वर्तमान पद:मुखपृष्ठ > बाओजी सिटी > मूलपाठ

Fuel Price Cut: 'एक तरफ कुआं और एक ओर खाई', पेट्रोल-डीजल की कीमतों पर राज्यों की स्थिति को लेकर बोले चिदंबरम

2022-10-04 13:28:54 बाओजी सिटी

एकतरफकुआंऔरएकओरखाईपेट्रोलडीजलकीकीमतोंपरराज्योंकीस्थितिकोलेकरबोलेचिदंबरमजुलाई में देश का कच्चे तेल का उत्पादन 3.2 प्रतिशत गिरा, प्राकृतिक गैस उत्पादन में बढ़त******जुलाई में देश का कच्चे तेल का उत्पादन गिरानई दिल्ली। देश के कच्चे तेल के उत्पादन में लगातार गिरावट जारी है, ओएनजीसी के द्वारा लक्ष्य से कम तेल उत्पादन की वजह से जुलाई में देश का क्रूड उत्पादन 3 प्रतिशत से ज्यादा गिरा है।पेट्रोलियम मंत्रालय के द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक देश में का उत्पादन जुलाई के दौरान पिछले साल के मुकाबले 3.2 प्रतिशत की गिरावट के साथ 25 लाख टन के स्तर पर आ गया है। वहीं अप्रैल से जुलाई की अवधि में उत्पादन 3.37 प्रतिशत की गिरावट के साथ 99 लाख टन रहा है।देश के सबसे बड़े तेल और गैस उत्पादक ने जुलाई के दौरान 16 लाख टन कच्चे तेल का उत्पादन किया। ये पिछले साल के मुकाबले 4 प्रतिशत कम है और कंपनी के द्वारा तय किये गये 17 लाख टन के लक्ष्य से 3.8 प्रतिशत कम रहा है। अप्रैल से जुलाई के बीच ओएनजीसी का तेल उत्पादन 4.8 प्रतिशत की गिरावट के साथ 64 लाख टन रहा है। हालांकि दूसरी तरफ प्राकृतिक गैस में बढ़त देखने को मिली है। रिलायंस बीपी के केजी डी6 तेल क्षेत्र में बेहतर उत्पादन की वजह से जुलाई में गैस उत्पादन पिछले साल के मुकाबले 18.36 प्रतिशत की बढ़त के साथ 2.9 बीसीएम (billion cubic meter) तक पहुंच गया। वहीं इस बढ़त की मदद से अप्रैल से जुलाई के बीच गैस उत्पादन 20 प्रतिशत की बढ़त के साथ 11 बीसीएम के स्तर पर पहुंच गया। ओएनजीसी फील्ड से गैस उत्पादन 10 प्रतिशत गिरा है. वहीं पूर्वी ऑफशोर जहां केजी डी6 फील्ड स्थित हैं गैस का उत्पादन 12 गुना बढ़कर 573.13 एमसीएम (million cubic meter) पर पहुंच गया है। मंत्रालय के मुताबिक गैस उत्पादन में बढ़त डी 34 के ब्लॉक से उत्पादन बढ़ने की वजह से दर्ज हुई है। इस ब्लॉक से 18 दिसंबर 2020 से उत्पादन शुरू हुआ है।ईंधन की मांग में बढ़त के साथ तेल रिफायनरी कंपनियों ने जुलाई में पहले से ज्यादा कच्चे तेल को प्रोसेस किया है। 1.94 करोड़ टन के साथ जुलाई में कच्चे तेल की प्रोसेसिंग पिछले साल के मुकाबले 9.6 प्रतिशत ज्यादा रही है। सरकारी तेल रिफायनरी ने 5.6 प्रतिशत ज्यादा यानि 1.1 करोड़ टन और निजी क्षेत्र की रिलायंस इंडस्ट्रीज ने पिछले साल के मुकाबले 14.4 प्रतिशत ज्यादा कच्चा तेल प्रोसेस किया।यह भी पढ़ें:

एकतरफकुआंऔरएकओरखाईपेट्रोलडीजलकीकीमतोंपरराज्योंकीस्थितिकोलेकरबोलेचिदंबरमBudget 2019: छोटे दुकानदारों के लिए शुरू होगी पेंशन योजना******Aam Budget 2019-20 Small Traders announcement Nirmala Sitharamanवित्त मंत्री में आम बजट में को राहत देते हुए पेंशन योजना शुरू करने के लिए कहा है।वित्‍त मंत्री निर्मला सीतारण ने कहा कि छोटे और मझोले उद्योगों के लिए 59 मिनट में लोन को मंजूरी दी जाएगी। के लिए 350 करोड़ का फंड आवंटित किया जाएगा। वित्त मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री करम योगी धन स्कीम के तहत पेंशन योजना के तहत लगभग 3 करोड़ रिटेल कारोबारी और दुकानदारों को लाभ मिलेगा जिनका टर्नओवर 1.5 करोड़ रुपए से कमहै।खाद्यानों, दलहनों, तिलहनों, फलों और सब्जियों की स्व-पर्याप्तता और निर्यात पर विशेष रूप से जोर दिया गया।वित्‍त मंत्री ने कहा किनया किराया कानून बनाया जाएगा। बीमा इंटरमीडियटरी में 100 प्रतिशत एफडीआई को मंजूरी दी गई। पीएसयू की जमीनों पर सस्‍ते घर बनाए जाएंगे।असंगठित क्षेत्र में काम करने वाले लोगों को 3,000 रुपये की पेंशन 60 वर्ष के बाद दी जाएगी। अब तक स्कीम से 30 लाख लोग जुड़े।निर्मला सीतारमण ने कहा कि सरकार 2022 तक कनेक्शन लेने के अनिच्छुक परिवारों को छोड़कर सभी ग्रामीण परिवारों को रसोई गैस कनेक्शन और बिजली कनेक्शनल उपलब्ध करायेगी।वित्‍त मंत्री ने कहा कि श्रम कानून को सरल बनाया जाएगा, लेबर रिफॉर्म पर जोर दिया जाएगा और भारत को उच्‍च शिक्षा का हब बनाएंगे।एकतरफकुआंऔरएकओरखाईपेट्रोलडीजलकीकीमतोंपरराज्योंकीस्थितिकोलेकरबोलेचिदंबरमSSC प्रश्नपत्र लीक मामले में न्यायालय का CBI को नई स्थिति रिपोर्ट पेश करने का निर्देश******उच्चतम न्यायालय ने मंगलवार को को निर्देश दिया कि 2017 की (एसएससी) परीक्षा के प्रश्न पत्र लीक होने के मामले की जांच पर नयी स्थिति रिपोर्ट पेशकी जाये। न्यायमूर्ति एस ए बोबडे और न्यायमूर्ति एस अब्दुल नजीर की पीठ ने जांच एजेन्सी को 23 अप्रैल तक नयी रिपोर्ट पेश करने का निर्देश देने के साथ ही इस मामले को 24 अप्रैल के लिये सूचीबद्ध कर दिया।कर्मचारी चयन आयोग एक सरकारी निकाय है जो विभिन्न मंत्रालयों और विभागों में विभिन्न स्तरों पर कर्मचारियों की भर्ती के लिये परीक्षाओं का आयोजन करता है।पीठ कर्मचारी चयन आयोग की 2017 की संयुक्त स्नातक स्तर (सीजीएल) की परीक्षा में कथित रूप से प्रश्न पत्र लीक होने और इस प्रश्न पत्र को निरस्त करने के लिये दायर याचिका पर सुनवाई कर रही थी। इसमामले में संक्षिप्त सुनवाई के दौरान याचिकाकर्ता की ओर से अधिवक्ता प्रशांत भूषण ने कहा कि पिछली तारीख पर न्यायालय ने जांच एजेन्सी को इस मामले की जांच की स्थिति से अवगत कराने का निर्देश दियाथा।जांच ब्यूरो के वकील ने कहा कि उन्होंने इस मामले में तीन बार स्थिति रिपोर्ट पेश की है। इस पर पीठ ने उसे एक नयी प्रगति रिपोर्ट दाखिल करने और इसकी प्रति याचिकाकर्ता के वकील को देने का निर्देश जांचब्यूरो को दिया। शीर्ष अदालत ने एक अप्रैल को इस मामले की सुनवाई के दौरान कर्मचारी चयन आयोग को पिछले साल फिर से आयोजित की गयी एसएससी-सीजीएल 2017 की परीक्षा के नतीजे घोषित करने कीइजाजत दे दी थी।

Fuel Price Cut: 'एक तरफ कुआं और एक ओर खाई', पेट्रोल-डीजल की कीमतों पर राज्यों की स्थिति को लेकर बोले चिदंबरम

एकतरफकुआंऔरएकओरखाईपेट्रोलडीजलकीकीमतोंपरराज्योंकीस्थितिकोलेकरबोलेचिदंबरमAhmedabad serial blast case: अहमदाबाद ब्लास्ट मामले में 38 दोषियों को फांसी, 2008 में हुए थे सिलसिलेवार धमाके******Highlightsअहमदाबाद सीरियल ब्लास्ट मामले में स्पेशल कोर्ट ने सजा का ऐलान कर दिया है। कोर्ट ने 38 दोषियों को फांसी की सजा सुनाई है। इस मामले में विशेष अदालत ने 49 आरोपियों को दोषी करार दिया था, जबकि 28 अन्य को बरी कर दिया था। गौरतलब है कि 26 जुलाई 2008 को 70 मिनट के अंदर हुए सिलसिलेवार विस्फोटों में 56 लोग मारे गये थे और 200 से अधिक लोग घायल हो गये थे।अब तक के इतिहास में सबसे ज्यादा लोगों को किसी गुनाह में फांसी की सजा हुई है। इससे पहले राजीव गांधी हत्या केस में लोअर कोर्ट ने 26 दोषियों को फांसी की सजासुनाई थीदिसंबर 2009 में शुरू हुई थी मामले की सुनवाईअहमदाबाद में हुए धमाकों के तार प्रतिबंधित संगठन इंडियन मुजाहिदीन (आईएम)से जुड़े हुए थे और दिसंबर 2009 में कुल 78 लोगों के खिलाफ सुनवाई शुरू हुई थी। बाद में एक आरोपी के सरकारी गवाह बन जाने के बाद कुल अभियुक्तों की संख्या 77 रह गई। ब्लास्ट के बाद पुलिस ने दावा किया था कि इंडियन मुजाहिदीन और, प्रतिबंधित स्टूडेंट्स इस्लामिक मूवमेंट ऑफ इंडिया (सिमी) के कट्टरपंथी धड़े से जुड़े लोग इन धमाकों में शामिल हैं।गुजरात दंगों का बदला लेने के लिए ब्लास्टपुलिस ने आरोप लगाया था कि इंडियन मुजाहिदीन के आतंकवादियों ने गोधरा की घटना के बाद 2002 में गुजरात में हुए सांप्रदायिक दंगों का बदला लेने के लिए इन धमाकों की योजना बनाई। इन दंगों में अल्पसंख्यक समुदाय के कई लोगों की मौत हुई थी। अहमदाबाद में हुए सिलसिलेवार धमाकों के बाद पुलिस को सूरत के विभिन्न इलाकों में बम मिले थे जिसके बाद अहमदाबाद में 20 और सूरत में 15 प्राथमिकी दर्ज की गई थी। अदालत द्वारा सभी 35 प्राथमिकियों को एक साथ मिलाने के बाद मामले की सुनवाई हुई।इनपुट-भाषाएकतरफकुआंऔरएकओरखाईपेट्रोलडीजलकीकीमतोंपरराज्योंकीस्थितिकोलेकरबोलेचिदंबरमCrime News: इनकम टैक्स अधिकारी बनकर आए लुटेरे, लाखों की नकदी और सोना लूटकर फरार******Highlights जयपुर में अपराध की एक ऐसी घटना हुईजिसने पूरे शहर में सनसनी मचा दीहै।शहर के नागतलाई इलाके में पांच अज्ञात लोगों ने बुधवार को एक आटा व्यापारी व उसके परिवार वालों को बंधक बनाकर 50 लाख रुपये नकद और करीब 45 लाख रुपये मूल्य का एक किलो सोना लूट लिया।पुलिस के मुताबिक पांच अज्ञात लोग बुधवार शाम को आयकर (आईटी) अधिकारी बनकर व्यापारी के घर में घुसे। उस समय व्यापारी की पत्नी, पुत्र, पुत्रवधू सहित पूरा परिवार घर में मौजूद था।50 लाख रुपये नकदी, 45 लाख रुपये का सोना लूटापुलिस ने कहा कि लुटेरों ने व्यापारी सत्यनारायण तांबी के पोते को बंदूक के बल पर अपने कब्जे में ले लिया और अलमारी की चाभी मांगी। थानाधिकारी ने कहा, "हमने आसपास के स्थानों के सीसीटीवी कैमरे के फुटेज ले लिए हैं और अपराधियों को खोजा जा रहा है। अपराधियों ने योजना को अंजाम देने से पहले व्यापारी के बारे में पूरी जानकारी जुटाई थी। प्राथमिकी के अनुसार, 50 लाख रुपये नकदी और 45 लाख रुपये का सोना लूटा गया है।”पुलिस मामले की जांच में जुटीपुलिस ने कहा कि डकैत व्यापारी के आवास पर लगे सीसीटीवी कैमरे का डीवीआर अपने साथ ले गए। फोरेंसिक टीम ने बुधवार देर रात मौके से साक्ष्य जुटाए हैं और शहर की सीमाओं को सील कर आरोपियों की तलाश की जा रही है। व्यापारी के आवास के पीछे दो दुकानें और एक गोदाम भी है। यह घटना तब हुई जब छह मजदूर और दो लिपिक कार्यस्थल से चले गए। पुलिस ने कहा कि मजदूरों की भूमिका की भी जांच की जा रही है।कानून-व्यवस्था के खिलाफ बीजेपी की प्रदर्शनजयपुर में कानून-व्यवस्था की स्थिति को लेकर बीजेपी लंबे अर्से सरकार के खिलाफ अपनी नराजागी जता रही है।इसी सिलसिले में शनिवार को जयपुर में बीजेपी के नेताओं और कार्यकर्ताओं ने कानून-व्यवस्था सहित अन्य मुद्दों को लेकर प्रदर्शन किया। बीजेपी के नेता और कार्यकर्ता शहीद स्मारक पर एकत्र हुए, जहां से वे एक रैली निकाले हुए सिविल लाइंस रेलवे क्रॉसिंग पहुंचे। पुलिस ने उन्हें रेलवे क्रॉसिंग पर सिविल लाइंस की ओर बढ़ने से रोक दिया, जिसके बाद उन्होंने गिरफ्तारी दी। बीजेपी नेता पूनिया ने संवाददाताओं से कहा, “राजस्थान में कानून-व्यवस्था की स्थिति पूरी तरह से खराब है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के पास इसका कोई जवाब नहीं है। उनके शासन में राज्य अपराध की राजधानी बन गया है और लोग परेशान हैं।” उन्होंने कहा, “अपराध तभी होता है, जब‍ अपराधी बेखौफ हो जाता है। राजस्थान में कांग्रेस के शासन में यही हो रहा है।”इनपुट-भाषाएकतरफकुआंऔरएकओरखाईपेट्रोलडीजलकीकीमतोंपरराज्योंकीस्थितिकोलेकरबोलेचिदंबरमWest Bengal: 'दिलीप घोष खुद हमारे पार्टी के संपर्क में हैं' TMC नेता ने BJP नेता को लेकर किया दावा******HighlightsWest Bengal News: भारतीय जनता पार्टी (BJP) के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष दिलीप घोष ने यह कहकर विवाद खड़ा दिया कि तृणमूल कांग्रेस (TMC) के नेता सौगत रॉय अपने उस बयान के लिए ‘‘जूतों से पीटे जाएंगे’’ जिसमें उन्होंने अपनी पार्टी के आलोचकों के बारे में कुछ कहा था। घोष के बयान पर सौगत रॉय ने तीखी प्रतिक्रिया दी।सौगत रॉय ने दावा भी किया किदिलीप घोष खुद हमारे पार्टी के संपर्क में हैं।रॉय ने कहा कि भाजपा नेता ने ‘‘औपचारिक शिक्षा’’ नहीं ली है और वह तृणमूल के संपर्क में हैं क्योंकि भाजपा को अब उन पर भरोसा नहीं है। तृणमूल के वरिष्ठ सांसद रॉय ने कहा था कि पार्टी के दो नेताओं की गिरफ्तारी के बाद विपक्षी दलों के नेता पार्टी को अनुचित तरीके से निशाना बना रहे हैं। रॉय ने कहा था, ‘‘उन लोगों की चमड़ी उतारकर जूते बनाए जाएंगे जो मानते हैं कि वे विरोध की आड़ में पार्टी को बदनाम करके ऐसे ही निकल सकते हैं।’’बहरहाल, उन्होंने बाद में इस बयान पर खेद व्यक्त किया। घोष ने गुरुवार को कहा, ‘‘सौगत रॉय वरिष्ठ नेता हैं। वह एक समय पर प्रोफेसर रह चुके हैं, लेकिन उन्होंने विपक्ष के लिए जिस भाषा का इस्तेमाल किया, उसे सुनकर हम हैरान हैं। वह अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं को कह रहे हैं कि चमड़ी उतारकर जूते बनाए जाएंगे। वह दिन दूर नहीं है, जब लोग उन्हें जूतों से पीटेंगे। तृणमूल के नेताओं को राज्य के विभिन्न हिस्सों में जूतों से पीटा जाएगा।’’रॉय ने कहा कि वह भाजपा नेता के बयान पर टिप्पणी नहीं करना चाहते। उन्होंने कहा, ‘‘ऐसे व्यक्ति की बात पर टिप्पणी करना मेरी गरिमा के खिलाफ है, जिसने बहुत कम या कोई औपचारिक शिक्षा नहीं ली है। दिलीप घोष स्वयं हमारे पार्टी के संपर्क में हैं, क्योंकि भाजपा नेतृत्व अब उन पर भरोसा नहीं करता।’’ पार्थ चटर्जी को एक स्कूल भर्ती घोटाले के सिलसिले में गिरफ्तार किया गया और अनुब्रत मंडल को एक मवेशी तस्करी मामले में जांच एजेंसी के साथ कथित तौर पर सहयोग नहीं करने के लिए गिरफ्तार किया गया है।

Fuel Price Cut: 'एक तरफ कुआं और एक ओर खाई', पेट्रोल-डीजल की कीमतों पर राज्यों की स्थिति को लेकर बोले चिदंबरम

एकतरफकुआंऔरएकओरखाईपेट्रोलडीजलकीकीमतोंपरराज्योंकीस्थितिकोलेकरबोलेचिदंबरमअमेरिका ने की भारत को 'खास चिंता वाले देशों' की सूची में डालने की सिफारिश, प्रतिष्ठित भारतीय-अमेरिकियों के एक समूह ने जताया विरोध******प्रतिष्ठित भारतीय-अमेरिकियों के एक समूह ने अंतरराष्ट्रीय धार्मिक स्वतंत्रता पर अमेरिकी आयोग की ताजा वार्षिक रिपोर्ट पर नाखुशी जतायी और आरोप लगाया कि यह भारत के खिलाफ पक्षपातपूर्ण है। इस रिपोर्ट में राष्ट्रपति जो बाइडन के प्रशासन को धार्मिक स्वतंत्रता के दर्जे के संबंध में भारत, चीन, पाकिस्तान, अफगानिस्तान और 11 अन्य देशों को 'खास चिंता वाले देशों' की सूची में डालने की सिफारिश की गयी है। हालांकि, अमेरिकी सरकार इस सिफारिश को मानने के लिए बाध्य नहीं है। अमेरिका स्थित नीति अनुसंधान एवं जागरूकता संस्थान 'फाउंडेशन फॉर इंडिया एंड इंडियन डायस्पोरा स्टडीज' (एफआईआईडीएस) के सदस्य खंडेराव कंड ने आरोप लगाया कि भारत पर यूएससीआईआरएफ की रिपोर्ट पक्षपातपूर्ण है.उन्होंने कहा कि, 'भारत का नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) ऐसा कानून है जो उन शरणार्थियों को नागरिकता देता है जो पाकिस्तान, अफगानिस्तान तथा बांग्लादेश से धार्मिक रूप से प्रताड़ित रहे हैं, लेकिन यह मानने के बजाय इसे लोगों की नागरिकता छीनने के तौर पर दिखाया गया। खंडेराव ने कहा कि इसी तरह रिपोर्ट में यह जिक्र नहीं किया गया है कि राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) भारत की अदालत के आदेश के अनुरूप लागू की जा रही है और लोकतांत्रिक देशों में यह आम है।' 'ग्लोबल कश्मीरी पंडित डायस्पोरा' (जीकेपीडी) के संस्थापक सदस्य जीवन जुत्शी ने कहा, 'यह निराशाजनक है कि रिपोर्ट में केवल कश्मीर के मुसलमानों का हवाला दिया गया है लेकिन कश्मीरी पंडित हिंदुओं को नजरअंदाज कर दिया गया, जो उनके आतंक से पीड़ित रहे हैं। इसमें यह जिक्र नहीं किया गया कि अनुच्छेद 370 को हटाने के बाद स्थिति सामान्य हुई है।'कैलिफोर्निया में 'खालसा टुडे' के मुख्य संपादक सुखी चहल ने कहा, 'विदेश में कुछ भारत विरोध ताकतों और खालिस्तानी तत्वों ने किसानों के प्रदर्शनों के जरिए भारत में बाधा उत्पन्न करने के लिए अमेरिकी डॉलर में इनाम देने की खुले तौर पर घोषणा की थी। यह मानने के बजाय कि खालिस्तानी आतंकवादियों ने किसानों के आंदोलन में घुसपैठ की थी, रिपोर्ट में यह गलत तरीके से दिखाया गया है कि सरकार ने सभी सिख किसान प्रदर्शनकारियों को आतंकवादी बताकर उनका अपमान किया।' इनपुट-भाषाएकतरफकुआंऔरएकओरखाईपेट्रोलडीजलकीकीमतोंपरराज्योंकीस्थितिकोलेकरबोलेचिदंबरमBihar News: देखते ही देखते नदी में डूब गए एक ही परिवार के 5 लोग, श्राद्ध कर्म के दौरान हादसा******Highlights बिहार के (Siwan) जिले से एक दर्दनाक हादसे की खबर सामने आई है। मातम में डूबे परिवार पर और दुखों का पहाड़ टूट पड़ा है। यहां के असांव थाना क्षेत्र में श्राद्ध कर्म के दौरान नदी में स्नान कर रहे 5 लोगों की डूबने से मौत हो गई। सभी शवों को नदी से बाहर निकाल लिया गया है। मृतक सभी एक ही परिवार के हैं। कांडपकड़ गांव निवासी अशर्फी साह के घर कुछ दिन पहले एक बुजुर्ग महिला का निधन हुआ था। इस निधन को लेकर शुक्रवार को श्राद्ध कार्यक्रम होना था, जिसमें परिवार के लोग पास के झरही नदी (गंडक नदी की सहायक नदी) में स्नान करने गए थे।बताया जाता है कि श्राद्ध कार्यक्रम में शा‍मिल होने के लिए नाती-पोते समेत परिवार के कई सदस्‍य आए हुए थे। श्राद्ध कर्म के बाद स्नान के दौरान दो युवक पानी की तेज धारा में चले गए और बहने लगे। बाकी लोग भी उन्हें बचाने के चक्कर में तेज धारा में गए और डूबने लगे। यह देखकर किनारे खड़े लोगों ने शोर मचाया, तब स्थानीय लोग दौड़े। सूचना पर पहुंची पुलिस स्थानीय गोताखोर की मदद से डूबे युवकों की तलाश में जुट गई थी।स्थानीय गोताखोरों की मदद से सभी 5 लोगों के शव नदी से निकाल लिए गए हैं। मृतकों की पहचान श्रीराम साह के पुत्र अजय साह, विजय साह, और विशाल, जयचंद साह का पुत्र रितेश और बलिराम साह के पुत्र विकास के रूप में की गई है। पुलिस ने सभी शवों को बरामद कर पोस्टमार्टम के लिए अस्पताल भेज दिया है और मामले की छानबीन की जा रही है। घटना के बाद से ही परिवार और गांव में मातम पसरा है। पहले से ही परिवार में शोक की लहर थी, अब तो और कोहराम मच गया है।बता दें कि इससे एक महीने पहले ऐसा ही एक हादसा पटना जिले के बाढ़ थाना क्षेत्र के उमानाथ गंगा घाट पर हुआ था। यहां श्राद्ध करने आए एक ही परिवार के 4 लोग गंगा नदी में स्नान करने के दौरान डूब गए थे। शेखपुरा के रहने वाले मुकेश कुमार के परिजन अपने परिवार की एक महिला के श्राद्ध कर्म के बाद उमानाथ गंगा घाट पर स्नान कर रहे थे। परिवार का एक बच्चा गंगा नदी की तेज धारा में बहने लगा जिसके बाद उसे बचाने के लिए एक-एक कर पांच लोगों ने छलांग लगा दी। बच्चे समेत 6 लोग पानी में डूबने लगे। वहां मौजूद कई लोगों ने तुरंत कूदकर दो लोगों को तो बचा लिया, लेकिन चार लोग पानी में डूब गए थे।

Fuel Price Cut: 'एक तरफ कुआं और एक ओर खाई', पेट्रोल-डीजल की कीमतों पर राज्यों की स्थिति को लेकर बोले चिदंबरम

एकतरफकुआंऔरएकओरखाईपेट्रोलडीजलकीकीमतोंपरराज्योंकीस्थितिकोलेकरबोलेचिदंबरमSRH vs PBKS : हैदराबाद ने जीता टॉस, भारतीय खिलाड़ी बना SRH का कप्तान******आईपीएल 2022 में आज आखिरी लीग मैच खेला जा रहा है। आखिरी लीग मैच में सनराइजर्स हैदराबाद और पंजाब किंग्स की टीमें आमने सामने हैं। हालांकि इन दोनों ही टीमों का आईपीएल 2022 का सफर खत्म हो गया है। लेकिन इसके बाद भी ये दोनों टीमें आज मैदान पर उतर रही हैं। एसआरएच और पंजाब किंग्स के अभी तक आईपीएल 2022 के सफर की बात करें तो पंजाब किंग्स ने अब तक 13 मैच खेले हैं और इसमें से टीम को केवल छह ही मैचों में जीत मिली है, टीम के पास इस वक्त कुल 12 अंक हैं। ऐसा ही कुछ हाल सनराइसर्ज हैदराबाद का है। एसआरएच ने 13 मैचों में से छह मैच जीते हैं।इस बीच आज के मैच के लिए सनराइसर्ज हैदराबाद के कप्तान केन विलियमसन नहीं हैं, वे अपने बच्चे के जन्म के कारण न्यूजीलैंड गए हुए हैं। इसलिए आज के मैच के लिए भुवनेश्वर कुमार को टीम का नया कप्तान बनाया गया है। बतौर कप्तान भुवनेश्वर कुमार ने आज के मैच में टॉसजीत लिया है और उन्होंने पहले बल्लेबाजी का फैसला ​किया है। भुवनेश्वर कुमार ने बताया कि केन विलियमसन की जगह आज के मैच में रोमारियो शेफर्ड खेल रहे हैं और टी नटराजन को आज जगह नहीं दी गई है, उनकी जगह जगदीश सुचति को मौका दिया गया है। वहीं पंजाब किंग्स के कप्तान मयंक अग्रवाल ने बताया कि भानुका राजापक्षे की जगह नेथ एलिस और राहुल चाहर की जगह शाहरुख खान को टीम में शामिल​ किया गया है। वहीं ऋषि धवन की जगह टीम में प्रेरक मांकड़ आज का मैच खेल रहे हैं।अभिषेक शर्मा, प्रियम गर्ग, राहुल त्रिपाठी, एडन मार्करम, निकोलस पूरन (विकेटकीपर), रोमारियो शेफर्ड, वाशिंगटन सुंदर, भुवनेश्वर कुमार (कप्तान), फजलहक फारूकी, उमरान मलिक, जगदीश सुचित जॉनी बेयरस्टो, शिखर धवन, मयंक अग्रवाल (कप्तान), लियम लिविंगस्टन, जितेश शर्मा (विकेटकीपर), शाहरुख खान, हरप्रीत बराड़, प्रेरक मांकड़, कगिसो रबाडा, नेथन एलिस, अर्शदीप सिंह

एकतरफकुआंऔरएकओरखाईपेट्रोलडीजलकीकीमतोंपरराज्योंकीस्थितिकोलेकरबोलेचिदंबरमSCO Summit Samarkand: एससीओ समिट में क्या होने वाली है पीएम मोदी और जिनपिंग की मुलाकात, क्यों टिकी दुनिया की नज़र******Highlights भारत और चीन सीमा पर इस दौरान तनातनी के हालात शांतिपूर्ण माहौल में बदलने लगे हैं। दोनों ही देश वास्तविक नियंत्रण रेखा से अपने-अपने सैनिकों की वापसी कराने लगे हैं। अस्थाई ढांचे भी ढहाए जा रहे हैं। ताकि गलवान घाटी जैसे संघर्ष की स्थिति दोबारा नहीं आने पाए। मगर पूरी दुनिया इसी बात पर हैरान है कि भारत और चीन के बीच अंदर ही अंदर ऐसा क्या चल रहा है कि वर्षों से बने युद्ध जैसे हालात अब दोस्ती की ओर बढ़ने लगे हैं। किस वजह से अचानक दोनों देश सीमा पर शांति बनाए रखने के लिए इतना बड़ा कदम उठाने को तैयार हो गए। वैसे तो यह खबर पूरी दुनिया के लिए आश्चर्य से भरी है, लेकिन अमेरिका को भारत-चीन सीमा पर दोनों देशों की सैन्य वापसी सबसे ज्यादा चौंका रही है।इतना ही नहीं अब 15 और 16 सितंबर को उजबेकिस्तान के समरकंद में शंघाई सहयोग संघठन सम्मेलन (एससीओ समिट) होने जा रहा है। इसमें पीएम मोदी, चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग और रूस के राष्ट्रपति ब्लादिमिर पुतिन समेत पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ के मौजूद रहने की संभावना है। पिछले तीन-चार दिनों में जिस तरह से एलएसी पर हालात बदले हैं, उससे यह संभावना जताई जा रही है कि वर्षों बाद पीएम मोदी और शी जिनपिंग के बीच मुलाकात हो सकती है। रूस के राष्ट्रपति ब्लादिमिर पुतिन इसमें महत्पूर्ण भूमिका अदा कर सकते हैं। एससीओ समिट में पीएम मोदी और शी जिनपिंग के बीच होने वाली इस संभावित मुलाकात पर अमेरिका समेत दुनिया के अन्य देश भी बारीकी से नजर बनाए हुए हैं।आखिर कुछ तो वजह होगी कि चीन ने न सिर्फ सीमा से अपने सैनिकों की विवादित क्षेत्र से वापसी सुनिश्चित की, बल्कि वह अब भारत के प्रधानमंत्री पीएम मोदी से मिलने को बेताब भी है। शी-जिनपिंग हर हाल में पीएम मोदी से एससीओ सम्मेलन में मिलना चाहते हैं। मगर क्या पीएम मोदी इसके लिए तैयार हो जाएंगे। यह देखने वाली बात होगी। अमेरिका समेत दुनिया के अन्य देश इस घटना पर निगाह लगाए हैं। क्योंकि अगर भारत और चीन के बीच दोस्ती हो जाती है तो यह रूस के लिए बड़ी कूटनीतिक जीत होगी। इसका सबसे बड़ा झटका अमेरिका को लगेगा। वहीं भारत और चीन दोनों देशों के लिए एलएसी से तनाव दूर करना फायदेमंद रहेगा। क्योंकि अगर चीन सीमा पर हरकतें बंद नहीं करता तो ताइवान मामले में भारत चीन के परेशान कर सकता है। ऐसे में ताइवान और अमेरिका से लड़ पाना चीन के लिए आसान नहीं होगा। इसलिए भारत से दोस्ती करने में ही उसकी भलाई होगी।जून 2019 में किर्गिस्तान के बिशकेक में हुई एससीओ समिट के बाद यह पहला ऐसा एससीओ सम्मेलन होगा, जिसमें विभिन्न देशों के राष्ट्राध्यक्ष व्यक्तिगत रूप से मौजूद रहेंगे। क्योंकि कोरोना के चलते अन्य सम्मेलन ज्यादातर वर्चुअल ही हो रहे थे।सूत्रों के अनुसार एससीओ सम्मेलन में भाग लेने के लिए देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 14 सितंबर को समरकंद पहुंच सकते हैं। इसके बाद 16 सितंबर को उनकी वापसी होगी। पीएम मोदी इस दौरान रूस और चीन के साथ द्विपक्षीय वार्ता भी कर सकते हैं। पाकिस्तान के पीएम शहबाज शरीफ से वार्ता को लेकर अभी संशय बरकरार है। बताया यह भी जा रहा है कि इस दौरान जिनपिंग और पीएम मोदी के बीच द्विपक्षीय वार्ता लगभग तय है। भारत और चीन सीमा पर बदले हालात और दोनों देशों के बीच हुई शांति वार्ता इसकी प्रमुख वजह है। द्विपक्षीय वार्ता के दौरान दोनों ही देश आगे भी शांति और सुरक्षा के मामले पर अहम बातचीत कर सकते हैं। हालांकि अभी इस द्विपक्षीय वार्ता की संभावना को लेकर भारत या चीन की तरफ से कोई आधिकारिक घोषणा नहीं की गई है।एससीओ समिट में ब्लादिमिर पुतिन बतौर मुख्य लीडर अपनी भूमिका निभा सकते हैं। इस दौरान अफगानिस्तान में तालिबान के शासन और वहां हो रहे मानवाधिकारों के हनन मसले पर भी बातचीत हो सकती है। भारत के लिए तालिबान वाले अफगानिस्तान में आतंकवाद और आसपास के आतंकी संगठनों से इसका नेटवर्क मुख्य मुद्दा है।इस बैठक में खासतौर पर यूक्रेन और रूस के बीच चल रहे युद्ध की वजह से तेजी से बदल रहे दुनिया के हालात को लेकर भी अहम चर्चा हो सकती है। क्योंकि दुनिया दो ध्रुवों में बंट रही है। ऐसे में रूस अपने खेमे के देशों को साथ लेने के लिए पूरे हालात से अवगत करा सकता है। इसलिए इस पूरी मीटिंग पर अमेरिका और यूरोपीय देशों की पैनी नजर है।भारत के रक्षा विशेषज्ञ और डीजीएमओ में चीन ऑपरेशन के ब्रिगेडियर रहे मेजर जनरल मेस्टन कहते हैं कि इस द्विपक्षीय वार्ता से भारत और चीन दोनों ही देशों को फायदा है। पिछले कई दिनों से एलएसी पर जिस तरह से दोनों देश अपने-अपने सैनिकों को विवादित क्षेत्र से हटाने और वहां बनाए गए अस्थाई ढांचे को नष्ट करने पर राजी हुए हैं, इसके बाद से ही पीएम मोदी और शी जिनपिंग के बीच जल्द मुलाकात की संभावना जताई जा रही है। एससीओ समिट में हो सकता है कि दोनों देशों के ये नेता द्विपक्षीय वार्ता में शामिल हों। इसके लिए रूस के राष्ट्रपति ब्लादिमिर पुतिन भी पूरा प्रयास कर रहे होंगे। क्योंकि जिस तरह से यूक्रेन मामले में अमेरिका समेत यूरोपीय देशों का संगठन खड़ा होता जा रहा है, उससे मुकाबले के लिए पुतिन चाहेंगे कि वह भी एशियाई देशों का एक संगठन तैयार करेंगे। जिसमें की भारत और चीन बड़ी ताकत हैं। उनका संगठन तब तक मजबूत नहीं हो सकता, जब तक कि भारत और चीन के बीच का मौजूदा तनाव दूर नहीं हो जाता। इसलिए पुतिन की पूरी कोशिश होगी कि भारत और चीन दोनों ही आपस में वार्ता करके एलएसी का तनाव खत्म करें।भारत, चीन, पाकिस्तान, रूस, उजबेकिस्तान, कजाकिस्तान, किर्गिस्तान, ईरान इत्यादि।एकतरफकुआंऔरएकओरखाईपेट्रोलडीजलकीकीमतोंपरराज्योंकीस्थितिकोलेकरबोलेचिदंबरमप्रो कबड्डी लीग: मुम्बा ने तेलुगू को 41-20 के विशाल अंतर से पटका******पुणे। सिद्धार्थ देसाई के शानदार 17 अंकों की बदौलत यू मुम्बा ने मंगलवार को तेलुगू टाइटंस को 41-20 के विशाल अंतर से हराकर प्रो कबड्डी लीग (पीकेएल) के सीजन-6 में अपनी चौथी जीत दर्ज की। मुम्बा की जोन-ए में छह मैचों में यह चौथी जीत है। उसे एक मैच में टाई खेलना पड़ा था। वहीं तेलुगू की पांच मैचों में यह दूसरी हार है।यहां श्री शिव छत्रपति स्पोर्ट्स कांप्लेक्स में खेले गए मैच के मुम्बा की टीम ने हाफ टाइम तक 17-12 की बढ़त बना रखी थी और दूसरे हाफ में अपनी बढ़त को कायम रखते हुए 41-20 से मैच जीत लिया।मुम्बा के लिए सिद्धार्थ के अलावा फजल अत्राचली ने चार और सुरेंद्र सिंह, विनोद कुमार तथा अबुफजल मगसोदलु ने दो-दो अंक लिए। टीम ने रेड से 22, टैकल से 12, ऑलआउट से छह और एक अतिरिक्त अंक बटोरे।तेलुगू के लिए राहुल चौधरी ने सात, फरहाद मिलगारदन ने चार और अनिल कुमार तथा मोहसीन मगसोदलु ने दो-दो अंक लिए। तेलुगू की टीम ने रेड से 13, टैकल से छह और एक अतिरिक्त अंक जुटाए।

एकतरफकुआंऔरएकओरखाईपेट्रोलडीजलकीकीमतोंपरराज्योंकीस्थितिकोलेकरबोलेचिदंबरमVastu Tips: इन व्यवसाय से जुड़े लोगों को होली पर करना चाहिए ऐसे रंगों का प्रयोग, मिलेगा लाभ******वास्तु शास्त्र के अनुसार होली खेलते समय यदि विशेष रंगों का उपयोग किया जाए तो घर में सुख-समृद्धि आती है। व्यवसाय, नौकरी या आय स्त्रोत के आधार पर भी रंगों का चयन किया जा सकता है।सबसे पहले हम बात करेंगे लाल रंग की। लाल रंग भूमि पुत्र मंगल का रंग है। इसलिए भूमि से संबंधित कार्य करने वाले बिल्डर, प्रॉपर्टी डीलर्स, इंजीनियर्स एवं प्रशासनिक अधिकारियों को लाल रंग से होली खेलनी चाहिए।हरा रंग बुध ग्रह का प्रतिनिधित्व करता है। व्यापारी, शिक्षक, वकील, विद्यार्थी, लेखक, कम्प्यूटर सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर इंजीनियरों के लिये हरे रंग से होली खेलना अच्छा रहता है। यह आपको सफलता दिलाने में मदद करता है।पीला रंग गुरु का प्रतिनिधित्व करता है और गुरु सोना, चांदी, अन्न से संबंधित व्यापार के आर्थिक पक्ष को प्रभावित करता है। इसलिए इन कामों से संबंधित लोगों को पीले रंग से होली खेलना लाभदायक रहेगा।नीला रंग शनि ग्रह का प्रतिनिधित्व करता है। अभिनेता, कलाकार, कम्प्यूटर व्यवसायी, प्लास्टिक, ऑइल पेंट, लोहा व्यवसायी एवं राजनीतिज्ञों को नीले रंग से होली खेलनी चाहिए। इससे आप नई ऊंचाइयां को पाने में कामयाब होंगे।एकतरफकुआंऔरएकओरखाईपेट्रोलडीजलकीकीमतोंपरराज्योंकीस्थितिकोलेकरबोलेचिदंबरमMathura Rape Case: उत्तर प्रदेश में मौलवी के खिलाफ दर्ज हुआ रेप केस, निकाह का झांसा देकर बनाए थे संबंध******Highlights: उत्तर प्रदेश के मथुरा में पुलिस ने एक मौलवी के खिलाफ बुधवार को बलात्कार का मामला दर्ज किया है। सदर पुलिस थाने के प्रभारी अजय किशोर ने बताया कि एक महिला की शिकायत के आधार पर सदोल्ला मस्जिद के मौलवी समेत 5 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। पुलिस को दी गयी शिकायत में महिला ने आरोप लगाया कि मौलवी राशिद ने निकाह का झांसा देकर उसके के साथ रेप किया। बाकी के लोगों पर पीड़िता को डराने-धमकाने का आरोप लगाया गया है।महिला द्वारा दर्ज कराई गई शिकायत में कहा गया है कि बाद में 2 अन्य मौलवियों ने महिला को डराया धमकाया और उसके साथ बदतमीजी की। थाना प्रभारी ने इस बारे में जानकारी देते हुए बताया, ‘महिला ने आरोप लगाया कि राशिद ने उसे का झांसा दिया और बाद में मुकर गया। महिला के परिवार के लोगों ने जब मस्जिद के सचिव से मामले की शिकायत की तो उसने एक अन्य व्यक्ति की मदद से तीनों मौलवियों को भागने में मदद की।’ उन्होंने बताया कि मस्जिद का सचिव और पांचवा आरोपी भी फरार है।

एकतरफकुआंऔरएकओरखाईपेट्रोलडीजलकीकीमतोंपरराज्योंकीस्थितिकोलेकरबोलेचिदंबरमसरकार ने ई-कॉमर्स नियमों के मसौदे पर सुझाव के लिये समयसीमा बढ़ाकर 21 जुलाई की******ई-कॉमर्स नियमों पर सुझाव की समयसीमा बढ़ीनई दिल्ली। सरकार ने सोमवार को उपभोक्ता संरक्षण (ई-कॉमर्स) नियम, 2020 में प्रस्तावित संशोधन पर लोगों से प्रतिक्रिया प्राप्त करने की समयसीमा बढ़ाकर 21 जुलाई कर दी। इससे पहले, ई-कॉमर्स नियम के मसौदे पर टिप्पणी के लिये अंतिम तिथि छह जुलाई थी। सरकारी नोटिस में कहा गया है, ‘‘ई-वाणिज्य नियमों के मसौदे पर टिप्पणियों/सुझावों की प्राप्ति के लिए समय सीमा बढ़ाने का निर्णय किया गया है। प्रस्तावित संशोधन पर विचार/टिप्पणियां/सुझाव 21 जुलाई, 2021 तक भेजे जा सकते हैं।’’ उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय ने तीन जुलाई को एक बैठक आयोजित की थी। बैठक में, कई ई-कॉमर्स कंपनियों ने सरकार से अनुरोध किया था कि वह सुझाव देने की समयसीमा छह जुलाई से आगे बढ़ाए। उल्लेखनीय है कि मंत्रालय ने ई-कॉमर्स नियमों पर मसौदा 21 जून को जारी किया था। इसमें ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म पर सीमित अवधि में भारी छूट देकर धोखाधड़ी कर सामानों की बिक्री और माल और सेवाओं की गलत जानकारी देकर सामान और सेवाओं की बिक्री पर प्रतिबंध लगाया गया है। साथ ही, उपभोक्ता संरक्षण (ई-कॉमर्स) नियम, 2020 में मुख्य अनुपालन अधिकारी/शिकायत निवारण अधिकारी की नियुक्ति समेत अन्य संशोधन के प्रस्ताव किये गये हैं।इससे पहले कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने समयसीमा बढ़ाने का विरोध किया था और इस तरह के अनुरोधों को देरी की रणनीति बताया था कैट ने कहा था कि समय सीमा के विस्तार की कोई आवश्यकता नहीं है। कैट के महासचिव प्रवीण खंडेलवाल ने एक बयान में कहा था कि 6 जुलाई की समय सीमा से आगे सुझाव देने के लिए तारीख बढ़ाने की मांग अनुचित मांग है। ये नियम कोई रॉकेट साइंस नहीं हैं, जिसे सुझाव देने के लिए किसी जांच की आवश्यकता है। इससे पहले, व्यापारियों के निकाय ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से यह सुनिश्चित करने का आग्रह किया था कि किसी भी दबाव में ई-कॉमर्स नियमों के मसौदे में कोई कमी न हो। नए मसौदे के नियमों के अनुसार, कोई भी ई-कॉमर्स संस्था भ्रामक विज्ञापनों के प्रदर्शन या प्रचार की अनुमति नहीं देगी, चाहे वह अपने प्लेटफॉर्म पर व्यापार के दौरान हो या अन्यथा। इसके अलावा, यदि मानदंड प्रभावी होते हैं, तो प्रत्येक ई-कॉमर्स भारत से ऐसी इकाई द्वारा प्राप्त शिकायतों की संख्या को ध्यान में रखते हुए एक पर्याप्त शिकायत निवारण तंत्र स्थापित करेगा। अमेजॉन और फ्लिपकार्ट को भारत में एक मुख्य अनुपालन अधिकारी, एक निवासी शिकायत अधिकारी और एक नोडल संपर्क व्यक्ति नियुक्त करना होगा।यह भी पढ़ें:एकतरफकुआंऔरएकओरखाईपेट्रोलडीजलकीकीमतोंपरराज्योंकीस्थितिकोलेकरबोलेचिदंबरमTVS Motor 2020 February sales: टीवीएस मोटर की बिक्री फरवरी में 15 प्रतिशत घटकर 2,53,261 वाहन रही******TVS Motor sales down 15 per cent in February at 2,53,261 units टीवीएस मोटर कंपनी ने सोमवार को बताया कि फरवरी 2020 में उसकी दुपहिया वाहन बिक्री एक साल पहले इसी माह के मुकाबले 15.39 प्रतिशत घटकर 2,53,261 वाहन रह गई। कंपनी के मुताबिक बीएस- चार वाहनों की बिक्री में कमी आने और कोरोना वायरस फैलने की वजह से कलपुर्जों की आपूर्ति प्रभावित होने से उसकी बिक्री कम हुई है। कंपनी ने कहा, 'कंपनी तय योजना के अनुरूप डीलर के स्तर पर बीएस- चार वाहनों के स्टॉक को कम करने की राह पर आगे बढ़ रही है। उसे पूरा विश्वास है कि इस महीने इस स्टॉक को बेच दिया जायेगा।' कंपनी ने कहा है कि इसके साथ ही के प्रभाव के चलते बीएस- छह वाहनों के कुछ कलपुर्जों की आपूर्ति भी प्रभावित हुई है। इस स्थिति को जल्द से जल्द सामान्य बनाने के प्रयास जारी हैं।कंपनी के मुताबिक फरवरी में उसके दुपहिया वाहनों की कुल बिक्री 2,35,891 इकाई रही जो कि एक साल पहले इसी माह में 2,85,611 इकाई थी। इस प्रकार इस साल बिक्री 17.4 प्रतिशत कम हुई है। इस दौरान घरेलू बाजार में दुपहिया वाहनों की बिक्री 26.72 प्रतिशत घटकर 1,69,684 वाहन रह गई जबकि फरवरी 2019 में 2,31,582 दुपहिया की बिक्री हुई थी। इस दौरान 3.29 प्रतिशत घटकर 1,18,514 इकाई रही जबकि पिछले साल कंपनी ने 1,22,551 मोटर साइकिल की बिक्री की थी। कंपनी की भी 30.25 प्रतिशत घटकर 60,633 इकाई रह गई।

हाल का ध्यान

लिंक