वर्तमान पद:मुखपृष्ठ > नाननिंग सिटी > मूलपाठ

पाकिस्तान के लाहौर में भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव को श्रद्धांजलि दी गई

2022-09-30 23:53:36 नाननिंग सिटी

पाकिस्तानकेलाहौरमेंभगतसिंहराजगुरुऔरसुखदेवकोश्रद्धांजलिदीगईलाल किले पर हमले की कहानी, पर्ची पर लिखे एक नंबर की मदद से मास्टरमाइंड तक पहुंची थी पुलिस******तारीख- 22 दिसंबर, 2000, दिन- शुक्रवार, वक्त- रात करीब 9 बजकर 5 मिनट, जगह- दिल्ली का लाल किला, निशाना- की राजपूताना राइफल्स का बेस कैंपऔरनिशाना बनाने वाले थे आतंकवादी संगठन के ‘फिदायीन’। के परिसर में हर रोज होने वाले ‘लाइट एंड साउंड’ प्रोग्राम के बाद उस दिन हमलावरों ने राजपूताना राइफल्स के बेस कैंप पर हमला कर दियाथा। कैंप के अंदर से उठने वाली गोलियों की तड़तड़ाहट भरी आवाजों ने को दहशत में धकेल दिया था।हमले में सैनिक सहित 3 लोग मारे गए थे। जिसकी FIR उत्तरी दिल्ली के थाना कोतवाली में लिखी गई थी। पड़ताल में जुटी दिल्ली पुलिस को मौके से कागज की एक पर्ची मिली जिसपर एक मोबाइल नंबर लिखा था। इसके अलावा कई A K 56 राइफलें, जिंदा हथगोले और एक रस्सी भी पुलिस ने बरामद की थी। इन सब चीजों में पुलिस के लिए सबसे ज्यादा कारगर साबित हुई वो पर्ची जिसपर नम्बर लिखा था।मोबाइल नंबर की मदद से मिली जानकारी के आधार पर पुलिस ने पूर्वी दिल्ली के गाजीपुर डीडीए जनता फ्लैट पर छापा मारा। यहां पुलिस को मिला हमले का मास्टरमाइंड लश्कर-ए-तैयबा कापाकिस्तानी आतंकवादी मो. अशफाक उर्फ मोहम्मद आरिफ। फ्लैट में पुलिस को एक औरत रहमाना युसुफ फारुखी भी मिली, जिसे अशफाक अपनी बीबी बता रहा था। रहमाना युसुफ फारुखी भी उसे अपना शौहर बताती थी।बताया जाता है कि अशफाक और रहमाना की शादी एक साजिश के तहत ही की गई थी। आतंकियों को भारत में हमले को अंजाम देने के लिए एक अदद औरत की जरूरत महसूस हुई थी, ताकि यहां छिपने का इंतजाम हो सके। इसके लिए अशफाक ने बाकायदा भारतीय लड़की से निकाह के लिए भारत के मशहूर अखबार में शादी का विज्ञापन देकर रहमाना युसुफ के साथ निकाह पढ़वा लिया। हालांकि, इस मामले में रहमाना फारुखी को दिल्ली हाईकोर्ट ने बा-इज्जत बरी कर दिया।लेकिन, मामले में 31 अक्टूबर, 2005 को मुख्य षड्यंत्रकारी पाकिस्तानी आतंकवादी मोहम्मद अश्फाक को 2 सजा-ए-मौत (फांसी), कुल 51 साल की सजा, 5 लाख 35 हजार 500 रुपए जुर्माने की सजा सुनाई। जिसके लिए दया याचिका सुप्रीम कोर्ट में डाली गई लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने 10 अगस्त, 2011 को अश्फाक की दया याचिका को खारिज कर दी।

पाकिस्तानकेलाहौरमेंभगतसिंहराजगुरुऔरसुखदेवकोश्रद्धांजलिदीगईसनटेक रियल्टी को पहली तिमाही में तीन करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ******सनटेक रियल्टी को पहली तिमाही में तीन करोड़ रुपये का शुद्ध लाभनयी दिल्ली: सनटेक रियल्टी लिमिटेड ने चालू वित्त वर्ष की जून में समाप्त पहली तिमाही में 3.02 करोड़ रुपये का एकीकृत शुद्ध लाभ कमाया है। इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में मुंबई की रियल्टी कंपनी को 3.08करोड़ रुपये का शद्ध घाटा हुआ था। शेयर बाजारों को भेजी सूचना में कंपनी ने कहा कि तिमाही के दौरान उसकी कुल आय बढ़कर 96.11 करोड़ रुपये पर पहुंच गई, जो एक साल पहले समान अवधि में 63.20 करोड़ रुपयेथी। अप्रैल-जून में कंपनी की बिक्री बुकिंग 74 प्रतिशत बढ़कर 176 करोड़ रुपये पर पहुंच गई, जो इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में 101 करोड़ रुपये थी।पाकिस्तानकेलाहौरमेंभगतसिंहराजगुरुऔरसुखदेवकोश्रद्धांजलिदीगईGWM Quits India: भारत में कार लॉन्च करने से पहले चीनी कंपनी ने समेटा कारोबार, नौकरी से निकाले भारतीय कर्मचारी******Great Wall Motors चीनी कंपनियां दुनिया भर में अपना कारोबार जमा रही हैं, लेकिन विदेशी कंपनियों के लिए फिसलन भरे साबित हुए भारतीय बाजार में चाइनीज कंपनियां भी पैर नहीं जमा पा रही हैं। ताजा उदाहरण चीन की लोकप्रिय ऑटोमोबाइल कंपनी ग्रेट वॉल मोटर्स (GWM) के रूप में सामने आया है। दो साल पहले 8000 करोड़ के भारी भरकम निवेश के साथ भारतीय बाजार पर छा जाने के मंसूबे के साथ आई ग्रेट वॉल मोटर्स ने भारत से अपना कारोबार समेटने का ऐलान कर दिया है।साल 2020 के ऑटो एक्सपो में ग्रेट वॉल मोटर्स ने भारत में भारी निवेश के साथ कदम रखने का ऐलान किया था। एक्सपो में जीडब्ल्यूएम ने अपनी कारों की लंबी फेहरिस्त भी जारी की थी। लेकिन ऐसा हो न सका। बीते दो सालों से बिगड़ते भारत चीन रिश्तों की वजह से कंपनी ने अपना कारोबार समटने का फैसला किया है। कंपनी के इस फैसले से जहां भारत को 8000 करोड़ के निवेश से हाथ धोना पड़ा, वहीं इस कंपनी में काम कर रहे भारतीय कर्मचारियों की भी छुट्टी हो गई है।सवाल उठ रहा है कि जब कोई कंपनी 8000 करोड़ जितना बड़ा निवेश करने की इच्छा जता रही है, तो 2 साल के भीतर ऐसा क्या हुआ कि अचानक भारत को अ​लविदा कहना पड़ गया। कंपनी ने पुणे के तेलगांव स्थित जनरल मोटर्स के मैन्यूफैक्चरिंग प्लांट का अधिग्रहण हासिल करने की प्रक्रिया शुरू की थी। लेकिन माना जा रहा है कि गलवान घाटी में 2020 को हुए संघर्ष की वजह से ग्रेट वॉल मोटर्स को जीएम प्लांट के अधिग्रहण में काफी मुश्किलें आईं। बीते 2.5 साल के दौरान GWM ने अपने टर्म शीट को 6 बार बदला, लेकिन उसे गृह मंत्रालय की मंजूरी नहीं मिल सकी। आखिरकार ग्रेट वॉल मोटर्स ने हजारों करोड़ का नुकसान कर इंडियन मार्केट को अलविदा कह दिया।GWM के भारत से अलविदा होने का असर इसमें काम कर रहे कर्मचारियों पर भी पड़ा है। ग्रेट वॉल मोटर्स के भारत स्थित ऑपरेशन में 11 भारतीय कर्मचारी भी कार्यरत थे, जिन्हें कंपनी ने 3 महीने की सैलरी देकर निकाल दिया है। इसके साथ ही टारगेट वेरिएबल पे भी दिए हैं। इस साल मार्च में ग्रेट वॉल मोटर्स के भारतीय ऑपरेशन में प्रोडक्ट प्लानिंग एंड स्ट्रैटजी हेड कौशिक गांगुली ने अपनी इस्तीफा दे दिया था।2020 में हुए गलवान संघर्ष के बीच भारत और चीन के बीच कारोबारी संबंध धरातल पर आ गए हैं। भारत से प्रत्यक्ष विदेशी निवेश में यह एक बड़ी वापसी हो सकती है, इसके अलावा टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में कई चीनी कंपनियों को बाहर का रास्ता दिखाया जा चुका है। टिकटॉक बनाने वाली चीन की कंपनी बाइटडांस के अलावा हुवावे को भी इस संघर्ष का घाटा उठाना पड़ा है।

पाकिस्तान के लाहौर में भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव को श्रद्धांजलि दी गई

पाकिस्तानकेलाहौरमेंभगतसिंहराजगुरुऔरसुखदेवकोश्रद्धांजलिदीगईPunjab News: CM भगवंत मान के दौरे से पहले जालंधर में लगे मिले खालिस्तान के पोस्टर******Highlightsपंजाब के शहर जालंधर में सीएम भगवंत मान (Punjab CM Bhagwant Mann) के दौरे से पहले जालंधर में पोस्टर पर खालिस्‍तानी नारे लिखे होने का मामला सामने आया है। एसएचओ जालंधर कमलजीत ने कहा, 'हम आसपास के सीसीटीवी कैमरे चेक कर रहे हैं।' मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार पुलिस ने मौके पर पहुंचकर स्प्रे पेंट से लिखे स्लोगन को मिटाया और संविधान चौक के आसपास लगे सीसीटीवी चेक करके आरोपियों की छानबीन शुरू कर दी।पंजाब के सीएम भगवंत मान के दौरे से एक दिन पहले जालंधर में आतंकी संगठन 'खालिस्तान' (Khalistan) के समर्थन में नारे लगाए गए। वहीं सीएम भगवंत मान सिंह (Punjab CM Bhagwant Mann) और पूर्व मुख्यमंत्री बेअंत सिंह (Beant Singh) के पोस्टरों पर नारे भी लिखे गए, जो 31 अगस्त 1995 में चंडीगढ़ (Chandigarh) के सिविल सचिवालय के बाहर बम विस्फोट में शहीद हुए थे। इस मामले में अभी और जानकारी की तलाश की जा रही है।इससे पहले 6 जुलाई को पटियाला के एक शख्स को खालिस्तान के समर्थन करने पर करनाल पुलिस ने गिरफ्तार किया था। स शख्स पर आरोप था कि इसने ​दीवार पर खालिस्ताना के समर्थन में नारे लिखे थे। वहीं जून माह में पंजाब के फरीदकोट में एक सेशन कोर्ट के जज के घर की दीवारों पर खालिस्तान के समर्थन में नारे लिखे पाए गए थे। इस मामले में फरीदकोट की एसएसपी ने बताया था कि 'एसएफजे कार्यकर्ता गुरपतवंत सिंह पन्नू का एक वीडियो सामने आया है और दीवारों पर नारे लिखे गए हैं।क्या है खालिस्तान?खालिस्तान का मतलब होता है कि खालसे की सरजमीन। ब्रिटिश साम्राज्य के पतन के बाद एक अलग सिख राष्ट्र की मांग शुरू हुई थी, जिसके बाद भारत के पंजाब के सिख अलगाववादियों द्वारा प्रस्तावित राष्ट्र को खालिस्तान नाम दिया गया। 1980 और 1990 के दशक में ये आंदोलन काफी तेज हुआ था, हालांकि 1995 तक भारत सरकार ने इस पर कंट्रोल कर लिया और आंदोलन सिर नहीं उठा सका।31 अगस्त को पूर्व सीएम बेअंत सिंह की पुण्यतिथिबता दें कि ऑपरेशन ब्लू स्टार के दौरान मारे गए आम लोगों के विरोध में आज भी ये आंदोलन बहुत छोटे रूप में जिंदा है। कुछ भारतीय सिख और प्रवासी सिख आज भी खालिस्तान का समर्थन करते हैं और इसके लिए मुहिम छेड़े हुए हैं। उल्लेखनीय है कि एक ओर 31 अगस्त को पूर्व सीएम बेअंत सिंह की पुण्यतिथि है और दूसरी ओर कल (29 अगस्त 2022) पंजाब सीएम ‘खेला वतन पंजाब दिया’ का उद्घाटन करने जालंधर के गुरु गोविंद सिंह स्टेडियम जा रहे हैं। ऐसे में अज्ञात लोगों ने इनके पोस्टर्स पर खालिस्तानी नारे लिखे और धमकी दी। बताया जा रहा है कि भगवंत मान के पोस्ट पर 'नेक्स्ट' लिखा हुआ था।पाकिस्तानकेलाहौरमेंभगतसिंहराजगुरुऔरसुखदेवकोश्रद्धांजलिदीगईWorld Tourism Day: कोरोना काल में जा रहे हैं घूमने तो जरूर फॉलो करें ये सेफ्टी टिप्स******कोरोना काल में वैसे तो घूमना सेहत को लेकर ठीक नहीं है। बावजूद इसके अगर आप फिर भी सैर सपाटा करने की सोच रहे हैं तो कुछ चीजों का ध्यान रखना आपके लिए बेहद जरूरी है। इन चीजों का ध्यान रखकर आप न केवल खुद को कोरोना की चपेट में आने से बचा पाएंगे बल्कि परिवार को भी बचा सकते हैं। 27सितंबर को वर्ल्ड टूरिज्म डे है। ऐसे में आज हम आपको कुछ ऐसे टिप्स बताते हैं जिसे आप ट्रेवल के दौरान जरूर ध्यान में रखें।कोरोना काल में अगर आप सैर सपाटा करने जा रहे हैं तो सोशल डिस्टेंसिग का ख्याल जरूर रखें। ऐसा करके एक तो आप सरकारी नियम का पालन करेंगे साथ ही अपनों को बचा भी पाएंगे। ऐसा ना करने पर हो सकता है आपको कोई और इंफेक्शन हो जाए।मास्क लगाना बहुत जरूरी है। आप बाहर कहीं भी जाएं तो ये इसे लगाना ना भूलें। ये आपको कोरोना वायरस से बचाकर रखेगा। इसके साथ ही बात करते वक्त किसी से भी दो गज की दूरी बनाएं रखें।घूमने के दौरान इस बात का जरूर ख्याल रखें कि आपके पास सैनिटाइजर हो। थोड़ी थोड़ी देर में सैनिटाइजर का इस्तेमाल जरूर करें। इसके साथ ही इस बात का ख्याल रखें कि आप वहां पर किसी भी चीज को ना छुएं। ऐसा करके आप खुद को कोराना की चपेट में आने से बचा सकते हैं।इस बात का ध्यान रखें कि आप खांसते वक्त टिशू का इस्तेमाल करें। टिशू को आप अपनी पैंट की पॉकेट में या फिर जो भी बैग साथ में कैरी कर रहे हैं उसमें रख सकते हैं। ताकि जब भी आपको या फिर आपके साथ मौजूद किसी भी अन्य सदस्य को खांसी आए तो आप उसे तुरंत टिशू निकालकर उन्हें दे सकें।वैसे तो बाजार में इस वक्त सारी दुकाने खुल चुकी हैं। इसलिए जब भी किसी भी दुकान से कुछ भी खाएं तो पहले ये सुनिश्चित कर लें कि वहां पर साफ सफाई हो। इसके साथ ही दुकान में मौजूद सभी लोग कोरोना काल के नियमों का पूरी तरह से ध्यान रख रहे हों।पाकिस्तानकेलाहौरमेंभगतसिंहराजगुरुऔरसुखदेवकोश्रद्धांजलिदीगईDAVOS 2018: पीएम मोदी ने कहा, जो समृद्धि के साथ शांति चाहते हैं उन्हें भारत आना चाहिए****** प्रधानमंत्री ने विश्व आर्थिक मंच की सालाना सभा को संबोधित किया और बताया कि भारत वर्ष 2025 तक पांच लाख करोड़ डॉलर की अर्थव्यवस्था बनने की दिशा में बढ़ रहा है। भारत को निवेश का आकर्षक स्थल बताते हुए उन्होंने कहा कि जो लोग धन के साथ तंदुरुस्ती और समृद्धि के साथ शांति चाहते हैं उन्हें भारत आना चाहिए। यहां विश्व आर्थिक मंच सम्मेलन में शरीक होने वाले मोदी दो दशक में पहले भारतीय प्रधानमंत्री हैं। मोदी ने सम्मेलन की शुरुआत में भाषण दिया। उन्होंने संरक्षणवादी प्रवृत्तियों के प्रति चिंता जताई। मोदी ने कहा कि देश वर्ष 2025 तक पांच लाख करोड़ डॉलर की अर्थव्यवस्था बनने की दिशा में आगे बढ़ रहा है। उन्होंने जोर देकर कहा कि सरकार सुधार, प्रदर्शन और परिवर्तन के सिद्धांत का पालन कर रही है। वर्तमान में भारत का सकल घरेलू उत्पाद लगभग 2.2 लाख करोड़ डॉलर है।मोदी ने आज कहा,‘‘ हमने भारत में निवेश, उत्पादन और काम करने को आसान बनाया है। हमने लाइसेंस और परमिट राज को जड़ से उखाड़ फेंकने का फैसला किया है। हम लालफीताशाही को लाल कालीन से बदल रहे हैं।’’

पाकिस्तान के लाहौर में भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव को श्रद्धांजलि दी गई

पाकिस्तानकेलाहौरमेंभगतसिंहराजगुरुऔरसुखदेवकोश्रद्धांजलिदीगईपाकिस्तान की सरकार ने कहा, शहबाज शरीफ ने सभी उपहार तोशाखाने में जमा कराये******Highlights पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ पर भले ही मनी लॉन्ड्रिंग के मुकदमे चल रहे हों, लेकिन उन्होंने इमरान खान के मुकाबले एक मामले में ‘शराफत’ दिखाई है। पाकिस्तान की सरकार ने बताया है कि शहबाज शरीफ ने हीरा जड़ित 2 घड़ियों सहित विदेशी हस्तियों से मिले सभी गिफ्ट तोशाखाने में जमा करा दिये हैं। पाकिस्तानी मीडिया में शरीफ के हवाले से एक आधिकारिक बयान में कहा गया कि विदेशी हस्तियों से मिली 27 करोड़ रुपये की घड़ियों को भी आम जनता के ‘दर्शन’ के लिए रखा जाएगा।अगर आप सोच रहे हैं कि सरकार शहबाज को मिली इन घड़ियों को जनता को क्यों दिखाना चाहती है तो आपको बता दें कि इसके पीछे एक बहुत ही खास वजह है। पाकिस्तान की सरकार चाहती है कि देश के लोग इन घड़ियों को देखेंगे तो उन्हें मित्र देशों के साथ पाकिस्तान के रिश्तों के बारे में जानकारी हो सकेगी। लोग इन गिफ्ट्स को प्रधानमंत्री के दफ्तर में देख सकेंगे, जहां प्रदर्शन के लिए एक खास इलाके का चुनाव भी कर लिया गया है।बयान के मुताबिक, प्रधानमंत्री शरीफ को गिफ्ट के तौर पर मिली चीजों में हीरा जड़ित 2 घड़ियां शामिल हैं जो खाड़ी देशों से मिली हैं। इन 2 घड़ियों में से एक की कीमत 10 करोड़ रुपये और दूसरी की कीमत 17 करोड़ रुपये है। इनके अलावा, प्रधानमंत्री शरीफ ने तोशाखाने में कफलिंक, अंगूठियां और पेन भी जमा कराये हैं। बयान के मुताबिक, शरीफ को पूर्व प्रधानमंत्री और पीटीआई अध्यक्ष इमरान खान की तुलना में कहीं ज्यादा महंगे गिफ्ट मिले हैं।बता दें कि विदेश से मिले गिफ्ट्स को लेकर हमेशा के निशाने पर रहे थे। शरीफ ने इमरान पर आरोप लगाया था कि उन्होंने गिफ्ट्स को तोशाखाने में रखवाने के बजाय बेच दिया था। उन्होंने आरोप लगाया था कि इमरान ने दुबई में 14 करोड़ रुपये के हीरे के गहने बेच दिए थे जिससे देश के खजाने को नुकसान पहुंचा था। पाकिस्तान के कानून के मुताबिक, किसी विदेशी गणमान्य व्यक्ति से मिले किसी भी उपहार को तोशाखाना में जमा किया जाना चाहिए।पाकिस्तानकेलाहौरमेंभगतसिंहराजगुरुऔरसुखदेवकोश्रद्धांजलिदीगईAirtel लेगी शेयरहोल्‍डर्स से LMIL को 3.64 करोड़ शेयर जारी करने की अनुमति, भारती टेलीमीडिया में खरीदेगी 20% अतिरिक्‍त हिस्‍सेदारी******Airtel to seek shareholders' nod to issue 3.64 cr shares to LMIL for Bharti Telemedia deal भारती एयरटेल (Bharti Airtel) ने शुक्रवार को कहा कि वह अपनी डीटीएच इकाई भारती टेलीमीडिया में अतिरिक्‍त 20 प्रतिाश्‍त हिस्‍सेदारी खरीदने के लिए प्रस्‍तावित सौदे को पूरा करने के लिए लॉयन मैडो इनवेस्‍टमेंट लिमिटेड Lion Meadow Investment Ltd : LMIL) को कंपनी के 3.64 करोड़ शेयर जारी करने के लिए 19 मार्च को शेयरहोल्‍डर्स से मंजूरी लेगी। हाल ही में घोषि‍त इस सौदे के तहत, भारती एयरटेल भारती टेलीमीडिया में 20 प्रतिशत हिस्‍सेदारी का अधिग्रहण वारबर्ग पिनकस की इकाई एलएमआईएल से लगभग 3,126 करोड़ रुपये में करेगी।ने कहा है कि इस सौदे के लिए वह 600 रुपये प्रति शेयर के हिसाब से एयरटैल के 3.64 करोड़ शेयर एलएमआईएल को ट्रांसफर करेगी और 1037.8 करोड़ रुपये का भुगतान नकद किया जाएगा।बीएसई को दी गई जानकारी में भारती एयरटेल ने कहा कि 19 मार्च, 2021 को कंपनी की असाधारण आम बैठक का आयोजन किया जाएगा। इसमें तरजीही आधार पर कंपनी के इक्विटी शेयर को जारी करने के प्रस्‍ताव पर सदस्‍यों से उनकी अनुमति मांगी जाएगी। कंपनी अपने शेयरहोल्‍डर्स से 5 रुपये फेसवैल्‍यू वाले 36,469,913 इक्विटी शेयर तरजीही आधार पर एलएमआईएल को जारी करने के लिए मंजूरी मांगेगी। जानकारी में बताया गया है कि यह नकद भुगतान के अतिरिक्‍त होगा। एलएमआईएल टेलीमीडिया के 102,040,000 इक्विटी शेयर 600 रुपये प्रति शेयर के भाव पर एयरटेल को बेचेगी।

पाकिस्तान के लाहौर में भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव को श्रद्धांजलि दी गई

पाकिस्तानकेलाहौरमेंभगतसिंहराजगुरुऔरसुखदेवकोश्रद्धांजलिदीगईप्रभास और पूजा हेगड़े की 'राधे श्याम' 11 मार्च को होगी रिलीज, क्या टूटेंगे बड़े रिकॉर्ड?******Highlightsमेगास्टार प्रभास अभिनीत फिल्म 'राधे श्याम' 11 मार्च को रिलीज होने के लिए पूरी तरह से तैयार है। दर्शक इस मेगा मूवी को सिल्वर स्क्रीन्स पर देखने के लिए खासा उत्साहित हैं। निर्माताओं द्वारा ट्रेलर जारी किए जाने के बाद से ही फैंस में फिल्म देखने की ललक और बढ़ गई। ऐसे में यह उम्मीद की जा रही है कि यह फिल्म यूके में एक ही दिन में किसी भी तेलुगू फिल्म के पिछले सारे रिकॉर्ड तोड़ सकती है।बता दें कि 'राधेश्याम' इस साल की सबसे चर्चित फिल्मों में से एक है। इसका ट्रेलर देखने के बाद दर्शक इस मेगा मूवी को बड़े पर्दे पर अनुभव करना चाहते हैं और इसके लिए उनको खुद को रोकना बेहद मुश्किल हो रहा है। फिल्म के ग्रैंड ट्रेलर लॉन्च से लेकर एनएफटी संग्रहणीय वस्तुओं का अपना सेट प्राप्त करने तक, निर्माता हर उस छोटी से छोटी चीज का ख्याल रख रहे हैं जोकि फिल्म को भव्य बनाता है और जिसे पहले कभी किसी ने नहीं देखा हो। वैसे मेटावर्स पर अपना ट्रेलर लॉन्च करने वाली पहली फिल्म होने के नाते, इसके लॉन्च के केवल 3 मिनट में ही 2 लाख लोगों की भारी भीड़ ने मेटावर्स में प्रवेश किया, जिसकी वजह से सर्वर क्रैश हो गया था।फिल्म से जुड़े सूत्रों के मुताबिक, "यह कुछ ऐसा है जिसने दर्शकों में फिल्म की दीवानगी को जलाया है क्योंकि रिलीज के 2 दिन पहले ही बॉक्स ऑफिस पर टिकटों की सेल इस कदर बढ़ गई कि मानों बाढ़ ही आ गई हो। हिंदी का हिस्सा भी ज्यादा होने के कारण अंदाया लगया जा रहा है कि यह तेलुगू राज्यों में रिकॉर्ड-तोड़ शुरुआत करने के लिए काफी है। अपनी उम्मीदों पर खरी यह फिल्म 1 मिलियन से अधिक अमेरिकी प्रीमियर को पार कर जाएगी।"गुलशन कुमार और टी-सीरीज़ ने 'राधे श्याम' को यूवी क्रिएशंस प्रोडक्शन प्रस्तुत किया है। राधा कृष्ण कुमार द्वारा निर्देशित और कोटागिरी वेंकटेश्वर राव द्वारा संपादित है। जबकि फिल्म का निर्माण भूषण कुमार, वामसी और प्रमोद ने किया है, जो की इस 11 मार्च, 2022 को सिनेमाघरों पर रिलीज होने के लिए तैयार है।

पाकिस्तानकेलाहौरमेंभगतसिंहराजगुरुऔरसुखदेवकोश्रद्धांजलिदीगईAaj Ka Panchang 25 June 2022: जानिए शनिवार का पंचांग, राहुकाल, शुभ मुहूर्त और सूर्योदय-सूर्यास्त का समय******आज आषाढ़ कृष्ण पक्ष की द्वादशी तिथि और शनिवार का दिन है। द्वादशी तिथि आज का पूरा दिन पार कर देर रात 1 बजकर 11 मिनट तक रहेगी। आज का पूरा दिन, पूरी रात पार कर कल सुबह 5 बजकर 53 मिनट तक धृति योग रहेगा। साथ ही आज सुबह 10 बजकर 24 मिनट तक भरणी नक्षत्र रहेगा, उसके बाद कृत्तिका नक्षत्र लग जायेगा। आचार्य इंदु प्रकाश से जानिए शनिवार का पंचांग,राहुकाल, शुभ मुहूर्त और सूर्योदय-सूर्यास्त का समय।पाकिस्तानकेलाहौरमेंभगतसिंहराजगुरुऔरसुखदेवकोश्रद्धांजलिदीगईMadhya Pradesh: इंदौर में परिवहन विभाग ने अचानक बाइक टैक्सी पर लगाई रोक, जानें क्या हैं वजहें******Highlights: मध्यप्रदेश के सबसे बड़े शहर इंदौर में परिवहन विभाग ने अचानाक बाइक टैक्सी पर रोक लगा दी है। इससे करीब 1000 बाइक टैक्सी चालक परेशान हो गए हैं। दरअसल, परिवहन विभाग ने सुरक्षा और नियमन से जुड़े कारणों का हवाला देते हुए बाइक टैक्सी चलाए जाने पर रोक लगा दी है। इससे शहर में 1,000 से ज्यादा गाड़ियों के चक्के थम गए हैं। विभाग के एक अधिकारी ने गुरुवार को यह जानकारी दी।क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी (आरटीओ) जितेंद्र रघुवंशी ने बताया,‘‘अलग-अलग शिकायतों की जांच के बाद हमने पाया कि शहर में बाइक टैक्सी का परिचालन सुरक्षित नहीं है। ऐप के जरिए बाइक टैक्सी चला रहीं निजी कम्पनियों द्वारा उनसे सम्बद्ध गाड़ियों और चालकों का समुचित ब्योरा परिवहन विभाग को नहीं दिए जाने से इनके नियमन में भी काफी मुश्किलें पेश आ रही थीं।’’उन्होंने बताया कि ओला, रैपिडो और अन्य ऐप आधारित कंपनियां शहर में 1,000 से ज्यादा बाइक टैक्सी चला रही थीं। रघुवंशी ने कहा,‘‘अब अगर कोई व्यक्ति शहर में अपनी गाड़ी को बाइक टैक्सी के रूप में चलाता पाया गया, तो उसका वाहन जब्त कर लिया जाएगा और परिवहन विभाग में गाड़ी का पंजीयन निरस्त कर दिया जाएगा।’’आरटीओ के मुताबिक परिवहन विभाग ने जांच में पाया कि अन्य राज्यों में पंजीकृत गाड़ियां भी शहर में बाइक टैक्सी के रूप में चलाई जा रही थीं और निजी उपयोग की कई गाड़ियों का बाइक टैक्सी के तौर पर वाणिज्यिक इस्तेमाल किया जा रहा था। उन्होंने कहा कि इन गड़बड़ियों पर परिवहन विभाग द्वारा बाइक टैक्सी चालकों के खिलाफ चालान की कार्रवाई के साथ ही संबंधित कंपनियों को नोटिस भी दिए गए, लेकिन उनके द्वारा नियमों का कथित उल्लंघन जारी रहा।

पाकिस्तानकेलाहौरमेंभगतसिंहराजगुरुऔरसुखदेवकोश्रद्धांजलिदीगईडीएलएफ ने अपनी रेंटल इकाई में बेची 33.34 प्रतिशत हिस्‍सेदारी, जीआईसी के साथ 9,000 करोड़ रुपए का सौदा हुआ पूरा****** रियल्‍टी क्षेत्र की प्रमुख कंपनी के प्रवर्तकों ने अपनी रेंटल इकाई (डीसीसीडीएल) में अपनी 33.34 प्रतिशत हिस्‍सेदारी बिक्री का सौदा सिंगापुर के सॉवरेन वेल्‍थ फंड जीआईसी के साथ करीब 9,000 करोड़ रुपए में पूरा कर लिया है। इस सौदे के पूरा होने पर डीएलएफ के प्रवर्तकों को जीआईसी से 8,950 करोड़ रुपए प्राप्‍त हुए हैं और शेष 16,00 करोड़ रुपए डीसीसीडीएल से मिले हैं। प्रवर्तक इस पूरी रकम को डीएलएफ में निवेश करेंगे, जिसका उपयोग कर्ज घटाने में किया जाएगा। अभी डीएलएफ पर 27,000 करोड़ रुपए का ऋण ब‍काया है। गौरतलब है कि इस साल अगस्त में डीएलएफ के प्रवर्तकों ने डीसीसीडीएल में अपनी पूरी 40 प्र‍तिशत हिस्सेदारी 11,900 करोड़ रुपए में बेच दी थी। इसमें 33.34 प्रतिशत हिस्‍सेदारी जीइआईसी को 8,900 करोड़ रुपए में बेची गई थी। बाकी 3,000 करोड़ रुपए मूल्‍य की हिस्सेदारी की डीसीसीडीएल ने पुनर्खरीद की थी।देर रात बाजार नियामकों को भेजी गई जानकारी में कहा गया है कि डीएलएफ ने समझौते में उल्‍लेखित सभी शर्तों को पूरा करते हुए प्रतिभूतियों की बिक्री और खरीद तथा अन्‍य क्‍लोजिंग एक्‍शन को 26 दिसंबर को पूरा कर लिया है। डीएलएफ ने बताया कि अब डीसीसीडीएल में कंपनी और निवेशक (जीआईसी) की क्रमश: 66.66 प्रतिशत और 33.34 प्रतिशत हिस्‍सेदारी है।सूत्रों के मुताबिक डीएलएफ के प्रवर्तकों को जीआईसी से कुल 8,950 करोड़ रुपए प्राप्‍त हुए हैं और अन्‍य 1600 करोड़ रुपए डीसीसीडीएल द्वारा शेयर पुर्नखरीद के लिए पहली किस्‍त के रूप में मिले हैं। 1400 करोड़ रुपए की दूसरी किस्‍त का भुगतान एक साल बाद किया जाएगा।पाकिस्तानकेलाहौरमेंभगतसिंहराजगुरुऔरसुखदेवकोश्रद्धांजलिदीगई26 जनवरी की हिंसा पर पीएम मोदी का पहला बयान, जानें क्या कहा******दिल्ली में 26 जनवरी को हुई हिंसा पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पहला बयान सामने आया है। प्रधानमंत्री ने हिंसा पर कहा है कि 26 जनवरी को हुई हिंसा पर कानून अपना काम करेगा। इस हिंसा पर प्रधानमंत्री की प्रतिक्रिया का काफी समय से इंतजार किया जा रहा था। प्रधानमंत्री मोदी ने यह बयान आज सर्वदलीय बैठक के दौरान दिया है। किसान और दिल्ली पुलिस ने बीच हुई हिंसक झड़प मामले में दिल्ली पुलिस ने अब तक टोटल 38 एफआईआर दर्ज कर ली है वहीं 84 लोगों को अब तक गिरफ्तार किया गया है। हिंसा की घटनाओं में 394 पुलिस कर्मी घायल हो गये थे, जबकि एक प्रदर्शनकारी की मौत हो गई थी। उल्लेखनीय है कि घटना को लेकर 44 लोगों के खिलाफ लुकआउट नोटिस जारी किया गया है।दिल्ली पुलिस ने 26 जनवरी को लाल किले पर हुई हिंसा के सिलसिले में शुक्रवार को 9 किसान नेताओं को जांच में शामिल होने का नोटिस जारी किया था। अधिकारियों ने यह जानकारी दी थी। अधिकारियों के मुताबिक दिल्ली पुलिस की विशेष जांच टीम (एसआईटी) ने किसान नेता राकेश टिकैत, पवन कुमार, राज किशोर सिंह , तजेंदर सिंह विर्क, जितेन्दर सिंह, त्रिलोचन सिंह, गुरमुख सिंह, हरप्रीत सिंह और जगतार सिंह बाजवा को जांच में शामिल होने को कहा है। ये नोटिस उन्हें व्हाट्सऐप के जरिये भेजे गये हैं। पुलिस की एक टीम ने उन तंबुओं का दौरा किया जहां वे ठहरे हुए हैं तथा वहां नोटिस चिपका दिया। एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया, ‘‘हमने उनका इंतजार किया और उनके समन्वयकों से संपर्क किया लेकिन कोई जवाब नहीं मिला।’’भाकियू ने गाजीपुर बॉर्डर पर प्रदर्शन तेज किया, समर्थन में और किसान जुटेउत्तर प्रदेश के गाजियाबाद को दिल्ली से जोड़ने वाले दिल्ली-मेरठ राजमार्ग पर गाजीपुर के पास प्रदर्शन कर रहे किसानों की संख्या शनिवार को और अधिक ग्रामीणों के पहुंचने से बढ़ गई। केंद्र के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ भारतीय किसान यूनियन (भाकियू) के नेतृत्व में हो रहे प्रदर्शन में बृहस्पतिवार को प्रदर्शनकारियों की संख्या कम हो गई थी लेकिन मुजफ्फरनगर में किसानों की महापंचायत के बाद बड़ी संख्या में प्रदर्शनकारी गाजीपुर बॉर्डर पर प्रदर्शन में शामिल होने पहुंचे हैं। हरियाणा और राजस्थान के जिलों के किसान भी यहां पहुंचे हैं।भाकियू के मेरठ क्षेत्र के अध्यक्ष पवन खटाना ने ‘पीटीआई-भाषा’ से कहा, ‘‘आंदोलन मजबूत था और अब भी है।’’ भाकियू नेता राकेश टिकैत के साथ प्रदर्शन स्थल पर मौजूद खटाना ने कहा, ‘‘कृषि कानूनों को वापस लेने की किसानों की मांग को लेकर हो रहे ‘शांतपूर्ण प्रदर्शन’ को लगातार समर्थन मिल रहा है। उन्होंने कहा, ‘‘यह राजनीतिक प्रदर्शन नहीं है। जो भी भाकियू एवं राकेश टिकैत की विचारधारा का समर्थन करता है, उसका स्वागत है लेकिन हमारी अपील है कि जो अंत तक हमारे आंदोलन को समर्थन देने को इच्छुक नहीं हैं, वे इसे बीच में छोड़ने के लिए नहीं आएं।’’प्रदर्शन स्थल पर प्रदर्शनकारियों की संख्या के बारे में पूछे जाने पर पश्चिमी उत्तर प्रदेश के किसान नेता ने कहा, ‘‘ किसान आ रहे हैं और एकजुटता प्रकट कर वापस जा रहे हैं। यह स्थिर भीड़ नहीं है।’’ भाकियू पदाधिकारियों का आकलन है कि शुक्रवार रात गाजीपुर प्रदर्शन स्थल पर करीब 10 हजार प्रदर्शनकारी मौजूद थे जबकि गाजियाबाद पुलिस के मुताबिक यह संख्या पांच से छह हजार के बीच थी। प्रदर्शन स्थल पर पीएसी, द्रुत कार्य बल (आरएफ), दंगा रोधी एवं सामान्य पुलिस की भारी तैनाती की गई है। इस बीच, दिल्ली यातायात पुलिस ने कहा है कि राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या-24 पर आवाजाही रोक दी गई है।

पाकिस्तानकेलाहौरमेंभगतसिंहराजगुरुऔरसुखदेवकोश्रद्धांजलिदीगईमध्य प्रदेश में कोरोना का कहर जारी, आज 3 लोगों की हुई मौत, इंदौर में मृतकों की संख्या सबसे ज्यादा****** मध्य प्रदेश में कोरोना वायरस का कहर जारी है। सूबे में आज इस बीमारी की वजह से 3 मरीजों की मौत हो गई, जिसके बाद प्रदेश में मृतकों की संख्या बढ़कर 36 हो गई है। मध्य प्रदेश में अब कोरोना वायरस 18 जिलों तक फैल गया है। इंदौर प्रदेश में सबसे ज्यादा प्रभावित जिलों में से है। यहां अबतक 235 मामले सामने आए हैं और लोगों की मौत हो चुकी है।राजधानी भोपाल में भी कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा सौ की संख्या पार कर चुका है। भोपाल में अबतक 109 मामले सामने आए हैं और 1 व्यक्ति की मौत हो चुकी है। मुरैना जिले से कोरोना वायरस के 13, जबलपुर से 9, उज्जैन से 15, खरगौन से 14, बड़वानी से 14, ग्वालियर से 6, खंडवा से 5, शिवपुरी से 2, छिंदवाड़ा से 4, बैतूल से 1, विदिशा से 12, श्योपुर से 1, होशंगाबाद से 6, रायसेन से 1, धार से 1, देवास से 3 मामले सामने आ चुके हैं।मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में शुक्रवार को दो महिला डॉक्टरों सहित कोरोना वायरस के 14 नए मामले सामने आने के बाद राज्य में कोविड-19 के मामलों की संख्या शुक्रवार को बढ़कर 440 हो गई। प्रदेश के एक स्वास्थ्य अधिकारी ने बताया कि इन नए मरीजों की जांच रिपोर्ट शुक्रवार सुबह आई। इन नए मरीजों से जुड़े लोगों को पृथक किया जा रहा है और स्थानों को सील करने का काम शुरू कर दिया गया है।उन्होंने बताया कि दोनों पीड़ित महिला डॉक्टर शहर के प्रमुख सरकारी अस्पताल में काम करती हैं और कोविड-19 के जांच दल में शामिल थीं। स्वास्थ्य अधिकारी ने बताया कि भोपाल के इन 14 नए मरीजों को मिलाकर प्रदेश में वायरस संक्रमितों की संख्या बढ़कर 440 हो गयी है।पाकिस्तानकेलाहौरमेंभगतसिंहराजगुरुऔरसुखदेवकोश्रद्धांजलिदीगई1 और 2 के सिक्के घर में हो गए हैं जमा तो यहां देकर नोट में बदलें******CoinsHighlightsमहंगाई के इस दौर में 1 या 2 रुपये में किसी भी चीज को खरीदना मुश्किल हो गया है। वहीं, देशभर के बहुत सारी जगहों पर दुकानदार 1 और 2 रुपये के सिक्के लेने से मना कर रहे हैं। इसके चलते लोगों के घर में 1 और 2 रुपये के ​भारी संख्या में सिक्के जमा हो गए हैं। ऐसे में अगर, आपके पास भी 1 और 2 रुपये के सिक्के जमा हो गए हैं और दुकानदार उसे लेने से मना कर रहा है तो परेशान होने की जरूरत नहीं है। हम आपको बता रहे हैं कि कहां आप उन सिक्कों को आसानी से देकर नोट में बदल सकते हैं।अगर आपको नहीं पता है तो आप आसानी से देशभर के किसी भी डाकघर में सिक्के देकर नोट ले सकते हैं। आरबीआई के दिशानिर्देश के अनुसार यह सुविधा देशभर के डाकघर उपलब्ध करा रहे हैं। इसकी जानकारी खुद डाकर घर ने दी है। डाकघर द्वारा किए गए ट्वीट में कहा है कि आरबीआई द्वारा जारी सभी प्रकार के सिक्के एवं नोट डाकघर द्वारा लिए जाते हैं।भारतीय रिजर्व बैंक ने 26 जून 2019 को एक आधिकारिक अधिसूचना के माध्यम से कहा लोगों से अफवाहों पर विश्वास न करने और लेनदेन के लिए कानूनी रूप में प्रचलन में सभी सिक्कों को स्वीकार करने की अपील की थी। RBI ने कहा था था कि वर्तमान में, 50 पैसे, 1, 2, 5, 10 और 20 के विभिन्न आकार, थीम और डिजाइन के सिक्के प्रचलन में हैं।हाल ही में ऐसी खबरें आई थीं कि लोगों को 10 रुपये के सिक्कों को बाजारों में स्वीकार करने में कठिनाई का सामना करना पड़ा था क्योंकि उन्हें नकली माना जाता था। संसद में इस मुद्दे पर एक सवाल के जवाब में केंद्र सरकार ने कहा था कि सभी आकार, डिजाइन और थीम के 10 रुपये के सिक्के वैध हैं।

हाल का ध्यान

लिंक