकती है। इसलिए किडनी किडनी को हेल्दी रखने के तरीकों के बारे में जागरुकता फैलाने के लिए हर साल वर्ल्ड किडनी डे मनाया जाता है। आज यानी 10 मार्च को पूरी दुनिया में विश्व किडनी दिवस मनाया जाता है। ऐसे में आइए जानते हैं किडनी कैंसर के लक्षण के बारे में साथ ही जानिए इस साल की थीम के बारे में।हर साल वर्ल्ड किडनी डे के लिए एक खास थीम तैयार किया जाता है। इस साल वर्ल्ड किडनी डे 2022 की थीम 'किडनी हेल्थ फॉर ऑल' रखी गई है। इसका मतलब है कि सभी के लिए गुर्दे का स्वास्थ्य होना जरूरी है। ऐसे में आप भी किडनी को डैमेज होने से बचाने के लिए हेल्दी डाइट जरूर लें साथ ही नशे की सेवन से दूर रहें। इसके अलावा रेगुलर टेस्ट करवाते हैं।किडनी कैंसर आपके किडनी यानी गुर्दा से शुरु होता है जो दिखने में मुट्ठी के आकार के बराबर होता है। यह रीढ़ की हड्डी के दोनों तरफ मौजूद होता है। वयस्कों में, रीनल सेल कार्सिनोमा एक किडनी कैंसर का ही प्रकार है। इसके अलावा छोटे बच्चों में विल्म्स ट्यूमर होने की आशंका अधिक होती है।उत्तरप्रदेशमेंकोविड19के12नयेमामलेवैक्सीनेशनकाआंकड़ा8करोड़केपारBudget 2018 : बुनियादी ढांचा क्षेत्र का दर्जा और टैक्‍स में कमी चाहता है तेल एवं गैस उद्योग****** तेल एवं गैस उद्योग ने सरकार से में खोज एवं उत्पादन को बुनियादी ढांचा क्षेत्र का दर्जा दिए जाने की मांग की है। इसके अलावा उद्योग चाहता है कि घरेलू स्तर पर उत्पादित कच्चे तेल पर करों की दर को कम किया जाए तथा आयात पर निर्भरता घटाई जाए। इसके अलावा, उद्योग ने प्राकृतिक गैस को जल्द से जल्द वस्‍तु एवं सेवा कर (जीएसटी) के तहत लाने की मांग की है, ताकि पर्यावरण के अनुकूल ईंधन के इस्तेमाल को प्रोत्साहन दिया जा सके और गैस आधारित अर्थव्यवस्था की ओर रुख किया जा सके। वेदांता केयर्न ऑयल एंड गैस के मुख्य कार्यकारी अधिकारी सुधीर माथुर ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कच्चे तेल के दाम 70 डॉलर प्रति बैरल के स्तर को पार करने और भारत द्वारा अपनी जरूरत का 80 प्रतिशत कच्चा तेल आयात करने की वजह से वित्त मंत्री अरुण जेटली द्वारा 2018-19 का बजट पेश करते समय सबसे बड़ी चुनौती राजकोषीय घाटे को अंकुश में रखने की होगी।बजट में वह क्या चाहते हैं, इस बारे में माथुर ने कहा कि 2018 का आयात बिल अनुमानत: पांच लाख करोड़ रुपए रहने का अनुमान है। कच्चे तेल की कीमतों में और वृद्धि की वजह से कड़े वित्तीय उपायों की जरूरत होगी। उन्होंने कहा, समय की जरूरत है कि घरेलू तेल एवं गैस उत्पादन को प्रोत्साहन दिया जाए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 2022 तक आयात पर निर्भरता को दस प्रतिशत घटाने के एजेंडा पर आगे बढ़ा जाए।ग्रेट ईस्टर्न एनर्जी कॉर्प लि. (जीईईसीएल) के प्रबंध निदेशक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी प्रशांत मोदी ने कहा कि तेल एवं गैस उद्योग की लंबे समय से बुनियादी ढांचा क्षेत्र का दर्जा पाने की है। इससे देश में खोज गतिविधियों को आगे बढ़ाया जा सके। इससे घरेलू कच्चे तेल एवं गैस का उत्पादन बढ़ेगा और आयात बिल को नीचे लाया जा सकेगा।

उत्तर प्रदेश में कोविड-19 के 12 नये मामले, वैक्सीनेशन का आंकड़ा 8 करोड़ के पार

उत्तरप्रदेशमेंकोविड19के12नयेमामलेवैक्सीनेशनकाआंकड़ा8करोड़केपारAparna Yadav: अपर्णा ने बताया शिवपाल यादव को भाजपा में शामिल होने का तरीका, कही ये बात****** उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और लोकसभा सांसद मुलायम सिंह यादव की छोटी बहू अपर्णा यादव शुक्रवार को नोएडा सेक्टर-70 में एक निजी कार्यक्रम में शिरकत करने आईं। इस दौरान मीडिया से चर्चा में उन्होंने कहा कि अगर शिवपाल सिंह भारतीय जनता पार्टी में आना चाहते हैं, तो वह शीर्ष नेतृत्व से बातचीत करें।गौरतलब है कि अपर्णा यादव अपने बयानों से अक्सर चर्चा में बनी रहती हैं। खासकर भारतीय जनता पार्टी ज्वाइन करने के बाद उनकी राजनीतिक हैसियत भी बढ़ गई है। वह जहां भी जाती हैं वहां अपर्णा यादव को घेरकर मीडिया से सवालों की झड़ी लगा देता है।अपर्णा यादव ने अपने चाचा ससुर शिवपाल सिंह यादव के भाजपा में आने के सवाल पर मीडिया कर्मियों को बेबाकी से जवाब दिया। उन्होंने कहा कि अगर शिवपाल यादव पार्टी में आना चाहते हैं तो वह आलाकमान या शीर्ष नेताओं से बात कर सकते हैं। उन्होंने योगी राज की बात करते हुए कहा कि प्रदेश में भाजपा सरकार राम राज की बात करती है तो उस पर अमल भी करती है। प्रदेश में वास्तव में रामराज है। जिसका नेतृत्व एक साधु (योगी आदित्यनाथ) के हाथ में है। सरकार ने आम लोगों की समस्या को ध्यान में रखते हुए बजट पेश किया है। यह सभी वर्गों के लिए कारगर है।आजम खां पर किया वारआजम खां के सवाल पर उन्होंने कहा कि भाजपा में आपराधिक व्यक्ति के लिए कोई जगह नहीं हैं। आजम खां अपने कोर्ट केस को देखें न कि राजनीति से प्रेरित होकर बयानबाजी करें।

उत्तरप्रदेशमेंकोविड19के12नयेमामलेवैक्सीनेशनकाआंकड़ा8करोड़केपारDelhi News: 'दो समुदायों के बीच माहौल खराब करने की कोशिश की', हाईकोर्ट ने दिल्ली हिंसा के आरोपी की जमानत याचिका की खारिज******Highlights दिल्ली हाईकोर्ट ने जहांगीरपुरी हिंसा के एक आरोपी को अग्रिम जमानत देने से इनकार किया है। दिल्ली हाईकोर्ट ने कहा कि आरोपी का आचरण क्षेत्र में कथित रूप से दो समुदायों के बीच सांप्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने का प्रयास था। कोर्ट ने आरोपी शेख इशराफिल की अग्रिम जमानत याचिका को खारिज किया है।कोर्ट ने आरोपी शेख इशराफिल की अग्रिम जमानत याचिका को खारिज करते हुए कहा, "आरोपी का आचरण कथित तौर पर दो समुदायों के बीच दरार पैदा करने की कोशिश करके क्षेत्र के सांप्रदायिक सद्भाव को बिगाड़ने का एक प्रयास था। अदालत को यह नोट करना होगा कि ये कृत्यों के गंभीर आरोप हैं जो एक समुदाय के त्योहार की पूर्व संध्या पर फायदा उठाकर समाज के सांप्रदायिक ताने-बाने को गहरा नुकसान पहुंचाते हैं।"जस्टिस स्वर्ण कांता शर्मा ने बुधवार को अपने आदेश में कहा, "यह अजीब विरोधाभास है कि आवेदक का दावा है कि वह 'अमन समिति' का क्षेत्र प्रभारी है, लेकिन उन अपराधों की जांच में शामिल नहीं हुआ है, जिन्होंने ऐसी समिति के उद्देश्य को ही विफल कर दिया है।"कोर्ट ने कहा, "इसमें कोई संदेह नहीं है कि इस देश के प्रत्येक नागरिक को व्यक्तिगत स्वतंत्रता का मौलिक अधिकार दिया गया है। हालांकि, यह उन कर्तव्यों के अधीन है, जो बदले में प्रत्येक नागरिक को दिए जाते हैं।" इसके अलावा, यह देखते हुए कि उसने जांच एजेंसी के साथ सहयोग नहीं किया है, इसने कहा कि दंगों में इस्तेमाल की गई आपत्तिजनक सामग्री को केवल आरोपी/आवेदक के स्वामित्व वाले घर की छत से बरामद किया गया है।जस्टिस ने कहा, "देश और समुदायों में शांति और सद्भाव सुनिश्चित करना न केवल कानून लागू करने वाली एजेंसियों और अदालतों का सबसे पवित्र कर्तव्य है, बल्कि इस देश के प्रत्येक नागरिक पर कर्तव्य डाला गया है कि वे शांति और सद्भाव बनाए रखें और सुनिश्चित करें कि उनके कृत्यों से सांप्रदायिक घृणा या द्वेष को भड़काना और बढ़ावा न मिले।" वर्तमान मामले में, पुलिस ने बताया है कि 16 अप्रैल को जामा मस्जिद, सी-ब्लॉक, जहांगीरपुरी के पास अपराध किया गया था, जिसमें तलवार, ईंट, बोतल और फायरआर्म्स का इस्तेमाल किया गया था।आदेश में कहा गया है, "याचिकाकर्ता स्वीकार करता है कि वह ईदगाह सी-ब्लॉक, जहांगीरपुरी में 500 लोगों के साथ मौजूद था, हालांकि किसी अन्य कारण से, अर्थात, अपने दिवंगत पिता के लिए तीजा संस्कार के लिए वह वहीं था। एफएसएल को उसकी छत से ईंट, कांच और चीनी मिट्टी के टुकड़े जैसी संदिग्ध सामग्री मिली है और उसके बड़े बेटे को पहले ही गिरफ्तार किया जा चुका है।" आदेश में कहा गया है कि चश्मदीद गवाह के बयान सहित आवेदक के आचरण और उसके खिलाफ रिकॉर्ड की गई सामग्री को ध्यान में रखते हुए और इस तथ्य को ध्यान में रखते हुए कि दंगों के पीछे के वास्तविक कारण का पता लगाने के लिए उसकी हिरासत में पूछताछ की आवश्यकता होगी, यह अदालत आवेदक को अग्रिम जमानत देने के लिए इच्छुक नहीं है।उत्तरप्रदेशमेंकोविड19के12नयेमामलेवैक्सीनेशनकाआंकड़ा8करोड़केपारRBSE 10th Supplementary Result 2020: राजस्थान बोर्ड आरबीएसई 10वीं सप्लीमेंट्री परीक्षा के नतीजे घोषित, ऐसे करें चेक****** राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड, RBSE ने RBSE 10 वीं सप्लीमेंट्री परीक्षा परिणाम 2020 घोषित किया है। राजस्थान 10 वीं सप्लीमेंट्री परीक्षा का परिणाम आधिकारिक वेबसाइट rajeduboard.rajastha.gov.in पर उपलब्ध है। छात्र कृपया ध्यान दें कि RBSE 10वीं सप्लीमेंट्री परीक्षा परिणाम 2020 rajresults.nic.in पर उपलब्ध नहीं है। परिणामों की जाँच करने के लिए सीधा लिंक आधिकारिक वेबसाइट पर उपलब्ध है। राज्य में सप्लीमेंट्री परीक्षा 3 सितंबर, 2020 से 12 सितंबर, 2020 तक आयोजित की गई थीं।उपलब्ध जानकारी के अनुसार, कुल 87 हजार छात्रों ने सप्लीमेंट्री परीक्षा के लिए पंजीकरण कराया। इनमें से 47,827 पुरुष छात्रों और 39,726 महिला छात्रों ने परीक्षा के लिए पंजीकरण कराया था। इनमें से 41,702 पुरुष और 35,584 महिला छात्र परीक्षा के लिए उपस्थित हुए। 61.90% लड़के और 65.30% लड़कियों ने सप्लीमेंट्री परीक्षा पास की है। राजस्थान बोर्ड ने पहले आधिकारिक वेबसाइट पर आरबीएसई कक्षा 12 पूरक परिणाम 2020 की घोषणा की थी। राजस्थान बोर्ड वी। उपाध्याय और प्रवीशिका परीक्षा के लिए भी परीक्षा आयोजित करता है। उसी के परिणाम भी जारी किए गए और आधिकारिक वेबसाइट rajeduboar.rajasthan.gov.in पर उपलब्ध कराए गए।

उत्तरप्रदेशमेंकोविड19के12नयेमामलेवैक्सीनेशनकाआंकड़ा8करोड़केपारखाद्य कीमतों में नरमी के चलते थोक मुद्रास्फीति घटी, नवंबर में तीन महीने के निचले स्‍तर 4.64% पर रही******wpi inflation तीन महीने के निचले स्तर पर जाकर नवंबर में 4.64 प्रतिशत पर रही। इसकी अहम वजह सब्जियों और अन्य खाद्य वस्‍तुओं की कीमतें नरम रहना है।अक्टूबर में थोक मुद्रास्फीति 5.28 प्रतिशत थी, जबकि पिछले साल नवंबर में यह 4.02 प्रतिशत थी। शुक्रवार को जारी सरकारी आंकड़ों के मुताबिक नवंबर में खाद्य वस्‍तुओं की कीमत में 3.31 प्रतिशत अवस्फीति दर्ज की गई है, जबकि नवंबर में यह 1.49 प्रतिशत थी।सब्जियों की कीमतें घटी है और नवंबर में इसमें 26.98 प्रतिशत अवस्फीति देखी गई, जबकि अक्टूबर में यह 18.65 प्रतिशत थी।वहीं, नवंबर में ईंधन और बिजली श्रेणी में मुद्रास्फीति 16.28 प्रतिशत के स्तर पर उच्च बनी रही, लेकिन यह अक्टूबर की 18.44 प्रतिशत की मुद्रास्फीति के स्तर से कम है। इसकी अहम वजह पेट्रोल और डीजल की कीमतें घटना है।खाद्य वस्तुओं में आलू में मुद्रास्फीति नवंबर में 86.45 प्रतिशत के उच्च स्तर पर बनी रही, जबकि प्याज और दालों में क्रमश: 47.60 प्रतिशत और 5.42 प्रतिशत कर अवस्फीति दर्ज की गई।नवंबर की 4.64 प्रतिशत मुद्रास्फीति पिछले तीन महीनों में सबसे कम है। इससे पहले अगस्त में मुद्रास्फीति 4.62 प्रतिशत रही थी।इस हफ्ते की शुरुआत में उपभोक्ता मूल्य सूचकांक मुद्रास्फीति के आंकड़े जारी किए गए और नवंबर में वह 2.33 प्रतिशत 17 महीने के निचले स्तर पर रही।उल्लेखनीय है कि भारतीय रिजर्व बैंक अपनी मौद्रिक नीति की समीक्षा के लिए मुख्य तौर पर उपभोक्ता मूल्य सूचकांक मुद्रास्फीति के आंकड़ों पर विचार करता है। अच्छे मानसून और खाद्य कीमतों के सामान्य बने रहने का हवाला देते हुए केंद्रीय बैंक ने चालू वित्त वर्ष की दूसरी छमाही में खुदरा मुद्रास्फीति का अनुमान घटाकर 2.7 से 3.2 प्रतिशत तक कर दिया था।उत्तरप्रदेशमेंकोविड19के12नयेमामलेवैक्सीनेशनकाआंकड़ा8करोड़केपारStock Market: शेयर बाजार की गिरावट से निवेशकों को हुआ तगड़ा नुकसान, एक झटके में डूबे 76,196 करोड़ रुपये******Highlightsशेयर बाजार में बुधवार का दिन निवेशकों को तगड़ा नुकसान दे गया। आज आई गिरावट के साथ निवेशकों को 76,196.54 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ। महंगाई को काबू में लाने के लिये आक्रामक तरीके से ब्याज दर बढ़ाये जाने की आशंका के बीच बाजार में बिकवाली हुई।तीस शेयरों पर आधारित बीएसई सेंसेक्स गिरावट के साथ 60,346.97 अंक पर बंद हुआ। इससे पहले बाजार में लगातार चार दिन तक तेजी रही थी। इसके साथ बीएसई में सूचीबद्ध कंपनियों का बाजार पूंजीकरण यानी निवेशकों की संपत्ति 76,196.54 करोड़ रुपये घटकर 2,85,94,997.40 करोड़ रुपये पर आ गया। मंगलवार को बाजार पूंजीकरण 2,86,71,193.94 करोड़ रुपये था।मोतीलाल ओसवाल फाइनेंशियल सर्विसेज के खुदरा शोध प्रमुख सिद्धार्थ खेमका ने कहा कि वैश्विक स्तर पर नकारात्मक रुख के बीच घरेलू बाजार ने मजबूती दिखायी। उन्होंने कहा कि बाजार 1.6 प्रतिशत की गिरावट के साथ खुला। लेकिन बाद में कारोबार के दौरान इसमें लगातार सुधार आया और अंत में मामूली 0.4 प्रतिशत की गिरावट के साथ बंद हुआ।घरेलू शेयर बाजारों में पिछले चार दिन से जारी तेजी पर बुधवार को विराम लगा और बीएसई सेंसेक्स 224 अंक की गिरावट के साथ बंद हुआ। उच्च मुद्रास्फीति को काबू में लाने के लिये आक्रामक रूप से ब्याज दर बढ़ाये जाने को लेकर चिंता के बीच आईटी और दवा कंपनियों के शेयरों में बिकवाली से बाजार नीचे आया। तीस शेयरों पर आधारित बीएसई सेंसेक्स में 1,200 अंक से अधिक का उतार-चढ़ाव आया। अंत में यह 224.11 अंक यानी 0.37 प्रतिशत की गिरावट के साथ बंद हुआ। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 66.30 अंक यानी 0.37 प्रतिशत की गिरावट के साथ 18,003.75 अंक पर बंद हुआ।अमेरिका के उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) के आंकड़े अनुमान से कहीं ऊंचे रहने की वजह से अंतरबैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में बुधवार को रुपया 30 पैसे गिरकर 79.47 (अस्थायी) प्रति डॉलर पर बंद हुआ। अंतरबैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में रुपया डॉलर के मुकाबले 79.58 पर खुला। दिन के कारोबार में रुपये ने 79.38 और 79.60 के दायरे में घूमने के बाद अंत में यह डॉलर के मुकाबले 30 पैसे की गिरावट के साथ 79.47 पर बंद हुआ। रुपया मंगलवार को 79.17 प्रति डॉलर पर बंद हुआ था।

उत्तरप्रदेशमेंकोविड19के12नयेमामलेवैक्सीनेशनकाआंकड़ा8करोड़केपारShani Amavasya 2021: शनिश्चरी अमावस्या आज, इन उपायों को करने से मिलेगी कालसर्प योग, पितृ दोष और शनि की साढ़े साती के बुरे प्रभावों से मुक्ति******Shani Amavasya 2021: शनिश्चरी अमावस्याआज, जानें शुभ समय और दोष से बचने के उपाय,शनिश्चरी अमावस्या के दिन पितरों की पूजा के साथ ही शनिदेव की पूजा का विशेष रूप से महत्व है, 13 मार्च को शनिश्चरी अमावस्या, इन उपायों को करने से मिलेगी कालसर्प।फाल्गुन कृष्ण पक्ष की उदया तिथि अमावस्या और दिन शनिवार है। अमावस्या तिथि 13 मार्च को दोपहर 3 बजकर 51 मिनट तक रहेगी। उसके बाद फाल्गुन शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि लग जाएगी। शास्त्रों में शनिश्चरी अमावस्या का बड़ा ही महत्व है। इसदिन पितरों की पूजा के साथ ही शनिदेव की पूजा का विशेष रूप से महत्व है। कहते हैं आज के दिन शनिदेव की पूजा करने से, उनके निमित्त उपाय करने से शनिदेव बहुत जल्दी खुश होते हैं, साथ ही जन्मपत्रिका में अशुभ शनि के प्रभाव से होने वाली परेशानियों, जैसे शनि की साढे-साती, ढैय्या और कालसर्प योग से भी छुटकारा मिलता है।्या की सुबह 7 बजकर 54 मिनट से लेकर कल की सुबह 7 बजकर 39 मिनट तक शुभ योग रहेगा। इसके साथ ही रात 12 बजकर 22 मिनट तक पूर्वा भाद्रपद नक्षत्र रहेगा। आचार्य इंदु प्रकाश से जानिए शनिश्चरी अमवस्या, शुभ योग और पूर्वाभाद्रपद नक्षत्र में किए जाने वाले खास उपायों के बारे में।उत्तरप्रदेशमेंकोविड19के12नयेमामलेवैक्सीनेशनकाआंकड़ा8करोड़केपारGold Rate Today: विदेशों में मजबूत रुख के चलते सोना हुआ 30,650 रुपए प्रति दस ग्राम, चांदी भी 120 रुपए उछली******विदेशों में मजबूत रुख के साथ ही स्‍थानीय ज्‍वेलर्स की आगामी शादी-विवाह सीजन की मांग को पूरा करने के लिए खरीदारी बढ़ने से आज की कीमतों में और तेजी आ गई। सर्राफा बाजार में सोने का भाव आज 30 रुपए की मामूली तेजी के साथ 30,650 रुपए प्रति दस ग्राम हो गया। वहीं दूसरी और औद्योगिक इकाइयों और सिक्‍का निर्माताओं की ओर से मांग बढ़ने के कारण चांदी की कीमत भी आज 120 रुपए उछलकर 39,800 रुपए प्रति किलोग्राम पर पहुंच गई। सर्राफा कारोबारियों का कहना है कि सकारात्‍मक वैश्विक कारणों की वजह से डॉलर कमजोर हुआ है और इस वजह से सुरक्षित निवेश के लिए सोने की मांग बढ़ गई है। अंतरराष्‍ट्रीय स्‍तर पर सिंगापुर में सोना 0.54 प्रतिशत बढ़कर 1329.10 डॉलर प्रति औंस हो गया। चांदी भी यहां 0.77 प्रतिशत की तेजी के साथ 17.09 डॉलर प्रति औंस हो गई।राष्‍ट्रीय राजधानी दिल्‍ली में 99.9 प्रतिशत और 99.5 प्रतिशत शुद्धता वाले सोने की कीमत 30-30 रुपए के मामूली सुधार के बाद क्रमश: 30,650 रुपए और 30,500 रुपए प्रति दस ग्राम हो गई। इससे पहले गुरुवार को सोने की कीमतों में 145 रुपए प्रति दस ग्राम की वृद्धि हुई थी। हालांकि गिन्‍नी का भाव सीमित कारोबार की वजह से 24,700 रुपए प्रति आठ ग्राम के स्‍तर पर ही स्थिर बना रहा। चांदी हाजिर का भाव 120 रुपए बढ़कर 39,800 रुपए प्रति किलोग्राम हो गया। वहीं साप्‍ताहिक आधार पर डिलीवरी का भाव भी 90 रुपए की तेजी के बाद 39,080 रुपए प्रति किलोग्राम हो गया। चांदी सिक्‍कों की कीमत 73,000 रुपए लिवाल और 74,000 रुपए बिकवाल प्रति सैकड़ा पर स्थिर बनी रही।

हाल का ध्यान

लिंक