वर्तमान पद:मुखपृष्ठ > फूयांग सिटी > मूलपाठ

Washington: एस. जयशंकर ने बताया भारत-रूस संबंध मजबूत होने की असली वजह, अमेरिका को लेकर कही ये बात

2022-10-01 00:26:59 फूयांग सिटी

एसजयशंकरनेबतायाभारतरूससंबंधमजबूतहोनेकीअसलीवजहअमेरिकाकोलेकरकहीयेबातव्यापार गतिविधियां महामारी पूर्व स्तर के 76 प्रतिशत पर पहुंची, जीडीपी पर नहीं पड़ेगा प्रभाव: रिपोर्ट******सीमित लॉकडाउन का जीडीपी पर खास असर नहीं: नोमुरानई दिल्ली। भारत में कोरोना वायरस महामारी की रोकथाम के लिये विभिन्न राज्यों में लगाये जा रहे ‘लॉकडाउन’ के कारण व्यापार गतिविधियां कोविड पूर्व स्थिति के मुकाबले करीब एक चौथाई कम हो गयी हैं। जापान की ब्रोकरेज कंपनी नोमुरा ने मंगलवार को यह कहा। हालांकि, उसने कहा कि गतिविधियों में कमी का आर्थिक प्रभाव न के बराबर होगा और इस साल के लिये वृद्धि अनुमान को बरकरार रखा है। उसने यह भी कहा कि ‘लॉकडाउन’ के कारण इसके नीचे जाने का जोखिम जरूर है।ब्रोकरेज कंपनी के अनुसार 25 अप्रैल की स्थिति के अनुसार नोमुरा इंडिया बिजनेस रिजम्पशन इंडेक्स (एनआईआरआई) में पूरे साल के मुकाबले सर्वाधिक 8.5 प्रतिशत की सप्ताहिक गिरावट दर्ज की गयी और यह 75.9 रहा। महामारी पूर्व सामान्य दिनों से यह 24 प्रतिशत अंक कम है। नोमुरा ने कहा कि ‘लॉकडाउन’ से आवाजाही पर उल्लेखनीय असर पड़ा है और इस बात के संकेत है कि इसका प्रभाव बिजली मांग, जीएसटी-ईवे बिल, रेल माल ढुलाई जैसे कारकों के रूप में अर्थव्यवस्था के वृहत भाग पर है। हालांकि, पहली लहर के मुकाबले प्रभाव अभी भी बहुत कम है। उदाहरण के लिये श्रमिक बल भागीदारी दर अभी भी मजबूत बनी हुई है। लेकिन अगर और राज्य पाबंदियां बढ़ाते हैं तो गति अगले महीने कमजोर बनी रह सकती है। इससे अप्रैल-जून तिमाही में जीडीपी वृद्धि दर प्रभावित हो सकती है।नोमुरा के अनुसार, ‘‘आर्थिक प्रभाव न के बराबर होने का कारण है। अन्य देशों का अनुभव बताता है कि आवाजाही प्रभावित होने और वृद्धि के बीच संबंध बहुत ज्यादा नहीं है। विनिर्माण, कृषि या घर से काम तथा ऑनलाइन सेवाएं जैसे अर्थव्यवस्था के हिस्से मजबूत बने रहने चाहिए।’’ ब्रोकरेज कंपनी ने इसके आधार पर 2021 के लिये वृद्धि दर के अनुमान को 11.5 प्रतिशत पर बरकरार रखा है।

एसजयशंकरनेबतायाभारतरूससंबंधमजबूतहोनेकीअसलीवजहअमेरिकाकोलेकरकहीयेबातChanakya Niti: अगर आप में भी हैं ये गुण तो महिलाएं खींची चली आएंगी आपकी तरफ, जलकर ख़ाक हो जाएंगे दूसरे पुरुष******चाणक्य के अनुसार कुछ पुरुषों के अंदर ऐसी आदतें होती हैं, जो महिलाओं को बेहद पसंद आती हैं। ऐसे पुरुषों की तरफ महिलाएं सहज रूप से आकर्षित होती हैं। चाणक्य के अनुसार पुरुषों के व्यक्तित्व से जुड़ी ये चीज़ें महिलाओं को इतनी पसंद आती हैं कि वो उनपर अपना दिल हार बैठती हैं। वहीँ दूसरे पुरुष जिनमे ये आदतें नहीं हैं वो मन ही मन ऐसे लोकप्रिय पुरुषों से जलते हैं। आखिर कौन सी हैं वो आदतें जिन पर महिलाएं रीझ जाती हैं चलिए हम आपको इस लेख के ज़रिए बताते हैं।आचार्य चाणक्य के अनुसार, जो पुरुष दूसरों को मान सम्मान देना जानता है, महिलाएं उसकी तरफ सहज रूप से आकर्षित होती हैं। जो पुरुष प्रेम संबंधों या फिर वैवाहिक जीवन में अगर किसी का आदर नहीं करते और दूसरों को ठेस पहुंचाते हैं ऐसे लोगों का रिश्ता अक्सर टूट जाता है। जो महिलाओं को तवज्जो देते हैं उनका वैवाहिक जीवन और प्रेम संबंध कभी असफल नहीं होता।आचार्य चाणक्य कहते हैं, जो पुरुष किसी स्त्री की राज की बात जानने के बाद भी अगर उसे सिर्फ अपने तक सीमित रखता है और किसी से बोलता नहीं है। ऐसी पुरुषो पर स्त्रियां तुरंत रीझ जाती हैं। इसके साथ ही अगर पुरुष प्रेम संबंधों में महिलाओं के ऊपर कोई रोक टोक नहीं लगाता है। उन्हें अपनी तरह से जिंदगी जीने की आजादी देते हैं उनके रिश्ते कभी खराब नहीं होते।जब कोई पुरुष किसी महिला को अपनी मौजुदगी में सुरक्षित महसूस कराता है, तब महिलाएं ऐसे पुरुष पर भरोसा करने लगती हैं। जो व्यक्ति अपनी प्रेमिका, पत्नी को सुरक्षा का अहसास कराएं। उन्हें अच्छा माहौल दें। वहां पर कभी भी प्रेम कम नहीं होता है।अगर आप सिर्फ अपने में रहें। हमेशा ईगो पाल कर रखें, तो स्त्रियों से आपकी कभी नहीं बन पाएगी। हर रिश्ता ईगो से बढ़कर है। अपनी गलती पर जो पुरुष उसे स्वीकार कर लें, उनकी ये आदत महिलाओं को बहुत भाती है। लंबे समय तक रिश्तों में मिठास बनाने के लिए ईगो से दूरी बनानी होगी।एसजयशंकरनेबतायाभारतरूससंबंधमजबूतहोनेकीअसलीवजहअमेरिकाकोलेकरकहीयेबातहोली 2020: बिना नुकसान के अपनों संग खेल सकते हैं रंग, बस इन टिप्स को करें फॉलो******10 मार्च को पूरे देश में धूमधाम से का त्योहार मनाया जाएगा। इस दिन हर कोई पुराने गिले शिकवे भुलाकर एक-दूसरे को रंग लगाता है और गले मिलता है। अगर आपको भी रंगों का पर्व पसंद है। अपने दोस्तों और करीबियों को अबीर-गुलाल लगाकर होली मनाना चाहते हैं, लेकिन चाहकर भी ऐसा नहीं कर पा रहे हैं, क्योंकि आपको रंगों से एलर्जी है तो खबर जरूर पढ़ें। हम आपको ऐसे उपाय बताने जा रहे हैं, जिससे आप बिना नुकसान के रंग खेल सकते हैं।होली खेलने से पहले अपने पूरे शरीर पर अच्छी तरह से सरसों का तेल लगाएं। इससे पक्के से पक्का रंग भी आपकी स्किन पर चढ़ नहीं पाएगा और आप आसानी से इन्हें छुड़ा लेंगे।होली खेलने से पहले चेहरे पर सन्सक्रीम भी लगा सकते हैं। इससे आपके चेहरे पर रंगों का दुष्प्रभाव भी नहीं पड़ेगा और बिना किसी नुकसान के फेस से रंग छुड़ा लेंगे।आज कल मार्केट में जो रंग मिल रहे हैं, वो बहुत ही घातक होते हैं। अगर आपकी स्किन पर ज्यादा देर तक रंग लगा रहेगा तो इससे कई स्वास्थ्य समस्याएं भी आ सकती हैं। इसलिए आप हर्बल रंगों का इस्तेमाल कर सकते हैं।बालों को रंगों से बचाना बहुत जरूरी है। इसलिए रंग खेलने से पहले बालों पर भी अच्छी तरह से सरसों का तेल लगाएं। इसके बाद सिर पर कैप पहन लें या कोई कपड़ा बांध लें। इससे बालों पर रंगों का बुरा असर कम पड़ेगा।होली खेलते समय आंखों का ध्यान रखना बहुत जरूरी है, क्योंकि सबसे ज्यादा रंग आंखों में जाने की संभावना होती है। सबसे पहले तो आपको नाखूनों को काट लेना चाहिए, ताकि किसी को रंग लगाते समय उसे नाखून ना लग जाए। अगर आप कॉन्टैक्ट लेंस लगाते हैं तो इसे निकाल दें। अगर गलती से आंखों में रंग चला जाए तो उसे रगड़ने की बजाए साफ पानी से धोएं। आंखों में गुलाब जल भी डाल सकते हैं।

Washington: एस. जयशंकर ने बताया भारत-रूस संबंध मजबूत होने की असली वजह, अमेरिका को लेकर कही ये बात

एसजयशंकरनेबतायाभारतरूससंबंधमजबूतहोनेकीअसलीवजहअमेरिकाकोलेकरकहीयेबातChina Taiwan News: ताइवान के उपराष्ट्रपति ने आबे को दी श्रद्धांजलि तो भड़का चीन, दिया बड़ा बयान******Highlights जापान के पूर्व प्रधानमंत्री शिंजो आबे () को अंतिम विदाई देने के लिए एक कार्यक्रम आयोजित किया गया। इसमें ताइवान के उप राष्ट्रपति की मौजूदगी को लेकर चीन ने ऑफिशियल रूप से अपना विरोध दर्ज कराया है। चीन ने दावा किया कि अगर जरूरत पड़ी तो वह बल के जोर पर ताइवान को फिर अपने साथ जोड़ेगा। साथ ही उसने ताइवान के स्वतंत्र रूप से राजनीतिक उपस्थिति दर्ज कराने को लेकर भी आपत्ति जताई। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता वांग वेनबिन ने मंगलवार को कहा कि ताइवान के अधिकारियों ने राजनीतिक उद्देश्य से इस अवसर का फायदा उठाने की कोशिश की। चीन ने जापान के समक्ष इसकी कड़ी शिकायत दर्ज कराई है।वांग ने कहा, " यह एक राजनीतिक योजना है, जो कभी सफल नहीं हो सकती।" ताइवान के उप राष्ट्रपति ला चिंग-ते ने आबे के टोक्यो स्थित आवास पर उन्हें सोमवार को श्रद्धांजलि दी थी। आबे, ताइवान के एक बड़े समर्थक थे। गौरतलब है कि चीन, ताइवान को अपना क्षेत्र बताते हुए उस पर दावा करता है। वह लोकतांत्रिक रूप से चुनी गई ताइवान की सरकार को मान्यता देने से इनकार करता है। ताइवान और चीन 1949 के गृह युद्ध में अलग हो गए थे।पूर्व पीएम शिंजो आबे देश के सबसे लंबे समय तक प्रधानमंत्री रहे। उन्होंने 2020 में स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं के कारण इस्तीफा दे दिया था। आबे 52 साल की उम्र में सन 2002 में जापान के सबसे यंग पीएम बने थे। पूर्व पीएम आबे को पश्चिमी जापान के नारा में शुक्रवार को भाषण शुरू करने के चंद मिनटों बाद ही पीछे से गोली मार दी गई थी। इसके बाद आबे को विमान से एक अस्पताल ले जाया गया। वहां पहुंचने पर उनकी सांस नहीं चल रही थी और उनकी हृदय गति थम गई थी। इसके बाद उन्हें अस्पताल में मृत घोषित कर दिया गया।एसजयशंकरनेबतायाभारतरूससंबंधमजबूतहोनेकीअसलीवजहअमेरिकाकोलेकरकहीयेबातFY 2018-19 में भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था के सुस्‍त पड़ने के मिल रहे हैं संकेत, वित्‍त मंत्रालय ने जताई चिंता******Economic growth may have slowed in 2018-19, says FinMinनरम घरेलू उपभोग, स्थायी निवेश में धीमी वृद्धि तथा सुस्त निर्यात के कारण वित्‍त वर्ष 2018-19 में के सुस्त पड़ने के संकेत मिल रहे हैं। वित्त मंत्रालय की एक रिपोर्ट में यह कहा गया है। केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय (सीएसओ) ने फरवरी महीने में वित्‍त वर्ष 2018-19 की आर्थिक वृद्धि दर का पूर्वानुमान 7.20 प्रतिशत से घटाकर सात प्रतिशत कर दिया था। सात प्रतिशत की आर्थिक वृद्धि दर पिछले पांच साल की सबसे धीमी दर है।वित्त मंत्रालय ने मार्च महीने के लिए जारी अपनी मासिक आर्थिक रिपोर्ट में कहा है कि रेपो दर में कटौती तथा बैंकों की तरलता में सुधार के जरिये मौद्रिक नीति से आर्थिक वृद्धि को गति देने की कोशिश की गई है।मंत्रालय ने कहा कि ऐसा लगता है कि वित्त वर्ष 2018-19 में देश की आर्थिक वृद्धि दर सुस्त पड़ी है। इस नरमी के लिए जिम्मेदार मुख्य कारणों में निजी उपभोग का सुस्त पड़ना, स्थायी निवेश में धीमी वृद्धि होना तथा निर्यात का सुस्त पड़ना शामिल है। हालांकि मंत्रालय ने कहा है कि भारत अभी भी सबसे तेज गति से वृद्धि करने वाली बड़ी अर्थव्यवस्था बना हुआ है।मंत्रालय ने चुनौतियों का जिक्र करते हुए कहा कि कृषि क्षेत्र में वृद्धि दर बदलने की जरूरत है। उसने कहा कि 2018-19 की चौथी तिमाही में वास्तविक प्रभावी विनिमय दर में गिरावट आई है और इसके कारण निकट भविष्य में निर्यात में सुधार को लेकर चुनौती उपस्थित हो सकती है। बाह्य मोर्चे पर सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) और चालू खाता घाटा का अनुपात 2018-19 की चौथी तिमाही में गिरने वाला है। राजकोषीय घाटा भी केंद्र सरकार के लक्ष्य के नजदीक आ रहा है।मंत्रालय ने कहा कि 2018-19 में नरम मुद्रास्फीति के कारण रिजर्व बैंक के समक्ष मौद्रिक नीति आसान करने का विकल्प उपस्थित हुआ।एसजयशंकरनेबतायाभारतरूससंबंधमजबूतहोनेकीअसलीवजहअमेरिकाकोलेकरकहीयेबातMaruti New Plant: मारुति सुजुकी दिल्ली के पास यहां लगाएगी नया प्लांट, पहले चरण में करेगी 11,000 करोड़ रुपये का निवेश******Maruti Suzukiदेश की सबसे बड़ी कार विनिर्माता कंपनी मारुति सुजुकी इंडिया (एमएसआई) ने शुक्रवार को कहा कि वह हरियाणा में स्थापित किए जाने वाले अपने नए विनिर्माण संयंत्र के पहले चरण में 11,000 करोड़ रुपये का निवेश करेगी। एमएसआई ने शेयर बाजार को नए विनिर्माण संयंत्र के बारे में जानकारी दी। इसके मुताबिक, कंपनी सोनीपत जिले के आईएमटी खरखोदा में 800 एकड़ जमीन के आवंटन की प्रक्रिया पूरी कर ली है।इसके लिए कंपनी ने हरियाणा राज्य औद्योगिक एवं अवसंरचना विकास निगम लिमिटेड (एचएसआईआईडीसी) के साथ करार किया है। कंपनी ने बताया कि नए संयंत्र का पहला चरण 2025 तक पूरा होने की उम्मीद है। इसकी उत्पादन क्षमता 2.5 लाख इकाई प्रति वर्ष की होगी। नए संयंत्र के निर्माण से जुड़ी प्रशासनिक मंजूरियां ली जानी अभी बाकी हैं।एमएसआई ने कहा कि वह संयंत्र के पहले चरण पर 11,000 करोड़ रुपये से अधिक का निवेश करेगी। कंपनी ने कहा कि सोनीपत विनिर्माण संयंत्र में भविष्य में क्षमता विस्तार के लिए भी जगह होगी। फिलहाल मारुति सुजुकी के दो संयंत्र हरियाणा एवं गुजरात में सक्रिय हैं जिनकी कुल क्षमता करीब 5.5 लाख इकाई प्रति वर्ष है।

Washington: एस. जयशंकर ने बताया भारत-रूस संबंध मजबूत होने की असली वजह, अमेरिका को लेकर कही ये बात

एसजयशंकरनेबतायाभारतरूससंबंधमजबूतहोनेकीअसलीवजहअमेरिकाकोलेकरकहीयेबातKBC 13: शानदार शुक्रवार में नजर आएंगे रितेश देशमुख और जेनेलिया डिसूजा, बिग बी संग करेंगे मस्ती******अभिनेता रितेश देशमुख और उनकी पत्नी जेनेलिया डिसूजा शुक्रवार, 8 अक्टूबर, रात को अमिताभ बच्चन के निर्देशन वाले रियलिटी क्विज शो 'कौन बनेगा करोड़पति (केबीसी) 13' के 'शानदार शुक्रवार' एपिसोड में विशेष अतिथि होंगे। अभिनेता बिग बी के साथ बातचीत में अपने उद्योग के अनुभव और उनके बारे में कम ज्ञात तथ्यों को साझा करते हुए दिखाई देंगे। जेनेलिया अपने पहले विज्ञापन के बारे में बात करती हैं, जहां उन्हें अमिताभ बच्चन के साथ स्क्रीन स्पेस साझा करने का अवसर मिला था। वे याद करती हैं और उस समय के बारे में बताती है जब उन्होंने एक साथ शूटिंग की थी और बिग बी ने जेनेलिया के क्लोज-अप शॉट का अनुरोध किया था न कि खुद का।रितेश ने जेनेलिया के साथ अपनी शादी के लिए बिग बी को श्रेय देते हुए कहा कि अगर आपने उस दिन क्लोज-अप नहीं रखा होता, तो हम शादी नहीं कर पाते। क्लोज-अप के कारण, उन्होंने और मैंने अपनी पहली फिल्म एक साथ की।बच्चन ने रितेश को एक 'परफेक्शनिस्ट' बताया।शो में रितेश ने जेनेलिया को फिल्मी अंदाज में घुटने में बैठकर प्रपोज भी किया, इतना ही नहीं साथ में बिग बी की फिल्म के डायलॉग भी बोले।'कौन बनेगा करोड़पति13' का 'शानदार शुक्रवार' एपिसोड सोनी एंटरटेनमेंट टेलीविजन पर प्रसारित होगा।एसजयशंकरनेबतायाभारतरूससंबंधमजबूतहोनेकीअसलीवजहअमेरिकाकोलेकरकहीयेबातपवन सिंह और अक्षरा सिंह के रोमांटिक गाने 'पिपरवा के तरवा' को मिले 100 मिलियन व्यूज, देखिए गाना******भोजपुरी सिनेमा की मशहूर जोड़ी पवन सिंह और अक्षरा सिंह का नया रोमांटिक गाना सोशल मीडिया सोशल मीडिया पर खूब पसंद किया जा रहा है। गाने में अक्षरा और पवन सिंह का रोमांस दिख रहा है। यह भोजपुरी की फिल्म 'त्रिदेव' का गाना है। गाने के बोल हैं- 'चल न पिपरवा के तरवा, ओहिजा सारा काम हो जाई'। इस गाने में पवन और अक्षरा की जोड़ी फैन्स को खूब पसंद आ रही है।गाने में अक्षरा और पवन दोनों ही स्काई ब्लू कलर के एथनिक वियर में हैं। इस गाने को यूट्यूब पर 100 मिलियन से ज्यादा व्यूज मिल चुके हैं और गाना सुपरहिट हो चुका है। भोजपुरी सुपरस्टार पवन सिंह ने ज्यादातर फिल्में अक्षरा के साथ की हैं और दोनों की फिल्में हिट भी होती हैं। एक विवाद के बाद अक्षरा और पवन में बातचीत बंद हो गई है और दोनों ने काफी समय से साथ में कोई स्टेज शेयर नहीं किया है। यहां तक कि दोनों लंबे समय से फिल्मों में भी साथ नहीं दिखे हैं। यहा गाना 2016 को रिलीज हुआ था और अब फैन्स दोबारा दोनों को साथ देखने के लिए बेताब हैं।'चल न पिपरवा के तरवा, ओहिजा सारा काम हो जाई' गाना पवन सिंह के सबसे हिट गानों में से एक है। इस गाने को पवन सिंह ने ही गाया है, उनका साथ दिया है सिंगर प्रियंका सिंह ने। गाने को आजाद सिंह ने लिखा है और संगीत में पिरोया है ओम झा ने।

Washington: एस. जयशंकर ने बताया भारत-रूस संबंध मजबूत होने की असली वजह, अमेरिका को लेकर कही ये बात

एसजयशंकरनेबतायाभारतरूससंबंधमजबूतहोनेकीअसलीवजहअमेरिकाकोलेकरकहीयेबातFlight Crash: दुनिया की वो सबसे खतरनाक विमान दुर्घटना, जब हजारों फीट की ऊंचाई से बुलेट स्पीड में गिरा प्लेन, सभी यात्रियों की हुई थी मौत******Highlights: इतिहास में भयानक विमान दुर्घटनाएं हुए हैं। कभी आतंकी साजिश तो कभी विमानों में गड़बड़ी हर बार सैकड़ों यात्रियों को कीमत चुकानी पड़ी है। ऐसा ही एक वाकया 2005 में हुआ था, जिसे लेकर आज भी लोगों की रूह कांप जाती है। 18 साल पहले आज ही के दिन एक विमान हादसे का शिकार हुआ था जिसमें सवार सभी लोगों की मौत हो गई थी। यह हादसा कितना भयानक था, इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि यह विमान 300 फीट प्रति सेकेंड की भयानक रफ्तार से जमीन पर गिरा था। मैकडॉनेल डगलस एमडी -82 में सवार 160 यात्रियों और चालक दल के बचने की कोई संभावना नहीं थी क्योंकि विमान केवल तीन मिनट में 33,000 फीट की ऊंचाई से जमीन पर गिर गया था। वर्ष 2005 की शुरुआत 16 अगस्त को फ्लाइट 708 के दुर्घटनाग्रस्त होने के साथ हुई थी। यह वेनेज़ुएला में माचिक्स के पास दुर्घटनाग्रस्त हो गया। बीती रात विमान पनामा से फ्रांसीसी कैरेबियाई द्वीप मार्टीनिक जा रहा था। दुर्घटना दुखद थी लेकिन इसने उस वर्ष तीन गंभीर रिकॉर्ड बनाए। यह उस वर्ष की सबसे घातक विमान दुर्घटना थी। वेनेज़ुएला के इतिहास में सबसे दर्दनाक और एमडी-82 विमान से जुड़ी सबसे घातक विमान दुर्घटना थी।माना जा रहा था कि पायलटों ने अपने वजन के कारण विमान को बहुत ऊंचा उड़ा दिया था। जांचकर्ताओं का कहना है कि इसे 31,900 फीट से ऊपर नहीं उड़ाया जाना चाहिए था लेकिन वे वास्तव में इसे 33,000 फीट तक ले गया था। प्लेन बहुत ऊंचाई पर होने के कारण इसकी गति कम होती जा रही थी और समय पर आवश्यक कदम न उठाने के कारण विमान तेजी से नीचे आया। स्थानीय समयानुसार 2:31 बजे जमीन पर दुर्घटनाग्रस्त हो गया।विमान में सवार अधिकांश लोग फ्रांसीसी नागरिक थे जबकि एक इतालवी और चालक दल के आठ सदस्य कोलंबियाई थे। यह पाया गया कि एयरलाइन वेस्ट कैरेबियन एयरवेज दुर्घटना से पहले समस्याओं से पीड़ित थी और सुरक्षा के मामले में उसका रिकॉर्ड बहुत खराब था। कुछ दिन पहले मई में 19 यात्रियों को लेकर तारा एयर का एक विमान दो दिन पहले नेपाल में दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। इस दौरान विमान में सवार सभी 19 यात्रियों और चालक दल के दो सदस्यों की मौत हो गई। प्रारंभिक जांच के अनुसार हादसे का कारण खराब मौसम बताया जा रहा है।

एसजयशंकरनेबतायाभारतरूससंबंधमजबूतहोनेकीअसलीवजहअमेरिकाकोलेकरकहीयेबातOmPrakash Rajbhar: अखिलेश पर राजभर ने कसा तंज, कहा- अखिलेश अपने चाचा और भाभी को नहीं सम्भाल पाए, मुझे क्या सम्भालेंगे******Highlightsसमाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष अखिलेश यादव की दो टूक के बाद सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर ने रविवार को कहा कि उनका सपा से गठबंधन टूट चुका है। राजभर ने कहा कि यादव अपने चाचा शिवपाल सिंह यादव और भाभी अपर्णा यादव तक को नहीं संभाल पाए, तो हमें कहां से संभालेंगे। उन्होंने आरोप लगाया कि अखिलेश अपने आगे किसी की नहीं सुनते। राजभर ने यहां पार्टी के युवा मोर्चा की बैठक में भाग लेने से पहले संवाददाताओं से बातचीत में सपा प्रमुख अखिलेश यादव पर तीखे वार किए।AC रूम में बैठकर नहीं होती राजनीतिसपा द्वारा गठबंधन से 'आजाद' किए जाने के सवाल पर उन्होंने कहा कि अखिलेश यादव जब अपने चाचा शिवपाल यादव और भाभी अपर्णा यादव को नहीं संभाल सके तो हमें कहां से संभालेंगे? अखिलेश अपने आगे किसी की नहीं सुनते।" AC रूम में बैठकर राजनीति करने को लेकर अखिलेश पर निशाना साध चुके राजभर ने कहा "उत्तर प्रदेश में एसी की राजनीति की हवा खराब हो गई है। एसी आराम करने के लिए बनाया गया था, मगर, यूपी में कुछ नेताओं को एसी की हवा रास आ गयी है।"सपा ने खत्म किया गठबंधनगौरतलब है कि पिछले कुछ वक्त से तनातनी के बाद समाजवादी पार्टी ने अपनी आलोचना कर रहे सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर और अखिलेश के चाचा सपा विधायक शिवपाल सिंह यादव को शनिवार को पत्र जारी कर कहा था कि उन्हें जहां ज्यादा सम्मान मिले वहां जाने के लिए वे आजाद हैं। राजभर और शिवपाल पिछले कुछ समय से सपा अध्यक्ष के खिलाफ बयान दे रहे थे। राजभर ने अब बहुजन समाज पार्टी से गठबंधन का इरादा जाहिर करते हुए कहा कि उन्हें व्यक्तिगत रूप से लगता है कि अब बसपा से गठबंधन की बात की जाए। हालांकि इस बारे में अंतिम निर्णय पार्टी नेताओं और विधायकों की राय से ही लिया जाएगा।अखिलेश से कहीं ज्यादा बेहतर मायावती -राजभरराजभर ने कहा कि मायावती अखिलेश यादव के मुकाबले क्षेत्र में ज्यादा रहती हैं और कार्यकर्ताओं से मुलाकात करती हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि अखिलेश चुनाव का टिकट देने में पक्षपात करते हैं। विधानसभा चुनाव में सुनियोजित तरीके से टिकट वितरण नहीं करने की वजह से सपा गठबंधन को पराजय का सामना करना पड़ा।एसजयशंकरनेबतायाभारतरूससंबंधमजबूतहोनेकीअसलीवजहअमेरिकाकोलेकरकहीयेबातहरियाणा में सरकार बनाने का दावा पेश कर सकती है बीजेपी, थोड़ी देर में राज्यपाल से मिलेंगे खट्टर: सूत्र******हरियाणा विधानसभा चुनाव को लेकर बड़ी खबर है कि मुख्यमंत्री थोड़ी देर में राज्यपाल से मुलकात कर प्रदेश में सरकार बनाने का दावा पेश कर सकते हैं। सूत्रों ने यह जानकारी दी है। बीजेेपी सबसे बड़े दल होने के नाते सरकार बनाने का दावा पेश कर सकती है।अभी तक प्राप्त रूझानों/नतीजों के मुताबिक विधानसभा चुनाव में बीजेपी को 41 सीट, कांग्रेस को 31, जेजेपी को 10, आईएनएलडी-01 और अन्य को 8 सीटें मिलती नजर आ रही हैं। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक 5 निर्दलीय विधायक बीजेपी के साथ जा सकते हैं। साथ ही जेजेपी से भी बात चल रही है।हालांकि दुष्यंत चौटाला ने इससे पहले कहा, ‘‘यह (मनोहर लाल) खट्टर सरकार के खिलाफ जबरदस्त सत्ता विरोधी लहर है।’’ यह पूछे जाने पर कि उनकी पार्टी भाजपा को समर्थन देगी या कांग्रेस को, चौटाला ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘अभी कुछ भी कहना जल्दबाजी होगा। पहले हम अपने विधायकों की बैठक बुलाएंगे, फैसला करेंगे कि सदन में हमारा नेता कौन होगा और फिर इस पर आगे सोचेंगे।’’कांग्रेस से जुड़े सूत्रों ने बताया कि दिल्ली पहुंचने के बाद हुड्डा कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात करेंगे और सरकार बनाने की संभावना को लेकर पार्टी के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल और गुलाम नबी आजाद के साथ मंथन करेंगे। एक सूत्र ने बताया कि सोनिया ने हुड्डा से फोन पर भी बात की है और उन्हें सरकार बनाने के लिए आगे बढ़ने को कहा है। (इनपुट-भाषा)

एसजयशंकरनेबतायाभारतरूससंबंधमजबूतहोनेकीअसलीवजहअमेरिकाकोलेकरकहीयेबातद्रविड़ को साबित करना होगा उन्हें कोच के रूप में बढ़ा-चढ़ाकर पेश नहीं किया गया: शोएब अख्तर******पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्तर का मानना है कि विराट कोहली का कप्तानी युग खत्म होने के बाद भारत दोराहे पर है जिससे राहुल द्रविड़ के सामने यह साबित करने की बड़ी चुनौती है कि उन्हें कोच के रूप में बढ़ा-चढ़ाकर पेश नहीं किया गया। एकदिवसीय टीम की कप्तानी छीने जाने के कुछ हफ्तों बाद कोहली ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टेस्ट सीरीज में 1-2 की हार के बाद सभी को हैरान करते हुए सबसे लंबे प्रारूप में भी कप्तानी छोड़ दी।अख्तर ने यहां लीजेंड्स लीग क्रिकेट टी20 टूर्नामेंट के इतर पीटीआई से कहा, ‘‘मुझे नहीं पता कि सौरव गांगुली (बीसीसीआई अध्यक्ष) और अन्य लोग क्या सोचते हैं। लेकिन निश्चित तौर पर भारतीय क्रिकेट शिखर (दोराहे) पर है।’’ कार्यकाहक कप्तान लोकेश राहुल की अगुआई में भारत ने दक्षिण अफ्रीका दौर पर एकदिवसीय श्रृंखला भी गंवाई जो राहुल द्रविड़ की अगुआई वाले नए कोचिंग प्रबंधन के मार्गदर्शन में पहले ही विदेशी दौरे पर पहली हार है।अख्तर ने कहा, ‘‘नहीं, भारतीय क्रिकेट नीचे नहीं गिरने वाला। आपको स्थिति को संभालना होगा। राहुल द्रविड़ के सामने बड़ी चुनौती है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘उम्मीद करता हूं कि लोग ये नहीं कहेंगे कि कोच के रूप में उसे बढ़ा-चढ़कर पेश किया गया और बेशक उसे रवि शास्त्री की जगह लेनी है जिन्होंने काफी अच्छा काम किया। उसके सामने बड़ी चुनौती है, देखते हैं वह कैसा प्रदर्शन करता है।’’भारत ने पहला टेस्ट जीता था लेकिन अगले दो टेस्ट गंवा दिए जिससे दक्षिण अफ्रीका में सीरीज जीतने का उसका सपना एक बार फिर टूट गया। कोहली को 2014 में महेंद्र सिंह धोनी की जगह भारत का टेस्ट कप्तान नियुक्त किया गया था और उन्होंने अपने अभियान का अंत भारत के सबसे सफल कप्तान के रूप में किया।तैंतीस साल के कोहली ने टी20 टीम की कप्तानी छोड़ने का फैसला किया था जिसके बाद उन्हें एकदिवसीय टीम के कप्तान के रूप में भी हटा दिया गया जिससे उनके और बीसीसीआई के आला अधिकारियों के बीच मतभेद उजागर हुए। अख्तर को इसकी उम्मीद थी क्योंकि उन्होंने टी20 विश्व कप के दौरान भारतीय ड्रेसिंग रूम में विभाजन देखा था।उन्होंने कहा, ‘‘मुझे पता था कि ऐसा होने वाला है। उस समय मैं दुबई में था और मुझे इसकी पूरी जानकारी है। मुझे पूरे मामले की जानकारी थी और भारत में अपने मित्रों के जरिए पता था कि भारतीय ड्रेसिंग रूम में क्या चल रहा था।’’ अख्तर ने कहा, ‘‘ऐसे लोग थे जो उसके खिलाफ थे। इसलिए मैं कप्तानी छोड़ने के उसके फैसले से हैरान नहीं था। यह आसान काम नहीं होता।’’भारत को इशांत शर्मा, मोहम्मद शमी और जसप्रीत बुमराह जैसे तेज गेंदबाजों ने आस्ट्रेलिया, इंग्लैंड और दक्षिण अफ्रीका में कुछ यादगार जीत दिलाई हैं और अख्तर ने कहा कि तेज गेंदबाजों को उसी तरह बदलना पड़ता है जैसे गाड़ी के टायर बदलने पड़ते हैं। उन्होंने कहा, ‘‘उन्होंने काफी अच्छी प्रगति की। मैं काफी प्रभावित हूं, उम्मीद करता हूं कि उपमहाद्वीप से ऐसे और तेज गेंदबाज आते रहेंगे और अच्छा प्रदर्शन करेंगे।’’अख्तर ने कहा, ‘‘मुझे सभी पसंद हैं, मुझे बुमराह पसंद है, शमी शानदार है.अगर वे पाकिस्तानियों की तरह रवैया विकसित करें तो यह अच्छा रहेगा।’’ अख्तर का हालांकि मानना है कि इशांत, शमी, उमेश यादव और भुवनेश्वर कुमार अपने करियर के अंतिम चरण पर हैं और उनके विकल्पों पर विचार करने का समय है। उन्होंने कहा, ‘‘वे टीम के ‘पहियों’ की तरह हैं। बेशक आपको उनको बदलना होगा जैसे आप ‘टायर’ बदलते हो। उन्हें बीच में आराम की भी जरूरत है। ’’एसजयशंकरनेबतायाभारतरूससंबंधमजबूतहोनेकीअसलीवजहअमेरिकाकोलेकरकहीयेबातDigital India: भारत में 35 करोड़ लोग करते हैं इंटरनेट का इस्तेमाल, 2017 तक इनकी संख्या 50 करोड़ पहुंचने की उम्मीद****** अमेरिका की मल्टीनेशनल कंपनी गूगल के अनुसार भारत में 35 करोड़ लोग इंटरनेट का इस्तेमाल करते हैं। इनमें से 15.20 करोड़ लोग इंटरनेट के लिए मोबाइल का उपयोग करते हैं। गूगल ने कहा कि वर्ष 2017 तक भारत में 50 करोड़ लोग इंटरनेट के यूजर बन जाएंगे और इनमें से 40 करोड़ मोबाइल फोन के जरिए इंटरनेट इस्तेमाल करेंगे। सर्च इंजन कंपनी ने दावा किया कि आज भी गूगल पर 95 फीसदी अंग्रेजी का इस्तेमाल किया जाता है।गूगल इंडिया के स्ट्रेटेजिस्ट सर्च क्वालिटी आशीष कल्सी ने कहा, भारत में 35 करोड़ लोग इंटरनेट का उपयोग करते हैं और इनमें से 15.20 करोड़ मोबाइल फोन के जरिए इंटरनेट उपयोग करते हैं। आशीष कल्सी के मुताबिक देश में इंटरनेट का इस्तेमाल तेजी से बढ़ रहा है। अगले एक साल में करीब 15 करोड़ और यूजर जुड़ने की उम्मीद है। उन्होंने कहा कि भारत में आज गूगल पर 95 फीसदी अंग्रेजी भाषा का उपयोग किया जाता है और शेष पांच फीसदी उपयोग में सभी भारतीय भाषाएं शामिल हैं। लेकिन इसके साथ ही उन्होंने कहा कि भारतीय भाषाओं में सबसे अधिक उपयोग हिन्दी का हो रहा है और यह तेज गति से बढ़ता ही जा रहा है।4G data plansआशीष कल्सी ने कहा, आज जिसके पास कंटेंट है वह राजा है और गूगल सभी लोगों को समान अवसर देता है, बशर्ते उनका कंटेंट पुख्ता होनी चाहिए। इस मौके पर उपस्थित मध्यप्रदेश माध्यम के ओएसडी पुष्पेंन्द्र पाल सिंह ने कहा कि डिजिटल मीडिया पर अच्छी और गुणवत्तापूर्ण जानकारी अधिक से अधिक उपलब्ध कराना आज के समय की मांग है।

एसजयशंकरनेबतायाभारतरूससंबंधमजबूतहोनेकीअसलीवजहअमेरिकाकोलेकरकहीयेबात31 जनवरी से शुरू होगा बजट सत्र, बिग एंड बोल्‍ड बजट बनाने के लिए खुद पीएम मोदी ने संभाली कमान****** संसद का बजट सत्र 31 जनवरी को शुरू होकर तीन अप्रैल तक चलेगा। इस दौरान एक फरवरी को वित्त वर्ष 2020-21 का आम बजट पेश किया जाएगा। सूत्रों ने बताया कि सुस्‍त पड़ी अर्थव्‍यवस्‍था को पटरी पर वापस लाने के लिए इस बार सरकार की बिग और बोल्‍ड बजट पेश करने की तैयारी है। परंपरा से हटकर इस बार खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बजट का मसौदा तैयार करने में अहम भूमिका निभा रहे हैं। सूत्रों ने बताया कि संसदीयमामलों की मंत्रिमंडलीय समिति ने संसद का 31 जनवरी से तीन अप्रैल तक दो चरणों में रखने का सुझाव दिया है। बजट सत्र का पहला चरण 31 जनवरी से 11 फरवरी तक और दूसरा चरण दो मार्च से तीन अप्रैल तक चलेगा। बजट सत्र के बीच में करीब एक महीने का अवकाश रखा जाता है।इस दौरान विभिन्न मंत्रालयों, विभागों से जुड़ी संसदीय समितियां बजट आवंटन प्रस्तावों का परीक्षण करती हैं। केंद्रीय मंत्रिमंडल की सिफारिश पर राष्ट्रपति संसद के दोनों सदनों की बैठक बुलाते हैं। वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण एक फरवरी को मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का दूसरा बजट पेश करेंगी। विश्लेषकों को उम्मीद है कि अर्थव्यवस्था में जारी नरमी को देखते हुए सरकार इस बजट में अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए कुछ बड़े उपायों की घोषणा कर सकती है।सरकार में उच्‍च पदस्‍थ सूत्रों के मुताबिक इस बार बजट पर पीएम मोदी लगातार बैठकें कर रहे हैं। पिछले कुछ दिनों में पीएम मोदी ने 12 बड़ी बैठकें की हैं। इसमें उद्योगपतियों, विशेषज्ञाों के साथ बैठक अहम मानी जा रही है। बजट की तैयारी के लिए पीएम मोदी अबतक 120 से अधिक लोगों से मिल चुके हैं।प्रत्‍येक मंत्रालय को 5 साल का विजन पेपर तैयार करने को कहा गया है। पीएम हर मंत्रालय के प्‍लान की समीक्षा खुद कर रहे हैं। सुबह 9 बजे से रात 10 बजे तक बैठकों का दौर चल रहा है। गुरुवार को भी पीएम मोदी नीति आयोग के साथ बजट पर परिचर्चा के लिए बैठक कर रहे हैं।एसजयशंकरनेबतायाभारतरूससंबंधमजबूतहोनेकीअसलीवजहअमेरिकाकोलेकरकहीयेबातDelhi Airport: मिठाई के डब्बे में 54 लाख के विदेशी करेंसी लेकर दिल्ली से दुबई जा रहा था पैसेंजर, CISF ने पकड़ा******Highlightsदिल्ली के इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर CISF ने एक यात्री को 54 लाख विदेशी करेंसी के साथ पकड़ा है। यात्री यह करेंसी मिठाई के डब्बे में छिपाकर दिल्ली से दुबई ले जा रहा था। CISF के प्रवक्ता ने बताया कि बुधवार को 6 बजकर 46 मिनट पर इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट के टर्मिनल 3 पर सुरक्षा जांच में लगे जवानों को एक यात्री की गतिविधियां संदिग्ध लगी। जब यात्री के सामान की सघन जांच की गई और आगे पूछताछ के लिए ले जाया गया, तो मिठाई के डिब्बे और एक बैग में छिपाकर रखे गए करीब 2,50,000 सऊदी रियाल बरामद हुए।यात्री की पहचान जसविंदर सिंह के तौर पर हुई है, जो दिल्ली से स्पाइस जेट की फ्लाइट से दुबई जा रहा था। CISF ने बताया कि सऊदी रियाल इस तरह से बैग की परत और मिठाई के डिब्बे में छिपाए गए थे, ताकि किसी को शक ना हो सके। यात्री जसविंदर से जब पूछताछ की गई तो वो कोई संतुष्ट जवाब और किसी तरह का दस्तावेज नहीं पेश कर पाया। इसके बाद बरामद किए गए 2,50,000 सऊदी रियाल जिसकी कीमत 54 लाख भारतीय रुपए है और यात्री को आगे की जांच के लिए कस्टम विभाग के हवाले कर दिया गया है।कुछ दिन पहले लैपटॉप बैग में रखे 45 लाख के विदेशी नोटों के साथ 2 यात्रियों को पकड़ा गयाअभी कुछ दिन पहले ही दिल्ली के इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (CISF) ने 2 यात्रियों को 45 लाख के विदेशी नोटों के साथ पकड़ा है। ये यात्री लैपटॉप बैग में छिपाकर नोटों को देश के बाहर ले जाना चाहते थे। CISF ने बताया कि दिल्ली एयरपोर्ट के टर्मिनल 3 पर सुरक्षा जांच में मौजूद CISF के अधिकारियों को 2 यात्रियों पर संदेह हुआ। दोनों यात्री एक दूसरे से बैग की अदला-बदली कर रहे थे। इसी शक के आधार पर CISF ने यात्रियों के ट्रॉली बैग और लैपटॉप बैग की जांच की, तो उसमें रखे 56200 अमेरिकी डॉलर और 3200 दिरहम बरामद हुए। पकड़े गए यात्रियों की पहचान मोहसिन सैफी और असीम के तौर पर हुई है।

हाल का ध्यान

लिंक