वर्तमान पद:मुखपृष्ठ > ज़ुचैंग > मूलपाठ

Bigg Boss 14: राहुल वैद ने क्यों लिया शो में हिस्सा? सिंगर ने खुद किया खुलासा

2022-10-04 17:22:48 ज़ुचैंग

राहुलवैदनेक्योंलियाशोमेंहिस्सासिंगरनेखुदकियाखुलासाDelayed GST payment: एक सितंबर से लागू होगा नया नियम, शुद्ध टैक्‍स देनदारी पर लिया जाएगा ब्याज******Delayed GST payment: Interest to be charged on net tax liability from Sep 1 सरकार ने कहा है कि वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) के भुगतान में देरी की स्थिति में एक सितंबर से सकल टैक्‍स देनदानी के बजाये शुद्ध टैक्‍स देनदारी पर ब्याज वसूला जाएगा। इस साल की शुरुआत में उद्योग ने जीएसटी भुगतान में देरी पर लगभग 46,000 करोड़ रुपए के बकाया ब्याज की वसूली के निर्देश पर चिंता जताई थी। यह ब्याज सकल कर देनदारी पर लगाया गया था। केंद्र और राज्य के वित्त मंत्रियों वाली ने मार्च में अपनी 39वीं बैठक में निर्णय लिया था कि एक जुलाई, 2017 से शुद्ध कर देनदारी पर जीएसटी भुगतान में देरी के लिए ब्याज लिया जाएगा और इसके लिए कानून को संशोधित किया जाएगा। हालांकि, केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क बोर्ड (सीबीआईसी) द्वारा 25 अगस्त को जारी की गई अधिसूचित में कहा गया है कि शुद्ध कर देनदारी पर ब्‍याज एक सितंबर 2020 से लागू होगा। एएमआरजी एंड एसोसिएट्स के सीनियर पार्टनर रजत मोहन ने कहा कि यह अधिसूचना जीएसटी परिषद के फैसलों से अलग लग रही है, जिसमें करदाताओं को यह भरोसा दिया गया था कि उक्त लाभ एक जुलाई 2017 से प्रभावी होंगे।लेकिन अब इसे एक सितंबर 2020 से लागू करने की अधिसूचना जारी की गई है। इससे लाखों करदाताओं पर पिछले तीन साल का ब्‍याज देने का दबाव आ गया है। सीबीआईसी ने पहले कहा था कि देरी से भुगतान किए जाने वाली जीएसटी पर सकल कर देनदारी के आधार पर ब्‍याज की गणना करने का प्रावधान जीएसटी कानून में है। इस पर तेलंगाना हाईकोर्ट ने 18 अप्रैल, 2019 को रोक लगा दी थी। सकल जीएसटी देनदारी में से इनपुट टैक्‍स क्रेडिट को घटाने के बाद शुद्ध जीएसटी देनदारी बनती है। वहीं सकल जीएसटी देनदारी पर ब्‍याज की गणना करने से कारोबारियों पर अधिक भुगतान करने का दबाव होगा।

राहुलवैदनेक्योंलियाशोमेंहिस्सासिंगरनेखुदकियाखुलासाGold Rate: सोना में बड़ी गिरावट, 12730 रुपए हुआ सस्ता******Gold Rate: सोना में बड़ी गिरावट, 12730 रुपए हुआ सस्ता सोना खरीदने वालों के लिए बहुत अच्छी खबर है। आपके लिए सोना खरीदने का बहुत शानदार मौका है। सोने 12730 रुपए सस्ता हो गया है। यह गिरावट सात अगस्त 2020 से सोने के ऑलटाइम हाई भाव 57100 रुपए और आज के रेट में अंतर के बाद आई है। ऐसे में अगर आप सोना खरीदना चाहते है तो यह समय सोने की खरीदारी के लिए अच्छा हो सकता है। इसके अलावा बीते कई दिनों से उतार चढ़ाव देख रहे सोने की कीमतें शुक्रवार को स्थिर रहीं। 22 कैरेट सोने का मूल्य आज 43370 रुपये रुपये पर स्थिर रहा। जबकि 24 कैरेट सोने का रेट 44,370 रुपये प्रति 10 ग्राम पर पहुंच गया है। बता दें कि बीते साल अगस्त से 12000 रुपये सस्ते हो चुके सोने की कीमतें भारत में इस साल फरवरी के दौरान बढ़ गई। हालांकि, मार्च में सोने की दर में गिरावट देखी गई।नए वित्‍त वर्ष 2021-22 की शुरुआत सोने ने तेजी के साथ की है। सोने की अंतरराष्‍ट्रीय कीमतों में जोरदार उछाल आने की वजह से गुरुवार को राष्‍ट्रीय राजधानी में सोने की कीमत 881 रुपये उछलकर 44,701 रुपये प्रति दस ग्राम हो गई। इससे पहले कारोबारी सत्र में सोना 43,820 रुपये प्रति दस ग्राम पर बंद हुआ था। चांदी में भी आज बड़ी तेजी रही। चांदी का भाव 1071 रुपये बढ़कर 63,256 रुपये प्रति किलोग्राम हो गया। बुधवार को चांदी का बंद भाव 62,185 रुपये प्रति किलोग्राम था। अंतरराष्‍ट्रीय बाजार में, सोना मजबूती के साथ 1719 डॉलर प्रति औंस और चांदी स्थिरिता के साथ 24.48 डॉलर प्रति औंस बोली गई।भारत भर के शहरों में सोने की कीमतें अलग-अलग हैं, अलग-अलग राज्य सरकारें पीली धातु पर कई कर लगाती हैं। तो, अगर आप आज दिल्ली में 22 कैरेट का सोना खरीद रहे हैं, तो आपको 43,800 रुपये देने होंगे। मुंबई में 22 कैरेट सोने का मूल्य 43,370 रुपये, कोलकाता में 44,290 रुपये, चेन्नई में 42,380 रुपये, बेंगलुरु में 41,650 रुपये और लखनऊ में 43,800 रुपये है।22 कैरेट श्रेणी की सोने की कीमत 24-कैरेट की पीली धातु से भिन्न होती है। दिल्ली में आज 24 कैरेट सोने की कीमत 43,800 रुपये, मुंबई में 43,370 रुपये, चेन्नई में 42,380 रुपये, बेंगलुरु में 41,650 रुपये, कोलकाता में 44,290 रुपये और लखनऊ में 43,800 रुपये है।राहुलवैदनेक्योंलियाशोमेंहिस्सासिंगरनेखुदकियाखुलासाArticle 15 Box Office Collection: आयुष्मान खुराना की फिल्म पांचवे दिन भी रही बॉक्स ऑफिस पर हिट, कमाए इतने करोड़******जातिवाद के मुद्दे पर बनीं की फिल्म ने बॉक्स-ऑफिस पर पकड़ बनाई हुई है। फिल्म ने पांचवे दिन भी अच्छा बिजनेस किया है। कम बजट में बनीं यह फिल्म लोगों को लुभाने में सफल हो रही है। फिल्म का पांचवे दिन का बॉक्स-ऑफिस कलेक्शन सामने आ गया है।ट्रेड एनालिस्ट तरण आदर्श ने ट्वीट करके आर्टिकल 15 के बॉक्स-ऑफिस कलेक्शन की जानकारी दी है। उन्होंने ट्वीट किया- आर्टिकल 15 ने पांचवे दिन भी अच्छी पकड़ बनाई हुई है। मुंबई में भारी बारिश की वजह से भी बॉक्स-ऑफिस कलेक्शन प्रभावित हुआ है। फिल्म ने पहले दिन 5.02 करोड़, दूसरे दिन 7.25 करोड़, तीसरे दिन 7.77 करोड़, चौथे दिन 3.97 करोड़ और पांचवे दिन 3.67 करोड़ की कमाई की है। फिल्म ने भारत में टोटल 27.68 करोड़ की कमाई कर ली है।कहब तो लाग जाई धक्क से' 'आर्टिकल 15' की शुरुआत इसी लोक गीत से होती है, इस गीत में अमीरी-गरीबी, उच्च वर्ग और निम्न वर्ग के बीच का जो अंतर है वो साफ बता पता चलता है और यह फिल्म इसी बारे में हैं। फिल्म की भाषा में कहें तो ये कहानी उन लोगों की है- जो कभी हरिजन बन जाते हैं, कभी बहुजन बन जाते हैं मगर जन नहीं बन पाते हैं। 'मुल्क' बनाने के बाद निर्देशक अनुभव सिन्हा राइटर गौरव सोलंकी के साथ एक और फिल्म लेकर आए हैं जिसका नाम है 'आर्टिकल 15'। इस फिल्म के जरिए निर्देशक ने आपको वो सच दिखाया है जिसे आप जानते हैं समझते हैं रोज देखते हैं लेकिन फिर भी नजरें फेरकर आगे बढ़ जाते हैं।

Bigg Boss 14: राहुल वैद ने क्यों लिया शो में हिस्सा? सिंगर ने खुद किया खुलासा

राहुलवैदनेक्योंलियाशोमेंहिस्सासिंगरनेखुदकियाखुलासाप्रियंका गांधी ने यूपी में 44,000 से ज्यादा प्रवासियों को घर पहुंचाने में की मदद****** उत्तर प्रदेश में 1,000 बसें मुहैया कराने का प्रस्ताव योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व वाली भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सरकार द्वारा खारिज कर दिए जाने के बावजूद कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने राज्य के 44,000 से अधिक प्रवासियों को उनके घर तक पहुंचाने की व्यवस्था की। पार्टी सूत्रों ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। सूत्रों ने कहा कि प्रियंका गांधी ने देश के कई हिस्सों में फंसे लोगों को श्रमिक स्पेशल ट्रेनों, बसों और परिवहन के अन्य साधनों में सीटें हासिल करने में भी मदद सहायता की है और यह प्रक्रिया उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री से बसों को प्रवेश करने की अनुमति देने के लिए की गई अपील से काफी पहले ही शुरू कर दी गई थी।प्रियंका गांधी से जुड़े कांग्रेस के एक शीर्ष सूत्र ने कहा कि पार्टी महासचिव एवं पूर्वी उत्तर प्रदेश की प्रभारी एक मई को श्रमिक स्पेशल ट्रेनें चलाना शुरू किए जाने से पहले और मई के मध्य में प्रदेश सरकार की ओर से बसों का परिचालन शुरू किए जाने से पहले ही लोगों की मदद कर रही हैं। सूत्र ने कहा कि जब लॉकडाउन को सबसे पहले 19 दिनों के लिए बढ़ाया गया, तभी से प्रियंका गांधी ने फंसे हुए प्रवासी कामगारों की मदद करना शुरू कर दिया था, क्योंकि प्रवासी मजदूरों के अपने बच्चों के साथ पैदल चलने की खबरें समाचार चैनलों और सोशल मीडिया पर दिखाई देने लगी थीं।सूत्र ने कहा, "उनके हस्तक्षेप के कारण 44,000 से अधिक प्रवासी श्रमिकों को अलग-अलग राज्य द्वारा उत्तर प्रदेश में मुहैया कराई गई बसों या श्रमिक स्पेशल ट्रेन द्वारा वापस भेजा गया।" सूत्र ने कहा, "फंसे हुए प्रवासी कामगारों की मदद करने की प्रक्रिया को आसान बनाने के लिए प्रियंका ने पांच मई को 'उत्तर प्रदेश मित्र' हेल्पलाइन शुरू की।" सूत्र ने बताया कि हेल्पलाइन के माध्यम से 5.5 लाख से अधिक लोगों ने अपनी यात्रा के लिए पंजीकरण कराया, जबकि राज्यों की विभिन्न जिला इकाइयों से पांच लाख से अधिक अनुरोध प्राप्त हुए।सूत्र ने कहा कि सूची को विभिन्न राज्य इकाइयों के साथ उनकी यात्रा व्यवस्था के लिए साझा किया गया। यह पूछे जाने पर कि क्या प्रियंका गांधी की टीम ने श्रमिक स्पेशल ट्रेनों के लिए भुगतान किया है, सूत्र ने स्पष्ट किया कि कांग्रेस नेता ने ट्रेनों को बुक नहीं कराया, लेकिन वह प्रवासी मजदूरों के उन अनुरोधों को आगे बढ़ाती रहीं, जो उनके कार्यालय में प्राप्त हुए थे। सूत्र ने कहा कि इसके बाद पार्टी की राज्य इकाइयों ने प्रवासी श्रमिकों के साथ समन्वय किया और बसों या श्रमिक स्पेशल ट्रेनों द्वारा उनकी वापसी की व्यवस्था की और कांग्रेस राज्य इकाइयों द्वारा राशि का भुगतान किया गया।कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने प्रवासियों की दुर्दशा को देखते हुए 4 मई को कहा था कि पार्टी उनके रेल टिकट का खर्च वहन करेगी। सूत्र ने कहा, "तभी से कांग्रेस की राज्य इकाइयों ने गुजरात, महाराष्ट्र और पंजाब राज्य सरकारों को 22 से अधिक श्रमिक स्पेशल ट्रेनों के किराए के लिए भुगतान किया, जो उत्तर प्रदेश के लिए भेजी गई थीं। इसके साथ ही हमारे कार्यकर्ता यात्रियों की सूची के लिए समन्वय भी कर रहे थे।"मुंबई यूथ कांग्रेस के उपाध्यक्ष सूरज सिंह ठाकुर ने बताया, "प्रियंका गांधी का कार्यालय मुंबई में फंसे हुए प्रवासी कामगारों की यात्रा और राशन व्यवस्था के अनुरोध को हमसे साझा करता है।" प्रवासी श्रमिकों की सुरक्षित वापसी के लिए समन्वय कर रहे ठाकुर ने कहा कि प्रियंका गांधी के कार्यालय ने यह सुनिश्चित किया कि महाराष्ट्र कांग्रेस टीम के साथ साझा की गई सूची का ठीक से पालन किया गया और सभी को सहायता प्रदान की जा रही है।ठाकुर ने कहा कि प्रियंका गांधी के हस्तक्षेप के बाद कांग्रेस राज्य इकाई ने महाराष्ट्र से उत्तर प्रदेश के लिए 10,000-12,000 से अधिक प्रवासी श्रमिकों की यात्रा की व्यवस्था की। उन्होंने बताया कि इन श्रमिकों को ट्रेनों, बसों या अन्य छोटे वाहनों की मदद से उनके घरों तक पहुंचाने में मदद की गई।वहीं लुधियाना कांग्रेस अध्यक्ष अश्विनी कुमार शर्मा ने कहा, "प्रियंका गांधी के कार्यालय से किशोरी लाल शर्मा लुधियाना में फंसे लोगों और जिन्हें सहायता की आवश्यकता थी, उनकी सूची साझा करते रहे।" शर्मा ने कहा, "हमने एंबुलेंस की व्यवस्था की और कई लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया, क्योंकि प्रियंका गांधी कार्यालय से इसका अनुरोध किया गया था।" शर्मा ने कहा कि प्रियंका गांधी ने प्रवासी कामगारों की यात्रा की व्यवस्था करने और राशन या किसी अन्य सहायता की आवश्यकता के लिए व्यक्तिगत रूप से हस्तक्षेप किया।उन्होंने कहा, "हमें लुधियाना से हजारों लोगों का अनुरोध मिला, जो उप्र वापस जाना चाहते थे और फिर हमने सूची तैयार की और बसों, छोटी कारों और श्रमिक स्पेशल ट्रेनों द्वारा उनकी यात्रा की व्यवस्था की।" शर्मा ने कहा कि सोनिया गांधी के संदेश के बाद कैप्टन अमरिंदर सिंह के नेतृत्व वाली पंजाब सरकार ने राज्य के विभिन्न हिस्सों में रहने वाले प्रवासी श्रमिकों के लिए 35 करोड़ रुपये के ट्रेन टिकट खरीदे।गुजरात के सूरत में कांग्रेस उपाध्यक्ष दीप नाइक ने कहा कि प्रियंका गांधी द्वारा शुरू की गई हेल्पलाइन लोगों से जुड़ने के लिए बहुत मददगार साबित हुई।राहुलवैदनेक्योंलियाशोमेंहिस्सासिंगरनेखुदकियाखुलासाFlash Back 2017: पिज्जा या बर्गर नहीं भारतीयों को 2017 में सबसे ज्यादा पसंद आई ये रेसिपी******इन शहरों के आधार पर ऑनलाइन बुकिंग खाना के जरिए पर किया गया। यहां के लोगों ने ऑनलाइन में सबसे ज्यादा चिकन बिरयानी खाना को पसंद किया है। इन्हें कोई पिज्जा या बर्गर पसंद नहीं आई।मुंबईदिल्ली-एनसीआरहैदराबादबेंगलुरुपुणेचेन्नई और कोलकाताइन शहरों को ऑनलाइन खाना मंगवाने के आधार पर किया है। स्विगी ने बताया कि इस वर्ष 3 दिसंबर को उसके वेबसाइट से सबसे ज्यादा खाना मंगवाया गया।राहुलवैदनेक्योंलियाशोमेंहिस्सासिंगरनेखुदकियाखुलासाथायराइड से बचाव करने में सहायक हैं ये 3 आयुर्वेदिक नुस्खे, इन फूड्स का भी करें सेवन******Highlightsगलत लाइफस्टाइल और खराब खानपान के कारण होने वाली बीमारियों में थायराइड सबसे आम है। महिलाओं में ये बीमारी बहुत आम हो गई है। थायराइड, गर्दन के अंदर मौजूद तितली के आकार की ग्रंथि होती है जिसका काम हार्मोन बनाना होता है। शरीर में जिंक, आयोडीन और सेलेनियम जैसे जरूरी पोषक तत्वों की कमी होने से ये बीमारी होती है। इसके अलावा बहुत ज्यादा दवा लेने से हाई बीपी या लो बीपी की वजह से भी थायराइड हो सकता है। नींद कम आना, कमजोरी महसूस होना या जरूर से ज्यादा प्यास लगना इसके आम लक्षण हैं। कुछ आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियां, थायराइड से बचाव करने में सहायक होती हैं। आइए जानते हैं इसके फायदे और इस्तेमाल करने का सही तरीका।अश्वगंधा चूर्ण बाजार में आसानी से मिल जाता है। थायराइड पेशेंट इस दूध में मिलाकर पी सकते हैं। या इसके जड़ को पानी में उबालकर पी सकते हैं। इससे हार्मोन्स को बैलेंस रखने में मदद मिलती है।लंबे समय से कई बीमारियों का इलाज करने के लिए तुलसी का सेवन किया जाता रहा है। थायराइड में भी तुलसी काफी फायदेमंद होती है। इसके लिए आप 2 चम्मच तुलसी के रस में एलोवेरा का जूस मिलाकर पिएं। इससे आपको काफी राहत मिल सकती है।मुलेठी, थायराइड हार्मोन को नियंत्रित रखने के साथ ही थायराइड कैंसर से भी बचाता है। इसमें ऐसा एसिड होता है जो थायराइड कैंसर सेल्स को बढ़ने से रोकता है।नारियल का तेल स्वास्थ्य के लिए काफी अच्छा होता है। ये वजन घटाने से लेकर मधुमेह जैसी बीमारियों से भी निजात दिलाता है। थायराइड के मरीज खाने में नारियल तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं।थायराइड पेशेंट के लिए लौकी एक अच्छा ऑप्शन है। खाली पेट लौकी का जूस पीने से कई दिक्कतें दूर हो सकती हैं। इसमें पानी की भरपूर मात्रा होती है जिससे शरीर हाइड्रेट रहता है।नियमित रूप से भोजन में थोड़ी मात्रा में काली मिर्च का सेवन करना लाभदायक हो सकता है। इसमें पिपराइन और एंटी-डिप्रेसेंट के गुण होते हैं जो टेंशन, डिप्रेशन को दूर रखने में सहायक हैं। साथ ही इसका सेवन करने से हड्डियों के दर्द को भी दूर किया जा सकता है।

Bigg Boss 14: राहुल वैद ने क्यों लिया शो में हिस्सा? सिंगर ने खुद किया खुलासा

राहुलवैदनेक्योंलियाशोमेंहिस्सासिंगरनेखुदकियाखुलासाRajat Sharma’s Blog: क्या KCR सचमुच अंधविश्वास और परिवारवाद में यकीन रखते हैं?******तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव (KCR) को टोना-टोटका और '6' नंबर को लकी मानने के लिए जाना जाता है। कहा जाता है कि उन्होंने अपने ज्योतिषी की सलाह पर पिछले 5 साल से राज्य के सचिवालय में कदम नहीं रखा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को हैदराबाद में एक जनसभा को संबोधित करते हुए KCR पर परिवारवाद की राजनीति करने और अंधविश्वास के आधार पर फैसले लेने के लिए निशाना साधा।मीडिया में आई खबरों के मुताबिक, मुख्यमंत्री बनने के बाद से सचिवालय नहीं गए हैं, क्योंकि उन्हें लगता है कि इस भवन का वास्तु उनके लिए ठीक नहीं है। उन्होंने 2016 में 50 करोड़ की लागत से घर पर ही एक वास्तुसम्मत कार्यालय बनवाया। उन्होंने सचिवालय में कभी कदम नहीं रखा जबकि उनके मंत्री और नौकरशाह वहीं से काम करते हैं। उन्होंने बेगमपेट में अपने कैंप ऑफिस की मरम्मत कराई और इसे 5 मंजिल ऊंचा और 6 ब्लॉक्स तक बढ़ा दिया। मीडिया में आई खबरों के मुताबिक, KCR का मानना है कि ‘शासक को ऐसी जगह से काम करना चाहिए जो दूसरों की तुलना में ज्यादा ऊंचाई पर हो।’KCR ने एक नया सचिवालय बनवाने की कोशिश की लेकिन उन्हें जनता का विरोध झेलना पड़ा। वह नए सचिवालय के निर्माण के लिए सेना की जमीन का अधिग्रहण करना चाहते थे। इसके बाद उन्होंने पूरे सचिवालय को वास्तुसम्मत बनाने के लिए उसकी मरम्मत करवानी शुरू कर दी। पिछले 5 साल से KCR सचिवालय की बजाय अपने सरकारी आवास से काम कर रहे हैं।लोगों को लगता है कि चंद्रशेखर राव 6 को अपने लिए लकी अंक मानते हैं, इसीलिए उनके काफिले में जितनी गाड़ियां होती हैं, उनका नंबर या तो 6 है या सभी अंकों का जोड़ 6 है। चंद्रशेखर राव कोई भी काम मुहूर्त देखे बिना नहीं करते। मुहूर्त में भी इस बात का ख्याल रखा जाता है कि टाइम ऐसा हो, जिसका जोड़ 6 हो। जब वह पहली बार CM बने तो उन्होंने दोपहर 12:57 मिनट पर शपथ ली, जिसके अंकों का जोड़ 6 होता है। एक बार वह महबूब नगर जिला गए तो वहां 51 बकरों की बलि चढ़ाई गई। लोगों का दावा है कि 51 बकरों की बलि इसीलिए चढ़ाई गई क्योंकि इसका जोड़ भी 6 होता है। चंद्रशेखर राव जो कमेटियां बनाते हैं, उनके सदस्यों की संख्या भी इस तरह रखते हैं जिसके अंकों का जोड़ 6 हो। शायद यही वजह है कि उन्होंने किसानों के लिए जो को-ऑर्डिनेशन कमेटी बनाई उसमें 15 सदस्य रखे। उनकी पार्टी की जिला समिति में 24 सदस्य हैं, राज्य स्तरीय समिति में 42 सदस्य हैं और इन सबका जोड़ 6 है।तेलंगाना के सियासी जानकारों के मुताबिक, KCR हैदराबाद की मशहूर हुसैन सागर झील कभी नहीं जाते, क्योंकि कहा जाता है कि हुसैन सागर झील जाने के बाद ही एनटी रामाराव से आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री की गद्दी छिन गई थी।अपनी जनसभा में KCR पर कटाक्ष करते हुए मोदी ने कहा, 'आधुनिक ज्ञान-विज्ञान के इस युग में .. अभी भी, 21वीं सदी में भी, जो लोग अंधविश्वास के गुलाम बने हुए हैं, वो अपने अंधविश्वास में किसी का भी नुकसान कर सकते हैं। ये अंधविश्वासी लोग तेलंगाना के सामर्थ्य के साथ कभी न्याय नहीं कर सकते। मुझे याद है जब मैं गुजरात में मुख्यमंत्री था, तो वहां भी कुछ शहरों की पहचान बना दी गई थी कि उस शहर में कोई मुख्यमंत्री जा नहीं सकता है। अगर वहां जाएगा तो उसकी कुर्सी चली जाएगी। मैं डंके की चोट पर वहीं पर जाता था, बार-बार जाता था।' ने कहा- 'मैं विज्ञान …टेक्नोलॉजी में विश्वास करता हूं। मैं तो आज तेलंगाना की इस धरती से उत्तर प्रदेश के हमारे मुख्यमंत्री श्रीमान योगी आदित्यनाथ जी को भी बधाई देता हूं। वो तो संत परंपरा से हैं, सन्यासी परंपरा से हैं। उनके कपड़े और भेषभूषा देखकर के कोई भी बात मान लेगा। जब उनके सामने आया कि फलानी जगह पर नहीं जाना है, ढिकानी जगह पर नहीं जाना चाहिए। योगी जी ने कहा, मैं विज्ञान में विश्वास करता हूं, वे चले गए और दोबारा जीतकर मुख्यमंत्री बने।' मोदी ने कहा, 'अंधविश्वास को इस प्रकार से तवज्जो देने वाले लोग, उसके भविष्य को कभी संवार नहीं सकते हैं। ऐसे अंधविश्वासी लोगों से हमारे तेलंगाना को हमें बचाना है।.. अंधविश्वासी लोग कभी तेलंगाना के सामर्थ्य के साथ न्याय नहीं कर सकते। कुछ लोग हैं जो अंधविश्वास पर भरोसा करते हुए कुछ जगहों पर नहीं जाते।'मोदी ने आरोप लगाया कि तेलंगाना के मुख्यमंत्री परिवारवाद की राजनीति को बढ़ावा दे रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘परिवारवाद और परिवारवादी पार्टियां, देश के लोकतंत्र और देश के युवा, दोनों की सबसे बड़ी दुश्मन हैं। देश ने देखा है, तेलंगाना के लोग देख रहे हैं कि एक परिवार को समर्पित पार्टियां जब सत्ता में आती हैं तो कैसे उस परिवार के सदस्य भ्रष्टाचार, उसका सबसे बड़ा चेहरा बन जाते हैं। तेलंगाना के लोग देख रहे हैं कि परिवारवादी पार्टियां किस तरह सिर्फ अपना विकास करती हैं, अपने परिवार के सदस्यों की तिजोरियां भरती हैं। इन परिवारवादी पार्टियों को गरीब के दर्द की, गरीब की तकलीफों की, न उनको कोई चिंता नहीं होती है, न परवाह होती है।’मोदी ने कहा, 'इनकी राजनीति सिर्फ इस बात पर केंद्रित होती है कि एक परिवार लगातार किसी भी तरह सत्ता पर कब्जा करके लूट सके तो लूटता रहे। इसके लिए, ये लोग समाज को बांटने की साजिशें रचतें हैं, जनता के विकास में उनकी कोई रूची नहीं होती है। पिछड़ेपन, समाज पीछे रहे उसी में उनका भला देखते हैं। परिवारवाद की वजह से देश के युवाओं को, देश की प्रतिभाओं को राजनीति में आने का अवसर भी नहीं मिलता। परिवारवाद उनके हर सपनों को कुचलता है, उनके लिए हर दरवाजे बंद करता है। इसलिए, आज 21वीं सदी के भारत के लिए परिवारवाद से मुक्ति, परिवारवादी पार्टियों से मुक्ति एक संकल्प भी है, और एक नैतिक आंदोलन भी है। जहां जहां परिवारवादी पार्टियां हटी हैं, वहां वहां विकास के रास्ते भी खुले हैं।'मोदी परिवारवाद की राजनीति के खिलाफ पूरे अधिकार से बोल सकते हैं। उन्होंने अपने परिवार के सदस्यों को राजनीति से दूर रखा है। लोग उनके भाइयों, भतीजों या अन्य करीबी रिश्तेदारों के नाम भी नहीं जानते हैं। न ही मोदी के रिश्तेदार उनके पद का कोई फायदा उठा सके। वंशवाद की राजनीति के मुद्दे पर कोई भी मोदी को नहीं घेर सकता। इसके उलट भारत में जितनी क्षेत्रीय पार्टियां हैं, वे ज्यादातर परिवारवाद की शिकार हैं। वे चाहें लालू प्रसाद यादव हों, मुलायम सिंह यादव हों, ओम प्रकाश चौटाला हों, प्रकाश सिंह बादल हों, एम करुणानिधि हों, एच डी देवेगौड़ा हों, उद्धव ठाकरे हों या डॉ फारूक अब्दुल्ला हों।KCR ने अपने परिवार के कई सदस्यों को विधायक, सांसद या मंत्री बनाया है। KCR खुद मुख्यमंत्री हैं, उनके बेटे KTR (के.टी.राम राव) तेलंगाना राष्ट्र समिति के कार्यकारी अध्यक्ष हैं और अपने पिता के मंत्रिमंडल में ताकतवर मंत्री भी हैं। KCR की बेटी के. कविता सांसद थीं। वह पिछला चुनाव हार गईं, लेकिन उनके पिता ने उन्हें MLC बना दिया और उन्हें जल्द ही मंत्री भी बनाया जा सकता है। KCR के भतीजे टी. हरीश राव भी उनकी सरकार में मंत्री हैं। KCR के एक और भतीजे जोगिनापल्ली संतोष कुमार सांसद हैं। केसीआर ने उन्हें राज्यसभा में भेजा है। इसलिए उनके परिवार के 5 लोग तो अब महत्वपूर्ण पदों पर आसीन हैं। अब चर्चा यह है कि KCR अपने एक और भतीजे वामसी को सक्रिय राजनीति में लाएंगे। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, वह अंधविश्वास के चलते वामसी को राजनीति में ला रहे हैं। लोगों का कहना है कि KCR 6 नंबर को लकी मानते हैं, इसलिए वह '6' तक पहुंचने के लिए परिवार के एक और सदस्य को सियासत में लाना चाहते हैं।KCR कई बार पीएम नरेंद्र मोदी से सीधे तौर पर मिलने से बचने की कोशिश कर चुके हैं। मीडिया रिपोर्ट्स का कहना है कि ऐसा वह ज्योतिषियों की सलाह की वजह से कर रहे हैं। जब भी मोदी तेलंगाना के दौरे पर जाते हैं, तो KCR कोई न कोई बहाना बनाकर तेलंगाना से बाहर चले जाते हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, वह ऐसी किसी भी मुलाकात को अपने लिए 'अनलकी' मानते हैं। जब मोदी इस साल फरवरी में 11वीं सदी के संत श्री रामानुजाचार्य की स्मृति में स्टैच्यू ऑफ इक्वेलिटी के उद्घाटन के लिए तेलंगाना गए थे, तब KCR बीमारी की बात कहकर एयरपोर्ट पर पीएम का स्वागत करने नहीं पहुंचे थे। गुरुवार को जब मोदी हैदराबाद पहुंचे, KCR उससे 3 घंटे पहले ही एच. डी. देवेगौड़ा और उनके बेटे से मिलने बेंगलुरु के लिए रवाना हो चुके थे। वहां उनका कोई सरकारी काम भी नहीं था। KCR ने मोदी की आलोचना पर प्रतिक्रिया देते हुए बेंगलुरु में कहा, ‘भाषणबाजी और वादों के अलावा हकीकत क्या है। उद्योग बंद हो रहे हैं, जीडीपी नीचे जा रही है, महंगाई मुंह उठा रही है और रुपया बुरी तरह गिर गया है। आज कोई खुश नहीं है, चाहे किसान हों, दलित हों, आदिवासी हों। राष्ट्रीय स्तर पर जल्द ही बदलाव होगा। 2-3 महीने बाद आपको सनसनीखेज खबर मिलेगी।’आपने वीडियो में देखा होगा कि KCR जब एच. डी. देवगौड़ा और उनके बेटे की मौजूदगी में मीडिया से बात कर रहे थे तो उनकी बाजू पर एक चमकीला कपड़ा बंता हुआ था। मुझे इसके बारे में पता चला कि चंद्रशेखर राव जब भी किसी विशेष मिशन पर जाते हैं, या किसी जरूरी मीटिंग में जाते हैं तो इस तरह का बाजूबंद उनकी बांह पर होता है। यह बाजूबंद केसीआर की सरकार में होम मिनिस्टर महमूद अली उन्हें देते हैं। इस बाजूबंद को ‘इमाम-ए-ज़ामिन’ कहा जाता है। KCR को यकीन है कि ‘इमाम-ए-ज़ामिन’ उनकी रक्षा करता है और वह जिस काम से जाते हैं, वह पूरा हो जाता है।KCR केंद्र में जिस ‘बदलाव’ की बात कर रहे हैं उसके बारे में कुछ कहने की जरूरत नहीं है। KCR ने भविष्यवाणी की थी कि देवेगौड़ा के बेटे एचडी कुमारस्वामी कर्नाटक के मुख्यमंत्री बनेंगे, औऱ वह बन भी गए। लेकिन उन्होंने यह भविष्यवाणी नहीं की थी कि मुख्यमंत्री बनने के बाद कुमारस्वामी बार-बार रोएंगे, इसके बाद बगावत होगी और उनकी सरकार चली जाएगी। जबकि ऐसा ही हुआ था। KCR ने यह भी नहीं बताया कि उन्होंने 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले भी इसी तरह की बातें बोली थीं, देवगौड़ा और दूसरे नेताओं से मिलने के बाद मोदी को मात देने का ऐलान किया था। लेकिन क्या हुआ, पूरी दुनिया ने देखा।मोदी ने गुरुवार को हैदराबाद में जो भी कहा, साफ कहा: जो करना है कर लो, जितनी ताकत लगानी है लगा लो, जो टोने-टोटके करने हैं कर लो, लेकिन बीजेपी के उखाड़ नहीं पाओगे। बीजेपी ने पिछले 8 सालों में जनता के दिल में जगह बना ली है।राहुलवैदनेक्योंलियाशोमेंहिस्सासिंगरनेखुदकियाखुलासाकमाल का पेनकिलर है अदरक, माइग्रेन, आर्थराइटिस और पीरियड्स के दर्द से यूं मिल सकता है छुटकारा******सर्दी खांसी, जुकाम, पेट दर्द, मोशन सिकनेस, जी मिचलाना और अपचन होने पर हम सबसे ज्यादा अदरक का इस्तेमाल करते हैं, लेकिन क्या आप ये जानते हैं कि अदरक दुनिया के तमाम दर्द निवारकों (पेन किलर्स) में से एक बेहतरीन दर्द निवारक ऑप्शन है। इसकी वजह है इसमें पाए जाने वाले कमाल के फाइटोकेमिकल्स। जिन्जेरॉल्स और शोगोल्स ऐसे नेचरल कंपाउंड्स हैं जिनके पाए जाने की वजह अदरक को खास बनाती है।साइंटिस्ट और हर्बल मेडिसिन एक्सपर्ट दीपक आचार्य के मुताबिक अदरक कमाल का दर्द निवारक भी है। यह आइबूप्रोफेन, ट्रिप्टान और NSAID (नॉन स्टेरॉइडल एंटीइंफ्लेमेटरी ड्रग) के टक्कर का है। उन्होंने बताया कि तकरीबन 20 ग्राम अदरक कुचलकर आधा कप रस अगर आप पी लें और कुचले हुए अदरक को माथे पर लेप की तरह लगा लें तो यकीन आपका सिर दर्द गायब हो जाएगा। एक क्लिनिकल स्टडी बताती है कि माइग्रेन में आराम दिलाने वाली मेडीसिन ट्रिप्टान और अदरक का असर बिल्कुल एक जैसा है। इस क्लीनिकल स्टडी में माइग्रेन के रोगियों के दो ग्रुप बनाए गए, एक को ट्रिप्टान और दूसरों को सोंठ (सुखाया हुआ अदरक) का पाउडर दिया गया, दोनों दवाओं को लेने के 2 घंटे के भीतर दर्द में सभी लोगों को आराम मिल गया। एक है नेचरल ऑप्शन और दूसरा सिंथेटिक, अब चॉइस आपकी है।एक और स्टडी बताती है कि पीरियड्स में दर्द की शिकायत वाली 150 महिलाओं के दो ग्रुप्स में से एक को अदरक और दूसरे को आइबूप्रोफेन या NSAID दिए गए और पाया गया कि दोनों ही ग्रुप की महिलाओं को पीरियड्स के दौरान होने वाले दर्द में बराबरी से दर्द में राहत मिली। अब चॉइस आपकी है कि आप नेचुरल अदरक से अपना दर्द ठीक करना चाहते हैं या फिर दवाई खाना चाहते हैं। अदरक तो बेशक कमाल का पेन किलर है, आर्थराइटिस से त्रस्त लोगों को भी इससे बहुत आराम मिलता है। सबसे बड़ी बात है कि आपको हाईडोज पेनकिलर भी नहीं खाना होगा और बिना साइडइफेक्ट्स के आप ठीक हो सकते हैं। हेवी डोज़ ड्रग्स की वजह से पेट की भीतरी लाइनिंग के डैमेज को कम करने या उसे ठीक करने में अदरक के फाइटोकेमिकल्स कमाल का काम करते हैं।अगर आपको भी कभी दर्द सताए तो 15-20 ग्राम कुचलें अदरक, रस निकालें और पी जाएं, दर्द वाले हिस्से पर बचे हिस्से का लेप करके रखें, आधा घंटे में आपको असर दिखेगा। सोंठ का पाउडर भी रसोई में रखें, पाउडर की 5-7 ग्राम (एक चम्मच) मात्रा एक कप गुनगुने में मिक्स करके पी जाएं, ध्यान रहे, तब करना है ये सब, जब दर्द सता रहा हो।

Bigg Boss 14: राहुल वैद ने क्यों लिया शो में हिस्सा? सिंगर ने खुद किया खुलासा

राहुलवैदनेक्योंलियाशोमेंहिस्सासिंगरनेखुदकियाखुलासाअब बेधड़क होकर कीजिए EV से लंबा सफर, भारत पेट्रोलियम करने जा रही है ये बड़ा काम******EV charging infrastructure अगर आप भी उन लोगों में से हैं जिन्हें इलेक्ट्रिक वाहन पसंद तो है, लेकिन लॉन्ग ड्राइव पर चार्जिंग न मिलने के डर से इन्हें खरीदने से परहेज कर रहे हैं तो अब निश्चिंत हो जाइए। देश की प्रमुख सरकारी पेट्रोलियम कंपनी भारत पेट्रोलियम देश भर में 7000 से अधिक ईवी चार्जिंग प्लेटफॉर्म विकसित करने की तैयारी में है।मशहूर कार कंपनी एमजी मोटर इंडिया ने देशभर में इलेक्ट्रिक वाहन (ईवी) चार्जिंग ढांचे को मजबूत करने के लिए भारत पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड (बीपीसीएल) के साथ भागीदारी की है। कंपनी ने सोमवार को यह जानकारी दी। कंपनी ने एक बयान में कहा कि बीपीसीएल के साथ साझेदारी के जरिये शहरों के बीच यात्रा के अवसरों का विस्तार करके ईवी की स्वीकार्यता को बढ़ाने में मदद मिलेगी, क्योंकि दोनों इकाइयां राजमार्गों और शहरों के भीतर ईवी चार्जर स्थापित करेंगी।एमजी मोटर इंडिया के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक राजीव छाबा ने कहा, ‘‘बीपीसीएल के साथ हमारी साझेदारी भारत में ईवी चार्जिंग बुनियादी ढांचे को मजबूत करने और इलेक्ट्रिक वाहनों में ग्राहकों के विश्वास को बढ़ाने के लिए एक और कदम है।’’ उन्होंने कहा कि भारत में बीपीसीएल की मजबूत उपस्थिति और विशाल नेटवर्क, देशभर में मौजूदा और संभावित ग्राहकों के पास चार्जिंग समाधान तक सुविधाजनक पहुंच को सुनिश्चित करेगा।बीपीसीएल के चेयरमैन और प्रबंध निदेशक अरुण कुमार सिंह ने कहा कि कंपनी देश के प्रमुख राजमार्गों, शहरों और आर्थिक केंद्रों को जोड़ने वाले फास्ट चार्जिंग गलियारे स्थापित कर रही है। अगले दो-तीन साल में कंपनी के पास 7,000 फास्ट चार्जिंग स्टेशनों का नेटवर्क होगा।

राहुलवैदनेक्योंलियाशोमेंहिस्सासिंगरनेखुदकियाखुलासाबेंगलुरु के अस्पताल में संक्रमित मांओं से 160 कोविड-फ्री शिशुओं का जन्म******शहर के एक अस्पताल में संक्रमित माताओं से 160 से अधिक कोविड मुक्त शिशुओं का प्रसव कराया गया। वाणी विलास अस्पताल के एक चिकित्सा अधिकारी ने बताया, "हमने कोरोनावायरस से मुक्त 160 से अधिक शिशुओं का सफलतापूर्वक प्रसव कराया है। जबकि उनकी मांएं कोविड-19 संक्रमित थीं।"बच्चे कोरोनावायरस से संक्रमित न हों इसलिए अस्पताल में डॉक्टरों ने ज्यादातर मामलों में नवजात शिशुओं को उनकी संक्रमित माताओं से तुरंत अलग कर दिया। अधिकारी ने कहा, "यही एक कारण है जिसके कारण बच्चे कोरोनावायरस मुक्त हैं। हमने उन्हें नवजात देखभाल इकाई में स्थानांतरित कर दिया है।"उन्होंने आगे कहा, "शिशुओं का पांचवें और 14वें दिन कोविड के लिए परीक्षण किया जाएगा। यदि वे नकारात्मक हैं तो शिशुओं को उनके रिश्तेदारों या अटेंडेंट्स को सौंप दिया जाता है।" कुछ को छोड़कर ज्यादातर शिशु स्वस्थ हैं।वहीं नौ शिशुओं के एक समूह का परीक्षण पॉजिटिव आया था। वे हाई रिस्क वाले कोविड-19 जोन में रहते थे। उन्होंने कहा, "बिना लक्षण वाली संक्रमित माताओं से पैदा होने वाले शिशुओं को माताओं के पास रहने देना चाहिए। लेकिन इस दौरान हाथ और स्तन की स्वच्छता का ध्यान रखना चाहिए।"राहुलवैदनेक्योंलियाशोमेंहिस्सासिंगरनेखुदकियाखुलासाPAK vs AUS: एकमात्र टी20 में ऑस्ट्रेलिया ने पाकिस्तान को चटाई धूल, जीत के साथ किया दौरे का अंत******ऑस्ट्रेलिया ने 24 साल में अपने पहले पाकिस्तान दौरे का अंत एकमात्र टी20 क्रिकेट मैच में तीन विकेट की जीत के साथ किया। कप्तान आरोन फिंच के 55 रन की बदौलत ऑस्ट्रेलिया ने पांच गेंद शेष रहते सात विकेट पर 163 रन बनाकर जीत दर्ज की। बेन मैकडर्मोट (नाबाद 22) ने हारिस राउफ पर चौके के साथ टीम को जीत दिलाई। इससे पहले नाथन एलिस ने 28 रन देकर चार विकेट चटकाए जिससे ऑस्ट्रेलिया ने पाकिस्तान को आठ विकेट पर 162 रन के स्कोर पर रोक दिया। बेहतरीन फॉर्म में चल रहे बाबर आजम ने 46 गेंद में 66 रन की पारी खेली।साल 1998 के बाद पहली बार पाकिस्तान का दौरा कर रहे ऑस्ट्रेलिया ने तीन टेस्ट की सीरीज 1-0 से जीती थी लेकिन वनडे सीरीज में उसे 1-2 से हार का सामना करना पड़ा था। पहले वनडे मुकाबले में शतक जड़ने वाले ट्रेविस हेड ने 14 गेंद में 26 रन की तेजतर्रार पारी खेली और फिंच के साथ 21 गेंद में 40 रन जोड़कर ऑस्ट्रेलिया को तेज शुरुआत दिलाई।कोविड-19 पॉजिटिव पाए जाने के कारण वनडे सीरीज से बाहर रहे जोश इंग्लिस ने भी 24 रन का योगदान दिया जबकि मार्कस स्टोइनिस ने पांच चौकों की मदद से सिर्फ नौ गेंद में 23 रन बनाए। पाकिस्तान की गेंदबाजी दिशाहीन भी रही। हसन अली ने तीन ओवर में 30 रन लुटाए जबकि उन्हें कोई सफलता नहीं मिली।तेज गेंदबाज मोहम्मद वसीम (30 रन पर दो विकेट) ने स्टोइनिस और कैमरन ग्रीन को लगातार ओवरों में बोल्ड किया। शाहीन अफरीदी (21 रन पर दो विकेट) ने 19वें ओवर में फिंच और सीन एबट को पवेलियन भेजा लेकिन मैकडर्मोट ने टीम को लक्ष्य तक पहुंचा दिया। इससे पहले पाकिस्तान ने आजम और मोहम्मद रिजवान (23) के बीच पहले विकेट की 67 रन की साझेदारी से अच्छी शुरुआत की।ऑस्ट्रेलिया की टीम में डेब्यू कर रहे तीन खिलाड़ियों में से एक ग्रीन ने रिजवान को बोल्ड करके इस साझेदारी को तोड़ा। ग्रीन ने अगली गेंद पर फखर जमां (00) को मिड ऑन पर फिंच के हाथों कैच कराया। एडम जंपा (29 रन पर एक विकेट) ने 16वें ओवर में बाबर को नाथन एलिस के हाथों कैच कराया। उन्होंने 46 गेंद की अपनी पारी में छह चौके और दो छक्के मारे।एलिस ने अपने अंतिम दो ओवर में तीन विकेट चटकाकर निचले मध्यक्रम को ध्वस्त किया लेकिन उस्मान कादिर ने पदार्पण कर रहे तेज गेंदबाज बेन ड्वारहुइस के अंतिम ओवर में 18 रन जोड़कर टीम को चुनौतीपूर्ण स्कोर तक पहुंचाया। बेन ने 42 रन खर्च किए जबकि उन्हें कोई सफलता नहीं मिली।

राहुलवैदनेक्योंलियाशोमेंहिस्सासिंगरनेखुदकियाखुलासाMundka Fire Accident: गोदाम के पास नहीं था फायर NOC, कई लोग लापता, ढूंढ रहे परिजन, जानिए हादसे का पूरा घटनाक्रम******Highlightsदिल्ली के पश्चिमी इलाके में मुंडका मेट्रो स्टेशन के पास स्थित चार मंजिला बिल्डिंग में शुक्रवार शाम आग लगने से कम से कम 27 लोगों की मौत हो गई और 12 अन्य झुलस गए। आग बुझाने और लोगों को बचाने के काम के बीच इस हादसे के बाद लोग अभी भी लापता हैं। उनके परिजन अपनों की तलाश में भटक रहे हैं। वहीं बताया जा रहा है कि गोदाम के पास फायर एनओसी नहीं था। बिना एनओसी के यहां सीसीटीवी और इलेक्ट्रिक वायर बनाने का काम किया जाता था। कंपनी के मालिकों को पुलिस ने अपने शिकंजे में ले लिया है। जानिए आग के हादसे का पूरा घटनाक्रम।सीसीटीवी और इलेक्ट्रिक वायर बनाए जाते थे गोदाम मेंआग इमारत की पहली मंजिल से लगनी शुरू हुई, जहां सीसीटीवी कैमरा और राउटर निर्माता कंपनी का कार्यालय था। पुलिस ने बताया कि आग बुझाने के काम में 30 से अधिक दमकल वाहनों को लगाया गया। पुलिस ने बताया कि कंपनी के मालिकों-हरीश गोयल और वरुण गोयल को हिरासत में ले लिया गया है और इमारत के मालिक की पहचान मनीष लाकरा के रूप में हुई है। उसने बताया कि वह इमारत के सबसे ऊपर वाले तल पर रहता था और उसके खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धाराओं के तहत मामला दर्ज किया जा रहा है।सूचना मिलते ही 30 दमकल गाड़ियां पहुंच गई थी मौके परदिल्ली दमकल सेवा के प्रमुख अतुल गर्ग ने कहा कि इस अभियान में कोई दमकलकर्मी घायल नहीं हुआ। उन्होंने कहा कि छह दमकल वाहन अब भी घटनास्थल पर हैं और तीन-चार लोगों के अभी फंसे होने की आशंका है। पुलिस के अनुसार, आग लगने की सूचना शाम 4.45 बजे मिली, जिसके बाद 30 से अधिक दमकल गाड़ियों को मौके पर भेजा गया। घटनास्थल पर हर तरफ दुखद दृश्य दिखाई दिए। कई लोग जान बचाने के लिए खिड़कियों से कूदते दिखे तो कई लोग रस्सियों के सहारे इमारत से नीचे आते दिखाई दिए।50 कर्मचारियों को सुरिक्षत निकाल लिया गया, लेकिन 27 जानें चली गईंयह आग मुंडका मेट्रो स्टेशन के पिलर नंबर 544 के निकट लगी। शुरुआती पूछताछ में पुलिस को पता चला कि चार मंजिला इमारत में कंपनियों को ऑफिस स्पेस मुहैया कराया जाता था। उन्होंने बताया कि पहली मंजिल में एक कंपनी का कार्यालय था और उसके 50 से अधिक कर्मचारियों को सुरक्षित निकाल लिया गया, वहीं 27 लोगों के शव बरामद किए गए हैं। बचाए गए लोगों को तत्काल चिकित्सा सुविधा मुहैया कराने के लिए कुछ एम्बुलेंस भी मौके पर मौजूद थीं। दमकल विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि रात करीब 11 बजे आग पर काबू पा लिया गया लेकिन रेस्क्यू अभियान जारी है।राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री सहित कई ​हस्तियों ने जताया शोकराष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह और कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने आग लगने से हुई लोगों की मौत पर शोक जताया। कोविंद ने कहा कि वह इमारत में आग लगने से कई लोगों की मौत से अत्यंत दुखी हैं। उन्होंने पीड़ित परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त की। राष्ट्रपति ने कहा, ‘ मैं घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करता हूं।’ कोविंद ने ट्वीट किया, ‘दिल्ली में मुंडका मेट्रो स्टेशन के पास एक इमारत में आग लगने की घटना से अत्यंत दुखी हूं। पीड़ित परिवारों के प्रति मेरी संवेदनाएं। मैं घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करता हूं।’मोदी ने ट्वीट कर कहा, ‘दिल्ली में भीषण आग की घटना में लोगों की मौत से बेहद दुखी हूं। शोकाकुल परिवारों के प्रति मेरी संवेदनाएं। मैं घायलों के जल्द स्वस्थ होने की कामना करता हूं।’ उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष से इस हादसे में जाने गंवाने वालों के आश्रितों को दो-दो लाख रुपये तथा घायलों को पचास-पचास हजार रुपये की राशि दी जाएगी।केजरीवाल और राहुल गांधी ने घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामनादिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने हादसे पर शोक व्यक्त किया और कहा कि वह लगातार अधिकारियों के संपर्क में हैं। केन्द्रीय आवास एवं शहरी मामलों के मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने भी घटना पर दुख व्यक्त किया है। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने दिल्ली में आग लगने की घटना में कई लोगों की मौत पर शुक्रवार को दुख जताया और झुलसे हुए लोगों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की। उन्होंने ट्वीट किया, 'दिल्ली में मुंडका के निकट हुई अग्नि दुर्घटना में कई लोगों की मौत से दुखी हूं। पीड़ित परिवारों के प्रति गहरी संवेदना प्रकट करता हूं और घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करता हूं।'कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाद्रा ने कहा, 'मुंडका आग हादसे की खबर सुनकर मन को भारी दुख पहुंचा। मृतकों के परिजनों के प्रति मेरी गहरी संवेदनाएं। मैं ईश्वर से प्रार्थना करती हूं कि घायलों को जल्द स्वास्थ्य लाभ मिले।'राहुलवैदनेक्योंलियाशोमेंहिस्सासिंगरनेखुदकियाखुलासाRajasthan BSTC Counselling result: राजस्थान प्री डीएलएड बीएसटीसी काउंसलिंग अलॉटमेंट के नतीजे कुछ ही देर में होंगे जारी, ऐसे करें चेक******राजस्थान प्रीडीएलएडया राजस्थानबीएसटीसीपरीक्षा ( RajasthanBSTCया PreDElEdExamination 2019) कीकाउंसलिंगकेपरिणामआजघोषितहो गए है। नए शेड्यूल केमुताबिककाउंसलिंगके लिए रजिस्ट्रेशन कीअंतिमतिथि6 अगस्त (शाम 6 बजे तक) तक बढ़ा दी गई थी। रजिस्ट्रेशन फीस 6 अगस्त तक जमाकराईजासकतीथी। फर्स्ट सीटअलॉटमेंटका रिजल्ट 7 अगस्तयानीआजजारीहोगा। प्रवेश के लिएअलॉटमेंटफीस 8 अगस्त से 13 अगस्त के बीच जमाकराईजा सकेगी।अलॉटमेंटके बाद 8 अगस्त से 13 अगस्त के बीच संस्थान में रिपोर्टिंगकरनीहोगी। अपवार्डमूवमेंटके लिए 14 व 15 अगस्त कोआवेदनकरनाहोगा। अपवार्डमूवमेंटमेंआवंटितअध्यापक शिक्षा संस्थान कीसूचना16 अगस्त, 2019 को दी जाएगी। अपवार्डमूवमेंटके बाद संस्थान में रिपोर्टिंग 17 अगस्त से 19 अगस्त के बीच हो सकेगी।राजस्थानबीएसटीसी(RajasthanBSTC)काउंसलिंगफर्स्टअलॉटमेंटमेंशामिलअभ्यर्थीसंबंधितजानकारीविभागकीऑफिशियलवेबसाइटपरजाकरप्राप्त करसकतेहैं।बीएसटीसीके नाम सेजानीजानेवालीयह परीक्षा पूर्व में उच्च शिक्षाविभागद्वाराकराएजानेकीपरिपाटीचली आ रही थी।पहलीबार इसेपंजीयकशिक्षाविभागीयपरीक्षाएं,बीकानेरद्वाराकराएजानेकी पहल की गयी है।प्री.डी.एल.एड. परीक्षा 2019 कापरिणाम(राजस्थानबीएसटीसीरिजल्ट 2019 ) 3जुलाईकोघोषितकियागया था। 80.47 प्रतिशत अंक के साथ प्रवीणकुमारने टॉपकियाथा। प्री.डी.एल.एड. परीक्षा 2019 राज्य के सभी 33जिलोंके 2212 परीक्षा केन्द्रों पर गत 26 मई कोआयोजितकी गयी थी। परीक्षा में 7 लाख 51हजार127 अभ्यर्थीपंजीकृतहुए औरइनमेंसे 6 लाख 94हजार663 परीक्षार्थियों ने भागलियाथा।

राहुलवैदनेक्योंलियाशोमेंहिस्सासिंगरनेखुदकियाखुलासापाकिस्तानी गेंदबाज ने अपने ओवर को बताया बेस्ट, ​सोशल मीडिया पर लगी क्लास******Highlightsपा​किस्तान ने विश्व क्रिकेट को कई सारे तेज गेंदबाज दिए। इमरान खान उन्हीं में से एक थे। इमरान खान बाद में चलकर पाकिस्तानी क्रिकेट टीम के कप्तान भी बने और बाद में राजनीति में आकर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री भी बने। इसके बाद पाकिस्तान ने वसीम अकरम, वकार यूनुस और शोएब अख्तर जैसे गेंदबाज भी दिए। इन खिलाड़ियों का तो खूब नाम भी हुआ। पाकिस्तान से ही एक और गेंदबाज हुआ, जिसका नाम था जुनैद खान। वैसे तो बहुत से लोग जुनैद खान को नहीं जानते होंगे, लेकिन क्रिकेट फैंस ने जरूर उनका नाम सुना होगा। हालांकि बाद में वे भी कहीं गुमनामी में खो गए और किसी को नहीं पता कि वे क्या कर रहे हैं। इस बीच जुनैद खान कभी कभार सोशल मीडिया पर जरूर एक्टिव रहते हैं। हाल ही में ​एक ट्विटर यूजर ने एक वीडियो शेयर किया, जिसमें जुनैद खान गेंदबाजी कर रहे हैं। इसी ट्विट को रिट्विट करते हुए जुनैद खान ने लिखा कि ये उनके करियर का बेस्ट ओवर ​था। इसके बाद सोशल मीडिया पर एक से बढ़कर एक रिएक्शन आने लगे। साथ ही जुनैद खान की जमकर खबर भी ली गई।बाएं हाथ के तेज जुनैद खान ने साल 2011 में पाकिस्तान के लिए डेब्यू किया था। जुनैद खान का करियर करीब आठ साल तक चला। इस दौरान उन्होंने 107 अंतरराष्ट्रीय मैच खेले। वन डे क्रिकेट में जुनैद खान का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन भारत के ही खिलाफ था, जब उन्होंने साल 2012 में चेन्नई में खेले गए वन डे मैच में केवल 12 रन देक चार विकेट हासिल किए थे। जुनैद खा ने सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग, विराट कोहली, युवराज सिंह और रोहित शर्मा को आउट कर सनसनी मचा दी थी। भारत के दिग्गज बल्लेबाजों को एक ही मैच में आउट करने के बाद जुनैद खान अचानक से सुर्खियों में आ गए थे। उनके इसी प्रदर्शन का एक वीडियो एक ट्विटर यूजर ने शेयर किया। ये वीडियो जुनैद ने भी देखा और इसे रिट्वीट कर दिया। जुनैद ने इसे अपने करियर का बेहद खास मोड़ करार दिया। उन्होंने लिखा कि मुझे लगता है कि यह मेरे करियर का टर्निंग पॉइंट था। आप क्या सोचते हैं? जुनैद खान के इस ​ट्विट पर खूब कमेंट आ रहे हैं।हालांकि मजे की बात ये भी है कि कुछ ​समय बाद जिस यूजर ने इस वीडियो को शेयर किया था, वो डिलीट भी कर दिया, लेकिन इसके बाद भी खूब कमेंट आते रहे। एक यूजर ने कमेंट किया है कि यह एक शानदार स्पेल था, लेकिन सम्मान के साथ कहना चाहता हूं कि आपने फिर कभी इतनी तेज और इतनी भूख से गेंदबाजी नहीं की। शायद यह आपकी फिटनेस थी, या फिर शायद चेन्नई की परिस्थितियां अधिक मददगार थीं, लेकिन हमने आपकी गेंदबाजी में फिर से वही गति नहीं देखी।राहुलवैदनेक्योंलियाशोमेंहिस्सासिंगरनेखुदकियाखुलासाTokyo Olympics 2020: कुश्ती के फाइनल में पहुंचे रवि दहिया, रणदीप हुड्डा सहित कई सितारों ने सोशल मीडिया पर दी बधाई******भारतीय पहलवान रवि कुमार दहिया ने टोक्यो ओलंपिक में भारत का चौथा मेडल पक्का कर दिया है। उन्होंने कुश्ती स्पर्धा के पुरूषों की फ्रीस्टाइल 57 किग्रा वर्ग के सेमीफाइनल में कजाखस्तान के सानायेव नूरीस्लाम को हराकर टोक्यो ओलंपिक के फाइनल में अपनी जगह बनाई है। रवि की इस शानदार सफलता पर बॉलीवुड सितारों ने सोशल मीडिया पर अपनी खुशी जाहिर की है।रणदीप हुड्डा ने रवि कुमार दहिया की फोटो को शेयर कर लिखा-"अररर्र यो गाड़या लठ !!! रवि दहिया मेडल पक्का।" रणदीप हुड्डा ने इस ट्वीट के साथ ही #RaviDahiya #Wrestling #Olympics #GoForGold जैसे हैशटैग का भी उपयोग किया। रणदीप हुड्डा के इस ट्वीट पर जमकर रिएक्शन आ रहे हैं।रणदीप हुड्डा ने इससे पहले एक ट्वीट में लिखा-"लठ बजने शुरू हो गए हैं। नीरज चोपड़ा, रवि दहिया, दीपक पुनिया, बजरंग पुनिया एंड कम्पनी।" बता दें कि रवि कुमार दहिया के फाइनल में पहुंचने के साथ ही अब उनकी नजरें गोल्ड पर हैं।बता दें कि रवि दहिया ने 2019 में कजाखिस्तान के नूर सुल्तान में हुई वर्ल्ड रेसलिंग चैम्पियनशिप में ब्रॉन्ज मेडल जीतकर ओलंपिक के लिए क्वालिफाई किया था। 5 फीट 7 इंच की लंबाई वाले दहिया अपनी कैटेगरी में सबसे लंबे पहलवानों में से एक हैं। 1997 में रवि दहिया का जन्म हरियाणा के सोनीपत जिले के नहरी गांव में हुआ था। उनके पिता एक किसान थे, लेकिन उसके पास अपनी जमीन तक नहीं थी।रवि दहिया को पहलवान बनाने में उनके पिता का बहुत बड़ा हाथ है। आर्थिक तंगी होने के बावजूद उन्होंने अपने बेटे की ट्रेनिंग में कोई कसरनहीं छोड़ी। उनके पिता राकेश हर रोज अपने गांव से छत्रसाल स्टेडियम तक की 40 किलोमीटर की दूरी तय कर रवि तक दूध और फलपहुंचाते थे। हालांकि, जब रवि ने 2019 में वर्ल्ड चैम्पियनशिप में ब्रॉन्ज जीता था, तब भी उनके पिता उनके इस मैच को नहीं देख सके थे। क्योंकि वह उस वक्त भी अपना काम कर रहे थे, ताकि रवि को अपने सपने पूरे करने में कोई दिक्कत न हो।

हाल का ध्यान

लिंक