Ashes 2020-21: पहले दिन के आखिरी सत्र ने मेरे धैर्य की परीक्षा ली- लाबुशेन

2022-09-30 16:27:11 भीतरी मंगोलिया स्वायत्त क्षेत्र

पहलेदिनकेआखिरीसत्रनेमेरेधैर्यकीपरीक्षालीलाबुशेनराजस्थान में एक बार फिर सड़कों पर उतरेंगे गुर्जर, आरक्षण की मांग को लेकर 23 मई से बड़ा आंदोलन****** पांच प्रतिशत आरक्षण की मांग कर रहे समुदाय के लोगों ने आगामी 23 मई से के पीलूकापुरा में आंदोलन करने की घोषणा की है। भरतपुर के अड्डा गांव में आयोजित गुर्जर महापंचायत में गुर्जर नेता किरोड़ी सिंह बैंसला की समाज के लोगों साथ चर्चा के बाद यह निर्णय लिया गया। महापड़ाव में गुर्जर प्रतिनिधिमंडल और सरकार के मंत्रिमंडलीय समूह के साथ कल रात हुई बैठक के निर्णय पर चर्चा की गई।गुर्जर आरक्षण संघर्ष समिति के प्रवक्ता हिम्मत सिंह ने कहा कि हमारे समाज के लोग सरकार से संतुष्ट नहीं है। बैंसला ने सरकार के साथ हुई बैठक के निर्णय पर समाज के लोगों के साथ उनकी प्रतिक्रिया जानने के लिए चर्चा की और जब समाज के लोग असंतुष्ट दिखाई दिए तो बैंसला ने 23 मई से आंदोलन शुरू करने की घोषणा की। इधर भरतपुर में बैंसला ने संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि अगर समाज को हक नहीं मिला तो मैं पीछे नहीं हटूंगा और आंदोलन होगा। सरकार ने हमारी बात नहीं सुनी तो गुर्जर समाज आंदोलन करेगा।अड्डा में महापंचायत के दौरान उन्होंने कहा कि मैं तो गुर्जर समाज के लिये अन्य पिछडा वर्ग में से पांच प्रतिशत आरक्षण का हक मांग रहा हूं। उन्होंने कहा कि मैं सरकार और गुर्जर आरक्षण प्रतिनिधि मंडल के बीच हुई बैठक के निर्णय से संतुष्ट नहीं हूं और मैंने इस पर समाज के लोगों की राय जानी है।उधर अखिल भारतीय गुर्जर आरक्षण संघर्ष समिति के अध्यक्ष रामवीर सिंह बिधूड़ी ने कहा कि बैंसला इस मुद्दे पर समाज के लोगों को गुमराह कर रहे हैं। हम 51 सदस्यीय कमेटी का गठन कर सरकार पर गुर्जर और अन्य जातियों के लिये पांच प्रतिशत आरक्षण के वादे को पूरा करने के लिये दबाव बनाने के साथ साथ इसे संविधान की नौंवी अनुसूची में शामिल करने के लिये दबाव बनाएंगे।गुर्जर आंदोलन के फिर से शुरू होने की चेतावनी को देखते हुए भरतपुर में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किये गये हैं। पुलिस कंट्रोल रूम के अनुसार सार्वजनिक सम्पत्ति और रेलवे ट्रैक की सुरक्षा के लिये पुख्ता इंतजाम किये गये हैं। गुर्जर अन्य पिछडा वर्ग में से पांच प्रति​शत की आरक्षण की मांग कर रहे हैं। वर्तमान में गुर्जरों को आरक्षरण की निर्धारित 50 प्रतिशत की सीमा के तहत अत्यधिक पिछडा वर्ग में से एक प्रतिशत आरक्षण मिल रहा है।पिछले वर्ष गुर्जर और अन्य जातियों को पांच प्रतिशत आरक्षण देने के लिए अक्टूबर में राजस्थान विधानसभा में अन्य पिछडा वर्ग आरक्षण को 21 प्रतिशत से बढ़ाकर 26 प्रतिशत करने संबंधी एक विधेयक पास किया गया था। हालांकि उच्च न्यायालय ने बिल पर यह कहते हुए रोक लगा दी थी कि इससे आरक्षण सीमा बढकर 54 प्रतिशत हो जाएगी। उसके बाद उच्चतम न्यायालय ने भी राज्य सरकार को आरक्षण सीमा 50 प्रतिशत को पार नहीं करने के निर्देश दिए थे।

पहलेदिनकेआखिरीसत्रनेमेरेधैर्यकीपरीक्षालीलाबुशेन26/11 मुम्बई हमले के 10 वर्षों के बाद भारत बेहतर तरीके से तैयार: नौसेना प्रमुख एडमिरल सुनील लांबा******नौसेना प्रमुख एडमिरल सुनील लांबा ने कहा है कि 10 वर्ष पहले आतंकवादियों के एक समूह द्वारा समुद्र के रास्ते आकर मुम्बई में हमला करने के बाद अब भारत बेहतर तरीके से तैयार और बेहतर रूपसे समन्वित है। इसके लिए बहुस्तरीय समुद्री निगरानी सहित विभिन्न सुरक्षा उपाय किये गए हैं। एडमिरल लांबा ने हमले की 10वीं बरसी की पूर्वसंध्या पर साउथ ब्लाक स्थित अपनेकार्यालय में पीटीआई से एक साक्षात्कार में कहा, ‘‘हम उसके बाद काफी आगे आ गए हैं।’’ नौसेना प्रमुख ने कहा कि तटीय सुरक्षा के मामले में प्रतिमान बदलाव हुए हैं क्योंकि जोखिम वाले स्थलों पर सुरक्षाबढ़ाई गयी है और बहुस्तरीय समुद्री निगरानी और सुरक्षा ढांचा लागू किया गया है जिससे समुद्री तट लगभग अभेद्य बन गया है।भारत पर उसी तरह के हमले के लिए आतंकवादियों द्वारा समुद्री रास्ते का इस्तेमाल करने की आशंका के बारे में पूछे जाने पर एडमिरल लांबा ने कहा, ‘‘देश अब बेहतर तरह से तैयार और बेहतर तरह सेसमन्वित है।’’ उन्होंने कहा कि भारतीय नौसेना अब शक्तिशाली बहु-आयामी बल है जो समुद्र में भारत के हितों की रक्षा कर रही है और वह समुद्री क्षेत्र में देश के सामने उत्पन्न होने वाले किसी भी सुरक्षा चुनौतीसे निपटने के लिए पूर्ण रूप से तैयार है।उल्लेखनीय है कि 26 नवम्बर 2008 को 10 पाकिस्तानी आतंकवादी कराची से समुद्र के रास्ते नाव से मुम्बई में प्रवेश किया था। इन आतंकवादियों ने छत्रपति शिवाजी रेलवे टर्मिनस, ताजमहल होटल, ट्राइडेंट होटलऔर एक यहूदी केंद्र पर हमला किया। ये सभी देश की वित्तीय राजधानी मुम्बई के प्रमुख स्थल हैं।करीब 60 घंटे चले इस हमले में 166 से अधिक लोग मारे गए थे जिनमें 28 विदेशी नागरिक शामिल थे। इस हमलेसे पूरे देश को झकझोर दिया था और भारत और पाकिस्तान युद्ध की कगार पर आ गए थे।यह भारत के इतिहास का सर्वाधिक भीषण आतंकवादी हमला था। इसे देश की संप्रभुता पर एक हमले के तौर पर देखा गया और इससे समुद्री सुरक्षा तंत्र, गुप्तचर सूचनाएं इकट्ठा करने के तरीके में खामियां उजागरहुईं। इसके अलावा हमले से विभिन्न एजेंसियों के बीच समन्वय की कमी भी सामने आयी। चीफ्स आफ स्टाफ कमेटी के चेयरमैन एडमिरल लांबा ने कहा कि देश के तटीय आधाभूत ढांचे में कमियों और जोखिमों कोदूर कर लिया गया है। उन्होंने कहा कि एक मजबूत निगरानी तंत्र लागू किया गया है जिसमें 42 राडार स्टेशन हैं, जिन्हें गुरूग्राम मुख्यालय वाले एक नियंत्रण केंद्र से जोड़ा गया है।पहलेदिनकेआखिरीसत्रनेमेरेधैर्यकीपरीक्षालीलाबुशेनचौबीसों घंटे बाजार खुला रखने के अनुकूल नहीं हैं शहरों के कानून-व्यवस्था के हालात: सर्वे****** भारतीय शहरों की कानून-व्यवस्था की स्थिति ऐसी नहीं है कि वहां चौबीसोंं घंटे खुदरा बाजार चलाए जा सकें। यह बात एक सर्वेक्षण रिपोर्ट में सामने आई है। सरकार द्वारा तैयार किए गए एक आदर्श विधेयक में शहरों में सातो दिन चौबीसों घटे दुकानों, मॉल और अन्य प्रतिष्ठानों को खोलने की अनुमति देने का प्रस्ताव है।नागरिकों के साथ ऑनलाइन संवाद करने वाले एक मंच लोकलसर्कल्स की एक सर्वे रिपोर्ट मुताबिक दुकान एवं प्रतिष्ठान (रोजगार एवं सेवा की दशाएं नियमन) आदर्श विधेयक, 2016 का देश के कारोबारी माहौल, बाजार गतिशीलता और रोजगार की दर पर उल्लेखनीय असर होगा। विधेयक को हाल ही में मंत्रिमंडल ने मंजूरी दी है और राज्यों तथा संघशासित प्रदेशों के अनुमोदन की जरूरत है।लोकलसर्कल्स ने 12,788 नागरिकों के सर्वेक्षण के आधार पर निष्कर्ष निकाला है कि कि भारतीय शहरों की कानून व्यवस्था की स्थिति मॉल, सिनेमा, रेस्तरां आदि के चौबीसोंं घंटे परिचालन के अनुकूल नहीं हैं। क्या आप माल और खुदरा प्रतिष्ठानों के चौबीसों घंटे खुला रखने के पक्ष में हैं, इस सवाल पर 10,487 में से 50 फीसदी ने इसके पक्ष में और 49 फीसदी ने इसके विरोध में राय प्रकट की। एक प्रतिशत ने कहा कि वे कुछ नहीं कर सकते।

Ashes 2020-21: पहले दिन के आखिरी सत्र ने मेरे धैर्य की परीक्षा ली- लाबुशेन

पहलेदिनकेआखिरीसत्रनेमेरेधैर्यकीपरीक्षालीलाबुशेनWatch: निक जोनस ने प्रियंका चोपड़ा को ड्रेस को बना डाला 'तौलिया', खूब वायरल हो रहा है ये वीडियो******अमेरिकी गायक ने अपनी पत्नीऔर उनके लोकप्रिय दोस्तों के साथ भारत में पहली बार होली खेली। निक ने इंस्टाग्राम पर होली समारोह के जश्न की कुछ तस्वीरें साझा की हैं। उन्होंने कुछ तस्वीरें और वीडियो साझा किए हैं, जिससे साफ पता चल रहा है कि उन्होंने जम कर होली खेली। इसके अलावा सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें वो प्रियंका के कपड़ों से अपने हाथ साफ करते दिखाई दे रहे हैं।प्रियंका चोपड़ा ने इंस्टाग्राम स्टेटस पर वीडियो शेयर करते हुए कैप्शन में लिखा था, 'किसको तौलिए की जरूरत है..'। इसमें निक अपने रंगों से भरे हुए हाथ को निक के सूट में पोंछते नज़र आ रहे हैं।बता दें कि मुकेश अंबानी और नीता अंबानी की बेटी ईशा अंबानी और उनके बिजनेसमैन पति आनंद पीरामल ने बीते शुक्रवार को मुंबई स्थित अपने घर में होली की एक शानदार पार्टी रखी थी, जिसमें बॉलीवुड के तमात बड़े सितारों ने शिरकत कीं।पार्टी में पहले शामिल होने वाले सितारों में से एक प्रियंका चोपड़ा और निक जोनस थे। ये दोनों ही सफेद रंग के पारंपरिक परिधान में नजर आए, जिसमें रंग-बिरंगे धागों से डिजाइन बने हुए थे। प्रियंका और निक इसी हफ्ते अमेरिका से भारत आए हैं।निक ने सोशल मीडिया पर फोटोज शेयर करते हुए कैप्शन में लिखा, "मेरी पहली होली! (पांच दिन पहले ही) मेरे दूसरे घर भारत में यहां प्यारे लोगों के साथ समारोह का जश्न मनाना काफी शानदार रहा।"वहीं बॉलीवुड अभिनेत्री कटरीना कैफ ने भी प्रियंका और निक के साथ की तस्वीर वाली इस पोस्ट को रीपोस्ट किया है।निक ने अपनी पत्नी के साथ पारंपरिक परिधान वाली एक अलग तस्वीर भी साझा की है। इसके कैप्शन में उन्होंने लिखा, "यह मुझे बहुत हंसाती है।"होली के त्यौहार के मौके पर रखी इस पार्टी में जैकलीन फर्नांडीस, राजकुमार राव और उनकी गर्लफ्रेंड पत्रलेखा, हुमा कुरैशी, सोनाली बेंद्रे, डायना पेंटी, कैटरीना कैफ, विक्की कौशल सहित और भी कई सितारे शामिल हुए।पहलेदिनकेआखिरीसत्रनेमेरेधैर्यकीपरीक्षालीलाबुशेनPunjab Budget 2020 LIVE: रिटायरमेंट उम्र घटकर हुई 58 वर्ष, महंगाई भत्‍ते के 6 प्रतिशत बकाये का भुगतान एक हफ्ते के भीतर******Punjab Budget 2020 LIVE Updates, , पंजाब के वित्‍त मंत्री मनप्रीत सिंह बादल ने मुख्‍यमंत्री कैप्‍टन अमरेंद्र सिंह की उपस्थिति में वित्‍त वर्ष 2020-21 के लिए राज्‍य का आम बजट शुक्रवार को विधान सभा में पेश किया। उन्‍होंने वित्‍त वर्ष 2020-21 के लिए कुल 1.54 लाख करोड़ रुपए का बजट पेश किया। वित्‍त मंत्री मनप्रीत बादल ने सबसे बड़ी घोषणा अपने बजट भाषण में की है, वह है सेवानिवृत्ति आयु में कटौती। पंजाब सरकार ने राज्‍य कर्मचारियों की सेवानिवृत्ति आयु घटाकर 58 वर्ष करने की घोषणा की है। वहीं वित्त मंत्री ने कहा कि कर्मचारियों को छह फीसदी डीए इसी मार्च से दिया जाएगा। पे कमीशन भी इस साल लागू होगा। क्योंकि पंजाब की वित्तीय हालत सुधरी है। पंजाब प्राइमरी सरप्लस स्टेट बन गया है। 2006 के बाद खर्च और आमदनी एक समान हो गई हैं। वित्त मंत्री ने कहा कि किसानों को 8275 करोड़ रुपये की फ्री बिजली दी जाएगी। इसके साथभूमिहीन किसानों के कर्जमाफी के लिए 520 करोड़ का प्रावधान किया गया है।बजट में 12वीं कक्षा तक सभी बच्चों को मुफ्त शिक्षा का ऐलान किया गया है। प्राथमिक स्कूलों में पंजाब सरकार मुफ्त परिवहन की सुविधा देगी। पटियाला में जगत गुरु नानक देव पंजाब स्टेट ओपन विश्विद्यालय और तरनतारन में श्री गुरु तेग बहादुर स्टेट लॉ विश्विद्यालय स्थापित किया जाएगा। यूनिवर्सिटी ग्रांट इन एड छह फीसदी से बढ़ाकर 596.53 करोड़ किया गया है।वहीं मेक इन पंजाब के कानून बनाने की घोषणा की गई है। तीन मेगा औद्योगिक पार्क बनाने का प्रस्ताव रखा गया है। लुधियाना, बठिंडा और फतेहगढ़ साहिब में यह पार्क बनेंगे। हर जिले में वृद्धा आश्रम बनाने के लिए पांच करोड़ रखा गया है। होशियारपुर जेल में अस्पताल बनाया जाएगा। पांच जेलों में नशा मुक्ति केंद्र खोले जाने का भी प्रस्ताव है।बजट में कृषि क्षेत्र के लिये 12526 करोड़, शिक्षा के लिए 13092 करोड़, सेहत के लिए 4675 करोड़, पिछड़ा वर्ग व सामाजिक सुरक्षा के लिए 901 करोड़, महिला बाल विकास के लिए 3498 करोड़, खेलों के लिए 270 करोड़, फरीदकोट में अंडर ग्राउंड पाइप के लिए 100 करोड़, औद्योगिक बिजली सब्सिडी के लिए 2267 करोड़ का प्रावधान, गुरु तेग बहादुर जी के 400वें प्रकाश पर्व के लिए 25 करोड़ की टोकन मनी का ऐलान किया गया है।पहलेदिनकेआखिरीसत्रनेमेरेधैर्यकीपरीक्षालीलाबुशेनBegusarai News: बेगूसराय में सड़कों पर गोलियां बरसाने वाले संदिग्धों की तस्वीरें जारी, जानकारी देने वालों को मिलेगा इनाम****** बिहार के बेगूसराय जिले में मंगलवार को 2 मोटरसाइकिलों पर सवार 4 लोगों की ओर से अलग-अलग स्थानों पर की गई गोलीबारी के बाद से दहशत का माहौल है। इस घटना के सिलसिले में गश्त में चूक के आरोप में 7 पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया गया है। पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि मंगलार की शाम को हुयी इस गोलीबारी में एक व्यक्ति की मौत हो गयी थी जबकि 10 अन्य घायल हो गये थे। काफी देर तक हमलावरों की पहचान में जुटी पुलिस के आखिरकार संदिग्ध हमलावरों की तस्वीरें CCTV से निकालने में कामयाबी मिल गई है।बेगूसराय क्षेत्र के डीआईजी द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक, 'तस्वीरों में बेगुसराय में सीरीयल फायरिंग एवं हत्या की घटना में शामिल संदिग्ध हैं। नारंगी शर्ट पहने हुए एवं उसके पीछे बैठे संदिग्ध के बारे में जो भी पुलिस को सही सूचना देगा उसे 50,000 रुपये का इनाम दिया जाएगा और उसकी पहचान गुप्त रखी जाएगी। सूचना 9431822953 या 9431800011 पर कॉल/SMS/WhtasApp के माध्यम से दी जा सकती है।' पुलिस ने जो तस्वीरें जारी की हैं उनमें 2 मोटरसाइकिलों पर 4 लोग सवार नजर आ रहे हैं, हालांकि उनका चेहरा बहुत साफ नहीं है।इस बीच अपर पुलिस महानिदेशक (हेडक्वॉर्टर) जितेंद्र सिंह गंगवार ने बताया, ‘गश्त में लगे 7 पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया है, क्योंकि वे बदमाशों को नहीं रोक सके।’ उन्होंने बताया कि पुलिस हमलावरों को पकड़ने के लिए छापेमारी कर रही है। जिलान्तर्गत राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 28 पर फुलवरिया, बछवाड़ा, तेघड़ा एवं चकिया थाना क्षेत्रों में मोटरसाइकिल सवार 2 अज्ञात बदमाशों ने विभिन्‍न स्थानों पर गोलीबारी की, जिसमें बरौनी थाने के हाजीपुर के रहने वाले 31 साल के चंदन कुमार की मृत्यु हो गई थी जबकि 10 अन्य लोग घायल हो गये थे।रिपोर्ट्स के मुताबिक, बछवाड़ा, तेघड़ा, फुलवड़िया और बरौनी थानों के अलावा जीरोमाईल पुलिस चौकी, एफसीआई पुलिस चौकी, एवं चकिया पुलिस चौकी के कर्मियों ने सही ढंग से काम नहीं किया, जिससे आरोपी पकड़े नहीं गये। सस्पेंड हुए पुलिसकर्मियों में फुलवड़िया थाने के आरक्षी निरीक्षक शशि भूषण सिंह, जीरोमाईल पुलिस चौकी के आरक्षी निरीक्षक मुकरू हेम्ब्रम, चकिया पुलिस चौकी के सहायक आरक्षी निरीक्षक विनोद प्रसाद, तेघड़ा थाना के सहायक आरक्षी निरीक्षक कृष्ण कूमार, एफसीआई पुलिस चौकी के रमेन्द्र कुमार यादव, बरौनी थाने के संजय कुमार एवं बछवाड़ा थाने के रामकिशोर सिंह शामिल हैं।

Ashes 2020-21: पहले दिन के आखिरी सत्र ने मेरे धैर्य की परीक्षा ली- लाबुशेन

पहलेदिनकेआखिरीसत्रनेमेरेधैर्यकीपरीक्षालीलाबुशेनरेलवे में 13,000 कर्मचारी गैर हाजिर, सेवाएं समाप्त होंगी******ने ऐसे 13,000 कर्मचारियों की पहचान की है जो कि लंबे समय से ‘अनाधिकृत’ रूप से अनुपस्थित चल रहे हैं। इन कर्मचारियों की सेवाएं समाप्त करने की अनुशासनात्मक कार्रवाई शुरू की गई है। रेलवे के बयान में कहा गया है कि मंत्रालय ने संगठन का प्रदर्शन बेहतर करनेऔर निष्ठावान व मेहनती कर्मचारियों का मनोबल बढ़ाने के लिए एक अभियान शुरू किया था। यह कार्रवाई इसी अभियान का हिस्सा है।इसके अनुसार, ‘रेलवे के विभिन्न प्रतिष्ठानों में लंबे समय से अनुपस्थित कर्मचारियों की पहचान करने के लिए एक व्यापक अभियान शुरू किया गया। इस अभियान के परिणाम में रेलवे ने अपने लगभग 13 लाख कर्मचारियों में से 13 हजार से भी अधिक ऐसे कर्मचारियों की पहचान की है जो लंबे समय से अनाधिकृत तौर पर अनुपस्थित हैं।’इसके अनुसार रेलवे ने इन अनुपस्थित कर्मचारियों की सेवाएं समाप्त करने के लिए नियमों के तहत अनुशासनात्मक कार्रवाई शुरू की है। रेलवे ने सभी अधिकारियों और पर्यवेक्षकों को उचित प्रक्रिया पर अमल के बाद कर्मचारियों की सूची से इनका नाम हटाने का निर्देश दिया है।पहलेदिनकेआखिरीसत्रनेमेरेधैर्यकीपरीक्षालीलाबुशेनजयपुर बम ब्लास्ट में कोर्ट ने सैफुर रहमान को फांसी, अन्य तीन को उम्र कैद की सजा सुनाई******जयपुर की एक विशेष अदालत 2008 के जयपुर सिलसिलेवार बम विस्फोट मामले में शुक्रवार को फैसला सजा सुना दी है। कोर्ट ने सैफुर रहमान को फांसी और मोहम्मद सरवर आजमी, मोहम्मद सैफ,मोहम्मद सलमान को उम्र कैद की सजा सुनाई है। इससे पहले विशेष लोक अभियोजक श्रीचंद ने बताया कि अदालत ने गुरुवार को चार दोषियों के लिए सजा के अनुपात पर बहस सुनी और शुक्रवार शाम चार बजे फैसला सुनाना तय किया था। श्रीचंद ने कहा था, ‘‘मैंने उनके लिए मृत्युदंड की मांग की है। यह मुंबई में हुए विस्फोटों के बाद दूसरा सबसे घातक विस्फोट था जिसमें 71 लोग मारे गए थे और 185 अन्य घायल हुए।’’राजस्थान की एक विशेष अदालत ने जयपुर बम विस्फोट मामले में बुधवार को चार आरोपियों को दोषी ठहराया जबकि एक आरोपी को दोषमुक्त करार दिया था। अदालत ने इस मामले में आरोपी मोहम्मद सरवर आजमी, मोहम्मद सैफ, मोहम्मद सलमान और सैफुर रहमान को दोषी माना था जबकि शाहबाज हुसैन को संदेह का लाभ देते हुए दोषमुक्त करार दिया। इन चार आरोपियों को भारतीय दंड संहिता की धारा 302, 307,324, 326, 120 बी, 121ए और 124 ए, 153 ए के तहत दोषी माना गया है। इसके अलावा विस्फोटक पदार्थ अधिनियम की धारा तीन के तहत तथा विधि विरूद्ध क्रियाकलाप अधिनियम की धारा 13, 16, 1 ए और 18 के तहत भी उन्हें दोषी ठहराया गया है।

Ashes 2020-21: पहले दिन के आखिरी सत्र ने मेरे धैर्य की परीक्षा ली- लाबुशेन

पहलेदिनकेआखिरीसत्रनेमेरेधैर्यकीपरीक्षालीलाबुशेनSimmba Box Office Collection Day 16: रणवीर सिंह की फिल्म ने वर्ल्डवाइड कमाए 350 करोड़ रूपये****** की एक्शन फिल्म ' बॉक्स-ऑफिस पर जमकर कमाई कर रही है। फिल्म ने रिलीज के 16वें दिन वर्ल्डवाइड 350 करोड़ रूपये का कलेक्शन कर लिया है। फिल्म में रणवीर सिंह, सारा अली खान मेन लीड में हैं और अजय देवगन, अक्षय कुमार गेस्ट अपीयरेंस में हैं।फिल्म को रिलायंस एंटरटेनमेंट, रोहित शेट्टी पिक्चर्स और धर्मा प्रोडक्शंस ने साथ मिलकर प्रोड्यूस किया है। 350 करोड़ रुपये की कमाई कर यह फिल्म तीनों प्रोडक्शन हाउस के लिए बॉक्स-ऑफिस पर सबसे अधिक कमाई करने वाली फिल्म बन गई है।रिलायंस एंटरटेंमेट से जारी बयान के मुताबिक, 'सिम्बा' घरेलू बॉक्स-ऑफिस में अब तक की टॉप 10 बॉलीवुड फिल्मों की फेहरिस्त में शामिल हो गई है। यह फिल्म 28 दिसंबर, 2018 को रिलीज हुई थी। इसमें रणवीर एक पुलिसकर्मी की भूमिका में हैं।'सिम्बा' के साथ, रोहित शेट्टी की लगातार आठवीं फिल्म 100 करोड़ रुपये के घरेलू बॉक्स ऑफिस क्लब में शामिल हो गई है।दुनियाभर में फिल्म की सफलता से उत्साहित शेट्टी का मानना है कि सफलता केवल उनकी नहीं बल्कि सभी प्रशंसकों और पूरी टीम की है। उन्होंने कहा, "हर जगह के सिनेमा हॉल में 'सिम्बा' के लिए दर्शकों की उत्तेजना और शानदार प्रतिक्रिया देखना अविश्वसनीय है। फिल्म की सराहना से मैं बहुत खुश हूं।"करण जौहर ने कहा कि धर्मा प्रोडक्शंस को 'सिम्बा' पर गर्व है और वह इसके लिए बहुत खुश हैं।(IANS इनपुट के साथ)

पहलेदिनकेआखिरीसत्रनेमेरेधैर्यकीपरीक्षालीलाबुशेनSaaho Box Office Collection Day 2: दो दिन में ही 50 करोड़ के करीब पहुंची प्रभास और श्रद्धा कपूर की 'साहो'!******'बाहुबली' जैसी ब्लॉकबस्टर फिल्म देने वाले साउथ के स्टार और बॉलीवुड एक्ट्रेस की एक्शन-थ्रिलर फिल्म 30 अगस्त को रिलीज हो चुकी है। इस फिल्म को दर्शकों का जबरदस्त रिस्पॉन्स मिल रहा है। 'साहो' ने पहले ही दिन 24.40 करोड़ का कलेक्शन किया। मूवी ने दो दिन में ही शानदार कमाई की है।फिल्म क्रिटिक तरण आदर्श ने ट्विटर पर जानकारी दी है कि प्रभास और श्रद्धा की फिल्म 'साहो' ने शनिवार कोकरोड़ का बॉक्स ऑफिस कलेक्शन किया है। ऐसे में फिल्म ने महज दो दिन में ही करोड़ का आंकड़ा छू लिया है।यह भी माना जा रहा है कि रविवार को छुट्टी का दिन होने की वजह से फिल्म की कमाई में जबरदस्त इजाफा होगा। फिल्म को हैदराबाद और बेंगलुरू में सबसे शानदार रिस्पॉन्स मिल रहा है।बता दें कि 'साहो' हिंदी के अलावा तीन अलग भाषाओं में भी रिलीज हुई है। ये फिल्म 350 करोड़ की लागत से बनी है और दावा किया जा रहा है कि ये भारत की सबसे महंगी एक्शन फिल्म है।इस फिल्म में प्रभास और श्रद्धा के अलावा जैकी श्रॉफ, चंकी पांडे, नील नितिन मुकेश, मंदिरा बेदी और महेश मांजरेकर समेत कई उम्दा स्टार्स ने अहम भूमिका निभाई है।पहलेदिनकेआखिरीसत्रनेमेरेधैर्यकीपरीक्षालीलाबुशेनAsaduddin Owaisi News: 'हिंदुत्व और भारतीयता एक बात नहीं', जानिए मोहन भागवत के बयान पर और क्या बोले ओवैसी?******Highlightsएआईएमआईएम के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने हाल ही में मोहन भागवत के दिए बयानों पर अपनी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा कि आरएसएस चाहता है कि देश में एक संस्कृति हो। ओवैसी ने कहा कि हिंदुत्व और भारतीयता एक नहीं है। भारत कई धर्मो से मिलकर बना है। यदि कोई धर्म परिवर्तन करना चाहता है तो करे, धर्म परिवर्तन से भागवत डरते क्यों हैं। भागवत को संविधान पढ़ना चाहिए। ओवैसी ने कहा कि एक समुदाय के खिलाफ नफरत क्यों फैलाई जा रही है।जनसंख्या पर भागवत फैलाते हैं नफरत: ओवैसीमोहन भागवत के उद्बोधन के जवाब में ओवैसी ने कहा कि देश में 8 फीसदी बेरोजगारी हो चुकी है। बेरोजगार लोगों को रोजगार नहीं मिला है, इस मुद्दे पर मोहन भागवत को बात करना चाहिए। जनसंख्या पर मोहन भागवत बात करके एक समुदाय पर नफरत फैलाने की बात करते हैं। वे रोजगार पर बात क्यों नहीं करते हैं।ओवैसी बोले-जनसंख्या पर चीन वाली गलती न करे भारतओवैसी ने कहा कि जनसंख्या पर भारत चीन वाली गलती न करें। उन्होंने कहा कि 2030 तक भारत की जनसंख्या स्टेबल हो जाएगी, लेकिन डेमोग्रेफिक डिविडेंट है, उस पर बात हो। ओवैसी ने कहा कि देश युवाओं का है। सरकार को युवाओं के रोजगार के लिए काम करना चाहिए। ओवैसी ने कहा कि मोहन भागवत ने कन्वर्जन के बारे में कहा था। दरअसल, आरएसएस चाहती है कि भारत में एक महजब और एक जुबान हो, लेकिन ऐसा नहीं हो सकता। क्या दक्षिण भारत के कल्चर को उत्तर भारत में थोपा जा सकता है? चॉइस तो भारत के संविधान में हैं। उन्होंने मोहन भागवत पर निशाना साधते हुए कहा कि आप हिंदुत्व क्यों थोपते हैं। कोई मजहब चेंज करना चा​हता है, उसे पर परेशानी क्यों हैं।मोहन भागवत को संविधान पढ़ना चाहिए: ओवैसीओवैसी ने मोहन भागवत को नसीहत देते हुए कहा कि तिरंगे और जन गण मन के बारे में उस समय के सरसंघचालक ने क्या कहा था, उसे मोहन भागवत को पढ़ना चाहिए।ओवैसी ने कहा कि संविधान में लिखा है कि जो सोशली, पोलिटिकली, इकोनॉमिकली कमजोर होगा, उसे ताकतवर बनाया जाए। ये बात आरएसएस नहीं समझना चाहता है। संविधान सच्चाई है, उसे मानना पड़ेगा।मोहन भागवत ने कही थी यह बातगौरतलब है कि संघ प्रमुख मोहन भागवत ने एक दीक्षांत समारोह में कहा था कि 'सिर्फ जिंदा रहना किसी ​मनुष्य के जीवन का उद्देश्य नहीं होना चाहिए। सिर्फ खाना और आबादी बढ़ाना, ये काम तो जानवर भी कर लेते हैं। शक्तिशाली ही जीवित रहेगा, ये जंगल का नियम है। वहीं शक्तिशाली जब दूसरों की रक्षा करने लगे, ये मनुष्य होने की निशानी है।' मोहन भागवत ने सीधे तौर पर तो जनसंख्या पर कुछ नहीं बोला, लेकिन जनसंख्या बढ़ाने और कुछ किएटिव काम करने का इंसान और जानवर में जो फर्क होता है, उसे बताते हुए उन्होंने बड़ा संदेश दिया।

पहलेदिनकेआखिरीसत्रनेमेरेधैर्यकीपरीक्षालीलाबुशेन200 रुपए का कर्ज लौटाने 30 साल बाद भारत आए केन्या के सांसद, जानें पूरा मामला****** के रहने वाले 70 वर्षीय काशीनाथ गवली ने जब दस्तक की आवाज सुनकर घर का दरवाजा खोला तो वहां एक अनजान विदेशी शख्स को खड़ा पाया। गवली कुछसमझ पाते इससे पहले शख्स ने अपना परिचय देते हुए कहा कि वह केन्या के सांसद रिचर्ड टोंगी हैं और 30 साल पहले उनसे लिया 200 रुपये का कर्ज लौटाने आये हैं। पूरा माजराजानकर गवली भाव-विभोर हो उठे। रिचर्ड केन्या के न्यारीबरी चाचे निर्वाचन क्षेत्र से सांसद हैं और वह यहां मुंबई अपने पुराने ऋणदाता को कर्ज लौटाने के लिये आये थे।1985-89 के दौरान रिचर्ड औरंगाबाद में एक स्थानीय कॉलेज में प्रबंधन की पढ़ाई कर रहे थे। स्वदेश लौटने से पहले उन्होंने गवली से 200 रुपये का कर्ज लिया था। गवली उस वक्तवानखेड़ेनगर में राशन की दुकान चलाते थे, उसी इलाके में रिचर्ड रहा करते थे। इसलिए केन्या के सांसद सोमवार को जब उनसे मिलने पहुंचे तो गवली की खुशी का ठिकाना नहीं रहा।उन्होंने कहा, ‘‘मुझे अपनी आंखों पर यकीन नहीं हो सका।’’रिचर्ड अपनी पत्नी के साथ औरंगाबाद आये थे। उन्होंने कहा मेरे लिये यह एक भावुक यात्रा थी। जब मैं गवली से मिला तो उनकी आंखें छलक उठीं।उन्होंने मीडिया से कहा, ‘‘औरंगाबाद में जब मैं पढ़ाई कर रहा था तब मेरी स्थिति ठीक नहीं थी, तब इन लोगों (गवली परिवार) ने मेरी मदद की। मैंने सोचा था कि कभी मैं जरूरवापस आऊंगा और अपना कर्ज लौटाऊंगा। मैं उन्हें शुक्रिया अदा करना चाहता था। यह मेरे लिये बेहद भावुक पल था।’’उन्होंने कहा, ‘‘ईश्वर उन बुजुर्ग (गवली) और उनके बच्चों का भला करे। मेरे साथ वे बहुत अच्छे से पेश आये। वे मुझे भोजन कराने के लिये होटल ले जाना चाहते थे लेकिन मैंनेउनके घर पर ही भोजन करने पर जोर दिया।’’ औरंगाबाद से विदा लेते समय केन्या के सांसद ने अपने गवली काका को अपने देश आने का न्योता भी दिया।पहलेदिनकेआखिरीसत्रनेमेरेधैर्यकीपरीक्षालीलाबुशेनआतंक के वित्तपोषण में पाकिस्तानी अदालत ने हाफिज सईद के तीन सहयोगियों को सजा सुनाई******लाहौर: पाकिस्तान में आतंकवाद विरोधी एक अदालत ने आतंकी वित्त पोषण के मामले में आतंकी संगठन जमात-उद-दावा के तीन वरिष्ठ नेताओं को 16 साल से ज्यादा की कैद की सजा सुनाई है। ये तीनों 2008 के मुंबई हमलों के साजिशकर्ता हाफिज सईद के करीबी सहयोगी हैं। आतंकवाद के वित्त पोषण के मामले में मिली सजा पर लाहौर उच्च न्यायालय द्वारा लगाई गई रोक के बाद कुछ हफ्तों पहले जमानत पर रिहा हुए हाफिज अब्दुल रहमान मक्की और हाफिज अब्दुस सलाम उन तीन लोगों में शामिल हैं जिन्हें लाहौर की आतंकवाद निरोधी अदालत (एटीसी) ने आतंकी वित्तपोषण के एक अन्य मामले में सजा सुनाई है।दोषियों की मौजूदगी में अदालत द्वारा फैसला सुनाए जाने के बाद एक अधिकारी ने ‘पीटीआई-भाषा’ को बताया, “एटीसी ने जफर इकबाल और हाफिज अब्दुस सलाम बिन मुहम्मद को आतंकी वित्त पोषण के एक अन्य मामले में साढ़े 16 साल कैद की सजा सुनाई है। सभी पर डेढ़ लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है।”अधिकारी ने कहा, “हाफिज सईद के रिश्तेदार हाफिज अब्दुल रहमान मक्की को भी इसी मामले में डेढ़ साल कैद की सजा सुनाई गई है। उस पर 20 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है।” उन्होंने कहा कि अदालत में सुनवाई के दौरान सुरक्षा के कड़े इंतजाम किये गए थे। एटीसी-तृतीय के न्यायाधीश एजाज अहमद बुट्टर ने यह फैसला सुनाया। उन्होंने कहा कि पिछले हफ्ते मामले में संदिग्धों को दोषी पाया गया था। फैसले में कहा गया कि जमात उद दावा के तीनों नेताओं को आतंकी वित्तपोषण का दोषी पाया गया।क्या इस राज्य में होगा 4 महीने का बिजली बिल माफ?

पहलेदिनकेआखिरीसत्रनेमेरेधैर्यकीपरीक्षालीलाबुशेनमप्र: ड्यूटी के दौरान WhatsApp पर चैटिंग कर रहे थे पुलिसवाले, सभी सस्पेंड****** शहर के संवेदनशील इलाके में शनिवार को सुरक्षा के लिए तैनात पुलिसकर्मियों में से पांच को पर चैटिंग करने के आरोप में निलंबित कर दिया गया है। जिला पुलिस अधीक्षक (एसपी) अमित सिंह ने रविवार को बताया कि सुरक्षा में तैनात पांच पुलिसकर्मियों को ड्यूटी के दौरान वाट्सऐप पर चैटिंग करने के आरोप में निलंबित किया गया है।इन पुलिसकर्मियों को शहर के संवेदनशील इलाकों में सुरक्षा के लिए तैनात किया गया था। एसपी ने संवेदनशील इलाकों में औचक निरीक्षण के दौरान इन पुलिसकर्मियों को सोशल मीडिया पर व्यस्त देखा था। में शनिवार को उच्चतम न्यायालय के निर्णय के मद्देनजर शहर में एहतियात के तौर पर सुरक्षा बंदोबस्त कड़े कर दिए गए हैं।सिंह ने बताया कि शहर के विभिन्न इलाकों में 2,500 से अधिक पुलिसकर्मी तैनात किए गए हैं तथा लगभग 25 अस्थायी पुलिस चौकियां बनाई गई हैं। इसके अलावा पुलिस पूरे शहर में चौकसी गश्त कर रही है।पहलेदिनकेआखिरीसत्रनेमेरेधैर्यकीपरीक्षालीलाबुशेनभारत ने पैरालंपिक खेलों में पहली बार छुआ दहाई का आंकड़ा, इन खिलाड़ियों पर है पूरे देश को गर्व******टोक्यो पैरालंपिक का आज 7वां दिन है और भारत ने 2 गोल्ड, 5 सिलवर और 3 ब्रॉन्ज मेडल के साथ कुल 10 पदक अपने नाम कर लिए हैं। पैरालंपिक के इतिहास में भारत पहली बार दहाई का आंकड़ा छूने में कामयाब रहा है। इससे पहले भारत का बेस्ट प्रदर्शन 1984 और 2016 में रहा था दोनों ही बार भारत 4-4 मेडल जीतने में सफल रहा था।1968 में पहली बार भारत ने पैरालंपिक खेलों में अपना कदम रखा था, मगर पहले मेडल का इंतजार 4 साल तक करना पड़ा था। 1972 में मुरलीकांत पेटकरी ने पुरुषों की 50मी फ़्रीस्टाइल 3 स्वीमिंग में गोल्ड मेडल जीतकर भारत को पैरालंपिक में पदक जीताया था। इसके बाद भारत ने 1984 में 4, 2004 में 2, 2012 में 1 और 2016 में चार मेडल जीते थे। मगर इस साल टोक्यो पैरालंपिक में 54 खिलाड़ियों का भारत का जो जत्था गया है उसने इतिहास रच दिया है।भाविनाबेन टेबल टेनिस क्लास 4 स्पर्धा के महिला एकल फाइनल में दुनिया की नंबर एक खिलाड़ी चीन की झाउ यिंग के खिलाफ 0-3 से शिकस्त का सामना करना पड़ा लेकिन वह एतिहासिक रजत पदक के साथ पैरालंपिक खेलों में पदक जीतने वाली दूसरी भारतीय महिला खिलाड़ी बनने में सफल रहीं।निषाद कुमार ने पुरूषों की ऊंची कूद टी47 स्पर्धा में एशियाई रिकार्ड के साथ रजत पदक जीता। विनोद कुमार ने भी पुरुषों के चक्का फेंक की एफ52 स्पर्धा में एशियाई रिक\र्ड बनाया और कांस्य पदक अपने नाम किया। निषाद कुमार ने 2.06 मीटर की कूद लगाकर पदक जीता।अवनि लेखरा ने टोक्यो पैरालंपिक खेलों की निशानेबाजी प्रतियोगिता में महिलाओं के 10 मीटर एयर राइफल के क्लास एसएच1 में स्वर्ण पदक जीतकर इतिहास रचा। अवनि ने फाइनल में 249.6 अंक बनाकर विश्व रिकार्ड की बराबरी की और पहला स्थान हासिल किया। उन्होंने चीन की झांग कुइपिंग (248.9 अंक) को पीछे छोड़ा। यूक्रेन की इरियाना शेतनिक (227.5) ने कांस्य पदक जीता। अवनि पैरालंपिक खेलों में स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला खिलाड़ी हैं।योगेश कथूनिया ने टोक्यो पैरालंपिक खेलों में पुरुषों की चक्का फेंक स्पर्धा के एफ56 वर्ग में इस सत्र का अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए रजत पदक जीता। आठ साल की उम्र में लकवाग्रस्त होने वाले योगेश ने अपने छठे और अंतिम प्रयास में 44.38 मीटर चक्का फेंककर दूसरा स्थान हासिल किया।देवेंद्र झांझरिया ने टोक्यो पैरालंपिक में शानदार प्रदर्शन करते हुए भाला फेंक एफ-46 वर्ग में रजत पदक अपने नाम किया। दो बार पैरालंपिक के स्वर्ण पदक विजेता देवेन्द्र ने 64.35 मीटर के साथ दूसरा स्थान हासिल किया। देवेन्द्र का यह स्कोर उनका निजी बेस्ट स्कोर रहा।सुंदर सिंह गुर्जर देवेंद्र झांझरिया के साथ भाला फेंक एफ-46 वर्ग कांस्य पदक अपने नाम किया। सुंदर ने अपने सीजन का बेस्ट प्रदर्शन करते हुए 64.01 का स्कोर कर तीसरा स्थान हासिल किया।सुमित आंतिल ने भाला फेंक के F42 इवेंट में गोल्ड मेडल जीतकर इतिहास रच दिया। सुमित ने तीन बार वर्ल्ड रिकॉर्ड तोड़ते हुए गोल्ड मेडल अपने नाम किया। सुमित का बेस्ट थ्रो 5वें प्रयास में आया जिसमें उन्होंने 68.55 मीटर का थ्रो फेंका। सुमित ने अपने पहले थ्रो में 66.95 मीटर की दूसरी तय करते हुए वर्ल्ड रिकॉर्ड तोड़ा। दूसरे प्रयास में उन्होंने अपने ही रिकॉर्ड को तोड़ते हुए 68.08 मीटर की दूरी तय की। पांचवें प्रयास में उन्होंने इतिहास रचा और 68.55 मीटर का थ्रो कर वर्ल्ड रिकॉर्ड बना दिया।निशानेबाज सिंहराज अडाना ने पैरालंपिक खेलों में पी1 पुरुष 10 मीटर एयर पिस्टल एसएच1 स्पर्धा में कांस्य पदक जीता। अडाना ने कुल 216.8 अंक बनाकर तीसरा स्थान हासिल किया। उन्होंने छठे स्थान पर रहकर आठ निशानेबाजों के फाइनल में जगह बनायी थी।गत चैंपियन मरियप्पन थंगावेलु ने पुरुष ऊंची कूद टी42 स्पर्धा में रजत पदक अपने नाम किया। मरियप्पन ने 1.86 मीटर के प्रयास के साथ यह पदक जीता।पुरुष ऊंची कूद टी42 स्पर्धा में ही मरियप्पन थंगावेलु के साथ हिस्सा शरद कुमार ने भी लिया, वह 1.83 मीटर के प्रयास के साथ तीसरे स्थान पर रहे और भारत की झोली में उन्होंने कांस्य पदक डाला।

हाल का ध्यान

लिंक