वर्तमान पद:मुखपृष्ठ > वुशान काउंटी > मूलपाठ

Sonali Phogat Murder Case: सोनाली फोगाट ने किसको दिया कितना पैसा? पुलिस खंगाल रही तीन बैंक अकाउंट

2022-10-04 16:08:36 वुशान काउंटी

सोनालीफोगाटनेकिसकोदियाकितनापैसापुलिसखंगालरहीतीनबैंकअकाउंटपाकिस्तान से कर्ज से पहले अतिरिक्त गारंटी मांगने के मामले में आया चीन का बड़ा बयान****** चीन ने पाकिस्तान की कमजोर आर्थिक स्थिति के मद्देनजर मेन लाइन-एक रेलवे लाइन परियोजना के लिए छह अरब डॉलर कर्ज को मंजूरी देने के पहले उससे अतिरिक्त गारंटी मांगी है। इस परियोजना के जरिए पेशावर से कराची तक 1,872 किलोमीटर रेल मार्ग का दोहरीकरण और पटरियों की मरम्मत का काम किया जाना है। चीन ने इस रिपोर्ट को बेबुनियाद बताया है। चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजिआन ने इस रिपोर्ट को भी खारिज कर दिया कि पाकिस्तान में बढ़ते भ्रष्टाचार और आतंकवादी हमलों के कारण चीन 60 अरब डॉलर की सीपीईसी (चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारा) परियोजना को लेकर आरंभिक वित्तीय प्रतिबद्धता से पीछे हट रहा है।झाओ ने यहां संवाददाता सम्मेलन में इन रिपोर्टों को आधारहीन और बेबुनियाद बताया। उन्होंने कहा, ‘‘वैश्विक आर्थिक मंदी के बावजूद, चीन का समेत बीआरआई-बेल्ट एंड रोड इनीशिएटिव को लेकर योगदान घटने के बजाए बढ़ा है।’’ प्रवक्ता ने कहा, ‘‘पहली तीन तिमाहियों में चीन का बीआरआई से जुड़े देशों में प्रत्यक्ष निवेश करीब 30 प्रतिशत बढ़ा है। चीन ने बीआरआई भागीदार देशों को महामारी से निपटने और अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिये मदद की पेशकश की है।’’पाकिस्तान के बलूचिस्तान प्रांत में ग्वादर बंदरगाह को चीन के शिनजिआंग प्रांत से जोड़ने वाली सीपीईसी परियोजना चीन की महत्वकांक्षी अरबों डॉलर की बीआरआई पहल का हिस्सा है। भारत ने परियोजना को लेकर चिंता जतायी है क्योंकि सीपीईसी का कुछ हिस्सा पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर से गुजरता है।पाकिस्तान के अखबारों में हाल में यह रिपोर्ट प्रकाशित हुई थी कि चीन ने रेलवे लाइन (मेन लाइन-1) परियोजना के लिये 6 अरब डॉलर का कर्ज स्वीकृत करने को लेकर अतिरिक्त गारंटी मांगी है। मामले से जुड़े पाकिस्तान के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि चीन ने मेन लाइन-1 परियोजना से संबद्ध वित्त पोषण समिति की 13 दिसंबर को हुई बैठक में अतरिक्त गारंटी का मुद्दा उठाया था।उसने कहा कि पाकिस्तान ने जी-20 देशों से ऋण राहत को लेकर आवेदन दिया था। उसके बाद चीन ने पाकिस्तान की वित्तीय स्थिति की स्पष्टता को लेकर अतिरिक्त गारंटी का मुद्दा उठाया। जी-20 देशों की राहत व्यवस्था केवल दुनिया के गरीब देशों के लिये है।

सोनालीफोगाटनेकिसकोदियाकितनापैसापुलिसखंगालरहीतीनबैंकअकाउंटनिजामुद्दीन मरकज के प्रवक्ता नहीं मान रहे अपनी गलती, कहा सरकार के आदेश के बाद लगाई थी पाबंदी******दिल्‍ली के निजामुद्दीन इलाके में निजामुद्दीन मरकज में 2000 से अधिक लोगों के एक साथ रहने और कोरोना वायरस संक्रमण से पीडि़त होने की खबर से पूरे देश में सनसनी है। दिल्‍ली सरकार ने 13 मार्च को ही आदेश जारी कर 200 लोगों से अधिक के एक साथ एकत्रित होने पर रोक लगा दी थी, बावजूद इसके निजामुद्दीन मरकज ने 13 से 15 मार्च तक अपने कार्यक्रम का आयोजन किया और हजारों लोगों को यह रुकने की इजाजत दी और प्रशासन को इसकी सूचना तक नहीं दी। ऐसे में निजामुद्दीन मरकज पर सवाल उठ रहे हैं और आरोप भी लग रहे हैं।इन आरोपों का खंडन करने और सवालों का जवाब देने के लिए के प्रवक्‍ता मुशर्रफ अली सामने आए। इंडिया टीवी से बात करते हुए उन्‍होंने कहा कि दुख और अफसोस की बात है कि पूरा देश इस बहुत बड़ी महामारी से जूझ रहा है, हमे बड़ा दुख है जिनकी जान गई है और जो लोग बीमार भी हैं, साथ-साथ मैं ये कहना चाहूंगा कि इसके लिए तबलीक जमात जिम्मेदार है तो यह अपने आप में ठीक नहीं है, क्योंकि पूरी दुनिया में ये महामारी फैल रही है, चीन से शुरू हुई, फिर इटली, स्पेन और अब पूरी दुनिया में फैल गई।ये जो मरकज है, ये इंटरनेशनल सेंटर है पूरी दुनिया का तबलीक जमात का, एक ही सेंटर है हजरत निजामुद्दीन में, पूरे देश और दुनिया से लोग आते हैं और चले जाते हैं, और जब आते हैं तो दिल्ली जैसे शहर में रहने का ठिकाना नहीं होता, वे इसी मस्जिद में ठहर जाते हैं, रोजाना आना जाना रहता है लोगों का। ऐसा कहना की जानबूझकर बुलाया तो गलत होगा। वे लोग पहले से ही वहां पर मौजूद थे, कहीं से उनको आने नहीं दिया, वे पहले से मौजूद थे, बिल्डिंग की क्षमता 12 हजार लोगों की है, हमने बाहर से आने वाले लोगों पर पाबंदी लगाई।लोगों की स्क्रीनिंग करना और टेस्ट करना सरकार की जिम्मेदारी है, एयरपोर्ट पर सभी इस प्रक्रिया से गुजरे हैं। ऐसा नहीं कि सरकार के आदेश की अवहेलना करके लोगों को जमा किया है। हमने इकट्ठा नहीं किया लोगों को, हमने एंट्री बंद कर दी, जब आदेश मिला तब एंट्री बंद कर दी। 22 मार्च से एंट्री बंद कर दी।सोनालीफोगाटनेकिसकोदियाकितनापैसापुलिसखंगालरहीतीनबैंकअकाउंटInd vs Aus U19 World Cup 2022: ऑस्ट्रेलिया को रौंदकर शान से लगातार चौथी बार फाइनल में पहुंचा भारत******Highlightsकप्तान यश धुल के शतक और उप कप्तान शेख रशीद की अर्धशतक की बदौलत भारत ने ऑस्ट्रेलिया जैसी मजबूत टीम को 96 रन से हराकर लगातार चौथी बार ICC U19 वर्ल्ड कप के फाइनल में जगह बनाई। यश धुल को कप्तानी पारी के लिए मैन ऑफ द मैच अवॉर्ड से नवाजा गया।फाइनल में अब भारत के सामने इंग्लैंड की टीम होगी।एंटीगा के कूलिज क्रिकेट ग्राउंड पर खेले गए U19 वर्ल्ड कप के दूसरे सेमीफाइनल मुकाबले में भारत ने शुरूआती झटकों से उबरते हुए पांच विकेट पर 290 रनों का विशाल स्कोर खड़ा किया। कप्तान यश धुल ने (110) और उप कप्तान शेख रशीद ने 94 रनों की पारी खेली। इसके जवाब में ऑस्ट्रेलिया की पूरी टीम 41.5 ओवर में 194रनों पर ढेर हो गई।भारत की ओर से विकी ओस्तवाल ने सबसे ज्यादा 3 विकेट अपने नाम किए। वहीं, रवि कुमार और निशांत सिंधु को 2-2 सफलता मिली। कौशल और रघुवंशी के खाते में 1-1 विकेट आया।इस मुकाबले में टॉस जीतकर बल्लेबाजी करने का फैसला करने के बाद भारत ने फॉर्म में चल रहे सलामी बल्लेबाज अंगकृष रघुवंशी (06) का विकेट आठवें ओवर में 16 रन के स्कोर पर ही गंवा दिया था। विलियम साल्जमैन (57 रन देकर दो विकेट) की गेंद रघुवंशी के बल्ले का बाहरी किनारा लेकर उनके स्टंप उखाड़ गयी। दूसरे सलामी बल्लेबाज हरनूर सिंह (16) भी ज्यादा देर तक नहीं टिक सके और भारत को दूसरा झटका 37 रन पर लगा।धुल और रशीद ने गजब का संयम दिखाया और भारत को बड़े स्कोर की ओर अग्रसर किया। इस दौरान धुल ने अपना शतक पूरा किया लेकिन रशीद छह रन से 100 रन बनाने से चूक गये। इन दोनों ने तीसरे विकेट के लिये 204 रन की साझेदारी निभा ली थी कि कप्तान धुल रन आउट हो गये। वह 46वें ओवर में आउट हुए। उन्होंने 110 गेंद में 10 चौके और एक छक्के की मदद से इतने ही रन बनाये। अगली ही गेंद पर रशीद भी अपना विकेट गंवा बैठे।टीम का स्कोर 241 रन था और वह जैक निस्बेट (नौ ओवर में एक मेडन से 41 रन देकर दो विकेट) की गेंद का शिकार हो हुए। उन्होंने 108 गेंद में आठ चौके और एक छक्के से 94 रन की पारी खेली। कोविड-19 से उबरने के बाद इस मैच में वापसी करने वाले निशांत सिंधू 12 (एक चौका और एक छक्का) और विकेटकीपर बल्लेबाज दिनेश बना 20 रन (चार गेंद में दो चौके और दो छक्के) बनाकर नाबाद रहे।

Sonali Phogat Murder Case: सोनाली फोगाट ने किसको दिया कितना पैसा? पुलिस खंगाल रही तीन बैंक अकाउंट

सोनालीफोगाटनेकिसकोदियाकितनापैसापुलिसखंगालरहीतीनबैंकअकाउंटKXIP vs SRH : 14 रन पर 7 विकेट खोकर हैदराबाद ने अपने नाम दर्ज किया ये शर्मनाक रिकॉर्ड******आईपीएल 2020 का 43वां मुकाबले में किंग्स इलेवन पंजाब ने सनराइजर्स हैदराबाद को लो स्कोरिंग मैच में 12 रन से मात देकर अपने लगातार चौथा मुकाबला जीता। इस मैच में पंजाब ने पहले बल्लेबाजी करते हुए हैदराबाद के सामने 127 रन का लक्ष्य रखा था जिसके सामने पूरी टीम 19.5 ओवर में 114 रन पर ढेर हो गई थी। एक समय पर हैदराबाद का स्कोर तीन विकेट के नुकसान पर 100 रन था, लेकिन मनीष पांडे के आउट होने के बाद टीम ताश के पत्तों की तरह ढह गई और पंजाब ने अगले 14 रनों में उनके 7 विकेट चटका दिए। इसी के साथ हैदराबाद के नाम एक शर्मानक रिकॉर्ड दर्ज हो गया है।8/7 (144/3-152) DC v KXIP मोहाली 201910/7 (106/3-116) SRH v DC हैदराबाद 201912/7 (149/3-161) Deccan v DD डरबन 200914/7 (100/3-114) SRH v KXIP दुबई 2020 *वहीं इसके अलावा हैदराबाद के नाम एक और शर्मनाक रिकॉर्ड यह दर्ज हुआ है। हैदराबाद की टीम का छोटे लक्ष्य का पीछा करते हुए असफल चेज ममें यह सबसे बुरी हार है।127 बनाम किंग्स इलेवन पंजाब, दुबई 2020*137 बनाम मुंबई इंडियंस, हैदराबाद 2019149 बनाम राइजिंग पुणे सुपरजाइंट हैदराबाद 2017वहीं पंजाब की टीम हैदराबाद के खिलाफ अपने आईपीएल करियर का दूसरा सबसे कम स्कोर डिफेंड करने में सफल रही है।119 बनाम मुंबई इंडियंस, डरबन 2009126 बनाम सनराइजर्स हैदराबाद, दुबई 2020*132 बनाम कोलकाता नाइट राइडर्स, अबु धाबी 2014सोनालीफोगाटनेकिसकोदियाकितनापैसापुलिसखंगालरहीतीनबैंकअकाउंटहैरिस, क्लिंटन ने एक कार्यक्रम जुटाए 60 लाख डॉलर, ट्रंप का उड़ाया मजाक****** भारतीय मूल की सीनेटर एवं डेमोक्रेटिक पार्टी की ओर से उप राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार और 2016 में राष्ट्रपति पद की प्रत्याशी रही हिलेरी क्लिंटन ने एक कार्यक्रम में 60 लाख डॉलर जुटाए। इस कार्यक्रम में दोनों नेताओं ने अमेरिकी राष्ट्रपति का मजाक उड़ाया। चंदा जुटाने के लिए हुए इस डिजिटल कार्यक्रम में क्लिंटन ने कहा, "मैंने उन्हें (ट्रंप को) कभी हंसते हुए नहीं देखा। कभी भी उन्हें अपना मजाक बनाते नहीं देखा। निश्चित तौर पर उनके बाल बनाने के तरीके पर नहीं..आप को मालूम है कि इसमें मुझे काफी अनुभव है। उनमें हास्य बोध नहीं है। आप जानते हैं कि वह लोगों को गिराना पसंद करते हैं न कि उठाना।"हैरिस ने ट्रंप के व्यक्तित्व पर कहा, "मैं आपसे पूरी तरह से सहमत हूं, हिलेरी।" हैरिस ने कहा, "उनके बारे में कुछ भी आनंददायक नहीं है। उनके बारे में ऐसा कुछ नहीं है जो आनंद देता हो।" उन्होंने कहा कि यह वास्तव में शर्म की बात है। सब लोगों की जिंदगियों में ऐसा कुछ होता है जो उन्हें वास्तविक तौर पर मुस्कुराने की ताकत देता है।क्लिंटन ने कहा कि इस कार्यक्रम में एक लाख से ज्यादा लोगों से 60 लाख डॉलर से अधिक राशि जुटाई गई है। चंदा जुटाने वाले इस कार्यक्रम की मेजबानी अमेरिकी अभिनेत्री, गायिका, कॉमेडियन माया खबीरा रूडोल्फ़ और एमी पोहलर ने की। अपनी टिप्पणी में क्लिंटन ने कैलिफोर्निया, ओरेगन और वाशिंगटन में वनाग्नि का मुद्दा उठाया। साथ में वायु गुणवत्ता का भी मुद्दा उठाया। हैरिस ने पूर्व विदेश मंत्री क्लिंटन को महिलाओं के लिए आदर्श बताया।सोनालीफोगाटनेकिसकोदियाकितनापैसापुलिसखंगालरहीतीनबैंकअकाउंटआयकर विभाग ने 3 प्रमुख कमीशन एजेंट समूह के पंजाब, हरियाणा परिसरों की तलाशी ली******आयकर विभाग ने 3 प्रमुख कमीशन एजेंट समूह के पंजाब, हरियाणा परिसरों की तलाशी लीनयी दिल्ली: आयकर विभाग ने तीन प्रमुख कमीशन एजेंट समूह के पंजाब और हरियाणा स्थित कई परिसरों की तलाशी ली है। तलाशी से करोड़ों रुपये के बेहिसाब लेन-देन का पता चला है। आयकर विभाग ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। बयान के अनुसार ये तीनों समूह स्टील रोलिंग मिल, कोल्ड स्टोरेज, आभूषण की दुकान, पॉल्ट्री, चावल मिल, ऑयल मिल, आटा मिल चलाने के साथ कमीशन एजेंट के रूप में काम करते हैं। तलाशी के दौरान यह पता चला कि ये समूह कारोबार से प्राप्त राशि को छिपा रहे थे और उन्होंने प्राप्त राशि का कोई हिसाब-किताब नहीं रखा है।केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) के बयान के अनुसार, ‘‘तलाशी के दौरान कच्चा बही-खाता पाया गया। इसे कूट भाषा में लिखा गया था। इससे पता चलता है कि करोड़ों रुपये के बिना हिसाब-किताब के लेन-देन किये गये। इसी प्रकार के और बही-खाते पाये गये हैं।’’ ‘‘तलाशी में पाया गया कि किसानों को 1.5 प्रतिशत से 3.0 प्रतिशत मासिक ब्याज पर करोड़ों रुपये दिये गये। ब्याज नकद लिया गया और उसका बही-खाते में जिक्र नहीं है।’’इसके अलावा कुक्कुट व्यवसाय और चावल मशीन से संबंधित 9.00 करोड़ रुपये से अधिक की नकद खरीद-बिक्री का पता चला है। इसके अलावा, जालंधर स्थित एक परिसर से 1.29 करोड़ रुपये की बेहिसाब खरीद की जानकारी मिली है साथ ही बेहिसाब बिक्री का विवरण भी मिला है। आयकर विभाग के अनुसार कर्मचारियों के नाम पर दो संदिग्ध बेनामी कंपनियों का भी पता चला है। इनका कारोबार सालाना करोड़ों रुपये में है। बयान के अनुसार मुख्य करदाता ने स्वीकार किया कि आयकर कानून, 1961 की धारा 40 ए (3) के तहत करोड़ों रुपये भुगतान किये गये। ये खर्च बही-खातों में छोटी-छोटी राशि के रूप में बांट कर दिखाये गये।इसके अलावा, अचल संपत्ति में 3.40 करोड़ रुपये के निवेश का पता चला है। तलाशी के दौरान शामिल इन संपत्तियों के मालिकों ने इसे स्वीकार किया है। बयान में कहा गया है कि कुछ परिसरों में डिजिटल साक्ष्य बरामद किये गये हैं, जिसे जब्त कर लिया गया है। इसकी जांच की जा रही है। इसके अलावा कारोबार से जुड़े कोष की हेराफेरी, 1.50 करोड़ रुपये के आभूषण का भी पता चला है। इस आभूषण की राशि का कोई हिसाब-किताब नहीं है। तलाशी अभियान और मामले की जांच जारी है।

Sonali Phogat Murder Case: सोनाली फोगाट ने किसको दिया कितना पैसा? पुलिस खंगाल रही तीन बैंक अकाउंट

सोनालीफोगाटनेकिसकोदियाकितनापैसापुलिसखंगालरहीतीनबैंकअकाउंटपाकिस्तान से कर्ज से पहले अतिरिक्त गारंटी मांगने के मामले में आया चीन का बड़ा बयान****** चीन ने पाकिस्तान की कमजोर आर्थिक स्थिति के मद्देनजर मेन लाइन-एक रेलवे लाइन परियोजना के लिए छह अरब डॉलर कर्ज को मंजूरी देने के पहले उससे अतिरिक्त गारंटी मांगी है। इस परियोजना के जरिए पेशावर से कराची तक 1,872 किलोमीटर रेल मार्ग का दोहरीकरण और पटरियों की मरम्मत का काम किया जाना है। चीन ने इस रिपोर्ट को बेबुनियाद बताया है। चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजिआन ने इस रिपोर्ट को भी खारिज कर दिया कि पाकिस्तान में बढ़ते भ्रष्टाचार और आतंकवादी हमलों के कारण चीन 60 अरब डॉलर की सीपीईसी (चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारा) परियोजना को लेकर आरंभिक वित्तीय प्रतिबद्धता से पीछे हट रहा है।झाओ ने यहां संवाददाता सम्मेलन में इन रिपोर्टों को आधारहीन और बेबुनियाद बताया। उन्होंने कहा, ‘‘वैश्विक आर्थिक मंदी के बावजूद, चीन का समेत बीआरआई-बेल्ट एंड रोड इनीशिएटिव को लेकर योगदान घटने के बजाए बढ़ा है।’’ प्रवक्ता ने कहा, ‘‘पहली तीन तिमाहियों में चीन का बीआरआई से जुड़े देशों में प्रत्यक्ष निवेश करीब 30 प्रतिशत बढ़ा है। चीन ने बीआरआई भागीदार देशों को महामारी से निपटने और अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिये मदद की पेशकश की है।’’पाकिस्तान के बलूचिस्तान प्रांत में ग्वादर बंदरगाह को चीन के शिनजिआंग प्रांत से जोड़ने वाली सीपीईसी परियोजना चीन की महत्वकांक्षी अरबों डॉलर की बीआरआई पहल का हिस्सा है। भारत ने परियोजना को लेकर चिंता जतायी है क्योंकि सीपीईसी का कुछ हिस्सा पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर से गुजरता है।पाकिस्तान के अखबारों में हाल में यह रिपोर्ट प्रकाशित हुई थी कि चीन ने रेलवे लाइन (मेन लाइन-1) परियोजना के लिये 6 अरब डॉलर का कर्ज स्वीकृत करने को लेकर अतिरिक्त गारंटी मांगी है। मामले से जुड़े पाकिस्तान के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि चीन ने मेन लाइन-1 परियोजना से संबद्ध वित्त पोषण समिति की 13 दिसंबर को हुई बैठक में अतरिक्त गारंटी का मुद्दा उठाया था।उसने कहा कि पाकिस्तान ने जी-20 देशों से ऋण राहत को लेकर आवेदन दिया था। उसके बाद चीन ने पाकिस्तान की वित्तीय स्थिति की स्पष्टता को लेकर अतिरिक्त गारंटी का मुद्दा उठाया। जी-20 देशों की राहत व्यवस्था केवल दुनिया के गरीब देशों के लिये है।सोनालीफोगाटनेकिसकोदियाकितनापैसापुलिसखंगालरहीतीनबैंकअकाउंटआशा भोसले ने दुबई में मनाया 86वां बर्थडे, कनाडा के प्रधानमंत्री ने यूं दी बधाई******कनाडा के प्रधानमंत्री ने वरिष्ठ पाश्र्व गायिका को उनके 86वें जन्मदिन पर शुभकामनाएं दीं। आशा भोसले ने अपना बर्थडे परिवार और करीबी दोस्तों के साथ दुबई में मनाया। सोशल मीडिया पर उनके जन्मदिन की कई सारी तस्वीरें वायरल हो रही हैं, जिसमें दिग्गज गायिका नीले रंग की साड़ी में केक काटते नजर आ रही हैं।भोसले ने रविवार को ट्विटर पर टड्रो द्वारा भेजे गए एक मैसेज को साझा किया, जिसमें लिखा था, "आपके 86वें जन्मदिन के अवसर पर आपको शुभकामनाएं और हार्दिक बधाई देना मेरे लिए बहुत खुशी की बात है।"इसके कैप्शन में आशा भोसले ने लिखा, "मुझे खुशी है कि मेरे 86वें जन्मदिन पर मेरी उपलब्धियों ने भारत को वर्ल्ड म्यूजिक के मानचित्र पर अंकित किया है, जिस वजह से विश्व के नेता मेरी उपस्थिति को मानते हैं। कनाडा के प्रधानमंत्री टड्रो का शुक्रिया।"आशा भोसले ने सोशल मीडिया पर लिखा, "मैंने दुबई में अपने रेस्तरां में जन्मदिन मनाया। मैं, अपने प्यारे कर्मचारियों और मेहमानों से घिरी हुई हूं, जो मुझे और मेरे शानदार परिवार को देखने आए हैं! इससे ज्यादा बेहतर तरीके से मेरा जन्मदिन नहीं मनाया जा सकता था। मुझे देखने के लिए आए सभी लोगों का बहुत बहुत धन्यवाद, इसका आयोजन करने वाले लोगों को भी बहुत-बहुत धन्यवाद।"भोसले ने साल 1940 से अपने करियर की शुरुआत की थी। छह दशकों से भी अधिक समय में भोसले ने 'रात अकेली है', 'कजरा मोहब्बत वाला', 'दम मारो दम', 'जरा सा झूम लूं मैं' जैसे कई गानों से अपने प्रशंसकों का दिल जीता है।

Sonali Phogat Murder Case: सोनाली फोगाट ने किसको दिया कितना पैसा? पुलिस खंगाल रही तीन बैंक अकाउंट

सोनालीफोगाटनेकिसकोदियाकितनापैसापुलिसखंगालरहीतीनबैंकअकाउंटनिफ्टी पहली बार पहुंचा 9500 के पार, सेंसेक्स में 249 अंको की जोरदार उछाल******बम्बई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) का 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 30,000 अंक के ऊपर कारोबार कर रहा है। करीब 2.30 बजे सेंसेक्स 249.41 की तेजी के साथ 30,571 के स्तर पर कारोबार करता नजर आया। इससे पहले सेंसेक्स ने कारोबार के बीच में 11 मई को 30,366.43 अंक की नई उंचाई को छुआ था, आज यह इससे भी उपर निकल गया।कारोबार के दौरान यूनिटेक लिमिटेड में 8.98 फीसदी, जम्मू और कश्मीर बैंक में 8.28 फीसदी, अदानी पावर लिमिटेड में 8.09 फीसदी, केईसी इंटरनेशनल लिमिटेड में 5.30 फीसदी और अदानी ट्रांसमिशन में 4.99 फीसदी की तेजी देखने को मिल रही है।

सोनालीफोगाटनेकिसकोदियाकितनापैसापुलिसखंगालरहीतीनबैंकअकाउंटथूक वाले वीडियो से मुश्किल में आए जावेद हबीब ने मांगी माफी, महिला ने दर्ज कराई शिकायत******Highlightsमशहूर हेयरस्टाइलिस्ट ने उस वायरल वीडियो के सिलसिले में माफी मांग ली है जिसमे उन्हें एक महिला के बालों पर थूकते हुए दिखाया गया था। इस वीडियो को देखने के बाद जावेद की निंदा हो रही थी और वो सोशल मीडिया पर भी ट्रोल हो गए थे। इस सिलसिले में महिला (जिसे बालों पर थूका था) ने भी पुलिस में इस संबंध में शिकायत दर्ज करवा दी है।वीडियो में आप देख सकते हैं कि जावेद एक महिला के बालों को काटने जा रहे हैं, पहले तो जावेद हबीब महिला के बालों को गंदा कहते हैं और फिर कहते हैं पानी की कमी है। इसके बाद वो महिला के सिर पर थूक देते हैं जिसके बाद महिला असहज महसूस करती है। मगर लोग तालियां बजाने लगते हैं।वीडियो में दिख रही महिला का नाम पूजा गुप्ता है और साफ दिख रहा है कि वो जावेद की हरकत के बाद असहज हो गई थी। पूजा ने वीडियो शेयर करके अब इस बात पर अपनी नाराजगी जताई है।इस वीडियो में पूजा कह रही हैं कि उनका नाम पूजा गुप्ता है। वो बड़ौत की रहने वाली हैं और एक पार्लर चलाती हैं। वो जावेद हबीब का सेमिनार अटेंड करने गई थीं। जहां उन्हें जावेद हबीब ने स्टेज पर आने के लिए इनवाइट किया था। पूजा ने बताया कि वहां उन्होंने मिसबिहैव किया और बताया कि अगर आपके पास पानी नहीं है तो आप अपने थूक से भी हेयरकट करा सकते हैं। पूजा ने कहा कि उन्होंने बाल नहीं कटवाया और वो गली के नुक्कड़ के नाई से बाल कटवा लूंगी लेकिन कभी जावेद हबीब से बाल नहीं कटवाऊंगी।इसके बाद सोशल मीडिया पर ये दोनों ही वीडियो वायरल हो गए और यूजर जावेद हबीब को बुरा भला कहने लगे। उनके इस काम की कड़ी निन्दा होने लगी। इधर पूजा गुप्ता ने पहले तो जावेद के खिलाफ कोतवाली में शिकायत दर्ज करवाने की कोशिश की लेकिन वहां उन्हें नाकामी मिली और इसके बाद पूजा ने CM पोर्टल पर शिकायत की है। सीएम पोर्टल पर शिकायत के बाद मुजफ्फरनगर के मंसूरपुर थाने में रिपोर्ट कर ली गई है।राष्ट्रीय महिला आयोग (एनसीडब्ल्यू) ने हेयर स्टाइलिस्ट जावेद हबीब को एक वायरल वीडियो के संबंध में 11 जनवरी को पेश होने के लिए कहा है।जावेद अली ने एक पोस्ट के जरिए इस मसले पर माफी मांगी है। उन्होंने कहा कि उनका मकसद किसी को दुख पहुंचाने का नहीं थी। उनके शो लंबे होते हैं। एक ही बात बोलता हूं, दिल से बोलता हूं, अगर सच्ची में आपको हर्ट हुआ है तो माफ कर दो। सारी..दिल से माफी मांगता हूं।सोनालीफोगाटनेकिसकोदियाकितनापैसापुलिसखंगालरहीतीनबैंकअकाउंटRajat Sharma’s Blog: क्या 2024 तक किसी एक नेता के नाम पर सहमत हो पाएंगे विपक्षी दल?******पैगसस विवाद की जांच की मांग को लेकर विपक्षी दलकार्यवाही में लगातार व्यवधान डाल रहे हैं, जिसके कारण संसद का मॉनसून सत्र पिछले 10 दिनों से ठप है। गुरुवार को राज्यसभा में विपक्षी सदस्यों ने कार्यवाही बाधित करने के लिए जोर-जोर से तालियां बजाईं, तो लोकसभा में तृणमूल कांग्रेस और कांग्रेस के सांसदों ने पर्चे फाड़कर उन्हें हवा में उछाल दिया।जहां सरकार दावा कर रही है कि वह सदन के अंदर सभी मुद्दों पर चर्चा करने के लिए तैयार है, वहीं विरोधी दल भी कह रहे हैं कि वे सभी मुद्दों पर चर्चा करना चाहते हैं। फिर चर्चा क्यों नहीं हो रही? यह गतिरोध क्यों है? विपक्ष के सांसद क्यों जोर-जोर से ताली बजा रहे हैं, कागज फाड़ रहे हैं, मंत्री से आंसर शीट छीन रहे हैं और हंगामा कर रहे हैं।मकसद साफ है: विपक्ष पैगसस स्पाइवेयर के मुद्दे पर सरकार को घेरना चाहता है, लेकिन विरोधी दल अलग-अलग स्वरों में बात कर रहे हैं। एक पक्ष सदन के अंदर बहस चाहता है, दूसरा चाहता है कि एक संयुक्त संसदीय समिति जांच करे, और तीसरा सुप्रीम कोर्ट के जज की निगरानी में जांच चाहता है। वहीं, केंद्र अपने रुख को लेकर स्पष्ट है। वहीं, केंद्र अपने रुख को लेकर स्पष्ट है। वह चाहता है कि विपक्ष ठोस सबूत पेश करे क्योंकि अफवाह के आधार पर जांच का आदेश नहीं दिया जा सकता।बुधवार को कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने संसद में विपक्षी नेताओं की बैठक बुलाकर लीड लेने की कोशिश की। बैठक में कांग्रेस, शिवसेना, एनसीपी, समाजवादी पार्टी, आरजेडी, आम आदमी पार्टी, मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी और नेशनल कॉन्फ्रेंस ने भाग लिया। इसमें तृणमूल कांग्रेस के नेता शामिल नहीं हुए। बैठक के तुरंत बाद विपक्षी सदस्यों ने लोकसभा के अंदर पर्चे फाड़े और उन्हें हवा में उछाल दिया। तृणमूल कांग्रेस के सांसदों ने सदन के अंदर 'खेला होबे' के नारे लगाए। सदन स्थगित होने के बाद विपक्षी सांसदों ने संसद से विजय चौक तक मार्च किया और फिर मीडिया को संबोधित किया। इस दौरान राहुल गांधी के साथ शिवसेना नेता संजय राउत, एनसीपी नेता सुप्रिया सुले, समाजावदी पार्टी नेता रामगोपाल यादव और डीएमके एवं आरजेडी के नेता मौजूद थे। राहुल गांधी ने कहा कि वह सरकार से सिर्फ 2 सवालों के जवाब चाहते हैं। एक, सरकार ने इजरायल से पैगसस स्पाइवेयर खरीदा या नहीं, और दूसरा, सरकार ने पैगसस के जरिए भारत के लोगों की जासूसी की या नहीं?लगभग उसी समय, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो ममता बनर्जी ने मोदी सरकार का मुकाबला करने की रणनीति तैयार करने के लिए अपनी पार्टी के सांसदों की बैठक बुलाई थी। बाद में टीएमसी सांसद कल्याण बनर्जी ने साफ कहा कि मोदी के खिलाफ विपक्ष का नेतृत्व सिर्फ ममता बनर्जी ही कर सकती हैं। उन्होंने कहा, मोदी का कोई विकल्प है तो वह ममता बनर्जी हैं, क्योंकि ‘वह लीडर नंबर 1’ हैं। इसके तुरंत बाद ममता बनर्जी ने अंतरिम कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से उनके आवास 10 जनपथ पर मुलाकात की। 45 मिनट तक चली इस मीटिंग में राहुल गांधी भी शामिल हुए। मीडिया को संबोधित करते हुए तृणमूल सुप्रीमो ने कहा, सभी विपक्षी दलों को हाथ मिलाना होगा और मिलकर काम करना होगा। हालांकि उन्होंने इस सवाल का कोई जवाब नहीं दिया कि क्या वह विपक्ष का नेतृत्व करने के लिए तैयार हैं।फिलहाल विपक्ष का नेतृत्व करने की दौड़ में 3 दावेदार दिखाई दे रहे हैं: राहुल गांधी, ममता बनर्जी और एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार। दिलचस्प बात यह है कि ये तीनों नेता अपनी अलग-अलग रणनीति बना रहे हैं। पवार समाजवादी पार्टी के नेता रामगोपाल यादव के साथ लेकर आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव का हालचाल लेने पहुंच गए। विपक्षी नेताओं में पवार सबसे अनुभवी और सक्रिय नेता हैं। उन्हें पता है कि लालू यादव भले ही बीमार हों और पिछले कई सालों से सक्रिय राजनीति से दूर हों, लेकिन उन्हें कमजोर नेता नहीं समझना चाहिए। अगर लालू की बेटी मीसा भारती ने इस मुलाकात के बारे में ट्वीट नहीं किया होता तो यह सीक्रेट ही रहती।राजनीतिक घटनाक्रम को देखते हुए 2 बातें साफ हैं। एक तो यह कि विपक्ष जल्दी शांत होने वाला नहीं है और संसद की कार्यवाही में बाधा डालता रहेगा। न ही सरकार विपक्ष की मांगों के आगे झुकने को तैयार है। आईटी मंत्री अश्विनी वैष्णव के हाथों से पर्चा छीनकर फाड़ने वाले तृणमूल सांसद शांतनु सेन को पूरे सेशन के लिए सस्पेंड कर दिया गया, लेकिन लोकसभा में बुधवार को सदन के अंदर पर्चे फाड़कर स्पीकर की चेयर की तरफ फेंकने वाले सांसदों पर फिलहाल कोई ऐक्शन नहीं हुआ है। लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला पहले ही विपक्षी नेताओं को बुलाकर चेतावनी दे चुके हैं कि वह गलती करने वाले सदस्यों के खिलाफ कार्रवाई कर सकते हैं। सरकार ने फैसला किया है कि सभी विधेयकों को संसद में पारित करवाया जाएगा, भले ही विपक्षी सदस्य शोर-शराबा करें या व्यवधान पैदा करें।दूसरी बात ये कि अब लगभग तय है कि 13 अगस्त तक मॉनसून सेशन के दौरान संसद में हंगामा भी होगा, और सरकारी काम भी होगा, सिर्फ चर्चा नहीं होगी। विपक्ष इसके लिए सरकार को जिम्मेदार ठहराएगा और सरकार कहेगी कि विरोधी दल ही चर्चा नहीं चाहता। इसके अलावा कांग्रेस के नेता इस बात को लेकर परेशान हैं कि ममता बनर्जी, जो कि अभी दिल्ली में हैं, लीड लेने की कोशिश कर सकती हैं और इसीलिए पिछले कुछ दिनों में राहुल गांधी की ऐक्टिविटी और विजिबिलिटी बढ़ गई है। एक दिन वह किसानों के मुद्दे को उजागर करने के लिए पार्टी के सांसदों के साथ संसद में ट्रैक्टर पर सवार होकर आए तो बुधवार को उन्होंने विजय चौक तक मार्च में विपक्षी सांसदों का नेतृत्व किया। कांग्रेस नेता नहीं चाहते कि ममता एकजुट विपक्ष के प्रतीक के रूप में उभरें।दूसरी तरफ तृणमूल सांसद चाहते हैं कि ममता निर्विवाद रूप से विपक्ष की नेता के रूप में उभरें। यह सच है कि ममता ने पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनावों के दौरान बीजेपी की चुनावी मशीन को कड़ी टक्कर दी और उसे करारी हार का सामना करना पड़ा। ममता बनर्जी बंगाल में मिली अपनी जीत का इस्तेमाल राष्ट्रीय स्तर पर मोदी के खिलाफ हवा बनाने में करना चाहती हैं। कुछ लोग कहेंगे कि 2024 के आम चुनावों में अभी 3 साल बाकी हैं, लेकिन ममता ने खुद इसका जवाब दिया और कहा कि बीजेपी को हराने के लिए विपक्षी दलों को अभी से तैयारी करनी होगी। यह भी सही है कि ममता विरोधी दलों के मोर्चे से कांग्रेस को अलग भी नहीं रखना चाहती हैं। इसीलिए उन्होंने 10 जनपथ पर सोनिया और राहुल गांधी से मुलाकात को खास तरजीह दी।इस समय चल रहे सियासी खेल के एक और बड़े खिलाड़ी शरद पवार हैं। वह विपक्षी नेताओं में सबसे अनुभवी हैं और उनकी काबिलियत के बारे में नरेंद्र मोदी भी जानते हैं और ममता बनर्जी भी। अपने लंबे राजनीतिक जीवन में पवार को प्रधानमंत्री बनने के कई मौके मिले, लेकिन वह हर बार चूक गए। 2 बातें उनके खिलाफ जाती हैं: एक तो उनकी उम्र काफी हो गई है और दूसरी उनकी पार्टी एनसीपी काफी हद तक सिर्फ महाराष्ट्र तक ही सीमित है। लेकिन हमने पहले भी देखा है कि जब विपक्षी दलों के मोर्चे बनते हैं तो उनमें न किसी नेता की उम्र देखी जाती है और न ये देखा जाता है कि पार्टी छोटी है या बड़ी। ऐसे में सिर्फ यह देखा जाता है कि किसके नाम पर सब लोग सहमत होते हैं।चाहे शरद पवार हों या , दोनों इस बात को समझते हैं कि नेतृत्व के मुद्दे पर सभी विपक्षी नेताओं को एक ही नाम पर सहमत करना टेढ़ी खीर है। दूसरे, से मुकाबला करना आसान नहीं है। मोदी एक मजबूत नेता हैं और उनके पास एक दमदार पार्टी संगठन है जो भारत के हर राज्य में फैल चुका है। मोदी को चुनाव लड़ने की कला में महारत हासिल है। उन्होंने अपनी कड़ी मेहनत के दम पर ही अपनी ताकत बढ़ाई है। पश्चिम बंगाल के विधानसभा चुनावों में मिली हार जरूर एक झटका थी, लेकिन मोदी एक ऐसे नेता हैं जो हार से कभी निराश नहीं होते। न ही वह सभी विरोधी दलों के हाथ मिलाने की बात से परेशान नजर आते हैं।2024 के लोकसभा चुनाव अभी 3 साल दूर हैं। ऐसे में कहा नहीं जा सकता कि तब तक कितने विपक्षी दल साथ रह पाएंगे, और क्या वे सभी किसी एक को अपना नेता मानेंगे। इसका अंदाजा लगाना अभी मुश्किल है।

सोनालीफोगाटनेकिसकोदियाकितनापैसापुलिसखंगालरहीतीनबैंकअकाउंटटीवी की इस फेमस एक्ट्रेस ने बैकलेस ब्लाउज में कराया बोल्ड फोटोशूट, सोशल मीडिया पर आए ऐसे रिएक्शन******आज की टीवी एक्ट्रेस किसी फिल्म एक्ट्रेस से कम नहीं है। हाल ही में नागिन एक्ट्रेस पवित्रा पुणिया अपनी हॉट, बोल्ड एंड ग्लैमरस फोटोशूट की वजह से खासा सुर्खियों में है। इस फोटो में पवित्रा की बैक लेस ब्लाउज ने महफिल लुट ली ही। पवित्रा नागिन 3 से पहले ये हैं मोहब्बते में नीधि छाबरा, 'लव यू जिंदगी' में गीत डिल्लो और स्प्लिट्सविला 3 में भी नजर आ चुकी हैं। नागिन 3 पवित्रा सौतेली मां का किरदार निभाने वाली पवित्रा भले ही साड़ी में नजर आती हो, लेकिन असल जिंदगी में वह बेहद बोल्ड और हॉट नजर आती हैं।पवित्रा ने हाल ही में अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर अपने लेटेस्ट फोटोशूट की तस्वीरें शेयर की हैं, जिनमें वह बैकलेस ब्लाउज पहने नजर आ रही हैं। पवित्रा का यह ग्लैमरस फोटोशूट उनके फैंस के बीच तेजी से वायरल हो रहा है।इस फोटोशूट के लिए पवित्रा ने मोव कलर की शिमर साड़ी पहनी है। इसके साथ उन्होंने हॉल्टर नेक ब्लाउज कैरी किया है, जो उन पर काफी फब रहा है। अपने लुक को पूरा करने के लिए उन्होंने लाइट मेकअप के साथ कर्ल बालों को ओपन किया हुआ है।इन तस्वीरों को शेयर करते हुए पवित्रा ने कैप्शन में लिखा- जल्द ही वह सीरियल डायन में नजर आने वाली हैं। बता दें पवित्रा को नागिन 3 में काफी पसंद किया गया था। पवित्रा की ये तस्वीरें यूजर्स को काफी पसंद आ रही हैं। एक यूजर ने कमेंट कर लिखा- आग ही लगा दी। वहीं बहुत सारे यूजर्स ने कहा- डायन अगर इतनी खूबसूरत है तो हमारे पीछे पड़ जाए।बता दें कि यह पहली बार नहीं जब पवित्रा ऐसे हॉट अंदाज में नजर आई हैं। इससे पहले भी वह कई बार अपनी हॉट अंदाज की तस्वीरें अपने फैंस संग शेयर कर चुकी हैं। पवित्रा सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहती हैं और आए दिन अपनी तस्वीरें शेयर करती रहती हैं।सोनालीफोगाटनेकिसकोदियाकितनापैसापुलिसखंगालरहीतीनबैंकअकाउंटनेशनल लॉ यूनिवर्सिटी दिल्ली ने जारी किया AILET के परिणाम, रिजल्ट जानने के लिए ये है डायरेक्ट लिंक****** नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी (NLU) दिल्ली ने अखिल भारतीय विधि प्रवेश परीक्षा (AILET) के परिणाम जारी कर दिए हैं। जो उम्मीदवार इस परीक्षा में शामिल हुए थे, वे आधिकारिक वेबसाइट- nludelhi.ac.in के माध्यम से परिणाम देख सकते हैं।कंप्यूटर आधारित प्रवेश- AILET 26 सितंबर को आयोजित किया गया था। LLB (ऑनर्स) के लिए काउंसलिंग प्रक्रिया 7 अक्टूबर से आयोजित की जाएगी, जबकि LLM के लिए काउंसिलिंग 9 अक्टूबर से शुरू की जाएगी।जो छात्र ये परीक्षा पास करते हैं वे एनएलयू, दिल्ली में बीए-एलएलबी (ऑनर्स), एलएलएम और पीएचडी कार्यक्रमों में प्रवेश के लिए पात्र होंगे। केवल 73 सीटें उपलब्ध हैं, जिनमें से 52 सामान्य वर्ग के छात्रों के लिए खुली होंगी, जबकि 11 सीटें अनुसूचित जाति वर्ग के लिए, 5 सीटें अनुसूचित जनजाति वर्ग के लिए, 2 सीटें विकलांगों के लिए और 3 कश्मीरी प्रवासियों के लिए आरक्षित हैं। इसके अलावा, विदेशी नागरिकों के लिए 10 अतिरिक्त सीटें हैं। एलएलएम कार्यक्रम के लिए, 20 सीटें सालाना उपलब्ध हैं।

सोनालीफोगाटनेकिसकोदियाकितनापैसापुलिसखंगालरहीतीनबैंकअकाउंटMaharashtra: बड़ी लापरवाही! महाराष्ट्र में महिला ने PHC के बाहर दिया बच्चे को जन्म; नवजात की मौत******Highlightsस्वास्थ्य व्यवस्था को लेकर सरकारें बड़े-बड़े दावे करती रहती हैं। लेकिन इन दावों की सच्चाई अक्सर हमारे सामने आती रहती है। बता दें कि महाराष्ट्र में एक बड़ी लापरवाही देखने को मिली है। यवतमाल जिले में एक महिला ने एक प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र (पीएचसी) में चिकित्सा कर्मियों के मौजूद न होने के कारण उसके बाहर ही बच्चे को जन्म दे दिया और जन्म के तुरंत बाद नवजात की मौत हो गयी।महिला के परिवार ने यह आरोप लगाया है कि चिकित्सा कर्मी पीएचसी में मौजूद नहीं थे। बहरहाल, एक स्वास्थ्य अधिकारी ने दावा किया कि महिला को देर से पीएचसी लाया गया था। यह घटना शुक्रवार को उमरखेड़ तहसील के विदुल में हुई। महिला के पिता ने पत्रकारों को बताया कि वह उसे एक ऑटो रिक्शा से पीएचसी लेकर आये क्योंकि जब उसे प्रसव पीड़ा शुरू हुई तो वह उसके लिए एम्बुलेंस की व्यवस्था नहीं करा पाये।उन्होंने आरोप लगाया कि जब वे पीएचसी पहुंचे तो वहां न कोई डॉक्टर था और न ही कोई अन्य चिकित्सा कर्मी था। उन्होंने बताया कि उनकी बेटी ने पीएचसी के बाहर बरामदे में ही बच्चे को जन्म दे दिया और कुछ वक्त बाद ही नवजात की मौत हो गयी। जिला स्वास्थ्य अधिकारी प्रह्लाद चव्हाण ने हालांकि, दावा किया कि पीएचसी में एक चिकित्सा अधिकारी और नर्स मौजूद थीं लेकिन महिला को देर से वहां लाया गया। उन्होंने कहा कि वह शनिवार को पीएचसी का दौरा करेंगे और मामले की पड़ताल करेंगे।यह कोई नई घटना नहीं है बीते साल महाराष्ट्र से पैदल चलकर आ रही मध्यप्रदेश की एक महिला ने रास्ते में बच्चे को जन्म दिया था। लॉकडाउन के चलते महाराष्ट्र के नासिक से सतना के अपने गांव वापस जा रही एक गर्भवती महिला ने रास्ते में एक बच्चे को जन्म दिया। महिला के पति ने कहा कि जन्म देने के बाद हमने दो घंटे आराम किया फिर हम कम से कम 150 किलोमीटर तक पैदल चले थे।नासिक से महिला अपने परिवार के साथ अपने गांव उचेहरा के लिए निकल पड़ी। लेकिन नासिक के आगे पीपरगांव में महिला का प्रसव हो गया। लेकिन रास्ते में इस दौरान महिला और उसके परिवार को किसी तरह की कोई मदद नहीं मिल सकी। गांव की ही कुछ महिलाएं रास्ते में कदम-कदम पर महिला का हौसला बढ़ाती रहीं और प्रसव के दो घंटे बाद महिला फिर चल पड़ी।सोनालीफोगाटनेकिसकोदियाकितनापैसापुलिसखंगालरहीतीनबैंकअकाउंटसिद्धार्थ मल्होत्रा और कियारा आडवाणी की फिल्म 'शेरशाह' की रिलीज डेट का हुआ ऐलान******कई फिल्मों की रिलीज डेट की घोषणा होने के बाद अब और कियारा आडवाणी की मूवी 'शेरशाह' की रिलीज डेट का भी ऐलान कर दिया गया है। ये फिल्म इसी साल जुलाई महीने में सिनेमाघरों में रिलीज होगी। इसे विष्णु वर्धन ने डायरेक्ट किया है।इसकी कहानी संदीप श्रीवास्तव ने लिखी है।फिल्म क्रिटिक तरण आदर्श ने ट्वीट किया, "कारगिल हीरो विक्रम बत्रा की कहानी... शेरशाह.. 2 जुलाई 2021 को रिलीज हो रही है। इसे हीरू यश जौहर, करण जौहर, अपूर्वा मेहता, शब्बीर बॉक्सवाला, अजय शाह और हिमांशु गांधी मिलकर प्रोड्यूस कर रहे हैं।सिद्धार्थ फिल्म 'शेरशाह' में बत्रा की कहानी को जीवंत करेंगे। कप्तान विक्रम बत्रा ने साल 1999 में कारगिल युद्ध के दौरान पाकिस्तानी घुसपैठियों से भारतीय क्षेत्र की रक्षा करते हुए अपनी जिंदगी को राष्ट्रसेवा में लगा दी। उनकी बहादुरी की वजह से उन्हें 'शेरशाह' कहा जाता था। कारगिल युद्ध के इस नायक को उनके शहीद होने के बाद परमवीर चक्र से सम्मानित किया गया, जो भारत का सर्वोच्च वीरता पुरस्कार है।सिद्धार्थ ने अपनी आगामी फिल्म 'थैंक गॉड' की शूटिंग शुरू कर दी है। सिद्धार्थ ने इस बाबत ट्विटर पर घोषणा की थी। उन्होंने कहा, "इस नई यात्रा के लिए उत्साहित। इसके लिए धन्यवाद। आज से शूटिंग शुरू।" थैंक गॉड में अजय देवगन और रकुल प्रीत सिंह भी हैं, जिसमें जीवन के संदेश को एक कॉमेडी के रूप में पेश किया गया है।सिद्धार्थ 'मिशन मजनू' में साउथ स्टार रश्मिका मंदाना के साथ नज़र आएंगे। उन्होंने लखनऊ में इस जासूसी थ्रिलर मूवी की शूटिंग शुरू कर दी है। फिल्म में अभिनेता शारिब हाशमी और कुमुद मिश्रा भी मुख्य भूमिकाओं में हैं। शांतनु बागची द्वारा अभिनीत जासूसी थ्रिलर भारत के एक महत्वाकांक्षी गुप्त ऑपरेशन पर आधारित है, और 1970 के दशक की वास्तविक घटनाओं से प्रेरित है। यह पाकिस्तान में एक भारतीय मिशन की कहानी है। परवेज शेख, असीम अरोरा, और सुमित बठेजा द्वारा लिखित फिल्म को लखनऊ और मुंबई में बड़े पैमाने पर शूट किया जाएगा। फिल्म के इस साल के अंत में रिलीज होने की उम्मीद है।

हाल का ध्यान

लिंक