वर्तमान पद:मुखपृष्ठ > यांगज़ोऊ > मूलपाठ

Pitru Paksha 2022: इन तारीखों पर होगा पुरखों के लिए पिंड दान, जानिए कब शुरू हो रहे हैं पितृ पक्ष

2022-10-04 09:58:23 यांगज़ोऊ

इनतारीखोंपरहोगापुरखोंकेलिएपिंडदानजानिएकबशुरूहोरहेहैंपितृपक्षIMF देगा पाकिस्‍तान को 3 साल में 6 अरब डॉलर की मदद, 15 मई को होगा भारतीय उड़ानों के लिए हवाई क्षेत्र खोलने पर विचार******Pakistan reaches agreement with IMF, to get USD 6 bn over 3 yrs खस्‍ताहाल अर्थव्यवस्‍था वाले पाकिस्तान और (आईएमएफ) के बीच रविवार को राहत पैकेज के लिए समझौते पर सहमति बन गई है। समझौते के तहत आईएमएफ तीन साल में छह अरब डॉलर का राहत पैकेज पाकिस्‍तान को उपलब्‍ध कराएगा। डॉन न्‍यूज ने वित्‍त, राजस्‍व एवं आर्थिक मामलों पर पाकिस्‍तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के सलाहकार डा. अब्‍दुल हफीज शेख के हवाले से कहा है कि स्‍टाफ स्‍तर पर हुए इस समझौते को अभी वॉशिंगटन में आईएमएफ बोर्ड ऑफ डायरेक्‍टर्स की औपचारिक मंजूरी मिलनी बाकी है।भारतीय उड़ानों के लिए अपना हवाई क्षेत्र फिर से खोलने के बारे में पाकिस्तान सरकार 15 मई को समीक्षा करेगी। पाकिस्तान के नागर विमानन मंत्रालय के एक अधिकारी ने इसकी जानकारी दी।हालांकि, एक वरिष्ठ मंत्री ने कहा कि भारत में चुनाव संपन्न होने तक यथास्थिति रहेगी।पाकिस्तान ने 26 फरवरी को बालाकोट के आतंकवादी शिविर पर भारतीय वायु सेना के हवाई हमले के बाद अपना हवाई क्षेत्र पूरी तरह बंद कर दिया था। बाद में उसने 27 मार्च को हवाई क्षेत्र फिर से खोला था पर नई दिल्ली, बैंकाक और कुआलालम्पुर की उड़ानों के लिए रोक जारी रखी गई है।पाकिस्तान के नागर विमानन प्राधिकरण के प्रवक्ता मुज्तबा बेग ने कहा कि पाकिस्तान की सरकार 15 मई को यह निर्णय करेगी कि भारतीय उड़ानों के लिए हवाई क्षेत्र को खोला जाए या नहीं। हालांकि, पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के करीबी मंत्री फवाद चौधरी को नहीं लगता है कि भारत में लोकसभा चुनाव संपन्न होने तक यथास्थिति में कोई बदलाव होने वाला है।भारत और पाकिस्तान ने 26 फरवरी को दोनों के बीच तनाव बढ़ने पर अपने हवाई क्षेत्र को एक दूसरे के लिए बंद कर दिया था।

इनतारीखोंपरहोगापुरखोंकेलिएपिंडदानजानिएकबशुरूहोरहेहैंपितृपक्षसोने से पहले लगाएं इस मास्क को और सिर्फ 30 मिनट में पाएं पिगमेंटेशन से निजात****** पिगमेंटेशन डिसऑर्डर एक प्रकार की त्‍वचा की समस्‍या है। अधिकतर महिलायें ही इस समस्या से पीड़ि‍त होती हैं। जब शरीर में काफी मात्रा में मिलेनिन का निर्माण होने लगता है तो पिगमेंटेशन की समस्या शुरू हो जाती है। स्किन की असमान रंगत, दाग-धब्बे, चेहरे पर भूरे निशान। ये सभी पिगमेंटेशन के ही लक्षण है।यह समस्या अधिकतर सूर्य की रोशनी में अधिक वक्त बिताने, हार्मोन असंतुलन और गर्भनिरोधक गोलियों जैसे कई कारण होते हैं जो पिगमेंटेशन की समस्या उत्पन्न करते हैं। यह बहुत बड़ी समस्या नहीं है। इससे आप आसानी से निजात पा सकते है।आमतौर पर आज के समय इस समस्या से निजात दिलाने के लिए मार्केट में कई तरह से प्रोडक्ट मिलते है, लेकिन इनके साइड इफेक्ट अधिक मात्रा में होते है।अगर आप बिना किसी कॉस्मेटिक के इस्तेमाल किए इस समस्या से निजात पाना चाहते है, तो इस नेचुरल से आसानी से पा सकते है। जो कि बहुत ही सिंपल और बिना खर्च के इस समस्या से निजात मिल जाएगा।इस सभी चजों को अच्छी तरह से मिला लें। इसके बाद अपनी स्किन को ठीक से साफ करें। साफ करने के बाद इसे अपने चेहरे में ठीक ढंग से लगाएं। कम से कम 30 मिनट लगा रहने के बाद गुनगुने पानी से धो लें। अगर संभव हो, तो सोने से पहले इस मास्क का यूज करें। आपको दोगुना लाभ मिलेगा।इनतारीखोंपरहोगापुरखोंकेलिएपिंडदानजानिएकबशुरूहोरहेहैंपितृपक्षNGT ने अवैध खनन को लेकर मेघालय सरकार पर लगाया 100 करोड़ रुपये का जुर्माना****** राष्ट्रीय हरित अधिकरण () ने में अवैध कोयला खदान पर लगाम लगाने में विफल रहने पर राज्य सरकार पर 100 करोड़ रुपये का शुक्रवार को जुर्माना लगाया। खनन मामले में एमिकस क्यूरी के तौर पर अधिकरण की सहायता कर रहे वरिष्ठ अधिवक्ता ने कहा कि उच्च स्तरीय समिति की एक रिपोर्ट एनजीटी अध्यक्ष ए के गोयल की अध्यक्षता वाली पीठ के समक्ष दो जनवरी को पेश की गई।रिपोर्ट में कहा गया है कि राज्य में ज्यादातर खदान बिना लीज या लाइसेंस के चल रही हैं। एनजीटी ने पूर्वोत्तर राज्य में अवैध खनन पर लगाम लगाने में ‘‘निष्क्रियता’’ के लिए राज्य सरकार पर 100 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया।अधिवक्ता ने कहा कि सुनवाई के दौरान राज्य सरकार ने यह स्वीकार किया कि बड़ी संख्या में खदान गैरकानूनी तरीके से चल रही हैं।मेघालय की पूर्वी जयंतिया हिल्स जिले के लुम्थारी गांव में 370 फुट गहरी अवैध कोयला खदान में 13 दिसंबर से कम से कम 15 मजदूर फंसे हुए हैं और बाढ़ग्रस्त खदान से पानी निकालने के सभी प्रयास बेनतीजा रहे।

Pitru Paksha 2022: इन तारीखों पर होगा पुरखों के लिए पिंड दान, जानिए कब शुरू हो रहे हैं पितृ पक्ष

इनतारीखोंपरहोगापुरखोंकेलिएपिंडदानजानिएकबशुरूहोरहेहैंपितृपक्षलोगों तक पहुंचने के लिए यूपी में 5 रथ यात्राएं निकालेगी आप सरकार******Highlights: उत्तर प्रदेश में रथ यात्रा की दौड़ में शामिल होते हुए आम आदमी पार्टी राज्य के लिए अपने एजेंडे के साथ लोगों तक पहुंचने की कोशिश में जनवरी में 5 रथ यात्राएं निकालेगी। इस यात्रा का नेतृत्व पार्टी सांसद और प्रदेश प्रभारी संजय सिंह करेंगे।आप के यूपी प्रदेश अध्यक्ष सभाजीत सिंह के अनुसार, यह यात्रा 2 जनवरी को लखनऊ में होने वाली मेगा रैली के ठीक बाद शुरू होगी और इसे आप के राष्ट्रीय संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल संबोधित करेंगे। यह रैली 2022 के विधानसभा चुनावों के लिए पार्टी के अभियान की आधिकारिक शुरूआत करेगी।उन्होंने कहा, "पहली यात्रा वाराणसी से लखनऊ, दूसरी सहारनपुर से नोएडा, तीसरी हरदोई से मुरादाबाद, चौथी झांसी से महोबा और आखिरी सरयू से संगम की होगी, जो प्रयागराज के लिए अयोध्या है।"सिंह ने कहा कि यात्रा का उद्देश्य उत्तर प्रदेश के लोगों के लिए आप की प्रतिबद्धताओं को प्रचारित करना है और दिल्ली से पार्टी के अन्य वरिष्ठ सदस्य कार्यक्रम में शामिल होंगे।पार्टी ने अब तक दो चुनावी वादों जिसमें एक मुफ्त बिजली और बकाया बिजली बिल की माफी और दूसरा साल में 10 लाख नौकरियों की घोषणा की है। आप अब सभी 403 विधानसभा क्षेत्रों में रोजगार गारंटी सभा आयोजित करेगी।उन्होंने कहा, "इन बैठकों में हम दिल्ली के विकास मॉडल के बारे में लोगों से बात करेंगे कि आप सरकार ने क्या काम किया है और अगर हम चुने जाते हैं तो हम यूपी में क्या करने की योजना बना रहे हैं। इन बैठकों को स्थानीय पदाधिकारी संबोधित करेंगे। हम दिल्ली से वरिष्ठ नेताओं के आने की भी उम्मीद कर रहे हैं, खासकर ऐसे विधायक जिनका यूपी से संबंध है। उन्हें उनके स्थानीय जिलों में प्रचार करने के लिए प्रतिनियुक्त किया जाएगा।"इनतारीखोंपरहोगापुरखोंकेलिएपिंडदानजानिएकबशुरूहोरहेहैंपितृपक्षबहामास में भीषण तबाही मचाने के बाद अमेरिका से टकराया चक्रवाती तूफान ‘डोरियन’****** चक्रवाती ‘डोरियन’ बहामा में तबाही मचाकर अमेरिका के उत्तरी कैरोलिना पहुंच गया है। आपको बता दें कि बहामासमें तूफान के कारण मरने वालों की तादाद 30 पहुंच गई है जबकि हजारों लोग बेघर हुए हैं। अमेरिकी मीडिया ने फ्लोरिडा प्रशासन के हवाले से गुरुवार को बताया कि तूफान की विभीषिका से राज्य बच गया है। हालांकि, 6 और लोगों की मौत तूफान से पहले की तैयारियों के दौरान हुई है। अमेरिकी मौसम विभाग ने चेतावनी दी कि तूफान की वजह से उत्तरी कैरोलिना तट पर 7 फीट ऊंची लहरें उठ सकती हैं और 12 इंच तक बारिश होने का पूर्वानुमान है।उत्तरी कैरोलिना के गवर्नर रॉय कूपर ने गुरुवार को बताया, ‘हम जानते हैं कि यह रात लंबी होने वाली है पर हम सुबह का सूर्योदय देखने को आतुर हैं।’ खबरों के मुताबिक तूफान धीरे-धीरे आगे बढ़ रहा है। इसके साथ कई बवंडर भी उठ रहे हैं लेकिन अबतक इससे किसी नुकसान की खबर नहीं है। तटीय कैरोलिना के कई लोगों ने घर खाली करने के आदेश का अनुपालन किया है। हालंकि कई लोग घरों में ही हैं और तूफान का सामना करने को तैयार हैं। स्थानीय समयानुसार रात 8 बजे मियामी आधारित राष्ट्रीय तूफान केंद्र (NHC) ने कहा कि डोरियन कमजोर हो कर दूसरी श्रेणी में आ गया है और 160 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चल रही है।रिपोर्ट्स के मुताबिक, तूफान 17 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से बढ़ रहा है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ट्वीट किया कि उन्होंने उत्तरी और दक्षिणी कैरोलिना के गवर्नर से बात की है और सहयोग को तैयार हैं। उल्लेखनीय है कि ‘डोरियन’ शुरू में पांचवी श्रेणी (सबसे खतरनाक) का तूफान था और बहामा से 295 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से गुजरा था। बहामा के प्रधानमंत्री हुर्बट मिनिस ने कम से कम 30 लोगों के मारे जाने की पुष्टि की है। संयुक्त राष्ट्र ने बहामा में प्रभावित 70,000 लोगों को तत्काल मदद की जरूरत बताई है।इनतारीखोंपरहोगापुरखोंकेलिएपिंडदानजानिएकबशुरूहोरहेहैंपितृपक्षश्रीलंकाई बल्लेबाज ने तोड़ा गैरी सोबर्स-युवराज सिंह का रिकॉर्ड, जड़े एक ओवर में 7 छक्के****** क्रिकेट के खेल में सिक्सर एक ऐसा शॉट होता है जिसे देखकर दर्शक रोमांचित हो उठते हैं. यहां तक कि ख़ुद बल्लेबाज़ भी छक्का मारकर फूला नहीं समता क्योंकि सिक्सर लगाने के बाद उसका आत्मविश्वास और बढ़ जाता है. सिक्सर देखने का क्रेज़ कितना है इसका अंदाज़ा इस बात से ही लगाया जा सकता है कि ऐसे बल्लेबाज़ों को 'सिक्सर किंग' का ख़िताब दिया जाता है. भारत की तरफ से सबसे पहले यह ख़िताब युवराज सिंह को मिला था. युवराज ने 2007 में टी-20 मैच के दौरान एक ओवर में छह छक्के जड़कर सनसनी फ़ैला जी थी. युवराज से पहले एक ओवर में छह छक्के मारने का कारनामा कुछ क्रिकेटर कर चुके थे. युवराज सिंह को छह छक्कों को इसलिए खास माना जाता है क्योंकि हर्शल गिब्स के बाद वह दूसरे ऐसे खिलाड़ी थे, जिन्होंने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में इस कारनामे को अंजाम दिया था.अब एक ओवर में छह छक्के मारने वाले सभी खिलाड़ियों का रिकॉर्ड टूट गया है और इस रिकॉर्ड को तोड़ने वाला है श्रीलंका का एक युवा खिलाड़ी. श्रीलंका के अंडर 15 मुरली गुडनेस कप में युवा बल्लेबाज नविंदु पसारा ने इस रिकॉर्ड को ध्वस्त कर नया रिकॉर्ड बना दिया है. नविंदु ने एक ओवर में लगातार 7 छक्के जड़कर एक नया वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया है.फॉग क्रिकेट एकेडमी के बल्लेबाज नविंदु पसारा नंबर 3 पर बल्लेबाजी करने के लिए उतरे थे. क्रीज पर उतरते ही उनके बल्ले ने रन उगलना शुरू कर दिया. धर्मपाला कोटव्वा के खिलाफ नविंदु ने महज 89 गेंदों में 109 रन बनाए. इस दौरान उन्होंने एक ओवर में लगातार 7 छक्के भी जड़ दिए. दरअसल, गेंदबाज ने इस ओवर में एक नो बॉल डाल दी, इस पर भी नविंदु पसारा ने छक्का जड़ा. इस तरह उन्होंने कुल 6 गेंदों में 7 छक्के जड़ दिए.बता दें कि इस मैच में श्रीलंका के गेंदबाज मुथैया मुरलीधरन चीफ गेस्ट बनकर आए थे. नविंदु के इस कारनमाने को देखकर वह भी हैरान थे और उन्होंने इस युवा बल्लेबाज की जमकर तारीफ की. मुरलीधरन ने न सिर्फ इस युवा बल्लेबाज की तारीफ की बल्कि भविष्य के लिए शुभकामनाएं भी दीं. गौरतलब है कि कुमार संगाकारा, सनथ जयसूर्या, महेला जयवर्धने जैसे वर्ल्ड क्लास बल्लेबाजों के संन्यास लेने के बाद श्रीलंकाई टीम को ऐसे ही विस्फोटक बल्लेबाजों की जरूरत है.युवराज सिंह से पहले ये कारनामा टीम इंडिया के नए हेड कोच रवि शास्त्री भी कर चुके हैं. दरअसल, वेस्टइंडीज के खिलाड़ी गैरी सोबर्स के बाद रवि शास्त्री ही दूसरे खिलाड़ी थे, जिन्होंने एक ओवर में छह छक्के मारने का कारनामा किया था. गैरी सोबर्स के इस रिकॉर्ड की बराबरी करने में किसी खिलाड़ी को 16 साल लग गए थे और ये खिलाड़ी थे भारत के रवि शास्त्री. बॉम्बे और बड़ौदा के बीच हुए रणजी ट्रॉफी मैच में रवि शास्त्री ने एक ओवर में छह छक्के मारे. 1984 में हुए इस मैच में रवि शास्त्री ने तिलक राज के एक ओवर में छह छक्के मारे थे. उसी मैच में रवि शास्त्री ने प्रथम श्रेणी मैच में सबसे तेज़ दोहरा शतक बनाने का भी रिकॉर्ड बनाया था.रवि शास्त्री से पहले 1968 में नॉटिंघमशायर की ओर से खेलते हुए सोबर्स ने ग्लेमॉरगन के मैल्कम नैश के एक ओवर में छह छक्के मारे थे. इस मैच में कप्तान के रूप में खेल रहे सोबर्स के पांच छक्के क्लीन थे. एक छक्का रोजर डेविस के हाथ से टकरा कर बाउंड्री के पार चला गया. इस मैच से पहले एक ओवर में सर्वाधिक रन बनाने का रिकॉर्ड टेड एलेस्टन के नाम था, उन्होंने एक ओवर में 34 रन बनाए थे.रवि शास्त्री के बाद ये कारनामा 2007 में हर्शेल गिब्स और युवराज सिंह ने करके दिखाया था. दक्षिण अफ्रीका के सलामी बल्लेबाज हर्शेल गिब्स पहले ऐसे खिलाड़ी बने जिन्होंने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में एक ओवर में 6 छक्के मारने का रिकॉर्ड बनाया. वर्ष 2007 के विश्व कप (वनडे) के दौरान गिब्स ने नीदरलैंड्स के खिलाफ जबरदस्त पारी खेली थी. गिब्स ने नीदरलैंड्स के डैन वैन बंज के एक ओवर में छह छक्के मारकर नया रिकॉर्ड बनाया. वे अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में ऐसा करने वाले पहले बल्लेबाज थे.गिब्स के बाद उसी साल यानी 2007 में वर्ल्ड टी-20 का पहली बार आयोजन हुआ था. इंग्लैंड के खिलाफ टी-20 अंतरराष्ट्रीय मैच में युवराज ने बेहतरीन बल्लेबाजी करते हुए ये कारनामा करके दिखाया. उन्होंने स्टुअर्ट ब्रॉड के एक ओवर में छह छक्के मारे. अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में एक ओवर में छह छक्के मारने वाले वे दूसरे खिलाड़ी बने.2017 में रॉस व्हिटली नाम के खिलाड़ी ने इस कारनामे को अंजाम दिया. इंग्लैंड में नेटवेस्ट टी 20 ब्लास्ट के एक मैच में वोर्सेस्टरशायर के रॉस व्हिटली ने यॉर्कशायर के खिलाफ 6 गेंदों में 6 छक्के लगाए. रॉस व्हिटली ने वोर्सेस्टरशायर की पारी के 16वें ओवर में कार्ल कार्वर की लगातार 6 गेंदों पर 6 छक्के लगाए. कार्वर ने इस ओवर में एक वाइड भी डाला था. यॉर्कशायर के लिए डेविड विली ने सिर्फ 55 गेंदों में 9 चौके और 8 छक्के की मदद से 118 रन बनाए थे .

Pitru Paksha 2022: इन तारीखों पर होगा पुरखों के लिए पिंड दान, जानिए कब शुरू हो रहे हैं पितृ पक्ष

इनतारीखोंपरहोगापुरखोंकेलिएपिंडदानजानिएकबशुरूहोरहेहैंपितृपक्षIsrael PM Naftali Bennett Death Threat: चिट्ठी के साथ भेजी गोली, कहा- इजरायल के PM को घरवालों समेत मार डालेंगे******Highlightsइजरायल के प्रधानमंत्री Naftali Bennett और उनके परिवार को जान से मारने की धमकी मिली है। धमकी को गंभीरता से लेते हुए पुलिस ने नफ्ताली बेनेट और उनके परिजनों की सुरक्षा बढ़ा दी है। पुलिस के मुताबिक, प्रधानमंत्री व उनके परिवार के नाम एक पर एक चिट्ठी मिली है जिसमें एक कारतूस है और जान से मारने की धमकी दी गयी है। पुलिस ने बताया कि उन्होंने और इजरायल की आंतरिक सुरक्षा देखने वाली एजेंसी ‘शिन बेट' ने प्रधानमंत्री Naftali Bennett व उनके परिवार को मिली धमकी के मामले की जांच शुरू कर दी है।पुलिस ने एक छोटा-सा बयान जारी कर बताया कि चिट्ठी बेनेट और उनके परिवार के लिए थी जिसमें एक कारतूस भी था। प्रधानमंत्री के मीडिया सलाहकार ने मंगलवार को कहा, ‘प्रधानमंत्री और उनके परिवार (Naftali Bennett and Family) को जान से मारने की धमकी देने वाला पत्र और कारतूस मिलने के बाद प्रधानमंत्री कार्यालय ने बेनेट के परिवार की सुरक्षा के लिए जिम्मेदार ईकाई को मजबूत करने का फैसला किया है।’इजरायली अखबार ‘हारेत्ज़’ ऑनलाइन ने एक सूत्र के हवाले से कहा है कि चिट्ठी को बेनेट के रानाना आवास या यरूशलम स्थित आधिकारिक निवास पर नहीं भेजा गया है बल्कि प्रधानमंत्री की पत्नी गिलत बेनेट के पुराने दफ्तर पर भेजा गया था। सूत्रों ने बताया कि उन्होंने परिवार को पत्र के बारे में सूचित किया जिसने ‘शिन बेट’ को काम पर लगाया। खबर में कहा गया है कि पत्र में दंपति के 16 वर्षीय बेटे यौनी का जिक्र है और कहा है कि ‘हम तुम तक पहुंचेंगे।’बेनेट ने अपने सोशल मीडिया पेज पर साझा किए गए बयान में कहा कि राजनीतिक मतभेद कितना ही गहरा क्यों न हो बात हिंसा की नहीं होनी चाहिए, जान से मारने की धमकियां नहीं आनी चाहिए। उन्होंने कहा, ‘हमें नेताओं और नागरिकों के रूप में सब कुछ करना है, जो इस देश में अपने भविष्य और अपने बच्चों के भविष्य की परवाह करते हैं, ताकि ऐसी घटनाएं न हों।’ ने अगले हफ्ते इजरायल के स्वतंत्रता दिवस और आतंकवाद की वजह से जान गंवाने वाले सैनिकों और लोगों की याद में मनाए जाने वाले ‘मेमोरियल डे’ से पहले राजनीतिक विमर्श की तपिश को कम करने का आग्रह किया है, खासकर सोशल मीडिया पर। बता दें कि पिछले कुछ दिनों से इजरायली सुरक्षाबलों और फीलीस्तीनियों के बीच संघर्ष में भी इजाफा देखने को मिला है।इनतारीखोंपरहोगापुरखोंकेलिएपिंडदानजानिएकबशुरूहोरहेहैंपितृपक्षमथुरा के इन 32 गांवों का पर्रिकर से था खास रिश्ता, निधन के बाद शोक में डूबे****** के मुख्यमंत्री के निधन से देश ही नहीं, के नौहझील ब्लॉक के 32 गांवों में भी शोक व्याप्त है। दरअसल, पर्रिकर ने अपनी ‘सांसद क्षेत्रीय विकास निधि’ से इन 32 गांवों की मदद की थी। पर्रिकर का 17 मार्च, रविवार को अग्नाशय के कैंसर से निधन हो गया था। उन्होंने अंतिम बार गोवा का मुख्यमंत्री बनने से पूर्व, उत्तर प्रदेश से राज्यसभा का सदस्य रहते मथुरा नौहझील ब्लॉक के 32 गांवों में पेयजल समस्या के निदान एवं इलाके की सड़कों के जीर्णोद्धार के लिए 5 करोड़ 20 लाख रुपए दिए थे।यह मदद पर्रिकर ने अपनी ‘सांसद क्षेत्रीय विकास निधि’ से की थी। परियोजनाओं पर काम चल रहा है। नौहझील ब्लॉक के एक स्थानीय भाजपा नेता राजेश कुमार ने बताया कि जब पर्रिकर राज्यसभा के सदस्य थे तब उनको यहां की समस्याएं बताई गईं और क्षेत्र की पेयजल समस्या एवं जर्जर पड़ी सड़कों की मरम्मत के लिए क्षेत्रीय विकास निधि से मदद मांगी गई थी। राजेश ने बताया कि पर्रिकर ने स्थिति को सुधारने के लिए कापी मदद की थी इसलिए इन गांवों में जब लोगों को पर्रिकर के निधन की सूचना मिली तो सभी को बहुत दुख हुआ।उन्होंने बताया ‘पर्रिकर ने हमारी मांग सहर्ष स्वीकार कर ली। फिर वह गोवा के मुख्यमंत्री बने। इसके बावजूद उन्होंने सहायता राशि का उपयोग करने का सहमति पत्र जारी कर दिया था। हालांकि स्वास्थ्य ठीक न होने की वजह से वह शिलान्यास और कामों की शुरुआत करने के लिए यहां नहीं आ सके। काम चल रहा है। नौहझील ब्लॉक के कोलाहर, उदयागढ़ी, सकतपुर, नोशेरपुर, चांदपुर कलां, सीगोंनी आदि 32 गांवों के लिए पेयजल योजनाएं प्रारंभ की गई हैं तथा कई सड़कों की मरम्मत के कार्य कराए जा रहे हैं।’

Pitru Paksha 2022: इन तारीखों पर होगा पुरखों के लिए पिंड दान, जानिए कब शुरू हो रहे हैं पितृ पक्ष

इनतारीखोंपरहोगापुरखोंकेलिएपिंडदानजानिएकबशुरूहोरहेहैंपितृपक्षGhum Hai Kisikey Pyaar Meiin: सई के हाथों विराट खायेगा थप्पड़, लीप के बाद क्या सई होगी किसी और के प्यार में गुम?******Highlightsटीवी सीरियल ‘गुम है किसी के प्यार है में’ इन दिनों काफी ट्विस्ट एंड टर्न्स देखने को मिल रहे हैं। शो में बहुत जल्द ही दर्शकों को लीप देखने को मिलेगा। जहाँ एक तरफ विराट और पाखी विनायक के पेरेंट्स बनकर रहेंगे, तो वहीँ दूसरी तरफ सई सिंगल पेरेंट्स बनकर अपनी बेटी का ख्याल रखेगी।शो के आने वाले एपिसोड में खूब धमाल होने वाला है, जिसे दर्शक अभी से काफी पसंद कर रहे हैं। चलिए आपको बताते हैं कि शो के नए एपिसोड में क्या कुछ होने वाला है।सीरियल ‘गुम है किसी के प्यार में’ पाखी की आत्महत्या की चाल के बाद विराट सई से बच्चा छीनकर पाखी को दे देगा। बताया जा रहा है कि पाखी और सई के बीच इतना झगड़ा होगा कि सई विराट को थप्पड़ मार देगी। इन वजहों से सई, विराट से नाराज़ होकर घर छोड़कर चली जाएगी। विराट से अलग होने के बाद सई अपनी बेटी को अकेले पालेगी। सई अपनी बेटी को बाप की कमी महसूस नहीं होने देगी। तो दूसरी तरफ विराट पाखी के बेटे पर प्यार लुटाएगा।मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, सई की लाइफ में भी किसी की एंट्री होने वाली है। कयास लगाया जा रहा है कि रिभू और सई के बीच लवऐंगल बनाया जा सकता है। खबर है कि शो में नए डीएम बनकर आए रिभु मेहरा के साथ सई की जोड़ी बनेगी।शो में दिखाए जा रहे इस ट्रैक से फैंस काफी नाराज़ चल रहे हैं। फैंस हमेसाह सई और विराट को साथ देखना चाहते हैं। ऐसे में वो विराट को पाखी के साथ बिलकुल भी देख नहीं पा रहे हैं।

इनतारीखोंपरहोगापुरखोंकेलिएपिंडदानजानिएकबशुरूहोरहेहैंपितृपक्षसेबी ने वैकल्पिक आधार पर शेयर सौदों के निपटान के लिये ‘टी+1’ व्यवस्था पेश की******शेयर सौदों के निपटान के लिये ‘टी+1’ व्यवस्था पेशनई दिल्ली। पूंजी बाजार नियामक सेबी ने मंगलवार को शेयरों की खरीद-बिक्री का निपटान करने को लेकर वैकल्पिक आधार पर ‘टी +1’ (सौदा के बाद का अगला कार्य दिवस) की नई व्यवस्था पेश की है। इसका मकसद बाजार में खरीद-फरोख्त बढ़ाना है। फिलहाल घरेलू शेयर बाजारों में सौदों को पूरा होने में कारोबार वाले दिन के बाद दो कारोबारी दिवस (टी +2) लगते हैं। भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी) के परिपत्र के अनुसार नियामक ने शेयर खरीद-बिक्री प्रक्रिया को पूरा करने के लिये निपटान में लगने वाले समय को लेकर ‘टी +1’ या ‘टी +2’ का विकल्प देकर शेयर बाजारों को लचीलापन उपलब्ध कराया है।शेयर बाजार निवेशकों समेत सभी संबद्ध पक्षों को निपटान प्रक्रिया में समय में बदलाव के बारे में कम-से-कम एक महीने पहले नोटिस देकर किसी भी शेयर के लिये ‘टी+1’ का विकल्प चुन सकते हैं। शेयर बाजार को अपनी वेबसाइट पर इसका प्रचार-प्रसार करने की जरूरत होगी। शेयर बाजार अगर किसी इक्विटी के लिये ‘टी+1’ का विकल्प चुनते हैं, तो उन्हें कम-से-कम छह महीने के लिये यह व्यवस्था बनाये रखनी होगी। उसके बाद शेयर बाजार ‘टी+2’ व्यवस्था को दोबारा से अपना सकते हैं। इसके लिये उन्हें एक महीने पहले बाजार को नोटिस देना होगा। सेबी ने शेयर बाजारों, समाशोधन निगम तथा डिपोजिटरी जैसे बाजार के लिये ढांचागत सुविधा प्रदान करने वाले संस्थानों के साथ विचार-विमर्श के बाद यह निर्णय किया है।नियामक के अनुसार नई व्यवस्था एक जनवरी, 2022 से प्रभाव में आएगी। सेबी ने शेयर बाजारों, समाशोधन निगम तथा डिपोजिटरी को इस संदर्भ में जरूरी कदम उठाने का निर्देश दिया है। इससे पहले, नियामक ने 2003 में सौदा पूरा करने में लगने वाले समय को ‘टी+3’ से कम कर ‘टी+2’ किया था। इससे पहले शेयर बाजारों सदस्यों के संध ने सेबी को भेजे पत्र में टी जमा एक निपटान प्रणाली को लेकर चिंता जताई थी। उसने कहा कि परिचालनगत और तकनीकी चुनौतियों का समाधान किये बिना नई व्यवसथा को लागू नहीं किया जाना चाहिये।यह भी पढ़ें:इनतारीखोंपरहोगापुरखोंकेलिएपिंडदानजानिएकबशुरूहोरहेहैंपितृपक्षओएनजीसी बढ़ाएगी तेल एवं गैस उत्पादन का उत्पादन, 25 परियोजनाओं में 83,000 करोड़ रुपये का करेगी निवेश******ONGC investment Rs 83,000 crore in 25 new oil and gas projects सार्वजनिक क्षेत्र की पेट्रोलियम कंपनी ऑयल एंड नेचुरल गैस कारपोरेशन () तेल एवं गैस उत्पादन बढ़ाने के लिये 25 बड़ी परियोजनाओं में करीब 83,000 करोड़ रुपये निवेश करेगी। कंपनी के चेयरमैन और प्रबंध निदेशक शशि शंकर ने गुरुवार को यह कहा। 73वें स्वतंत्रता दिवस समारोह के मौके पर कंपनी के कर्मचारियों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि इनमें से 15 परियोजनाएं क्रियान्वधीन हैं। इससे तेल और गैस उत्पादन में सीधा असर होगा। उन्होंने कहा कि इन परियोजनाओं से संचयी रूप से उनके पूरे जीवनकाल में 18 करोड़ टन तेल एवं गैस उत्पादन होने का अनुमान है। कंपनी ने घरेलू फील्डों से वित्त वर्ष 2018-19 में 2.42 करोड़ टन कच्चे तेल तथा 25.81 अरब घन मीटर प्राकृतिक गैस का उत्पादन किया। इसके अलावा 1.01 करोड़ टन तेल और 4.74 अरब घन मीटर गैस का उत्पादन वैश्विक संपत्तियों से हुआ।ओएनजीसी ने वित्त वर्ष 2023-24 तक 32 अरब घन मीटर प्राकृतिक गैस उत्पादन का लक्ष्य रखा है। ऑयल एंड नेचुरल गैस कारपोरेशन की विज्ञप्ति के अनुसार शंकर ने कंपनी का मुख्यालय देहादून से वेबकास्ट के जरिये ओएनजीसी के 38 कार्य स्थनों पर कार्यरत 30,000 से अधिक कर्मचारियों को संबोधित किया।

इनतारीखोंपरहोगापुरखोंकेलिएपिंडदानजानिएकबशुरूहोरहेहैंपितृपक्षसेंसेक्स 206 प्वाइंट घटकर फिर 33000 के नीचे लुढ़का, PSU बैंक और मेटल शेयरों में सबसे ज्यादा गिरावट******Sensex falls more than 200 points on Wednesday शेयर बाजार में लगातार 2 दिन तक जिन शेयरों में खरीदारी की वजह से मजबूती देखी जा रही थी उन पीएसयू बैंक शेयरों में आज भारी गिरावट आई और इस वजह से आज शेयर बाजार भी टूट गया है। का सेंसेक्स 205.71 प्वाइंट की गिरावट के साथ 33968.68 पर बंद हुआ है। का निफ्टी भी 62.85 प्वाइंट घटकर 10121.30 के स्तर पर बंद हुआ है।शेयर बाजार में आज पीएसयू बैंक इंडेक्स और मेटल इंडेक्स में सबसे ज्यादा गिरावट दर्ज की गई है, इनके अलावा मीडिया, रियलिटी और एफएमसीजी इंडेक्स में भी बिकवाली देखने को मिली है, सभी सेक्टर इंडेक्स में सिर्फ आईटी इंडेक्स बढ़ा है बाकी सब लाल निशान के साथ बंद हुए हैं।शेयरों की बात करें तो निफ्टी की 50 में से 30 कंपनियां गिरावट के साथ बंद हुई हैं और सेंसेक्स की 30 में से 18 कंपनियों ने लाल निशान के साथ क्लोजिंग दी है। निफ्टी पर घटने वाली कंपनियों में सबसे आगे भारती एयरटेल टाटा स्टील, वेदांत, अडानी पोर्ट्स, रिलायंस इंडस्ट्रीज, स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, आईसीआईसीआई बैंक और बजाज ऑटो के शेयर रहे।इनतारीखोंपरहोगापुरखोंकेलिएपिंडदानजानिएकबशुरूहोरहेहैंपितृपक्षGovernment Action on PFI: केंद्र ने 5 साल के लिए PFI पर लगाया बैन, टेरर मॉड्यूल को लेकर की कार्रवाई******Highlightsकेंद्र सरकार ने PFI (पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया) और उसके कुछ सहयोगी संगठनों को बैन कर दिया है। इसे लेकर गृह मंत्रालय ने नोटिफिकेशन जारी किया है। PFI को बैन करने की मांग जांच एजेंसी व कई राज्यों ने की थी। हाल ही में NIA और तमाम राज्यों की पुलिस और एजेंसियों ने PFI के ठिकानों पर छापेमारी कर सैकड़ों गिरफ्तारियां की थीं। जांच एजेंसियों ने ऑपरेशन ऑक्टोपस के तहत देश भर में इस संगठन के सदस्यों को गिरफ्तार किया था। बता दें, PFI पर टेरर फंडिंग से देश के कई शहरों में दंगे फैलाने और हत्याओं का आरोप है।केंद्र ने PFI के अलावा रिहैब इंडिया फाउंडेशन (RIF), कैंपस फ्रंट ऑफ इंडिया (CFI), ऑल इंडिया इमाम काउंसिल (AIIC), नेशनल कॉन्फेडरेशन ऑफ ह्यूमन राइट्स ऑर्गनाइजेशन (NCHRO), नेशनल वीमेन फ्रंट, जूनियर फ्रंट, एम्पावर इंडिया फाउंडेशन और रिहैब फाउंडेशन, केरल जैसे सहयोगी संगठनों को भी बैन किया है।असम के मुख्यमंत्री हिमंत विश्व शर्मा PFI बैन को लेकर प्रतिक्रिया दी है। उन्होने कहा कि मैं भारत सरकार द्वारा PFI पर प्रतिबंध लगाने के फैसले का स्वागत करता हूं। सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए दृढ़ है कि भारत के खिलाफ विभाजनकारी या विघटनकारी डिजाइन से सख्ती से निपटा जाएगा।वहीं ऑल इंडिया मुस्लिम जमात के राष्ट्रीय अध्यक्ष मौलाना शाहबुद्दीन रज़वी ने भी मामले पर अपनी राय व्यक्त की है। मौलाना ने कहा कि सरकार ने कट्टरपंथी संगठन PFI पर प्रतिबंध लगाकर अच्छा कदम उठाया है। मौलाना शाहबुद्दीन रज़वी ने आगे कहा कि भारत की सरज़मीं कट्टरपंथी विचारधारा की सरज़मीं नहीं है और न यहां ऐसी कट्टरपंथी विचारधारा पनप सकती जिससे मुल्क़ की एकता-अखंडता को खतरा हो।गौरतलब है कि 22 सितंबर और 27 सितंबर को जांच एंजसियों ने राज्य पुलिस के साथ PFI पर देश के कई राज्यों में ताबड़तोड़ छापेमारी की। 22 सितंबर की छापेमारी में PFI के 106 लोगों को गिरफ्तार किया गया। वहीं दूसरे बार की छापेमारी में PFI से जुड़ेसैकड़ोंलोगों को पकड़ा गया। बता दें कि जांच एजेसियों ने गृह मंत्रालय से इस संगठन पर कार्रवाई की मांग की थी।खबरों के मुताबिक, बीते दिन 27 सितंबर को कर्नाटक पुलिस ने राज्य के विभिन्न हिस्सों में करीब 8 घंटे तक चले अभियान के दौरानबड़ी संख्या मेंलोगों को हिरासत में ले लिया, जिनमें अधिकतर पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) और सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया (SDPI) के पदाधिकारी और सदस्य हैं। पुलिस के अनुसार, उसे खुफिया जानकारी मिली थी कि ये लोग समाज में अशांति फैलाने की कोशिश कर रहे थे। अधिकारियों ने पीएफआई के खिलाफ इसे ‘अब तक का सबसे बड़ा अभियान’ करार दिया।वहीं, NIA की अगुवाई में कई एजेंसियों ने गुरुवार यानी 22 सितंबर को 15 राज्यों में 93 जगहों पर एक साथ छापे मारे और देश में आतंकवाद के वित्त पोषण में कथित तौर पर शामिल पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) के 106 नेताओं और कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया था। अधिकारियों ने इसकी जानकारी दी। अधिकारियों ने बताया कि केरल में पीएफआई के सबसे अधिक 22 कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया गया। उन्होंने बताया कि गिरफ्तार किए गए लोगों में इसके अध्यक्ष ओ.एम.ए सलाम भी शामिल हैं।बता दें कि PFI अभी यूपी, दिल्ली, बिहार, झारखंड, पश्चिम बंगाल, राजस्थान, हरियाणा, मध्य प्रदेश, आंध्र प्रदेश, असम, केरल, कर्नाटक, तमिलनाडु, तेलंगाना में एक्टिव है।

इनतारीखोंपरहोगापुरखोंकेलिएपिंडदानजानिएकबशुरूहोरहेहैंपितृपक्षPMI : नए ऑर्डर में आई कमी से सितंबर में सर्विस सेक्‍टर की ग्रोथ में आई गिरावट****** प्रतिस्पर्धी दबाव और प्रतिकूल मौसम स्थिति के बीच नए आर्डर की कमी से सितंबर महीने में सेवाओं में वृद्धि धीमी हुई है। निक्की इंडिया सर्विसेज परचेसिंग मैनेजर्स इंडेक्स (PMI) सितंबर में 52 रहा जो अगस्त में 43 महीने के उच्च स्तर 54.7 पर था। मासिक आधार पर सर्विस सेक्‍टर की कंपनियों पर नजर रखने वाले PMI में कमी ग्रोथ की धीमी रफ्तार को प्रदर्शित करता है। PMI के 50 से अधिक रहने का मतलब है कि क्षेत्र में विस्तार हो रहा है जबकि इसके नीचे संकुचन को बताता है।ICICI बैंक ने ब्याज दरें 0.05 फीसदी घटाईं, अन्य बैंकों के भी दरें घटाने की उम्मीद बढ़ीआंकड़ा एकत्रित करने वाली और रिपोर्ट तैयार करने वाली आईएचएस मार्किट की अर्थशास्त्री पालीयाना डी लीमा ने कहा, भारत में सर्विस सेक्‍टर में निरंतर सुधार हुआ है जो सितंबर महीने में थोड़ी हल्की रही।बिना इंटरनेट के भी अब बुक करवा सकते हैं कैब, Ola ने शुरू की नई सुविधाइनतारीखोंपरहोगापुरखोंकेलिएपिंडदानजानिएकबशुरूहोरहेहैंपितृपक्षअमेरिका ने तुर्की को दी चेतावनी, रूस से S-400 मिसाइल का सौदा किया तो होंगे गंभीर परिणाम****** और के रिश्ते बीते कुछ महीनों में खट्टे-मीठे रहे हैं। कभी लगता है कि दोनों देशों में रिश्ते पटरी पर आ गए हैं, तो कभी तलवारें खिंच जाती हैं। ताजा घटनाक्रम की बात करें तो के एक शीर्ष अधिकारी ने कहा है कि यदि तुर्की ‘ मिसाइल रक्षा प्रणाली’ खरीदता है तो उसके गंभीर परिणाम होंगे। अधिकारी ने कहा कि तुर्की ऐसा करता है तो इसके नतीजे संयुक्त ‘एफ-35’ लड़ाकू कार्यक्रम के लिए विध्वंसकारी होंगे तथा नाटो के साथ उसके संबंधों पर भी असर पड़ेगा।अंतरराष्ट्रीय सुरक्षा मामलों के लिए कार्यवाहक सहायक रक्षा मंत्री के व्हीलबारगर का कहना है कि रूसी मिसाइल रक्षा प्रणाली ‘’ खरीदने की तुर्की की योजना पश्चिमी सहयोगियों के साथ काम करने की उसकी क्षमता को समाप्त करेगी साथ ही देश पर प्रतिबंध लगाने के लिए अमेरिका को मजबूर करेगी। व्हीलबारगर ने गुरुवार को यहां अटलांटिक काउंसिल में अपने संबोधन में कहा, ‘यह खरीद-फरोख्त न सिर्फ एफ-35 कार्यक्रम के लिए विध्वंसकारी होगी बल्कि यह नाटो के साथ तुर्की की अंतर-व्यवस्था को भी नुकसान पहुंचाएगी।’उन्होंने कहा, ‘यह स्पष्ट है कि ‘एस-400’ रूसी प्रणाली हैं जो एफ-35 जैसे विमानों को गिराने के लिए तैयार की गई है। और यह कल्पना से परे है कि रूस उस समग्र अवसरों का लाभ नहीं उठाएगा।’ व्हीलबारगर ने कहा कि अमेरिका का मानना है कि तुर्की यह सौदा इस लिए कर रहा है ताकि सीरिया से लगी उसकी सीमा पर कुर्द विद्रोहियों के खिलाफ उसे रूस का सहयोग मिल सके। उन्होंने कहा कि ट्रंप प्रशासन अगर इस खरीद-फरोख्त के लिए तुर्की को दंड न भी देना चाहे लेकिन अंकारा के लिए सख्त रुख वाली कांग्रेस उसे ऐसा करने के लिए बाध्य करेगी।

हाल का ध्यान

लिंक