वर्तमान पद:मुखपृष्ठ > पार्सल आईलैंड्स > मूलपाठ

"श्रीलंका टीम ने पांच खिलाड़ियों को बायो बबल से रिलीज किया"

2022-10-04 14:37:43 पार्सल आईलैंड्स

श्रीलंकाटीमनेपांचखिलाड़ियोंकोबायोबबलसेरिलीजकियाBangladesh Flood: बांग्लादेश में मॉनसून की बारिश ने बरपाया कहर, 60 लाख लोग प्रभावित, उठाया गया ये कदम******Highlights बांग्लादेश और सीमावर्ती भारतीय राज्यों मेघालय व असम में मॉनसून की बारिश मुसीबत बनकर आई है। बांग्लादेश में लगातार हो रही बारिश से बाढ़ जैसे हालत बन गए हैं, जिससे 60 लाख लोग प्रभावित हैं। इस प्राकृतिक आपदा के मद्देनजर देश ने सहायता, राहत एवं बचाव कार्य के लिए सेना को मदद के लिए बुलाया है। आधिकारिक अनुमान के मुताबकि, मकानों में पानी घुस जाने के चलते करीब 60 लाख लोग बाढ़ से प्रभावित हैं।देश के उत्तरी-पूर्वी और उत्तरी क्षेत्र की नदियों में जलस्तर लगातार बढ़ने के चलते कई लोग अस्थाई शिविरों में रुके हुए हैं। बाढ़ पूर्वानुमान और चेतावनी केंद्र (एफएफडब्ल्यूसी) के प्रवक्ता ने कहा, "देश की चार प्रमुख नदियों में से दो नदियों में जलस्तर खतरे के निशान से बहुत ऊपर है और हालात लगभग 2004 के बाढ़ जैसे हैं।"कई लोगों को सुनामगंज में पानी भरने के बाद छतों पर शरण लेना पड़ा था, हालांकि बाद में नावों की मदद से उन्हें बाहर निकाला गया। बाढ़ के कारण कितने लोगों की मौत हुई ,है इस संबंध में अभी तक कोई आधिकारिक आंकड़ा उपलब्ध नहीं है। अनौपचारिक आंकड़ों के मुताबिक, देश में कम से कम 19 लोगों की मौत हुई है।एफएफडब्ल्यूसी ने मेघालय और बांग्लादेश के ऊंचाई वाले क्षेत्रों में लगातार हो रही बारिश को इस बाढ़ का कारण बताया है। बाढ़ का पानी कई बिजली घरों में भर गया है, जिसके कारण प्रशासन को इन बिजली घरों को बंद करना पड़ा है। इसके कारण इंटरनेट और मोबाइल फोन संवाएं बंद हो गई हैं। इससे पहले बांग्लादेश ने सेना को प्रशासन की मदद के लिए बुलाया है।

श्रीलंकाटीमनेपांचखिलाड़ियोंकोबायोबबलसेरिलीजकियाT20 World Cup 2022: IPL के लिए दक्षिण अफ्रीका की कोचिंग छोड़ेंगे मार्क बाउचर? टी20 वर्ल्ड कप से पहले किया बड़ा ऐलान******Highlightsदक्षिण अफ्रीका क्रिकेट टीम के मुख्य कोच मार्क बाउचर ने टी20 वर्ल्ड कप के शुरू होने से पहले ही बड़ा ऐलान कर दिया है। पूर्व क्रिकेटर ने टीम की कोचिंग छोड़ने का फैसला किया है। क्रिकेट साउथ अफ्रीका (सीएसए) की तरफ से दी गई जानकारी के मुताबिक बाउचर ऑस्ट्रेलिया में अक्टूबर-नवंबर में होने वाले टी20 वर्ल्ड कप के बाद दक्षिण अफ्रीका की कोचिंग छोड़ देंगे।गौरतलब है कि पूर्व विकेटकीपर बल्लेबाज ने दिसंबर 2019 में टीम की कोचिंग की जिम्मेदारी संभाली थी। उनकी कोचिंग में दक्षिण अफ्रीका ने 11 टेस्ट में जीत दर्ज की। इसमें उसने भारत के खिलाफ जनवरी में घरेलू टेस्ट सीरीज पर भी 2-1 से कब्जा किया।सीएसए की तरफ से जारी बयान में कहा गया कि मिस्टर बाउचर ने अपने आगे के करियर और व्यक्तिगत उद्देश्यों को पूरा करने के लिए इस्तीफा देने का फैसला किया है। क्रिकेट सीएसए को इस बात का दुख है लेकिन वह उनके फैसले का सम्मान करता है और उनके भविष्य के लिए उन्हें शुभकामनाएं देता है।बता दें कि बाउचर की कोचिंग में दक्षिण अफ्रीका ने शानदार प्रदर्शन किया है और टीम इस वक्त मौजूदा टेस्ट चैंपियनशिप की अंक तालिका में दूसरे स्थान पर मौजूद है। सीमित ओवर क्रिकेट में भी दक्षिण अफ्रीकी टीम ने बाउचर के मार्गदर्शन में 12 वनडे और 23 टी20 मुकाबलों में जीत दर्ज की है।दक्षिण अफ्रीका की टीम टी20 वर्ल्ड कप से पहले सितंबर-अक्टूबर में भारत का दौरा करेगी और यहां सीमित ओवर की सीरीज खेलेगी। वह 28 सितंबर से 11 अक्टूबर तक भारत में खेलेगी और इसके बाद 19 अक्टूबर से 13 नवंबर तक ऑस्ट्रेलिया में खेली जाने वाले टी20 वर्ल्ड कप में शामिल होगी। वर्ल्ड कप में दक्षिण अफ्रीका को भारत-पाकिस्तान और बांग्लादेश के साथ एक ही ग्रुप में रखा गया है।मार्क बाउचर को लेकर ऐसी अटकलें हैं कि उनके पास आईपीएल में कोचिंग का ऑफर है। क्रिकबज की रिपोर्ट के मुताबिक बाउचर आईपीएल में किसी फ्रेंचाइजी से कोच के तौर पर जुड़ सकते हैं। इसके लिए उन्होंने हामी भी भर दी है। इस फ्रेंचाइजी के आईपीएल के साथ-साथ अगले साल दक्षिण अफ्रीका में खेली जाने वाली SAT20 लीग में भी टीम है। ऐसे में बाउचर दक्षिण अफ्रीका की इस नई लीग से भी जुड़ सकते हैं।श्रीलंकाटीमनेपांचखिलाड़ियोंकोबायोबबलसेरिलीजकियासरकार ने 4 व 5 स्‍टार एक्‍सपोर्ट घरानों पर लगाया प्रतिबंध, अब नहीं कर पाएंगे सोने का आयात****** वाणिज्य मंत्रालय ने चार और पांच स्‍टार दर्जा प्राप्‍त एक्‍सपोर्ट घरानों पर सोने का आयात न करने की पाबंदी लगा दी है। इस कदम के बाद अब इन एक्‍सपोर्ट घरानों को मूल्यवान धातु केवल अपने उपयोग के लिए ही खरीदने की अनुमति होगी।एक अधिकारी के अनुसार विदेश व्यापार महानिदेशालय द्वारा लगाई गई पाबंदी का मकसद सोने के आयात पर अंकुश लगाना है। इस मूल्यवान धातु का आयात 2017-18 की पहली छमाही में दो गुना से अधिक बढ़कर 16.95 अरब डॉलर पर पहुंच गया है। महानिदेशालय ने एक अधिसूचना में कहा है कि कोई भी नामित एजेंसी का प्रमाणपत्र चार स्टार और पांच स्टार का दर्जा प्राप्त एक्‍सपोर्ट घरानों को जारी नहीं किया जाएगा।चार और पांच स्टार का दर्जा उन एक्‍सपोर्ट घरानों को दिया गया है, जिन्होंने चालू और पिछले दो साल में क्रमश: 50 करोड़ डॉलर और दो अरब डॉलर मूल्य से अधिक का निर्यात किया है।इसमें कहा गया है कि मौजूदा नामित एजेंसी प्रमाणपत्र वाले चार और पांच स्टार एक्‍सपोर्ट घरानों को सोने के आयात की अनुमति वास्तविक उपयोग शर्तों पर निर्भर है।उन्हें नामित एजेंसी प्रमाणपत्र की बची हुई अवधि के लिए केवल विनिर्माण और एक्‍सपोर्ट के लिए सोने के आयात की अनुमति होगी।नामित एजेंसियां वो हैं, जो सोने के आयात और उसे घरेलू इकाइयों को बेचने को अधिकृत हैं।सोने के आयात से चालू खाते के घाटे पर सीधा प्रभाव पड़ता है।

श्रीलंकाटीमनेपांचखिलाड़ियोंकोबायोबबलसेरिलीजकियाKamika Ekadashi 2022: जानिए कब है कामिका एकादशी, इस दिन बन रहे हैं 3 शुभ योग******Highlights सावन का पवित्र महीना 14 जुलाई से शुरू हो गया है। सावन में पड़ने वाली पहली एकादशी कामिका एकादशी कहलाती है। वहीं पंचांग के अनुसार सावन का महीना शुभ मुहूर्त में आरंभ हुआ है। जिस कारण इस बार के सावन का महत्व और बढ़ गया है। ऐसा माना जाता है कि जो भी भक्त श्रद्धा और भक्तिभाव से भोलेनाथ और माता पार्वती की विधि पूर्वक उपासना करते हैं, उनकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं।सावन का महीना भगवान शिव जी की पूजा आराधना के लिए अच्छा होता है, वहीं एकादशी व्रत भगवान विष्णु की पूजा के लिए सबसे उत्तम माना जाता है। ऐसे में सावन की पहली एकादशी यानी कामिका एकादशी व्रत का महत्व और बढ़ गया है। सावन कामिका एकादशी व्रत रखने से भगवान विष्णु के साथ-साथ भोलेनाथ की भी कृपा होती है।कामिका एकादशी का व्रत 24जुलाई को रखा जायेगा। सावन कृष्ण पक्ष की एकादशी तिथि 23 जुलाई दिन शनिवार को सुबह 11 बजकर 27 मिनट से प्रारंभ होगी और इस तिथि का समापन 24 जुलाई रविवार को दोपहर 01 बजकर 45 मिनट पर होगा। ऐसे में उदयाति​की मान्यता के मुताबिक़, कामिका एकादशी व्रत 24 जुलाई को होगी।कामिका एकादशी व्रत करने से सभी तीर्थों में स्नान के समान ही पुण्य फल की प्राप्ति होती है। इससे पापों का नाश होता है और ब्रह्म हत्या के दोष से मुक्ति मिलती है। भगवान विष्णु की कृपा से मृत्यु के बाद मोक्ष की प्राप्ति होती है।श्रीलंकाटीमनेपांचखिलाड़ियोंकोबायोबबलसेरिलीजकिया40 प्रतिशत ट्रेवल व टूरिज्‍म कंपनियों पर Lockdown की मार, अगले 3 से 6 महीने में बंद होने के आसार******40 percent travel, tourism firms staring at complete shutdown risk in next 3-6 monthsघरेलू विमानन सेवाओं को करीब दो महीने बाद दोबारा शुरू किए जाने के बावजूद एक औद्योगिक सर्वे रिपोर्ट में कहा गया है कि कोराना वायरस महामारी से उत्पन्न परिस्थितियों को देखते हुए यात्रा और पर्यटन क्षेत्र की करीब 40 प्रतिशत कंपनियों के अगले तीन से छह महीने तक खुलने की उम्मीद नहीं है। गौरतलब है कि सरकार ने संक्रमण की रोक थाम के लिए लागू पाबंदियों में ढ़ील देनी शुरू की है और सोमवार से घरेलू मार्गों पर उड़ाने फिर शुरू हो गई हैं। बीओटीटी ट्रेवल सेंटिमेंट ट्रैकर ने सात राष्ट्रीय संघों आईओटीओ, टीएएआई, आईसीपीबी, एडीटीओआई, ओटीओएआई, एटीओएआई और एसआईटीई के साथ मिलकर यह रिपोर्ट तैयार की है। इसके अनुसार इन क्षेत्रों में 36 प्रतिशत कंपनियां अस्थाई रूप से बंद हो सकती हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि 81 प्रतिशत की पूरी कमाई बंद हो गई है, जबकि 15 प्रतिशत कंपनियों की कमाई 75 प्रतिशत तक घट गई है। बीओटीटी ट्रेवल सेंटीमेंट ट्रैकर सर्वेक्षण ने 10 दिनों में 2,300 से अधिक यात्रा और पर्यटन कारोबारियों तथा कंपनी के प्रतिनिधियों के साथ ऑनलाइन रायशुमारी की।रिपोर्ट में कहा गया है कि महामारी के चलते यात्रा और पर्यटन क्षेत्र बुरी तरह प्रभावित हुआ है। तीन से छह महीनों के दौरान 40 प्रतिशत कंपनियों के ऊपर पूरी तरह बंद होने और 35.7 प्रतिशत अन्य कंपनियां अस्थायी रूप से अपना परिचालन बंद कर सकती हैं।सर्वेक्षण के मुताबिक करीब 38.6 प्रतिशत यात्रा कंपनियों ने कहा कि वे कर्मचारियों की संख्या घटाने जा रही हैं। इसके अलावा अन्य 37.6 प्रतिशत कंपनियों का भी कहना है कि वे कर्मचारियों को नौकरी से हटाने पर विचार कर सकती हैं। ट्रेवल एजेंट्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया की अध्यक्ष ज्योति मयाल ने कहा कि यह एक अभूतपूर्व स्थिति है और सरकार को हजारों कंपनियों के अस्तित्व के लिए कुछ राहत देना चाहिए।यात्रा और पर्यटन कंपनियों ने उम्मीद जताई है कि सरकार तुरंत एक पर्यटन राहत कोष बनाएगी। इसके अलावा उन्होंने जीएसटी में कमी और कर्ज की किस्तें चुकाने में 12 महीने की मोहलत जैसी मांगें भी की हैं।श्रीलंकाटीमनेपांचखिलाड़ियोंकोबायोबबलसेरिलीजकियाएमपी: सीधी बस हादसे में मृतकों की संख्या हुई 50, सीएम शिवराज मृतकों के परिजनों से करेंगे मुलाकात****** मध्य प्रदेश के सीधी में कल हुए बस हादसे में मरनेवालों की संख्या बढ़कर 50 हो गई है। इस बीच मृतकों के परिजनों से मिलने के लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सीधी जा रहे हैं। उन्होंने कहा-'मैं थोड़ा जल्दी इसलिए जा रहा हूं क्योंकि मुझे सीधी पहुंचना है. मैं कल ही जाना चाहता था लेकिन रेस्क्यू ऑपरेशन चल रहा था और मेरे जाने से उसमें व्यवधान आ सकता था यह भी विचार मेरे मन में आया इसलिए मैंने अपने आप को रोका हमारे दो मंत्री गए थे। अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण घटना है।'उन्होंने कहा-'आज मैं कुछ परिवारों से मुलाकात करूंगा । जो बेटे-बेटियां, भाई-बहन चले गए हैं, उनको वापस तो नहीं लाया जा सकता लेकिन उन परिवारों को राहत कैसे मिल सके.. उन परिवारों के साथ हम खड़े हैं।'यात्रियों से खचाखच भरी एक बस के नहर में गिर जाने से हुए हादसे में मंगलवार रात तक 21 महिलाओं सहित 47 लोगों के शव बरामद कर लिए गये थे। सीधी जिले की अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अंजूलता पटले ने बताया,‘‘ मंगलवार देर रात को बंद किया गया बचाव अभियान बुधवार सुबह फिर शुरू किया गया और हमने दो और शव इस नहर से बरामद किये हैं। यह नहर बाणसागर बांध परियोजना का एक हिस्सा है।’’ उन्होंने कहा कि इन दो शवों में से एक शव दुर्घटनास्थल से करीब 10 किलोमीटर दूर रीवा जिले के गोविन्दगढ़ पुलिस थाना इलाके से इस नहर के एक हिस्से से मिला।इनपुट-एजेंसी

श्रीलंकाटीमनेपांचखिलाड़ियोंकोबायोबबलसेरिलीजकियाDelhi Wave: दिल्ली पर ठंड का 'कोल्ड अटैक', न्यूनतम तापमान गिरकर 4 डिग्री सेल्सियस पहुंचा; अभी और सताएगी शीतलहर******Highlights राजधानी दिल्ली में ठंड का कोल्ड अटैक बढ़ गया है। सोमवार को न्यूनतम तापमान 4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया है। मौसम विभाग के मुताबिक उत्तर भारत में और कड़ाके की ठंड पड़ेगी।मौसम विभाग के मुताबिक दिनभर शीतलहर का प्रकोप रहने का अनुमान है। राजधानी दिल्ली में अगले दो-तीन दिनों तक ठंड का विकराल रूप देखने को मिल सकता है।उत्तर भारत में अगले कुछ दिन में पारा और नीचे गिरेगा। अभी राहत मिलने के आसार नहीं हैं। हरियाणा, पंजाब, राजस्थान और हिमाचल प्रदेश में भी का प्रकोप जारी है। भारत मौसम विज्ञान विभाग के मुताबिक दिल्ली, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, जम्मू कश्मीर, लद्दाख, गिलगित-बाल्तिस्तान तथा मुजफ्फराबाद, उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश भी शीत लहर की चपेट में हैं।सोमवार को श्रीनगर में न्यूनतम तापमान शून्य से 5.8 डिग्री सेल्सियस नीचे (-5.8 डिग्री सेल्सियस) दर्ज किया गया है।मौसम विज्ञान विभाग (IMD) के मुताबिक कानपुर में पारा गिरावट के साथ न्यूनतम 5 डिग्री सेल्सियस और अधिकतम 19 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहने की संभावना है।रविवार को उत्तरपश्चिमी भारत में राजस्थान के चुरू में सबसे कम शून्य से 2.6 डिग्री सेल्सियस नीचे तापमान दर्ज किया गया। इसके बाद सीकर में शून्य से 2.5 डिग्री से. नीचे और अमृतसर में शून्य से 0.5 डिग्री से. नीचे तापमान दर्ज किया गया। सफदरजंग वेधशाला ने दिल्ली में अभी तक इस मौसम का सबसे कम 4.6 डिग्री सेल्सियस न्यूनतम तापमान दर्ज किया। लोधी रोड में स्थित मौसम केंद्र ने न्यूनतम तापमान 3.6 डिग्री से. दर्ज किया।आईएमडी ने उत्तरपश्चिमी भारत में अगले तीन दिनों तक शीत लहर चलने का अनुमान जताया है और उसके बाद इससे राहत मिल सकती है। अगले दो दिनों में उत्तराखंड के कुछ क्षेत्रों और पंजाब तथा हरियाणा में 23 और 24 दिसंबर को घना कोहरा छाए रहने का अनुमान है। मौसम कार्यालय ने बताया कि उत्तरपश्चिमी भारत के मैदानी इलाके मंगलवार तक 15 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चलने वाली ठंडी और शुष्क हवाओं की चपेट में रहेंगे, जिससे ‘‘शीत लहर और ठंड का प्रतिकूल असर बढ़ जाएगा।’’इनपुट- एएनआईश्रीलंकाटीमनेपांचखिलाड़ियोंकोबायोबबलसेरिलीजकियावर्ल्ड कप 2019: टीम इंडिया की हार के पांच कारण, जिनके चलते टूटा सवा सौ करोड़ देशवासियों का सपना******रविंद्र जडेजा की विस्फोटक पारी के बावजूद भारत को विश्व कप सेमीफाइनल में बुधवार को यहां न्यूजीलैंड के हाथों 18 रन से हार का सामना करना पड़ा जिससे उसका क्रिकेट महाकुंभ में सफर भी समाप्त हो गया। भारत के सामने 240 रन का लक्ष्य था लेकिन शीर्ष क्रम बुरी तरह लड़खड़ा गया तथा जडेजा (59 गेंदों पर 74) और महेंद्र सिंह धोनी (72 गेंदों पर 50) ने सातवें विकेट के लिये 116 रन जोड़कर मैच को आखिर तक जीवंत बनाये रखा। भारत ने हालांकि दबाव में आखिरी चार विकेट 13 रन के अंदर गंवा दिये और इस तरह से न्यूजीलैंड लगातार दूसरी बार फाइनल में जगह बनाने में सफल रहा। भारत 49.3 ओवर में 221 रन पर सिमट गया। पूरे टूर्नामेंट सबसे अच्छा क्रिकेट खेलने वाली भारतीय टीम कम स्कोर वाले मैच में हारकर वर्ल्ड कप से बाहर हो गई। भारत की इस करीबी हार से 100 करोड़ भारतीयों के दिल टूट गए। हालांकि पीछे मुड़कर देखा जाए तो भारत की हार के कई कारण रहे।अपने टॉप तीन बल्लेबाजों को मात्र 5 रनों के स्कोर पर खोने के बाद भारतीय टीम की सारी उम्मीदें युवा बल्लेबाज ऋषभ पंत से थीं। लेकिन पंत ने एक बार फिर से सभी को निराश किया। हालांकि जल्दी विकेट खोने के बाद पंत पारी को संभाला और अच्छे अंदाज में बल्लेबाजी भी कर रहे थे लेकिन अनुभव की कमी के चलते एक खराब शॉट खेलकर आउट हो गए। पंत अपनी हिटिंग पॉवर का किसी प्रकार फायदा नहीं उठा पाये और बचकाना शॉट खेलकर पवेलियन लौटे। यहां तक कि कोहली भी उनके इस शाट पर बेहद नाराज दिखे जिस पर उन्होंने मिडविकेट पर खड़े कोलिन डि ग्रैंडहोम को कैच का अभ्यास कराया। सैंटनर की पहली चार गेंद चूकने के बाद पांचवीं गेंद को उन्होंने स्वीप किया था। इससे पहले भी पंत दबाव में ऐसे शॉट खेलते रहे हैं जो उनका विश्व कप की शुरुआती टीम से बाहर होने का प्रमुख कारण भी रहा।याद होगा इंग्लैंड में ही आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी 2017 में पाकिस्तान के खिलाफ भारतीय टीम बेहद बड़ी हार की कगार पर थी लेकिन यहां हार्दिक पांड्या ने दबाव में शानदार पारी खेली थी। लेकिन इस बार वे ऐसा नहीं कर पाए। धोनी से ऊपर उतारे गये पंड्या ने भी पंत की गलती दोहरायी। वह भी खुद पर संयम नहीं रख पाये। सैंटनर की सीधी गेंद पर स्लॉग स्वीप खेलना उन्हें महंगा पड़ा जो बल्ले का किनारा लेकर हवा में लहरा गयी और केन विलियमसन ने उसे कैच करने में गलती नहीं की।जब भारतीय टीम विकेट खो रही थी तब ऐसे में जरूरत थी डिफेंस करने की। क्योंकि स्कोर बहुत ज्यादा नहीं था। सभी को पता है कि 350 वनडे खेल चुके एमएस धोनी के अलावा ये क्षमता और किसी में शायद ही बेहतर हो लेकिन यहां मैनेजमेंट ने एमएस धोनी की जगह हार्दिक पांड्या को भेजा जोकि अग्रेविस बल्लेबाजी के लिए जाने जाते हैं। पांड्या आए और औसत पारी खेलकर चलते बने। वहीं धोनी ने नंबर 7 पर उतरते हुए एक बेहतरीन पारी खेली। भारत को आखिरी दो ओवरों में 31 रन चाहिए थे। धोनी ने फर्गुसन की पहली गेंद छक्के के लिये भेजी, लेकिन तेजी से दो रन चुराने के प्रयास में मार्टिन गुप्टिल के सीधे थ्रो पर रन आउट हो गये। विकेटों के बीच सबसे बेहतरीन दौड़ के लिये मशहूर धोनी अपने करियर के शुरू में भी रन आउट हुए थे। इसके बाद भारतीय पारी सिमटने में देर नहीं लगी।भारतीय टीम साझेदारी बनाने के लिए जानी जाती है। चाहें वो ओपनिंग साझेदारी हो या विराट के साथ किसी और बल्लेबाज की। लेकिन इस मैच में ऐसा नहीं हो सका। टॉप तीन बल्लेबाज केवल एक-एक रन ही बना सके। भारत ने 92 रनों पर ही अपने छह विकेट खो दिए थे। यहां से रवींद्र जडेजा (77) और महेंद्र सिंह धोनी (50) ने सातवें विकेट के लिए 116 रनों की साझेदारी कर भारत को जीत के करीब पहुंचाया। यह विश्व कप में सातवें विकेट के लिए दूसरी सबसे बड़ी साझेदारी है। इससे पहले पंत की अपरिपक्वता एक बार फिर दिखी। पंत ने हार्दिक पांड्या के साथ 47 रनों की साझेदारी कर ली थी। इन दो साझेदारियों के अलावा कोई भारतीय जोड़ी टिक नहीं पाई।(With PTI input)

श्रीलंकाटीमनेपांचखिलाड़ियोंकोबायोबबलसेरिलीजकियाPakistan Petrol Price : पाकिस्तान में नर्क हुई आम लोगों की जिंदगी, शहबाज़ सरकार ने पेट्रोल के दाम 60 रुपये बढ़ाए******Pakistan Petrol PriceHighlightsपाकिस्तान में इमरान की जगह जब गद्दी पर शहबाज शरीफ बैठे थे, तब आम लोगों को लगा होगा कि 'अच्छे दिन आएंगे'। लेकिन सरकार बनने के बाद आम लोगों की जिंदगी लगातार नर्क बनती जा रही है। यहां महंगाई इतनी बढ़ गई है लोगों का पसीना छूट रहा है।रोटी से लेकर तेल की महंगाई से परेशान पाकिस्तान की आवाम को सबसे ज्यादा दुख पेट्रोल के दाम दे रहे हैं। इमरान की सत्ता जाने के बाद से वहां पेट्रोल के दाम 140 रुपये से बढ़कर 200 रुपये के पार पहुंच गए हैं। बीते एक सप्ताह में कीमतें 60 रुपये बढ़ा दी गई हैं। बीते सप्ताह जहां सरकार ने 30 रुपये दाम बढ़ाए थे, वहीं कल गुरुवार को एक बार फिर बढ़ोतरी हुई है।पाकिस्तान के वित्त मंत्री मिफ्ताह इस्माइल ने गुरुवार को पेट्रोल की कीमतों में बढ़ोत्तरी की घोषणा करते हुए बताया कि पेट्रोल के दाम में 30 रुपए की बढ़ोतरी की की गई है। इसके बाद पेट्रोल का दाम पाकिस्तान में 209.86 रुपए हो गया है। वहीं डीजल की कीमतें 204.15 रुपए लीटर हो गईं। वित्त मंत्री ले कहा कि 30 रुपए बढ़ाने के बावजूद भी सरकार को 9 रुपए का नुकसान हो रहा है।​पाकिस्तान में पेट्रोल डीजल खत्म होने जा रहा है! जी हां, आर्थिक बदहाली और नकदी की कमी से जूझ रहे पाकिस्तान के सामने अब पेट्रोल डीजल खत्म होने का खतरा पैदा हो गया है। पाकिस्तान को जल्द ही तेल की आपूर्ति बाधित होने का सामना करना पड़ सकता है। पाकिस्तान की तेल कंपनियां कच्चे तेल के आयात के लिए आवश्यक विदेशी मुद्रा जुटाने में असफल साबित हो रही हैं।भारत जहां रूस का सस्ता यूराल तेल खरीद रहा है, लेकिन पाकिस्तान में पहले से ही आर्थिक तंगी झेल रहा पाकिस्तान अमेरिकी प्रतिबंधों मोल नहीं लेना चाहता। पाकिस्तान के वित्त मंत्री ने कहा कि अमेरिकी प्रतिबंधों का डर न हो तो पाकिस्तान भी रूस से सस्ता तेल खरीद सकता है। उन्होंने यह भी कहा कि पाकिस्तान को अभी तक रूस से सस्ते तेल का कोई ऑफर नहीं मिला है।

श्रीलंकाटीमनेपांचखिलाड़ियोंकोबायोबबलसेरिलीजकियाAmazon भारत में SME को डिजिटल बनाने के लिए करेगी 1 अरब डॉलर का निवेश, 2025 तक होंगे 10 लाख नए रोजगार पैदा******अमेजन के संस्‍थापक और सीईओ जेफ बेजोस ने आज बड़ी घोषणा करते हुए कहा कि उनकी कंपनी भारत के लघु, मझोले उपक्रमों को डिजिटल बनाने पर एक अरब डॉलर का निवेश करेगी। इसके अलावा वैश्विक स्तर पर अपनी मौजूदगी के जरिये अमेजन 2025 तक 10 अरब डॉलर के मेक इन इंडिया उत्पादों का निर्यात करेगी। उन्‍होंने कहा कि हम भारत में 2025 तक 10 लोख नए रोजगार भी पैदा करने का लक्ष्‍य लेकर आगे बढ़ रहे हैं। बेजोस ने कहा कि भारत-अम‍ेरिका गठजोड़ 21वीं सदी में बहुत महत्‍वपूर्ण होगा। यहां जवाहर लाल नेहरू स्‍टेडियम में अमेजन संभव कार्यक्रम को संबोधित करते हुए ने कहा कि छह साल पहले हमनें इसकी शुरुआत की थी, और इस दौरान हमनें जो प्रगति हासिल की है उससे मैं बहुत उत्‍साहित हूं। 550,000 से अधिक लघु एवं मध्‍यम कारोबारियों ने Amazon.in का लाभ उठाते हुए भारत में 100 प्रतिशत पिन-कोड्स में उत्‍पादों के सबसे बड़े चयन की पेशकश की है। 60,000 से अधिक उद्यम 180 से अधिक देशों के ग्राहकों को ‘मेड इन इंडिया’ उत्‍पादों का निर्यात कर रहे हैं, और हमारा कुल निर्यात पहले ही 1 अरब डॉलर से अधिक का है।हम प्रतिदिन अधिक उत्‍पादों को जोड़ रहे हैं और डिलीवरी को निरंतर और तेज बना रहे हैं। हम अपने उपभोक्‍ताओं की दैनिक जरूरतों, जैसे किराना, बिल भुगातन, ट्रेवल और मूवी टिकट, स्‍थानीय दुकानों पर भुगतान, या परिवार या दोस्‍तों को पैसे भेजने आदि, को पूरा करने पर भी काम कर रहे हैं। हमारे प्रीमियम सदस्‍य लगातार बढ़ रहे हैं, भारत के 97 प्रतिशत पिन-कोड्स में प्राइम सदस्‍य मौजूद हैं। वे लाखों उत्‍पादों पर असीमित फास्‍ट डिलीवरी और ब्‍लॉकबस्‍टर मूवीज और टीवी शोज, जिसमें हमारे स्‍वयं के अमेजन ओरिजनल जैसे मिर्जापुर और द फैमिली मैन शामिल हैं, के असीमित ऑनलाइन स्‍ट्रीमिंग का लुत्‍फ उठा रहे हैं। Alexsa अब हिंदी और अंग्रेजी में निर्बाध रूप से बात कर सकती है, और अब विशेषज्ञों के साथ योग अभ्‍यास करने से लेकर पंचतंत्र की कहानियां सुनाने और बॉलीवुड संवाद बोलने तक 30,000 से ज्‍यादा कौशल की पेशकश करती है।अमेजन ने सतत विकास में निवेश किया है और पेरिस समझौते को दस साल पहले पूरा करने की प्रतिबद्धता के साथ- क्‍लाइमेट प्रतिज्ञा (Climate Pledge) पर हस्‍ताक्षर करने वाली पहली कंपनी है। उदाहरण के लिए, भारत में हमनें यह घोषणा की है कि हम जून-2020 तक अपने आपूर्ति नेटवर्क से सिंगल-यूज प्‍लास्टिक को पूरी तरह से खत्‍म कर देंगे, और सौर ऊर्जा एवं इलेक्ट्रिक वाहनों के उपयोग की दिशा में तेजी से आगे बढ़ेंगे।मैं जब भी यहां आता हूं मुझे भारत के साथ उतना ही अधिक प्रेम हो जाता है। असीम ऊर्जा, संसाधनशीलता, नवाचार और सभी बाधाओं पर जीत हासिल करने का रवैया मुझे लगातार प्रभावित और प्रेरित करता है। मुझे लगता है कि हम इस सदी को भारतीय सदी के रूप में याद करेंगे। जैसा कि भारत अपने आप को डिजिटल रूप में बदल रहा है, मैं आपसे यह साझा करने के लिए उत्‍साहित हूं कि हम 1 करोड़ लघु एवं मध्‍यम उद्यमों को डिजिटल बनाने, निर्यात को 10 अरब डॉलर तक बढ़ाने और 2025 तक 10 लाख नए रोजगार पैदा करने के लिए अतिरिक्‍त 1 अरब डॉलर का निवेश करने के लिए प्रतिबद्ध हैं, इनमें से प्रत्‍येक नया निवेश लंबे समय तक भारत के प्रति हमारे भरोसे और प्रतिबद्धता को दर्शाता है।श्रीलंकाटीमनेपांचखिलाड़ियोंकोबायोबबलसेरिलीजकियाभारत में इस साल से उपलब्‍ध होगी 5G सेवा, एयरटेल और जियो एक बार फ‍िर आए आमने-सामने******5G subscription in India to become available in 2022मोबाइल उपकरण बनाने वाली स्‍वीडन की कंपनी एरिक्‍सन ने अपने एक बयान में कहा है कि अगली पीढ़ी की 5जी टेक्‍नोलॉजी पर आधारित मोबाइल सेवाएं देश में 2022 तक उपलब्‍ध होने की पूरी संभावना है। एरिक्‍सन ने अपनी वार्षिक रिपोर्ट में अनुमान जताया है कि वर्ष 2025 के अंत तक 80 प्रतिशत मोबाइल कनेक्‍शन एलटीई तकनी (4जी) पर होने का अनुमान है। रिपोर्ट में कहा गया है कि 2022 तक देश में उपलब्‍ध हो जाएंगी और 2025 के अंत तक देश में 5जी यूजर्स की संख्‍या कुल मोबाइल कनेक्‍शन का पांच प्रतिशत होगा।भारती एयरटेल, रिलायंस जियो, वार्डे कैपिटल और यूवी असेट रिकंस्‍ट्रक्‍शन कंपनी ने कर्ज में डूबी रिलायंस कम्‍युनिकेशंस की संपत्ति खरीदने के लिए बोलियां जमा कराई हैं। तीन कंपनियों आरकॉम, रिलायंस टेलीकॉम और रिलायंस इंफ्राटेल लिमिटेड के लिए कुल 11 बोलियां आई हैं।आरकॉम के ऊपर करीब 33,000 करोड़ रुपए का कर्ज है। कर्जदाताओं ने अगस्‍त में 49,000 करोड़ रुपए का दावा जमा किया था। सूत्रों के मुताबिक कर्जदाताओं की समिति की शुक्रवार को फ‍िर से बैठक होगी, जिसमें बोलियों को अंतिम रूप दिया जाएगा। आरकॉम ने अपनी पूरी संपत्ति बिक्री के लिए रखी है।ऋण शोधन कार्यवाही में जाने से पहले कंपनी ने अपने 122 मेगाहर्ट्ज स्‍पेक्‍ट्रम का मूल्‍य 14,000 करोड़ रुपए आकलित किया था। इसके अलावा कंपनी ने अपने टॉवर कारोबार का मूल्‍य 7,000 करोड़ रुपए, ऑप्टिकल फाइबर नेटवर्क का मूल्‍य 3,000 करोड़ रुपए और डेटा सेंटर का मूल्‍य 4,000 करोड़ रुपए आंका गया था।

श्रीलंकाटीमनेपांचखिलाड़ियोंकोबायोबबलसेरिलीजकियामध्य प्रदेश में कोरोना वायरस के 19 नए मामले, कोई मौत नहीं****** मध्य प्रदेश में मंगलवार को किसी भी व्यक्ति की कोरोना वायरस संक्रमण से मौत नहीं हुई है। प्रदेश में अब तक इस बीमारी से मरने वालों की संख्या 10,512 है। प्रदेश में पिछले 24 घंटे में 19 नए मामले सामने आए और इसके साथ ही प्रदेश में अभी तक कुल 7,91,689 लोगों के संक्रमित होने की पुष्टि हुई है। प्रदेश में फिलहाल कोविड-19 के केवल 190 मरीज हैं, उन सभी का इलाज चल रहा है। प्रदेश स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि पिछले 24 घंटों में प्रदेश के 52 जिलों में से 08 जिलों में ही संक्रमण के नये मामले आये, जबकि 44 जिलों में एक भी नया मामला नहीं आया है।उन्होंने कहा कि प्रदेश में पिछले 24 घंटों में के सात नए मामले भोपाल में आए, जबकि इंदौर में चार, ग्वालियर में तीन तथा कटनी, नरसिंहपुर, राजगढ़, सिवनी व शिवपुरी में एक-एक नया मामला आया है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में कुल 7,91,689 संक्रमितों में से अब तक 7,80,987 मरीज स्वस्थ हो गये हैं।अधिकारी ने बताया कि मंगलवार को कोविड-19 के 31 रोगी स्वस्थ हुए हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश में मंगलवार को केवल 3,977 लोगों को कोविड-19 के टीके लगाए गये। इसी के साथ प्रदेश में अब तक 2,56,92,264 लोगों को टीका लग चुका है।वहीं, प्रदेश में कोरोना संक्रमण के मामलों में कमी आने के बाद सरकार द्वारा अब स्कूलों को खोलने की तैयारी शुरू हो चुकी है। यहां 26 जुलाई से स्कूलों में 11वीं और 12वीं की कक्षाएं एव छात्रावास खोले जाएंगे। वहीं कक्षा 9वीं और 10वीं की कक्षाएं 5 अगस्त से शुरू की जाएंगी।इस बाबत मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि स्कूल 50 प्रतिशत उपस्थिति के साथ प्रारंभ होंगे। कक्षाओं के खोले जाने के संबंध में क्राइसिस मैनेजमेंट समूह स्थानीय परिस्थितियों के अनुसार निर्णय लेंगे।श्रीलंकाटीमनेपांचखिलाड़ियोंकोबायोबबलसेरिलीजकियाShashi Tharoor: शशि थरूर लड़ सकते हैं कांग्रेस अध्यक्ष का चुनाव, सोनिया गांधी से मुलाकात के बाद अटकलें तेज******कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शशि थरूर ने आज सोमवार को पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी से दिल्ली में मुलाकात की। हालांकि, अभी ये स्पष्ट नहीं है कि इस मुलाकात की वजह क्या है। थरूर ने सोनिया गांधी से मुलाकात ऐसे समय की है, जब हाल ही में उन्होंने ऐसे संकेत दिए हैं कि वह अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ सकते हैं। वहीं, सोनिया गांधी से मुलाकाता के कुछ घंटे पहले थरूर ने कांग्रेस में सुधार की मांग करने वाली एक पोस्ट को समर्थन करते हुए ट्वीट किया। उन्होंने कहा कि अध्यक्ष पद के हर उम्मीदवार को यह संकल्प लेना चाहिए कि निर्वाचित होने पर वह 'उदयपुर नवसंकल्प' को पूरी तरह लागू करेगा।तिरुवनंतपुरम से कांग्रेस सांसद थरूर ने ट्विटर पर पार्टी के युवा कार्यकर्ताओं की ओर से सुधार की मांग करने वाली याचिका का समर्थन किया। पार्टी कार्यकर्ताओं की ऑनलाइन याचिका के संबंध में शशि थरूर ने ट्वीट किया, ''मैं इस याचिका का स्वागत करता हूं, जिसे कांग्रेस के युवा सदस्यों के एक समूह की ओर से पार्टी में रचनात्मक सुधारों की मांग करते हुए प्रसारित किया जा रहा है। इसमें अब तक 650 से ज्यादा हस्ताक्षर इकट्ठे हुए हैं। मुझे इसका समर्थन करने और इसके आगे बढ़ने में खुशी हो रही है।''कांग्रेस कार्यकर्ताओं की ओर से प्रसारित की गई ऑनलाइन याचिका में पार्टी को मजबूत करने के लिए कदम उठाने संबंधी बातें कही गई हैं। ऑनलाइन याचिका में कहा गया है, "हम कांग्रेस अध्यक्ष का चुनाव लड़ने वाले हर उम्मीदवार से अपील करते हैं कि वह यह संकल्प ले कि ब्लॉक कमेटी से लेकर कांग्रेस कार्य समिति तक, पार्टी के सभी सदस्यों को वह साथ लेकर चलेगा और पदभार ग्रहण करने के 100 दिनों के भीतर उदयपुर नवसंकल्प को पूरी तरह लागू करेगा।" कांग्रेस ने मई में चिंतन शिविर के बाद 'उदयपुर नवसंकल्प' जारी किया था, जिसमें पार्टी के संगठन में कई सुधार के सुझाए दिए गए थे। इनमें 'एक व्यक्ति, एक पद' और 'एक परिवार, एक टिकट' की व्यवस्था की बातें प्रमुख हैं।बता दें कि कांग्रेस के अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ने के सवाल पर शशि थरूर ने अब तक कोई स्पष्ट जवाब नहीं दिया है। पत्रकारों की ओर से चुनाव लड़ने के सवाल पर उन्होंने चुप्पी साधे रखी। पिछले दिनों एक इंटरव्यू में थरूर ने कहा था कि उन्होंने चुनाव लड़ने के बारे में अभी सोचा नहीं है। वहीं, विदेश से लौटने के बाद सोनिया गांधी पार्टी के नेताओं से मिल रहीहैं। सोनिया गांधी से आज शशि थरूर के अलावा, सांसद दीपेंद्र हुड्डा, बॉक्सर विजेंदर, मध्य प्रदेश के नए कांग्रेस प्रभारी जेपी अग्रवाल और झारखंड कांग्रेस प्रभारी अविनाश पांडे नेमुलाकात की।गौरतलब है कि कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव के लिए अधिसूचना 22 सितंबर को जारी की जाएगी और नामांकन दाखिल करने की प्रक्रिया 24 से 30 सितंबर तक चलेगी। नामांकन वापस लेने की अंतिम तिथि 08 अक्टूबर है। एक से अधिक उम्मीदवार होने पर 17 अक्टूबर को वोटिंग होगी और नतीजे 19 अक्टूबर को घोषित किए जाएंगे।

श्रीलंकाटीमनेपांचखिलाड़ियोंकोबायोबबलसेरिलीजकियाचीन का 1 करोड़ से अधिक रोजगार सृजन का लक्ष्य, आर्थिक मंदी के बावजूद शहरी नागरिकों को मिलेगी नौकरी****** चीन ने इस साल शहरी नागरिकों के लिए आर्थिक मंदी के बावजूद 1.1 करोड़ नई नौकरियों के सृजन का लक्ष्य तय किया है। ‘पीपुल्स डेली’ की रिपोर्ट के अनुसार, यह कदम देश की आर्थिक वृद्धि को मध्यम से उच्च गति की ओर जारी रखने के लिए लिया गया है।रेनमिन यूनिवर्सिटी ऑफ चाइना के प्राध्यपाक झेंग गोंगचेंग ने कहा, “पिछले साल चीन ने 1.314 करोड़ शहरी रोजगारों का सृजन किया था और चीन को इस साल के लक्ष्य को भी हासिल कर लेना चाहिए।” उन्होंने कहा कि सेवा क्षेत्र और अधिक नौकरियों को पैदा कर सकता है।श्रीलंकाटीमनेपांचखिलाड़ियोंकोबायोबबलसेरिलीजकियाCongress Leader leaving Party: गुलाम नबी से पहले ये दिग्गज नेता भी छोड़ चुके हैं कांग्रेस, जानें क्यों पार्टी से सभी का भंग हो रहा मोह******Highlights देश में करीब 60 वर्षों तक सत्ता के शीर्ष पर रही कांग्रेस से एक के बाद दिग्गज नेता पार्टी छोड़कर जा रहे हैं। इससे पीएम मोदी का कांग्रेस मुक्त भारत बनानेका नारा सच साबित होता दिख रहा है। जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और कई बार केंद्र में मंत्री रहे वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने भी अब कांग्रेस पार्टी को अलविदा कह दिया है। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि कांग्रेस में सबकुछ अच्छा नहीं चल रहा और पार्टीबेहद मुश्किल दौर से गुजर रही है। गुलाम नबी से पहले वर्ष 2014 में केंद्र में मोदी सरकार बनने के बाद से अब तक दर्जनों कांग्रेसी नेता पार्टी छोड़कर जा चुके हैं। ज्यादातर नेताओं ने भाजपा का ही दामन थामा है। इससे कांग्रेस पार्टी की लगातार दुर्गति हो रही है। हैरानी की बात तो यह है कि कांग्रेस पार्टी में रहकर लगभग अपनी उम्र गुजार देनेवाले दिग्गज कांग्रेसी भी पार्टी को टाटा कर रहे हैं। इससे पार्टी का अस्तित्व लगातार खतरे में पड़ता जा रहा है। साथ ही नेतृत्व पर गंभीर सवाल खड़ेहो रहेहैं। आखिर कुछ तोवजह है कि एक के बाद एक लगातार वरिष्ठ कांग्रेसी नेताओं का पार्टी से मोह भंग हो रहा है।आपको बता दें कि गुलाम नबी आजाद ने ऐसे वक्त में कांग्रेस पार्टी को अलविदा कहा है जब पार्टी में राष्ट्रीय अध्यक्ष ढूंढ़ने की कवायद तेजी से चल रही है। इस बीच में अंदर से छन-छन के खबरें आती रही हैं कि एक धड़ा राहुल गांधी को दोबारा पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाने की कोशिश कर रहा है। कहीं गुलाम के आजाद होने की वजह गांधी परिवार का लगातार पार्टी पर कब्जा बने रहना तो नहीं है। आखिर ऐसा क्या हो गया कि कांग्रेस में इंदिरा, राजीव, संजय और सोनिया गांधी के करीबी रहे गुलाम नबी आजाद ने अचानक पार्टी के सभी पदों से इस्तीफा दे दिया। पार्टी में कुछ तो गड़बड़ जरूर चल रहा है। गुलाम नबी आजाद कांग्रेस नेतृत्व से नाराज चल रहे प्रमुख जी-23 नेताओं में शामिल थे। वह पहले भी कई बार पार्टी के आलाकमान और नेतृत्व पर सवाल उठा चुके हैं।उनसे पहले किन-किन बड़े दिग्गज कांग्रेसियों ने पार्टी को अलविदा कहा है आइए वह भी आपको बताते हैं।कई बार केंद्र में मंत्री रहे और सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील दिग्गज कांग्रेसी नेता कपिल सिब्बल भी अभी कुछ माह पहले ही पार्टी को अलविदा कह चुके हैं। वह जी-23ग्रुप के प्रमुख नेताओं में थे। पंजाब में कई बार कांग्रेस सरकार बनने पर मुख्यमंत्री रहे। राहुल गांधी से विवाद के चलते वर्ष 2022 में हुए विधानसभा चुनाव के दौरान पार्टी छोड़ दी और कांग्रेस को पंजाब में करारी शिकस्त का सामना करना पड़ा।मध्य प्रदेश की सियासत में बड़ा कद रखने वाले और कभी राहुल गांधी के सबसे करीबी रहे कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया भी वर्ष 2021 में पार्टी में अंदरूनी कलह के चलते भाजपा में शामिल हो चुके हैं। अब वह मोदी सरकार में केंद्रीय मंत्री हैं।राहुल गांधी के बेहद करीबी कहे जाने वाले पूर्व केंद्रीय मंत्री रहे जितिन प्रसाद भी कांग्रेस को अलविदा कह चुके हैं। करीब 32 वर्षों तक कांग्रेस में रहे पूर्व केंद्रीय मंत्री आरपीएन सिंह ने भी यूपी चुनाव से पहले पार्टी का दामन छोड़ दिया। वह भाजपा में शामिल हो गए। यूपी सरकार में मंत्री हैं। कांग्रेस के दिग्गज नेता तरुण गोगोई के सबसे करीबी रहे हिमंत बिस्वा सरमा ने 2015 में कांग्रेस को छोड़ दिया था। इसके बाद वह भाजपा में शामिल हो गए थे। वर्तमान में वह भाजपा नीत सरकार में असम के मुख्यमंत्री हैं। मणिपुर से कांग्रेस विधायक रहे एन बीरेन सिंह ने भी वर्ष 2017 में कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया था। भाजपा में शामिल हो गए। वहां भाजपा सरकार बनने पर मुख्यमंत्री हुए। अरुणाचल प्रदेश में कांग्रेस पार्टी की सरकार में मुख्यमंत्री रहे पेमा खांडू ने भी भाजपा का दामन थाम लिया। अब वहां भाजपा सरकार में मुख्यमंत्री हैं। दिग्गज कांग्रेसी नेता पीसी चाको भी कांग्रेस छोड़कर शरद पवार की राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) में शामिल हो गए।पूर्व केंद्रीय मंत्री व वरिष्ठ नेता जयंती नटराजन ने वर्ष 2015 में ही कांग्रेस पार्टी छोड़ दी थी। उन्होंने राहुल गांधी समेत अन्य कांग्रेसियों पर काफी आरोप भी लगाए थे।यूपी सरकार में केंद्रीय मंत्री रहे जीके वासन ने 2014 में मोदी सरकार बनने के बाद ही कांग्रेस को टाटा कर दिया था। उन्होंने भी कांग्रेस के आलाकमान पर तमिलनाडु की कांग्रेस इकाई की अनदेखी का आरोप मढ़ा था। सोनिया गांधी के बेहद करीबी रहे टॉम वडक्कन ने भी पाकिस्तान पर सर्जिकल स्ट्राइक के बाद कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हो गए थे। उनका स्टैंड इस मसले पर पार्टी से अलग था। महाराष्ट्रमें दिग्गज कांग्रेसियों में गिने जाने वाले रंजीत देशमुख विलासराव सरकार में मंत्री रहे। उन्होंने भी कांग्रेस पार्टी को छोड़ दिया था। हरियाणा के वरिष्ठ कांग्रेसी नेता चौधरी वीरेंद्र सिंह ने वर्ष 2014 में ही कांग्रेस को छोड़कर भाजपा में शामिल हो गए। फिर मोदी सरकार में केंद्रीय मंत्री बने। उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी की अध्यक्ष रह चुकीं रीता बहुगुणा जोशी ने वर्ष 2016 में कांग्रेस छोडड़कर भाजपा में शामिल हो गईं। 2017 में योगी सरकार में महिला एवं बाल विकास मंत्री भी रहीं। उनके पिता स्वर्गीय हेमवती नंदन बहुगुणा भी दिग्गज कांग्रेसी थे और यूपी के लंबे समय तक मुख्यमंत्री रहे। अभिनेत्री उर्मिला मतोंडकर ने सिर्फ पांच महीने ही कांग्रेस पार्टी को अलविदा कह दिया था। लंबे समय तक कांग्रेस की ओर से गोवा के मुख्यमंत्री रहे। वर्ष 2022 के विधानसभा चुनाव से पहले ही कांग्रेस पार्टी से इस्तीफा दे दिया। इसके बाद वह तृणमूल कांग्रेस में शामिल हो गए। मणिपुर के पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष गोविंददास कौंथोजम ने कांग्रेस से इस्तीफा देकर हाल ही में भाजपा ज्वाइन कर लिया है।कांग्रेस पार्टी के दिल्ली के दिग्गज नेता और सीएम चेहरा रहे अजय माकन भी पार्टी को अलविदा कह चुके हैं।उत्तराखंड के पूर्व मंत्री और वरिष्ठ कांग्रेसी नेता हरक सिंह रावत भी कांग्रेस पार्टी छोड़ चुके हैं।गुजरात के वरिष्ठ कांग्रेसी नेता व पूर्व मुख्यमंत्री रहे शंकर सिंह वाघेला भी कांग्रेस पार्टी से इस्तीफा दे चुके हैं।पूर्व कांग्रेसी नेता रहे अखिलेश सिंह की पुत्री और रायबरेलवी की सदर सीट से विधायक अदिति सिंह ने वर्ष 2022 में यूपी विधानसभा चुनाव से पहले भाजपा का दामन थाम लिया था। उन्होंने प्रियंका गांधी वाड्रा और राहुल गांधी पर गंभीर आरोप लगाए थे। यूपी से कांग्रेस के नेता और राहुल गांधी के करीबी इमरान मसूद ने वर्ष 2022 में पार्टी को अलविदा कह दिया। कांग्रेस पंजाब इकाई के प्रमुख सुनील जाखड़ ने भी पार्टी हाईकमान पर चापलूसों और चुगलखोरों से घिरा होने का आरोप लगाकर इस्तीफा दे दिया था।युवा कांग्रेस नेता हार्दिक पटेल ने भी कुछ माह पहले कांग्रेस छोड़ दिया था। इसके बाद वह भाजपा में शामिल हो गए। पार्टी नेतृत्व और राहुल गांधी पर जमकर निशाना साधा था।पूर्व केंद्रीय मंत्री आश्वनी कुमार करीब 40 वर्ष तक कांग्रेस में रहे। इसके बाद उन्होंने पार्टी से इस्तीफा दे दिया। इस प्रकार दर्जनों अन्य कांग्रेसी भी पार्टी छोड़ चुके हैं।

हाल का ध्यान

लिंक