वर्तमान पद:मुखपृष्ठ > बाओटौ > मूलपाठ

RBI अगले महीने भी प्रमुख दरों में नहीं करेगा कोई बदलाव, अगस्‍त में हो सकती है 0.25 फीसदी की कटौती

2022-10-04 18:34:29 बाओटौ

अगलेमहीनेभीप्रमुखदरोंमेंनहींकरेगाकोईबदलावअगस्‍तमेंहोसकतीहै025फीसदीकीकटौती'Boycott RRR in Karnataka' trends on Twitter: राजामौली की फिल्म का कर्नाटक में क्यों हो रहा है बहिष्कार******Highlightsएसएस राजामौली की आरआरआर 25 मार्च 2022 को रिलीज होने वाली है। रिलीज से दो दिन पहले ट्विटर पर "#BoycottRRRinKarnataka" ट्विटर पर ट्रेंड करने लगा। साल की सबसे बहुप्रतीक्षित फिल्मों में से एक, आरआरआर हाल ही में खबरों में रही है। फिल्म में जूनियर एनटीआर, राम चरण, आलिया भट्ट और अजय देवगन जैसे लोकप्रिय नाम शामिल हैं। जहां अभिनेताओं और फिल्म निर्माता के फैंस आरआरआर की रिलीज का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं, वहीं कर्नाटक में प्रशंसक निराश और नाराज हैं। वजह ये है कि फिल्म आरआरआर कन्नड़ में नहीं रिलीज हो रही है।एक ट्विटर यूजर ने टिकट बुकिंग स्क्रीन का स्क्रीनशॉट साझा करते हुए लिखा, "#BoycottRRRinKarnataka, एस एस राजामौली यह कन्नड़ लोगों के लिए बहुत बड़ा अपमान है। कर्नाटक में RRR फिल्म पर प्रतिबंध लगाने का समय है। हम इसका स्वागत तभी करेंगे जब यह कन्नड़ में रिलीज होगी।"वहीं कुछ लोग ऐसे भी हैं जो आरआरआर की टीम का सपोर्ट कर रहे हैं और फिल्म के सपोर्ट में ट्वीट कर रहे हैं।यह फिल्म 1920 के दशक में स्थापित है, और दो स्वतंत्रता सेनानियों की एक काल्पनिक गाथा है जो ब्रिटिश और हैदराबाद के निजाम के खिलाफ लड़ते हैं। यह फिल्म भारत में बनी अब तक की सबसे महंगी में से एक बताई जा रही है। फिल्म में राम चरण और एनटीआर जूनियर के अलावा अजय देवगन, आलिया भट्ट, ओलिविया मॉरिस, समुथिरकानी, रे स्टीवेन्सन और एलिसन डूडी भी नजर आएंगे।तेलुगू भाषा की पीरियड एक्शन ड्रामा फिल्म डीवीवी एंटरटेनमेंट्स के डी वी वी दानय्या द्वारा निर्मित है। आरआरआर 25 मार्च 2022 को रिलीज हो रही है।

अगलेमहीनेभीप्रमुखदरोंमेंनहींकरेगाकोईबदलावअगस्‍तमेंहोसकतीहै025फीसदीकीकटौतीवर्ल्ड नंबर-1 एश्ले बार्टी को हराकर सबालेंका बनीं मैड्रिड ओपन चैंपियन******मैड्रिड| बेलारूस की एरीना सबालेंका ने दुनिया की नंबर - 1 महिला टेनिस खिलाड़ी ऑस्ट्रेलिया की अश्लेग बार्टी को हराकर मैड्रिड ओपन खिताब जीत लिया। डीपीए की रिपोर्ट के अनुसार, बार्टी ने दो सप्ताह पहले ही स्टटगार्ट में एक सेट हारने के बाद वापसी करते हुए सबालेंका को हराया था और ऐसा लग रहा था कि वह इसी लय को यहां भी जारी रखेंगी।लेकिन सबालेंका ने शनिवार रात यहां खेले गए एक कड़े फाइनल में बार्टी को 6-0, 3-6, 6-4 से हराकर अपने करियर का 10 वां खिताब जीत लिया। बार्टी इससे पहले लाल बजरी पर दो साल तक एक भी मुकाबला नहीं हारी थी।अगलेमहीनेभीप्रमुखदरोंमेंनहींकरेगाकोईबदलावअगस्‍तमेंहोसकतीहै025फीसदीकीकटौतीAmerica Help Pak for Terror: बेशर्म अमेरिका की शर्मनाक सफाई, कहा-पाकिस्तान को आतंक से लड़ने को दिया 45 करोड़ डॉलर******Highlightsवर्ल्ड ट्रे़ड सेंटर समेत कई अन्य आतंकी हमले झेलने के बाद भी अमेरिका आतंकवादियों बैकडोर सपोर्टर बना हुआ है। उनके अपने देश में आतंकी घटना हो तो गलत, बाकी किसी देश में हो तो सही। तभी तो चीन की तर्ज पर अमेरिका भी अन्य देशों में होने वाले आतंकवाद पर नरम हो जाता है। दुनिया के सामने आतंकवाद के मुद्दे पर साथ खड़े रहने का दावा करने वाले अमेरिका की कलई अब खुल गई है। आतंकियों के सौदागर पाकिस्तान को एफ-16 के रखरखाव के नाम पर 45 करोड़ डॉलर देने वाले अमेरिका ने अब भारत की आपत्तियों पर शर्मनाक सफाई दी है।जो पाकिस्तान आतंकवादियों को पनाह देता है और हर वक्त उनका मददगार बना रहता है, उसी पाकिस्तान को अमेरिका ने 45 करोड़ डॉलर देकर आतंकवाद से लड़ाई को मजबूत करने का बयान देकर अपनी ही जग हंसाई करवा ली है। दरअसल अमेरिका ने कहा है कि पाकिस्तान के एफ-16 लड़ाकू विमान के बेड़े के वास्ते 45 करोड़ डॉलर की मदद देने संबंधी उसका फैसला भारत को कोई संदेश देने के लिए नहीं है, बल्कि यह इस्लामाबाद के साथ अमेरिका की रक्षा साझेदारी से जुड़ा है जो विशेष तौर पर आतंकवाद और परमाणु सुरक्षा पर केंद्रित है। बाइडन प्रशासन ने ट्रंप प्रशासन के पाकिस्तान को सैन्य सहायता पर रोक लगाने संबंधी फैसले को बदलते हुए आठ सितंबर को पाकिस्तान को एफ-16 लड़ाकू विमानों के वास्ते 45 करोड़ डॉलर की मदद देने की मंजूरी दी थी। गौरतलब है कि ट्रंप प्रशासन ने आतंकवादी सगठनों अफगान तालिबान तथा हक्कानी नेटवर्क पर कार्रवाई करने में नाकाम रहने पर पाकिस्तान को दी जाने वाली सैन्य सहायता रोक दी थी।भारत ने अमेरिका को पाकिस्तान के एफ-16 लड़ाकू विमानों के लिए एक सहायता पैकेज प्रदान करने के वाशिंगटन के फैसले पर अपनी चिंताओं से अवगत कराया है। अमेरिकी संसद को दी एक अधिसूचना में विदेश मंत्रालय ने कहा था कि उसने पाकिस्तान को एफ-16 लड़ाकू विमानों के रखरखाव के लिए संभावित विदेश सैन्य बिक्री (एफएमएस) को मंजूरी देने का निर्णय लिया है। मंत्रालय ने दलील दी थी कि इससे इस्लामाबाद को वर्तमान तथा भविष्य में आतंकवाद के खतरों से निपटने की क्षमता बनाए रखने में मदद मिलेगी। हिंद-प्रशांत सुरक्षा मामलों के सहायक मंत्री डॉ. एले रैटनर ने एक सवाल के जवाब में बृहस्पतिवार को कहा कि पाकिस्तान के एफ-16 लड़ाकू विमानों के वास्ते 45 करोड़ डॉलर की मदद देने संबंधी उसका फैसला भारत को कोई संदेश देने के लिए नहीं है।आतंक से लड़ने के लिए पाकिस्तान को मदद करने के नाम पर 45 करोड़ डॉलर देने की बात कहना किसी नाट्यमंचन से कम नहीं है। मगर इससे अमेरिका की आतंक के खिलाफ लड़ने वाले दावों की पोल खुल गई है। अब साफ हो गया है कि अमेरिका भी चीन की तरह ही आतंकवादियों का बैकडोर सपोर्टर है। अभी हाल ही में चीन ने भी आतंकी मसूद अजहर और उसके भाई रऊफ अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने के प्रस्ताव पर रोक लगा दी थी। अब अमेरिका ने आतंक के सौदागर पाकिस्तान को 45 करोड़ डॉलर देने के बाद इसे आतंक के खिलाफ लड़ाई में मदद करना बताया है।देश के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह पिछले सप्ताह अमेरिका के रक्षा मंत्री लॉयड ऑस्टिन से बातचीत में पाकिस्तान के एफ-16 लड़ाकू विमान बेड़े के रख-रखाव के लिए पैकेज देने के अमेरिका के फैसले पर भारत की ओर से चिंता प्रकट की थी। रैटनर ने बृहस्पतिवार को पत्रकारों से कहा, ‘‘एफ-16 के वास्ते अमेरिकी सहायता पाकिस्तान के साथ अमेरिका की रक्षा साझेदारी से जुड़ा है जो विशेष तौर पर आतंकवाद और परमाणु सुरक्षा पर केंद्रित है, जैसा कि रक्षा मंत्री लॉयड ऑस्टिन ने रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को स्पष्ट किया था।

RBI अगले महीने भी प्रमुख दरों में नहीं करेगा कोई बदलाव, अगस्‍त में हो सकती है 0.25 फीसदी की कटौती

अगलेमहीनेभीप्रमुखदरोंमेंनहींकरेगाकोईबदलावअगस्‍तमेंहोसकतीहै025फीसदीकीकटौतीशेयरों में म्यूचुअल फंड निवेश इस साल जनवरी-अक्टूबर के दौरान कम होकर 55,700 करोड़ रुपए रहा******Mutual fund investment शेयर बाजारों में म्यूचुअल फंड निवेश साल के पहले 10 महीनों में आधा घटकर 55,700 करोड़ रुपए रहा। इसका कारण खुदरा निवेशकों की म्यूचुअल फंड में भागीदारी का कम होना है। भारतीय प्रतिभूति एवं अपीलीय बोर्ड (सेबी) के आंकड़े के अनुसार कोष प्रबंधकों ने पिछले साल जनवरी-अक्टूबर के दौरान 1.12 लाख करोड़ रुपए मूल्य के शेयर खरीदे थे। प्राइम इनवेस्टर डाट इन के सह-संस्थापक विद्या बाला ने कहा, 'खुदरा निवेशकों का म्यूचुअल फंड में निवेश एक साल पहले की समान अवधि की तुलना में कम हुआ है। इसके परिणामस्वरूप की तरफ से शेयर बाजारों में निवेश कम हुआ है।' उन्होंने कहा, 'बाजार के नई ऊंचाई पर पहुंचने के साथ खुदरा निवेशकों ने अपनी संपत्ति पर कोई सकारात्मक प्रभाव नहीं पाया। इसका कारण तेजी का कुछ चुनिंदा शेयरों तक सीमित रहना है। जबतक खुदरा निवेशक निवेश के लिए आगे नहीं आते, आने वाले समय में यह प्रवृत्ति बनी रह सकती है।'सैमको में म्यूचुअल फंड डिस्ट्रिब्यूशन कारोबार के प्रमुख ओमकेश्वर सिंह ने कहा कि हालांकि प्रति महीने शेयरों में निवेश सकारात्मक रहा है, लेकिन अगर हम 'सिस्टैमेटिक इनवेस्टमेंट प्लान' () प्रवाह को हटा दें, यह प्रवाह नकारात्मक हो जाता है। यानी निवेश कम हुआ है। सिप के जरिए निवेशक निश्चित राशि निश्चित अवधि पर लगाते हैं। इस साल कुल 55,700 करोड़ रुपए के निवेश में से ज्यादातर निवेश जुलाई-सितंबर के दौरान हुए। कोष प्रबंधकों ने इस दौरान शुद्ध रूप से 43,500 करोड़ रुपए का निवेश किया। वहीं विदेशी निवेशकों ने इन तीन महीनों में 22,400 करोड़ रुपए की निकासी की।अगलेमहीनेभीप्रमुखदरोंमेंनहींकरेगाकोईबदलावअगस्‍तमेंहोसकतीहै025फीसदीकीकटौतीRaj Thackeray In Aurangabad: राज ठाकरे का ऐलान- लाउडस्पीकर से अजान हुई तो बजेगा हनुमान चालीसा, बातों से नहीं समझे तो दिखाएंगे ताकत******Highlightsमहाराष्ट्र में औरंगाबाद के सांस्कृतिक मैदान में मनसे प्रमुख राज ठाकरे (Raj Thackeray) नेएक रैली को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने लाउडस्पीकर मुद्दे को एक बार फिर उठाया। उन्होंनेकहा कि अगर यूपी में लाउडस्पीकर हट सकता है तो महाराष्ट्र में क्यों नहीं हट सकता। पूरे देश से लाउडस्पीकर हटाए जाने चाहिए।उन्होंने कहा कि अगर बातों से नहीं समझेंगे तो हम ताकत दिखाएंगे। महाराष्ट्र में दंगा कराने का हमारा कोई इरादा नहीं है लेकिन लाउडस्पीकर से अजान होगी तो हम हनुमान चालीसा बजाएंगेऔर दोगुनी आवाज से बजाएंगे।राज (Raj Thackeray) ने कहा कि यहां 600 मस्जिदें हैं लेकिन किसी के पास लाउडस्पीकर की परमीशन नहीं है। क्या बांग देने काकंपटीशन चल रहाहै? हम अगर सभा करते हैं तो ये कहते हैं कि ये साइलेंट जोन है। ये सड़क पर कहीं भी नमाज पढ़ते हैं।राज ने कहा कि 3 तारीख को ईद है। उनके त्योहार में जहर नहीं फैलाना चाहतालेकिन 4 तारीख के बाद लाउडस्पीकर नहीं सुनूंगा।। उन्होंने ये भी कहा कि इनका मुंह बंद करो, यह स्पीकर उतरने चाहिए, मंदिरों के भी उतारो लेकिन पहले इनके उतारो।सभा के दौरान राज (Raj Thackeray) ने एनसीपी प्रमुख शरद पवार पर भी निशाना साधा। उन्होंने कहा, 'मैंने जिस दिन कहा, उस दिन से शरद पवार भगवान के साथ फोटो डाल रहे हैं। उनकी बेटी ने खुद लोकसभा में कहा कि उनके पिता नास्तिक हैं। मैं नहीं शरद पवार जातिवाद का जहर फैला रहे हैं।'राज ने ये भी कहा कि शरद पवार को अपनी नौटंकी बंद करनी चाहिए। उन्हें हिंदू शब्द से एलर्जी है।NCP के आने के बाद हीमहाराष्ट्र में जातिवाद का जहर फैला। मैं जात-पात में नहीं मानता।राज ठाकरेको औरंगाबाद पुलिस ने कई शर्तों के साथ इस सभा की मंजूरी दी थी लेकिन राज ठाकरे को सुनने के लिए यहां हजारों की संख्या में लोग पहुंचे।सभा के दौरान उन्होंने महाराष्ट्र के लोगों को महाराष्ट्र दिवस की शुभकामनाएं दीं और कहा कि यहां तो खड़े होने की भी जगह नहीं है। हजारों लोग सड़कों पर हैं और ये कह रहे थे कि सभा के लिए अनुमति मिलेगी या नहीं।राज ने कहा कि ठाणे में बैठक के बाद दिलीप धोत्रे ने फोन किया था। उन्होंने हमें संभाजीनगर में भी सभा करने को कहा है। ये महाराष्ट्र का केंद्र है। अब मराठवाड़ा के हर जिले में बैठकें होंगी। हम विदर्भ, कोंकण, पश्चिमी महाराष्ट्र भी जाएंगे।अगलेमहीनेभीप्रमुखदरोंमेंनहींकरेगाकोईबदलावअगस्‍तमेंहोसकतीहै025फीसदीकीकटौतीमुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ वाराणसी पहुंचे, बाढ़ राहत कार्यों का जायजा लिया******उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ गुरुवार को एक दिवसीय दौरे पर वाराणसी पहुंचे और बाढ़ ग्रस्त क्षेत्रों में पीड़ितों को उपलब्ध कराये जा रहे राहत कार्यों का जायजा लिया। एक अधिकारी ने इसकी जानकारी दी। अधिकारी ने बताया कि मुख्यमंत्री ने राजघाट से एनडीआरएफ के मोटर बोट से पुराना पुल तक का दौरा कर गंगा एवं वरुणा के बढ़े जल स्तर को देखा। इसके बाद उन्होंने सरैया स्थित आलिया गार्डन में बनाए गए राहत केंद्र में रह रहे बाढ़ पीड़ितों से मुलाकात कर उनका कुशलक्षेम जाना तथा कहा कि चिंता की कोई बात नही, आपदा की इस घड़ी में सरकार उनके साथ खड़ी है। उन्होंने मौके पर अधिकारियों से राहत कार्यों के बारे में जानकारी ली और कहा कि बाढ़ पीड़ितों की मदद में कोई कोर कसर न छोड़ी जाए। अधिकारी ने बताया कि मुख्यमंत्री ने बाढ़ प्रभावित अन्य लोगों से भी मुलाकात की।बता दें कि राज्य में प्रमुख नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं, जिसके चलते 24 जिलों के करीब 605 गांवों को प्रभावित घोषित कर दिया गया है। आधिकारिक सूत्रों के अनुसार, राज्य के 24 जिलों में बाढ़ प्रभावित गांवों की संख्या 605 हो गई है। राहत आयुक्त रणवीर प्रसाद ने बताया कि बदायूं, प्रयागराज, मिर्जापुर, वाराणसी, गाजीपुर और बलिया जिलों में गंगा खतरे के निशान से ऊपर बह रही है। उन्होंने कहा कि औरैया, जालौन, हमीरपुर, बांदा और प्रयागराज जिलों में यमुना खतरे के निशान से ऊपर बह रही है, जबकि बेतवा नदी हमीरपुर में उफान पर है।उन्होंने कहा कि लखीमपुर खीरी में शारदा नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही है और इसी तरह गोंडा में कुवानो और उत्तर प्रदेश-राजस्थान सीमा पर चंबल में बह रही है। हमीरपुर जिले में 75, बांदा में 71, इटावा और जालौन में 67-67, वाराणसी में 42, कौशांबी में 38, चंदौली और गाजीपुर में 37-37, औरैया में 25, कानपुर देहात और प्रयागराज में 24-24, फरु खाबाद में 23, आगरा में 20 और बलिया जिले में 17 गांव बाढ़ की चपेट में हैं।प्रसाद ने कहा कि मिर्जापुर, गोरखपुर, सीतापुर, मऊ, लखीमपुर खीरी, शाहजहांपुर, बहराइच, गोंडा और कानपुर जिलों के गांवों में भी बाढ़ आई है। राहत आयुक्त ने कहा, "राज्य सरकार ने नौ जिलों में राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (एनडीआरएफ) की नौ टीमों, 11 जिलों में राज्य आपदा प्रतिक्रिया बल (एसडीआरएफ) की 11 टीमों और 39 जिलों में प्रांतीय सशस्त्र बल (पीएसी) की 39 टीमों को राहत और बचाव अभियान के लिए तैनात किया गया है।"उन्होंने कहा कि एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की टीमों ने 536 लोगों को बचाया और 504 चिकित्सा टीमों को बाढ़ प्रभावित इलाकों में तैनात किया गया है। इसके अलावा, राज्य में 11,235 बाढ़ चौकियां और 940 बाढ़ आश्रय स्थल बनाए गए हैं और 1,463 नौकाओं को राहत एवं बचाव कार्यों में लगाया गया है। राज्य सरकार के एक प्रवक्ता ने कहा कि बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में लोगों के बीच भोजन के पैकेट और सूखा राशन वितरित किया जा रहा है।

RBI अगले महीने भी प्रमुख दरों में नहीं करेगा कोई बदलाव, अगस्‍त में हो सकती है 0.25 फीसदी की कटौती

अगलेमहीनेभीप्रमुखदरोंमेंनहींकरेगाकोईबदलावअगस्‍तमेंहोसकतीहै025फीसदीकीकटौतीKidney Stone: पथरी की समस्या का कारण हो सकती हैं ये 6 गलतियां, ऐसे करें बचाव******किडनी में स्टोन होना एक कॉमन बीमारी है। किडनी शरीर का एक अहम अंग है। इसका काम ब्लड को फिल्टर करना होता है। किडनी द्वारा ब्लड फिल्टरेशन के दौरान सोडियम, कैल्शियम और अन्य दूसरे मिनरल्स बारीक कणों के रूप में यूरेटर के माध्यम से ब्लैडर तक पहुंचते हैं, जो पेशाब के जरिए शरीर से बाहर निकल जाते हैं।जब ब्लड में इन तत्वों की मात्रा बढ़ जाती है तो ये किडनी में जमा होकर पत्थर के टुकड़ों जैसा आकार ले लेते हैं, जिसके कारण ब्लैडर तक यूरिन पहुंचने के रास्ते में रुकावट आती है और किडनी स्टोन यानी गुर्दे की पथरी की समस्या पैदा हो जाती है। इस समस्या में खाने-पीने में काफी एहत‍ियात रखने की जरूरत होती है। जाने-अनजाने में लोग कई ऐसी गलतियां करते हैं जो आगे चलकर बीमारी का कारण बनती हैं। इसी तरह, पथरी की बीमारी का सबसे बड़ा कारण है खानपान और लाइफस्टाइल में की जाने वाली गलतियां। आज हम आपको बताएंगे ऐसी 6 गलतियों के बारे में जिन्हें आप नजरअंदाज कर देते हैं। लेकिन, अगर ऐसा न करें तो आप पथरी से अपना बचाव कर सकते हैं।आपको उन चीजों को पतला करने के लिए पर्याप्त पानी पीने की जरूरत है जो आपके शरीर में स्टोन में बदल सकती हैं। अगर आप पर्याप्त मात्रा नहीं पीते हैं या बहुत अधिक पसीना बहाते हैं, तो आपका पेशाब पीला दिखाई दे सकता है। इसलिए रोजाना लगभग 10 कप पानी पीने का टारगेट रखें। नींबू पानी या संतरे के रस में मौजूद साइट्रेट स्टोन को बनने से रोक सकता है।आप जो खाते हैं वह इन किडनी स्टोन का कारण बन सकता है। किडनी स्टोन का सबसे आम प्रकार तब होता है जब आपकी किडनी पेशाब करते समय कैल्शियम और ऑक्सालेट आपस में चिपक जाते हैं। ऑक्सालेट एक रसायन है जो कई हेल्दी फूड्स और सब्जियों में होता है। आपका डॉक्टर आपको हाई ऑक्सालेट फूड्स को सीमित करने के लिए कह सकता है अगर आपको पहले इस प्रकार की पथरी हो चुकी है।आप इसे मुख्य रूप से टेबल सॉल्ट के जरिए से प्राप्त करते हैं। यह कई प्रकार की किडनी की पथरी होने की संभावना को बढ़ा सकता है। इसलिए नमकीन स्नैक्स, डिब्बाबंद फूड्स, पैकेज्ड मीट और अन्य प्रोसेस्ड फूड्स से सावधान रहें।क्रोहन रोग और अल्सरेटिव कोलाइटिस जैसे सूजन आंत्र रोग वाले लोगों में पथरी सबसे आम किडनी की समस्या है। आंत्र की समस्या आपको दस्त की समस्या दे सकती है। आपका शरीर आंत से अतिरिक्त ऑक्सालेट को अवशोषित कर सकता है।रेड मीट और शेलफिश आपके शरीर में यूरिक एसिड को बढ़ा सकते हैं। यह जोड़ों में जमा हो सकता है और गाउट का कारण बन सकता है या आपकी किडनी में जाकर पथरी बना सकता है। इससे भी जरूरी बात यह है कि पशु प्रोटीन आपके मूत्र के कैल्शियम स्तर को बढ़ाता है और साइट्रेट की मात्रा को कम करता है, जो दोनों ही पथरी को बढ़ावा देते हैं।यह स्थिति रक्त में यूरिक एसिड का निर्माण करती है और जोड़ों और किडनी में क्रिस्टल बना सकती है। इस स्थिति में किडनी की पथरी बड़ी और बहुत दर्दनाक हो सकती है।अगलेमहीनेभीप्रमुखदरोंमेंनहींकरेगाकोईबदलावअगस्‍तमेंहोसकतीहै025फीसदीकीकटौतीTRP: 'अनुपमा' की हालत अभी भी खराब, इस शो ने मारी है इस हफ्ते टीआरपी में बाज़ी******HighlightsTRP: टीवी की इस हफ्ते की टीआरपी आ चुकी है और इस बार भी जो शो नंबर वन पर है वो अनुपमा नहीं है। तो इस हफ्ते नंबर वन पर कौन सा शो है, वहीं ये रिश्ता क्या कहलाता है, तारक मेहता का उल्टा चश्मा, इमली, कुंडली भाग्य और गुम है किसी के प्यार में जैसे सीरियल्स का क्या हाल है आइए जानते हैं।मशहूर कॉमेडी शो तारक मेहता का उल्टा चश्मा इस हफ्ते भी टीआरपी की लिस्ट में टॉप पर है। पिछले हफ्ते भी इस शो की टीआरपी सबसे ज्यादा थी।जबसे रूपाली गांगुली और सुधांशु पांडे का शो अनुपमा शुरू हुआ है तबसे ये टॉप पर ही रहता आया है, मगर पिछले कुछ हफ्तों से शो की टीआरपी में गिरावट दर्ज की गई है और ये दूसरे पायदान पर रहता है।विराट, सई और पाखी की कश्मकश से भरा ये शो 'गुम है किसी के प्यार में' टीआरपी की लिस्ट में तीसरे नंबर पर है।स्टार प्लस के शो 'ये रिश्ता क्या कहलाता है' टीआरपी की रेस में चौथे नंबर पर है। शो में अभिमन्यु और अक्षरा की प्रेम कहानी आगे बढ़ रही है, शो में फिलहाल सावन मिलनी की तैयारी चल रही है।टीआरपी की रेस में 'कुंडली भाग्य' पांचवे नंबर पर है। शो को दर्शकों द्वारा खूब पसंद किया जा रहा है।वहीं कुमकुम भाग्य को छठा स्थान मिला है।सातवें नंबर पर है पंड्या स्टोर, आठवें नंबर पर है नागिन 6, नवें नंबर पर है इमली और 10वें नंबर पर है भाग्य लक्ष्मी।

RBI अगले महीने भी प्रमुख दरों में नहीं करेगा कोई बदलाव, अगस्‍त में हो सकती है 0.25 फीसदी की कटौती

अगलेमहीनेभीप्रमुखदरोंमेंनहींकरेगाकोईबदलावअगस्‍तमेंहोसकतीहै025फीसदीकीकटौतीRussia Ukraine News: कीव और चेर्नीहीव में पीछे हटने के वादे से मुकरा रूस, बुधवार सुबह दोनेत्स्क शहर में किया मिसाइल हमला******Highlightsरूस की सेना ने कीव और एक अन्य शहर में अपने अभियान में कमी करने का वादा करने के महज कुछ घंटों बाद इन शहरों के आसपास के इलाकों में बमबारी की। यूक्रेन के अधिकारियों ने बुधवार को यह जानकारी दी। देश के अन्य हिस्सों पर रूस के बढ़ते हमलों के बाद, युद्ध को खत्म करने के मकसद से वार्ता में कोई प्रगति होने की उम्मीद खत्म हो गयी है। रूसी सेना ने मंगलवार को ऐलान किया था कि वह आगे बातचीत के अनुकूल परिस्थितियां पैदा करने और आपसी विश्वास पैदा करने के लिए राजधानी कीव और उत्तरी शहर चेर्नीहीव के समीप अपने अभियान में कमी करेगी। हालांकि, यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की और पश्चिमी देशों ने इस पर गहरा संदेह व्यक्त किया था। इसके कुछ देर बाद ही यूक्रेन के अधिकारियों के चेर्नीहीव और कीव में तथा उसके आसपास घरों, दुकानों, पुस्तकालयों और अन्य असैन्य स्थलों पर बमबारी की खबर दी।रूसी सेना ने पूर्वी यूक्रेन में डोनबास क्षेत्र और लिजियम शहर के आसपास अपने हमले तेज कर दिए। यह शहर डोनबास की ओर जाने वाला अहम रास्ता है। चेर्नीहीव शहर परिषद के सचिव ओलेक्जेंडर लोमाको ने कहा कि, 'रूस की घोषणा पूरी तरह झूठी साबित हुई है। रात को उन्होंने सैन्य अभियान कम नहीं बल्कि तेज कर दिया।' संयुक्त राष्ट्र के अनुसार, यूक्रेन छोड़कर जाने वाले नागरिकों की संख्या 40 लाख पर पहुंच गयी है, जिनमें से करीब आधी आबादी बच्चों की है। रूस के रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता मेजर जनरल इगोर कोनाशेनकोव ने कहा कि, 'सेना ने मध्य यूक्रेन के दो शहरों में ईंधन डिपो को लंबी दूरी की क्रूज मिसाइलों से निशाना बनाया। रूसी सेना ने दक्षिण माइकोलेव क्षेत्र में यूक्रेन के विशेष बलों के मुख्यालय और दोनेत्स्क क्षेत्र में गोलाबारुद के दो डिपो को भी निशाना बनाया।'दक्षिणी यूक्रेन में क्षेत्रीय अधिकारियों ने बताया कि, 'रूस की मिसाइल ने देश के चौथे सबसे बड़े शहर दिनिप्रो में ईंधन के एक डिपो को नष्ट कर दिया। इस बीच, बुधवार को तड़के विद्रोहियों के कब्जे वाले दोनेत्स्क शहर में एक अपार्टमेंट पर मिसाइल हमला किया गया और दो लोगों के मारे जाने की खबर है।' अलगाववादियों ने यूक्रेन की सेना को हमले के लिए जिम्मेदार ठहराया है। इनपुट-भाषा

अगलेमहीनेभीप्रमुखदरोंमेंनहींकरेगाकोईबदलावअगस्‍तमेंहोसकतीहै025फीसदीकीकटौतीWBJEE Counselling 2019: पश्चिम बंगाल फर्स्ट सीट अलॉटमेंट के नतीजे जारी, ऐसे करें चेक******पश्चिम बंगाल ज्वाइंट एंट्रेंस एग्सामिनेशन बोर्ड, WBJEE ने आज पहली सीट आवंटन परिणाम जारी कर दिया है। छात्र बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर मेरिट लिस्ट देख सकते हैं। पश्चिम बंगाल में सरकारी और निजी कॉलेजों में इंजीनियरिंग और प्रौद्योगिकी, फार्मेसी और आर्किटेक्चर कॉलेजों में विभिन्न स्नातक पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए कुल 1.5 लाख छात्र परीक्षा में शामिल हुए थे. परीक्षा 26 मई को दो पालियों में आयोजित की गई थी पहला पेपर 1 सुबह 11 बजे से दोपहर 1 बजे तक और दूसरा पेपर 2 दोपहर 2 से 4 बजे तक आयोजित किया गया था. WBJEE काउंसलिंग 2019 प्रक्रिया 25 जून से शुरू हुई और 30 जून को समाप्त हुई थी।WBJEEB 9 जुलाई को दूसरी आवंटन सूची अपलोड करेगा जिसके लिए स्वीकृति-सह-भुगतान विंडो 10 और 11 जुलाई को खुलेगी। जबकि सीट आवंटन सूची का तीसरा और अंतिम दौर 13 जुलाई को घोषित किया जाएगा। जिसके लिए पेमेंट विंडो 15 से 17 जुलाई तक खुलेगी. पश्चिम बंगाल संयुक्त प्रवेश परीक्षा के परिणाम 20 जून को दोपहर 1 बजे घोषित किए गए थे।पश्चिम बंगाल संयुक्त प्रवेश परीक्षा (WBJEE) पश्चिम बंगाल में स्नातक स्तर की इंजीनियरिंग और मेडिकल पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए एक राज्य स्तरीय आम प्रवेश परीक्षा है। जो छात्र WBJEE 2019 में उपस्थित होना चाहते हैं उन्हें कक्षा 12 या समकक्ष परीक्षा में भौतिकी और गणित विषय के रूप में उत्तीर्ण होना चाहिए। उम्मीदवार अधिक जानकारी पश्चिम बंगाल ज्वाइंट एंट्रेंस एग्सामिनेशन बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर ले सकते हैं।अगलेमहीनेभीप्रमुखदरोंमेंनहींकरेगाकोईबदलावअगस्‍तमेंहोसकतीहै025फीसदीकीकटौतीUP: कौशांबी में DNA जांच के लिए कब्र से क्यों निकाला गया शव? जानिए क्या है वजह******Highlights यूपी में फतेहपुर जिले के रहने वाले एक हिंदू परिवार ने कौशांबी में एक मुस्लिम परिवार द्वारा दफनाये गएमृतक के शव को अपने बेटे का होने का दावा किया है। जिलाधिकारी के आदेश पर रविवार को शव को कब्र से DNA जांच के लिए बाहर निकाला गया। जानकारी के मुताबिक सैनी थाना क्षेत्र के दिल्ली हावड़ा रेल लाइन स्थित बनपुकरा गांव के सामने 21 जून को एक 20 वर्षीय युवक का शव मिला था। इस शव को बिजलीपुर गांव निवासी शब्बीर ने अपने बेटे रमजान के रूप में पहचान कर उसे अपने गांव में ही कब्र में दफना दिया था।पड़ोसी जिले फतेहपुर के धाता थाना क्षेत्र के धाता निवासी संतराज ने 28 जून को जिलाधिकारी कौशांबी को प्रार्थना पत्र दिया। इसमें उन्होंने कब्र में दफनाए गए शव को अपने बेटे सूरज का होने का दावा किया। उन्होंने मामले की जांच करने का निवेदन किया। डीएम कौशांबी सुजीत कुमार ने इस मामले में उप जिलाधिकारी सिराथू और क्षेत्राधिकारी को शव को कब्र से बाहर निकलवाकर तीन डॉक्टरों के पैनल द्वारा जांच करवाने के निर्देश दिए।डीएम के निर्देश के बाद उप जिलाधिकारी सिराथू तथा क्षेत्राधिकारी सिराथू की मौजूदगी में कब्र में दफनाए गए शव को बाहर निकलवाया गया। वहां पर मौजूद डॉक्टरों के पैनल ने शव के DNA जांच के लिए नमूने लिए। इसके साथ शब्बीर तथा संतराज के भी खून के सैंपल लिए गए हैं। एक अधिकारी ने बताया कि DNA जांच के बाद ही यह निर्णय हो पाएगा कि शव रमजान का है या सूरज का। सैनी थानाध्यक्ष तेज बहादुर सिंह ने बताया कि शव से नमूने लेने के बाद उसे वापस दफना दिया गया है।

अगलेमहीनेभीप्रमुखदरोंमेंनहींकरेगाकोईबदलावअगस्‍तमेंहोसकतीहै025फीसदीकीकटौतीUttarakhand Election 2022: उत्तराखंड में गंगोत्री से सरकार बनने का 'मिथक' रहा बरकरार******Highlights गंगा नदी के उदगम की तरह उत्तराखंड में सरकार बनने की राह भी गंगोत्री से निकलने का मिथक इस बार भी बरकरार रहा।जहां भाजपा प्रत्याशी की जीत के साथ ही पार्टी भी लगातार दूसरी बार सत्ता पर काबिज हो गयी । पिछले कुछ वर्षों की भांति इस बार भी मतगणना के दौरान राजनीतिक दलों से लेकर आम जनता की दिलचस्पी गंगोत्री सीट का परिणाम जानने में अधिक थी और भाजपा प्रत्याशी सुरेश चौहान के जीतने की सूचना मिलते ही मान लिया गया कि अब प्रदेश में भाजपा की ही सरकार बनेगी।चौहान ने गंगोत्री सीट पर कांग्रेस प्रत्याशी विजयपाल सिंह सजवाण को 8029 मतों के अंतर से हराया।इस बार प्रदेश में भाजपा ने 70 में से 47 सीटें जीतकर दो तिहाई से अधिक बहुमत के साथ लगातार दूसरी बार सत्ता में आने का इतिहास बनाया है। इससे पहले2000 में उत्तर प्रदेश के पुनर्गठन से अस्तित्व में आए उत्तराखंड में भाजपा और कांग्रेस बारी-बारी से सत्ता संभालती रही हैं । पिछले विधानसभा चुनाव में उत्तरकाशी की गंगोत्री सीट से भाजपा के गोपाल सिंह रावत जीते थे और भाजपा की ही सरकार बनी थी। पिछले साल लंबी बीमारी से रावत के निधन के बाद गंगोत्री से चौहान को टिकट ​दिया गया था ।वर्ष 2017 में 70 में से 57 सीटें जीतकर एक बडे जनादेश के साथ भाजपा ने त्रिवेंद्र सिंह रावत के नेतृत्व में सरकार बनाई थी । इससे पहले के विधानसभा चुनाव के आंकडे भी गंगोत्री के मिथक की पुष्टि करते हैं । वर्ष 2002 में पहले विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के टिकट पर सजवाण जीते और नारायणदत्त तिवारी के नेतृत्व में कांग्रेस की सरकार बनी । वर्ष 2007 में भाजपा प्रत्याशी गोपाल सिंह रावत को विजय मिली और मेजर जनरल भुवनचंद्र खंडूरी के नेतृत्व में भाजपा सत्तारूढ हुई । वर्ष 2012 में एक बार फिर सजवाण के सिर पर जीत का सेहरा बंधा और विजय बहुगुणा के नेतृत्व में कांग्रेस सत्तासीन हुई ।( इनपुट भाषा )अगलेमहीनेभीप्रमुखदरोंमेंनहींकरेगाकोईबदलावअगस्‍तमेंहोसकतीहै025फीसदीकीकटौतीWI vs IND, 1st Test: जसप्रीत बुमराह ने रचा इतिहास, ऐसा करने वाले बने भारत के सबसे तेज गेंदबाज******नार्थ साउंड (एंटीगा)। जसप्रीत बुमराह सबसे कम मैचों में 50 टेस्ट विकेट हासिल करने वाले भारतीय तेज गेंदबाज बने जिससे वेस्टइंडीज पहले टेस्ट क्रिकेट मैच के दूसरे दिन खेल समाप्त होने तक 8 विकेट पर 189 रन बनाकर संघर्ष कर रहा था।बुमराह ने डेरेन ब्रावो (18) को पगबाधा आउट करके अपना 50वां विकेट लिया। यह उनका 11वां टेस्ट मैच है और इस तरह से उन्होंने भारतीय तेज गेंदबाजों में इस मुकाम पर सबसे तेज पहुंचने के वेंकटेश प्रसाद और मोहम्मद शमी (दोनों 13 टेस्ट मैच) के पिछले रिकार्ड को तोड़ा।भारत की तरफ से सबसे कम मैचों में 50 विकेट लेने का रिकार्ड अब भी आफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन (नौ मैच) के नाम पर है। उनके बाद लेग स्पिनर अनिल कुंबले (दस मैच) तथा नरेंद्र हिरवानी, आफ स्पिनर हरभजन सिंह और बुमराह (तीनों 11 मैच) का नंबर आता है।वेस्टइंडीज अब भी भारत से 108 रन से पीछे है। जेसन होल्डर 10 और मिगुएल कमिंस रोस्टन 0 रन पर खेल रहे थे। भारत की तरफ से ईशांत शर्मा 5, रविंद्र जडेजा, मोहम्मद शमी, और बुमराह ने एक - एक विकेट लिया है।भारत ने अजिंक्य रहाणे (81) के बाद जडेजा (58) के अर्धशतक से शीर्ष क्रम लड़खड़ाने के बावजूद अपनी पहली पारी में 297 रन का दमदार स्कोर बनाया। जडेजा ने अपनी पारी में 112 गेंदे खेली तथा छह चौके और एक छक्का लगाया ता अपनी पारी के दौरान इशांत (19) के साथ आठवें विकेट के लिये 60 रन की महत्वपूर्ण साझेदारी की।

अगलेमहीनेभीप्रमुखदरोंमेंनहींकरेगाकोईबदलावअगस्‍तमेंहोसकतीहै025फीसदीकीकटौतीआगे बढ़ाई गई कार्तिक आर्यन की 'भूल भुलैया 2' की रिलीज डेट, हो रहा था 'RRR' के साथ फिल्म का क्लैश******Highlightsकार्तिक आर्यन की फिल्म 'भूल भुलैया 2' का ऐलान कर दिया गया है। यह फिल्म 20 मई को सिनेमाघरों में दस्तक देने वाली है। रिलीज की तारीख का ऐलान करते हुए फिल्म के निर्माताओं ने अपने आधिकारिक सोशल मीडिया हैंडल पर इससे जुड़ा पोस्ट शेयर किया है।कार्तिक आर्यन, कियारा आडवाणी और तब्बू स्टारर 'भूल भुलैया 2' पहले 25 मार्च को रिलीज होने वाली थी। यह अक्षय कुमार और विद्या बालन की हिट फिल्म 'भूल भुलैया' का सीक्वल है। फिल्म का निर्देशन अनीज बज्मी ने किया है।बता दें एस एस राजामौली की पीरियड ड्रामा 'आरआरआर' की रिलीज की तारीख 25 मार्च मुकरर्र की गई है। इस फिल्म के साथ कार्तिक आर्यन की फिल्म का क्लैश न हो, इस वजह से'भूल भुलैया 2' की रिलीज को आगे बढ़ाया गया है।अगलेमहीनेभीप्रमुखदरोंमेंनहींकरेगाकोईबदलावअगस्‍तमेंहोसकतीहै025फीसदीकीकटौती'वन माइक स्टैंड सीजन 2' में काम करने पर सनी लियोनी ने शेयर किया अपना अनुभव******'वन माइक स्टैंड सीजन 2' अब बस कुछ ही दिन दूर है। मस्ती, चुटकुलों और दुगनी स्टार पावर की पेशकश के साथ यह शो काफी चर्चा में है। यहांजीवन के विभिन्न क्षेत्रों के प्रसिद्ध लोग एक छत के नीचे आएंगे और स्टैंडअप कॉमेडी में हाथ आजमाएंगे।इस बहुचर्चित शो का ट्रेलर बीते शुक्रवार को रिलीज किया गया था। इस शो में कई जाने-माने कॉमेडियन शामिल हैं, जिन्होंने विभिन्न बैकग्राउंड से कुछ सबसे प्रतिभाशाली लोगों को मेंटर किया है। सनी लियोनी, जो बी-टाउन का एक प्रमुख हिस्सा हैं, उन्होंने बी-टाउन में कुछ बेहतरीन फिल्मों में काम किया है और अब स्टैंडअप कॉमेडी में हाथ आजमाने के लिए पूरी तरह तैयार हैं जिसके बारे में उन्होंने अपनी फीलिंग्स साझा की हैं।सनी लियोनी ने साझा किया,“मुझे स्टैंड अप कॉमेडी पसंद है और मैंने यहां और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी कई शो देखे हैं। किसी कॉमेडियन को स्टेज पर परफॉर्म करते देखना इतना आसान और स्वाभाविक लगता है, लेकिन असल में दर्शकों से जुड़ना और उन्हें हर जोक पर हंसाना कितना मुश्किल है, यह एक ऐसी चीज है जिसे मैंने अब बहुत करीब से सीखा है। एक कलाकार के रूप में, मैं हमेशा नई चीजों की कोशिश करना चाहती हूं और दर्शकों को अपनी स्किल्स एक से अधिक तरीके दिखाना चाहती हूं, इसलिए जब मुझे वन माइक स्टैंड 2 पर आने का मौका मिला तो मैंने इसे बाज की तरह पकड़ लिया।""मैं हमेशा अपने प्रशंसकों और अपने दर्शकों को अपने अलग-अलग पक्षों को दिखाने की कोशिश करती हूं, यही वजह है कि मैं इस शो से तुरंत आकर्षित हो गयी। मैंने वन माइक स्टैंड के पिछले सीज़न का भरपूर आनंद लिया था, मुझे लगा कि यह प्रफुल्लित करने वाला है, सेलिब्रिटी मेहमानों ने जो पेश किया यह अद्भुत था, इसलिए उस स्तर से मेल खाने का दबाव था। मुझे लंबे डायलॉग याद रखने और उन्हें डिलीवर करने की आदत है, लेकिन लाइव परफॉर्म करने का अपना ही रोमांच होता है। स्टैंडअप कॉमेडी एक फैशन शो के दौरान रैंप पर गिरने से ज्यादा डरावना होता है, एक जोक क्रैक करना और उस पर कोई हंसे भी ना, यही मेरा सबसे बड़ा डर था। मुझे कहना होगा, मैंने खुद पर एक या दो चुटकुला लेना सीखा और अपने आस-पास की दुनिया को एक हल्के परिप्रेक्ष्य में देखा। मुझे नीति के साथ सहयोग करने की खुशी है, वह हर चीज पर एक नया और स्वाभाविक नज़रिया साझा करती है। महिलाओं के साथ काम करना हमेशा मजेदार होता है क्योंकि आप एक-दूसरे के नजरिए और अनुभवों को समझते हैं जैसे कोई और नहीं समझ सकता और इसी वजह से मेरा सेट इतना अच्छा काम करता है।”'वन माइक स्टैंड' एक अविश्वसनीय रूप से मज़ेदार और प्रशंसित अमेज़न ओरिजिनल सीरीज़ है। करण जौहर, सनी लियोनी, रफ्तार और फेय डिसूजा सहित अन्य प्रतिष्ठित हस्तियों के साथ चेतन भगत की विशेषता वाले इस शो का प्रीमियर 22 अक्टूबर को होगा। इस शो की मेजबानी सपन वर्मा करेंगे और भाग लेने वाली हस्तियों को सुमिखी सुरेश, समय रैना, नीति पलटा, अतुल खत्री और अबीश मैथ्यू सहित कॉमेडियन द्वारा मेंटोर किया जाएगा।

हाल का ध्यान

लिंक