वर्तमान पद:मुखपृष्ठ > पंजिन > मूलपाठ

आज बड़े दुख के साथ कांग्रेस पार्टी छोड़ रहा हूं, मेरे जैसे लोगों की राजनीतिक हत्या की गई: पूर्व कांग्रेस सांसद अशोक तंवर

2022-10-04 17:15:29 पंजिन

आजबड़ेदुखकेसाथकांग्रेसपार्टीछोड़रहाहूंमेरेजैसेलोगोंकीराजनीतिकहत्याकीगईपूर्वकांग्रेससांसदअशोकतंवरRBI ने SBI पर लगाया 7 करोड़ रुपए का जुर्माना, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया ने भी किया नियमों को अनदेखा******भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने देश के सबसे बड़े बैंक (एसबीआई) पर 7 करोड़ रुपए और यूनियन बैंक ऑफ इंडिया पर 10 लाख रुपए का जुर्माना लगाया है। यह जुर्माना एनपीए (गैर-निष्पादित परिसंपत्ति) की पहचान और धोखाधड़ी जोखिम प्रबंधन एवं अन्य प्रावधानों से जुड़े नियमों का अनुपालन नहीं करने को लेकर लगाया गया है। केंद्रीय बैंक के अनुसार एसबीआई पर जुर्माना आय पहचान और संपत्ति वर्गीकरण (आईआरएसी) नियमों, चालू खातों को खोलने और उसके परिचालन के लिए आचार संहिता, धोखाधड़ी जोखिम प्रबंधन और धोखाधड़ी का वर्गीकरण तथा रिपोर्टिंग से जुड़े नियमों का अनुपालन नहीं करने को लेकर लगाया गया।जांच रिपोर्ट और अन्य प्रासंगिक दस्तावेज देखने के बाद बैंक को नोटिस दिया गया था। बैंक से मिले जवाब और व्यक्तिगत सुनवाई के बाद जुर्माना लगाने का निर्णय किया गया।वहीं दूसरी ओर साइबर सुरक्षा रूपरेखा पर उसके निर्देशों का अनुपालन नहीं करने के लिए यूनियन बैंक ऑफ इंडिया पर 10 लाख रुपए का जुर्माना लगाया गया है।रिजर्व बैंक ने बयान में कहा कि यह जुर्माना 9 जुलाई, 2019 को लगाया गया।केंद्रीय बैंक ने बयान में कहा है कि यह कार्रवाई नियामकीय अनुपालन में खामियों की वजह से की गई है और इसका उद्देश्य बैंक द्वारा अपने ग्राहकों के साथ किए गए किसी करार या लेनदेन की वैधता पर सवाल उठाना नहीं है।रिजर्व बैंक ने इस मामले की जानकारी देते हुए कहा कि 2016 में बैंक की स्विफ्ट प्रणाली से निकले 17.1 करोड़ डॉलर मूल्य के सात धोखाधड़ी वाले संदेशों पर रिपोर्ट के बाद उसके साइबर सुरक्षा ढांचे की जांच में कई खामियां पाई गईं।इन निष्कर्षों के बाद बैंक को नोटिस जारी किया गया। बैंक की ओर से मिले जवाब और सुनवाई के दौरान उसकी दलीलों पर गौर करने के बाद रिजर्व बैंक ने जुर्माना लगाने का फैसला किया।

आजबड़ेदुखकेसाथकांग्रेसपार्टीछोड़रहाहूंमेरेजैसेलोगोंकीराजनीतिकहत्याकीगईपूर्वकांग्रेससांसदअशोकतंवर14 करोड़ के करीब इनकम टैक्स भरते हैं सलमान खान, जानिए कितनी प्रॉपर्टी के हैं मालिक******बॉलीवुड सुपरस्टार को देश के नंबर वन सेलिब्रिटी हैं। आज वो जिस मुकाम पर हैं उस मुकाम पर पहुंचना हर किसी के बस की बात नहीं है। वो अपने आप में एक ब्रैंड हैं। कमाई के मामले में भी दबंग खान किसी से कम नहीं है। फोर्ब्स की सूची में सबसे ज्यादा कमाई करने वालों में सलमान खान का नाम भी आता है।साल 2017 में सलमान भारत के सबसे ज्यादा कमाई करने वाले सेलिब्रिटी थे। सलमान ने पिछले साल करीब 232 करोड़ 83 लाख के आस-पास कमाई की थी। 2016 में सलमान ने अपने जन्मदिन पर 100 एकड़ जमीन महाराष्ट्र के गौराई बीच पर खरीदी थी। खबरों के मुताबिक सलमान यहां 5 बीएचके का बंगला बनाने की तैयारी कर रहे हैं।खबरों के मुताबिक सलमान ने दिल्ली, नोएडा और चंडीगढ़ जैसे शहरों में भी प्रॉपर्टी खरीदी है। बांद्रा में सलमान की एक कॉमर्शियल बिल्डिंग है। 2,140 स्कवॉयर फीट पर उन्होंने इस बिल्डिंग को फ्यूचर ग्रुप को लीज पर दी है। ये डील 5 साल के लिए है जो 80 लाख रुपये प्रति महीने की दर पर साइन की गई है। पांच सालों बाद इस बिल्डिंग का किराया बढ़कर 89.6 लाख रुपये हर महीने हो जाएगा। फ्यूचर ग्रुप ने सलमान को सिक्योरिटी डिपॉजिट के तौर पर 2.4 करोड़ रुपये भी दिए है।इसके अलावा सलमान कई ब्रैंड के एंबेसडर हैं। बीइंग ह्यूमन नाम का उनका खुद का भी ब्रैंड है। सलमान ब्रैंड एंबेसडर बनने के लिए 8 से 10 करोड़ रुपये तक चार्ज करते हैं।जब सलमान खान बिग बॉस 11 होस्ट कर रहे थे उस वक्त दो दिन (हर वीकेंड का) के लिए वो 11 करोड़ लेते थे।सलमानआजकल अपनी फिल्मों के लिए फीस नहीं लेते हैं, बल्कि फिल्म को होने वालेप्रॉफिट का हिस्सा लेते हैं। इस तरह सलमानको अपनी हर फिल्मसे 100 से 150 करोड़ रुपये मिल जाता है। क्योंकि उनकी फिल्में आसानी से 250 से 300 करोड़ की कमाई कर लेती हैं।करीब 3 करोड़ की ऑडी आर 8, 80 लाख की ऑडी क्यू 7, 3.5 करोड़ की लैंड रोवर रेंज वोग, 1.4 करोड़ की टोयोटा लैंड क्रूजर और एक लग्जरी एसयूवी भी है जिसके चलते उनपर हिट एंड रन का मामला दर्ज हुआ था। इसके अलावा सलमान के पास की शानदार बाइक्स भी हैं।वहीं रिपोर्ट्स के मुताबिक सलमान खान सालाना 14 करोड़ के आस-पास इनकम टैक्स जमा करते हैं।आजबड़ेदुखकेसाथकांग्रेसपार्टीछोड़रहाहूंमेरेजैसेलोगोंकीराजनीतिकहत्याकीगईपूर्वकांग्रेससांसदअशोकतंवरवर्ल्ड कप 2023 क्वालीफायर के लिए आईसीसी लीग-2 का कार्यक्रम जारी, यहां देखिए कब किससे भिड़ेंगी टीमें******नई दिल्ली। अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (आईसीसी) ने सोमवार को विश्व कप-2023 के लिए पुरुष क्रिकेट वर्ल्ड लीग-2 का कार्यक्रम जारी कर दिया है। यह लीग विश्व कप के लिए क्वालीफिकेशन प्रक्रिया का हिस्सा है जो चार साल तक चलेगी। लीग-2 में सात टीमें- नामीबिया, नेपाल, ओमान, पापुआ न्यू गिनी, स्कॉटलैंड, संयुक्त अरब अमीरत, और अमेरिका होंगी।लीग के तहत 21 त्रिकोणिय सीरीज में 126 वनडे मैच खेले जाएंगे। हर टीम ढाई साल के दरमियान यानि अगस्त-2019 से लेकर जनवरी-2022 तक 36 वनडे मैच खेलेगी।21 त्रिकोणीय सीरीज के बाद शीर्ष-3 टीम विश्व कप क्वालीफायर का हिस्सा होंगी। नीचे की चार टीमों को विश्व कप क्वालीफायर प्ले ऑफ-2022 में खेलना होगा। यहां चैलेंजर लीग-ए और बी की विजेता टीमें भी खेलेंगी।प्ले ऑफ की शीर्ष-2 टीमों की विश्व कप में जाने की उम्मीदें जिंदा होंगी। इसके लिए उन्हें 2022 में होने वाले विश्व कप क्वालीफायर की बाधा को पार करना होगा।इससे श्रीलंका के पूर्व तेज गेंदबाज और ओमान के कोच दलीप मेंडिंस खुश हैं। उन्होंने कहा, "एक क्रिकेट खिलाड़ी के तौर पर चार विश्व कप खेलने वो भी अंतिम विश्व कप में टीम की कप्तानी करने वाले मेरे जैसे खिलाड़ी के लिए यह देखना अच्छा है कि आईसीसी के सहयोगी सदस्यों का एफटीपी 2022 तक का है।"उन्होंने कहा, "आईसीसी पुरुष विश्व कप-2023 में हिस्सा लेने के लिए यह टीमों के लिए शानदार मौका है। मैं इस शुरुआत के लिए आईसीसी को धन्यवाद देना चाहता हूं।"

आज बड़े दुख के साथ कांग्रेस पार्टी छोड़ रहा हूं, मेरे जैसे लोगों की राजनीतिक हत्या की गई: पूर्व कांग्रेस सांसद अशोक तंवर

आजबड़ेदुखकेसाथकांग्रेसपार्टीछोड़रहाहूंमेरेजैसेलोगोंकीराजनीतिकहत्याकीगईपूर्वकांग्रेससांसदअशोकतंवरCoronavirus Lockdown: अर्थव्यवस्था को गति देने के लिए 20 अप्रैल से कुछ क्षेत्रों में लॉकडाउन पाबंदी में मिलेगी ढील******Coronavirus lockdown restrictions to be eased in some sectors from April 20 to open up economy देश की अर्थव्यवस्था को फिर से गति देने के लिए लॉकडाउन में ढील के तहत कृषि, निर्माण, सूचना प्रौद्योगिकी, एसईजेड और ग्रामीण इलाकों में औद्योगिक इकाइयों समेत कुछ अन्य क्षेत्रों को 20 अप्रैल से काम शुरू करने की अनुमति होगी। कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए देश में लागू लॉकडाउन के दूसरे चरण के लिए बुधवार को जारी दिशा-निर्देश के तहत ग्रामीण क्षेत्रों में औद्योगिक इकाइयों को सामाजिक दूरी के नियमों का पालन करते हुए 20 अप्रैल से काम शुरू करने की अनुमति होगी। हालांकि, तीन मई तक सभी प्रकार के सार्वजनिक परिवहन और सार्वजनिक स्थान बंद रहेंगे । केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला ने सभी राज्यों के मुख्य सचिवों और केंद्र शासित प्रदेशों के प्रशासकों को भेजे पत्र में संशोधित दिशा-निर्देशों को सख्ती से लागू करने के लिए कहा है।भल्ला ने अपने आदेश में कहा, 'अगर बंद संबंधित किसी भी नियम का उल्लंघन किया गया तो संशोधित दिशा-निर्देशों के तहत जिन गतिविधियों को अनुमति दी गई है उन्हें तत्काल वापस ले लिया जाएगा। सरकारी और निजी क्षेत्रों में सभी संस्थाएं तथा जनता दिशा-निर्देशों का सख्ती से पालन करें।' लगातार दूसरे दिन बुधवार को देश में संक्रमण के 1,000 से ज्यादा मामले सामने आए । देश में 40 दिनों के लॉकडाउन की अवधि तीन मई को खत्म होगी । आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक, देश में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या 12,000 के पार पहुंच गयी और मृतकों की संख्या 400 के करीब पहुंच चुकी है । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देशव्यापी लॉकडाउन की अवधि बढ़ाकर तीन मई तक करने की घोषणा मंगलवार को की।प्रधानमंत्री ने कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए सबसे पहले 24 मार्च को 21 दिनों के लॉकडाउन की घोषणा की थी। प्रधानमंत्री ने मंगलवार को एलान किया कि देश के चयनित इलाकों में 20 अप्रैल से चुनिंदा आवश्यक गतिविधियों को अनुमति दी जाएगी। देशभर में सार्वजनिक स्थानों पर मास्क पहनना/चेहरा ढकना अनिवार्य कर दिया गया है और सभी कामकाजी स्थानों पर शरीर के तापमान की जांच के लिए पर्याप्त बंदोबस्त होंगे और सैनेटाइजर्स मुहैया कराए जाएंगे। गृह मंत्रालय द्वारा जारी दिशा-निर्देशों के अनुसार, सार्वजनिक स्थानों पर थूकना एक दंडनीय अपराध बनाया गया है और शराब, गुटखा, तंबाकू आदि की बिक्री पर सख्त प्रतिबंध लागू किये गये हैं।स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने देश में के संक्रमण की अधिकता वाले 170 हॉटस्पॉट जिलों की पहचान की है। इसके अलावा संक्रमण के प्रभाव वाले 207 ऐसे जिले भी चिन्हित किये गये हैं, जो हॉटस्पॉट तो नहीं हैं लेकिन संक्रमण की वृद्धि दर को देखते हुये ये जिले संभावित हॉटस्पॉट की श्रेणी में रखे जा सकते हैं। सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के मुख्य सचिवों को भेजे पत्र में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की सचिव प्रीति सुदन ने कहा कि जिन जिलों में हॉटस्पॉट हैं, उनमें बीमारी नियंत्रण योजना लागू करने की जरूरत हैं। साथ में राज्य पुष्ट मामलों की संख्या दोगुनी होने के आधार पर हॉटस्पॉट की पहचान करें।स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि देश में अबतक बीमारी का सामुदायिक संचरण नहीं हुआ है। मंत्रालय में संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने संवाददाता सम्मेलन में कोरोना वायरस संकट से निपटने के लिये लॉकडाउन की अवधि बढ़ाये जाने के बाद सरकार की आगामी रणनीति का खुलासा करते हुये यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि 20 अप्रैल तक देश के सभी जिलों में कोरोना संक्रमण को रोकने के उपायों का सख्ती से पालन और आकलन सुनिश्चित किया जायेगा। अग्रवाल ने देश में सामुदायिक संक्रमण की स्थिति से इंकार करते हुये कहा कि कुछ इलाकों में स्थानीय स्तर पर संक्रमित मरीजों की संख्या 15 से अधिक पायी गयी है। इन इलाकों को पृथक ‘क्लस्टर’ की श्रेणी में रखते हुये स्थानीय प्रशासन से क्लस्टर आधारित संक्रमण मुक्त सघन अभियान चलाने को कहा गया है। उन्होंने कहा कि क्लस्टर के अलावा जिले के सर्वाधिक संक्रमण प्रभावित इलाकों में मरीजों की शीघ्र पहचान करने के लिये घर घर जाकर सर्वेक्षण करने को कहा गया है। इसके तहत जिले के स्वास्थ्य और राजस्व विभाग के अधिकारी घर घर जाकर खांसी, बुखार और सांस की तकलीफ वाले मरीजों की पहचान कर यह सुनिश्चित करेंगे कि इनमें कोरोना वायरस का संक्रमण तो नहीं है। भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद(आईसीएमआर) से मिले आंकडों के मुताबिक 14 अप्रैल तक 2,44,893 नमूनों की जांच हुई । इससे एक दिन पहले तक 2,17,554 नमूनों की जांच हुई थी।कैबिनेट सचिव राजीव गौबा ने भी वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए अधिकारियों के साथ बैठकें की। गृह मंत्रालय द्वारा जारी दिशा-निर्देशों के अनुसार, स्वरोजगार से जुड़े कामगारों जैसे इलेक्ट्रिशियन, प्लंबर, मोटर मैकेनिक, बढ़ई द्वारा दी जाने वाली सेवाओं को 20 अप्रैल से अनुमति दी जाएगी। लोगों की अंतरराज्यीय, अंतरजिला आवाजाही, मेट्रो, बस सेवाओं पर तीन मई तक रोक जारी रहेगी, जबकि ग्रामीण इलाकों में चल रहे उद्योगों को सामाजिक दूरी के सख्त नियमों के साथ 20 अप्रैल से काम करने की अनुमति दी जाएगी। सीमित पहुंच वाले एसईजेड में स्थित विनिर्माण, औद्योगिक इकाइयों, निर्यात आधारित इकाइयों, औद्योगिक एस्टेट और औद्योगिक शहरों को 20 अप्रैल से काम करने की अनुमति होगी।दिशा-निर्देश में कहा गया है कि इस अवधि के दौरान शैक्षणिक संस्थान, कोचिंग केंद्र, घरेलू एवं अंतरराष्ट्रीय हवाई यातायात, ट्रेन सेवाएं भी स्थगित रहेंगी। सिनेमाघर, मॉल्स, शॉपिंग कॉम्प्लेक्स, जिम, खेल परिसर, स्विमिंग पूल, बार जैसे सार्वजनिक स्थान भी तीन मई तक बंद रहेंगे। नए दिशा-निर्देशों के अनुसार, सभी सामाजिक, राजनीतिक, खेल, धार्मिक समारोह, धार्मिक स्थल, प्रार्थना स्थल तीन मई तक जनता के लिए बंद रहेंगे। इसके अनुसार, राजमार्गों पर चलने वाले ढाबे, ट्रक मरम्मत की दुकानें, सरकारी गतिविधियों के लिए कॉल सेंटर 20 अप्रैल से खुलेंगे। कृषि औजार की दुकानें, इसके अतिरिक्त पुर्जे, इसकी आपूर्ति श्रृंखला, मरम्मत, कृषि औजार से संबंधित ‘कस्टम हायरिंग सेंटर्स’ 20 अप्रैल से खुले रहेंगे।आजबड़ेदुखकेसाथकांग्रेसपार्टीछोड़रहाहूंमेरेजैसेलोगोंकीराजनीतिकहत्याकीगईपूर्वकांग्रेससांसदअशोकतंवरMG Hector: एमजी मोटर इंडिया की एसयूवी हेक्टर का उत्पादन 30 प्रतिशत बढ़ाने की योजना******MG Motor India eyes increasing production of SUV Hector by up to 30 per cent एमजी मोटर इंडिया की योजना एक अप्रैल से भारत चरण-छह (बीएस-₨6) उत्सर्जन मानकों के अमल में आने के बाद स्पोर्ट्स यूटिलिटी व्हीकल (एसयूवी) हेक्टर का उत्पादन करीब 30 प्रतिशत बढ़ाने की है। कंपनी ने पिछले सप्ताह 'जेडएस ईवी' पेश किया है। कंपनी इलेक्ट्रिक एसयूवी को मिली अच्छी प्रतिक्रिया के बाद 10 लाख रुपए से कम कीमत के शुद्ध इलेक्ट्रिक वाहन को लेकर अपनी योजना की समीक्षा करेगी। कंपनी के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक राजीव चाबा ने कहा, 'हेक्टर के मामले में हम उत्पादन में एक और वृद्धि करने की योजना बना रहे हैं। यह दो-तीन महीने की अवधि में हो सकता है।' कंपनी ने जुलाई, 2019 में हेक्टर को बाजार में उतारा था। अब तक की 15,930 इकाइयां बिक चुकी हैं। कंपनी ने सिर्फ दिसंबर, 2019 में ही 3,021 हेक्टर की बिक्री की है। उन्होंने कहा, 'हम डीलरों के भंडार के संदर्भ में अभी भारत चरण-4 से भारत चरण-6 की ओर स्थानांतरण पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं। अगले दो-तीन महीने के आधार पर हम निर्णय लेंगे। हमारा मानना है कि प्रति माह हेक्टर की 3,500 से 4,000 इकाइयों का उत्पादन किया जा सकता है।'उन्होंने कहा कि नये उत्सर्जन मानकों को अपनाने के कारण पहली तिमाही में कुछ दिक्कतें हो सकती हैं, लेकिन इसके बाद अप्रैल-मई से प्रति माह हेक्टर की 3,500 से 4,000 इकाइयों का उत्पादन किया जा सकता है। कंपनी हलोल संयंत्र में अभी प्रति माह हेक्टर की तीन हजार इकाइयों का उत्पादन कर रही है। कंपनी को नयी जेडएस ईवी के लिए2,800 से अधिक ऑर्डर मिल चुके हैं। कंपनी जेडएस ईवी का उत्पादन भी अभी के प्रति माह 200 इकाइयों से बढ़ाकर अगले तीन-चार महीने में 300 से 400 इकाई करने की योजना बना रही है।आजबड़ेदुखकेसाथकांग्रेसपार्टीछोड़रहाहूंमेरेजैसेलोगोंकीराजनीतिकहत्याकीगईपूर्वकांग्रेससांसदअशोकतंवरBollywood Wrap: Sonali Phogat से लेकर Malaika-Yami तक, जानिए हर खबर******बी-टाउन एक ऐसी जगह है जहां की हर हलचल पर लोगों की नजर होती है। बी-टाउन पर पैनी नजर बनाए रखना इसलिए भी जरूरी है क्योंकि यहां हर पल कुछ नया होता ही रहता है। ऐसे में टीवी जगत हो या बॉलीवुड दोनों इंडस्ट्री की सारी बड़ी खबरें लेकर हम आपके सामने आए हैं। आज टिकटॉक स्टार सोनाली फोगाट अंतिम संस्कार किया जाएगा। चालिए जानते हैं ग्लैमर वर्ल्ड की कुछ बड़ी खबरें...भारतीय जनता पार्टी की नेता और टिकटॉक स्टार सोनाली फोगाट का आज हिसार में अंतिम संस्कार होगा। ढंढूर फार्म हाउस से 11 बजे सोनाली की अंतिम यात्रा ऋषि नगर श्मशान घाट हिसार के लिए रवाना होगी। वहीं, हत्या के दोनों आरोपी सुधीर सांगवान और सुखविंद्र सांगवान को आज गोवा पुलिस कोर्ट में पेश करके पुलिस रिमांड हासिल करने का प्रयास करेगी। बता दें कि सोनाली फोगाट का गोवा में निधन हो गया था। सोनाली की फैमिली पहले दिन से इस केस की CBI जांच की डिमांड कर रही है। यामी गौतम ने 4 जून 2021 को फिल्ममेकर आदित्य धर के साथ शादी रचाई थी। हाल ही में यामी गौतम और आदित्य धर ने अपनी शादी की पहली सालगिरह मनाई। इसके बाद यामी गौतम अब अपने पति आदित्य धर के साथ हिमाचल प्रदेश के मंदिरों के दर्शन के लिए निकली हैं। जिसकी झलकियां अदाकारा ने अपने इंस्टाग्राम के जरिए फैंस को दिखाई है। उन्होंने अपने पति आदित्य धर के साथ अपनी कुल देवी नैना देवी और ज्वाला देवी के मंदिर में हाजिरी लगाई और खास पूजा भी की जिसकी तस्वीरें उन्होंने इंस्टाग्राम पर शेयर की है। यामी गौतम और आदित्य धर बगलामुखी माता के भी मंदिर में दर्शन करने पहुंचे थे।मलाइका अरोड़ा अपने बॉयफ्रेंड अर्जुन कपूर को लेकर हमेशा सुर्खियों में रहती हैं। हाल ही में मलाइका अरोड़ा मुंबई में आधी रात को अपने एक्स पति अरबाज खान के साथ नजर आईं। जिसके बाद से ही दोनों का ये वीडियो तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। साथ ही फैंस कमेंट कर ट्रोल कर रहे हैं। दरअसल मलाइका और अरबाज अपने बेटे अरहान को सी ऑफ करने के लिए मुंबई एयरपोर्ट पहुंचे थे। मलाइका अरोड़ा और उनके एक्स पति अरबाज खान के बेटे अरहान अपनी हायर एजुकेशन अमेरिका से कर रहे हैं। स्टैंड-अप कॉमेडियन मुनव्वर फारुकी ने टीवी रियल्टी शो लॉक अप का खिताब अपने नाम किया था, जिसके बाद से ये काफी पॉपुलर हुए हैं। इस शो में सोशल मीडिया सेंसेशन अंजलि अरोड़ा भी नज़र आई थीं। शो में दोनों एक दूसरे के काफी क्लोज नज़र आते थे, जिस कारण ऐसी भी खबरें आने लगी थीं कि दोनों रिलेशनशिप में हैं,लेकिन दोनों ने बाद में ये साफ कर दिया था कि वो बस अच्छे दोस्त हैं। एक रिपोर्ट के अनुसार दोनों फिर से किसी प्रोजेक्ट में साथ काम करने के वाले थे, लेकिन मुनव्वर फारुकी ने अंजलि के साथ काम करने से इनकार कर दिया है। कोई शख्स है, जो मुनव्वर के लिए बेहद ही खास है और उसके कहने पर मुनव्वर ने ऐसा किया है। मुनव्वर अपने उस करीबी का दिल नहीं दुखाना चाहते थे। बॉक्स ऑफिस पर अलग-अलग फिल्मों के बीच घमासान लगातार जारी है। बीते कई समय से जहां साउथ की फिल्म अपने शानदार प्रदर्शन से ताबड़तोड़ कमाई कर रही हैं।वहीं दूसरी तरफ बॉलीवुड फिल्मों की चमक अब सिनेमाघरों में कम होती नजर आ रही है। साउथ सुपरस्टार विजय देवराकोंडा की फिल्म लाइगर ने रिलीज होते ही बॉक्स ऑफिस पर धमाल मचा दिया है। फिल्म ने अपने ओपनिंग डे के कलेक्शन के साथ ही बॉलीवुड के दिग्गज कलाकार आमिर और अक्षय को पीछे छोड़ दिया है। आमिर और अक्षय की फिल्म अपने पहले दिन जहां मिलकर भी 20 करोड़ का आंकड़ा नहीं छू पाई थी , तो वहीं विजय की फिल्म ने इस आंकड़े को पार कर लिया है। फिल्म ने पहले दिन देशभर में 27 करोड़ की कमाई कर ली है।

आज बड़े दुख के साथ कांग्रेस पार्टी छोड़ रहा हूं, मेरे जैसे लोगों की राजनीतिक हत्या की गई: पूर्व कांग्रेस सांसद अशोक तंवर

आजबड़ेदुखकेसाथकांग्रेसपार्टीछोड़रहाहूंमेरेजैसेलोगोंकीराजनीतिकहत्याकीगईपूर्वकांग्रेससांसदअशोकतंवरAlert! 5000 रुपए का कटेगा चालान और 3 महीने की जेल, गाड़ी चलाते समय भूलकर भी ना करें यह गलती******Alert! 5000 रुपए का कटेगा चालान और 3 महीने की जेल, गाड़ी चलाते समय भूलकर भी ना करें यह कामनई दिल्ली: यातायात नियम तोड़ने वाले सावधान हो जाए। अगर आप भी वाहन चलाते है तो आपका 5000 रुपए का चालान कट सकता है और इसके साथ 3 महीने की जेल भी हो सकती है। सड़क परिवहन मंत्रालय नेजानकारी देते हुए बताया है कि मोटर वाहन अधिनियम की धारा 180 के अनुसार अगर आप कार चलाते समय अगर आपको ट्रैफिक पुलिस द्वारा रोका जाता है और आपसे ड्राइविंग लाइसेंस मांगा जाता है। ऐसे में अगरआपके पास ड्राइविंग लाइसेंस नही है तो आपका 5000 रुपए का चालान कट सकता है और इसके साथ 3 महीने तक की जेल भी आपको हो सकती है। सड़क परिवहन मंत्रालय ने हाल ही में इसकी जानकारी देते हुए इसेलेकर चेतावनी जारी की थी।डिजी लॉकर या फिर एम परिवहन के माध्यम से ड्राइविंग लाइसेंस और अन्य दस्तावेज जैसे पंजीकरण प्रमाण पत्र को स्टोर किया जा सकता है। कोई भी दस्तावेज भौतिक तौर पर अपने साथ नहीं रखने होंगे। यदि ट्रैफिकपुलिस ड्राइविंग लाइसेंस या फिर अन्य दस्तावेज मांगती है तो वाहन चालक सॉफ्ट कॉपी दिखा सकता है।सामान्य (177)100 रूपये500 रूपयेरेड रेगुलेशन नियम का उल्लंघन (177A)100 रूपये500 रूपयेअथॉरिटी के आदेश की अवहेलना (179)500 रूपये2000रूपयेअनाधिकृत गाड़ी बिना लाइसेसं चलाना (180)1000रूपये5000 रूपयेअयोग्यता के बावजूद ड्राइविंग (182)500 रूपये10000 रूपयेबिना लाइसेंस के गाड़ी चलाना (181)500रूपये5000 रूपयेओवर साइज वाहन (182B)5000 रूपयेओवर स्पीडिंग (183)400 रूपये1000 रूपयेखतरनाक तरीके से गाड़ी चलाना(184)1000 रूपये5000 रूपयेशराब पीकर गाड़ी चलाना (185)2000रूपये10000 रूपयेरेसिंग और तेज़ गति से गाड़ी चलाना (189)500 रूपये5000 रूपयेओवर लोडिंग (194)2 हज़ार रूपये और 10000 रूपये प्रति टन अतिरिक्त20 हज़ार रूपये और 2 हज़ार रूपये प्रति टनसीट बेल्ट (194B)100 रूपये1000 रूपयेबिना पर्मिट के गाड़ी चलाना (192A)5 हज़ार रूपये तक10 हज़ार रूपये तकलाइसेंस कंडीशन का उल्लंघन (193)कुछ भी नहीं25 हज़ार रूपये से 1 लाख रूपये तकपैसेंजर की ओवर लोडिंग (194A)कुछ भी नहीं1000 रूपये प्रति पेसेंजरदोपहिया वाहन पर ओवर लोडिंग100 रूपये2 हज़ार रूपये और तीन महीने के लिए लाइसेंस रद्दहेलमेट न पहनने पर100 रूपये1000 रूपये और तीन महीने के लिए लाइसेंस रद्दएमरजेंसी वाहन को रास्ता न देने पर (194E)कुछ भी नहीं 10000 रूपयेबिना इंशोरेंस के गाड़ी चलाने पर (196)1000 रूपये2000 रूपयेदस्तावेज़ों को लगाने की अधिकारियो की शक्ति (206)कुछ भी नहीं183,184,185,189,190,194c,194D 194Eके तहत ड्राइविंग लाइसेंस को रद्द किया जायेगाअधिकारियो को लागू करने से किये गए अपराध (210B)कुछ भी नहींसम्बंधित अनुभाग के तहत दो बार जुर्मानाआजबड़ेदुखकेसाथकांग्रेसपार्टीछोड़रहाहूंमेरेजैसेलोगोंकीराजनीतिकहत्याकीगईपूर्वकांग्रेससांसदअशोकतंवरमहाराष्ट्र: मारी गई 13 लोगों की जान लेने वाली आदमखोर बाघिन अवनि, जानें किसने मारा****** के जिले में आदमखोर बाघिन को एक ऑपरेशन चला कर की नींद सुला दिया गया है। ऐसा माना जाता है कि इस खूंखार ने 13 लोगों को अपना शिकार बनाया था।हालांकि, परीक्षण के बाद सभी मौतों की वजह उसे नहीं माना गया।पुलिस अधिकारियों ने शनिवार को यह जानकारी दी। उन्होंने बताया आधिकारिक रूप से नाम वाली इस बाघिन को शुक्रवार रात मार डाला गया। बाघिन शार्प शूटर नवाब असगर अली खानकी गोली का शिकार हुई। असगर अली, मशहूर शार्पशूटर शफत अली के बेटे हैं। अवनि का पोस्टमॉर्टम नागपुर के गोरेवाड़ा रेस्क्यू सेंटर में किया जाएगा।इस नरभक्षी बाघिन को रालेगांव थाने की सीमा में पड़ने वाले बोराती जंगल में घेर लिया गया था। उन्होंने बताया कि बीते 2 सालों में अवनि ने पंधरकांवड़ा जंगल में 13 लोगों का शिकार कर लिया था। इस सितंबर महीने में सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि उसे गोली मारी जा सकती है। इसके बाद उसे माफी देने की ऑनलाइन याचिकाओं की बाढ़ आ गई थी। इस बाघिन को नवीनतम तकनीक की मदद से पकड़ने के लिए तीन महीने से ज्यादा समय से कोशिशें हो रही थीं। वनाधिकारियों ने प्रशिक्षित डॉग स्क्वॉड, ट्रैप कैमरे, ड्रोन, हैंग ग्लाइडर, विशेषज्ञ ट्रैकर्स, शार्प शूटरों और 200 लोगों को इस अभियान में शामिल किया गया था।

आज बड़े दुख के साथ कांग्रेस पार्टी छोड़ रहा हूं, मेरे जैसे लोगों की राजनीतिक हत्या की गई: पूर्व कांग्रेस सांसद अशोक तंवर

आजबड़ेदुखकेसाथकांग्रेसपार्टीछोड़रहाहूंमेरेजैसेलोगोंकीराजनीतिकहत्याकीगईपूर्वकांग्रेससांसदअशोकतंवरMaharashtra: प्रेग्नेंट लेडी फॉरेस्ट गार्ड को पीटने वाला गिरफ्तार, आदित्य ठाकरे ने किया ट्वीट******Highlights एक लेडी फॉरोस्ट गार्ड को मारने-पीटने का वीडियो तेजी से वायरल हुआ। जिसमें लेडी को एक युवक जमीन पर घसीट कर मार रहा है। मामला सामने आने के बाद फौरन एफआईआर दर्ज कर दी गई। इसके बाद वीडियो की जांच-पड़ताल होने पर आगे की कार्रवाई की गई। इस घटना को लेकर आदित्य ठाकरे ने भी ट्वीट किया है।आदित्य ठाकरे ने लिखा है कि आरोपी को आज सुबह गिरफ्तार कर लिया गया है। इस पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। इस तरह की चीजों को बर्दाश्त नहीं कर सकते हैं। एक आईएफएस ने इस वीडियो को ट्वीट किया था। उस पर आदित्य ठाकरे ने जवाब लिखा है।सतारा में एक पूर्व सरपंच रामचन्द्र जानकर द्वारा एक महिला फारेस्ट गार्ड को जमीन पर गिराकर उसको लात मुक्के से पिटाई की थी। वीडियो वायरल होने के बाद सतारा पुलिस ने पूर्व सरपंच को गिरफ्तार कर लिया है।बता दें, सिंधु सानप और उनके पति सतारा तालुका में वन रेंजर के रूप में काम करते हैं। कल, जब वह सतारा तालुका के पलासवड़े गाँव जा रहे थे, गाँव के पूर्व पंच और उनकी पत्नी ने उन्हें लात मारी। पिटाई का वीडियो बन चुका था जो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। पूर्व सरपंच रामचंद्र जानकर और उनकी पत्नी प्रतिभा के खिलाफ सतारा तालुका पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराई गई है। महिला वन रेंजर के तीन माह की गर्भवती होने से इस वीडियो पर लोग आक्रोशित भी हैं।

आजबड़ेदुखकेसाथकांग्रेसपार्टीछोड़रहाहूंमेरेजैसेलोगोंकीराजनीतिकहत्याकीगईपूर्वकांग्रेससांसदअशोकतंवरभारत में 2021-22 के दौरान 8,000 करोड़ रुपये का निवेश करेगी टाटा स्टील******भारत में टाटा स्टील की निवेश योजनानई दिल्ली। घरेलू इस्पात कंपनी टाटा स्टील चालू वित्त वर्ष में अपने भारतीय ऑपरेशंस पर 8,000 करोड़ रुपये का पूंजीगत खर्च करेगी। कंपनी के प्रबंध निदेशक एवं सीईओ टी वी नरेंद्रन ने यह जानकारी दी। नरेंद्रन ने कहा कि यह राशि मुख्य रूप से कलिंगनगर संयंत्र के विस्तार तथा खनन परिचालन और रिसाइक्लिंग कारोबार के विस्तार पर खर्च की जाएगी। उनसे वित्त वर्ष 2021-22 के लिए टाटा स्टील की भारतीय कारोबार की योजनाओं के बारे में पूछा गया था जिसके बाद उन्होने निवेश के बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि यह राशि यूरोपीय परिचालन पर किए जाने वाले 3,000 करोड़ रुपये के निवेश के अतिरिक्त होगी।सीईओ ने कहा, ‘‘व्यापक रूप से भारत के लिए हमारा निवेश 8,000 करोड़ रुपये रहेगा।’’ नरेंद्रन ने कहा कि इसमें से अच्छी-खासी राशि कलिंगनगर के विस्तार पर खर्च की जाएगी। हम अपने कच्चे माल पर खर्च को भी बढ़ाएंगे क्योंकि कलिंगनगर के विस्तार को समर्थन के लिए हम अपनी लौह अयस्क खनन क्षमता का विस्तार जारी रखेंगे। ऐसे में कलिंगनगर और कच्चे माल पर हमारा खर्च 8,000 करोड़ रुपये रहेगा। टाटा स्टील अपने ओडिशा के कलिंगनगर संयंत्र की क्षमता को 50 लाख टन सालाना बढ़ाकर 80 लाख टन सालाना करने जा रही है। यह पूछे जाने पर कि क्या टाटा स्टील रीसाइक्लिंग कारोबार के लिए बाजार संभावनाएं तलाशेगी और 8,000 करोड़ रुपये में से कुछ इसमें लगाएगी, नरेंद्रन ने कहा कि कंपनी कबाड़ या स्क्रैप में अलग कारोबारी मॉडल अपनाती है। यह भागीदारी में होता है।उन्होंने कहा, ‘‘हमें जो भी खर्च करने की जरूरत है, वह इसमें शामिल होगा। लेकिन स्क्रैप में हमारे परिचालन का अलग मॉडल है। भागीदार सुविधाओं की स्थापना करेंगे। वे स्थापना करेंगे, हम गुणवत्ता का प्रबंधन करेंगे और इस्पात बेचेंगे। यह भागीदारी मॉडल में होगा।’’ नरेंद्रन ने कहा कि टाटा स्टील पश्चिमी और दक्षिणी क्षेत्रों पर ध्यान दे रही है, क्योंकि वहां अधिक स्क्रैप उपलब्ध है। उन्होंने कहा, ‘‘हम ऐसे स्थानों पर ये प्रतिष्ठान स्थापित करेंगे जहां अधिक स्क्रैप उपलब्ध है। टीम इसपर काम करेगी।’’ इससे पहले 18 अगस्त को टाटा स्टील ने हरियाणा के रोहतक में अपना पहला इस्पात रीसाइक्लिंग संयंत्र चालू करने की घोषणा की थी।यह भी पढ़ें: यह भी पढ़ें: यह भी पढ़ें:आजबड़ेदुखकेसाथकांग्रेसपार्टीछोड़रहाहूंमेरेजैसेलोगोंकीराजनीतिकहत्याकीगईपूर्वकांग्रेससांसदअशोकतंवरSBI को दिसंबर तिमाही में हुआ 5,196 करोड़ रुपये का मुनाफा, शुद्ध NPA में आई कमी******SBI Q3 standalone net falls 7 pc to Rs 5,196 cr देश के सबसे बड़े सरकारी बैंक भारतीय स्‍टेट बैंक (SBI) ने गुरुवार को बताया कि चालू वित्‍त वर्ष की तीसरी तिमाही (अक्‍टूबर-दिसंबर 2020) में उसको एकल आधार पर 5,196.22 करोड़ रुपये का शुद्ध मुनाफा हुआ है। यह पिछले साल की समान तिमाही के 5,583.36 करोड़ रुपये के मुनाफे से 7 प्रतिशत कम है। समीक्षाधीन तिमाही में बैंक की कुल आय भी मामूली गिरावट के साथ 75,980.65 करोड़ रुपये रही, जो पिछले साल समान तिमाही में 76,787.91 करोड़ रुपये थी। संयुक्‍त रूप से तिमाही में शुद्ध मुनाफा 5.8 प्रतिशत गिरकर 6,402.16 करोड़ रुपये रहा है, जो पिछले साल समान तिमाही में 6,787.25 करोड़ रुपये था। बैंक का ग्रॉस एनपीए संपत्ति में सुधार आने से बैंक की संपत्ति गुणवत्‍ता भी बेहतर हुई है। बैंक का ग्रॉस एनपीए 31 दिसंबर, 2020 को घ्‍ज्ञटकर 4.77 प्रतिशत रह गया, जो एक साल पहले समान तिथि पर 6.94 प्रतिशत था।मूल्‍य के हिसाब से बैंक का ग्रॉस एनपीए या खराब ऋण 1,17,244.23 करोड़ रुपये रह गया, जो पहले 1,59,661.19 करोड़ रुपये था। बैंक का शुद्ध एनपीए घटकर 1.23 प्रतिशत या 29,031.72 करोड़ रुपये रह गया, जो पहले 58,248.61 करोड़ रुपये था। समीक्षाधीन तिमाही में बैंक का एनपीए और आपातस्थिति के लिए प्रावधान भी बढ़कर 10,342.39 करोड़ रुपये रहा, जो एक साल पहले समान तिमाही में 7252.90 करोड़ रुपये था। रियल्टी फर्म गोदरेज प्रॉपर्टीज ने गुरुवार को बताया कि चालू वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही के दौरान उसका शुद्ध लाभ 69 प्रतिशत घटकर 14.35 करोड़ रुपये रह गया। कंपनी ने बताया कि इससे पिछले साल की समान अवधि में उसने 46.6 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ दर्ज किया था। गोदरेज प्रॉपर्टीज ने शेयर बाजार को बताया कि समीक्षाधीन अवधि में उसकी कुल आय घटकर 311.12 करोड़ रुपये रह गई, जो इससे पिछले वर्ष की समान अवधि में 517.47 करोड़ रुपये थी।कंपनी ने बताया कि वित्तीय वर्ष 2020-21 में अप्रैल-दिसंबर अवधि के दौरान उसका शुद्ध लाभ 2.19 करोड़ रुपये रहा, जो इससे एक साल पहले की समान अवधि में 168.13 करोड़ रुपये था।

आजबड़ेदुखकेसाथकांग्रेसपार्टीछोड़रहाहूंमेरेजैसेलोगोंकीराजनीतिकहत्याकीगईपूर्वकांग्रेससांसदअशोकतंवरनीरज की स्वर्णिम उपलब्धि ओलंपिक एथलेटिक्स के 10 जादुई पलों में शामिल******भालाफेंक के स्टार एथलीट नीरज चोपड़ा की ओलंपिक खेलों में स्वर्ण पदक जीतने की एतिहासिक उपलब्धि को विश्व एथलेटिक्स ने टोक्यो में ट्रैक एवं फील्ड के 10 जादुई पलों में शामिल किया है। 23 वर्षीय चोपड़ा ने शनिवार को 87.58 मीटर भाला फेंककर देश को एथलेटिक्स में पहला ओलंपिक पदक दिलाया था।वह ओलंपिक खेलों में व्यक्तिगत स्वर्ण पदक जीतने वाले केवल दूसरे भारतीय खिलाड़ी हैं। विश्व एथलेटिक्स की वेबसाइट के अनुसार, "इस खेल को बेहद करीब से जानने वाले ही ओलंपिक खेलों से पहले नीरज चोपड़ा के बारे में जानते थे लेकिन टोक्यो में भाला फेंक की जीत तथा ओलंपिक इतिहास में भारत का एथलेटिक्स में पहला स्वर्ण पदक विजेता बनने के बाद चोपड़ा का नाम हर किसी की जुबान पर चढ़ गया।"विश्व एथलेटिक्स ने कहा कि ओलंपिक से पहले चोपड़ा के इंस्टाग्राम पर 143,000 फालोअर्स थे लेकिन अब उनके 32 लाख फालोअर्स हो गये हैं।इससे वह विश्व में ट्रैक एवं फील्ड के ऐसे एथलीट बन गये हैं जिनके सबसे अधिक फालोअर्स हैं। जिम्नास्ट की दिग्गज नादिया कोमानेची उन पूर्व दिग्गज खिलाड़ियों में शामिल हैं जिन्होंने ट्विटर पर चोपड़ा को बधाई दी।आजबड़ेदुखकेसाथकांग्रेसपार्टीछोड़रहाहूंमेरेजैसेलोगोंकीराजनीतिकहत्याकीगईपूर्वकांग्रेससांसदअशोकतंवरFPI ने अक्टूबर में भारतीय बाजारों से 12278 करोड़ रुपए निकाले******FPI ने अक्टूबर में भारतीय बाजारों से 12278 करोड़ रुपए निकालेविदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) ने अक्टूबर में भारतीय बाजारों से शुद्ध रूप से 12,278 करोड़ रुपये की निकासी की है। डिपॉजिटरी के आंकड़ों के अनुसार, एफपीआई ने एक से 29 अक्टूबर के दौरान शेयरों से 13,550 करोड़ रुपये निकाले हैं। इस दौरान उन्होंने ऋण या बांड बाजार में 1,272 करोड़ रुपये डाले हैं। इस तरह उनकी शुद्ध निकासी 12,278 करोड़ रुपये रही है। इससे पहले अगस्त और सितंबर में एफपीआई भारतीय बाजारों में शुद्ध लिवाल रहे थे।जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज के मुख्य निवेश रणनीतिकार वी के विजयकुमार ने कहा, ‘‘अत्यधिक मूल्यांकन की वजह से एफपीआई सतत आधार पर भारत से निकासी कर रहे हैं। हालांकि, बैंकों और वाहन कंपनियों वे लिवाली कर रहे हैं।’’कोटक सिक्योरिटीज के इक्विटी शोध-खुदरा प्रमुख श्रीकांत चौहान ने कहा कि अक्टूबर में उभरते बाजारों में एफपीआई प्रवाह का रुख मिलाजुला रहा है। इस दौरान इंडोनेशिया, फिलिपीन और थाइलैंड को क्रमश: 95.1 करोड़ डॉलर, 80 लाख डॉलर और 56.4 करोड़ डॉलर का एफपीआई प्रवाह मिला है। वहीं दूसरी ओर ताइवान और दक्षिण कोरिया से एफपीआई ने क्रमश: 263.3 करोड़ डॉलर और 280.1 करोड़ डॉलर की निकासी की है।

आजबड़ेदुखकेसाथकांग्रेसपार्टीछोड़रहाहूंमेरेजैसेलोगोंकीराजनीतिकहत्याकीगईपूर्वकांग्रेससांसदअशोकतंवरपीलीभीत में दो दिन के भीतर एक ही परिवार के 3 बच्‍चों की मौत, गांव में फैली दहशत****** जिले के जहानाबाद क्षेत्र के एक गांव में बुखार की चपेट में आने से दो दिनों के भीतर एक ही परिवार के 3 बच्‍चों की रहस्यमय परिस्थितियों में मौत हो गई। अपर मुख्‍य चिकित्‍साधिकारी डॉ अश्वनी गुप्ता ने पत्रकारों को बताया कि सूचना पर स्वास्थ्य विभाग की टीम ने मौके पर पहुंचकर जरूरी जानकारी जुटाई है। स्वास्थ्य विभाग पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार कर रहा है। उन्होंने यह भी कहा कि मृतक के आसपास रहने वाले लोगों और उनके परिवार के सदस्यों के रक्त के नमूनों का भी परीक्षण किया गया लेकिन किसी भी संक्रामक बीमारी के वायरस का पता नहीं चला है।जानकारी के अनुसार, थाना जहानाबाद क्षेत्र के निवासी एक व्यक्ति की चार वर्ष की बेटी लक्ष्मी की शनिवार को तेज बुखार के चलते मौत हो गई जबकि इसके एक दिन पहले उसके छोटे भाई तीन वर्षीय नरेश की मौत हो गई थी। दो दिन पहले बालिका के चचेरे भाई गोविंद की भी बुखार से मौत हो चुकी है। दो दिनों के भीतर एक ही परिवार में तीन बच्‍चों की मौत की खबर से गांव में दहशत फैल गई।सूचना पर अमरिया सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के प्रभारी डॉक्टर लोकेश गंगवार ने टीम के साथ संबंधित गांव में जाकर पड़ताल की। परिजनों ने बताया कि तीनों को बुखार आया था। बच्ची के शव को कब्जे में लेने के बाद पुलिस को सूचना दी गई है। डॉक्टर गंगवार ने बताया कि बच्ची के शव का पोस्टमार्टम कराया जाएगा। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद ही कारण स्पष्ट हो सकेगा, उसके बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।डॉ. लोकेश ने बताया कि सोमवार को मलेरिया विभाग की टीम गांव में पहुंचेगी तथा सभी घरों में साफ सफाई अभियान चलाया जाएगा।आजबड़ेदुखकेसाथकांग्रेसपार्टीछोड़रहाहूंमेरेजैसेलोगोंकीराजनीतिकहत्याकीगईपूर्वकांग्रेससांसदअशोकतंवरसऊदी अरब से सामने आया खौफनाक VIDEO, शेल्टर होम में जंजीरों और तालों से बांधकर रखी जा रहीं लड़कियां, यहां देखें******Highlightsसऊदी अरब से हाल में ही आया एक वीडियो खूब वायरल हुआ, जो काफी डरावना प्रतीत होता है। इस वीडियो में कुछ आदमी महिलाओं और लड़कियों को जबरन पकड़कर घसीट रहे हैं, कोई उनके बाल खींच रहा है, तो कोई उनके साथ मारपीट कर रहा है। वीडियो में दिखाई दे रहे ये आदमी कोई गुंडे मवाली नहीं बल्कि सऊदी अरब के सुरक्षा अधिकारी औरपुलिस अधिकारी हैं। इन्होंने खाकी रंग की वर्दी और सामान्य कपड़े पहने हुए हैं। ये वीडियो एक अनाथालय का है। जो आसिर प्रांत के खामिस मुशायत में स्थितहै। वीडियो के वायरल होने के बाद से सऊदी के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान की उन कोशिशों पर सवाल उठ रहे हैं, जिनसे वह महिलाओं की स्थिति ठीक करने की कोशिश कर रहे हैं।लेकिन अगर कुछ मीडिया रिपोर्ट्स पर विश्वास किया जाए, तो पता चलता है कि सऊदी अरब में इस तरह के स्थानों में महिलाओं और लड़कियों के साथ गलत व्यवहार होना एक आम बात है। मई में आई एक रिपोर्ट में आयशा अल्नीजिबानी नामक महिला का जिक्र किया गया, जिसे उसके परिवार वालों में अनाथालय में छोड़ दिया था। 22 साल की आयशा ने राजधानी रियाद की सड़कों पर घूमते हुए वीडियो बनाकर अपनी कहानी सुनाई। उसने बताया कि उसे कैद करके रखा जाता था। उसे तालों में चेन से बांधकर रखा जाता। जब उसनेअनाथालय की स्थिति को लेकर बात की, तो उसे जेल में डाल दिया गया।इसके बाद उसके ऊपर 10 साल का ट्रैवल बैन लगा दिया गया और सड़क पर छोड़ दिया। आयशा का वीडियो तेजी से वायरल हुआ था, जिसके बाद उसे सऊदी अरब की महिलाओं का काफी समर्थन मिला। विशेषज्ञों ने कहा किउन्होंने सऊदी अरब की सड़कों पर कभी इस तरह किसी महिला को अपनी कहानी सुनाते नहीं देखा। हालांकि आयशा के वीडियो से दुनिया को इतना जरूर पता चला कि देश के शेल्टर होम में महिलाओं को कैसे रखा जाता है। सऊदी अरब की एक्टिविस्ट और पत्रकार अल-हरीती ने इस मसले पर लंदन स्थित ग्रुप ALQST से बात की। उन्होंने कहा कि सऊदी अरब के शेल्टर होम अब जेल बन गए हैं।पत्रकार ने कहा कि अगर किसी को यहां प्रताड़ित किया जाता है, तो आपको और ज्यादा सजा मिलेगी। उसने कहा कि ये जगहें नरक हैं और इन्हें शेल्टर होम कहना गलत होगा। सऊदी अरब में कई ऐसे कारण हैं, जहां लड़कियों का सरकारी शेल्टर होम में रहना मजबूरी बन जाता है। महिलाएं और लड़कियां घरों में होने वाली मारपीट से बचने के लिए यहां आती हैं। यहां उनके साथ तमाम तरह के अपराध होते हैं। कुछ महिलाएं ऐसी होती हैं, जो अपने पुरुष गार्जियन की बात नहीं मानतीं और घर से भागकर यहां आ जाती हैं। यहां उन्हें तब तक रखा जाता है, जह तक वह शादी के लिए हां न कर दें और उनका नया गार्जियन फिक्स न हो जाए।सऊदी अरब के अनाथालय और शेल्टर होम अकसर खबरों में बने रहते हैं। यहां कई बार महिलाएं आत्महत्या कर लेती हैं या समय बीतने के साथ ही बेहतर परिस्थितियों की उम्मीद लगाए मजबूरन रहती हैं। कई बार लड़कियां यहां से भागने की कोशिश करती हैं, तो वहीं कुछ मामलों में उनके रिश्तेदार ही उन्हें मार देते हैं। सामाजिक कार्यकर्ताओं का कहना है कि ये अनाथालयबिना किसी सुधार के ऐसे ही चल रहे हैं। बेशक क्राउन प्रिंस सुधार के लिए कदम उठा रहे हैं लेकिन इनकी स्थिति ठीक नहीं हो रही है। साल 2018 में सबसे ज्यादा महिला कार्यकर्ता गिरफ्तार हुई हैं। कई ऐसी महिलाएं हैं, जिन्होंने 2014 में किंग अब्दुल्ला के आगे याचिका रखी है। जिनमें उन्होंने कहा है कि महिलाओं को जब जरूरत हो, तो उन्हें शेल्टर होम मुहैया कराए जाएं, और इस बात की जांच खत्म हो कि वह यहां क्यों आना चाहती हैं।सऊदी अरब में कई सरकारी शेल्टर होम संचालित हो रहे हैं। इनमें दार-ए-रेयाया भी शामिल हैं, जहां 7 से 30 साल की उम्र वाली महिलाएं रह सकती हैं। इन्हें मानव संसाधन और सामाजिक विकास मंत्रालय चलाते हैं। यहां लड़कियां खराब सामाजिक और मानसिक स्थिति के कारण आती हैं। जिन्हें अच्छी देखभाल की जरूरत होती है। सऊदी अरब में बहुत से लोगों की ऐसी सोच है कि अगर लड़की सही है, तो उसका परिवार भी सही है। और समाज भी सही होगा। लेकिन किसी को नहीं पता कि इन शेल्टर होम और अनाथालयों की स्थिति में कब सुधार होगा।

हाल का ध्यान

लिंक