वर्तमान पद:मुखपृष्ठ > फोशान सिटी > मूलपाठ

CPEC: चीन की सड़क पाकिस्तान के लिए बनी गले की फांस, अटक सकता है IMF का पैसा

2022-10-04 13:29:37 फोशान सिटी

चीनकीसड़कपाकिस्तानकेलिएबनीगलेकीफांसअटकसकताहैIMFकापैसाNavratri 2019: व्रत के साथ रखना है खुद को हेल्दी तो डायटिशियन रुजुता दिवेकर के इस डाइट प्लान को करें फॉलो******:29 सिंतबर से शारदीय की शुरुआत होने वाली है। जिसकी तैयारियां ज्यादातर हर जगह कर ली गई है। कई लोग होते है जो पूरे 9 दिन व्रत रखते हैं। जिनमे से आधे लोग फलाहारी होते है। ऐसे में उन्हें अपने स्वास्थ्य का ज्यादा ख्याल रखना पड़ता है। अगर व्रत के सय आपने खुद का ख्याल नहीं दिया तो कई बीमारियों का सामना करना पड़ सकता है।अगर आप व्रत के दिनों में फलाहार नहीं रहते है तो सेलिब्रेटी न्यूट्रिशियन रुजुता दिवेकर ने डाइट चार्ट बताया है। जिसे अपनाकर आप व्रत में भी हेल्दी रह सकते हैं। इस डाइट चार्ट को रुजुता ने अपने इंस्टाग्राम पर शेयर किया है।रुजुता के इस डाइट चार्ट में कुट्टू का आटास राजगीरा और साबुदाना शामिल है। इसके साथ ही रुजुता ने यह बात भी समझाई कि नवरात्रि का धार्मिक और पौष्टिक महत्व क्या है। उनके अनुसार, पौष्टिक रूप से, यह उन महिलाओं को शक्ति प्रदान करता है जो उन्हें शारीरिक रूप से मजबूत नहीं हैं। बल्कि यह न्यूरो-ट्रांसमीटर और हार्मोनल स्तर पर संतुलन लाने में भी मदद करते हैं।"उन्होंने यह भी कहा है कि, "यह परिवारों को बताने का एक धार्मिक तरीका है कि महिलाओं और लड़कियों का अच्छा शारीरिक स्वास्थ्य समुदायों और समाजों के कल्याण के लिए सबसे महत्वपूर्ण है।" उन्होंने यह कहकर निष्कर्ष निकाला कि उनके द्वारा सुझाया गया डाइट प्‍लान क्षेत्रीय स्‍तर पर कहीं भी प्राप्‍त किया जा सकता है। एक मुट्टी नट्स, ताजे फलसिंघाड़े के पकौड़े, साबुदाना की खिचड़ी, स्वीट पैटेटो दही के साथ, चना पूरी और शीराराजगीरा या कुट्टू या फिर सिघाड़ा आटा की रोटी, आलू की सब्जी, मखाने की सब्जी या फिर कूट्टू की कढ़ी, थालीपीथ, व्रत वाले चावलव्रत वाले चावल, दही, पनीर की सब्जी, राजगीरा या कुट्टू या फिर सिघाड़ा आटा की रोटीताजे फल, छाछ, शिकंजी, खीर, शकरकंद की चाट, साबुदाना बड़ा दही के साथ खा सकते हैं।इस बारे में रुजुता का कहना है कि इस डाइट का सेवन करने से आपके हार्मोंस बैलेंस होगे। इसके साथ ही स्किन और बाल सही रहें। आपका मूड ठीक रहने के साथ-साथ पाचन तंत्र ठीक ढंग से काम करेगा।

चीनकीसड़कपाकिस्तानकेलिएबनीगलेकीफांसअटकसकताहैIMFकापैसासविता बजाज नहीं, ये हैं 'नदिया के पार' की 'गुंजा', 39 सालों में इतना बदल गया साधना सिंह का Look******इन दिनों सोशल मीडिया पर एक खबर काफी चर्चा में है, जिसमें ये कहा जा रहा है कि साल 1982 में रिलीज हुई ब्लॉकबस्टर मूवी 'नदिया के पार' में गुंजा का रोल निभाने वाली अभिनेत्री आर्थिक तंगी से जूझ रही हैं। इन अभिनेत्री का नाम सविता बजाज बताया जा रहा है, लेकिन आपको बता दें कि नदिया के पार फिल्म वाली एक्ट्रेस का नाम हैं। वो सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहती हैं और अपनी नई-पुरानी फोटोज शेयर करती रहती हैं। आइये आपको दिखाते हैं कि 39 सालों में उनका लुक कितना बदला है।सविता बजाज की बात करें तो वो एक सीनियर एक्ट्रेस हैं। उन्होंने हाल ही में गुहार लगाई थी कि उनकी सारी सेविंग खत्म हो गई है और उनके पास इलाज के लिए भी पैसे नहीं हैं। जानकारी के मुताबिक, वो कोरोना वायरस की चपेट में आ गई थीं। उन्हें ट्रीटमेंट के लिए हॉस्पिटल में एडमिट कराया गया था, लेकिन उनके पास पैसे नहीं थे। उन्होंने कई फिल्मों में काम किया है।आपको ये जानकर हैरानी होगी कि सविता बजाज के नाम पर साधना सिंह की फोटोज वायरल हो रही हैं, जिन्होंने नदिया के पार फिल्म से लोकप्रियता हासिल की थी। खबरों की मानें तो वो एक फिल्म की शूटिंग देखने गई थीं, लेकिन जब डायरेक्टर की उन पर नज़र गई तो उन्हें मूवी के लिए साइन कर लिया गया। उन्होंने गुंजा का किरदार निभाया जो दर्शकों को खूब पसंद आया था।इस फिल्म के बाद ,साधना सिंह पिया मिलन, ससुराल, फलक और पापी संसार सहित कई मूवीज में नज़र आईं, लेकिन उनकी पहचान कहीं खो सी गई। उन्हें पुराना स्टारडम नहीं मिला। इसके बाद उन्होंने टीवी सीरियल में हाथ आजमाया। वो कई शोज में काम कर चुकी हैं।निजी जिंदगी की बात करें तो फिल्म प्रोड्यूसर राजकुमार शाहाबादी से शादी के बाद साधना एक बेटे और एक बेटी की मां हैं। उनकी बेटी शीना साउथ की पॉपुलर एक्ट्रेस हैं। साधना बहुत अच्छी सिंगर भी हैं। वो सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव हैं और उन्होंने अपने फेसबुक अकाउंट पर गाने के कई वीडियो शेयर किए है।चीनकीसड़कपाकिस्तानकेलिएबनीगलेकीफांसअटकसकताहैIMFकापैसाFacelift Model: फोर्ड ने नई एंडेवर लॉन्च की, 3200 सीसी इंजन वाली SUV की शुरुआती कीमत 27.78 लाख****** अमेरिकी कार कंपनी फोर्ड ने पूरी तरह से नया प्रीमियम एसयूवी एंडेवर लॉन्च किया है। इसे पहली बार घुटनों के लिए एयरबैग के साथ 2200 सीसी और 3200 सीसी इंजन क्षमता के दो एडिशन में लॉन्च किया गया है। इन मॉडलों की कीमत 24.75 लाख रुपए से 29.46 लाख रुपए के बीच है। नई एंडेवर का मुकाबला फॉर्च्युनर और संटाफे जैसी एसयूवी से होगा। एंडेवर फोर्ड के सबसे सफल मॉडलों में से एक है।कंपनी ने इसे दो इंजन ऑप्शन में लॉन्च किया है। पहला 160बीएचपी पावर देने वाला 2.2 लीटर का डीजल इंजन और दूसरा 200 बीएचपी पावर देने वाला 3.2 लीटर इंजन के साथ। और दोनों ही वेरिएंट में फोर व्हील ड्राइव के साथ ऑटोमैटिक गियर का ऑप्शन है। सेफ्टी के मामले में नई फोर्ड एंडीवर पहले के मुकाबले काफी बेहतर है। साथ ही इसमें सनरूफ और हिल डिसेंट जैसे फीचर भी मौजूद है।FORD ENDEAVOURकंपनी ने 7 सीटर वाली एययूवी एंडेवर का 7 वेयियंट बाजार में उतारा है। इनकी कीमत 24.75- 29.46 लाख रुपए के बीच है। नई फोर्ड एंडेवर 2.2 ली. 4×2 एमटी ट्रेंड की कीमत 24.75 लाख रुपए कंपनी ने रखी है। वहीं, 3.2 ली. 4×4 एटी ट्रेंड की कीमत 27.78 लाख रुपए है।आगामी दिल्ली ऑटो एक्सपो में नए मॉडल पेश करने के संबंध में फोर्ड इंडिया के अध्यक्ष व प्रबंध निदेशक नाइजेल हैरिस ने कहा कि कंपनी इस ऑटो एक्सपो में एक नया मॉडल पेश करेगी। लेकिन उन्होंने इसका नाम बताने से इनकार किया। हालांकि बाजार में अटकलें हैं कि कंपनी ऑटो एक्सपो में मस्टंग पेश कर सकती है।

CPEC: चीन की सड़क पाकिस्तान के लिए बनी गले की फांस, अटक सकता है IMF का पैसा

चीनकीसड़कपाकिस्तानकेलिएबनीगलेकीफांसअटकसकताहैIMFकापैसाManipur Election 2022: मणिपुर में शनिवार को दूसरे चरण की वोटिंग, 22 सीटों के लिए 92 कैंडिडेट मैदान में******Highlightsशनिवार को दूसरे और अंतिम चरण के विधानसभा चुनाव के लिए मणिपुर के छह जिलों में करीब 20,000 केंद्रीय अर्धसैनिक बलों की तैनाती के बाद कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की गई है, यहां 60 में से बाकी 22 निर्वाचन क्षेत्रों में मतदान होगा। मणिपुर के मुख्य चुनाव अधिकारी राजेश अग्रवाल ने शुक्रवार को कहा कि थौबल, जिरीबाम, चंदेल, उखरूल, सेनापति और तामेंगलोंग जिलों के 1,247 मतदान केंद्रों पर सुरक्षा बलों के साथ 4,988 मतदानकर्मी पहुंच चुके हैं।उन्होंने कहा कि सभी 8,38,730 मतदाता, जिनमें 4,28,679 महिलाएं और 31 ट्रांसजेंडर शामिल हैं। में 2 महिलाओं सहित 92 उम्मीदवारों के चुनावी भाग्य का फैसला करने के लिए अपने मताधिकार का प्रयोग करने के लिए पात्र हैं। चुनाव अधिकारी ने कहा कि 92 उम्मीदवारों में से 17 उम्मीदवारों का आपराधिक इतिहास रहा है।सीईओ ने कहा कि 28 फरवरी को पहले चरण के चुनाव की तरह ही सभी मतदान केंद्रों पर कोविड सुरक्षित चुनाव सुनिश्चित करने के लिए पर्याप्त व्यवस्था की गई है। सभी मतदान केंद्रों को सेनेटाइज कर दिया गया है, जबकि आशा और आंगनबाडी कार्यकर्ताओं को लगाया गया है। भीड़-भाड़ से बचने के लिए न्यूनतम दूरी वाले घेरे की माकिर्ंग की गई है।साथ ही मतदान दलों को मास्क, ग्लव्स, फेस शील्ड, थर्मल स्कैनर, पीपीई किट उपलब्ध कराए गए हैं। मतदाता (जो कोविड पॉजिटिव हैं या क्वारंटीन हैं) उन्हें अंतिम घंटे में दोपहर 3 बजे से शाम 4 बजे के बीच मतदान करने की अनुमति दी जाएगी। अग्रवाल ने कहा कि महिलाओं को चुनाव प्रक्रिया में मजबूती से भाग लेने के लिए 223 मतदान केंद्रों पर पूरी तरह से महिला मतदानकर्मी तैनात रहेंगे।इस बीच, दो जिलों इम्फाल पूर्व और चुराचांदपुर के पांच विधानसभा क्षेत्रों के 12 मतदान केंद्रों पर शनिवार को दोबारा मतदान होगा। सीईओ ने कहा कि दोबारा मतदान होगा, क्योंकि 28 फरवरी को पहले चरण के मतदान के दौरान और बाद में उपद्रवियों ने इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों को नुकसान पहुंचाया है।छह जिलों में, जहां शनिवार को चुनाव होंगे, थौबल घाटी क्षेत्र में पड़ता है, जबकि अन्य पांच जिले असम और नागालैंड की सीमा से लगे पहाड़ी इलाकों में हैं, साथ ही म्यांमार, सुरक्षा बलों को अंतरराष्ट्रीय और अंतर-राज्यीय सीमाओं दोनों पर उच्च सतर्कता बनाए रखता है।शनिवार के चुनाव तीन बार (2002-2017) के मुख्यमंत्री और 74 वर्षीय वरिष्ठ कांग्रेस नेता ओकराम इबोबी सिंह के साथ-साथ भाजपा के कई मंत्रियों और मौजूदा विधायकों के चुनावी भाग्य को तय करेंगे।सिंह थौबल विधानसभा सीट से चुनाव लड़ रहे हैं और उनका मुकाबला भाजपा के लीतानथम बसंत सिंह, जनता दल-यूनाइटेड के इरोम चाओबा सिंह और शिवसेना के कोंसम माइकल सिंह से है।मुख्य विपक्षी कांग्रेस ने 22 विधानसभा सीटों में से चार (चंदेल, माओ, ताडुबी, तामेंगलोंग)पर उम्मीदवार नहीं उतारे और राजनीतिक पंडितों ने कहा कि कांग्रेस चार सीटों पर नेशनल पीपुल्स पार्टी (एनपीपी) के उम्मीदवारों का समर्थन कर रही है। मेघालय के मुख्यमंत्री कोनराड के. संगमा द्वारा, जो 2017 से मेघालय और मणिपुर दोनों में भाजपा के सहयोगी हैं, लेकिन इस बार मणिपुर में अलग से चुनाव लड़ रहे हैं।भाजपा ने 2017 में 21 सीटें हासिल की थीं और एनपीपी और नगा पीपुल्स फ्रंट (एनपीएफ) सहित विभिन्न दलों के साथ गठबंधन सरकार बनाने के बाद पहली बार राज्य में सत्ता में आई थी। हालांकि, इस बार तीनों अलग-अलग चुनाव लड़ रहे हैं और एक-दूसरे के खिलाफ उम्मीदवार खड़े कर रहे हैं।कांग्रेस, (जिसने 2017 तक लगातार 15 वर्षों तक राज्य पर शासन किया) ने चार वाम दलों और जनता दल-सेक्युलर के साथ चुनाव पूर्व गठबंधन करने के बाद मणिपुर प्रगतिशील धर्मनिरपेक्ष गठबंधन का गठन किया था। पहले चरण का मतदान 28 फरवरी को 38 सीटों पर हुआ था, जब 12,09,439 मतदाताओं में से 88.63 प्रतिशत ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया था। मतों की गिनती 10 मार्च को होगी। ()चीनकीसड़कपाकिस्तानकेलिएबनीगलेकीफांसअटकसकताहैIMFकापैसाChhattisgarh News : बोरवेल में फंसे राहुल को सुरक्षित निकाला गया, 100 घंटे से ज्यादा चला रेस्क्यू ऑपरेशन******Highlights छत्तीसगढ़ के जांजगीर-चांपा जिले के पिहरीद गांव में बोरवेल(Borewell) में गिरे 10 साल के राहुल को 100 घंटे से ज्यादा चले रेस्क्यू ऑपरेशन(Rescue Operation) के बाद सफलतापूर्वक बचा लिया गया है। करीब 65 फीट गहरे गड्ढे में उतरी रेस्क्यू दल ने कड़ी मशक्कत के बाद राहुल को सुरक्षित बाहर निकाला। सुरंग बनाने के रास्ते में बार-बार मजबूत चट्टान आ जाने से 4 दिन तक चले इस अभियान को रेस्क्यू दल ने अंजाम देकर मासूम राहुल को एक नई जिंदगी दी है। राहुल को बाहर निकाले जाने के बाद वहां मौजूद मेडिकल टीम ने उसके स्वास्थ्य की जांच की। फिर राहुल को बेहतर इलाज के लिए ग्रीन कॉरिडोर बनाकर अपोलो अस्पताल बिलासपुर भेजा गया।सीएम बघेल ने किया ट्वीटराहुल के बोरवेल से सुरक्षित बाहर निकाले जाने पर छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने खुशी जताई है। उन्होंने ट्वीट कर कहा, "सभी की प्रार्थनाओं और बचाव दल के अथक, समर्पित प्रयासों से, राहुल साहू को सुरक्षित बाहर निकाला गया। हमारी कामना है कि वह जल्द से जल्द ठीक हो जाएं।"सेना के 25 अधिकारी थे तैनातवहीं इस ऑपरेशन की अगुवाई कर रहे आर्मी ऑफिसर गौतम सूरी ने कहा कि यह बहुत ही चुनौतीपूर्ण ऑपरेशन था। टीम के सदस्यों के संयुक्त प्रयासों से राहुल को सफलतापूर्वक बचाया। यह हम सभी के लिए बहुत बड़ी सफलता है। सेना के करीब 25 अधिकारियों को यहां तैनात किया गया था।10 जून को बोरवेल में गिरा था राहुलदरअसल, अपने घर के पास खुले हुए बोरवेल में गिरकर फंस गया था। 10 जून को दोपहर लगभग 2 बजे अचानक घटी इस घटना की खबर मिलते ही जिला प्रशासन की टीम मौके पर पहुंच गई। समय रहते ही ऑक्सीजन की व्यवस्था कर बच्चे तक पहुचाई गई। कैमरा लगाकर बच्चे की गतिविधियों पर नज़र रखने के साथ उनके परिजनों के माध्यम से बोरवेल में फसे राहुल पर नजर रखने के साथ उनका मनोबल बढाया जा रहा था।राहुल तक पहुंचने के लिए बनानी पड़ी सुरंगएनडीआरएफ और सेना के साथ जिला प्रशासन की टीम ने ड्रीलिंग करके बोरवेल तक पहुचने सुरंग बनाया। सुरंग बनाने के दौरान कई बार मजबूत चट्टान आने से इस अभियान में बाधा आई। बहरहाल 104 से अधिक घण्टे तक चले इस रेस्क्यू ऑपरेशन में राहुल साहू के जीवित बाहर निकाल लिए जाने से सभी ने राहत की सांस ली।चीनकीसड़कपाकिस्तानकेलिएबनीगलेकीफांसअटकसकताहैIMFकापैसाधनबाद अवैध खनन : जमीन खोद अंदर ही अंदर निकाल लिया कोयला, सड़क धंसी, 4 गांवों का संपर्क टूटा****** झारखंड का धनबाद इलाका कोयले की खदानों के लिए मशहूर है। वहीं इस इलाके में प्रशासन की नाक के नीचे अवैध खनन का भी कारोबार चलता है। चिरकुंडा के डुमरीजोड़ में अवैध कोयला खनन के कारण एक सड़क धंस गई जिससे 4 गांवों का संपर्क टूट गया।जानकारी के मुताबिक गुरुवार की सुबह 8 बजे तेज आवाज के साथ चांचफुटारी सड़क जमीन में धंस गई। इस सड़क से 30 फीट की दूरी पर 4 अवैध माइंस चल रहे हैं। यहां पर अंदर ही अंदर अवैध खनन कर कोयला निकाल ली गई, जिससे यह हादसा हुआ। बताया जाता है कि सड़क के 30 फीट हिस्सा धंस गया है। इससे 4 गांवों का संपर्क टूट गया। जिस वक्त यह घटना हुई उस वक्त कई मजदूर अवैध खनन में लगे हुए थे।हादसे के बाद घटनास्थल पर काफी अफरा-तफरी मच गई। स्थानीय लोगों का कहना था कि 40 से अधिक मजदूर खदान से बाहर नहीं निकल पाए। लोगों की सूचना पर चिरकुंडा पुलिस पहुंची। लेकिन पुलिस रेस्क्यू के बजाए डोजरिंग कराने लगी। तब वहां मौजूद लोगों ने विरोध किया।लोगों का कहना था कि खदान में लोग दबे हैं, उन्हें बचाया जाए। इसके बाद शाम करीब 4 बजे बीसीसीएल की रेस्क्यू टीम पहुंची। रेस्क्यू टीम के करीब 6 लोगों की टीम ने 45 मिनट तक रेस्क्यू अभियान चलाया लेकिन उन्हें कहीं कोई नहीं मिला। ऑपरेशन के बाद रेस्कूय टीम में खदान में लोगों के फंसे होने की आशंका को खारिज कर दिया।

CPEC: चीन की सड़क पाकिस्तान के लिए बनी गले की फांस, अटक सकता है IMF का पैसा

चीनकीसड़कपाकिस्तानकेलिएबनीगलेकीफांसअटकसकताहैIMFकापैसालीजेंड्स शतंरज टूर्नामेंट में लागातार 6 मैच हारने के बाद विश्वनाथन आनंद के हाथ लीग पहली जीत******चेन्नई। विश्वनाथन आनंद ने लगातार हार के क्रम को तोड़ते हुए सातवें दौर में इस्राइल के बोरिस गेलफांड को 2.5-0.5 से हराकर लीजेंड्स ऑनलाइन शतरंज टूर्नामेंट में अपनी पहली जीत दर्ज की। आनंद लगातार छह हार के बाद अपने पुराने प्रतिद्वंद्वी के सामने थे। यह भारतीय सोमवार की रात को शुरुआत में अच्छी स्थिति का फायदा नहीं उठाने के बावजूद टूर्नामेंट में अपनी पहली बाजी जीतने में सफल रहा। उन्होंने काले मोहरों से खेलते हुए 45 चाल में जीत दर्ज की और दूसरी बाजी में भी अपना अच्छा प्रदर्शन जारी रखकर 49 चाल में उसे अपने नाम किया।आनंद ने इसके बाद 2012 की विश्व चैंपियनशिप के अपने चैलेंजर के खिलाफ तीसरी बाजी ड्रा खेली जो 46 चाल तक चली। मैगनस कार्लसन टूर में पदार्पण कर रहे आनंद ने कहा, ‘‘यह पहले तीन दिनों की तरह निराशाजनक नहीं रहा। जीत दर्ज करने से अच्छा लग रहा है।’’इस जीत से पूर्व विश्व चैंपियन छह अंक के साथ आठवें स्थान पर पहुंच गया है। वह हंगरी के पीटर लेको (पांच अंक) और चीन के नंबर तीन डिंग लीरेन (तीन) से आगे हैं। आठवें दौर में उनका मुकाबला लीरेन से होगा। विश्व के नंबर एक खिलाड़ी मैगनस कार्लसन ने पीटर स्विडलर को 2.5-1.5 से हराकर अपनी बढ़त मजबूत कर दी।अन्य मैचों में रूस के इयान नेपोमनियाची ने लेको को 3-2, नीदरलैंड के अनीस गिरी ने लीरेन को 2.5-1.5 से और उक्रेन के वेस्ली इवानचुक ने रूस के व्लादीमीर क्रैमनिक को 3-1 से हराया।चीनकीसड़कपाकिस्तानकेलिएबनीगलेकीफांसअटकसकताहैIMFकापैसामहंगा होगा इस हवाईअड्डे से सफर, अडानी एयरपोर्ट की इस डिमांड से यात्रियों पर पड़ सकती है महंगाई की मार******हवाई यात्रियों के लिए बढ़ते किराये के साथ ही एक और बुरी खबर है। अडाणी एयरपोर्ट्स के स्वामित्व वाले मंगलुरु अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे (एमआईए) ने विकास गतिविधियों को आगे बढ़ाने के लिए घरेलू उड़ानों के यात्रियों पर उपयोगकर्ता विकास शुल्क (यूडीएफ) में तत्काल 100 रुपये वृद्धि की मांग की है। कंपनी ने हवाईअड्डे पर आने-जाने वाले यात्रियों प यह शुल्क लगाने की अनुमति मांगी है। अभी केवल प्रस्थान करने वाले यात्रियों से ही यह शुल्क लिया जाता है।हवाईअड्डे ने अपने नवीनतम शुल्क सूचना में इस अक्टूबर से घरेलू यात्रियों पर 250 रुपये का यूडीएफ लगाने की मांग की है। आगे जाकर इसे 31 मार्च, 2026 तक बढ़ाकर 725 रुपये कर दिया जाएगा। मूल्य निर्धारण निकाय भारतीय हवाईअड्डा आर्थिक नियामक प्राधिकरण (एईआरए) मंगलुरु हवाईअड्डे के लिए एक अप्रैल, 2021 से 31 मार्च, 2026 तक की अवधि के लिए शुल्क तय करने की प्रक्रिया में है।एमआईए ने अंतरराष्ट्रीय यात्रियों पर 525 रुपये का यूडीएफ लगाने और इसे मार्च, 2026 तक बढ़ाकर 1,200 रुपये करने की मांग की है। अगर एईआरए इससे सहमत होता है, तो प्रस्थान करने और आने वाले दोनों यात्रियों से उपयोगकर्ता शुल्क लिया जाएगा। वर्तमान में यूडीएफ घरेलू यात्रियों के लिए 150 रुपये और अंतरराष्ट्रीय यात्रियों के लिए 825 रुपये है।अडाणी समूह ने 31 अक्टूबर, 2020 को कर्नाटक बंदरगाह शहर में अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के संचालन को संभाला था। मूल्य निर्धारण नियामक के साथ अपनी सूचना में हवाईअड्डे ने कहा कि वर्ष 2010 के बाद से शुल्क संशोधन नहीं हुआ है।

CPEC: चीन की सड़क पाकिस्तान के लिए बनी गले की फांस, अटक सकता है IMF का पैसा

चीनकीसड़कपाकिस्तानकेलिएबनीगलेकीफांसअटकसकताहैIMFकापैसाJEE Main 2021 Paper 2 Result : जेईई मेन फरवरी सत्र के पेपर-2 के नतीजे घोषित, ऐसे करें चेक******जेईई मेन 2021 के पेपर 2 का रिजल्ट BArch, BPlanning के लिए आज नेशनल टेस्टिंग एजेंसी द्वारा घोषित किया गया है। उम्मीदवार जो BArch, BPlanning फरवरी सत्र की परीक्षा में उपस्थित हुए हैं, वे अपना परिणाम jeemain.nta.nic.in से डाउनलोड कर सकते हैं। NTA ने JEE Main 2021 पेपर 2 परीक्षा की फाइनल आंसर की भी जारी कर दी है। यह परीक्षा पहली बार 13 भाषाओं (अंग्रेजी, हिंदी और गुजराती में असमिया, बंगाली, कन्नड़, मलयालम, मराठी, ओडिया, पंजाबी, तमिल, तेलुगु और उर्दू) के साथ आयोजित की गई थी।पेपर 2A (B.Arch।) और पेपर 2B (B.Planning) के लिए परीक्षा 23 फरवरी, 2021 को एक पाली में आयोजित की गई थी। JEE Main 2021 पेपर 2 पेपर 2A (B.Arch।) और पेपर 2B (B) का परिणाम। .Planning) को आज घोषित किया जा रहा है।जेईई (मेन) -2021 परीक्षा के फरवरी और सत्र के बाद, उम्मीदवारों की रैंक को ध्यान में रखते हुए जारी किया जाएगा, जिसमें दो जेईई मुख्य 2021 पेपर 2 का सर्वश्रेष्ठ परिणाम दिया जाएगा।

चीनकीसड़कपाकिस्तानकेलिएबनीगलेकीफांसअटकसकताहैIMFकापैसादो महीने में पकड़ी गई 2,000 करोड़ रुपए के जीएसटी की चोरी, चौंकाने वाली है इसकी तस्‍वीर******जांच शाखा ने दो महीने में 2,000 करोड़ रुपए से अधिक की कर चोरी पकड़ी है। आंकड़ों के विश्लेषण से पता चला है कि कर भुगतान में बड़ा योगदान इकाईयों के एक छोटे से वर्ग का ही है।जीएसटी के तहत कुल मिलाकर 1.11 करोड़ पंजीबद्ध कारोबारी इकाईयां हैं। लेकिन 80 प्रतिशत कर केवल एक प्रतिशत इकाईयों के माध्यम से प्राप्त हो रहा है। यह एक चौंकाने वाली तस्वीर है। केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर व सीमा शुल्क बोर्ड (सीबीआईसी) के सदस्य जॉन जोसेफ ने कहा कि छोटी कारोबारी इकाईयां तो जीएसटी रिटर्न दाखिल करने में गलती कर ही रही हैं, बहुराष्ट्रीय व बड़ी कंपनियां भी चूक कर रही हैं।यहां उद्योग मंडल एसोचैम के कार्यक्रम में उन्होंने कहा कि अगर आप कर राजस्व भुगतान के तौर-तरीकों पर नजर डालें तो चिंताजनक तस्वीर सामने आती है।एक करोड़ से अधिक कारोबारी इकाईयों ने पंजीकरण करवाया है, लेकिन कर स्रोत देखा जाए तो एक लाख से भी कम लोग ही 80 प्रतिशत कर का भुगतान कर रहे हैं। कोई नहीं जानता की प्रणाली में क्या हो रहा है और यह अध्ययन का महत्वपूर्ण विषय है।आंकड़ों के विश्लेषण के आधार पर उन्होंने कहा कि काफी कुछ अनुपालन की जरूरत है। उन्होंने कहा कि कंपोजिशन योजना में आने वाली इकाईयों का आंकड़ा कहता है कि इसमें ज्यादातर का वार्षिक कारोबार 5 लाख रुपए है। इस योजना के तहत सालाना डेढ़ करोड़ तक का कारोबार करने वाले रेस्‍टॉरेंट, विनिर्माण और ट्रेडिंग इकाईयों को रियायती दर पर कर भरने की छूट है। इनमें व्यापार और विनिर्माण इकाईयों पर कंपोजिशन कर एक प्रतिशत और रेस्‍टॉरेंट कारोबारियों पर पांच प्रतिशत की दर से लगाया गया है।उन्होंने कहा कि एक-दो महीने के थोड़े से ही समय में हमने 2000 करोड़ रुपए की कर चोरी पकड़ी है, जो कि एक नमूना भर हो सकता है। सरकार के राजस्व को चुराया जा रहा है। इसे रोकने के लिए जीएसटी खुफिया साखा अपने प्रयास तेज करेगी।चीनकीसड़कपाकिस्तानकेलिएबनीगलेकीफांसअटकसकताहैIMFकापैसाचीन में 3 करोड़ से ज्यादा पुरुष अविवाहित, दुल्हनों की कमी से बढ़ी चिंता****** चीन में 10 साल में एक बार होने वाली जनगणना में अविवाहित पुरुषों की संख्या को लेकर बड़ी बात सामने आई है। जनगणना में पता चला है कि चीन में करीब 3 करोड़ लोग अविवाहित हैं। इनके अविवाहित होने के पीछे का प्रमुख कारण देश में दुल्हनों का अकाल है। बता दें कि 3 करोड़ की यह संख्या कई देशों की आबादी से भी ज्यादा है। बता दें कि चीन में कई सालों तक 'एक बच्चा नीति' लागू थी। ऐसे में अधिकांश चीनियों द्वारा बेटा पैदा करने की चाहत आज उनके लिए परेशानी का सबब बन गई है।साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्टत की एक रिपोर्ट में बताया गया है कि ताजा जनगणना में लड़कियों की कुल आबादी में बढ़ोत्तीरी दर्ज की गई है, हालांकि यह बहुत ज्यादा नहीं है। विशेषज्ञों का कहना है कि चीन में लैंगिक असमानता का मुद्दा निकट भविष्य में खत्मह होने के आसार नहीं हैं। चीन के सातवें राष्ट्री य जनसंख्याम आंकड़े के मुताबिक, पिछले साल जो एक करोड़ 20 लाख बच्चे पैदा हुए हैं, उनमें 113.3 लड़कों पर मात्र 100 लड़कियां हैं। बता दें कि वर्ष 2010 में यह आंकड़ा 118.1 के अनुपात में 100 था।चीन के प्रोफेसर स्टूवअर्ट गिइतेन बास्तेिन ने इस बारे में बात करते हुए कहा, 'चीन में पुरुष आमतौर पर उन महिलाओं से शादी करते हैं जो उनसे उम्र में काफी छोटी होती हैं, लेकिन जनसंख्या के बुजुर्ग होने की वजह से ज्यादा दिक्कत पैदा हो गई।' बास्तेान ने कहा कि चीनी परिवारों में लोग बेटी की तुलना में बेटों की चाहत ज्यादा रखते हैं, और यह समस्या की एक बड़ी वजह है। माना जा रहा है कि भविष्य में चीन के संभावित दूल्हों को की भारी किल्लत होगी। की आबादी 2019 की तुलना में 0.53 प्रतिशत बढ़कर 1.41 अरब हो गई है। 2019 में देश की आबादी 1.4 अरब थी। हालांकि अनुमान है कि अगले साल की शुरुआत से चीन की आबादी कुछ घटने लगेगी। राष्ट्रीय सांख्यिकी ब्यूरो (NBS) के अनुसार, नई जनगणना के आंकड़ों से पता चलता है कि चीन में जनसंख्या से जुड़ा संकट और गहराने की उम्मीद है, क्योंकि देश में 60 वर्ष से अधिक उम्र लोगों की आबादी बढ़कर अब 26.4 करोड़ हो गई है।

चीनकीसड़कपाकिस्तानकेलिएबनीगलेकीफांसअटकसकताहैIMFकापैसा‘वायु’ के कारण गुजरात के 560 गांवों में बिजली आपूर्ति बाधित****** के कारण गुजरात के करीब 560 गांवों में बाधित हुई है और आपूर्ति बहाल करने के लिए सभी प्रयास किए जा रहे हैं। एक अधिकारी ने गुरुवार को यह जानकारी दी।गुजरात सरकार के स्वामित्व वाली कंपनी गुजरात ऊर्जा विकास निगम लिमिटेड (जीयूवीएनएल) की प्रबंध निदेशक शहमीना हुसैन ने पीटीआई-भाषा को बताया कि जीयूवीएनएल ने चक्रवात के खतरे को देखते हुए पहले से ही कार्य योजना तैयार कर ली थी।उन्होंने कहा, ‘‘वायु चक्रवात के असर के कारण सौराष्ट्र और दक्षिणी गुजरात में करीब 561 फीडर लाइनें प्रभावित हुई हैं। हमें पूरा यकीन है कि 560 प्रभावित गांवों में जल्द ही बिजली आपूर्ति बहाल कर दी जाएगी।’’हुसैन ने कहा कि जीयूवीएनएल की टीमों को जलमग्न तटीय इलाकों तक पहुंचने में काफी मुश्किल हो रही है। इस बीच, अखिल भारतीय मछुआरा संगठन के अध्यक्ष वेलजीभाई मसानी ने समुद्र में जाने के खिलाफ समय रहते मछुआरों को जारी की गई चेतावनी के लिए राज्य सरकार की तारीफ की।उन्होंने कहा, ‘‘पहले सौराष्ट्र क्षेत्र के लगभग 8,000 मछुआरे करीब 1200 नौकाएं लेकर समुद्र में जाने की योजना बना रहे थे, लेकिन चेतावनी के बाद उन्होंने समुद्र में जाने की अपनी योजना रद्द कर दी।’’चीनकीसड़कपाकिस्तानकेलिएबनीगलेकीफांसअटकसकताहैIMFकापैसाPAK U19 vs PNG U19 ICC world cup 2022: पाकिस्तान ने PNG पर दर्ज की 9 विकेट से जीत******पाकिस्तान नेPNG पर दर्ज की 9 विकेट से जीत। मुहम्मद शहजाद, हसीबुल्लाह खान (डब्ल्यू), अब्दुल फसीह, इरफान खान, कासिम अकरम (सी), अब्बास अली, अहमद खान, माज सदाकत, मेहरान मुमताज, जीशान ज़मीर, अवैस अली, अली असफंद, फैसल अकरम, रिजवान महमूद, अरहम नवाबपीटर करोहो (डब्ल्यू), बोइओ रे, बरनबास महा (सी), मैल्कम अपोरो, क्रिस्टोफर किलापत, रयान एनी, कटेनालकी सिंगी, एयू ओरु, जूनियर मोरिया, रसन केवाउ, जॉन कारिको, टौआ बो, सिगो केली, करोहो केवौ, पैट्रिक नू

चीनकीसड़कपाकिस्तानकेलिएबनीगलेकीफांसअटकसकताहैIMFकापैसाHappy Birthday: स्टूडेंट के कहने पर मॉडलिंग करने लगे थे अक्षय कुमार, जानिए कैसे शुरू हुआ बड़े पर्दे का सफर******बॉलीवुड एक्टर 54 साल के हो रहे हैं। एक्टर ने साल 1987 में महेश भट्ट की मूवी 'आज' से फिल्मी दुनिया में कदम रखा था। उस वक्त किसी को नहीं पता था कि ये लड़का आने वाले दिनों में बॉलीवुड का सबसे बड़ा खिलाड़ी बनेगा। भले ही 'सौगंध' मूवी से उन्हें पहचान हासिल हुई, लेकिन उन्होंने 'एयरलिफ्ट', 'रुस्तम', 'केसरी', 'बेबी', 'पैडमैन' और 'बेलबॉटम' जैसी दिल को छू लेने वाली फिल्में की हैं। उन्होंने 'वेलकम', 'सिंह इज किंग' और 'हाउसफुल' जैसी मूवीज में अपनी कॉमेडी से सभी को हंसाया भी है। अक्षय लगभग हर रोल में खुद को फिट कर लेते हैं। 9 सितंबर को बॉलीवुड के 'खिलाड़ी कुमार' अपना 54वां बर्थडे सेलिब्रेट कर रहे हैं।अक्षय कुमार का असली नाम 'राजीव हरिओम भाटिया' है। वह एक्टर होने के साथ-साथ निर्माता भी हैं और मार्शल आर्ट्स में भी पारंगत हैं। पंजाब के अमृतसर में जन्में अक्षय कुमार की पढ़ाई मुंबई में भी हुई है। उन्होंने ताइक्वांडो में ब्लैक बेल्ड हासिल किया है। उन्होंने बैंकॉक में मार्शल आर्ट्स भी सीखा है और वहां एक रसोइया की नौकरी भी की।अक्षय कुमार जिन बच्चों को मार्शल आर्ट्स सिखाते थे उनमें से एक बच्चे ने अक्षय कुमार को मॉडलिंग करने का सझाव दिया था, अक्षय ने जब फोटोशूट कराके मॉडलिंग की तो दो घंटे के 5 हजार रुपये मिलें, अक्षय को लगा ये तो बहुत अच्छा है, कम मेहनत में इतना सारा पैसा मिल रहा है।अक्षय को 'खिलाड़ी', 'मोहरा', 'धड़कन', 'अजनबी', 'मुझसे शादी करोगी', 'हेरा फेरी', 'गरम मसाला' जैसी फिल्मों के लिए भी जाना जाता है। आने वाले समय में अक्षय कुमार रामसेतु, रक्षाबंधन, पृथ्वीराजऔर अतरंगी रे जैसी फिल्मों में नजर आएंगे।फिल्मों में काम करने के दौरान अक्षय का नाम कई एक्ट्रेसेस के साथ जोड़ा गया, लेकिन उन्होंने राजेश खन्ना की बेटी ट्विंकल खन्ना से 2001 में शादी कर ली। उनके बेटे का नाम आरव और बेटी का नाम नितारा है।चीनकीसड़कपाकिस्तानकेलिएबनीगलेकीफांसअटकसकताहैIMFकापैसाWEF इंडेक्‍स में भारत बना 58वां सबसे प्रतिस्‍पर्धी अर्थव्‍यवस्‍था वाला देश, 2017 की तुलना में 5 अंकों का हुआ सुधार******Most competitiveness Index (डब्‍ल्‍यूईएफ) ने प्रतिस्पर्धी अर्थव्यवस्थाओं वाली 2018 की लिस्‍ट जारी कर दी है। लिस्‍ट में पहले स्‍थान पर सबसे प्रतिस्पर्धी अर्थव्यवस्था की जगह अमेरिका को मिली है।वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम का कहना है कि 2017 के मुकाबले भारत के स्थान या रैंकिंग में पांच अंकों का सुधार हुआ है। जी-20 देशों की बात करें तो पिछले साल के मुकाबले भारत की स्थिति में अन्य की तुलना में सबसे ज्यादा सुधार हुआ है।फोरम की ओर से जारी 140 अर्थव्यवस्थाओं की लिस्‍ट में अमेरिका के बाद दूसरे स्थान पर सिंगापुर और तीसरे स्थान पर जर्मनी हैं।वैश्विक प्रतिस्पर्धा रिपोर्ट में भारत 62.0 अंकों के साथ 58वें स्थान पर है। वर्ल्‍ड इकोनॉमिक फोरम का कहना है कि जी-20 अर्थव्यवस्थाओं में सबसे ज्यादा लाभ भारत को मिला है।वहीं सूची में पड़ोसी देश चीन को 28वां स्थान प्राप्त हुआ है।रिपोर्ट के अनुसार ऊपरी और निम्न मध्य आय वर्ग में अच्छा प्रदर्शन करने वाले चीन और भारत जैसे देश उच्च-आय वाली अर्थव्यवस्थाओं के करीब पहुंच रहे हैं और उनमें से कई को पीछे भी छोड़ रहे हैं।रिपोर्ट में कहा गया है अनुसंधान और विकास जैसे क्षेत्रों में निवेश के मामले में चीन औसत उच्च-आय वाली अर्थव्यवस्थाओं से काफी आगे है, जबकि भारत भी इनसे ज्यादा पीछे नहीं है। भारत व्यापार के कम सृजन और दिवालियेपन के लिए सिर्फ अपनी कम क्षमता वाली नौकरशाही के कारण पीछे है।ब्रिक्स अर्थव्यवस्थाओं में चीन 72.6 अंकों के साथ सबसे ऊपर 28वें स्थान पर है। उसके बाद रूस 65.6 अंकों के साथ 43वें, 62.0 अंकों के साथ भारत 58वें, दक्षिण अफ्रीका 60.8 अंकों के साथ 67वें और ब्राजील 59.5 अंकों के साथ 72वें स्थान पर हैं। हालांकि, भारत अभी भी दक्षिण एशिया में महत्वपूर्ण अर्थव्यवस्था बना हुआ है।रिपोर्ट के अनुसार, भारत स्वास्थ्य, शिक्षा और कौशल के अलावा अन्य सभी प्रतियोगी क्षेत्रों में आगे है। इन क्षेत्रों में श्रीलंका भारत के मुकाबले आगे है। द्वीपीय देश में सेहतमंद जीवन प्रत्याशा 67.8 वर्ष है और वहां के कामगारों में शिक्षा भी बेहतर है। उसमें कहा गया है कि यह दोनों (भारत और श्रीलंका) देश ऐसे हैं, जो अपने प्रभावी ढांचागत प्रणाली पर भरोसा कर सकते हैं।वर्ल्‍ड इकोनॉमिक फोरम की इस लिस्‍ट में टॉप-10 में शामिल देशें के नाम इस प्रकार हैं- अमेरिका, सिंगापुर, जर्मनी, स्विट्जरलैंड, जापान, नीदरलैंड, हांगकांग, ब्रिटेन, स्‍वीडन और डेनमार्क।

हाल का ध्यान

लिंक